विकिपीडिया:चौपाल/पुरालेख 27

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Archive
पुरालेख

यह पृष्ठ विकिपीडिया चौपाल की वार्ताओं का पुरालेख पृष्ठ है। नवीनतम वार्ताओं के लिए देखें विकिपीडिया:चौपाल


अनुक्रम

उत्तम कार्यशैली प्रस्ताव

नमस्कार, मैं ऊपर en:Wikipedia:Copying within Wikipedia भाग में हुई चर्चा के पश्चात एक नए परियोजना पृष्ठ को उत्तम कार्यशैली घोषित करने का प्रस्ताव रखना चाहूँगा। पृष्ठ है विकिपीडिया:अन्य विकिमीडिया परियोजनाओं से सामग्री लेना। यहाँ वास्तव में मैं दो प्रस्ताव रख रहा हूँ:

  1. नीति के एक नए प्रकार को परिभाषित करना जिनका नाम उत्तम कार्यशैली पृष्ठ होगा। ये लगभग अंग्रेज़ी विकिपीडिया की guidelines के ही समान होंगे। एक पृष्ठ अपने-आप में किसी विशिष्ट कार्य को करने के उत्तम तरीकों पर विकिपीडिया समुदाय की आम सहमति दर्शाएँगे। ये पृष्ठ सदस्यों को कार्य से सम्बन्धित उपयुक्त जानकारी देंगे, उनका मार्गदर्शन करेंगे और उन्हें कार्य को अच्छे-से-अच्छे तरीके से पूर्ण करने के लिये प्रोत्साहित करेंगे। इनपर लिखे तरीके नीतियों की तरह सख्त रूप से लागू नहीं होंगे बलकी इनका पालन सदस्यों के विवेक पर होगा। ऐसे पृष्ठ वर्तमान नीतियों में भी मौजूद हैं, बस उनका वर्गीकरण नहीं किया गया है। उदाहरण:विकिपीडिया:अच्छे लेख लिखने के सुझाव, विकिपीडिया:शैली मार्गदर्शक इत्यादि। अतः, यहाँ मैं ऐसे पृष्ठों को औपचारिक नीतियों से भिन्न करने, उनके समूह का नामकरण करने, और उन्हें वर्गीकृत करने का प्रस्ताव रख रहा हूँ।
  2. दूसरा प्रस्ताव है इस पृष्ठ को उत्तम कार्यशैली पृष्ठ घोषित करना। फ़िलहाल यह पृष्ठ अपने प्रथम प्रारूप में है जिसे अंग्रेज़ी के en:Wikipedia:Copying within Wikipedia पृष्ठ के आधार पर, हिन्दी विकिपीडिया की ज़रूरतों और यहाँ पर की गयी चर्चा के निष्कर्षों को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है। इसके संबंध में सभी सदस्यों के विचारों और सुझावों का सहर्ष स्वागत है। मुझे आशा है कि यहाँ पर हुई चर्चा से निकले इस पृष्ठ को सभी सदस्यों का समर्थन प्राप्त होगा।

धन्यवाद --सिद्धार्थ घई (वार्ता) 18:48, 4 जनवरी 2012 (UTC)

मै इस प्रस्ताव (Copying within Wikipedia) का पूर्ण समर्थन करता हूँ। परन्तु सिद्धार्थ जी, कृपया मेरे कुछ प्रश्नों के उत्तर दें:
  1. क्या आपका "उत्तम कार्यशैली" से तात्पर्य English विकिपीडिया के "Manuel of Style" से है? अगर नहीं, तो यह शीर्षक बहुत भ्रमित करने वाला है।
  2. अगर ऊपर वाले प्रश्न का उत्तर हाँ है तो: आपने यहां दो प्रस्ताव रखें हैं, दोनों सन्मुख हैं तो इन्हें मिश्रित न करें। अगर ऊपर वाले प्रश्न का उत्तर नहीं है तो: मुझे क्षमा करें, मै आपकी बात ठीक से नहीं समझ पाया।
  3. केवल Copying within Wikipedia नीति के लिए: अगर पृष्ठ मिश्रित रूप से संपादक द्वारा अनुवादित किया/लिखा गया है तो आप कैसे पहचान करेंगे कि कहां संपादक ने स्वयं लिखा है और कहां उसने अन्य विकिमीडिया परियोजना के किसी पृष्ठ से जानकारी अनुवादित की है?
  4. यह प्रस्ताव "सुझाव", "नीति" या "दिशानिर्देश" में से किस का रूप लेगा?
<><  Bill william comptonTalk 14:35, 5 जनवरी 2012 (UTC)
@Bill: आपके प्रश्नों के उत्तर इस प्रकार हैं:
@1:नहीं इसका तात्पर्य Manual of Style से नहीं है। कृपया स्पष्ट करें कि "ये शीर्षक" से आपका तात्पर्य किस चीज़ से है?
@2,4:#मेरी बात/मेरे प्रस्ताव का अर्थ है कि जिस प्रकार अंग्रेज़ी पर policies और guidelines होती हैं, उस प्रकार यहाँ पर नीतियों के साथ "उत्तम कार्यशैली पृष्ठ" बनाएँ। मेरी जानकारी के अनुसार हिन्दी विकिपीडिया पर औपचारिक रूप से न तो किसी पृष्ठ को "दिशानिर्देश" घोषित किया गया है, न ही "दिशानिर्देश" की कोई औपचारिक परिभाषा (विकिपीडिया के संदर्भ में आम सहमति द्वारा) अपनाई गयी है।
मेरा प्रस्ताव है कि हम guideline के literal translation का प्रयोग न करें बलकी "उत्तम कार्यशैली" शब्दावली का प्रयोग करें। मेरे विचार में यह शब्दावली "दिशानिर्देश" शब्द से कम बाध्यता दर्शाती है। जो परियोजना पृष्ठ नीति बनने लायक नहीं हैं, (अर्थात जिनका पालन अनिवार्य नहीं है), उनके लिये यह शब्दावली इन पृष्ठों के "केवल सहायक, प्रेरक और आम सहमति द्वारा चुने गए कार्य करने के उत्तम तरीकों का वर्णन करने वाले पृष्ठ" भाव को "दिशानिर्देश" शब्द से बेहतर समझाती है। हर उत्तम कार्यशैली पृष्ठ विकिपीडिया पर कार्य के किसी एक (या आवश्यकता होने पर एक से अधिक) विषय (विषयों) से जुड़ी जानकारी और उस कार्य को करने के तरीके बताएगा। इनपर दिये तरीकों को मानना या ना मानना सदस्य के विवेक पर है और इनको न मानना किसी भी कड़े कदम (उदाहरण: ब्लॉक, वार्ता पृष्ठ चेतावनी इत्यादि) का कारण नहीं होगा। ये पृष्ठ वर्णन करेंगे, बाध्य नहीं होंगे। यद्यपि नीतियाँ भी कुछ हद तक वर्णनात्मक होती हैं, ये पृष्ठ वे होंगे जो पूर्णतया वर्णनात्मक हैं। हाँ, चूँकि शैली मार्गदर्शक भी इसी प्रकार का कार्य करती है, वह भी एक उत्तम कार्यशैली पृष्ठ की श्रेणी में आती है। (ठीक जैसे अंग्रेज़ी विकिपीडिया पर manual of style एक guideline है।)
यद्यपि बिल की हिन्दी काफ़ी सुधार चुकी है परंतु अपनी बात स्पष्ट करने के लिये मैं अंग्रेज़ी में भी कह देता हूँ:
I'm proposing the use of the terminology उत्तम कार्यशैली instead of the literal translation of the word guideline (दिशानिर्देश). Since, as far as I know; no page has yet been officially defined as दिशानिर्देश, and no official (i.e, accepted by hi-wp community consensus) definition of such a page exists, I'm proposing we not use this literal translation in our terminology and use उत्तम कार्यशैली instead; since, in my view, the latter represents more closely the nature of these pages as "purely descriptive" instead of being "proscriptive" to a certain extent (as is the case with policies, i.e नीतियाँ). These pages are meant to be informational to users, and to describe and promote various methods to perform certain works accepted by community consensus as generally good practices. Every उत्तम कार्यशैली page will document information, methods etc. for a particular task in wikipedia. If needed, the page may document more than one task.(Example:We may have one उत्तम कार्यशैली page for Splitting and Merging instead of two separate pages.) Following or not following उत्तम कार्यशैली is up to the user and simply a violation of one will not be cause enough for stringent measures (like user page warnings, blocking etc.) And yes, since the MOS is also descriptive in nature, it can also be classified as उत्तम कार्यशैली.
@2:अगर पृष्ठ का कुछ भाग अनूदित है और कुछ भाग सदस्य ने स्वयं लिखा है, तो:
  1. अगर सदस्य ने सम्पादन सारांश में ये बात ज़ाहिर की है तो यह अवतरण इतिहास में स्पष्ट हो जाएगी और इसके अतिरिक्त हमें कुछ करने की आवश्यकता नहीं
  2. अगर सदस्य ने सम्पादन सारांश में केवल ये लिखा है कि उसने अनुवाद ही किया है, तो उस अवतरण का मूल से मिलान किये बिना इस बात को तो कोई भी नहीं जाँच सकता (और सभी जगह ये जाँचना वास्तविक रूप में संभव भी नहीं है)। लेकिन, अवतरण इतिहास में तो सदस्य का नाम रहेगा ही।
इसके अतिरिक्त यदि सदस्य ये नहीं बताता कि उसने स्वयं भी कुछ जोड़ा है, तो मेरी जानकारी अनुसार ऐसा कुछ भी नहीं है जो हम कर सकें।
आशा करता हूँ कि आपके प्रश्नों के satisfactory उत्तर आपको मिल गए होंगे, परंतु यदि ऐसा न हो; तो फिरसे पूछ लें, मैं बात को स्पष्ट करने का पूरा प्रयत्न करूँगा। आपके समर्थन के लिये धन्यवाद और आभार --सिद्धार्थ घई (वार्ता) 22:56, 5 जनवरी 2012 (UTC)
सही एवं honestly कहूं तो मुझे इस चर्चा का अभिप्राय विशेष समझ नहीं आया। हां इसमें किसी सहमति की आवश्यकता मैं नहीं समझता हूं, कि नीतियों के पृष्ठ बनाये जायें तथा सम्मति प्राप्त कर सुरक्षित रखे तथा अनुपालित किये जाएं। ऐसा हम बरसों से करते आ रहे हैं। उन पृष्ठों पर सहमति लेकर उनके वार्त्ता पृह्ठ पर स्थानांतरित की जाती हैं। --ये सदस्य हिन्दी विकिपीडिया के प्रबंधक है।प्रशा:आशीष भटनागरवार्ता 08:13, 6 जनवरी 2012 (UTC)
आशीष जी, इस चर्चा का अभिप्राय दो बातों से है, पहला, अब तक नीतियों को एक समान रखा गया है। सभी को "नीति" ही कहा जाता है, फिर भी कुछ ऐसी हैं जिनका पालन बहुत सख्ती से होता है, जैसे कॉपीराइट नीति, (जिसका उल्लंघन block जैसे सख्त कदमों का कारण बनता है) और कुछ का नहीं, जैसे लेखन शैली (इसका उल्लंघन करने पर हम किसी को एकदम से block तो नहीं करेंगे)। मेरे विचार में हमें इन दो प्रकार की नीतियों को अलग-अलग नाम देना चाहिये, और इसीलिए मैंने "उत्तम कार्यशैली" शब्दावली के प्रयोग का प्रस्ताव रखा है। (ये कोई बड़ा प्रस्ताव नहीं है, केवल इन पृष्ठों की भावना, जो अब तक बिना लिखे भिन्न है, को लिखित रूप में भिन्न करने का प्रस्ताव है)
दूसरा प्रस्ताव है विकिपीडिया:अन्य विकिमीडिया परियोजनाओं से सामग्री लेना को इस प्रकार का "उत्तम कार्यशैली" पृष्ठ बनाना, अर्थात उसे "उत्तम कार्यशैली" घोषित करने के लिये सम्मति का निवेदन। जैसा की आप ऊपर #en:Wikipedia:Copying_within_Wikipedia में पाएँगे, इस विषय से सम्बन्धित काफ़ी चर्चा हुई थी जिसके बाद ये प्रारूप तैयार किया गया है। ये प्रस्ताव चौपाल पर ही रखा है ताकि सभी सदस्य इसपर चर्चा कर पाएँ और जिन सदस्यों को इस प्रकार के पृष्ठ को बाध्य नीति बनाने में आपत्ती है, वे भी जाँच पाएँ कि यह उनके मुताबिक़ ठीक है या नहीं।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 09:29, 6 जनवरी 2012 (UTC)
मैं सिद्धार्थ जी के विचार से सहमत हूँ। सिर्फ नए ही नहीं पुराने लेखकों के लिए भी इस तरह के निर्देश आवश्यक है। -- सौरभ भारती (वार्ता) 10:20, 14 जनवरी 2012 (UTC)

┌─────────────────────────────────┘
चूँकि यह प्रस्ताव काफ़ी लम्बी चर्चा का नतीजा था और इसपर किसी सदस्य ने आपत्ती नहीं जताई है, अतः प्रबंधकगणों से अनुरोध है कि इसे "विकिपीडिया उत्तम कार्यशैली" घोषित कर दिया जाए।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 21:31, 21 जनवरी 2012 (UTC)

 Yes check.svg  रोहित रावत (वार्ता) 06:34, 22 जनवरी 2012 (UTC)
 Yes check.svg -- सौरभ भारती (वार्ता) 12:13, 22 जनवरी 2012 (UTC)

चूँकि किसी सदस्य ने इसपर आपत्ती नहीं जताई है, अतः मैंने इसपर से "यह एक प्रस्तावित उत्तम कार्यशैली है" हटा दिया है और इसे श्रेणी:विकिनीतियाँ में जोड़ दिया है। (कहने का अर्थ है कि इसे विकिपीडिया की नियमावली में जोड़ दिया है)--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 16:13, 4 फ़रवरी 2012 (UTC)

आप लोग आउट हो चुके हैं...

अ॰ध॰व॰ के स्वर

कृपया इस संदेश को बदलकर आप लॉग-आउट हो चुके हैं कर दीजिये। क्योंकि नहीं तो ऐसा लगता है कि किसी अम्पायर ने बल्लेबाज़ को एक अप्रिय निर्णय सुनाया हो। -Hemant wikikoshवार्ता 11:29, 5 जनवरी 2012 (UTC)

 Yes check.svg उपरोक्त बदलाव कर दिया गया है। धन्यवाद--Mayur (talk•Email) 16:17, 5 जनवरी 2012 (UTC)
मयूरजी, धन्यवाद ! -Hemant wikikoshवार्ता 06:25, 6 जनवरी 2012 (UTC)
इसे एक निवेदन/सुझाव समझिए। क्या ऊपरोक्त संदेश को "आपका सत्रान्त हो गया है।" में बदलना बेहतर नहीं होगा? धन्यवाद। -- लवी सिंघल (वार्ता) 08:29, 6 जनवरी 2012 (UTC)
यहाँ लॉग की वर्तनी लौग होनी चाहिये चूँकि ॉ तब प्रयोग होता है जब ौ थोड़े कम समय के लिये बोला जाता है। इसका उदाहरण होगा: डॉक्टर। पर हिन्दी में ऐसे शब्द हैं जिन्हें हम लौग की तरह ही उच्चारित करते हैं, उदाहरण: कौन, मौन इत्यादि। लौग में भी कौन की तरह ही ौ बोला जाता है (अर्थात लम्बी अवधि के लिये बोला जाता है), अतः इसे लॉग नहीं लौग चाहिये।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 13:44, 6 जनवरी 2012 (UTC)

नमस्ते सिद्धार्थ जी, इस जगह पर 'लॉग' और 'लौग' दोनों ठीक है। अगर आप अंग्रेज़ी शब्दकोष में 'log' देखें तो उसका अ॰ध॰व॰ उच्चारण /lɔg/ या /lɒg/ है। देवनागरी में ऑ = /ɒ/ और औ = /ɔ/ - अधिक जानकारी के लिए 'ऑ' का लेख देख सकते हैं। अलग स्थानों के अंग्रेज़ीभाषी इसे अलग तरह से उच्चारित करते हैं। अधिकतर अमेरिकी लोग 'लॉग' कहते हैं और अधिकतर ब्रिटिश लोग 'लौग', लेकिन दोनों समुदायों में आपको उलटे तरीके से उच्चारण करने वाले लोग भी मिलेंगे। एक बात पर ग़ौर करें कि ऑ और औ का अंतर अल्प-दीर्घ उच्चारणकाल का नहीं है, बल्कि ये दोनों स्वर ही भिन्न हैं और इनमें मूंह अलग आकारों में बनाए जाते हैं। इन दोनों की और अन्य स्वरों की तुलना दाएँ चित्र में देख सकते हैं। धन्यवाद! --Hunnjazal (वार्ता) 17:32, 6 जनवरी 2012 (UTC)

इस जानकारी के लिये धन्यवाद हुन्जज़ल जी। यद्यपि मेरे विचार में तो आम हिन्दी-भाषी इसे लौग इन ही पड़ेगा पर सब लगों के आउट हो जाने से तो लॉग-आउट होना भी बेहतर है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 01:49, 8 जनवरी 2012 (UTC)

हँस रहा हूँ :-)। बिलकुल ठीक, हम सब के आउट हो जाने से तो 'लॉग' और 'लौग' दोनों ही बेहतर हैं। --Hunnjazal (वार्ता) 02:38, 8 जनवरी 2012 (UTC)

भगत सिंह

नमस्कार! मैने इस लेख में यथावश्यक संशोधन करते हुए अन्य भाषाओं के शब्द हिन्दी में अनूदित करके बदल दिये हैं। कृपया इसे देख लें और पहले वाला दिशानिर्देशक टैग हटा दें। धन्यवाद Krantmlverma (वार्ता) 08:08, 6 जनवरी 2012 (UTC)

नए निर्वाचित लेख उम्मीदवार

समुंदर के लुटेरे: मुर्दे का खज़ाना और 1896 ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक निर्वाचित लेख बनने हेतू उम्मीदवार है। आप विकिपीडिया:निर्वाचित लेख उम्मीदवार पे इन्हे सुधारने हेतू अपना योगदान दे सकते है। धन्यवाद। आशूबातकरें 09:35, 6 जनवरी 2012 (UTC)

संयुक्त राज्य अमेरिका के अटॉर्नी जनरल

संयुक्त राज्य ( संयुक्त राज्य किसी देश कन नाम तो है नही जबकि इंग्लीश मे युनाइटेड स्टेट्स की सीधा तात्पर्य अमेरिका से ही होता है) के अटॉर्नी जनरल का कुछ भावार्थ ही नही बनता क्योकि ईस लेख का संबंध अमेरिका से है तो अमेरिका का नाम तो आएगा ही(राहुल कौशिक 10:16, 6 जनवरी 2012 (UTC)) मेरी सर्वोत्तम जानकारी के अनुसार "अटॉर्नी जनरल" को महान्यायवादी कहा जाता है |

निर्वाचित लेख उम्मीदवार और निर्वाचित लेख परख

इस समय दो पृष्ठ हैं जिनका अब तक एक ही कार्य के लिये प्रयोग किया जाता आया है, वि:निर्वाचित लेख उम्मीदवार और वि:निर्वाचित लेख परख। मेरे विचार में दोनों को विलय कर दिया जाना चाहिये और निर्वाचित लेख परख और उसके पुरालेखों को निर्वाचित लेख उम्मीदवार के पुरालेखों में डाल देना चाहिये।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 00:01, 7 जनवरी 2012 (UTC)

चूँकि किसी सदस्य ने आपत्ती नहीं जताई है, अतः यह कार्य कर दिया है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 09:34, 18 जनवरी 2012 (UTC)

February deployment (test deploy now)

We (Wikimedia Engineering) are planning to deploy Mediawiki 1.19 next month. To avoid post deployment troubles we had during previous deployment we are setting up a test site.

We are going to clone subset of some pages and configuration of several production wikis there, including Hindi wikipedia, to give everyone a chance to test software before it is deployed to production. The test site should be fully operational on 09-January-2012. For now you can, of course, create an account there to test various scripts or even import pages. For larger XML imports please ask petan or hexmode in #wikimedia-labs (webchat link).

In case you found any issue please use this page to report it. In case you have any questions or suggestions let us know! — MarkAHershberger (वार्ता) 01:21, 8 जनवरी 2012 (UTC)

निर्वाचित लेख साँचा और निर्देशांक

निर्वाचित लेखों को चिन्हित करने वाला वर्तमान साँचा एक topicon लगाता है जो इस समय निर्देशांकों के साथ कुछ हद तक जुड़ा हुआ दिखाई देता है। इसका उदाहरण दिल्ली पर देखा जा सकता है। इसे ठीक करने के लिये कोई कदम उठाए जाने चाहियें।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 02:02, 8 जनवरी 2012 (UTC)

विकिपीडिया शब्दावली

नए सदस्यों की सहायता हेतु विकिपीडिया पर प्रयुक्त कुछ विशेष शब्दों की एक-दो वाक्य लम्बी परिभाषाएँ बताने के लिये वि:शब्दावली पर कार्य शुरू किया है। सदस्य कृपया इसमें अन्य शब्दावलियाँ जोड़ने में मदद करें।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 02:06, 8 जनवरी 2012 (UTC)

+1. इसे विकिपीडिया सहायता के साथ जोड़ देना चाहिए। -- सौरभ भारती (वार्ता) 13:16, 14 जनवरी 2012 (UTC)

भाषा साँचे

मित्रों मैंने इस पृष्ठ पर जो भाषा साँचे हैं उनका नाम बदल कर हिन्दी में कर दिया हैं। ऐसा करने के पीछे मेरा उद्देश्य था लेखन में सुविधा और भाषा कूटों को याद रखने की परेशानी से सम्पादकों को छुटकारा दिलाना। इस सम्बन्ध में मैंने बिल बिलियम जी के वार्ता पृष्ठ पर भी लिखा है जिसे आप लोग वहाँ पढ़ सकते हैं। हालांकि विलियम जी ने मुझसे कहा है कि इए आईएसओ कूट हैं जिन्हें बदला नहीं जा सकता लेकिन मैंने लेखन सुविधा हेतु इनके नामों को हिन्दी में किया है। इसपर आप लोगों की क्या राय है? रोहित रावत (वार्ता) 15:03, 8 जनवरी 2012 (UTC)

इस कार्य के लिये आपका धन्यवाद। शुरू-शुरू में तो मुझे इनका नाम बदलने की बात थोड़ी अटपटी-सी लगी थी, पर प्रयोग करने का जब समय आया तो ज्ञात हुआ कि वास्तव में lang-ru लिखने से भाषा-रूसी लिखना कही ज़्यादा आसान है। विकिपीडिया पर संपादन सुगम बनाने के इस कार्य के लिये आपका धन्यवाद।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 05:47, 12 जनवरी 2012 (UTC)

लेख हटाने वालों से निवेदन

मैं देख रहा हूँ कि कई मामलों में लेख हटाने में इससे संबन्धित 'बेस्ट प्रैक्टिस' की अवहेलना हो रही है। उदाहरण के लिये 'विद्युत प्रौद्योगिकी का इतिहास' को लें। इसे हाल ही में हटाया गया है। कोई भी नहीं कहेगा कि इस नाम का लेख हिन्दी के लिये आवश्यक नहीं है। इसे पूरी तरह हटाने के बजाय इसका अंग्रेजी कंटेंट हटाकर 'आधार' का टैग लगाया जा सकता था। अच्छा तो होता कि इसके बारे में दो वाक्य हिन्दी में लिखकर लेख को एक दिशा दे दी जाती। यह तो एक उदाहरण है। इसी तरह के कुछ और भी लेख हटाए गये हैं। स्थिति यह हो गयी है कि हटाने वालों से अब डर लगने लगा है कि अपनी सारी मेहनत कोई बेकार न कर दे। हमे सब काम छोड़कर उल लेखों की सूची पढ़नी पड़ती है जो हटाए गये हैं। -- अनुनाद सिंहवार्ता 07:23, 11 जनवरी 2012 (UTC)

अनुनाद जी, माना इस विषय का लेख होना चाहिये; परंतु इसका यह मतलब नहीं कि पूरे लेख को अंग्रेज़ी से कॉपी-पेस्ट करके एक-दो वाक्यों का अनुवाद कर लेख को छोड़ दिया जाए कि कोई और अनुवाद करेगा। आपने पिछले 2 वर्षों में 10,000 से भी अधिक योगदान दिये हैं, और सिर्फ़ दिसम्बर 2011 के महीने में 75 से अधिक लेख बनाए हैं, जिनके लिये हिन्दी विकिपीडिया सदैव आपका आभारी रहेगा; परंतु पिछले दो वर्षों में 31 जनवरी 2010 को आपके ही द्वारा बनाए इस लेख का अनुवाद करने का ना आपको, ना किसी अन्य सदस्य को ही समय मिला। ऐसे में, जब वर्षों तक लेख बिना अनुवाद किये हुए रहते हैं तो उनके हिन्दी विकिपीडिया पर होने का न तो कोई औचित्य है, और न ही कोई उपयोग। अगर अंग्रेज़ी ही लिखनी-पढ़नी हो तो पाठक अंग्रेज़ी विकिपीडिया पर ही न चला जाए। दूसरी बात यह, कि यदि अंग्रेज़ी पाठ को हटाकर हिन्दी के एक-दो वाक्य ही लिखने हैं, तो फिर अंग्रेज़ी का पाठ डालने और उसपर {{अनुवाद}} का टैग लगाने का औचित्य ही क्या।
मैं स्पष्ट कर दूँ कि मैंने ही इस पृष्ठ को हटाया है चूँकि इसमें 31 जनवरी 2010 (जब इसे अनुनाद जी ने बनाया) के बाद बोट के अलावा किसी ने कोई संपादन नहीं किया था। ऐसे में अगर इन लेखों को छोड़ दिया जाए तो सिर्फ़ हिन्दी विकिपीडिया का नाम ही बदनाम होता है। और ऐसे लेखों के लिये ही वि:पृष्ठ हटाने की नीति का मापदंड ल1 है। हाँ, यदि आपको इस लेख के विषय में रुचि है तो आप फिरसे इसे हिन्दी में बना सकते हैं। परंतु निवेदन है कि अंग्रेज़ी विकिपीडिया से कॉपी-पेस्ट करके {{अनुवाद}} टैग लगाकर लेखों को न छोड़ें।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 17:44, 11 जनवरी 2012 (UTC)
सिद्धार्थ जी, इस बात पर पहले भी चर्चा हो चुकी है यह कहा गया है कि किसी लेख में यदि एक वाक्य भी सार्थक हो तो वह उपयोगी है और उस नाम के लेख न होने से बेहतर है कि उस पर एक 'आधार लेख' हो। जब आप किसी लेख को मिटाते हैं तो उसके साथ उसकी बाहरी कड़ियाँ, श्रेणियाँ, अन्तरविकी लिंक भी मिट जाते हैं जिनको पुनः बनाने में समय लगता है। किसी लेख यदि आप महत्वपूर्ण मानते हैं तो मिटाने के पहले थोड़ा और मेहनत करके उसका अनुवाद करने या उसे आगे बढ़ाने का आह्वान कर सकते हैं या उसकी दशा पर लोगों का ध्यन आकर्षित कर सकते हैं। मैने यदि कहीं कोई अंग्रेजी सामग्री डाली है तो बहुत सम्भव है कि वह ऐसी सामग्री है जिसका अनुवाद मशीन से भी हो सकता है या बिना अनुवाद के भी वह हिन्दी में पचायी जा सके। मैं अंग्रेजी सामग्री डालता भी हूँ तो वह एकाध पृष्ट की होती है और उसका कुछ आरम्भिक भाग अनुवाद कर देता हूँ।
आप मापदंड ल1 की बात कर रहे हैं किन्तु उसके उपर 'अन्य विकल्प' भी हैं जिन पर पहले विचार होना चाहिये। -- अनुनाद सिंहवार्ता 03:27, 12 जनवरी 2012 (UTC)
आपने सही कहा कि यदि लेख सार्थक लगे तो उसे बचाने का प्रयत्न किया जाना चाहिये और वि:पृष्ठ हटाने की नीति में दिये अन्य विकल्पों का प्रयोग किया जा सकता है। और आपने यह भी सही कहा कि लेख हटाने से पहले पृष्ठ निर्माता को सूचित किया जाना चाहिये। परंतु जैसा आपने स्वयं देखा है, आपको स्वयं ही इन लेखों को ठीक करने का समय नहीं मिला, तो किसी और को क्या मिलेगा। और इतने कम सदस्यों के चलते, इतने अधिक काम में कहीं-न-कहीं भूल-चूक हो ही जाती है। ऐसे में अनुरोध है कि भूल पकड़ने पर आप उसे पुनर्स्थापित कर दिया करें और हटाने वाले को अधिक सावधानी बरतने के लिए कहें। मैं इसे पुनर्स्थापित कर रहा हूँ और इसमें से अंग्रेज़ी सामग्री अभी के लिये हटा रहा हूँ। आप इतिहास में से देख कर इसका अनुवाद कर सकते हैं। भूल ज्ञात कराने और मार्गदर्शन के लिये आपका आभारी --सिद्धार्थ घई (वार्ता) 04:45, 12 जनवरी 2012 (UTC)
मेरे विचार से हमें इस मामले में एक अलग पद्धति अपनानी चाहिये जैसे कि जब तक कोई लेख या पृष्ठ साफ बर्बरता/निजी पृष्ठ न हो तो उसे किसी भी उत्त्पात नियन्त्रक या प्रबन्धक को स्वयं नहीं हटाना चाहिये, उसे हटाने हेतु नामांकित कर देना चाहिये, इससे यह होगा कि वह पृष्ठ किसी अन्य प्रबन्धक या उत्त्पात नियन्त्रक के पास जायेगा जिससे उस पृष्ठ का दो बार परीक्षण हो जायेगा यदि दूसरे उत्त्पात नियन्त्रक को भी वह पृष्ठ हटाने योग्य लगता है तो वह उस पृष्ठ को हटा सकता है। आप लोगों की इस पर क्या राय है।--Mayur (talk•Email) 05:37, 15 जनवरी 2012 (UTC)
आपका विचार बिलकुल सही है मयूर। पहले मैंने इसी तरीके से कार्य किया है। इससे इस बात की दो व्यक्तियों द्वारा पुष्टि हो जाती है कि लेख वास्तव में हटाने योग्य है। परंतु हालही में लगभग 1-2 सप्ताह तक लेख हटाने हेतु मेरे द्वारा चिन्हित किये जाने के बाद बिना किसी निर्णय/चर्चा के चिन्हित ही रहे; और अंत में उन्हें मुझे स्वयं ही हटाना पड़ा (वे साफ़ कॉपीराइट उल्लंघन थे)। इससे मुझे लगा कि शायद आज-कल सदस्यों को किन्हीं कारणों से समय नहीं मिल रहा है; इसीलिए मैंने इस घटना के बाद लेख स्वयं हटाने शुरू किये। आम परिस्थितियों में स्वयं चिन्हित करके स्वयं नहीं हटाना चाहिये, मैं इस बात से सहमत हूँ। मुझे आशा है कि सदस्यों को विकिपीडिया पर योगदान के लिये समय मिलेगा और कार्य करने के इस अच्छे तरीके को फिरसे अपनाया जा सकेगा।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 08:26, 15 जनवरी 2012 (UTC)
जो लेख साफ बर्बरता या कॉपीराइट उल्लंघन हो उनको तो सीधा ही हटाया जा सकता है परन्तु जिसमें हम में से किसी को भी तनिक भी संदेह लगे उसे केवल नामांकित कर देना चाहिये। आपकी यह बात सत्य है कि आजकल कई पुराने उत्त्पात नियन्त्रक या प्रबन्धक अभी सक्रिय नहीं है अत: इस प्रकार की त्रुटि हो जाना स्वभाविक है परन्तु इससे हतोत्साहित न हो इस प्रकार की त्रुटियां किसी से भी हो सकती है वैसे मेरे विचार में इसे त्रुटि नहीं कहा जा सकता क्योंकि इसे हटाने का आपके पास एक वैध कारण था परन्तु फिर भी जिस भी लेख में हमें थोडा़ सा भी संदेह हो उसे नामांकित कर सकते है और उसे हटाने का कार्य किसी और उत्त्पात नियन्त्रक पर छोड़ सकते है। इस प्रकार के प्रकरणों में विचलित न होवें, आपका कार्य अत्यंत प्रंशसनीय है। शुभकामनाएँ--Mayur (talk•Email) 09:20, 15 जनवरी 2012 (UTC)
मयूर जी, सिद्धार्थ जी की ही तरह मैं भी आपकी बात से काफी हद तक सहमत हूँ और ज़्यादातर ऊपर लिखे सिद्धांत का पालन करने की कोशिश भी करता हूँ। मुझे दिक्कत तब आती है जब मेरे टैग लगाने के तुरन्त बाद पृष्ठ का लेखक उसे हटा देता है और इस प्रकार अवांछित पृष्ठों पर नजर रखने वाले अन्य वरिष्ठ संपादक उसे देख ही नहीं पाते है। कई अवसर पर मैंने गौर किया है कि यहीं बात सिद्धार्थ जी/Bill आदि द्वारा लगाये गये टैगों के लिए भी सत्य है। ऐसे में मुझे फिर से टैग लगाना पड़ता है और इस प्रकार पृष्ठ न तो कभी हटता है, न ही सुधरता है। इसके अलावा एक और नई प्रवृत्ति इन दिनों देखने को मिल रही है जिसकी और ध्यान आकर्षित करने की मैं जरूरत समझता हूँ। बिना किसी सदस्य विशेष का नाम लिए, कई ऐसे नये संपादक है जिनके ज़्यादातर संपादन या तो वापस लिए जाते रहे है या पूरे के पूरे पृष्ठ ही हटाने पड़े है, परन्तु इससे उस लेखक की संपादन संख्या बढती है और फिर कुछ दिनों में वह वरिष्ठ संपादक के अधिकारों की माँग करने लगता है। उनके मिलने पर वह हटाएँ हुए पृष्ठों को फिर से पुनर्जीवित कर सकता है और ऐसी सूरत में सिर्फ अराजकता ही फैलेगी। अपनी बात को यहीं विराम देना उचित होगा। -- लवी सिंघल (वार्ता) 05:15, 18 जनवरी 2012 (UTC)

कैश साफ करें

मुख्यपृष्ठ पर सबसे निचले साँचे के दायीं ओर यह साँचा दिखता है। इसमें कैशे साफ करें की जगह कैश साफ करें किया जाना चाहिये (सभी प्रमुख शब्दकोशों के अनुसार इसका उच्चारण कैश ही है- जैसे- http://oald8.oxfordlearnersdictionaries.com/dictionary/cache)। (चूँकि यह साँचा सुरक्षित है इसलिए मैं यहाँ लिख रहा हूँ)। धन्यवाद सहित। -Hemant wikikoshवार्ता 16:22, 13 जनवरी 2012 (UTC)

+1. इसकी सूचना लेख स्पैनिश जैसी भाषा में लिखी है - Refresca la portada । मुखपृष्ठ से जुड़े होने के कारण इसे संपादित नहीं किया जा सकता। -- सौरभ भारती (वार्ता) 13:09, 14 जनवरी 2012 (UTC)
 Yes check.svg Done--Mayur (talk•Email) 09:24, 15 जनवरी 2012 (UTC)
धन्यवाद मयूर जी। एक छोटी सी चीज रह गई उसे भी लगे हाथों साफ कर दीजिए। कैश वाले बटन के इंफोबॉक्स यानि title पर अभी भी Refresca la portada लिखा आ रहा है। इसे बदलकर "Refresh Home Page" का जो उचित हिन्दी हो वह लगा दें। -- सौरभ भारती (वार्ता) 08:01, 16 जनवरी 2012 (UTC)
मुखपृष्ठ के बाएँ स्तम्भ में "किसी एक लेख पर जाएँ", लिन्क http://hi.wikipedia.org/wiki/विशेष:Random , नहीं है, वहाँ भी लगा दीजिये। -- सौरभ भारती (वार्ता) 13:29, 14 जनवरी 2012 (UTC)
 Yes check.svg Done--Mayur (talk•Email) 09:24, 15 जनवरी 2012 (UTC)
लोहित देवनागरी फॉन्ट से विकि लेख का शीर्षक ऊपर से थोड़ा कटा आ रहा है। जैसे इस लेख को देखें - दक्षिण अमेरिकी देशों की सूची या ऊपर चौपाल के शीर्षक को ही ले लें। मंगल फॉन्ट, जो विन्डोज़ का डिफॉल्ट फॉन्ट है, लगाने पर कोई दिक्कत नहीं है। इसका कोई उपाय?-- सौरभ भारती (वार्ता) 13:40, 14 जनवरी 2012 (UTC)
मुखपृष्ठ के बाएँ पट पर लगी "अन्य भाषाएँ" और किसी भी अन्य लेख पर लगी "अन्य भाषाएँ" अलग-अलग हैं। क्या इसे एक/अलग होना चाहिए?-- सौरभ भारती (वार्ता) 15:07, 14 जनवरी 2012 (UTC)
शीर्षक में (ऊपर या नीचे की) मात्राएँ कटना एक ज्ञात त्रुटि है जिससे सम्बंधित आप bugzilla:30809 देख सकते हैं। यह जल्द ही दूर हो जानी चाहिये।
धन्यवाद।
अन्तरविकि कड़ियाँ किसी लेख पर वही दिखाई देती हैं जिन्हें जोड़ा जाता है। उदाहरण के तौर पे, यदि चौपाल के अंत में [[en:Wikipedia:Village pump]] न लिखा हो तो यहाँ भी अंग्रेज़ी विकिपीडिया की अन्तरविकि कड़ी नहीं दिखाई देगी।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 06:16, 16 जनवरी 2012 (UTC)
मुखपृष्ठ पर अन्य भाषाओं की सूची में भारतीय भाषाएँ ऊपर हैं, जबकि अन्य किसी भी लेख पर लगी अन्य भाषाएँ की सूची वर्णमालानुसार हैं (मतलब भारतीय भाषाएँ भीड़ में खो गई हैं)। (1) अगर जैसा है वैसा ठीक है तो फिर ठीक है (असहमत), (2) अगर अन्य लेखों पर भी भारतीय भाषाएँ ऊपर चाहिएँ तो इसके लिए एक बॉट बनाया जा सकता है, जो इसे सरलता से कर सकेगा (सहमत)। कृपया आपलोग अपना मत दें।-- सौरभ भारती (वार्ता) 08:01, 16 जनवरी 2012 (UTC)

Announcing Wikipedia 1.19 beta

Wikimedia Foundation is getting ready to push out 1.19 to all the WMF-hosted wikis. As we finish wrapping up our code review, you can test the new version right now on beta.wmflabs.org. For more information, please read the release notes or the start of the final announcement.

The following are the areas that you will probably be most interested in:

  • Faster loading of javascript files makes dependency tracking more important.
  • New common*.css files usable by skins instead of having to copy piles of generic styles from MonoBook or Vector's css.
  • The default user signature now contains a talk link in addition to the user link.
  • Searching blocked usernames in block log is now clearer.
  • Better timezone recognition in user preferences.
  • Improved diff readability for colorblind people.
  • The interwiki links table can now be accessed also when the interwiki cache is used (used in the API and the Interwiki extension).
  • More gender support (for instance in logs and user lists).
  • Language converter improved, e.g. it now works depending on the page content language.
  • Time and number-formatting magic words also now depend on the page content language.
  • Bidirectional support further improved after 1.18.

Report any problems on the labs beta wiki and we'll work to address them before they software is released to the production wikis.

Note that this cluster does have SUL but it is not integrated with SUL in production, so you'll need to create another account. You should avoid using the same password as you use here. — Global message delivery 00:12, 15 जनवरी 2012 (UTC)

मित्रों को भारतीय विकियों पर योगदान देने के लिए आमंत्रण भेजना

नमस्कार,

मैं अपने मित्रों को एक अच्छे साँचे में लिखा हुआ आमंत्रण भेजना चाहता हूँ। मुख्यतः मेरी आशा उन्हें किसी भी भारतीय भाषा के विकि पर योगदान के लिए प्रोत्साहित करने के लिए है। क्या इसके लिए कोई साँचा उपलब्ध है? अगर है, तो कृपया मेरे साथ साझा करें। अगर नहीं, तो क्या हमें ऐसा एक मेल तैयार करना चाहिए, जिसे कोई भी अपने मित्रों को सहज आमंत्रित कर सके। -- सौरभ भारती (वार्ता) 13:28, 16 जनवरी 2012 (UTC)

पन्नों की दृष्यगिनती

  • किन पन्नों को कितनी बार देखा गया है, उसकी जानकारी यहाँ से ली जा सकती है dump of page views
  • 01 जनवरी 2012 को 12 बजे सुबह के डम्प से मैंने हिन्दी लेखों को छांटा है, जो hiwikipagecounts-20120101-000000.txt पर हैं। -- सौरभ भारती (वार्ता) 23:09, 17 जनवरी 2012 (UTC)

copyright usage of unpublished material

  1. यदि मेरे पास किसी लेख के लिए आंग्लभाषा में सन्दर्भ हैं तो क्या मैं उनका प्रयोग कर सकता हूँ ?
  2. एक ही बिंदु पर विभिन्न भाषाओं में लिखे गए लेखों को आपस में कैसे जोड़ेंगे ?
  3. यादे मेरे पास कुछ आइसे चित्र हिं जो की अभी तक वेब की दुनिया में कहीं प्रकाशित नहीं हुए हिं परन्तु वो सार्वजनिक महत्त्व के हैं तो मैं उनको कैसे साझा कर सकता हूँ और क्या ऐसा करने के बाद भी वो पूर्णतयः copyright से मुक्त रहेंगे ? -- Ankitcktd (वार्ता) 06:52, 21 जनवरी 2012 (UTC)
आपके प्रश्नों के उत्तर कुछ इस प्रकार हैं:
  1. जी हाँ, आप अंग्रेज़ी (या अन्य किसी भी भाषा) के सन्दर्भों का प्रयोग कर सकते हैं (यद्यपि कोशिश अवश्य की जानी चाहिये हिन्दी संदर्भ ढूँढने की)। यदि किसी विवादास्पक वस्तु के लिये संदर्भ हो, तो आप चाहें तो मूल भाषा का एक हिन्दी अनुवाद भी साथ में quotation के रूप में प्रदान कर सकते हैं। (यह वैकल्पिक है)
  2. किसी विषय पर विकिपीडिया के विभिन्न भाषा-संस्करणों में लिखे लेख आपस में जोड़ने के लिये अंत में [[भाषा कोड:लेख का उस भाषा के संस्करण में नाम]] जोड़ दें। उदाहरण: मुम्बई के अंत में आप पाएँगे [[en:Mumbai]], और Mumbai के अंत में आप पाएँगे [[hi:मुम्बई]]। लेखों की भाषाओं को जोड़ने का यह तरीका विकिपीडिया के सभी भाषा-संस्करणों पर काम कर्ता है।
आपके तीसरे प्रश्न का उत्तर थोड़ा लम्बा है। आपके पास जो चित्र हैं वे कॉपीराइट से मुक्त हैं या नहीं, पहले यह तय करना होगा।
पहला प्रश्न तो ये आता है कि वे आपको कहाँ से मिले। क्या किसी अखबार/किताब/पत्रिका से? या फिर वेब पर? अगर इनमें से कहीं से भी मिले तो वे जहाँ आपको मिले, maximum chance है कि वे उसके प्रकाशक द्वारा (या रचाईता द्वारा) कॉपीराइट हैं, और विकिपीडिया के लिये उपयुक्त नहीं हैं।
यदि आपको किसी प्रकाशित वस्तु में से नहीं मिले (अर्थात चित्रों को कभी प्रकाशित नहीं किया गया है), तो प्रश्न आता है कि उनका रचईता कौन है? क्या चित्र आपने बनाए हैं? या किसी और ने? अगर आपने स्वयं बनाए हैं तो आप उन्हें किसी भी मुक्त लाइसेंस के अंतर्गत अपलोड कर सकते हैं। अगर किसी और ने बनाए हैं तो उनका कॉपीराइट उसी व्यक्ति के पास है, और उस व्यक्ति की लिखित अनुमति के बिना उन चित्रों का प्रयोग नहीं किया जा सकता। हाँ, यदि रचईता की मृत्यु को 60 वर्ष से अधिक समय बीत गया है, तो चित्र सार्वजनिक क्षेत्र (public domain) हुए।
इन बातों के अतिरिक्त, यदि वे चित्र किसी कॉपीराइट सुरक्षित वस्तु/कार्य के चित्र हैं, तो वे derivative work हुए और वे मूल कार्य के रचईता की संपत्ति हैं। उदाहरण: किसी फ़िल्म पोस्टर की यदि कोई व्यक्ति फ़ोटो लेता है तो उस फ़ोटो का कॉपीराइट उसी के पास है जिसके पास पोस्टर का कॉपीराइट है; फ़ोटो खींचने वाले का पास नहीं।
यदि आप चित्र के संबंध में कुछ अधिक जानकारी प्रदान कर सकें तो लाइसेंस चुनने में आपकी बेहतर मदद की जा सकेगी। --सिद्धार्थ घई (वार्ता) 20:09, 21 जनवरी 2012 (UTC)

वो चित्र मेरी निजी संपत्ति हिं और अभी तक किसी का भी copyright नहीं हैं मैं केवल ये जानना चाहता हूँ की विकिपीडिया पर डालने के कारन उन चित्रों की स्थिति में कोई अंतर आएगा क्या ? अर्थात क्या उसके बाद भी हर किसी हो बिनाकिसी रोक टोक के वो चित्र कॉपी करने की अनुमति होगी |

इसके अतिरिक्त मैंने एक पृष्ठ "सांप्रदायिक एवं लक्ष्यित हिंसा निवारण अधिनियम " बनाया है परन्तु इसका अधिक प्रचिलित नाम "सांप्रदायिक एवं लक्ष्य केन्द्रित हिंसा निवारण अधिनियम है " तो इसका नाम बदंलाना तथा दुसरे वाले नाम को ridirect करने का कार्य यदि आप कर दें या तरीका बता दें तो हम आभारी होंगे आप के |

आप अपने स्वयं द्वारा बनाए चित्रों (अर्थात जो आपकी संपत्ति हैं) को विकिपीडिया पर केवल मुक्त लाइसेंस के अंतर्गत डाल सकते हैं (उदाहरण: creative commons attribution share alike unported 3.0)। मुक्त लाइसेंस का अर्थ है कि किसी को भी उसके derivative work बनाने की, और उसका कमर्शियल प्रयोग करने की भी अनुमति होगी। साथ ही, ध्यान रखें कि एक बार यदि आप चित्र को creative commons या GNU free documentation license के अंतर्गत विमोचित करते हैं तो आप उसे कभी वापिस नहीं ले सकते।
क्या आपका संदर्भ सांप्रदायिक_और_लक्ष्यित_हिंसा_निवारण_विधेयक लेख से है?--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 19:16, 23 जनवरी 2012 (UTC)

जी हाँ मैं इसी लेख की बात कर रहा हूँ |

YesY इसका नाम आपके कहे अनुसार सांप्रदायिक एवं लक्ष्य केन्द्रित हिंसा निवारण अधिनियम कर दिया है।

धन्यवाद परन्तु मुझे हिंदी विकी की सहायता में ऐसा कोई लेख नहीं मिला है जो की redirect करने या लेखों का नाम बदलने का तरीका बता सके और इसलिए मुझे बार बार चौपाल में आना पड़ता है | क्या स्थापित और अनुभवी सदस्यों को सबसे पहले सहायता के पृष्ठों को पूरा नहीं कर देना चाहिए ताकि नए लोग भी आसानी से जुड़ सकें |ये मेरा निजी विचार है |

आपका विचार बिलकुल सही है। इस बारे में सहायता पृष्ठ होना आवश्यक है। इसकी शुरुवात वि:स्थानांतरण पर कर दी है। इसे बेहतर बनाने के लिये सभी सदस्यों का स्वागत है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 21:21, 27 जनवरी 2012 (UTC)

मध्य और केन्द्रिय या केन्द्र का अन्तर

अभी मैंने ट्राफलगर स्क्वायर नामक लेख पढ़ा। इस लेख के आरम्भ में ही एक पंक्ति लिखी हुई है कि यह केन्द्रिय लन्दन में स्थित है जबकि यहँ लिखा होना चाहिए ट्राफलगर स्क्वायर मध्य लन्दन में स्थित है। मैं यहाँ पर मध्य और केन्द्रिय में अन्तर स्पष्ट कर दूँ। हिन्दी में अंग्रेज़ी के सॅण्ट्रल को हर बार केन्द्रिय नहीं कहा जाता। हिन्दी में मध्य का तात्पर्य भौगोलिक है और केन्द्र या केन्द्रिय का अर्थिक। उदाहरण के लिए हम मध्य प्रदेश को केन्द्रिय प्रदेश नहीं कहते मध्य प्रदेश कहते हैं क्योंकि यह राज्य भौगोलिक रूप से भारत के मध्य भाग में स्थित है जबकि दिल्ली की केन्द्र सरकार को केन्द्र सरकार कहते हैं वह इसलिए कि भारत के प्रशासन का तानाबाना केन्द्र सरकार के आसपास बुना हुआ है। इसी प्रकार किसी ने कहीं पर सॅण्ट्रल अमेरिका को केन्द्रिय अमेरिका लिखा हुआ था जो बिल्कुल गलत है। वह मध्य अमेरिका है क्योंकि वह भौगोलिक रूप से महाअमेरिका महाद्वीप के मध्य भाग में स्थित है। इसलिए कृपया लेख बनाते समय व्याकरण की इन बारीकियों का भी ध्यान रखें। सीधे-सीधे अंग्रेज़ी की नकल करते हुए उस स्थान पर प्रचलित हिन्दी शब्द ना रखें। दूसरी बात यह कि इस पूरे लेख में वाक्य समाप्त करने के लिए (.) का उपयोग किया गया है जबकि हिन्दी में वाक्य समाप्ति () पूर्ण विराम से होती है। लगता है कि भारत में अब कुछ भी अपने विशुद्ध रूप में नहीं रह गया है। खाने पीने के समानों की तरह भाषाएँ भी मिलावटी हो चुकी हैं। मेरे विचार से तो हिन्दी मे लिखने के बजाए अंग्रेज़ी के लेखों को देवनागरी लिपि में ही लिख लेना चाहिए जैसे ट्राफलगर स्क्वायर इज़ अ पब्लिक स्क्वायर इन सॅण्ट्रल लण्डन। रोहित रावत (वार्ता) 08:24, 22 जनवरी 2012 (UTC)

अंतिम पंक्ति छोड़ के, रोहित जी, आपने बात पते कि की है। -- सौरभ भारती (वार्ता) 11:58, 22 जनवरी 2012 (UTC)

'गणित वर्ष' (२०१२) में हमारा दायित्व

हिन्दी विकिपीडिया के लिये गणित वर्ष मनाने का शायद सबसे अच्छा तरीका यह होगा कि हम गणित-विषयक कम से कम एक लेख, एक वर्ष तक, हिन्दी विकि में अवश्य जोड़ें। अर्थात् सन् २०१२ में कोई ३५० से लेकर ४०० गणित सम्बन्धी लेखों का योगदान करें। इससे हिन्दो विकि की समृद्धि को चार चाँद लग जाएंगे। आइये, लग जाँय। -- अनुनाद सिंहवार्ता 15:04, 22 जनवरी 2012 (UTC)

बहुत अच्छा सुझव है अनुनाद जी।--डा० जगदीश व्योम (वार्ता) 16:30, 22 जनवरी 2012 (UTC)
सुझाव अच्छा है। कोई विकि प्रोजेक्ट बनाकर अगर उसमें शीर्षकों की सूची बना लें तो हम जैसे नए लेखकों को लिए अच्छा रहेगा। इसे हिन्दी विकिपीडिया पर क्या चल रहा है पर भी डाल दें। -- सौरभ भारती (वार्ता) 06:44, 26 जनवरी 2012 (UTC)

ओड़िया अथवा ओड़िआ ?

भाई, एक हि नाम "ओड़िआ भाषा" में दो पृष्ठ हैं । ओड़िया भाषा को स्थानान्तरण करना है ओड़िआ भाषा में । ओड़िआ भाषा सही हैं और उसमे कोई लेख नहीं हैं शिबाए शीर्षक के । धनयबाद । अंशुमान (वार्ता) 11:41, 24 जनवरी 2012 (UTC)

इस बारे में आपका संदेश पढ़ा। इस बारे में मेरी जानकारी कम है। आप कह रहे हैं कि 'ओड़िआ' सही है। कृपया इस पर थोड़ा और विस्तार से लिखें। मैं देख रहा हूँ कि बांग्ला और ओड़िया दोनो लिपियों में इस शब्द के अन्त में 'या' ही आ रहा है, 'आ' नहीं। आप क्या कहते हैं? -- अनुनाद सिंहवार्ता 13:12, 24 जनवरी 2012 (UTC)
धनयबाद, नहीं 'या' की सवाल ही नहीं उठता है ओड़िआ में । बांग्ला के साथ कोई संबंध नहीं है । संदर्भ के दौर पे दो कड़ियाँ http://article.wn.com/view/WNAT509c1996cfafa5931bd99f85c6dc847a/ और http://www.jagran.com/news/state-8769443.htmlअंशुमान (वार्ता) 13:43, 24 जनवरी 2012 (UTC)
अंशुमान, आपने जो संदर्भ दिया है वे भी तो गलत हो सकते हैं? अच्छा यह होगा कि इस बारे में अभी हाल में ही ओडिशा सरकार ने कुछ 'नीति' बनायी है , उसका पालन किया जाय। आप कृपया देखें कि वह नीति क्या कहती है । यह भी कर सकते हैं कि अधिकांश पत्र-पत्रिकाएं जो वर्तनी लिख रहीं है, उसे लिखा जाय। जागरण के अलावा अन्य पत्र-पत्रिकाएँ भी क्या 'ओड़िआ' ही लिख रहीं हैं?-- अनुनाद सिंहवार्ता 14:15, 24 जनवरी 2012 (UTC)

┌─────────────┘
ओडिशा सरकार ने Oriya को Odia बनाई है । मैं आपको English के Reference दे सकता हूँ, क्या वो काफी होगा । मैं २०० प्रतिशत निश्चित हूँ ओड़िआ ही सही है। और ये मेरा अनुरोध है की आगे से ओड़िआ लिखा जाए । में ओड़िआ विकिपीडिया का admin हूँ और हम ओड़िआ ही लिख रहे हैं । धन्यबाद :) अंशुमान (वार्ता) 14:33, 24 जनवरी 2012 (UTC)

अंग्रेजी के संदर्भ देखने से यह समस्या नहीं हल होगी। (वस्तुतः यह अंग्रेजी के कारण ही पैदा हुई है)। लेकिन यदि ओड़िआ विकि में भी 'ओड़िआ' लिखा जा रहा है तो हमे भी यही लिखना शुरू कर देना चाहिये। एक-दो दिन धीरज रखिये। कुछ और लोग भी अपनी राय दे सकते हैं। यदि कोई तर्कसंगत विरुद्ध विचार नहीं आया तो हम इस लेख को 'ओड़िआ' नाम से कर देंगे। -- अनुनाद सिंहवार्ता 14:50, 24 जनवरी 2012 (UTC)
अंशुमान जी, इस बात की ओर ध्यान दिलाने के लिए आपका धन्यवाद। यह सही है कि ओड़िआ विकि पर ओड़िआ (ଓଡ଼ିଆ) ही प्रयोग किया जा रहा है। हालाँकि यह मेरे लिए कुछ कुछ आश्चर्यजनक भी है, क्योंकि इ के बाद आ आने पर स्वाभाविक रूप से यण् सन्धि हो जाती है, आप स्वयं ओड़िआ और ओड़िया बोलकर देखिये, प्रायः आप दोनों बार ओड़िया ही बोल रहे होंगे। हाँ अगर हर बार ओड़ि- बोलकर ठिठक जायें और फिर -आ बोलें तब जाकर ओड़िआ बोले बनता है; और चूँकि हिन्दी में जो बोला जाता है वही लिखा जाता है इसलिए हिन्दी में प्रायः सभी ऐसे शब्दों का मानक रूप -या पर खत्म ही माना जाता है। जैसे खड़िआ नहीं खड़िया, नदिआ नहीं नदिया। मैं यह जानना चाहूँगा कि क्या ओड़िआ भाषी इस अंतिम आ का स्पष्ट उच्चारण करते हैं या वहाँ भी दोनों शब्दों (ओड़िआ व ओड़िया) के उच्चारण समान होते हैं? साथ ही यदि हिन्दी वर्तनी परिवर्तन का भी निर्णय किसी समाचार पत्र में हो तो बतायें। Hemant wikikoshवार्ता 16:55, 24 जनवरी 2012 (UTC)
हेमंत जी मैं समझ रहा हूँ आपकी बात, ओड़िआ में उच्चारण बिलकुल अलग हे । ओड़िआ भाषी इस अंतिम 'आ' का स्पष्ट उच्चारण करते हैं । ओड़िआ में 'य' कि जगह पे, 'अ' अथबा 'ज' कि इश्तेमाल होती है । हिन्दी में एक ज है पर ओड़िआ में दो ज है । ଯ और ଜ । हिन्दी में 'यदि' बोला जाता है, पर ओड़िआ में जदी (ଯଦି) बोला जाता है । वैसे ही ओड़िआ, य की जगह पे अ । ओड़िआ में य (ୟ) है, मगर इश्तेमाल हिन्दी जेसा नहीं होता है । ओड़िआ ज (ଯ) और य (ୟ) में बहत फरक है । ओड़िआ=ଓଡ଼ିଆ और ओड़िया=ଓଡ଼ିୟା । और ଓଡ଼ିୟା (ओड़िया) ओड़िशा में कहीं भी लिखा नहीं जाता है और बिलकुल गलत है । इसीलिए आप हिन्दी में ओड़िआ को केसे भी उच्चारण करें ओड़िआ ही सही है । और इसमे द्विमत की सवाल ही नहीं है । धन्यबाद :) अंशुमान (वार्ता) 18:15, 24 जनवरी 2012 (UTC)
मेरे उड्डू मित्र तो ओड़िआ ही बुलाएँगे ओड़िया भाषा में। परन्तु हिन्दी भाषी भी इसे ओड़िआ बुलाएँगे, इसपर विचार करें। यह प्रश्न पहले भी आ चुका है। जैसे अंग्रेजी में America को अमेरिका पढते हैं पर हिन्दी में इसे अमरिका बोलते हैं। कन्नड़ भाषा में कन्नड़ शब्द होता ही नहीं है, उसको कन्नडा पढते हैं। उसी तरह तमिल में तमिल शब्द होता ही नहीं है, कुछ और ही होता है। -- सौरभ भारती (वार्ता) 20:18, 24 जनवरी 2012 (UTC)

ओड़िआ लिखा जाने पे मेरा समर्थन है । क्युकि मेरे अनुसार यहि ठिक हैं । धन्यबाद  :)MKar (वार्ता) 01:22, 25 जनवरी 2012 (UTC)

ओड़िआ के लिये मेरा समर्थन है । क्युँकि यहि सहि है । Psubhashish (वार्ता) 05:19, 25 जनवरी 2012 (UTC)
ओड़िया और देवनागरी में 95% समानता है। चुंकी ओड़िया-भाषी लोग इसे 'ओड़िआ' लिख रहे हैं, देवनागरी में भी यही लिखना उचित रहेगा। -- अनुनाद सिंहवार्ता 09:56, 25 जनवरी 2012 (UTC)
हम दो भाषाओं को मिलाने की कोशिश कर रहे हैं। हिन्दी में ओडीशा को उड़ीसा, पोश्चिम बोंगाल को पश्चिम बंगाल, बांग्ला को बंगाली, कन्नडा को कन्नड़, कोलकाता को कलकत्ता, देल्ही को दिल्ली, बॉम्बे को बम्बई और जैसा मैंने पहले कहा, अमेरिका को अमरिका पढते हैं। यही हिन्दी भाषा में बोलने का तरीका है। अगर हम यह चाहते हैं कि सभी हिन्दी भाषी उड़ीसा को ऐसे पढें जैसे कोई उड़िया भाषी पढेंगे, तो यह गलत होगा। दोंनो भाषाएँ दो तरह से बोली जाती हैं और इन्हें अपने स्थान पर ही रहने देना चाहिए। ऐसे खिचड़ी होने की संभावना है। -- सौरभ भारती (वार्ता) 10:27, 25 जनवरी 2012 (UTC)
यहाँ बस दो शब्द्ध की बात है । एक ओड़िशा जो भारत की एक राज्य है और ओड़िआ जो भाषा की नाम है । जो सही है वही लिखा जाना चाहिए । कोई किसिको बोलने का तरीका बदलने के लिए नहीं कह रहा है । एक बात मुझे कोई बताएँगे ये हिन्दी विकिपीडिया केबल मूल हिन्दी भाषी लोगों के लिए तो नहीं है ना ? अंशुमान (वार्ता) 14:22, 25 जनवरी 2012 (UTC)
मेरे विचार में यह हिन्दी की एक बहुत बड़ी विशेषता है कि हिन्दी में शब्द जिस प्रकार बोला जाता है, ठीक वैसे ही लिखा जाता है। हमें इस नियम को बनाए रखने का प्रयत्न करना चाहिये। अब प्रश्न यह उठता है कि स्वयं ओड़िया में "ओड़िया" शब्द का उच्चारण कैसा है। क्या उच्चारण "आ" का है या "या" का? अगर ओड़िया विकिपीडिया के हमारे मित्र इसके सही उच्चारण की ऑडियो फ़ाइल कॉमन्स पर अपलोड कर पाएँ तो इस निर्णय में काफ़ी मदद मिलेगी कि हिन्दी विकिपीडिया पर क्या लिखा जाना चाहिये।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 16:03, 25 जनवरी 2012 (UTC)
मैं आपकी बात से पूर्णतः सहमत हूँ अंशुमान जी। बस ये कहना चाहता हूँ कि एक ही वस्तु दो भाषाओं में दो तरह से बोली जाती हैं, हालाँकि वह एक जैसी सुनने और लिखने में हो सकती हैं। इसीलिए मैंने ऊपर इतने सारे उदाहरण दिए, जिसमें पहला शब्द तो मूल भाषा में शुद्ध है, परन्तु दूसरा शब्द ही हिन्दी में उपयोग में लाया जाता है। ओड़िआ शब्द ओड़िआ भाषा में शुद्ध है, पर हिन्दी में इसे उड़िया ही बोलते हैं, सो लिखते भी वैसे ही हैं। ऐसा इसलिए नहीं कि हिन्दी भाषी ओड़िआ का उच्चारण नहीं कर सकते, पर शायद इसलिए क्योंकि जैसे अंग्रेज बम्बई को बॉम्बे बोलते हैं, और जैसे हिन्दीभाषी हॉल को हाल ही कहके बुलाते हैं, यह भाषा की मूल प्रकृति है कि वह एक ही शब्द को अपने तरीके से बुलाती है, जो कि मूल भाषा के उच्चारण से भिन्न हो सकती है।
यह बात बस दो शब्द की नहीं है। मैंने तो इसे पहले भी उठाया था। विकि पर लेख हिन्दी उच्चारण के अनुकूल ही होने चाहिए, ना कि हिन्दी लिपि में अंग्रेजी शब्दों के उच्चारण का लिपिकरण। उदाहरण के तौर पर अमरिका, जिसे अंग्रेजी में तो अमेरिका बोलते हैं पर हिन्दी में अमरिका। अतः हिन्दी विकि पर लेख भी अमरिका शब्द के ही बनने चाहिए। और ऐसे एक नहीं अनेकों अनेकों शब्द हैं। हिन्दी विकि तो सबके लिए है, पर लेख और शीर्षक तो भाषा के अनुरूप ही होने चाहिए। मुझे आशा है मैंने अपनी बात स्पष्ट रखी है। परन्तु इसे मानना सबके ऊपर है। इस बात पर चर्चा होती रहनी चाहिए। -- सौरभ भारती (वार्ता) 06:36, 26 जनवरी 2012 (UTC)

अंशुमान जी कृपया इसे भावनात्मक रूप में न लीजिए। इस चर्चा के किसी निष्कर्ष का अर्थ यह कदापि नहीं कि हिन्दी विकि किसके लिए है और किसके लिए नहीं। यह जरूरी नहीं कि इसका नाम ओड़िया किये जाने पर ही इसमें आपका योगदान माना जायेगा; आप तो इस विषय पर चर्चा शुरू करवा कर पहले ही अपना बहुमूल्य योगदान दे चुके हैं। क्योंकि पहले इसका नाम ओड़िया था लेकिन उसका तार्किक आधार हममें से किसी ने नहीं सोचा था। अब आपके प्रश्न से हमने उसपर पुनर्विचार किया जिसमें संयोग से ओड़िया ही सही बैठ रहा है, लेकिन अब का ओड़िया पहले के ओड़िया से अधिक पुष्ट है, क्योंकि आपने उसपर तर्क का प्रकाश डलवा दिया है।
देखिये ओड़िया भाषा में शायद यह प्रवृत्ति है कि इ के बाद का आ यथावत् रखा जाता है लेकिन हिन्दी में नहीं। जैसे ओड़िया में wikipedia को उइकिपीड़िआ (ଉଇକିପିଡ଼ିଆ) लिखा जाता है, जबकि हिन्दी में विकिपीडिया (मैं यहाँ उइकि पर ध्यान नहीं दिला रहा बल्कि केवल पीडिआ - पीडिया के अंतर पर दिला रहा हूँ)। इससे यही पता चलता है कि उड़िया में ठीक उसी इया को इआ लिखा जाता है। यह भाषा की प्रवृत्ति ही है, और, समान तर्क के द्वारा हिन्दी पर विकिपीडिया का नाम विकिपीडि नहीं करवाया जा सकता, न ही ओड़िया विकि पर विकिपीडिया करवाया जा सकता है; दोनों ही अपनी अपनी भाषा की शैली के हिसाब से सही हैं। एक व्यक्ति या भाषा या राज्य आदि अपने नाम को ही दूसरी भाषाओं पर प्रहित (enforce) कर सकते हैं लेकिन उस भाषा की शैली को नहीं बदल सकते। जैसे कि भारत को यदि अंग्रेज़ी में भी भारत कर दिया जाये तो अंग्रेज़ों को भी इसे bharat लिखना होगा, लेकिन हम उन्हें इस बात के लिए बाध्य नहीं कर पाएँगे कि वे इसका उच्चारण भी भारत करें (मूल-अंग्रेज़ीभाषी लोग भ नहीं बोल सकते, या बहुत मुश्किल से बोल पाते हैं), वे इसे बारट् या बैरट् बोलेंगे। इसी प्रकार उच्चारणानुसार लिखना हिन्दी की शैली का अंग है। इसे जबरन भी नहीं बदला जा सकता। आज भले ही इसे ओड़िआ लिख लें कल को इसे ओड़िया होना ही है। कारण साफ़ है, क्योंकि हिन्दी भाषी कुछ पढ़ते हुए उसकी वर्तनी याद नहीं किया करते। वे उच्चारण से ही पुनः शब्द रीप्रोड्यूस करते हैं। अतः जिसे 'ओड़िया' बुलाएँगे उसे 'ओड़िआ लिखना है' ऐसी सूचना याद रखना हिन्दीभाषी की आदत में नहीं है। जैसे आपको जानकर आश्चर्य होगा कि कर्म और धर्म ये दो शब्द पहले कर्म्म और धर्म्म लिखे जाते थे (और शायद कृ और धृ धातु से क्रमशः उनकी व्युत्पत्ति के नियमों के कारण बीच का म् आया था), लेकिन जब बीच का म् बोला ही नहीं गया तो उच्चारणानुगामी संस्कृत व हिन्दी में अंततः वे कर्म और धर्म हो गये, और आज वे रूप ही मानक हैं।
ओड़िआ और ओड़िया के मुद्दे में सवाल यह भी नहीं है कि हिन्दीभाषी अपनी खुद की सुविधा से नाम को तोड़ मरोड़ रहे हों (जैसा कि संसार की अनेक गैर-फ़ोनेटिक लिपि वाली भाषाओं में होता है- जैसे फ़िलिस्तीन का पैलेस्टाइन, अंग्रेज़ी में)। बल्कि यहाँ तो, ओड़िया लिखकर, जो उच्चारण है हिन्दी उसे ही सुरक्षित रख रही है।
इतना कहकर मैं अंतिम निर्णय सर्वसम्मति पर छोड़ता हूँ। सभी को सादर नमस्कार।-Hemant wikikoshवार्ता 08:10, 26 जनवरी 2012 (UTC)

पर असल में तो उड़िया होता है हिन्दी में। कम से कम भारत के संविधान में तो ऐसा ही लिखा है - http://www.bharat.gov.in/govt/constitutions_india.php?id=3#sch8 -- सौरभ भारती (वार्ता) 09:51, 26 जनवरी 2012 (UTC)
ये पुरानी डेटा है । इसका कोई मतलब नहीं यहाँ पे । अंशुमान (वार्ता) 13:44, 26 जनवरी 2012 (UTC)
वैसे मैं इस पर निर्णय सर्वसम्मति पर छोड़ चुका था, लेकिन अभी अभी यहाँ तीसरे (और परंपरागत) शब्द उड़िया को भी बीच में ले लिया गया है, अतः मैं आगे भी लिख रहा हूँ। जैसा कि अंशुमान जी ने कहा, यहाँ गूगल की संख्या आधार नहीं हो सकता। सीधी सी बात है जो नाम नवम्बर 2011 में ही बदला गया है उसपर गूगल में अभी कितने डेटा मिलेंगे? बहस का मुद्दा तो मात्र इतना था कि नये नाम odia को हिन्दी में क्या लिखा जाना चाहिये।
और अभी अभी मुझे यह भी पता चला है कि इसपर केवल कैबिनेट की मंज़ूरी हुई है, संविधान में संशोधन नहीं हुआ है (http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2009-10-24/india/28078168_1_udisa-odia-hindi-and-orissa), अतः इस चर्चा का कोई भी निर्णय हो अभी उसे प्रभावी नहीं किया जा सकता। सौरभ जी ने जो संविधान का संदर्भ दिया है वहाँ यह odia-समकक्ष नाम न होने का (अभी तो) मात्र यही कारण है।
और जहाँ तक उड़िया बनाम ओड़िआ/या का सवाल है, परंपरागत उड़िया शब्द मुझे भी अच्छा लगता है, लेकिन यहाँ सवाल आधिकारिकता का भी आ जाता है। हालाँकि मुझे भी ऐसे निर्णय अजीब लगते हैं जिनमें नाम के साथ-साथ उच्चारण-शैली को भी सभी भाषाओं में forcefully बदल दिया जाये। यदि उड़िया भाषा का नाम एक सरकार बदल देती है, तब संस्कृत का नाम कौन कब बदल दे। उत्तराखण्ड में संस्कृत राजभाषा है, तो क्या उस राज्य के ऐसे किसी बदलाव के निर्णय को सभी संस्कृतभाषियों को स्वीकार करना होगा? और अगर उत्तराखंड सरकार संस्कृत का एक नाम रखे, और कर्नाटक सरकार दूसरा नाम रखे तो कौनसा आधिकारिक माना जायेगा? भाषा सम्पूर्ण संस्कृति और जनसमाज की सम्पत्ति होती है, मेरे विचार से इसका नाम विकिपीडिया पर रखते समय आधिकारिक के साथ-साथ प्रचलित पक्ष का भी ध्यान रखा जाना चाहिये (केवल उस भाषा-भाषियों में प्रचलित का नहीं बल्कि प्रयोगकर्ता-भाषा में प्रचलित version का भी), और यह बात पिछले संदेश लिखते समय भी मेरे मन में थी। लेकिन विकिपीडिया की अभी तक की परम्परानुसार आधिकारिक परिवर्तनों के साथ ही लेखों के नाम तदनुसार बदल दिये जाते हैं, और मैं उसी परंपरानुसार बात कर रहा था। यदि हम निश्चित हैं कि आधिकारिक संस्करण का ही शीर्षक रखा जाना है उसके आगे ही मेरे पूर्वलिखित तर्क योजित होते हैं। मुझे लगता है कि उपर्युक्त सारी बातों के बावज़ूद जहाँ तक संभव हो आधिकारिक निर्णयों के अनुसार नाम बदले जा सकते हैं, क्योंकि वरना हमें हर नाम के लिए case-basis पर अधिक प्रचलित नाम का निर्णय करना होगा, और उसके बाद भी विवाद बना रहेगा। आधिकारिक संस्करणों को मानने से अनावश्यक विवादों से बचा जा सकता है, और प्रचलित संस्करण को लेख की पहली लाइन में ही उल्लिखित कर सकते हैं, तथा अनुप्रेषित भी कर सकते हैं। और इस प्रकार मेरे अनुसार केवल ओड़िआ बनाम ओड़िया का विवाद ही शेष बचता है जिसपर मैं अपना मत पहले ही दे चुका हूँ, और निर्णय सर्वसम्मति पर है। और मेरे विचार से बदलाव (अगर करना ही हो तो) संविधान संशोधन के बाद ही किया जाना चाहिये। धन्यवाद। -Hemant wikikoshवार्ता 15:04, 26 जनवरी 2012 (UTC)
सही है, मैंने गूगल में पहले पेज पर आये इस परिणाम (http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2009-10-24/india/28078168_1_udisa-odia-hindi-and-orissa) को ताज़ा स्थिति समझ लिया था। अंशुमान जी, ध्यान दिलवाने के लिए धन्यवाद। हालाँकि उससे बहस की स्थिति पर ज्यादा फ़र्क नहीं पड़ता। -Hemant wikikoshवार्ता 16:14, 26 जनवरी 2012 (UTC)

...और हाँ, सौरभ जी, संविधान में परिवर्तन का पाठ यह रहा http://indiacode.nic.in/coiweb/amend/amend96.pdf. लगता है संविधान के ऑनलाइन वर्सन को अपडेट किया जाना बाकी है। मुझे इस राजपत्र का अंग्रेज़ी संस्करण ही मिला है, यदि किसी को हिन्दी संस्करण मिले तो जरूर बताएँ, इससे विवाद हल करने में मदद मिलेगी। यह भी हो सकता है कि इसका हिन्दी संस्करण जारी ही न किया गया हो, उस स्थिति में हमें अन्य किसी महत्त्वपूर्ण आधिकारिक दस्तावेज में इस नये नाम के हिन्दी में आने या ऑनलाइन संविधान में अपडेशन होने पर ही आधिकारिक हिन्दी नाम का पता चल पायेगा। -Hemant wikikoshवार्ता 16:32, 26 जनवरी 2012 (UTC)

मतैक्य

चूँकि इस विषय पर सभी सदस्यगण अपनी राय व्यक्त कर चुके हैं, मेरी राय में मतैक्य (consensus) बिलकुल साफ है कि हिन्दी और Oriya (तटस्थता बनाये रखने के लिए अंग्रेज़ी का प्रयोग करा है) भाषाओं के स्वरूप में कुछ विशेष भिन्नताए हैं, तथा दोनों भाषाओं में "Oriya" अलग-अलग रूप में लिखा जाता। हिन्दी में "ओड़िआ" शब्द न तो अभीतक प्रचलित हुआ है और न ही उच्चारण रूप से सही है, जैसा Hemant जी व अन्य वरिष्ठ सदस्य साफ कर चुके हैं। इस विषय में अन्य विकिपीडियाओं के दिशानिर्देश भी यही कहते हैं कि "हमें उस वर्तनी का प्रयोग करना चाहिए जो भाषा विशेष में अधिक प्रचलित है, तात्पर्य अखबारों, किताबों, और पत्रिकाओं, आदि में प्रयोग होती है"। तो सभी सदस्यो के विचारों को देखते हुए यह मतैक्य साफ होता है कि संबंधित लेख का नाम ओड़िया भाषा उड़िया भाषा रहे।
Disclaimer: विकिपीडिया प्रजातंत्र नहीं है इसलिए बिना किसी तर्क के दिये गये मतों को प्राथमिकता नहीं दी जाती।<><  Bill william comptonTalk 11:33, 26 जनवरी 2012 (UTC)

--ओड़िया या उड़िया? गूगल पर खोजें तो ओड़िया शब्द से १०,००० और उड़िया शब्द से ५००,००० उत्तर मिलते हैं। आप ही निर्णय लें। -- सौरभ भारती (वार्ता) 13:21, 26 जनवरी 2012 (UTC)
इसमे कौनसी बड़ी बात है, जो पहले से ही इश्तेमाल हो रहा है ज़्यादा उत्तर उसीमे मिलेंगे । यहाँ मुद्दा सही और गलत का हे । :) अंशुमान (वार्ता) 13:44, 26 जनवरी 2012 (UTC)
माफ करें यह उड़िया था, गलती से ओड़िया लिख दिया था.<><  Bill william comptonTalk 14:09, 26 जनवरी 2012 (UTC)
कौनसी नयी बात है यहाँपे तो गलतियाँ होता रेहता है । दुख की बात है आप लोग सुधारना नहीं चाहते हैं । बड़ी अछि अंदाज़ है आपकी बात करने का । अब पता चला यहाँ से एक बार जो जाता है, बापिस क्यूँ नहीं आता है । तरक्की कर रहे हो !! अंशुमान (वार्ता) 14:22, 26 जनवरी 2012 (UTC)

बिनती

विकिपीडिया पर अगर राज्यों और भाषाओं के नाम सही लिखा नहीं जा सकता, मुझे नहीं लगता है की यहाँ दूसरे भाषी लोग योगदान करेंगे । आपको अगर देशके हर कोने से सदस्य चाहते हैं तो एक दो शब्द्ध में सही अक्षरों का उपयोग करना चाहिए । हमारे जीतने भी सदस्य हैं ओड़िआ विकिपीडिया पे सब चाहते हैं की यहाँ ओड़िआ लिखा जाए । आप सब यहाँ पे मूल हिन्दी भाषी है । में फिरसे आप सबसे बिनती कर रहा हूँ, आप दोबारा इस बारे में निष्पक्ष होके सोचे । आगे आपकी इछा । अंशुमान (वार्ता) 13:44, 26 जनवरी 2012 (UTC)

 Yes check.svg  विकि भाई होने के नाते, समर्थन। -- सौरभ भारती (वार्ता) 01:37, 27 जनवरी 2012 (UTC)

अंशुमान जी। आपका कहना ठीक है। भाषा संबंधी ऐसे विवादों के कारण कई प्राथमिक रूप से दूसरी भाषा बोलने वाले सदस्यों को बुरा लगा है। उदाहरण के लिए मुंबई में एक मराठी उपयोक्ता ने वहाँ के कुछ शब्दों के उच्चारण को हिंदी में ठीक करने पर उन्हें चेताबनी मिलने और इस क्रिया को जारी रखने पर प्रतिबंधित करने की पूर्व सूचना मिलने तक की बात सामने आई थी। परंतु कुछ शब्दों के वर्तनी की भिन्नता के आधार पर हिंदी विकिया छोड़ने की बात करना कोइ समाधान नहीं है। वास्तव में हिंदी के एक ही शब्द मराठी, बाँग्ला, पंजाबी और उड़िया प्रभाव के कारण अलग-अलग ढंग से उच्चरित किए जाते हैं। ऐसे में हम हिंदी विकिया के लिए हिंदी पाठ्य-पुस्तकों में प्रयुक्त शब्द को ही बेहतर मानते हैं। और हिंदी में उड़िया ही लिखा जाता रहा है जिसे अब बदलने के बाद ओड़िया मान लिया गया है। आ से अंत होने वाले शब्द हिंदी की बोलियों में मिलते हैं मानक हिंदी में नहीं। यह अच्छा है या बुरा इसपर बहस बाद में करेंगें लेकिन हिंदी विकिया के लिए लिया गया निर्णय सर्वधा उपयुक्त है। और विरोधी लगने वाले निर्णय को गलत मानने या ऐसे प्रश्न को अस्मिताबोध से जोड़ने की जरूरत नहीं है। चौपाल पर ओड़िआ के प्रयोग का निर्णय लेने पर भी वह चलेगा नहीं क्योंकी हर नए सदस्य को ऐसा करने के लिए प्रशिक्षित करने की जिम्मेदारी निभाना बेहद कठिन है। अनिरुद्ध  वार्ता  23:08, 1 फ़रवरी 2012 (UTC)

लेख हटाने की होड़

--"आदरणीय महोदय सादर नमस्कार | मैंने कुछ दिन पहले पंजाब में उग्रवाद के दिनों में आतंकवादियों द्वारा शहीद कर दिए गए डा. धर्मवीर सिंह भाटिया के बारे में जानकारी देने हेतु विकिपीडिया में पेज बनाया था |परन्तु उसे हटा दिया गया |कारण में कापीराईट उलंघन ( मैंने अपने ब्लॉग का लिंक भी साथ में दिया था ,उसे ही आधार बनाते हुए इसे हटाने का कारण बताया गया )| इस संदर्भ में मैं स्पष्ट करना चाहता हूँ कि यह ब्लॉग एवं विकिपीडिया का उक्त पेज दोनों मेरे ही हैं , फिर भी मैंने ब्लॉग का लिंक हटा कर पुनः प्रेषित किया है | अगर इस सम्बन्ध में और कोई स्पष्टीकरण चाहिए तो कृपया मुझे ईमेल द्वारा सूचित करें मेरा ईमेल पता निम्न है ध्न्यवाद सहित पुष्कर वीर सिंह भाटिया सुपुत्र शहीद डा. धर्मवीर सिंह भाटिया। " --

उपरोक्त सन्देश पुष्कर जी ने सिद्धार्थ घई (वार्ता) जी के वार्ता पृष्ठ पर लिखा। पढकर थोड़ा बुरा भी लगा। इसपर थोड़ी चर्चा साँचा वार्ता:राष्ट्रीय व्यक्तीकरण पर भी हुई है। मैंने जो लिखा -

--सुझाव यह है कि प्रबंधक ऐसे पृष्ठों पर कठोर ना हों जो वैन्डलिज़म के दायरे में नहीं आते हैं। इस पृष्ठ को ही ले लें, इसमें अंग्रेजी पाठ भरे पड़े हैं, अनिर्मित लेख की कड़ियाँ भी हैं, पर लेख की सोच बुरी नहीं है, यह लेख वैन्डलिज़म नहीं है, इससे किसी का अपमान नहीं होता या बिना मतलब के इसमें कचड़ा नहीं भरा है, इससे विकि की गुणवत्ता भले ही कम होती हो पर बदनामी या नुकसान नहीं होता। ऐसे पृष्ठों पर कोई साँचा या श्रेणी लगाकर इनकी सफाई की जा सकती है, इन्हें सुधारा जा सकता है। लोग कम हैं तो इसमें समय भी लग सकता है। उसी तरह एक पंक्ति के लेखों को प्रबंधक/अन्य सदस्य फटाफट हटाए जा रहे हैं, मैंने इसके लिए आशू जी को लिखा भी था। मैं तो कहूँगा कि शुरूआत एक पंक्ति से ही होती है, बस दिशा सही होनी चाहिए। non-vandalism वाले लेखों को नहीं हटाना चाहिए, उन्हें संजो कर रखें ताकि उनका विकास समय आने पर हो सके। -- सौरभ भारती (वार्ता) 14:56, 27 जनवरी 2012 (UTC) --

इसपर आशूबातकरें जी से भी थोड़ी वार्ता हुई है डॉ शुक्ला के लेख -

-- डॉ शुक्ला साहित्य पर कुछ नए लेख बनाने की कोशिश कर रहे हैं, जैसे ध्रुव-चरित, जो उनकी विशेषता के अंतर्गत है। हालाँकि उनमें लेख नाममात्र का है, उनका योगदान सही दिशा में है। आदर्शानुसार इन्हें हटाने के लिए निर्देषित कर देना चाहिए, पर लेख पूर्ण करने के लिए उन्हें उचित समय भी देना चाहिए। कृपया उनके लेखों पर तुरंत ही हटाने वाला साँचा ना लगाएँ। -- सौरभ भारती (वार्ता) 00:40, 16 जनवरी 2012 (UTC) --

पृष्ठ हटाने वाले सदस्यों से थोड़ी संयम बरतने का अनुरोध है । एक सम्मिलित चर्चा हो तो और भी अच्छा हो -- सौरभ भारती (वार्ता) 08:03, 28 जनवरी 2012 (UTC)

मैं सौरभ से सहमत हूँ कि को पृष्ठ केवल बर्बरता के लिये बने है उन्हे ही हटाना चाहिये बाकि पृष्ठों को २-३ सदस्यों के चर्चा के बाद हटाना चाहिये। हिन्दी में वैसे ही सामग्री का अत्यंत अभाव है अत यह आवश्यक नहीं कि लेख बनाने वाला उसमें संदर्भ दे पाये, हम ऐसे लेखों को टैग करके उन पर ध्यान रख सकते है पर हटाने से तो उस लेख का अस्तित्त्व ही खत्म हो जाता है।--Mayur (talk•Email) 06:19, 29 जनवरी 2012 (UTC)

समस्याएँ

सौरभ जी, आपके कहे मामलों में से पुष्कर जी के बनाए पृष्ठ के अतिरिक्त अन्य पृष्ठ (जहाँ तक मेरी जानकारी है) हटाने की नीति में शीघ्र हटाने के अंतर्गत नहीं आते, और उनपर चर्चा होनी ही चाहिये। परंतु कम-से-कम मेरी (और शायद अन्य सदस्यों की भी) यह समस्या है कि न तो हटाने की चर्चा के लिये कोई नियमित मानक तरीका है, न कोई अलग साँचे। शीघ्र हटाने के लिये जो साँचे हैं, वही चर्चा वाले मामलों में भी प्रयुक्त होते हैं। चर्चा का एक ठिकाना न होने के कारण, ठीक से चर्चा भी नहीं हो पाती। इसके अतिरिक्त हम अब भी अंग्रेज़ी विकिपीडिया की speedy deletion policy वाले साँचे प्रयोग कर रहे हैं, जो हमारी नीति से कई अधिक सख्त है।
ये सभी परेशानियाँ चर्चा में बाधक हैं और इन्हें दूर करने की ज़रूरत है। इनमें से एक परेशानी (शीघ्र हटाने के साँचों) के समाधान के लिये मैंने en:Template:Db-meta के अनुरूप {{शीह-मूल}} का निर्माण किया है, जिसके आधार पर शीघ्र हटाने के नए साँचे बनाए जा सकते हैं, ताकि नीति उल्लंघन करते अंग्रेज़ी साँचों को हटाया जा सके। साथ ही, शीघ्र हटाने सम्बंधित अन्य साँचों की एक सूची {{शीघ्र हटाने सम्बंधित साँचे}} पर बनाई है जिससे यह कार्य सही तरीके से किये जा सकें। इसमें योगदान, सुझाव, और विचार देने के लिये सभी सदस्य सादर आमंत्रित हैं।
अन्य परेशानियों पर यहाँ पर चर्चा की आवश्यकता है, ताकि आगे पृष्ठ हटाने का कार्य बेहतर तरीके से हो सके।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 23:51, 28 जनवरी 2012 (UTC)
सिद्धार्थ जी का सुझाव मुझे सही लग रहा है। कमजोर लेखों को सही तरह की श्रेणी में डालना और सही साँचे के साथ जोड़ने से उनपर अगल तरह से ध्यान रखा जा सकता है। सबसे बेहतर होगा कि बर्बरता पर ध्यान रखने वाले सदस्यगण इसका कोई उचित उपाय निकालें और इसका समाधान करें। -- सौरभ भारती (वार्ता) 18:43, 29 जनवरी 2012 (UTC)
शीघ्र हटाने सम्बंधित नए साँचों का निर्माण कार्य लगभग सम्पूर्ण हो चुका है। यदि {{शीघ्र हटाने सम्बंधित साँचे}} पर सूचीबद्ध साँचों के उपयोग से किसी सदस्य को आपत्ती न हो तो पुराने साँचों की जगह शीघ्र हटाने के इन नए साँचों का प्रयोग शुरू कर दिया जाए।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 08:48, 9 फ़रवरी 2012 (UTC)

मुखपृष्ठ समाचार

मुखपृष्ठ समाचार कई दिनो से अपडेट नही हुए हैं। मैने आज जब समाचार जोडने का प्रयत्न किया तो पता चला की इस पृष्ठ को पूर्ण रूप से सुरक्षित कर दिया गया हैं। पहले प्रभंदको के अलावा विशिष्ट अधिकार प्राप्त सदस्यो को संपादन अधिकार प्राप्त थे। कृपया इस अधिकार को पुनः स्थापित कर दे। धन्यवाद --गुंजन वर्मासंदेश 04:52, 29 जनवरी 2012 (UTC)

 Yes check.svg Done, गुंजन जी इस तरफ ध्यान दिलाने के लिये धन्यवाद, इसके साथ ही मैं समस्त प्रबंधको से यह अनुरोध करता हूँ कि chain protection का कम से कम प्रयोग करे ताँकि हमारे वरिष्ठ सदस्य उनसे संबन्धित पृष्ठों को संपादित कर पाये एवं इसके बजाये हम बाट से ऐसे समस्त पृष्ठों को सुरक्षित कर सकते है। आशा है कि समाचार शीघ्र नवीनीकृत होंगे--Mayur (talk•Email) 06:15, 29 जनवरी 2012 (UTC)

चर्चा हेतु कुछ विषय

  1. वार्ता पृष्ठ : क्या बॉट द्वारा वार्ता पृष्ठ बनाने पर प्रतिबंध है? किस तरह के वार्ता पृष्ठ बनाए जा सकते हैं और किस तरह के नहीं? कृपया इसपर प्रकाश डालें।
  2. देवनागरी अंक : हिन्दी विकि सॉफ्टवेयर देवनागरी अंकों को अक्षरों की सूची में नहीं गिनता। अतः अगर आप पाँच देवनागरी अंकों वाली कोई लेख, जैसे २०१२१, बनाना चाहें तो वह आपत्ति करता है।
    1. क्या हिन्दी विकि पर देवनागरी अंकों के उपयोग पर कोई आपत्ति है, विशेषकर शीर्षकों में? कृपया इसपर प्रकाश डालें।
    2. हमें देवनागरी अंकों को विकि सॉफ्टवेयर पर जुड़वाना चाहिए। क्या इसपर सर्वसम्मति हो सकती है?
  3. मैंने रोमन अक्षर वाले शीर्षकों की सूची बनाई है विकिपीडिया:रोमन लिपि वाले शीर्षक। उद्देश्य है इनको पूर्ण हिन्दी शीर्षकों में रूपांतरित करना। इसी संदर्भ में साँचा वार्ता:Documentation पर कुछ चर्चा भी हुई है। साँचों के हिन्दी रूपांतरण में कुछ दिक्कतें हैं, खासकर इन कठिन शब्दों के अनुवाद को लेकर। सुझाव आमंत्रित हैं।

कुछ चर्चा सदस्य वार्ता:Sbharti/स्वचालित सुधार पर भी हुई है। कृपया इन्हें भी देखें। -- सौरभ भारती (वार्ता) 08:22, 30 जनवरी 2012 (UTC)

कुछ पुरालेख कड़ियाँ: अंक चर्चा: पुरालेख 24 • पुरालेख 17 • पुरालेख 13 • पुरालेख 3
विचारणीय: क्या बॉट द्वारा वार्ता पृष्ठ बनाने का लाभ उससे होने वाले गहराई में घटाव से अधिक महत्वपूर्ण है? (मेरे विचार में नहीं है)
--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 12:57, 30 जनवरी 2012 (UTC)
शीर्षक, रोमन के बजाय देवनागरी में होना बेहतर है। 'SCR' के बजाय 'एससीआर' शीर्षक होना चाहिये। बहुत प्रसिद्ध संक्षिप्तियों के रोमन शीर्षक भी दे देना चाहिये किन्तु इन्हें मूल देवनागरी शीर्षकों पर पुनः प्रेषित करना चाहिये। इसी तरह लेख के अन्दर भी शब्दावली को मुख्यतः देवनागरी/हिन्दी में लिखना चाहिये। जहाँ इस प्रकार की नीति के पालन से शंका, भ्रम या गलतफहमी की गुंजाइस हो वहाँ कोष्टक में रोमन/अंग्रेजी में भी शब्द/संक्षिप्ति दे देना चाहिये।
तकनीकी शब्दों के अनुवाद के लिये वैज्ञानिक एवं तकनीकी शब्दावली आयोग की साइट पर जाकर खोजना चाहिये। इसके अलावा हिन्दी विक्शनरी पर भी खोजना चाहिये। -- अनुनाद सिंहवार्ता 04:08, 31 जनवरी 2012 (UTC)

हिंग्लिशबॉट

इस बॉट का प्रयोग कर के पिछले एक दिन में कई हज़ार पृष्ठों के नाम बदले गए हैं जिनमें मुख्य रूप से केवल अरबी अंकों की जगह नागरी अंकों का प्रयोग किया गया है। ऐसा बिना किसी सर्वसम्मति के, और पुरालेख 24 में हुई अनितं चर्चा में से निकलते नतीजे के बिलकुल विरुद्ध किया गया है। देखें हिंग्लिशबॉट के योगदान। सौरभ जी से अनुरोध है कि इनपर तुरंत विराम लगाएँ और चर्चा के बिना ऐसे कदम न उठाएँ। यह बहुत ही दुःख की बात है कि ऐसा कदम समुदाय से चर्चा के बिना उठाया गया है, और हमें इस बात पर तुरंत चर्चा करने की आवश्यकता है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 03:04, 31 जनवरी 2012 (UTC)

साथ ही, देखें स्थानान्तरण लॉग।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 03:58, 31 जनवरी 2012 (UTC)

सिद्धार्थ जी, हिन्दी विकि पर हिन्दी के अनु्पयोग का हवाला दे रहे हैं? कोई बात नहीं। वैसे मैंने लेखों को मिटाया नहीं है, बस स्थानांतरित किया है। पुराने शीर्षक वैसे के वैसे ही हैं, पाठकों को लेख ढूँढने में कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए। एक बात तो है, मयूर जी के तकनीकि प्रश्न को मैंने खत्म कर दिया है, अगर अशुद्धियाँ हुईं तो उन्हें ठीक करने में अधिक समय नहीं लगना चाहिए, हिंग्लिशबॉट का उपयोग करके। जहाँ तक विकि सॉफ्टेयर का प्रश्न है, उसमें तबदीली लाना कोई कठिन काम नहीं। आपके सहयोग से मैं यह चर्चा पुनः आरम्भ करता हूँ। -- सौरभ भारती (वार्ता) 07:08, 31 जनवरी 2012 (UTC)

मैं सिद्धार्थ जी की बात से सहमत हूँ। मैं काफी दिनों से यह अनुभव कर रहा हूँ कि कुछ सदस्य हिन्दी विकीपीडिया के लेखों को स्वयं सुधारने के बजाय उन्हें हटाने मिटाने एवं अनापेक्षित टैग लगाने में अपना बहुमूल्य समय नष्ट करते हैं। इस ओर विकीपीडिया के प्रबन्धकों व प्रशासकों को विशेष ध्यान देकर उनकी इन कारगुजारियों पर रोक लगानी चाहिये। अन्यथा हिन्दी विकीपीडिया पर अच्छे लोग योगदान देना बन्द कर देंगे। धन्यवाद :डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (talk•Email)Krantmlverma (वार्ता) 06:32, 31 जनवरी 2012 (UTC)

सौरभ जी, हिंदी का प्रयोग और नागरी अंकों का प्रयोग दो बिलकुल भिन्न बातें हैं। हिंदी विकिपीडिया है तो हिंदी का प्रयोग तो होगा ही। इसमें कोई आपत्ती नहीं है। परंतु यह कतई ठीक नहीं है कि हिंदी उपयोग के नाम पर केवल अंकों में बदलाव वाले हज़ारों स्थानान्तरण करे जाएँ। और मुझे आपत्ती इस बात से नहीं कि आपने कार्य क्या किया, इस बात से है कि आपने इतना बड़ा परिवर्तन करने से पहले समुदाय से चर्चा करना आवश्यक नहीं समझा। यह तो सभी को ज्ञात है कि अंकों पर कितनी ही बार चर्चा हो चुकी है और मामला कितना गरम है, पर तब भी आपने यहाँ पर किसी भी सदस्य के उत्तर का इंतज़ार नहीं किया, बलकी बॉट के प्रयोग से 5000 से भी अधिक लेखों के (अर्थात विकिपीडिया के 5% से भी अधिक के) नाम बदल दिये। ना तो आपने यह ज़रूरी समझा कि उन लेखों पर कार्य कर रहे लोगों की राय ली जाए, और ना ही ये ज़रूरी समझा कि समुदाय की राय ली जाए। जबकि मैंने आपको एक दिन पहले ही ऐसा करने से पहले चौपाल पर चर्चा करने को कहा था (सदस्य वार्ता:Sbharti/स्वचालित सुधार पर)। आपने जो परिवर्तन किया है वह सही है या नहीं ये तो बाद की बात है जिसका निर्णय सर्वसम्मति से होगा, पहला प्रश्न तो यह है कि आपने कार्य करने में जो स्वतंत्रता दिखाई है, वह सही है या नहीं। इस बात पर मैं अन्य सदस्यों के भी विचार जानना चाहूँगा कि इस प्रकार से कार्य करना सही है या नहीं। और हाँ, अगर आपने यहाँ पर चर्चा करके सर्वसम्मति के पश्चात परिवर्तन किये होते, तो मुझे कोई आपत्ती नहीं होती, पर अफ़सोस आपने उसकी कोई आवश्यकता न पाई।
आपने फिर से अंकों की चर्चा छेड़ी है, तो कुछ तथ्य:
  • CBSE और ICSE, दोनों में ही अरबी अंक पढ़ाए जाते हैं; नागरी अंक नहीं। और यह कोई नई बात भी नहीं है, बहुत समय से चलता आ रहा है।
  • सरकारी दफ़्तरों में भी अरबी अंकों का प्रयोग होता है।
  • प्रचलित अखबार (जैसे दैनिक जागरण या अमर उजाला) देख लें, उनमें भी अरबी अंक ही हैं।
  • हिंदी-भाषी राज्यों के शिक्षा परिषदों (state boards, e.g. U.P.board) के अनुसार भी (जहाँ तक मेरी जानकारी है) अरबी अंक ही पढ़ाए जाते हैं
  • वर्षों से विद्यालयों में अरबी अंक ही पढ़ाए जा रहे हैं, नागरी अंक बहुत ही सीमित उपयोग में आते हैं
इन तथ्यों को ध्यान में रखें, तो यदि हम नागरी अंकों का प्रयोग शुरू कर दें, तो केवल वही लोग हिंदी विकिपीडिया पर आकार योगदान दे सकते हैं जो नागरी अंकों से परिचित हों (यह संख्या कुल जनसंख्या का बहुत कम प्रतिशत होगी)। विकिपीडिया का उद्देश्य नागरी अंकों की प्रचलितता बढ़ाना नहीं है और ना ही होना चाहिये। विकिपीडिया का उद्देश्य हिंदी की शुद्धता बरकरार रखना नहीं है। विकिपीडिया का उद्देश्य है अधिक-से-अधिक हिंदीभाषियों तक जानकारी पहुँचाना, और हिंदी भाषियों में अरबी अंक जानने वालों की संख्या नागरी अंक जानने वालों की कई गुना है। यदि हम नागरी अंकों का प्रयोग करते हैं तो हम जान-बूझ कर ऐसे अंकों को ना जानने वाले लोगों को इस ज्ञानकोष से दूर कर रहे होंगे। यहाँ पर कोई-न-कोई अवश्य कहेगा कि "जिसे जानना होगा, वह अपने-आप अंक सीख लेगा" या फिर "अंक सीखना कोई मुश्किल या बड़ा काम नहीं है"। यहाँ पर प्रश्न यह नहीं है कि अंक सीखना आसान है या मुश्किल, बलकी प्रश्न यह है कि हम नागरी अंक न जानने वालों पर ये दुविधा क्यों डालें कि वो विकिपीडिया पर आसानी से योगदान तभी दे सकते हैं अगर उन्हें नागरी अंक आते हों। वैसे तो हम सदस्यों का कार्य आसान करने के लिये गैजेट और बॉट बनाते हैं, फिर हम उलटी गंगा बहाकर नागरी अंक न जानने वालों के लिये नई समस्या क्यों खड़ी करें। जो लोग नागरी अंक जानते हैं उनमें से 99% अरबी अंक भी जानते होंगे। फिर हम क्यों बाकी लोगों पर नागरी अंक थोपें।
अब कहने की आवश्यकता तो नहीं है पर फिर भी कह देता हूँ, मैं नागरी अंकों के प्रयोग के सख्त विरुद्ध हूँ।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 10:06, 31 जनवरी 2012 (UTC)
सौरभ जी, हिन्दी भाषा का प्रयोग और देवनागरी अंको का प्रयोग करना दो अलग बाते हैं। आपने बिना सदस्यों की राय जाने इतनी विशाल संख्या में लेखों के शीर्षक बदल दिये, मेरी नज़र में यह बहुत ही अनुचित कदम था/है। विकिपीडिया का वक्तव्य समुदाय के साथ चलना है। इस कार्य से लेखों की गुणवत्ता को भी ठेस पहुँची है क्योंकि आपने लेखों के शीर्षक तो बदक दिये परन्तु लेखों में प्रयोग हुए रोमन अंक नहीं बदले गये, उदहारण के लिए आपने 2010 एशियाई खेल पदक तालिका के शीर्षक में तो बदलाव कर दिया था परन्तु पदक तालिका रोमन अंको में ही है, और यह हिन्दी विकिपीडिया की कुछ इक्का-दुक्का निर्वाचित सूचियों में से एक है। कृपया ऐसे कदम उठाने से पहले सदस्यों की सहमति अवश्य लिया करें।
अब रही बात देवनागरी अंको के प्रयोग की। सबसे पहले तो में एक बात साफ करना चहाता हूँ कि विकिपीडिया का उद्देश्य संस्कृति/भाषा संरक्षण नहीं अपितु भाषा विशेष को समझने वालो के बीच ज्ञान का प्रसार करना है, मेरा सभी सदस्यों से अनुरोध है कि एक बार फिर से विकिमीडिया फाउंडेशन के मिशन वक्तव्य को पढें। जब अधिकांश हिन्दीभाषी स्वयं देवनागरी अंको को नहीं समझते तो इन अंको का प्रयोग करके हम बस विकिमीडिया के उद्देश्य को हानि पहुँचा रहें हैं। शिक्षा, मीडिया, दफ्तर, व अन्य समान्य प्रयोग में जब देवनागरी अंको का प्रयोग हो ही नहीं रहा तो विकिपीडिया के लिए अपवाद क्यों। हमें भाषा के उस स्वरुप का प्रयोग करना चाहिए जो अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचने में सहायक हो।<><  Bill william comptonTalk 12:41, 31 जनवरी 2012 (UTC)
एक झटके में यह कह देना कि हिन्दी विकि का उद्देश्य "शुद्ध हिन्दी को बढ़ावा देना नहीं है" या "देवनागरी अंकों का संरक्षण नहीं है" , ठीक नहीं है। हिन्दी विकि का उद्देश्य गुलामी ढ़ोना भी नहीं है। आप यह भी कह रहे हैं कि बहुत से लोग हैं जिनको देवनागरी अंक पता नहीं हैं वे हिन्दी विकि में योगदान कर रहे हैं - इस बात को और बढ़ा दिया जाय तो बहुत से लोग हैं जिनको हिन्दी शब्दावली का ज्ञान नहीं है, तो क्या उनके लिये हम यह निर्णय लें कि हिन्दी विकि पर हिन्दी शब्दावली के स्थान पर 'शुद्ध अंग्रेजी शब्दावली' ही इस्तेमाल की जायेगी क्योंकि 'हिन्दी विकि का उद्देश्य हिन्दी शब्दावली को बढ़ाना नहीं बल्कि ज्ञान का विस्तार करना है?
वैसे मेरा विचार है कि यदि हिन्दी विकि का उद्देश्य केवल ज्ञान का प्रचार ही करना है तो ज्ञान तो किसी भी भाषा में लिया जा सकता है। अंग्रेजी, जर्मन, रूसी, फ्रेंच में ज्ञान की भरमार है। हमें कुछ भी करने की आवश्यकता ही नहीं है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 12:53, 31 जनवरी 2012 (UTC)
(Please use indention) अनुदान जी, कृपया मेरे द्वारा लिखी टिप्पणी को एक बार फिर से पढें, मेने कहा है कि "भाषा विशेष को समझने वालो के बीच ज्ञान का प्रसार करना" विकिपीडिया का उद्देश्य है। जिन लोगों को अंग्रेजी, जर्मन, रूसी, फ्रेंच, आदि का ज्ञान ही नहीं होगा तो वो वहाँ जाके क्या करेंगे? हिन्दी विकिपीडिया हिन्दीभाषीयों के बीच ज्ञान प्रसार करने के लिए है, तो फिर अंग्रेजी, जर्मन, रूसी और फ्रेंच बीच में कहाँ से आ गईं। मेने "भाषा के उस स्वरुप के प्रयोग" करने कि बात कही है जो अधिक-से-अधिक लोगों के बीच समझा जाए। आप खुद सोचें, अगर किसी छात्र को अगर अपने ग्रहकार्य के लिए हिन्दी विकिपीडिया की जरुरत पड़ती है तो क्या वह छात्र पहले देवनागरी अंको को सीखें? आप जिन लोगों कि बात कर रहें हैं, जिन्हें हिन्दी शब्दावली का ज्ञान नहीं है, उनमें मैं भी एक हूँ, तो क्या विशेष मेरे लिए हिन्दी विकिपीडिया में कोई बदलाव किये गए? क्या मेरी वज़ह से शुद्ध अंग्रेजी शब्दावली का प्रयोग हुआ? नहीं, अपितु मुझे ही हिन्दी विकिपीडिया के अनुरूप अपने-आप में बदलाव लाने पड़े, आज चाहे मुझे गुगल अनुवाद की सहायता लेनी पड़े परन्तु फिर भी मैं चौपाल आदि स्थानों पे हिन्दी का ही प्रयोग करता हूँ। यह सब बताने से मेरा तात्पर्य यह है कि नये सदस्यों के आ जाने से कुछ नहीं बदलता, अपितु जिन लोगों तक हमें ज्ञान पहुँचाना है उनके अनुरूप बदलाव किये जाते हैं, और इस बात से तो शायद आप भी सहमत होंगे कि हिन्दीभाषी मूल-रूप से तो अंग्रेजी, जर्मन, रूसी, फ्रेंच, आदि तो बोलने नहीं लगेंगे, जो हमें "शुद्ध अंग्रेजी शब्दावली" का प्रयोग करना पड़ जाए।<><  Bill william comptonTalk 13:33, 31 जनवरी 2012 (UTC)
बिल महोदय, कृपया और ध्यानपूर्वक पढ़िये। मैने आपको संबोधित नहीं किया है। मैने केवल आपके संदेश का उत्तर नहीं दिया है, बल्कि उपर के कुछ और संदेशों के जबाब में सम्मिलित प्रतिक्रिया है।
अब बात करते हैं नागरी अंकों की। कुछ माह पूर्व जब आप हिन्दी विकि पर पधारे थे तो आप को केवल अंग्रेजी में महारत हासिल थी । आप अपने संदेश अंग्रेजी में ही लिखते थे (मैं मानता हूँ कि ऐसा आप हमारे जैसे कम अंग्रेजी जानने वालों पर रोब जनामे के लिये नहीं करते थे) । अब आप हमसे भी अच्छी हिन्दी लिख रहे हैं। इसी तरह लोग नागरी अंक भी सीख लेंगें। इजराइलियों ने संकल्प लेकर 'मृतभाषा' हिब्रू न केवल पुनर्जीवित कर दिया जो आज लहलहा रही है। दुनिया भर के लोग भाषाओं और लिपियों के मरने से डरे हुए हैं और उनके संरक्षण के लिये उपाय कर रहे हैं। इसके विपरीत हम अपनी जिम्मेदारी से पाला झाड़ते हुए घोषणा कर रहे हैं कि हिन्दी विकिपीडिया का उद्देश्य नागरी अंकों का संरक्षण नहीं है, हिन्दी की शुद्धता बचाये रखना नहीं है, संस्कृति/भाषा का संरक्षण करना नहीं है। उपर एक बात और कहनी थी - आज देश के ९०% विद्यालय 'अंग्रेजी माध्यम' में शिक्षा दे रहे हैं। बहुत सारे विद्यार्थी हैं जिन्हें देवनाग्री की पूरी वर्णमाला याद नहीं है, सारे वर्ण लिख/पहचान नहीं सकते। जरा बताइये कि हम किसके लिये हिन्दी विकि बना रहे हैं? क्या हम इससे निष्कर्ष निकाल लें कि हमे देवनागरी में नहीं, रोमन में हिन्दी लिखनी चाहिये? मेरा उत्तर सीधा है। हमे धारा की दिशा के विरुद्ध भी चलना पड़ेगा। दैनिक जागरण, शिक्षा परिषदें, भारत सरकार आदि यदि अपनी धरोहर को बर्बाद करने पर तुले हैं तो हम उनकी नकल नहीं, विरोध करेंगे। हिन्दी विकि पर काम करते हुए हम पूरा आशान्वित रहें कि इस कार्य से अपनी भाषाओं/लिपियों के माध्यम से ज्ञान का प्रसार तो होगा ही, भाषा और लिपि की धरोहर भी सुरक्षित रहेगी। -- अनुनाद सिंहवार्ता 04:23, 1 फ़रवरी 2012 (UTC)

सिद्धार्थ जी जैसे जिम्मेदार सदस्य से ऐसे कथन की अपेक्षा नहीं थी। प्रिय सिद्धार्थ जी, आप बार बार कहे जा रहे हैं कि पिछली चर्चा का निष्कर्ष रोमन अंकों का प्रयोग था। और देवनागरी अंकों का प्रयोग इस निर्णय के विरुद्ध है। क्या आपने पिछली चर्चा को पढ़ा है कि इसका निष्कर्ष क्या था? जरा इसे देखिये, यह मयूर जी द्वारा दिया गया अंतिम निष्कर्ष था-

निम्न संदेश के उत्तर में-
मेरा भी यही मत है कि पाँच लोग, पचास करोड़ लोगों के प्रतिनिधि के रूप में मतदान करें तो इसे बहुत बड़ा मजाक ही माना जाएगा। अतः देवनागरी अंक या अन्तर्राष्ट्रीय स्वरूप का मुद्दा लेख लिखने वालों के विवेक पर छोड़ दिया जाय। हाँ, जहाँ अन्तरराष्ट्रीय अंकों के बिना काम ही न चले वहाँ तो पूछने की भी आवश्यकता नहीं है। अरबी, फारसी, तमिल आदि विकियों में क्या किया जा रहा है?-- अनुनाद सिंहवार्ता 12:09, 6 अगस्त 2011 (UTC)
मैं अनुनाद जी के उपरोक्त मत से सहमत हूँ कि यह हमें हिन्दी भाषियों के विवेक पे छोड़ देना चाहिये। क्योंकि यह निर्णय अतिमहत्त्वपूर्ण है जहाँ केवल अन्तर्राष्ट्रिय अंको के बिना काम ही ना चले वहां हम इसका प्रयोग कर सकते है।--Mayur (talk•Email)



और यहाँ साफ साफ लिखा है कि जहाँ केवल अन्तर्राष्ट्रिय अंकों के बिना काम ही न चले वहाँ हम इसका प्रयोग कर सकते हैं। उल्लेखनीय है कि इस चर्चा में प्रमुख आंग्लांकीय तर्क मयूर जी द्वारा ही रखा गया था जो कि हिन्दी विकि पर महत्त्वपूर्ण तकनीकी कार्य करते रहे हैं, और उन्होंने अन्ततः उस भावना का सम्मान करते हुए, जिस भावना के साथ अधिकांश हिन्दीभाषी हिन्दी विकि पर योगदान करने आते हैं, यह महत्त्वपूर्ण निर्णय दिया था। और यदि अब भी आप निष्कर्ष को अपनी मर्ज़ी से पेश करना चाहें तो आपकी मर्ज़ी! सादर... -Hemant wikikoshवार्ता 14:24, 31 जनवरी 2012 (UTC)

-- देवनागरी अंक हिन्दी भाषा का अंग नहीं है? हमम..मैं हिन्दी भाषा में पारंगत तो नहीं हूँ, पर फिर भी कुछ तथ्य सामने रखता हूँ, अगर अच्छा लगे तो उसके आगे समर्थन या फिर विरोध लिख सकते हैं, हस्ताक्षर के साथ।
-- जहाँ तक मैंने पढा और समझा (इसके लिए मैं सिद्धार्थ जी को धन्यवाद देना चाहता हूँ), यह समस्या तीन तरह की है :-
  1. लेख निर्माण संबंधी समस्या
    1. उदाहरण - साँचा बनाना। अगर मुझे १ और २ का अंतर लेना हो, तो साँचों में यह करना मुश्किल है। पर 1 और 2 का अंतर लेना सहज है।
    2. मेरे विचार से यह छोटी समस्या है, पर गंभीर है। मुझे आशा है कि अंतर्राष्टीयकरण से इस समस्या का समाधान हो जाना चाहिए, हालाँकि इसके लिए हमें विकि डेवलपमेन्ट टीम से चर्चा करनी होगी
जहाँ तक मेरी जानकारी है, फ़िलहाल एक विकी पर पार्सर फ़ंक्शन जैसी चीज़ें एक ही प्रकार के अंकों पर चल सकती हैं (चाहे नागरी या अरबी)। इसे बदलना कितना मुश्किल है यह तो डेवेलपर्स ही बता सकते हैं।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 17:45, 31 जनवरी 2012 (UTC)
  1. लेख प्रदर्शन संबंधी समस्या
    1. उदाहरण - लेख लिखा जाए 1 और 2 में, पर दिखाया जाए १ और २ की तरह।
    2. यह समस्या भी जटिल नहीं है। जब विकि के एचटीएमएल टूल पन्ना को रनटाइम में बनाते हैं, तब मात्र उन अक्षरों को जो पाठक बढेंगे, उन्हें 1 और 2 से १ और २ में परिवर्तित कर दिया जाए। ऐसा करने से लेख की वास्तविक सामग्री पर कोई आँच नहीं आएगी। बस प्रदर्शित लेख में देवनागरी अंक दिखेंगे, अंदर अरबी या देवनागरी ही रहेंगे।
    3. इससे लेख निर्माण संबंधी समस्या का भी समाधान होता है। साँचा बिल्कुल अपनी सुविधानुसार बनाएँ, कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए।
इसमें यह भी जोड़ लें कि जब नागरी अंकों में लिखा गया पन्ना किसी ऐसे सदस्य द्वारा एडिट किया जाए जिसने वरीयताओं में अरबी अंकों का प्रयोग सक्षम किया है, तो उसे एडिटबौक्स में भी अरबी अंक ही दिखाई देने चाहियें।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 17:45, 31 जनवरी 2012 (UTC)
  1. लेख पाठन संबंधी समस्या
    1. उदाहरण - मैंने जानता हूँ 1 और 2 पर यहाँ दिखाया जा रहा है १ और २।
    2. इसका हल हमें पाठक पर ही छोड़ देना चाहिए। अगर उनकी वरियताओं में एक सहज विकल्प दे दिया जाए, तो पाठक अपनी रूचिनुसार उसे देख सकता है।
    3. हिन्दी भाषा को ध्यान में रखते हुए डिफॉल्ट देवनागरी अंक ही हों।
    4. समस्या नं २ से इसका समाधान भी निकल सकता है। जैसा पाठक चाहें, वैसा अंक देखें।
हिंदी भाषा को ध्यान में रखते हुए डिफ़ॉल्ट नागरी नहीं, अरबी होने चाहियें क्योंकि वे नागरी अंकों से कई अधिक प्रचलित हैं--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 17:45, 31 जनवरी 2012 (UTC)
  1. हिन्दी मानक और विकिपीडिया - यह कोई समस्या नहीं पर फिर भी अपने विचार सामने रखता हूँ
    1. encyclopedia, जिससे विकिपीडिया प्रेरित है, कोई ज्ञानकोष नहीं है, बल्कि परिभाषा कोष है। अर्थात् आप विकिपीडिया और encyclopedia से मात्र किसी शब्द की परिभाषा और मूल जानकारी ले सकते हैं, उसपर ज्ञान अर्जित नहीं कर सकते अर्थात् ना ही आपको कोई डिग्री मिलेगी या certificate या फिर कुछ समान तरह की उपाधि।
    2. encyclopedia की मूल उत्पत्ति dictionary से हुई है, और ये दोनों ही भाषा विशेष होते हैं, सामग्री विशेष नहीं, हालाँकि विषय विशेष encyclopedia भी होती हैं। भाषा इसकी मूल होती है। पर दुर्भाग्यवश इसमें और विकिपीडिया में अंतर यही है कि उसे विशेषज्ञ लिखते हैं, जो साहित्यकार होते हैं, भाषा की गहरी जानकारी होती है, पर विकिपीडिया आम आदमी लिखता है, जिसे उन गहराईयों का आभास नहीं होता, जैसे मुझे नहीं है।
    3. इसके लिए हमें त्वरित रूप से हिन्दी साहित्यकारों को पत्र या संदेश देना चाहिए और उनसे राय लेते रहनी चाहिए। सिर्फ अंकों के विषय में ही नहीं (मुझे तो अब यह छोटी समस्या जान पड़ती है), साधारणतः हिन्दी के उपयोग में।
    4. और जो पाठक हैं, वो ना हम हैं ना आप, क्योंकि हम पढने में अंग्रेजी विकि का ही प्रयोग करते हैं, मुख्य कारण इसलिए क्योंकि हम कोई भी विषय अंग्रेजी लिपि में ही ढूँढते हैं। क्या यही कारण तो नहीं कि भारतीय विषयों के ऊपर अंग्रेजी विकि में हिन्दी विकि से अधिक लेख हैं? हिन्दी विकि का असली स्वरूप तो तभी आएगा जब इसमें सिर्फ हिन्दी जानने वाले ही नहीं बल्कि हिन्दी का प्रयोग करने वाले पाठक भी इससे जुड़ें और इसका विकास करें। और यह हमारे हाथ में भी नहीं, पर आशा अवश्य है और उसका कारण भी है। दस साल पहले नाम मात्र की हिन्दी सामग्री अंतर्जाल पर थी, पर अभी उनकी भी सँख्या लाखों करोड़ों में है, एक लाख तो हमारे विकि पर ही है। कुछ साल पहले तक तो हम हिन्दी भी रोमन लिपि में लिखते थे, एक लिप्यांतरण की सहायता से। अतः जब वो समय आएगा, तब इस चर्चा की आवश्यकता ही नहीं रहेगी।
सिद्धार्थ जी, आपको लग रहा है मैंने यह सब जानबूझ कर किया, है ना? सत्य तो यह है कि मुझे ऐसी किसी भी चर्चा का कोई आभास नहीं था। जब मैंने आपके दिए हुए कड़ियों पर नजर डाली, तब ही इसकी गंभीरता का ऐहसास हुआ। आश्चर्य भी है कि जब पुरालेख १३ ४.६ पर मैंने इस विचार को रखा, तो प्रशासक मितुल जी ने सहज ही इसे स्वीकार भी किया और हिंग्लिशबॉट को बॉट सदस्यता भी प्रदान की। कोई बात नहीं, पर तब तक कई पन्ने स्थानांतरित हो चुके थे। फिर भी इससे इतना विचल ना हों। हम सब आपस में बातचीत करके इसका हल निकाल सकते हैं।

-- सौरभ भारती (वार्ता) 16:15, 31 जनवरी 2012 (UTC)

हेमंत जी, मैंने लिखा है "ऐसा बिना किसी सर्वसम्मति के, और पुरालेख 24 में हुई अनितं चर्चा में से निकलते नतीजे के बिलकुल विरुद्ध किया गया है।" और यह बात सही है, बस इसका अर्थ आप मेरे उद्देशित अर्थ से भिन्न निकाल रहे हैं।
आपके ही दिये हुए पिछले नतीजे में लिखा है "अतः देवनागरी अंक या अन्तर्राष्ट्रीय स्वरूप का मुद्दा लेख लिखने वालों के विवेक पर छोड़ दिया जाय।"
परंतु यहाँ 5,000 लेखों के योगदानकर्ताओं से या समुदाय से चर्चा किये बिना लेखों के नाम बदले गए हैं। अगर इसका उल्टा हुआ होता (नागरी अंकों को हटाकर अरबी अंक लगाए गए होते) तो भी यह इस नतीजे के बिलकुल विरुद्ध ही होता। और मैंने कहीं यह नहीं कहा है "कि पिछली चर्चा का निष्कर्ष रोमन अंकों का प्रयोग था।"
और यहाँ पर यह भी ध्यान दें कि आशीष जी ने यह कहा है कि "हाँ, जहाँ अन्तरराष्ट्रीय अंकों के बिना काम ही न चले वहाँ तो पूछने की भी आवश्यकता नहीं है। " परंतु इसका यह अर्थ नहीं है कि जहाँ हम में से कुछ का मानना है कि उनके बिना काम चल सकता है, उन सब लेखों के नाम और सामग्री नागरी अंकों में कर दिये जाएँ।
सौरभ जी, आप प्रबंधक हैं, मैं आपसे (और अन्य प्रबंधकों से भी) यह अपेक्षा रखता हूँ कि आपको (और सभी प्रबंधकों को) इस चर्चा के विषय की मूलभूत जानकारी तो होगी ही। मैं सर्वसम्मति के बिना इतने बड़े बदलाव की अपेक्षा किसी से भी नहीं रखता। और अब जब आपको इस चर्चा की गंभीरता का पता चल ही गया है, मैं आपसे अनुरोध करूँगा कि आप या तो सभी योगदानकर्ताओं से चर्चा करें, या फिर इन परिवर्तनों को वापिस लें(revert करें)।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 17:45, 31 जनवरी 2012 (UTC)

--इस मुद्दे को लेकर चर्चा पहले भी बहुत बार हो चुकी है और उन चर्चाओं में देवनागरी अंकों के उपयोग के पक्ष में आमराय बन गई थी। उसी मुद्दे पर बार-बार चर्चा आरम्भ करना समय बर्बाद करने जैसा ही है। मुझे भी यह समझ नहीं आया कि हिन्दी अंकों के उपयोग में क्या बुराई है। यदि सभी स्थानों पर से हिन्दी अंकों का उपयोग समाप्त कर दिया जाएगा तो क्या ये अंक इतिहास बनकर नहीं रह जाएँगे? और वैसे भी हिन्दी में आजकल जिस प्रकार घालमेल चल रहा है विशेषकर महानगरों में उससे तो एक दिन हिन्दी भाषा भी अपना मूल स्वरूप खो बैठेगी। तब क्या यह कहा जाएगा कि हिन्दी ही मत लिखो। यह हर समाज का दायित्व बनता है कि वह अपनी भाषा को न केवल जीवित रखे बल्कि उसका प्रचार-प्रसार भी करे। यह भावना आमतौर पर यूरोप के देशों में पाई जाती है और इसी का परिणाम है कि अन्तर्राष्ट्रीय राजनीति से लेकर विकिमीडिया परियोजनाओं तक सभी स्थानों पर यूरोप की भाषाओं का बोलबाला है। यहाँ तक कि यूरोप में जो भाषाएँ केवल कुछ लाख लोगों द्वारा बोली जाती हैं उनके विकिपीडिया संस्करणों पर भी लेखों और प्रयोक्ताओं की भरमार है। और रही बात अंकों के सरल या कठिन होने की तो मैं फिर से चीन, जापान, और कोरिया का उदाहरण दूँगा। हमारे इन १० अंकों से कहीं अधिक कठिन चीनी, जापानी, और कोरियाई भाषाओं की लिपियाँ हैं। तो क्या उन देशों ने अपनी लिपियों और भाषाओं को त्याग दिया है? नहीं ना। उल्टे आज तो चीनी और जापानी भाषाएँ सीखने वाले तेज़ी से बढ़ रहे हैं और वह भी उन कठिन लिपियों में। बात केवल आदत बिठाने की है। भारत के ९९% लोगों को हर बात में गुलामी करने की आदत लग चुकी है (मैं इस बात के लिए क्षमा चाहूँगा लेकिन सत्य बोलने से परहेज़ कैसा)। और रहा प्रश्न तकनीकी क्षेत्र का तो मेरे विचार से तो जहाँ इच्छाशक्ति होती है वहाँ सब कुछ सम्भव है। यदि हिन्दी लिपि और अंकों में तकनीकी काम नहीं हो पा रहा है तो भारत की नालायक जनता को (जो सूचना प्रौद्योगिकी महाशक्ति होने का ढिण्ढोरा पीटते रहते हैं) भारतीय भाषाओं और हिन्दी में तकनीकी काम करने के लिए प्रणालियाँ विकसित करनी चाहिए। यदि चीन, जापान, कोरिया जैसे देश ना होते तो कदाचित यूआरएल भी कभी लातिन के अतिरिक्त किसी अन्य लिपि में सम्भव ना हो पाते। लेकिन शायद आप लोगों को पता ना हो अप्रैल से भारतीय भाषाओं में भी यूआरएल सम्भव होंगे। तो जब यह काम हो सकता है तो अन्य तकनीकी काम क्यों नहीं? इसलिए मैं हिन्दी अंकों के उपयोग के पक्ष में हूँ। और ऐसा भी नहीं है कि हिन्दी अंक कोई समझता ही नहीं है। केवल महानगरों के कुछ काले अंग्रेज़ हैं जिन्हें हिन्दी भी ठीक से नहीं आती और ऐसे लोगों की कोई इज़्ज़त भी नहीं है और ऐसे लोगों को हिन्दी विकि पर आने की भी कोई आवश्यकता नहीं है। यदि चीन और जापान सन्सार की कठिनतम लिपियों को लोकप्रिय बना सकते हैं तो केवल दस अंकों को लोकप्रिय बनाने में शायद कोई कठिनाई नहीं होनी चाहिए। और इन दस में से भी ०, १, २, ३ को सरलता से समझा जा सकता है और समझने के लिए केवल ६ अंक शेष रह गए हैं। हाँ इतना अवश्य है कि बहुत से लेखों पर कोई बदलाव करने से पहले चौपाल या अन्य उपयुक्त स्थान पर विचार-विमर्श कर लेना चाहिए। रोहित रावत (वार्ता) 16:26, 1 फ़रवरी 2012 (UTC)

यहां असल बात हिन्दी या अरबी अंकों के प्रयोग की नहीं है अपितु बिना समुदाय की अनुमत्ति के एक अत्यंत विवादित मुद्दे को नजर अन्दाज करते हुए बाट प्रयोग की है, मैं यह मानता हूँ कि सौरभ इस बात से अनिभिज्ञ थे कि हिन्दी-अरबी अंकों को लेकर हिन्दी विकि समुदाय में अत्यंत विवाद हो चुका है, अत: मैं सौरभ से निवेदन करुंगा कि कृपया अपने बाट से पुन उन लेखों को पूर्वावस्था में ला दें। रही बात हिन्दी-अरबी अंकों के प्रयोग कि तो मेरी राय में दोनों पक्ष सही है क्योंकि न तो हम किसी के लिये हिन्दी के नियमों को कम कर सकते है परन्तु दूसरी ओर पाठकों की सुविधा का ध्यान रखना भी हमारा दायित्त्व है इसलिये मैनें अनुनाद जी से सम्मति दिखाते हुए यह कहा था कि हमें इसे लेखकों के विवेक पर छोड़ देना चाहिये, जिसको जिसमें सरल लगे उन अंकों का प्रयोग कर ले। इसके साथ ही अब इस समस्या को हमें मीडियाविकि डेवलेपर्स के पास ले जाना होगा। इसका एक मात्र विकल्प है कि जैसे आजकल विकिपीडीया में फाण्ट परिवर्तित करने का विकल्प दिया जा रहा है उसी प्रकार की सुविधा हमें अंक परिवर्तित करने के लिये लानी होगी, इससे इस समस्या का अन्त हो जायेगा परन्तु इसे लाने के लिये हमें विशाल बहुमत की आवश्यकता है।--Mayur (talk•Email) 17:20, 1 फ़रवरी 2012 (UTC)
अभी मैं विकि मित्रों से यही कहूँगा कि इस स्थानांतरण के लिए मैंने पूर्वव्रत चर्चा की है और उसके लिए प्रशासक महोदय से सहमति भी मिली है - पुरालेख १३, ४.६ में इसकी जानकारी देखी जा सकती है। बॉट द्वारा पन्नों के पूर्ववर्तन की संभावना और शुद्धता पर मुझे विचार करना है। -- सौरभ भारती (वार्ता) 21:24, 1 फ़रवरी 2012 (UTC)
मैं सौरभ से सहमत हूँ, पुरालेखों की चर्चाओं के अनुसार इन्हे बाट कार्य करने की अनुमति पहले ही मिल चुकी थी। इसलिये सौरभ अपनी जगह सही है परन्तु उस समय के और आज के विकिसमाज में बहुत अन्तर आ गया है उस समय हिन्दी विकि पर शायद ही कोई नीति एवं दिशा निर्देश बने हों। परन्तु आज के विकि समाज के समस्त सदस्य दिशा-निर्देशों का पालन करने का पूरा प्रयास करते है। खैर अब से हम सबको को यह सीख मिल गयी है कि जब भी हम ऐसा कोई बडा़ परिवर्तन करते है तो हमें समाज से चर्चा करके करना चाहिये। अभी किसी को भी विचलित होने की आव्श्यकता नहीं है क्योंकि आखिरकार हम सब हिन्दी विकि का भला चाहते है भले ही कुछ एकाद विषयों पर हममें मतभेद हो परन्तु ऐसा होना भी कई बार विकिपरियोजनाओं के लिये लाभदायक रहता है क्योंकि चर्चा से हम बेहतर विकल्प चुन पाते है।--Mayur (talk•Email) 02:31, 3 फ़रवरी 2012 (UTC)

मित्रों, जब पहले कई बार इस मु्द्दे पर चर्चा हो चुकी है और सर्वसम्मति से निर्णय लिया जा चुका है कि देवनागरी अंकों का ही प्रयोग हो तो फिर बार-बार एक ही बहस का दोहराव क्यों होता है। देवनागरी अंकों का प्रयोग बेहतर है लेकिन अरबी अंकों के प्रयोग हेतु मना भी नहीं किया गया है। और कुछ लोग कह रहे हैं कि देवनागरी अंक कुछ लोगों को समझ नहीं आते इसलिये वे विकिपीडिया में नहीं होने चाहिये, डिक्शनरी में आइपीए ट्राँसक्रिप्शन दी होती है जो सबको समझ नहीं आती तो क्या उसे डिक्शनरी से हटा देना चाहिये?

मेरा मत है कि हिन्दी विकिपीडिया पर देवनागरी अंकों के प्रयोग को प्राथमिकता दी जाय, हाँ नये प्रयोक्ताओं की सुविधा हेतु इसे अनिवार्य न बनाया जाय। जहाँ अति आवश्यक हो वहाँ अरबी अंकों का भी प्रयोग जा सकता है यथा तकनीकी संज्ञाओं आदि (जैसे x86) में। यदि किसी को देवनागरी अंक समझ नहीं आते तो उसकी Preferences में विकल्प हो जिससे देवनागरी अंकों की जगह अरबी अंक दिखें (भले ही अन्दर स्टोर देवनागरी अंक हों) परन्तु डिफॉल्ट विकल्प देवनागरी का ही रखा जाय।

बाकी देवनागरी अंकों की सरलता या समझ न आने की बात करें तो मैंने अपनी छठी व सातवीं कक्षा के छात्रों को एक बार ये अंक उनकी बनावट के हिसाब से समझाये तो वे एक बार में ही उन्हें पहचानने लगे। यदि बच्चे इन्हें आसानी से समझ/सीख सकते हैं तो एक इंटरनेट प्रयोक्ता को इन्हें समझने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिये। यदि सरलता के नाम पर हम हिन्दी का यूँ ही कत्ल करते रहे तो फिर हिन्दी विकिपीडिया ही कहाँ रहेगा, जैसा कुछ सदस्यों ने ऊपर कहा कि कई लोग देवनागरी वर्ण भी नहीं समझते (फिल्मी सितारे आदि) तो क्या हम विकिपीडिया पर रोमनागरी में लिखना शुरु कर दें?-- श्रीश e-पण्डित  वार्ता  08:40, 5 फ़रवरी 2012 (UTC)

लेखों के शीर्षक बदलाव

I noticed that many articles titles have been changed from Movie Name (Year Film) to Movie Name, Year. Though it's not that significant but I wanted to know the reason for this change. Did we achieve something by that?

I was just curious?

Thanks,

--User:मनीष वशिष्ठ (वार्ता)
I've seen that too and have notified the bot creator about that. I was removing years from film title where they are not needed at all and I toppled over this problem. आशूबातकरें 07:39, 2 फ़रवरी 2012 (UTC)

मुखपृष्ठ के पेज व्यूज में उछाल

प्रिय मित्रों पिछले अनेक मासों में हिन्दी विकि का मुखपृष्ठ कभी भी १ लाख का आंकडा़ पार नहीं कर पाया था परन्तु नव वर्ष में नये मुखपृष्ठ के साथ हिन्दी विकि के मुखपृष्ठ ने सीधा 89803 से 145784 पर उछाल लगा दी, इसके लिये सभी हिन्दी विकिपीडियन सदस्य बधाई के पात्र है।--Mayur (talk•Email) 17:36, 1 फ़रवरी 2012 (UTC)

सुझाव: मुखपृष्ठ पर कुछ परिवर्तनों का सुझाव है ताकि इसपर और भी लोग आएँ। सुझाव के बाद बदलाव किये हुए मुखपृष्ठ की झलक सदस्य:Siddhartha Ghai/sandbox4 पर देखी जा सकती है। इसमें निम्न कार्य किये हैं:
  • div ids ठीक किये। कई जगह ये सही तरीके से नहीं लगे हैं। वर्तमान मुखपृष्ठ और मेरे sandbox के html कोड (विकी कोड नहीं) को देखें, अंतर आपको दिख जाएगा।
  • रंगों में कुछ परिवर्तन। साँचा:metacaixa के लिये तीन नए color scheme Mediawiki:Common.css में जोड़े हैं। यह color scheme WCAG2.0 AAA compliant हैं। (पुराना मुखपृष्ठ भी AAA compliant था, पर वर्तमान में metacaixa की color schemes नहीं हैं)। इसके लिये मुख्य परिवर्तन करने पड़े orange की जगह लाल, और पीले की जगह हरा (पीले में AAA compliance नहीं मिल पा रहा था)।
  • decorative चित्रों के alt text और link जोड़े (रिक्त जोड़े हैं)
  • मोबाइल प्रयोक्ताओं के लिये काफ़ी समय बाद बदलने वाले निर्वाचित लेख की जगह "आज का आलेख" दिखना सक्षम किया।
कुल परिवर्तन यह हैं।
रंगों का परिवर्तन काफ़ी बड़ा है, इसपर सभी सदस्यों के विचारों का स्वागत है। रंगों में परिवर्तन इसलिए किया है ताकि color blind लोगों को metacaixa के बटन (जो नए मुखपृष्ठ की शायद सबसे महत्वपूर्ण चीज़ हैं) ठीक से दिखाई दें।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 03:06, 2 फ़रवरी 2012 (UTC)
इसके अलावा यदि हमारे निर्वाचित लेख, चित्र तथा आज का लेख इत्यादि रोजना या सप्ताह में एक बार भी अपडेट हो तो यह भी मुखपृष्ठ को और आकर्षक बनायेगा।--Mayur (talk•Email) 10:32, 2 फ़रवरी 2012 (UTC)
जी बिलकुल। मेरे किये html बदलाव तो मामूली हैं क्योंकि उनसे मुखपृष्ठ की दिखावट में कोई फ़र्क नहीं आता। मैं रंगों में परिवर्तन, और मोबाइल प्रयोक्ताओं के लिये निर्वाचित लेख की जगह आज का आलेख सक्षम करने पर आपके और अन्य सदस्यों के विचार जानना चाहूँगा। (यदि किसी सदस्य को रंगों में परिवर्तन से आपत्ती हो तो अवश्य बताएँ, नहीं तो कृपया अपना समर्थन ज़ाहिर करें)--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 19:29, 4 फ़रवरी 2012 (UTC)
मुझे निर्वाचित लेख एवं निर्वाचित चित्र में किये गये रंग परिवर्तन ठीक प्रतीत नहीं हो रहे है क्योंकि वे बैकग्राउण्ड रंग से मेल नहीं खा रहे जिस प्रकार आज का आलेख इत्यादि में खा रहे है अत: इन दो खानों के लिये कोई दूसरा विकल्प चुनना होगा।--Mayur (talk•Email) 18:26, 5 फ़रवरी 2012 (UTC)

मेरी राय में तो मुखपृष्ठ ठीक दिख रहा है। हाँ कुछ तकनीकी सुधार हो सकते हैं लेकिन मुखपृष्ठ को बहुत अधिक तड़क-भड़क और रंगीला बनाने के बजाए सादगीयुक्त ही रहने दिया जाए तो अच्छा रहेगा। इसके दो कारण हैं, पहला तो यह कि जिन लोगों को रंगान्धता है उन्हें मुखपृष्ठ देखने में कुछ कठिनाई हो सकती है और दूसरा यह की एक सामान्य प्रयोक्ता के लिए भी बहुत अधिक रंगीन पृष्ठ को देखते रहना बहुत देर तक सम्भव नहीं है क्योंकि यह मेरा स्वयं का अनुभव भी है। रोहित रावत (वार्ता) 07:21, 11 फ़रवरी 2012 (UTC)

मुखपृष्ठ के लिए मेरा एक और सुझाव है। बाएँ ओर की पट्टी में जहाँ पर दूतावास(Embassy) लिखा हुआ है यदि उसे केवल दूतावास कर दिया जाए तो सही लगेगा। दूतावास के लिए कड़ी तो मुखपृष्ठ पर वर्णमाला के नीचे दी तो हुई है। तो उसे फिर से इस पट्टी में देने का क्या औचित्य है? वह वहाँ पर भद्दा भी दिख रहा है क्योंकि सभी कुछ हिन्दी में लिखा हुआ है और अलग से (Embassy) बड़ा अजीव सा दिख रहा है। रोहित रावत (वार्ता) 15:38, 12 फ़रवरी 2012 (UTC)

मयूर जी, मैंने orange की जगह लाल इसी मजबूरी में किया है कि orange में WCAG 2.0 AAA compliance नहीं मिल पा रही है। उसका background उसी रंग का रखते हुए अगर border लाल कर दिया जाए तो भी बेहतर दिखता है; परंतु अगर heading (जो अभी orange छोड़ी हुई है) का background लाल कर दिया जाए तो न तो निर्वाचित वाला आइकन ठीक से दिखता है, और न ही काले रंग में लिखी heading।
नीले और हरे रंग में परिवर्तन केवल इसलिए हैं कि अभी के बटन नीले-पर-नीला और हरे-पर-हरा हैं, जो color blind लोगों को पढ़ने में नहीं समझ आएँगे।
रोहित जी, बहुत रंग-बिरंगा भी अजीब लगता है, मैं आपकी इस बात से सहमत हूँ। इसके लिये color blind लोगों को भी दिखाई दे, इसका एक उपाय तो यह होगा कि हम नीले और हरे का ही प्रयोग करें, और पीले, orange को छोड़ दें। विश्वज्ञानकोष का जो रंग है, उसमें परिवर्तन की आवश्यकता नहीं (चूँकि उसमें कोई बटन नहीं हैं)।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 15:48, 12 फ़रवरी 2012 (UTC)
रंगों में कुछ फेर-बदल किये हैं, अब कैसा है? यदि अब ठीक हो तो ये बदलाव मुखपृष्ठ में कर दूँ। --सिद्धार्थ घई (वार्ता) 18:26, 15 फ़रवरी 2012 (UTC)

पार्श्वपट्टी पर दें समग्र विषय का लिंक

हिन्दी विकिपीडिया पर पार्श्वपट्टी पर समग्र विषय का लिंक दिया जाना चाहिये, जैसे अंग्रेजी पर contents है, तथा संस्कृत विकि पर विषयसर्वस्वम् है। और यह सर्वोच्च श्रेणी का पृष्ठ खोलता है। मेरे ख्याल से हिन्दी विकि पर ऐसी सबसे युक्तियुक्त श्रेणी श्रेणी:लेख है, जिसे समग्र विषय से जोड़ा जाना चाहिये। इस लिंक को देने से फ़ायदा यह होगा कि कोई भी सम्पादक एक टैब में इस पृष्ठ को खोलकर रखा रह सकता है, जिससे नये लेख बनाने पर उसके लिए उपयुक्त श्रेणी का चुनाव करने के लिए, इस पृष्ठ में से उपयुक्त श्रेणी के वृक्ष पर क्लिक करते हुए अपनी मनचाही श्रेणी तक पहुँच सकते हैं और इससे विकिपीडिया की सामग्री व्यवस्थित रखना आसान होगा। वरना हर लेख के लिए कई बार लेखक एकाध मात्रा के अन्तर वाली नई श्रेणी गढ़ लेता है, जबकि वैसी एक श्रेणी पहले से उपस्थित रहती है।
फ़िलहाल यहाँ केवल श्रेणी:साहित्य दर्शन का लिंक है, जिसे इस व्यापकतर लिंक से रिप्लेस किया जा सकता है क्योंकि हिन्दी विकिपीडिया केवल साहित्य दर्शन का कोश न होकर कहीं व्यापक है (हालाँकि साहित्य दर्शन इसका अविच्छिन्न अंग है)। -Hemant wikikoshवार्ता 08:13, 4 फ़रवरी 2012 (UTC)

दरअसल श्रेणी:लेख अंग्रेज़ी की en:Category:Articles के अनुरूप है। en:Category:Contents के अनुरूप अभी कोई श्रेणी नहीं (हाँ होनी अवश्य चाहिये)। क्या इसे श्रेणी:समग्र विषय पर बनाया जाए?--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 17:06, 4 फ़रवरी 2012 (UTC)
सिद्धार्थ जी, दरअसल मैं यह समझता हूँ कि हिन्दी विकि का श्रेणी-विन्यास बड़ा दिक्कत भरा है, खासकर शीर्ष नोडों पर। यहाँ तक कि श्रेणी:लेख से ऊपर चलते जाओ तो लूप भी डिटेक्ट होता है (यह कई चरणों के बाद वापस श्रेणी:लेख पर पहुँच जाता है)। कुल मिलाकर किसी दिन बैठकर इस श्रेणी विन्यास को सुविचारित (well-thought) बनाना होगा। और इसीलिए फ़िलहाल के लिए मैंने श्रेणी:लेख का लिंक देने के लिए कहा है, क्योंकि इस श्रेणी संरचना के "pragmatic analysis" से यही समझ में आता है कि श्रेणी लेख ही top node या root node के सबसे अधिक समकक्ष है (हालाँकि नाम के हिसाब से इसमें विकिपीडिया की प्रशासनिक श्रेणियाँ कभी नहीं आ सकतीं केवल लेख आ सकते हैं, लेकिन लेखों की root node भी हाथ में आ जाये तो कम खुशी की बात नहीं है)। यदि आपकी नज़र में कोई और सही node उम्मीदवार हो तो बताएँ। अन्यथा श्रेणी:लेख का लिंक देने से भी वह उपयोग तो भलीभाँति हो जायेगा, कि लेखों के लिए सही श्रेणी चुनी जा सके, बाद में सही संरचना होने पर लिंक बदला जा सकता है।
दृश्य पाठ तो अभी भी समग्र विषय ही होना चाहिये,क्योंकि वही हमारा लक्ष्य है। लेकिन समग्र विषय नाम की श्रेणी बनाने के हालात अभी नहीं दिखते। धन्यवाद सहित। -Hemant wikikoshवार्ता 17:42, 4 फ़रवरी 2012 (UTC)
और मुझे यह भी लगता है कि मूलभूत ग़लती यहाँ यह है कि श्रेणी:विकिपीडिया जो कि श्रेणी:लेख की पितृश्रेणी है, उसे वापस श्रेणी:ऑनलाइन ज्ञानकोष में शामिल कर लिया गया है, साथ ही श्रेणी:विकिमीडिया परियोजनाएँ में भी। यह तार्किक रूप से ग़लत है, क्योंकि इसका अर्थ यह होगा कि ऑनलाइन ज्ञानकोष श्रेणी के कन्टेन्ट हमें विकिपीडिया से ही बाहर ले जाने वाले हैं, जो वास्तव में नहीं है। इसी तरह श्रेणी:विकिमीडिया परियोजनाएँ भी श्रेणी:विकिपीडिया की पितृश्रेणी नहीं होनी चाहिये, क्योंकि विकिपीडिया से बाहर यहाँ कुछ नहीं है- "न परं पुण्डरीकाक्षाद् दृश्यते भरतर्षभ"। -Hemant wikikoshवार्ता 17:58, 4 फ़रवरी 2012 (UTC)
आपकी बात सही है कि लूप नहीं होना चाहिये, और मुझे इस बात से कोई आपत्ती नहीं कि श्रेणीवृक्ष ठीक होने तक श्रेणी:लेख की कड़ी पार्श्वपट्टी में जोड़ दी जाए। मैं तो केवल सुझाव दे रहा था कि सर्वोच्च श्रेणी का नाम श्रेणी:समग्र विषय रख कर उसे बना दिया जाए (भले ही उसके पश्चात पार्श्वपट्टी में श्रेणी:लेख की ही कड़ी क्यों ना जोड़ दें)। इससे हमारे पास श्रेणीवृक्ष को सुविचारित रूप से ठीक करने के लिये root node हो जाएगा, जिसके नीचे सभी श्रेणियों को धीरे-धीरे सही तरीके से लगा सकेंगे। और आपने जो तर्क दिया कि विकिपीडिया पर विकिपीडिया से बाहर कुछ नहीं हो सकता, वह सही है, बस उस तर्क से श्रेणी:विकिपीडिया हमारा root node (सर्वोच्च श्रेणी) बन जाती है। परंतु इसमें गड़बड़ तब होती है जब हमें हिन्दी विकिपीडिया पर कई भाषाओं के विकिपीडियाओं के लेखों को एक-साथ वर्गीकृत करना हो। तब, चूँकि श्रेणी:विकिपीडिया तो प्रयुक्त हो चुकी होगी, तो हमारे पास कोई उपयुक्त नाम नहीं होगा। इसलिए सर्वोच्च श्रेणी का नाम विकिपीडिया रखना कुछ अटपटा-सा लगता है। और फ़िलहाल तो श्रेणी:विकिपीडिया का उपयोग बड़ा गड़बड़ है, विकिपीडिया प्रशासनिक कार्यों को भी उसमें जोड़ा गया है और विकिपीडियाओं के बारे में लेखों को भी। तो बहुत उथल-पुथल सी है। मेरे विचार में हमें श्रेणी:लेख को श्रेणी:विकिपीडिया में से हटाकर श्रेणी:समग्र विषय में डाल देना चाहिये। इसके अतिरिक्त समग्र विषय में श्रेणी:श्रेणियाँ और श्रेणी:प्रवेशद्वार भी जोड़ सकते हैं। मेरे विचार में सर्वोच्च श्रेणी शुरू करने के लिये तो तीन उप-श्रेणियाँ काफ़ी हैं। एक बार इस वृक्ष की मुख्य जड़ हाथ में आ जाए तो इसकी टहनियाँ और पत्ते भी सुलझा ही लेंगे।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 19:13, 4 फ़रवरी 2012 (UTC)

सिद्धार्थ जी, कुल मिलाकर हमारी चर्चा के अब तक के बिन्दु व उनपर मेरी राय इस प्रकार है: (1) श्रेणी समग्र विषय बनाकर बारी बारी से उस वृक्ष को ठीक करते जाने का सुझाव अच्छा है। इस पर मैं सहमत हूँ। (2) और श्रेणी:विकिपीडिया को बजाए विकिपीडिया के स्वत्व से जोड़ने के, विकिपीडिया नामक प्रोजॅक्ट के अर्थ में लेने में भी मुझे कोई आपत्ति नहीं है (हालाँकि इसके लिए विकिपीडिया श्रेणी से अन्य असम्बद्ध श्रेणियाँ हटानी होंगी), इसमें से तब विकिपीडिया प्रशासन की श्रेणी भी हटानी होगी क्योंकि प्रशासन की श्रेणियाँ कार्यकरण के लिए हैं, उनमें विकिपीडिया के बारे में जानकारीपूर्ण लेख रखना प्रयोजन नहीं है । (3) समग्र विषय में ये तीन श्रेणियाँ तो ठीक हैं, लेकिन विकिपीडिया प्रशासन श्रेणी भी दरअसल इसी में होनी चाहिये, क्योंकि प्रशासन श्रेणियाँ अपवाद श्रेणियाँ हैं और अतः उन्हें यूँ भी किसी श्रेणी में नहीं डाला जा सकता सिवाय जड़ के। और हाँ, अंग्रेज़ी विकि की श्रेणी व्यवस्था का अध्ययन मैं समय मिलने पर ही कर पाऊँगा, तब हो सकता है कि कुछ नये सुझाव दूँ। लेकिन अभी के लिए ये चार श्रेणियाँ ठीक हैं। (4) पार्श्वपट्टी में अभी के लिए श्रेणी:लेख डालना ही ठीक है, क्योंकि सामान्य लेख लिखने में श्रेणी:लेख का नेवीगेशन ही काफ़ी होता है।
इस विषय पर अन्य सदस्य भी कुछ सुझाव देना चाहें तो स्वागत है। और मैं सक्षम सदस्यों से निवेदन करता हूँ कि साइडबार में कम-से-कम श्रेणी:लेख लगा दें। इसका विज़िबल टेक्स्ट् श्रेणी:लेख के बजाय कुछ समझ में आने वाला नाम हो तो अच्छा। मेरे विचार से लेख वृक्ष नाम ठीक रहेगा, और इसे साहित्य दर्शन लिंक की जगह लगा सकते हैं। धन्यवाद। -Hemant wikikoshवार्ता 13:23, 5 फ़रवरी 2012 (UTC)

मैं आपकी चारों बातों से सहमत हूँ। यदि किसी सदस्य को आपत्ती न हो तो मैं साहित्य दर्शन की जगह श्रेणी:लेख की कड़ी लगा दूँगा, जिसका दिखने वाला पाठ आपके सुझाव के अनुसार लेख वृक्ष कर दूँगा।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 17:40, 5 फ़रवरी 2012 (UTC)
YesY पार्श्वपट्टी में परिवर्तन कर दिया है। --सिद्धार्थ घई (वार्ता) 19:37, 9 फ़रवरी 2012 (UTC)

कॉमन्स पर फ़ाइल हटाने का अनुरोध

मैंने विकिमीडिया कॉमन्स पर Commons:File:Meerut.ogg को हटाने का अनुरोध किया है (देखें Commons:Commons:Deletion_requests/File:Meerut.ogg) चूँकि मेरे विचार से इसमें दिया उच्चारण गलत है। इसपर अन्य सदस्यों के विचारों का स्वागत है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 19:31, 5 फ़रवरी 2012 (UTC)

MediaWiki 1.19

(Apologies if this message isn't in your language.) The Wikimedia Foundation is planning to upgrade MediaWiki (the software powering this wiki) to its latest version this month. You can help to test it before it is enabled, to avoid disruption and breakage. More information is available in the full announcement. Thank you for your understanding.

(क्षमायाचना, यदि यह संदेश आपकी भाषा में नहीं है।) इस महीने विकिमीडिया फाउंडेशन की मीडियाविकि (इस विकि को चलाने वाला सॉफ्टवेयर) को इसके नवीनतम संस्करण में अपग्रेड (उन्नत) करने की योजना है। आप इसके सक्षम होने से पूर्व इसके परीक्षण में सहायता कर सकते हैं ताकि बाद में विच्छेद और टूटन जैसी समस्याओं से बचा जा सके। अधिक जानकारी संपूर्ण घोषणा में उपलब्ध है। हमें समझने के लिए आपका धन्यवाद।

Guillaume Paumier, via the Global message delivery system (wrong page? You can fix it.). 15:02, 12 फ़रवरी 2012 (UTC)

गम्भीर समस्या

मैं प्रयोगस्थल पर कुछ प्रयोग कर रहा था अर्थात कुछ सम्पादन कर रहा था। कुछ देर बाद मुझे यह सन्देश दिखाई दिया (आप जिस पन्ने को सँजोना चाहते थे उसे रद्दी सामग्री की छननी ने अवरोधित किया हुआ है। यह संभवतः किसी कर्पसूचित बाहरी स्थल की कड़ी की वजह से हुआ है।) और सम्पादन बन्द हो गया। कृपया इस समस्या का निवारण किया जाए और प्रयोगस्थल पर से छननक हटाए जाएँ क्योंकि वह पृष्ठ तो प्रयोग करने के लिए ही बना है। रोहित रावत (वार्ता) 16:04, 12 फ़रवरी 2012 (UTC)

यद्यपि मैं नहीं जानता कि आपकी इस समस्या का क्या कारण है, परंतु जहाँ तक मेरी जानकारी है, आपने शायद प्रयोगस्थल में प्रयोग करते समय m:Spam blacklist में से किसी वेब एड्रेस का प्रयोग किया जिसके कारण यह हुआ। वैसे यह भी हो सकता है कि यह abusefilter से हुआ हो, परंतु मुझे इस बात पर काफ़ी संदेह है क्योंकि न तो ऐसा कोई abusefilter मुझे नज़र आया है, और न ही मेरी जानकारी में कोई abusefilter अपने-आप संपादन विंडो को बंद कर सकता है। हाँ, ऐसा करने की क्षमता spam blacklist में शायद हो। आशा है इससे आपको मदद मिलेगी।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 21:20, 12 फ़रवरी 2012 (UTC)

विकिपीडिया श्रेष्ठ लेख परियोजना की शुरुआत। नामांकनो का आकलन।

हम विकिपीडिया श्रेष्ठ लेख की शुरुआत कर रहे है। फिलहाल परियोजना के मुख्य पृष्ठ पर कार्य जारी है परन्तु लेखों के आंकलन की प्रक्रिया विकिपीडिया:श्रेष्ठ लेख नामांकन पर शुरू कर दी गई है। यदि कोई भी अनुभवी सदस्य इस में हिस्सा लेना चाहता है तो उनका स्वागत है। धन्यवाद आशूबातकरें 09:16, 13 फ़रवरी 2012 (UTC)

लॉग इन करते समय वर्तनी दोष

जब भी हम कभी हिन्दी विकीपीडिया पर लॉग इन (प्रवेश) करते हैं तो उस पर नीचे लिखा आता है आप लग इन हो चुके हैं वही विकिपिडिया बुनियाद जबकि मेरे विचार से होना चाहिये आप विकीपीडिया में सम्पादन करने हेतु उसके सभी आधारभूत प्रकल्पों में प्रवेश कर चुके हैं। सभी बन्धुओं से मेरा अनुरोध है कि इस सुझाव पर गम्भीरता से विचार करें और इसे लागू करें। धन्यवाद Awadhesh.Pandey (वार्ता) 17:25, 13 फ़रवरी 2012 (UTC)

इस त्रुटि को पकड़ने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद, अवधेश जी।
इस सन्देश का स्रोत मीडियाविकि:Centralauth-login-progress है। इसका मूल अंग्रेज़ी रूप en:MediaWiki:Centralauth-login-progress है। यहाँ शायद निम्न भी ठीक रहे:
आप विकिमीडिया फ़ाउंडेशन के निम्न विकियों में भी लॉग-इन हो रहे हैं:
या फिर:
आप विकिपीडिया के निम्न बंधु प्रकल्पों में भी लॉग-इन हो रहे हैं:
चूँकि सम्पादन तो बिना लॉग-इन किये भी किया जा सकता है, मेरे विचार में संपादन लिखने की आवश्यकता नहीं है। अन्य सदस्यों के क्या विचार हैं?--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 20:03, 13 फ़रवरी 2012 (UTC)
आप हिन्दी विकिपीडिया पर लॉग इन हो चुके है। इसके साथ ही आप निम्न विकियों का भी लाभ उठा सकते है।
यह भी कर सकते है। संपादन शब्द लिखने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि सिद्धार्था द्वारा दी गई टिपण्णी सही है। आशूबातकरें 06:38, 14 फ़रवरी 2012 (UTC)
YesY बदलाव कर दिया है। नोट:हिन्दी विकिपीडिया में लॉगिन की बात नहीं लिखी है चूँकि वह पहले ही लॉगिन स्क्रीन पर सबसे पहले वाक्य में दी है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 12:02, 16 फ़रवरी 2012 (UTC)

चौपाल

चौपाल पृष्ठ के सबसे ऊपर लिखा है कि, विकीपीडिया में आपका स्वागत है जो मेरी दृष्टि में सही नहीं है इसे विकीपीडिया पर आपका स्वागत है होना चाहिए। चाहें तो बदलाव करें।Dinesh smita (वार्ता) 10:52, 15 फ़रवरी 2012 (UTC)

यह साँचा:Help pages header में से है। यदि किसी सदस्य को इस बदलाव से आपत्ती न हो तो ये बदलाव किया जा सकता है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 01:46, 10 मार्च 2012 (UTC)
यह बदलाव कर दिया है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 19:09, 11 मार्च 2012 (UTC)

सूचना

ये Stewards क्या है? कृपया इसके बारे मे जानकारी दें, और कोई हिन्दी विकीपीडियन Stewards क्यों नही है?(राहुल कौशिक 08:23, 15 फ़रवरी 2012 (UTC))

देखें m:Stewards (यह अंग्रेज़ी में है) --सिद्धार्थ घई (वार्ता) 18:08, 15 फ़रवरी 2012 (UTC)

Krantmlverma के योगदान

Krantmlverma (वार्ता योगदान) के योगदान के बारे में अंग्रेजी विकिपीडिया पर चर्चा हो रही है, जो मेरे ख्याल में यहाँ भी प्रासंगिक है। भारतीय क्रान्तिकारियों पर इन्होंने ने कुछ बहुत अच्छे योगदान दिये हैं, लेकिन संदर्भ के रूप में ये अपनी खुद खी रचनाओं का प्रयोग करते हैं। अंग्रेज़ी विकिपीडिया पर इनकी कितबों में दिये गए कुछ तथ्यों के विश्वसनीयता पर संदेह जताया गया है, और इन्हें सलाह दी गई है कि संदर्भ के रूप में अपनी खुद की कितबों की बजाए उन मूल सूत्रों का हवाला दें, जिन पर इनकी किताबें आधारित हैं।

सबसे बड़ा मुद्दा है कि Krantmlverma जी असंबंधित लेखों पर अपनी कवितायें, चित्र और ब्लॉग लिंक जोड़ रहे हैं। उदाहरण के लिए रामदेव लेख देखें -- इस लेख में इनकी एक पूरी कविता और फ़ोटो है। साथ ही "बाहरी कड़ियाँ" अनुभाग में इनकी ब्लॉग की दो लिंक हैं। कई अन्य सदस्यों ने इनकी रचनाएं हटाने की कोशिश की है [1][2][3], पर ये दोबारा इसे जोड़ देते है। कई दूसरे लेखों पर भी यही हाल है।

मेरे ख्याल में विकीपीडिया पर योगदान के साथ-साथ आत्म-प्रचार करना सर्वथा अनुचित है। उत्कर्षराज (वार्ता) 07:35, 16 फ़रवरी 2012 (UTC)

लेख रामदेव के संदर्भ में मैं केवल इतना ही कहूँगा कि किसी भी ब्लॉग का उद्धरण/स्रोत/संदर्भ/बाहरी कड़ी (citation/source/reference/external link) के रूप में प्रयोग गलत है। चूँकि ब्लॉगों पर कोई भी कुछ भी लिख सकता है, अतः ब्लॉग विश्वसनीय स्रोत नहीं होते हैं। इसके अतिरिक्त किसी भी सदस्य को अपनी स्वयं की गई रचना विकिपीडिया पर नहीं डालनी चाहिए। यदि उल्लेखनीय हो, तब भी नहीं। विकिपीडिया पर आम तौर पर मूल रचनाएँ नहीं डाली जाती हैं। क्रांत जी से अनुरोध है कि वे इसे व्यक्तिगत रूप से ना लें और इन बातों को ध्यान में रखते हुए (और इन कार्यों से बचते हुए) अपने योगदान जारी रखें।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 11:49, 16 फ़रवरी 2012 (UTC)
प्रिय सिद्धार्थ जी! मैंने आपका सुझाव मानते हुए सम्पादन जारी रखना चाहा किन्तु मैं यह अनुभव कर रहा हूँ कि कुछ लोग मेरे काम से चिढते हैं और उसे मिटाने, हटाने और टीका-टिप्पणी करने मे लगे हुए हैं ऐसी स्थिति में मैं अब विकीपीडिया से तंग आकर उससे मुक्ति पाना चाहता हूँ। मुझे उचित मार्गदर्शन देने की कृपा करें। धन्यवाद सहित आपका Krantmlverma (वार्ता) 16:20, 21 फ़रवरी 2012 (UTC)
क्रान्त जी, मेरे सुझाव (अर्थात 16 फ़रवरी) के पश्चात आपके द्वारा किये गए मुझे ऐसे कोई योगदान नहीं दिख रहे जिन्हें मिटाया अथवा हटाया गया हो या जिनपे टीका-टिप्पणी की गई हो। कृपया विकिपीडिया पर कार्य की सहयोगात्मक प्रकृति से विचलित न हों और अपने सकारात्मक योगदान जारी रखें।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 23:14, 22 फ़रवरी 2012 (UTC)
सिद्धार्थ जी! कृपया इसे भी देखें: [4] श्रीयुत लावी सिंहल जी ने २१ फरवरी को मेरे द्वारा अप्लोड किया गया बिस्मिल के पिताजी का चित्र हटा दिया बिस्मिल की कुछ प्रसिद्ध कवितायें वे पहले ही हटा चुके हैं। यद्यपि मैंने उनके वार्ता पृष्ठ पर इसकी चर्चा कर दी थी परन्तु उन्होंने कोई उत्तर नहीं दिया। इसी प्रकार माननीय उत्कर्षराज जी की टिप्पणी आप ऊपर देख ही चुके हैं। ईश्वर विकीपीडिया के इन सभी शुभचिन्तकों को सदबुद्धि प्रदान करे यही कामना करते हुए आपका सद्भावी,Krantmlverma (वार्ता) 09:11, 23 फ़रवरी 2012 (UTC)
क्रांति जी, इन सदस्यों का आपसे कोई व्यक्तिगत झगड़ा नहीं है, ये बस वही करने का प्रयत्न कर रहें हैं जो विकिपीडिया की मूल संरचना का हिस्सा है। विकिपीडिया पे अपने नाम के लेख बनाना, अपनी कृतियों को संदर्भ के रूप में प्रयोग करना, या अपने दृष्टिकोण के तहत लेख सम्पादित करना अच्छी कर्मठता की निशानी नहीं है। सम्पादक को निष्पक्ष भावना के साथ कार्य करना चाहिए, मैं आपके कार्य में कमियां या खोट नहीं निकाल रहा परन्तु मैने आपके लेखों की तटस्थता संशयात्मक पाई है। मैं आपके विभिन्न लेखों पे किये गए परिश्रम की सरहाना करता हूँ, परन्तु अगर आप कुछ छोटी बातोँ का ध्यान रखें तो यकीनन कोई आपके योगदान को नहीं हटायगा। मैं आपसे अनुरोध करूँगा की आप इन पृष्ठों को पढ़ें: neutrality, verifiability<>< Bill william comptonTalk 11:59, 23 फ़रवरी 2012 (UTC)
मान्यवर बिल विलियम काम्पटन जी! कृपया क्रान्त जी का यूजर पेज [5] देखें। उन्होंने अपना कोई आत्मप्रचार नहीं किया है। मुझे तब बहुत अधिक दुख होता है कि जिस व्यक्ति ने साहित्य की सेवा के लिये अपनी अच्छी खासी नौकरी छोड दी और ६५ वर्ष की आयु में अपना पूरा समय विकीपीडिया के हिन्दी अंग्रेजी व संस्कृत के लेखों को सुधारने व सँवारने में दे रहे हैं आप सब लोगों को तो उन्हें सम्मानित करना चाहिये ना कि उनकी अनर्गल आलोचना। ऐसा करके आप विकीपीडिया जैसे संगठन का अहित ही कर रहे और कुछ नहीं। मुझे उम्मीद है मेरे सुझाव को मेरे सभी मित्रगण अन्यथा नहीं लेंगे। चलते-चलते एक संशोधन और, उनका नाम क्रान्त है क्रांति नही; Awadhesh.Pandey (वार्ता) 19:02, 26 फ़रवरी 2012 (UTC)
क्रान्त जी, कविताओं के लिये आप हिन्दी विकिस्रोत का उपयोग कर सकते हैं, अर्थात कविताएँ वहाँ डाल सकते हैं। जो उल्लेखनीय रचनात्मक कार्य सार्वजनिक क्षेत्र में हैं, जैसे कविताएँ, लेख इत्यादि; उनके लिये ही विकिस्रोत बनाया गया है। बिस्मिल जी के मूल कार्य आप वहाँ डाल सकते हैं (यदि वे सार्वजनिक क्षेत्र में हो), और फिर लेख के अंत में {{बन्धु प्रकल्प}} साँचा उपयुक्त तरीके से जोड़ सकते हैं।
चित्र वाली घटना अंग्रेज़ी विकिपीडिया पर घटी है, अतः बेहतर होगा कि उसपर चर्चा वहीं की जाए।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 15:14, 24 फ़रवरी 2012 (UTC)

श्री अरविन्द

प्रिय सिद्धार्थ जी! मैंने आपका सुझाव मानते हुए उपरोक्त लेख अद्योपान्त सम्पादित कर दिया है कृपया इसे देख लें। अभी इसमें कुछ और सुधार भी करूँगा वशर्ते स्वनामधन्य सुविग्य लोग (?) अनावश्यक छेडछाड न करें। सधन्यवाद,Krantmlverma (वार्ता) 07:23, 23 फ़रवरी 2012 (UTC)

Medicine project

Dear Hindi Wikimedians,

I would like to introduce a special wikiproject to you. I am writing to share with you a very inspiring initiative regarding health and medicine articles on Wikipedia. Crores of Wikipedia readers read up about health related issues either when they or their loved ones fall ill or before or after they have consulted doctors or when they are curious about a particular disease or drug. In fact, quite a few doctors and nurses also read up these articles to improve their knowledge.

Wikipedia's medical articles have 15-20 crore page views every month. The top 300 articles are viewed more than 1 lakh times every month. The challenge is that the majority of these articles are only available in English.

This initiative (http://en.wikipedia.org/wiki/Wikipedia:WikiProject_Medicine/Translation_task_force) has been conceptualised by WikiProject Medicine, Wikimedia Canada and very interesting organisation called Translators Without Borders. It seeks to translate a set of 80 of the most important health care articles into as many languages as possible.

Given the state of our health care system as well as the increasing readership of Indic language projects, there is huge positive impact that we can have if we participate in this initiative and have these articles in all Indic languages. The project page (referenced above) includes an outline of the project, FAQs, useful links and a sign up for interested volunteers.

Hindi Wikipedians can join this effort by creating a wikiproject for this in Hindi wikipedia. Remember, you don't have to be a health care professional to help out. All you have to do is simply care. I am not sure whether Hindi wiki community has users from medical background. It there are users from Medical background it will be great if they can manage this project.

I am really happy to note that 5 editors from 5 Indic languages have already signed up for this wonderful project. Of these 2 languages - Assamese and Malayalam - have already started wiki project and started working on articles (really big comprehensive articles) related to Medicine.

Assamese wikipedia medicine project page: as:ৱিকিপিডিয়া:ৱিকিপ্ৰকল্প চিকিৎসাবিজ্ঞান

Some of the articles created:

Malayalam wikipedia biology project page: ml:വിക്കിപീഡിയ:വിക്കിപദ്ധതി/ജീവശാസ്ത്രം

Some of the articles created:

Please note that this project do not involve machine translation or bots. It is really happy to note that both in Assamese and Malayalam wiki these projects are run by doctor (or medicine students) wikipedians :) Yes, Indic wikipedias has editors from all wakes of life.

There is so much potential on these articles. I encourage interested wikipedians to join this project by starting a Wiki project in Hindi wikipedia for this. Please let me know if you require any support for this.--Shiju (वार्ता) 10:06, 24 फ़रवरी 2012 (UTC)

हिन्दी अनुवाद:

भैषज्य परियोजना (मेडिसिन प्रोजेक्ट)-
प्रिय हिन्दी विकिमीडियन मित्रों,
मैं आपके सामने एक विशिष्ट विकिप्रोजेक्ट रखना चाहता हूँ। मैं आपके साथ एक बहुत ही प्रेरक पहल साझा कर रहा हूँ, जो कि विकिपीडिया पर स्वास्थ्य और चिकित्साशास्त्र सम्बन्धी लेखों पर है। करोड़ों विकिपीडिया-पाठक स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों पर पढ़ा करते हैं, या तो तब जबकि वे या उनके प्रियजन बीमार पड़ जाते हैं, या फिर किसी डॉक्टर को मिलने से पहले या बाद में। अथवा जब वे किसी रोग या दवा के बारे में जिज्ञासु होते हैं। सच कहें तो कुछ डॉक्टर और नर्सें भी अपना ज्ञान बढ़ाने के लिए ऐसे लेख पढ़ते हैं।

विकिपीडिया के मेडिकल लेखों के हर महीने १५ से २० करोड़ पृष्ठावलोकन होते हैं। ऊपर के ३०० लेख तो प्रतिमाह १ लाख से ज्यादा बार देखे जाते हैं। चुनौती यह है कि अभी ऐसे ज्यादातर लेख अंग्रेजी में ही उपलब्ध हैं। यह पहल (http://en.wikipedia.org/wiki/Wikipedia:WikiProject_Medicine/Translation_task_force) विकिप्रोजेक्ट मेडिसिन, विकिमीडिया कनाडा द्वारा की गयी है, और एक दिलचस्प संगठन Translators Without Borders द्वारा। इसका लक्ष्य स्वास्थ्यरक्षा-संबंधी सबसे महत्वपूर्ण ८० लेखों के समूह का ज्यादा-से-ज्यादा संभव भाषाओं में अनुवाद करना है।

हमारे स्वास्थ्य-रक्षा तन्त्र की स्थिति तथा भारतीय भाषीय परियोजनाओं के बढ़ते पाठकत्व, दोनों को देखते हुए, यदि हम इस पहल में भाग लें तथा ये लेख सभी भारतीय भाषाओं में हो जायें तो इसका भारी सकारात्मक प्रभाव होगा। परियोजना पृष्ठ पर (ऊपर लिंक देखें) परियोजना की रूपरेखा दी हुई है, साथ ही प्रायः पूछे जाने वाले प्रश्न, उपयोगी लिकं और दिलचस्पी रखने वाले स्वयंसेवकों के लिए साइन-अप भी है।

हिन्दी विकिपीडियन इसके लिए हिन्दी विकिप्रोजेक्ट बनाकर इसे ज्वॉइन कर सकते हैं। याद रहे, मदद करने के लिए आपको स्वास्थ्य-रक्षा-व्यवसायी होना जरूरी नहीं है। आपको केवल ध्यान रखना है। मुझे निश्चित रूप से नहीं पता कि हिंदी विकि समुदाय में चिकित्सकीय -पृष्ठभूमि से सदस्य हैं या नहीं। यदि हैं तो यह बहुत अच्छा होगा कि वे ऐसे प्रोजेक्ट का व्यवस्थापन करें।

मुझे सचमुच खुशी है कि 5 भारतीय भाषाओं से 5 सम्पादकों ने इस प्रोजेक्ट में साइन अप कर लिया है। इनमें से 2 भाषाओं- असमिया और मलयालम में यह विकिप्रोजेक्ट पहले ही शुरू हो गया है और लेखों पर काम करना भी शुरू कर दिया गया है (सचमुच बड़े विस्तृत लेखों पर) जो भैषज्य (medicine) से सम्बन्धित हैं।

असमिया विकिपीडिया की भैषज्य परियोजनाओं का पृष्ठ as:ৱিকিপিডিয়া:ৱিকিপ্ৰকল্প চিকিৎসাবিজ্ঞান

बनाये गये कुछ लेख:

मलयालम विकिपीडिया जीवशास्त्र परियोजना पृष्ठ: ml:വിക്കിപീഡിയ:വിക്കിപദ്ധതി/ജീവശാസ്ത്രം

बनाये गये कुछ लेख:

कृपया ध्यान दें कि इस परियोजना में मशीन-अनुवाद या बॉट शामिल नहीं हैं। यह बहुत खुशी की बात है कि असमिया और मलयालम दोनों विकियों पर ये परियोजनाएँ विकिपीडियन डॉक्टरों द्वारा (या चिकित्सा-छात्रों द्वारा) चलायी जा रही हैं। :) जी हाँ, भारतीय विकिपीडियाओं पर जीवन के सभी क्षेत्रों से लोग शामिल हैं।

इन लेखों में बहुत निहित सम्भावनाएँ है। मैं रुचि रखने वाले विकिपीडियनों को प्रोत्साहित करना चाहूँगा कि वे हिन्दी विकि पर ऐसा प्रोजेक्ट शुरू करके इस प्रोजेक्ट को ज्वॉइन कर सकते हैं। यदि आपको इसके लिए कोई मदद चाहिये हो तो कृपया मुझे सूचित करें। -- (मूल संदेश user:Shiju द्वारा)

l

Please help: replace this red text with a translation of the English message below. Thank you!
@MonmouthpediA announces the Charles Rolls Challenge

This is the first multilingual Wikipedia collaboration to create a wiki-town. All Wikipedians can take part, in any Wikipedia language. The challenge runs from 1 March until the 19th of April 2012. (Prizegiving webstreamed on 21st April).
Sign up now!
"Can you imagine a Wiki Project that involves 1,000 QRpedia codes and free WiFi?"

20 in Welsh so far, esperanto, Swedish, Victuallers (वार्ता) 19:52, 1 मार्च 2012 (UTC)

पुनः (स्मरण-पत्र): आपने संपादन सारांश नहीं दिया है।

कृपया यह बतायें यह कि यह क्यों लगाया गया है। अंग्रेज़ी विकिपीडिया में तो यह नहीं है। --Somesh virgo (वार्ता) 15:49, 2 मार्च 2012 (UTC)

मेरा status

en wiki ने तो मेरे नाम को blue में दिखाना शुरु कर दिया है। आप कब करेंगे।--Somesh virgo (वार्ता) 16:16, 2 मार्च 2012 (UTC)

आपके हस्ताक्षर में जो नाम दिखता है, वह आपके सदस्य पृष्ठ सदस्य:Somesh virgo से जुड़ा होता है। विकिपीडिया पर सभी पृष्ठों की ही तरह, यह भी तभी नीला दिखेगा यदि यह अस्तित्व में होगा, अर्थात किसी ने इसे बनाया होगा। चूँकि अभी तक आपने अपना सदस्य पृष्ठ नहीं बनाया है, अतः आपका नाम नीले में नहीं दिखता। इसे बनाने का कार्य आम तौर पर सदस्य को स्वयं ही करना चाहिये, अतः इसमें विकिपीडिया का कोई कार्य नहीं है। आप इस पृष्ठ को बना लेंगे तो आपका नाम नीला दिखेगा। जिस प्रकार आपने अंग्रेज़ी विकिपीडिया पर अपना सदस्य पृष्ठ बनाया था उसी प्रकार यहाँ भी अपना सदस्य पृष्ठ बनाएँ। इसके लिये आप सहायता हेतु en:WP:Userpage देख सकते हैं।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 08:29, 3 मार्च 2012 (UTC)
सोमेश, अंग्रेज़ी विकिपीडिया पे भी आप अपने सदस्य पृष्ठ के बजाय उपयुक्त स्थान पर ही प्रश्न पूछें, इसके लिए सबसे आसान यही है कि आप अपने वार्ता पृष्ठ पर {{help}} लगा के सेव कर दें, इसके कुछ ही समय बाद आपकी कोई न कोई सदस्य मदद अवश्य करेगा। अंग्रेज़ी विकिपीडिया विकिपीडिया पे आपका नाम नीला इसलिए दिख रहा है क्योंकि आपने अपने सदस्य पृष्ठ को प्रश्न पूछ के सम्पादित कर दिया है, परन्तु इसका कोई फायदा नहीं क्योंकि इसतरह कोई भी अन्य सदस्य आपके प्रश्न का उत्तर नहीं देगा। अगर आपको अभी भी कोई समस्या आ रही है तो पूछें। एक और बात, अपने वार्ता पृष्ठ छोड़े गए संदेश का भी उत्तर दिया करें, धन्यवाद।<>< Bill william comptonTalk 10:03, 3 मार्च 2012 (UTC)
सिद्धार्थ घई (वार्ता) तथा ।<>< Bill william comptonTalk का मैं अति आभारी हूँ कि उन्होंने मेरा मार्गदर्शन किया। मैं तहे दिल से उनका शुक्रग़ुज़ार हूँ।--Somesh virgo (वार्ता) 18:31, 12 मार्च 2012 (UTC)

'श्रमिक संघों' आदि बहुवचन?

हंजल (‎Hunnjazal) जी ने अनेकों लेखों के नामों (जैसे 'श्रमिक संघ') का बहुवचन बनाकर उनको मूल एकवचन नामों (जैसे 'श्रमिक संघ') पर पुनर्निर्देशित किया है और कर रहे है। क्या यह ठीक है?
मेरा विचार है कि यह उपयुक्त नहीं है। व्याकरण की दृष्टि से 'श्रमिक संघ' का बहुवचन 'श्रमिक संघों' नहीं होता है। वस्तुतः 'श्रमिक संघों' का प्रयोग किसी कारक-चिह्न के साथ (जैसे 'श्रमिक संघों ने' , 'श्रमिक संघों को', 'श्रमिक संघों द्वारा', 'श्रमिक संघों में' आदि) होता है।
मेरा सोचना है कि इस तरह के प्रयोग से वैसे लोगों को भ्रम हो सकता है जिनकी मातृभाषा हिन्दी नहीं है। वे गलत हिन्दी को ही सही हिन्दी समझने की गलती कर सकते हैं।
कृपया इस संबन्ध में अपने विचार रखें।-- अनुनाद सिंहवार्ता 08:40, 3 मार्च 2012 (UTC)

अनुनाद जी नमस्कार। मेरी इस संबंध में हुन्जाज़ल जी से चर्चा हो चुकी है, जिससे मैं पूरी तरह तो संतुष्ट नहीं था, लेकिन फिर भी यह उनकी इस अवधारणा पर आधारित है कि गलत रूपों का भी रीडायरेक्ट दिया जाना चाहिये ताकि वर्तनी सही न जानने वालों के लिए यह लेख ढूँढने में बाधा न बने। और जहाँ तक संघों का सवाल है- आपकी बात सही है कि यह बहुवचन नहीं है, बल्कि यह तिर्यक बहुवचन कहलाता है और कारक चिह्नों के साथ प्रयुक्त होता है। मेरा मानना है कि तिर्यक रूपों का रीडायरेक्ट देना न देना सदस्य की इच्छा पर छोड़ा जा सकता है, हालाँकि सरासर गलत रूपों को रीडायरेक्ट नहीं किया जाना चाहिये, वरना वे रूप लेखों में प्रयोग किये जाने पर लाल कड़ी नहीं दिखायेंगे और गलत रूपों को बढ़ावा मिलेगा, वैसे भी गलत रूप तो गलत रूप ही है, उसे समकक्ष दिखाना तथ्यदृष्ट्या झूठ होगा। इस विषय में मैं बस इतना कहना चाहता हूँ। धन्यवाद सहित -Hemant wikikoshवार्ता 05:33, 7 मार्च 2012 (UTC)
मुझे नहीं लगता की नाम के अन्य रूपों को रिडायरेक्ट करना आवश्यक है क्योंकि गलत नाम डालने पर खोज परिणाम आपको सही वर्तनी चुनने की सलाह देते है. इससे खोजकर्ता को पता चल जाता है की उसने क्या गलती की है. केवल यदि मात्राएं (जैसे की और फ़ वाले शब्दों को) या अन्य समान-अर्थी (जैसे जानवर और पशु) शब्द है तभी पुनर्निर्देशन करना उषित होगा. आशूबातकरें 05:53, 7 मार्च 2012 (UTC)

Twinkle अद्यतन

Twinkle गैजेट में अद्यतन किये गए हैं। अधिक जानकारी के लिये एवं टिप्पणी/सुझाव देने के लिए विकिपीडिया वार्ता:Twinkle देखें।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 01:57, 5 मार्च 2012 (UTC)


आयशा टाकिया

वार्ता:आयशा टाकिया जन्म नाम राजीव हरी ओम भाटिया something wrong please check06:11, 5 मार्च 2012 (UTC)Sanjay Balotiya

आयशा टाकिया पृष्ठ में गड़बड़ी को सदस्य:Ashliveslove ने ठीक कर दिया है--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 21:12, 5 मार्च 2012 (UTC)

आयशा ke photo जन्म नाम राजीव हरी ओम भाटिया likha hai please check ~~Sanjay Balotiya

माफ़ किजिए परन्तु आप जो समस्या बता रहे है वह मुझे पुरे लेख में कहीं नहीं दिख रही है। आशूबातकरें 18:28, 6 मार्च 2012 (UTC)
 Yes check.svg  Done. I forgot to update here --गुंजन वर्मासंदेश

Narayam

Narayam एक मीडियाविकी एक्स्टेंशन है जिसके माध्यम से किसी भी भाषा के लिये इनस्क्रिप्ट और ट्रान्सलिटरेशन इनपुट प्रणाली बनाई जा सकती है। यह कॉमन्स पर, मीडियाविकी पर, मराठी विकिपीडिया और विक्षनरी पर, असामी, गुजराती, संस्कृत विकिपीडिया पर पहले से चल रहा है। इसमें हिन्दी के लिये inscript और transliteration सुविधाएँ भी उप्लब्ध हैं।

हमारी वर्तमान इनपुट प्रणाली केवल विकिपीडिया के नेटिव इनपुट में ही काम करती है, गैजेटों में नहीं। परंतु Narayam अन्य गैजेटों में भी काम करता है (जैसे वि:HotCat और वि:Twinkle)। मेरे विचार में हमें Narayam के इनपुट की जाँच करनी चाहिये (हम ये ऊपर दी किसी भी साइट पर कर सकते हैं) और उसमें उपयुक्त सुधार करने/करवाने के बाद उसे हिन्दी विकिपीडिया पर लागू करना चाहिये (इसे लागू करने की कोई जलदी नहीं है, और हमें ये देख-भाल के ही करना होगा)।

मैंने कुछ सुधार सुझाव mw:Extension talk:Narayam#Hindi transliteration suggestion पर छोड़े हैं। अन्य सदस्य भी इसकी जाँच करने के बाद वहाँ सुझाव दे सकते हैं।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 21:37, 5 मार्च 2012 (UTC)

इसका अनुभव आज मराठी विकिपीडिया पर संपादन करते वक्त मैंने लिया। मुझे यह एक उत्तम स्क्रिप्ट लगी है। फिल हाल हिन्दी विकी में कई जगह पर हम देवनागरी टंकण नहीं कर सकते (उदहारण के लिए जब हम कड़ियाँ जोड़ने के लिए लिंक बॉक्स का उपयोग करते है)। इस स्क्रिप्ट की मदद से हम एक तरह से पूर्ण पृष्ठ पर कहीं भी हिन्दी टंकण करने में सक्षम है। आशूबातकरें 18:20, 6 मार्च 2012 (UTC)

जिनेलिया या जेनेलिया?

इस अभिनेत्री का सही नाम क्या है? जिनेलिया या जेनेलिया? गूगल पर जिनेलिया के नाम से बेहद कम खोज परिणाम आते है। परन्तु जेनेलिया नाम से बेहद अधिक परिणाम व स्रोत उपलब्ध है। कृपया अपने विचार सामने रखे। आशूबातकरें 19:24, 7 मार्च 2012 (UTC)

जेनेलिया प्रयोग करना ही बेहतर होगा। जागरण, आज तक, नवभारत टाइम्स, दैनिक भास्कर, और बी बी सी के गूगल रिज़ल्ट हैं इसके लिये (पहले रिज़ल्ट पृष्ठ पर)
इसके लिये फ़िलहाल 17 लाख से अधिक रिज़ल्ट हैं जबकि जिनेलिया के लिये केवल 2790 ही हैं। हमें बेशक जेनेलिया का प्रयोग करना चाहिये।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 20:55, 7 मार्च 2012 (UTC)

YesY पूर्ण हुआ नाम बदल दिया गया। आशूबातकरें 06:24, 8 मार्च 2012 (UTC)

समस्या.

जब कोई नया खता खोलता है तो हाल में हुए परिवर्तन पृष्ठ पर यह सन्देश आता है created उपयोगकर्ता के खाता। इसे सुधारना आवश्यक है। पहले यहाँ नया सदस्य आता था। इसकी जगह नया खाता या नया उपयोगकर्ता या ऐसा ही कुछ सन्देश आना चाहिए। आशूबातकरें 06:19, 8 मार्च 2012 (UTC)

 Yes check.svg Done--Mayur (talk•Email) 11:49, 8 मार्च 2012 (UTC)
आशू जी आपकी समस्या एक बृहत्तर समस्या का अंग है, जिसे मैंने मयूर जी के वार्ता पृष्ठ पर 'moved पृष्ठ...' शीर्षक से लिखा है। और वहाँ लिखने के बाद ही संयोग से आपकी यह समस्या दिखाई दी। -Hemant wikikoshवार्ता 18:24, 8 मार्च 2012 (UTC)
अब मैं स्वयं शायद इसके कारण तक पहुँच गया हूँ। यह मीडियाविकि सॉफ्टवेयर में नये interface messages जोड़ने से उत्पन्न होती लगती है। पहले मीडियाविकि 1.18 में logentry-move-move जैसे मैसेज हैं ही नहीं। जबकि मीडियाविकि 1.19 में ये इन्ट्रोड्यूस किये गये हैं, और पुराने मैसेजेस का role बदला गया है। अतः इन मैसेजेस का अनुवाद शायद नये सिरे से होना था, और मैसेजेस के पुराने वर्सन, हो सकता है, obsolete हो गये हों जैसे - http://translatewiki.net/w/i.php?title=MediaWiki:Newuserlog-create-entry/hi&action=edit&loadgroup=core-1.18&loadtask=view पर जो मैसेज है वही आशू जी द्वारा उल्लिखित 'नवीन सदस्य' का मैसेज लगता है, और यह 1.18 में है, 1.19 में नहीं है।
लेकिन ऐसे में यह जरूरी था कि नये मैसेज जुड़ने की सूचना हमें (यानी मीडियाविक यूसर्स को) दी जाती, ताकि हम नये अनुवाद कर सकें। इस परिवर्तन के बारे में कुछ गंध इस चर्चा में भी आ रही है- http://en.wikipedia.org/wiki/Wikipedia:Village_pump_(technical)#Moving_saves_username_in_edit_summary . खैर अब तो काफी कुछ स्पष्ट हो गया है। मयूरजी व आशू जी आपके सहयोग के लिए धन्यवाद। -Hemant wikikoshवार्ता 07:02, 9 मार्च 2012 (UTC)

meta:Requests for comment/Userrights on hi.wiki

Please comment the rfc above. Regards. --Vituzzu (वार्ता) 22:05, 9 मार्च 2012 (UTC)

Yeh Rishta Kya Kehlata Hai

मैं इस लेख का नाम परिवर्तन बनाने वाले सदस्य (Ali432) से यह पूछना चाहता हूँ कि लेखों के नाम लातिन लिपि में लिखने का क्या कारण है। आपके द्वारा पहले भी एक लेख बनाया गया था जो पूरा का पूरा अंग्रेज़ी विकिपीडिया से कॉपी-पेस्ट किया गया था। कृपया ध्यान दें कि इस प्रकार की हरकतें करना भी एक प्रकार का उत्पात ही है क्योंकि इससे बाकी के सदस्यों का समय बर्बाद होता है। आपको यह चेताया जाता है कि हिन्दी विकिपीडिया के अनुसार ही लेख बनाए और उनका नामकरण करें अपनी इच्छानुसार नहीं। यदि आपको देवनागरी लिपि में लिखने में कुछ परेशानी है तो आप पहले हिन्दी ठीक से सीखें और फिर यहाँ अपना फलदाई योगदान दें। व्यर्थ में लेखों को बढ़ाने के चक्करों में कॉपी-पेस्ट करने की हरकतों से बचें। लगातार चेताए जाने के बाद भी यदि आप अपनी उत्पाती हरकतें जारी रखते हैं तो आपको यहाँ अवरोधित भी किया जा सकता है। धन्यवाद। रोहित रावत (वार्ता) 12:43, 11 मार्च 2012 (UTC)

मैंने इस सदस्य द्वारा किये कुछ गलत स्थानान्तरणों को वापिस ले लिया है और उनके वार्ता पृष्ठ पर उन्हें कुछ जानकारियाँ दी हैं। उपरोक्त पृष्ठ अब वापिस यह रिश्ता क्या कहलाता है पर पाया जा सकता है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 19:03, 11 मार्च 2012 (UTC)
इसे सदस्य:Ashliveslove ने वापिस स्थानांतरित किया है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 19:06, 11 मार्च 2012 (UTC)