विकिपीडिया:चौपाल/पुरालेख 7

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Archive
पुरालेख

यह पृष्ठ विकिपीडिया चौपाल की वार्ताओं का पुरालेख पृष्ठ है। नवीनतम वार्ताओं के लिए देखें विकिपीडिया:चौपाल

बधाई

सभी सदस्यों को बधाई! आज हिन्दी विकिपीडिया २०,००० लेखों की सीमा पार कर गया।--पूर्णिमा वर्मन ०८:२७, १ जून २००८ (UTC)

बहुत बहुत बधाई--सुमित सिन्हावार्ता ०९:०४, १ जून २००८ (UTC)
सभी सदस्यओं को बहुत-बहुत बधाई !! अब हम सब मिलकर कोशिश करें और एक मास के अन्दर हिन्दी विकिपीडिया को पचास के अन्दर कर दिखायें।--अनुनाद सिंह ०९:१४, २ जून २००८ (UTC)

बधाई

बधाई सभी सदस्यों और प्रबंधकों को फिर से बधाइयाँ
6571617.jpg
हिन्दी विकिपीडीया की गहराई फिर ५ तक पहुँची। यह गहराई पाने में हमें एक महीने से अधिक का समय लगा। यह १३ मई को ४ हुई थी। आशा है और लोग और अधिक काम करेंगे ताकि गहराई तेज़ी से बढ़े। इसके लिए पृष्ठों को उलटें पलटें और आपकी जानकारी या रुचि का जो भी लाल लिंक मिले उस पर क्लिक कर से संबंधित जानकारी की १०-१५ पंक्तियाँ लिख दें। धन्यवाद --पूर्णिमा वर्मन ०५:०४, २५ जून २००८ (UTC)
SMirC-congrats.svg


लिप्यंतरण

ड़ी लिखने क लिए : DDI या DDii टाइप करें यदि आपके ब्राउसर में यह सक्षम नहीं हुआ है तो ब्राउसर कैश साफ कर के पुनः लोड करें,सुझाव आमंत्रित हैं--सुमित सिन्हावार्ता ०६:४८, २ जून २००८ (UTC)

बधाई

बधाइयाँ आशीष भटनागर की ओर से बधाइयाँ
6571617.jpg
हिन्दी विकिपीडीया के 20,000 लेख का आंकडा़ पार करने की सबको बधाइयाँ, परंतु इसके साथ साथ यदि इसकी गहरायी (Depth) 4 से बढे़, तब ही सही बधाई के हम अधिकारी होंगे. और इसके लिये हम सबों को अथक प्रयास करना है. --आशीष भटनागरसंदेश ०१:०९, ३ जून २००८ (UTC)
SMirC-congrats.svg


बधाई और सुझाव

यह हिन्दी विकिपीडिया के लिए निस्संदेह एक महत्त्वपूर्ण पड़ाव है, यहाँ तक पहुँचाने के लिए सभी सदस्यों को भरपूर बधाई! जैसा कि आशीषजी ने कहा, अब हमें विकिपीडिया की गहराई बढ़ाने पर जोर देने चाहिए। इसके लिए मेरे कुछ सुझाव नीचे हैं-

  1. गहराई बढ़ती है - चित्रों से, साँचों से, श्रेणियों से, पुनर्निर्देश वाले पन्नों से, वार्ता पन्नों से और लेखों को अधिकाधिक संपादित करने से।
  2. गहराई कम होती है - केवल एक संपादन करके नया लेख बनाने से। अत: ऐसा सोच-विचार करके ही करें।
  3. ऑटोविकि ब्राउज़र का प्रयोग - अनेक लेखों पर छोटे बदलाव करने हों तो यह सॉफ्टवेयर बहुत उपयोगी सिद्ध होता है। इसका प्रयोग करने के लिए इसे अपने कम्प्यूटर पर डालें और Options > User and project preferences में जाकर Project का नाम डालें custom, और उसके नीचे डालें hi.wikipedia.org/w/ इसके बाद आप हिन्दी विकिपीडिया में लागिन कर सकते हैं, और लेखों की सूची बना सकते हैं, और फिर उनमें संशोधन कर सकते हैं। इससे लेखों में वर्तनी की अशुद्धियाँ पकड़ने और एक साथ कई लेखों में इन्हें सुधारने में अत्यंत सुगमता होती है। अगर प्रयोग के बारे में कुछ प्रश्न हों तो मुझसे अवश्य पूछें।
  4. एक और सुझाव है कि अंग्रेजी नामों के पृष्ठ बनाकर उन्हें हिन्दी नामों पर पुनर्निर्देशित करें। उदाहरण के लिए Kalidasa पृष्ठ बनाया जाए औऱ उसे कालिदास पृष्ठ पर पुनर्निर्देशित कर दिया जाए। इस बारे में बाकी सदस्यों का क्या मत है?
  5. सामान्य वर्तनी के दोषों को भी मौलिक लेख पर पुनर्निर्देशित किया जाए। जैसे - कालि दास, काली दास, कालीदास इत्यादि सभी कालिदास लेख पर पुनर्निर्देशित कर दिये जाएँ।
  6. परियोजनाएँ स्थापित की जाएँ, और परियोजना संबंधित सूचना उस परियोजना के लेखों के वार्ता पन्नों पर डाली जाए।

-- दाढ़ीकेश ०३:३२, ३ जून २००८ (UTC)

दाढीकेश जी के सुझाव बहुत उपयोगी हैं। किन्तु अंग्रेजी नाम्के टापिक बनाना और उसे हिन्दी नामों पर पुनर्निर्देशित करना समझ में नहीं आया।
अपनी आज तक की प्रगति को देखते हुए क्या हम हिन्दी विकिपीडिया के लिये लक्ष्य रखें कि, १४ सितम्बर २००८ ( हिन्दी दिवस) तक -
  • लेखों की संख्या २५००० के पार पहुँचा देंगे,
  • हिन्दी विकिपिडिया को विश्व की ५० प्रमुख विकि में शामिल करा देंगे,
  • गहराई को कम से कम चार अंक उपर बढायेंगे।

अनुनाद सिंह १३:३९, ११ जून २००८ (UTC)

दाढ़ीकेश और अनुनाद का उत्साह देखकर यहाँ काम करने वाले हर सदस्य को खुशी होगी। पर कुछ विषय बड़े ही गूढ़ महसूस होते हैं जैसे गहराई। मैंने पिछले दो सालों में यहाँ काफ़ी काम किया है और गहराई कभी ४ से आगे नहीं बढ़ी। हाँ जिस प्रकार आशीष भटनागर नें हज़ारों (२८५६) साँचों को हिन्दी में अनुवाद कर डाला तब ज़रूर यह ४ से ५ तक पहुँची थी पर इस बीच कुछ और लेख फ़िल्मों पर बने जिससे लेख बढ़े विकि का स्थान भी ५६ से ५५ पर पहुँचा पर गहराई फिर ४ पर आ गई। दूसरी ओर बांग्ला विकिपीडिया है जिसकी गहराई पिछले एक माह में ही १७ से ४० पहुँच गई है। (कौन सा काला जादू है भाई?) यहाँ यह तथ्य भी दमदार नहीं मालूम होता कि चित्रों से गहराई बढ़ती है क्योंकि बांग्ला विकि में १२५७ चित्र हैं जबकि हिन्दी में १३७१ हैं। मुझे लगता है कि पिछले कुछ महीनों में आशीष और अनुनाद ने बहुत काम किया है और हर पृष्ठ भर कर लिखा है ठीक से सब जगह जोड़ा है और ज़रूरी साँचे भी लगाए हैं। मैंने भी काफ़ी काम किया है। पर गहराई जहाँ की तहाँ :(। पिछले दिनों मैंने बांग्ला विकि कुछ देखने की कोशिश भी की ऐसा नहीं है कि वहाँ बहुत लेख हैं या बहुत एक पंक्ति वाले लेख नहीं पर उन्होंने हर फिल्म की कहानी ज़रूर चिपकाई हुई है (सबक ले लो मनीष दादा)। हो सकता है कोई बांग्ला वेब पत्रिका बांग्ला में फिल्मों के कथानक प्रकाशित करती हो जिसको कॉपी कर के पेस्ट करना आसान हो। खैर मेरी बांग्ला बहुत अच्छी नहीं, यहाँ जिसकी भी अच्छी हो वह बांग्ला विकिपीडियनों के शिष्य बन कर कुछ विद्या ग्रहण करें तो हिन्दी का भला होगा। अब एक रास्ता और बचा है ऑटोविकि ब्राउज़र का और यूकेश ने एक बार बॉट बनाने की बात की थी जिससे ५०० से ५००० लेख एक ही विषय पर बनाए जा सकते हैं जैसे ५००० फूलों के परिचय, या ५००० लेखकों के। पर उसके लिए डेटा पहले एक्सेल फाइल में तैयार करना होगा। तो फिर लग जाओ सब, हम भी लगे ही हैं शुभकामनाएँ ...शुभकामनाएँ।--पूर्णिमा वर्मन १५:५१, ११ जून २००८ (UTC)
अंग्रेज़ी नाम से लेख बनाकर रीडायरेक्ट की बात से मैं इसलिये भी सहमत रहुंगा क्योंकि कई पारिभाषिक शब्दों के लिये प्रयोक्ता शायद मूल प्रचलित अंग्रज़ी शब्द ही खोजें, मसलन इस बात की संभावना अधिक है कि प्रयोक्ता विस्तृत पट्टी के बजाय ब्रॉडबैंड या ब्रोडबैंड या broadband खोजेगा।--देबाशीष ०८:५३, १२ जून २००८ (UTC)
देबाशीषजी,यदी कोई विकिपीडिया के खोज बॉक्स से खोज कर रहा होगा तब तो उसका पाठ,फोनेटिक टूल से देवनागरी मे स्वतः ही परिवर्तित हो जाएगा ,व यदि वह किसी खोज-यंत्र का प्रयोग कर के रोमन में लिखेगा तो अवश्य ही वह अंग्रेजी भाषा मे उस विषय पर जानकारी चाहता होगा, अतः अंग्रेजी(रोमन) मे पुनर्निर्देशन पृष्ठ बनाने से कोई लाभ न होगा ,पर अंग्रेजी नाम के देवनागरी में पुनर्निर्देशन पृष्ठ बनाना अवश्य ही सुविधाजनक होगा।--सुमित सिन्हावार्ता ०९:४१, १२ जून २००८ (UTC)
यहाँ कई विषयों पर बात चल पड़ी है, सबके बारे में एक-एक करके मेरे विचार लिखने का प्रयास करता हूँ, मेरे विचार में बेहतर रहेगा कि अलग-अलग शीर्षकों में विभक्त कर दिया जाए। अंग्रेजी के नामों के पुनर्निर्देशन के बारे में- सुमितजी आपका विचार बिलकुल ठीक है कि अंग्रेजी नामों के देवनागरी लिप्यंतरण के पुनर्निर्देशन पृष्ठ पाठकों के लिए सहायक होंगे। लेकिन बहुत संभव है कि हिन्दी-भाषी लोग हिन्दी विकिपीडिया के बारे में न जानते हुए गूगल जैसे खोज पृष्ठों पर अंग्रेजी के नाम से कुछ खोज करें। अगर उन्हें हिन्दी विकिपीडिया का भी पृष्ठ साथ दिखता है तो बहुत संभव है कि वे उत्सुकता से, या हिन्दी में अधिक प्रवीण होने के कारण हिन्दी में लेख पढ़ना पसंद करें। गहराई के बारे में- बांग्ला तो मुझे भी कुछ नहीं आती, लेकिन बांग्ला विकिपीडिया पर एक-दो उपयोगी चीज़ें दिखीं। वहाँ पर हर लेख के वार्ता पृष्ठ पर {{वार्ता शीर्षक}} यह सांचा लगा हुआ है, जिससे हर लेख के वार्ता पन्ने पर यह सांचा जुड़ जाता है-

यह पृष्ठ विकिपीडिया:चौपाल/पुरालेख 7 पन्ने के सुधार पर चर्चा करने के लिए वार्ता पन्ना है। यदि आप आप अपने संदेश पर जल्दी सबका ध्यान चाहते हैं, तो यहाँ संदेश लिखने के बाद चौपाल पर भी सूचना छोड़ दें।

इससे गहराई अपने-आप दोगुनी हो गई है। साथ ही वहाँ हर पृष्ठ दो-तीन श्रेणियों में विभक्त है, और हर श्रेणी की अपनी दो-तीन श्रेणियाँ हैं। इससे भी गहराई काफी बढ़ी है। बाकी मैं उनके चौपाल पर संदेश छोड़ दूंगा, शायद कुछ और सुझाव मिल जाएँ। हिन्दी विकिपीडिया पर हम यह साँचा तो जोड़ ही सकते हैं। मैं कोशिश कर रहा हूँ खोजने की कि बौट या ऑटोविकिब्राउज़र की मदद से यह काम कैसे आसानी से हो सकता है। लेखों की संख्या के बारे में- 25000 अच्छी संख्या है, इससे यह कहने में आसानी होगी कि लेखों की संख्या 20000 के ऊपर काफी समय से स्थिर है, लेकिन जैसा मैंने ऊपर कहा, सिर्फ एक बदलाव करके लेख बनाने से बचें, इससे गहराई और कम ही होगी। -- दाढ़ीकेश ०३:०५, १८ जून २००८ (UTC)

साइटनोटिस

"देवनागरी लिपि देखने के लिए सहायता" चित्र को बदला गया,नया चित्र ज्यादा साफ व पूर्ण रूप से हिन्दी में है,सुझाव आमंत्रित हैं--सुमित सिन्हावार्ता १२:३०, ४ जून २००८ (UTC)

जोड़ा गया:देवनागरी लिखने के लिए सहायता कि कड़ी , बोर्ड चुनाव में मतदान कि कड़ी।
चुनाव मे मत देना कि अवधि ०१-२१ जून २००८ । चुनाव के समाप्त होने पर अर्थात २१ जून को कोई भी प्रबंधक <center>[[Special:BoardVote|विकिमीडिया मंडल चुनाव में मतदान करें]]</center> को mediawiki:sitenotice से हटा सकता है।--सुमित सिन्हावार्ता ०९:३९, ५ जून २००८ (UTC)
विकिमीडिया बोर्ड चुनाव समाप्त,सदस्यों को मतदान करने का धन्यवाद , परिणाम जानने के लिए बोर्ड चुनाव २००८ परिणाम (अंग्रेजी(en)) पर २६ जून २००८ को भ्रमण करें।--सुमित सिन्हावार्ता ०६:५३, २४ जून २००८ (UTC)
क्षमा करे देर से उत्तर के लिए इस विषय पर मैने पहले भी यंहा अपना मत प्रकट किया है| आंतर विकि अ-हिंदी भाषीयोको भी हिन्दी फोन्ट स्थापित करने पड सकते है, इसके अलावा फिजी जैसे देशोमे बैठे मूल भारतिअय निवासी हिन्दी सिखने की कोशीष करना चाहे तो वे हिन्दी फॉन्ट कि सहायता कैसे प्राप्त करे ,इस कारण वश अंग्रेजी सहाय्यताकी भी आवशकता है।

Mahitgar १६:४७, १२ जून २००८ (UTC)

महितगार जी, कृपया खुलासे में बताएँ; आपका अनुरोध मैं समझ नही पाया--सुमित सिन्हावार्ता ०६:५३, २४ जून २००८ (UTC)

अन्तर्राष्ट्रीय इकाई प्रणाली

उपरोक्त लेख पूर्ण हो चुका है. कॄपया इसपरअप नी राय एवं टिप्पणी दें. --आशीष भटनागरसंदेश ०७:४४, १७ जून २००८ (UTC)

सुभद्रा कुमारी चौहान

कल मैंने सुभद्राकुमारी चौहान पर एक लेख लिखा है। लेख छोटा है पर आप सब भी उस पर विचार व्यक्त करें। उससे संबंधित कुछ जानकारी है तो जोड़ें, संदर्भ है तो उन्हें भी लगाएँ। --पूर्णिमा वर्मन ०७:१२, १७ जून २००८ (UTC)

लेख निस्संदेह काफी विकसित हो गया है। खेद की बात है कि इनके जीवन के बारे में अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं है। अंग्रेजी के लेख पर काम करते हुए मैंने जालस्थल पर बहुत खोज की, लेकिन कुछ खास नहीं मिला। इनकी कोई विस्तृत जीवनी पुस्तक के रूप में मिले तो बात बने। किसी हिन्दी पाठ्य पुस्तक में भी कुछ जानकारी मिल सकती है। -- दाढ़ीकेश ०२:३८, १८ जून २००८ (UTC)


फ़ायरफ़ाक्स-३ में हिन्दी विकि के साथ समस्या

मैने आज फ़ायरफ़ाक्स का तृतीय संस्करण उतारा है। इसमें एक अच्छी बात हुई है कि देवनागरी-युक्त यू आर एल (जैसे हिन्दी विकि के यू आर एल आदि) , जो पहले विचित्र ढ़ंग से दिखते थे, अब स्पष्ट दिखने लगे हैं।

किन्तु अपनी हिन्दी विकि में जो अन्तर्निर्मित हिन्दी एडिटर है, वह गायब हो गया है।

ज्ञानीजन कुछ करें जिससे यह समस्या हटे और हम सब फ़ायरफ़ाक्स-३ का भरपूर उपयोग कर सकें।

अनुनाद सिंह १३:०६, १८ जून २००८ (UTC)

आप फ्लॉक ब्राउज़र टृआई करें। यह अत्यधिक सुलझा और समृद्ध है। इसका संस्करण 1.0.9 अभी मेरे पस है. शायद नेट पर मिले या ऊपरी भी मिल सकता है. इसमें भी पहले फ़ायरफ़ाक्स वाली समस्या थी. परन्तु अब यह IE7 की भांति ही दिखता है. इसमें बहुत पहले से ही टैब्ड ब्राउजिंग है. देखें, शायद आपको पसंद आये. [[1]]--आशीष भटनागरसंदेश १८:०१, १८ जून २००८ (UTC)
आशीषजी, धन्यवाद ! इसे उतारकर चलाता हूँ, देखें कैसा है। अनुनाद सिंह ०४:१२, २१ जून २००८ (UTC)

देहरादून जिला

पिछले कुछ दिनों में मैंने देहरादून जिला नामक लेख बनाया। इसके सहयोगी पन्ने भी बनाए। बाद में देखा तो देहरादून और देहरादून जिला नामक दो पन्ने हैं। सिर्फ देहरादून शायद देहरादून नगर के लिए हैं। शायद हर ऐसे शहर के ऐसे दो पन्ने पृष्ठ बनाए गए हैं जो जिले हैं। अंग्रेज़ी में देखें तो डिस्ट्रिक्ट नाम के पृष्ठों पर बहुत ही कम काम किया गया है। यानी अगर देहरादून जिला है तो उसपर कम काम किया गया है और देहरादून वाले पन्ने पर अधिक। क्या मुझे देहरादून जिला वाले पन्ने की सारी सामग्री देहरादून पन्ने पर लगा देनी चाहिए? लेकिन तब देहरादून के आसपास की पहाड़ियाँ और पर्यटन स्थल आदि कहाँ ले जाएँगे क्यों कि उनमें से बहुत से स्थल देहरादून जिले में तो हैं पर नगर में नहीं हैं। किसी को इस विषय में ज्यादा जानकारी है तो बताएँ--पूर्णिमा वर्मन १९:१४, १८ जून २००८ (UTC)

अंग्रेजी विकिपीडिया पर भारत परियोजना पर कुछ जानकारी मिली है- "In many cases a district and its headquarters share the same name. For example, Mysore is the name of a city, district and division. For such cases, contents of the district should be added to Mysore district and the division should be added to Mysore division. Thus Mysore will be having only matter relating to the city. However all three should be linked in the respective articles." (देखें [2]) मेरा अनुमान है कि देहरादून और देहरादून जिला लेखों में जानकारी बहुत कुछ समान होगी, लेकिन जहाँ तक हो सके इनकी सामग्री को विशिष्ट रखा जाए और दोनो लेखों के बीच कड़ियों के माध्यम से प्रसंग बनाए रखा जाए। उदाहरण के लिए, देहरादून नगर के लेख में नगर-विशेष के पर्यटन स्थलों की जानकारी हो, और साथ ही "यह भी देखें - देहरादून जिले के पर्यटन स्थल" ऐसी कड़ी डाल दी जाए। -- दाढ़ीकेश २३:००, १८ जून २००८ (UTC)
जानकारी के लिए धन्यवाद।--पूर्णिमा वर्मन ०४:५०, १९ जून २००८ (UTC)

गहराई

गहराई के विषय में एक और अनुमान है (हो सकता है गलत भी हो) कि सर्च करने पर कितने अधिक पन्ने कितनी आसानी से मिल सकते हैं इस पर गहराई निर्भर करती होगी। हमारे अधिकतम पन्ने क्योंकि फ़िल्मों पर हैं और उनके शीर्षक में सन जुड़ा हुए है उदाहरण के लिए कानून अपना अपना (1989 फ़िल्म) इसलिए कानून अपना अपना ढूँढने वाला इसे नहीं पा सकता है। इसके लिए प्रयोग के तौर पर मैं १९८९ की फ़िल्मों रिडायरेक्ट पन्ने तैयार कर के देखती हूँ। अगर इससे एक या दो दिन में गहराई एकदम से बढ़ी तो आगे भी ऐसा करने के लिए सोचा जा सकता है।--पूर्णिमा वर्मन ०५:५५, १९ जून २००८ (UTC)


गहराई एक मापक है जो (नॉन आर्टिकल/आर्टिकल)*(सम्पादन/आर्टिकल) का फल है। आर्टिकल वह लेख है जो श्रेणीगत होते है वा जिन मे ज्ञानसन्दुक का प्रयोजन होता है। ज्यादा से ज्यादा सम्पादन वा नॉन आर्टिकल (पुनर्निर्देशन आदि) को जुटाने पर गहराई बढ्ता जाएगा। मेरे विचार में हिंदी विकिपीडिया में पुनर्निर्देशन पृष्ठ बहुत कम है। पुनर्निर्देशन पृष्ठ (जैसे ह्रस्व/दिर्घ, चन्द्रविन्दु/शिरबिन्दु आदि) के प्रयोजन से ना गहराई बढाने के साथ-साथ इस विकिपीडिया को प्रयोजन में सरल एवम्‌ सुलभ भी बना सकते है।--युकेश १२:४१, १९ जून २००८ (UTC)
मै पूर्णिमा वर्मन जी द्वारा किए गए प्रयोग का समर्थन करता हूँ, गहराई के साथ इसका दूसरा महत्वपूर्ण फायदा यह होगा कि ऐसा करने से लेखकगण संदर्भो में इनका प्रयोग आसानी से कर सकेंगे । माननीय मनीश जी से आह्वान हैं कि इस इस प्रकिया पर अपने विचार दें क्योकी फिल्मो से सम्बन्धित पृष्ठो पर उनका काम अद्वितीय है ।--राजीवमास ०४:५७, २० जून २००८ (UTC)
मैं भी फिल्मों से सम्बन्धित पृष्ठों के विषय में मनीष वशिष्ठ के विचारों को महत्वपूर्ण समझती हूँ।--पूर्णिमा वर्मन ०५:४१, २१ जून २००८ (UTC)

हिन्दी विश्वकोश

अन्तरजाल पर हिन्दी विकिपीडिया के अलावा हिन्दी का एक और भी विश्वकोश उपलब्ध है। इसमें भी विविध क्षेत्रों के कोई २०,००० उपविषयों पर उच्च गुणवत्ता के लेख हैं। किन्तु इसमें समस्या यह है कि यह यूनिकोड में नहीं है। इतना ही नहीं, यह एक से अधिक फाण्टों में है। इसे यहाँ देख सकते हैं।

अनुनाद सिंह १२:४३, २३ जून २००८ (UTC)

जुलाई के लिए निर्वाचित लेख

प्रस्तावक:--पूर्णिमा वर्मन १२:४६, २३ जून २००८ (UTC)
देहरादून जिला १ जुलाई के निर्वाचित लेख के लिए प्रस्तावित है। सभी प्रबंधकों और सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया इस विषय में अपनी टिप्पणी लेख के वार्ता पृष्ठ पर दें ताकि इसमें जो भी कमियाँ हैं उनको १ जुलाई से पहले दूर किया जा सके।--पूर्णिमा वर्मन १२:५०, २३ जून २००८ (UTC)
३१ जुलाई को प्रेमचंद का जन्मदिवस है इसलिए १ जुलाई के लिए यह लेख भी ठीक रहेगा। अभी से कोशिश करें ताकि समय से मुखपृष्ठ अद्यतन किया जा सके।--पूर्णिमा वर्मन १९:०२, २३ जून २००८ (UTC)
मेरे विचार में प्रेमचन्द लेख निर्वाचित होने के ज्यादा करीब है। जुलाई में इनका जन्मदिवस है तो यह लेख बहुत ही उपयुक्त रहेगा। इसके अतिरिक्त देहरादून जिला, ताजमहल, रंगों की सूची, अन्तर्राष्ट्रीय इकाई प्रणाली ये सभी निर्वाचित होने की कगार पर हैं। मेरा विचार है कि अब हम हर पखवाड़े एक लेख को निर्वाचित घोषित कर सकते हैं। मलेरिया लेख पर मैं काम कर रहा हूँ, आशा है यह भी जल्दी ही निर्वाचित होने लायक होगा। -- दाढ़ीकेश १८:३३, २४ जून २००८ (UTC)
बहुत धन्यवाद आपके विचारों के लिए। मेरे विचार से हर पखवारे की बजाय इनको लाइन से हर माह एक के बाद एक लगा देते हैं दिसंबर तक। और अगले साल से हम हर माह दो लेख करना शुरु कर दें या और ज्यादा जितने लेख हमारे पास हों उसके हिसाब से। जब आप मलेरिया पूरा कर लें तो ताजमहल के अनुवाद पर ध्यान दें। वह लेख महत्वपूर्ण है पर उसका अनुवाद ठीक सा नहीं हो पाया है। पर इस पर काम करने से यह जल्दी ठीक हो सकेगा। कुछ और लेख जैसे रोबॉटिक्स और अंतर्दहन इंजन भी अच्छे विकसित हो रहे हैं। इन पर भी ध्यान देनें से ये बेहतर हो सकते हैं। आशा है सभी सदस्यों का सहयोग इसी प्रकार मिलता रहेगा।--पूर्णिमा वर्मन १८:५३, २४ जून २००८ (UTC)

सभी सदस्यों के लिये

इस लेख पर नज़र पड़ी जो शायद हम सबके काम आये What Wikipedia is not
--देबाशीष ०३:४१, २५ जून २००८ (UTC)

बधाइयाँ

बधाइयाँ
हिन्दी विकिपीडिया की गहरायी आज, 4 से बढ़कर 5 , हो गयी है. हम सभी इसपर ध्यान दें तो इसे कम से कम 10 तक तो दिसंबर तक, पहुंचा ही सकते हैं. इसमें नये बाट का भी सहयोग होगा.--आशीष भटनागरसंदेश ०८:०४, २५ जून २००८ (UTC)


गहराई के मायने क्‍या हैं

पूर्णिमा जी और आशीष जी, कृपया बताएं कि विकिपीडिया की गहराई से क्‍या तात्‍पर्य है? मैं इसे समझना चाहता हूं और यह भी बताएं कि इसके घटने या बढ़ने से विकिपीडिया की स्थिति पर क्‍या फर्क पड़ता है? मेरे विचार से अन्‍य कई सदस्‍य इस बारे में जानना चाहते होंगे? --संजय करीर २५ जून २००८ (UTC)

गहराई एक माप है किसी भाषा के विकिपीडिया पर हो रही हलचल का अंदाज़ा लगाने के लिए। इसकी चर्चा सबसे पहले शुरु हुई जब अंग्रेजी विकिपीडिया के मुखपृष्ठ पर दर्शित भाषाओं की सूची में कुछ ऐसी भाषाओं के विकिपीडिया आ गए जिनके लेख मुख्यतया बॉट की सहायता से बनाए गए थे। उस समय इस सूची में केवल लेखों की संख्या के आधार पर नए विकिपीडिया जोड़े जाते थे। एक विकिपीडिया में तो ७५,००० से भी अधिक लेख थे, लेकिन अधिकांश लेख बॉट द्वारा बनाए गए एक-वाक्य लेख थे, जिनसे पाठकों को कुछ जानकारी मिले, इसकी संभावना बहुत कम थी। उस समय चर्चा शुरु हुई कि इस सूची में विकिपीडिया का नाम डालने से पहले लेखों की गुणवत्ता का भी कोई माप हो। लेखों की असल गुणवत्ता मापना तो बहुत मुश्किल है, लेकिन गहराई नामक माप से इतना तो पता लग जाता है कि विकिपीडिया पर सदस्य कितने सक्रिय हैं और लेखों को आपस में जोड़ने का कितना प्रयत्न किया गया है। इस चर्चा के अंत में निर्णय हुआ कि नए विकिपीडिया का नाम तभी जोड़ा जाएगा जब लेखों की संख्या २०,००० के पार होने के साथ-साथ गहराई ५ या उससे ज्यादा होगी।
इसका फार्मूला है- (Edits/Articles) × (Non-Articles/Articles) × (Stub-ratio), हिन्दी में, (संपादन/लेख) * (अन्य पन्ने/लेख) * (स्टब अनुपात)। इस फार्मूले के पहले पद के अनुसार लेखों का जितना अधिक संपादन होगा, गहराई उतनी बढ़ेगी। दूसरे पद के अनुसार, लेखों के अलावा और पन्ने कितने हैं, इसका भी हिसाब रखा जाता है। इन अन्य पन्नों में शामिल हैं, वार्ता पन्ने, पुनर्निर्देशन पन्ने, श्रेणियों के पन्ने, साँचे, चित्र, विकिपीडिया नामस्थान के पन्ने (जैसे चौपाल का पन्ना, सहायता पन्ने, विकिपरियोजना पन्ने इत्यादि), ऐसे पन्ने लेखों की तुलता में जितने ज्यादा होंगे, गहराई भी उतना ज्यादा होगी। तीसरा पद है स्टब या आधार पन्नों के बारे में। मुझे इसके बारे में सही पता नहीं कि इस फार्मूले में आधार की परिभाषा क्या है, लेकिन इतना तो साफ है कि इसका सीधा संबंध लेखों के आकार से है। लेख जितने बड़े होंगे या आधार जितने कम होंगे, गहराई उतनी अधिक होगी। -- दाढ़ीकेश २०:५३, २५ जून २००८ (UTC)

गहराई सुधार के लिए सि डि परियोजना???

इस विकिपीडिया में अभी २०,००० से ज्यादा लेख है। साथ ही मै हिंदी विकिपीडिया नें हाल ही मै गहराई ५ का आंकडा भी पार कर चुका है (सब को इस उपलब्धि के लिए बधाई है!)। मेरे विचार मै हमे अब मात्रा से ज्यादा गुण पर ध्यान देना चाहिए। हम विभिन्न प्रकृया से गहराई बढा सकते है (जो हमे करना भी चाहिए), परन्तु अगर हम गहराई बढाने के साथ ही गुण वा लेखौं का स्तर भी बढाएं तो और ज्यादा उचित होगा। इस के लए हम एक सि डि परियोजना निर्माण कर सकते है। यह योजना अनुसार हम विश्वकोष में अत्यावश्यकता होने वाले लेखौं को सूचीकृत करके सामुहिक रुप से उन लेखौं पर काम कर सकते है। अत्यावश्यक लेखौं का निर्माण और गुणस्तर बढाने के बाद इन लेखौं को सि डि फर्मेट बनाकर मुफ्त में बांट सकते है (या डाउनलोड के लिए उपलब्ध कर सकते है) जिस से हमारा विकिपीडिया का विज्ञापन और लोक हीत दोनों ही हो सकता है (साथ ही में हमारा विकिपीडिया का गहराई भी बढ सकता है!)। धन्यवाद! --युकेश १२:१८, २६ जून २००८ (UTC)

मेरे विचार से

हमें गहरायी बढ़ाने हेतु लेखों की संख्या बढ़ाने के साथ साथ ही , कुछ अन्य प्रयास भी करने चाहियें:-

  1. हम कि्सी भी लेख के बनने पर, चाहे पूर्ण ना ही हो, परन्तु फ़िर भी, उसके शीर्षक,(जो रखा है) के अलावा, जो भी अन्य शीर्षक सम्भव हो सकें, उनका पन्ना बना कर उस मातृ लेख की ओर पुनर्निर्देशित करना चाहिये.
    1. यह कार्य, कोई भी करें, आवश्यक नहीं, कि उस लेख का सम्पादक/निर्माता विशेष ही करे.
    2. साथ ही जितने भी बहु विकल्प हो सकें, पन्ने बनायें, ये पन्ने मुफ़्त ही बनते हैं, केवल मिलते नाम का ज्ञान होना चाहिये, जैसे कि मैंने बहुत पहले लाल किला (बहुविकल्पी) का बहुविकल्पी पृष्ठ बनाया था.
    3. इसके साथ ही लेखनी/वर्तनी के अन्तर के लेख , जैसे कि लाल किला, लालकिला, लाल-किला, लाल क़िला, इत्यादि, या बंदर, बन्दर, मर्कट, मरकट, इत्यादि, जिस भी नाम से कोई ढूंढे, उसे सही लेख मिले, साथ ही गहरायी, और लेखों की संख्या भी बढे.
  2. निर्वाचित लेख पखवाड़े में बदलें, इस कार्य को क्यों ना, हिन्दी दिवस, माह से ही आरम्भ करें. इसके साथ ही लेखों की एक कतार बना लें. जिसमें कि निर्वाचन योग्य लेख, किसी भी क्रमवार लगते जायें. व पखवाड़े वार रूप से मुखपृष्ठ पर आते जायें. वह सूची, किसी खास कारण से बाईपास करके, किसी खास उपयुक्त लेख को ऊपर रख सकती है, किसी खास दिन /पखवाड़े के लिये, जो कि उस पखवाड़े से सम्बन्ध रखता हो, जैसे कि प्रेमचंद जी के जन्मदिवस के उपल्क्ष्य में, जुलाई के दूसरे पखवड़े में उनका लेख लाया जाये, चाहे वह नीचे ही क्यों ना हो.
  3. लेखों की स्तर आधारित श्रेणियां (ग्रेडिंग) बनायी जये. जिससे लेखक/सम्पादक, किसी लेख को प्रथम स्तर पर नहीं, तो किसी स्तर पर तो ले जा पायें,
    1. और उन्हें ज्ञात हो, कि यह लेख ३/५ पर पहुंच चुका है, और चाहें, तो कुछ प्रयास करके उसे ४/५ तक ले जाया जा सकता है.
    2. केवल लम्बाई नहीं, वरन गुणवत्ता भी उसका मानदण्ड हो. साथ ही उसके सहायक लेखों की संख्या, और स्तर भी, एवं चित्रों की संख्या.
    3. यह स्तर की सूची भी प्रकाशित हो, साथ ही , सदस्य अपने सदस्य पृष्ठ पर योगदान में लिख सकें, कि हमने १/५ स्तर के १५ लेख बनाये, २/५ के इतने, ..... इत्यादि.
    4. इससे सदस्यों का मनोबल और स्पर्धा भी बढ़ेगी, जो कि हिन्दी विकि के लिये ही सहायक होगी.

कुछ लेख विशेष श्रेणी में रखे जायें, जैसे कि रंगों की सूची, जैसा मुझे लगा, कि यह एक लेख ही नहीं, वरन अन्य लेखों के लिये सहायक भी सिद्ध होता है, जब आपको रंगों के कूट चाहिये होते हैं. ऐसे हि अन्य लेख भी प्रस्तावित हों, कारण सहित, और उन्हें एक विशेष श्रेणी में रखा जाये.

यह मेरे कुछ सुझाव हैं, जिन्हें विचार किया जा सकता है. --आशीष भटनागरसंदेश १५:२९, २६ जून २००८ (UTC)

Mediawiki:disambiguationspage

Hi! An admin should change this value from "Template:Disambig" to "साँचा:बहुविकल्पी शब्द" in Mediawiki:disambiguationspage. Otherwise MediaWiki and interwiki-bots do not see pages with this template as a disambiguation page. Compare this to this. --Euku १४:२०, २८ जून २००८ (UTC)

Yes check.svg Done(कर दिया)--सुमित सिन्हावार्ता १०:१५, २९ जून २००८ (UTC)

प्रेमचंद

इस लेख को जुलाई माह का निर्वाचित लेख बनाने का निश्चय किया है। इसकी सभी मुश्किल कड़ियाँ बन चुकी हैं। इसके अनेक महत्वपूर्ण तथ्य और आँकड़े जुटाने के लिए दिल्ली से डॉ॰ जगदीश व्योम ने जो सहयोग दिया है उसके प्रति तथा अविनाश वाचस्पति को प्रेमचंद के हस्ताक्षर उपलब्ध करवाने के लिए मैं हार्दिक आभार प्रकट करती हूँ। एक दो आसान कड़ियाँ अभी भी लाल हैं। वह कल बन जाएँगी। किसी भी सदस्य या प्रबंधक का कोई सुझाव या आपत्ति हो तो लिखें।--पूर्णिमा वर्मन १२:४७, २९ जून २००८ (UTC)

मुखपृष्ठ अद्यतन

१ जुलाई को मुखपृष्ठ अद्यतन कर दिया गया है। अब हमें १ अगस्त के लिए निर्वाचित लेख पर काम करना और उसका चयन करना है। इसके लिए हमारे पास कुछ लेख हैं जो निर्वाचित स्तर तक पहुँच सकते हैं। रंगों की सूची, ताजमहल, मलेरिया, देहरादून जिला, रंगोली और रोबोटिक्स। रोबोटिक्स को अँग्रेज़ी से हिन्दी रूपांतरित करने में सतीश मूर्ति ने काफी काम किया है। मालूम नहीं कि वे इस समय सक्रिय हैं या नहीं। देखना यह है कि यह लेख पूरा ठीक से अनूदित हुआ है या नहीं। अनुनाद अंतर्दहन इंजन पर काम कर रहे थे पर लगता है कि उसका काम आगे नहीं बढ़ सका है अगर इनमें से कोई एक लेख आगे बढ़ सके तो कम से कम एक विज्ञान-लेख हम निर्वाचित कर सकेंगे। बेहतर यह होगा कि हम इन ६ लेखों में से किसी का चुनाव कर लें और उसकी सब लाल कड़ियों और कमज़ोरियों को सुधारें। अनुरोध है कि सभी सदस्य और प्रबंधक इस विषय में अपने विचार निर्वाचित लेख उम्मीदवार पर रखें।--पूर्णिमा वर्मन ०४:३७, १ जुलाई २००८ (UTC)

क्या आप जानते हैं

मैंने देखा है कि एक प्रबंधक सुमित सिन्हा बार बार इस कॉलम का ले आउट बदल रहे हैं। शायद उनके कंप्यूटर का स्क्रीन छोटा है और उनको यह कॉलम लंबा दिखता है। पर इसके छोटा कर देने से भी कोई फ़ायदा नहीं है क्यों कि जिन लोगों का स्क्रीन बड़ा होगा उन लोगों को वह कॉलम आधा खाली दिखेगा। मेरे खयाल वेब पेज पर दो कॉलम के बीच चौड़ाई का जो संतुलन बनता है वह सिर्फ टेक्स्ट में हो पाता है ग्राफ़िक में नहीं। शायद इसीलिए अंग्रेज़ी में तस्वीर वाला कॉलम नीचे अलग से रखा है। अगर कोई प्रबंधक या सदस्य ऐसा बना सकते हैं तो बना दें। निर्वाचित तस्वीर के स्थान पर अंग्रेजी के On this day की तर्ज पर इस माह में बनाया जा सकता है। निर्वाचित तस्वीर का कालम इसके नीचे पूरी चौड़ाई में हो सकता है।--पूर्णिमा वर्मन १४:०९, १ जुलाई २००८ (UTC)

पुर्णिमा जी,कोई वेब पेज किसी कंप्यूटर पर कैसे प्रकट होता है यह बात कंप्यूटर का स्क्रीन छोटा या बड़ा होने पर नि‍भर नहीं होता है,यह बात स्क्रीन रेजोल्यूशन,वेब ब्राउसर आदि पर निर्भर होती है।और न ही तो वेब पेज पर दो कॉलम के बीच चौड़ाई का संतुलन सिर्फ टेक्स्ट में होता है। अंग्रेजी विकिपीडिया पर खाली जगह न दिखने कि वजह ,उस पृष्ठ की सही कोडिंग का नतीजा है,अंग्रेजी विकि पर प्रयोग किया गया टेबल बनाने वाले कोड से २ खाने बना कर उन्में ४ साँचे लगाए गये हैं । जबकि हिन्दी विकि पर ४ खाने बना कर अलग अलग ४ साँचे लगाए है।हो सकता है कि हम भविष्य में इसे सही कर सकें,खैर मैं ५ तथ्य से हटा कर ४ तथ्य क्या आप जानते है के नियम के अनुसार कर दे रहा था।--सुमित सिन्हावार्ता १३:३९, २ जुलाई २००८ (UTC)
ठिक हे सूमीत सीनहा जि, मुझे लगा कि मैने वेब-डिजायनिंग पढ़ी है पर आप तो बहुत ज्यादा जानते हैं।--पूर्णिमा वर्मन २०:४४, ३ जुलाई २००८ (UTC)