विकिपीडिया:चौपाल/पुरालेख 16

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Archive
पुरालेख

यह पृष्ठ विकिपीडिया चौपाल की वार्ताओं का पुरालेख पृष्ठ है। नवीनतम वार्ताओं के लिए देखें विकिपीडिया:चौपाल

आइए दायित्व निभाएँ हम भी।

दृष्टिबाधित व्यक्ति किसी वेव पृष्ठ के खास हिस्से तक पहुँचने के लिए उस पृष्ठ के कुछ टूल्स जैसे लिस्ट, हेडिंग, चेक बॉक्स, रेडियो बटन आदि का सहारा लेते हैं। इसलिए माइक्रोसॉफ्ट, गूगल, आउरकुट आदि अग्रणी वेवसाइटें अपना स्वरूप तय करने में इसका ध्यान रखती हैं। अंगरेजी विकिया में भी इसका पर्याप्त ध्यान रखा गया है। उसकी अनुगामिनी हिंदी विकिपिडिया में भी वे चीजें अनायास ही चली आई है। किंतु इसके लिए कुछ सचेत रूप से भी करने की जरूरत है। जैसे-

  • मुखपृष्ठ को विभिन्न श्रेणी के शीर्षकों में बाँटना। अंगरेजी की तरह हिंदी में भी समाचार, आज का आलेख आदी हेडिंग बनाए जा सकते हैं।
  • इसी तरह चौपाल की चर्चाएं भी व्यवस्थित की जा सकती है। सबसे नई चर्चा सबसे ऊपर से शुरु करने में हर्ज क्या है?

साथियों हम अपनी जीवन शैली और आदतों में थोड़ा सा परिवर्तन करके जिनसे हमें कोइ फर्क नहीं पड़ता लाखों लोगों के लिए फर्क पैदा कर सकते हैं। आइए दायित्व निभाएं हम भी। अनिरुद्ध ०१:३४, १४ अक्तूबर २००९ (UTC)

निदा फ़ाज़ली ने शायद ठीक ही लिखा है- किसी के वास्ते राहें कहाँ बदलती हैं तुम अपनेआप को खुद ही बदल सको तो चलो। एक व्यक्ति के लिए कई व्यक्तियों को खुद को बदलने की कोई जरूरत नहीं। शायद लोकतंत्र का भी यही मतलब है। ऐसे में विकिपिडिया की यह अविचल स्थिरता लोकतांत्रिक प्रणाली के अनुरूप ही है। लेकिन पता नहीं क्युं ऐसा लगता है, कि वह संस्कृति निस्संदेह श्रेष्ठ होगी जो गाँधी के जंतर पर खुद को परखती हों। जो अपने सूरज का मूल्यांकन सबसे आखिरि व्यक्ति के अंधेरे को देखकर करे। अनिरुद्ध ०७:१०, १ नवंबर २००९ (UTC)

शीर्षक संदूक

पिछले पुरालेख में हुए चर्चा अनुसार चौपाल का शीर्षक संदूक बदला गया है।

  • निर्देशों की लंबी संख्या को मितुल जी सहित कई लोगों ने घटाने/छिपाने का सुझाव दिया था, जिसका ध्यान रखा गया है, एवं उनके महत्त्व को देखते हुए यहीं उपस्थित भी रखा गया है।
  • इसके अलावा अंग्रेज़ी के चौपाल के विलेज पंप रूप से लायी गयी असंबद्ध चित्र जिसमें गांव का पम्प दिखाया गया था, हटा दी गयी है, जिसके लिए ग्राम चौपाल के मुक्त चित्र आमंत्रित हैं, जिन्हें यहां स्थान दे सकते हैं।
  • ब्राउज़बार को यथा स्थान रख गया है।

और कोई सुझाव हों तो आमंत्रित हैं।--आशीष भटनागर  वार्ता  ०३:४९, १४ अक्तूबर २००९ (UTC)

साँचा:खाद्य पूरक

उपरोक्त सांचे को उसके घटकों के लेखों में बाहरी कड़ियाँ के नीचे लग्ना है। इसके लिए किसी सदस्य की सहायता वांछित है। यदि कोई सदस्य चाहे तो कृपया सभी घटक लेखों में ये सांचा लगा दें। सधन्यवाद--आशीष भटनागर  वार्ता  ०५:३४, १४ अक्तूबर २००९ (UTC)

क्या सुमित सिन्हा को प्रबन्धक पद से हटाया नहीं जाना चाहिये?

इस गतिमान चर्चा को चौपाल के १५वे पूरालेख से तात्कालिक पृष्ठ पर स्थानान्तरित कर दिया गया है।

मेरे विचार से सुमित सिन्हा अपने पद का दुरुपयोग कर रहे हैं और हिन्दी विकि के लिये घातक साबित होंगे। वे अपने को 'सुपरमैनेजर' मान बैठे हैं और मनमानी कर रहे हैं। इसलिये मेरा निवेदन है कि हिन्दी विकि के समर्पित कार्यकर्ता और प्रबन्धक इस पर अपना मत दें कि सुमित को प्रबन्धक के पद से हटा दिया जाय। कुछ अन्य महत्वपूर्ण कारण भी हैं जिनके कारण उन्हे प्रबन्धक के पद से हटाया जाना चाहिये-

  • बहुत दिनों से उनका योगदान लगभग शून्य है।
  • वे जितना हिन्दी विकि में जोड़ते नहीं, उससे अधिक लेख हटाते हैं।
  • बहुत से उपयोगी लेख हटा दिये हैं और उनके हटाने का कारण पूछने के बावजूद डटकर चुप्पी साध लिया है (मेहरगढ़ संस्कृति)
  • ये बात-बात पर समर्पित कार्यकर्ताओं को धौंस देते रहते हैं।
  • कोई नया व्यक्ति हिन्दी विकि पर आता है तो विकि-संस्कृति के बारे में जानकारी के अभाव में कई बार गलत तरीके से लेख लिखता है। सुमित नवागंतुकों की इस पीड़ा को नहीं समझ पाते और उनके प्रयास के एक झटके में हत्या कर देते हैं। यदि इसके विपरीत उन्हें एक छोटी सलाह दे दी जाती तो वे सदा-सदा के लिये हिन्दी के समर्पित सेवक बन जाते और हिन्दी का बड़ा कल्याण होता।
  • मुझे सुमित की भाषा-क्षमता और तर्कक्षमता पर भी सन्देह है।
  • इनका योगदान अत्यन्त निम्नस्तरीय रहा है।

अनुनाद सिंह ०४:३१, १२ अक्तूबर २००९ (UTC)

अनुनाद जी, आप केवल सुमित जी को क्यों कोस रहे हैं, जबकि वे तो कम से कम शब्दों को बदलने और लेखों की संख्या को घटाने का कार्य रहे हैं, अन्यथा प्रबंधक पद पर ऐसे-ऐसे मूर्धन्य महानुभाव विराजमान हैं, जिन्होंने महिनों से क्या सालों से योगदान नहीं दिया है। उनको तो कोई हटा नहीं पा रहा है और आप सक्रिय प्रबंधक को हटाने की बात कह रहे हैं? आश्चर्य, घोर आश्चर्य! --Charu १०:५४, १२ अक्तूबर २००९ (UTC)

अनुनाद जी, आपके उपरोक्त कथन के बिन्दुओं पर मेरे निम्नलिखित उत्तर हैं :

  • शायद आपने मेरी हटाने की सूचि देख ली है, देखिए मैं वह लेख हटा देता हूं जिनमे {{delete}} का अनुरोध हो या वे [[श्रेणी:शीघ्र हटाने योग्य पृष्ठ]] में लिखे हों , लेखों को हटाने से पहले मैं उनकी सामग्री जांच लेता हूं , कि क्या हटाने का अनुरोध सही है या नही , "Speedy deletion requests" को देख्नना प्रबन्धक के कार्य के तहत आता है ।
क्या लेख हटाने के लिये यही पर्याप्त है कि वहाँ "डीलीट" का बटन लगा हो? क्या यह देखना जरूरी नहीं है कि वह विषय कितना महत्व रखता है? "मेहरगढ़ संस्कृति" को हटाने के बजाय थोड़ी और मेहनत उसके बारे में दो वाक्य लिखा जा सकता था। किसी लेख को मिटा देने के बाद फिर कहना कि " आपको इस पर लेख पुन: लिखना है तो निश्चिन्त होकर लिखें" का क्या मतलब रह जाता है? क्या किसी ने किसी पृष्ट को हटाने का अनुरोध किया था इसलिये आप आँख मूंदकर उसे हटा देंगे? आपने जिन पृष्ठों का हिन्दी विकि में योगदान किया है वे विकिपिडिया पर रहने की कितनी योग्यता रखते हैं? अनुनाद सिंह ०४:२३, १६ अक्तूबर २००९ (UTC)
  • मेहरगढ़ संस्कृति को हटाने का कारण था उसमें लिखा पाठ जो था :" काला {{delete}}" , बस यही लिखा था उस लेख में । डिलीट करने का अनुरोध सदस्य: Martin-vogel के द्वारा लगाया गया था । व उसे हटाने का कारण पूछने वाले को तुरन्त ही बता दिया गया था देखें सदस्य_वार्ता:67.80.215.165
  • मुझे आपके चौथे व पांववे आरोपों का कारण नहीं समझ नही आ रहा कृपया कोई उदाहरण (रिफरेन्स) प्रस्तुत करें व अगर आप मेरे योगदान व वार्ता पृष्ठ को देखें तो आप पाएंहे कि मैने हर सदस्य कि यथासम्भव सहायता की है।
किसी चर्चा के अपने पूरे वेग से चलते समय ही मनमानी करके "अपनी वाली" करने का क्या अर्थ निकाला जाना चाहिये? अनुनाद सिंह ०४:२३, १६ अक्तूबर २००९ (UTC)
आपने महावीर सरन जैन के बहुत से लेख हटाये। मैं भी मानता हूँ कि वे विकिपिडिया की नीति और संस्कृति के हिसाब से ठीक नहीं थे। किन्तु उनमें काफी उपयोगी 'मसाला' भी था जिससे हिन्दी विकी को लाभ होता। "भाषा एवं लिपि का अन्तर" पर लेख क्यों नहीं होना चाहिये? क्या 'हटाने' के बेहतर विकल्प नहीं हैं? - कुछ अंश काट देना, नाम बदल देना, लेख में दो-चार वाक्य जोड़ देना, कुछ बाहरी कड़ियाँ जोड़ देना, अंग्रेजी एवं अन्य विकि के संगत लेखों से जो।द देना आदि अधिक लाभकर होंगे। आपने महावीर सरन जी के इतने सारे लेख हटाये। कितनी बार उनको कुछ समझाया? क्या आपने उनको हतोत्साहित नहीं किया? अनुनाद सिंह ०४:४५, १६ अक्तूबर २००९ (UTC)
  • मेरे योगदान को निम्नस्तरीय कहने का तो आपका कोई हक नही बनता , व यह कह कर आप विकि के एक और नियम (en:Wikipedia:No personal attacks) को तोड़ रहे हैं ।
कोई किसी के लेख को चर्चा के चलते समय ही हटाने का 'फरमान' जारी करके क्या संदेश देता है? "हटाने लायक" और "निम्नस्तरीय" में कौन अधिक अच्छा है? अनुनाद सिंह ०४:२३, १६ अक्तूबर २००९ (UTC)
जब आप "हास्यास्पद" और "बचकाना' शब्दों का उल्लेख करते हैं वह व्यक्तिगत हमले की श्रेणी में नहीं आता? "कायदे से" तो आपको ज्यादा सचेत रहना चाहिये क्योंकि आप 'महाप्रबन्धक' हैं। अनुनाद सिंह ०४:२३, १६ अक्तूबर २००९ (UTC)

अनुनाद जी , कृपया आगे से झूठे आरोप (मेहरगढ़ संस्कृति) लगाने से बचिए --सुमित सिन्हावार्ता ०५:४२, १४ अक्तूबर २००९ (UTC)

सुमित जी, हटाने से अधिक महत्वपूर्ण है नये और महत्व के विषयों पर कुछ लिखना। वह कीजिये, इसी में हिन्दी विकि का उत्थान निहित है। लेख को तो एक बच्चा भी हटा सकता है, उसके लिये पीएचडी होना जरूरी नहीं है। किसी लेख को हटाने का काम दस-बीस दिन या महीनों टाल भी दिया जाय तो कोई आसमान नहीं टूट जायेगा। विशेषकर उन लेखों का, जिनके लेखक वार्ता कर रहे हैं; विनती कर रहे हैं ("हिन्दी निमोनिक्स" को याद कीजिये) अनुनाद सिंह ०४:२३, १६ अक्तूबर २००९ (UTC)
मुझे लगता है कि आपको विकिपीडिया के काम करने कि प्रणाली समझ मे ही नही आ पा रही --सुमित सिन्हावार्ता ०८:४५, २० अक्तूबर २००९ (UTC)
शायद ऐसा नहीं है। मुझे आपकी तानाशाही और उसके साथ हड़बड़ी वाला दर्शन नहीं समझ में आ पा रहा है। कृपया इस पर कुछ प्रकाश डाले। मुझे लगता है कि 'सुपरऐडमिनिस्ट्रेटरशिप' के चक्कर में हिन्दी विकि की क्षति हो रही है। अगर आप के 'दनादन हटाने' वाले दर्शन पर अंकुश नहीं लगाया गया तो आप अकेले ही हिन्दी विकि को शून्य के भी नीचे ले जाने की क्षमता रखते हैं। अनुनाद सिंह ०९:३१, २० अक्तूबर २००९ (UTC)

अक्टूबर की समस्या

पाठ वार्ता:अक्टूबर को भेजा गया।--आशीष भटनागर  वार्ता  ०२:३६, ३ नवंबर २००९ (UTC)

अन्यथा न लें तो॥।

अन्यथा न लें तो एक निवेदन है। इस पृष्ठ पर लिखी गई विकिपीडिया किसी को नौकरी पर नहीं रखती; न ही विकिपीडिया पैसों की अपेक्षा करती है। परंतु, आपके दान का स्वागत करते हैं। में स्वागत करते हैं को करती है कर दें। अनिरुद्ध १८:२१, १४ अक्तूबर २००९ (UTC)

इसमें अन्यथा की कोई बात नहीं है। सुधार किया गया है। अनिरुद्ध जी उसे फिर एक बार देख सकते हैं। और आगे भी ऐसे सुधार और सुझावों का हार्दिक स्वागत है।--आशीष भटनागर  वार्ता  १५:३५, १५ अक्तूबर २००९ (UTC)

हाँ अब ठीक है। अनिरुद्ध ००:५७, १६ अक्तूबर २००९ (UTC)

आवश्यक लेख

विकिपीडिया:समाज मुखपृष्ठ, यह पृष्ठ मुखपृष्ठ से जुड़ा है एवं लगभग पूरा ही अंग्रेजी में है इसका अनुवाद कोई सज्जन कर सकें तो बहुत अच्छा होगा।--Munita Prasadवार्ता ११:३४, १५ अक्तूबर २००९ (UTC)

दीप पर्व

हिंदी विकिपिडिया परिवार को दिवाली और छठ की भी शुभकामनाएं।। सात दिनों की छुट्टी पर मैं अपने गाँव जा रहा हूँ जहाँ इंटरनेट क्या अभी बिजली भी नहीं पहुँची है। तबतक चर्चा और योगदान के सुख से वंचित ही रहूँगा। अनिरुद्ध

सभी को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं. --Charu १४:३९, १६ अक्तूबर २००९ (UTC)

सभी को दीप पर्व के पावन अवसर पर हार्दिक मंगल कामनाएँ !!-- डॉ॰ जगदीश व्योम १३:०१, १६ अक्तूबर २००९ (UTC)

धन्यवाद आपको भी दीपावली की ढेरों मंगलकामनाएँ!!--Munita Prasadवार्ता १९:२७, १६ अक्तूबर २००९ (UTC)

सभी विकिपीडियाकार साथियों को दीपोत्सव की बहुत बहुत मंगलकामनाएं ! -Hemant wikikosh ०३:५७, १७ अक्तूबर २००९ (UTC)

मेरी ओर से भी सभी को दीपावली की मंगल कामनाएँ।--सुरुचि १३:००, १७ अक्तूबर २००९ (UTC)

दक्षिण अमेरिका

मैं अगले तीन दिनों तक दक्षिण अमेरिका पर काम करूंगीँ। यह एक आज का आलेख है एवं इसे एक बड़ा एवं अच्छा लेख बनाने की आकांक्षा रखती हूँ। सभी का सहयोग अपेक्षित है। धन्यवाद।--Munita Prasadवार्ता १९:२५, १६ अक्तूबर २००९ (UTC)

बधाई

सौरभ भारती को हिन्दी विकिपीडिया पर प्रबंधक बनाया गया है, एतदर्थ सौरभ को हार्दिक बधाई। -- डॉ॰ जगदीश व्योम ०४:१९, १९ अक्तूबर २००९ (UTC)

मेरी तरफ से भी सौरभ जी को बहुत-बहुत बधाई। इनका तकनीकी ज्ञान हम सभी सक्रिय सदस्यों से उन्नत स्तर का है। ये वह पहले व्यक्ति हैं जिन्होंने हिन्दी विकिपीडिया को इसका पहला बॉट प्रदान किया। इनके प्रबंधक बनने से हमारी उम्मीदें बढ़ गई हैं कि शायद हमें भी अंग्रेजी विकिपीडिया की ही तरह नए नए उपयोगी उपकरण उपलब्ध होंगे।--Munita Prasadवार्ता ०४:५०, १९ अक्तूबर २००९ (UTC)
सौरभ को नये प्रबन्धक के रूप में मेरी तरफ से भी बहुत-बहुत बधाई! हिन्दी विकिपीडिया पर आपके लिये बहुत से चुनौतीपूर्ण काम हैं। इनमें से सबसे महत्वपूर्ण है कि हिन्दी विकि पर स्थापित ट्रान्सलिटरेशन टूल फायरफाक्स ३ पर दिखता ही नहीं है। इसे ठीक करने की महती आवश्यकता है। यह औजार मराठी विकि, नेपाली विकि और संस्कृत विकि - सब जगह काम कर रहा है। यहाँ तक कि हिन्दी विकिकोश पर भी काम कर रहा है किन्तु हिन्दी विकि पर पता नहीं क्यों गायब है (फायरफाक्स ३ के लिये) अनुनाद सिंह ०५:०३, १९ अक्तूबर २००९ (UTC)
मेरी ओर से भी बधाईयाँ। रोहित रावत ०५:२९, १९ अक्तूबर २००९ (UTC)
बहुत बहुत धन्यवाद। समय मिलते ही मैं पुनः कार्य में जुटता हूँ। -- सौरभ भारती (वार्ता) ०९:३५, १९ अक्तूबर २००९ (UTC)

अरे वाह! ये हुइ न कुछ बात। अनिरुद्ध २०:५४, २० अक्तूबर २००९ (UTC)

कार्यक्रम

  • हिन्दी विकिपीडिया पर जो लोग कार्य कर रहे हैं, वे सब एक जगह मिलकर कुछ विचार विमर्श कर सकें, इस आशय से दिल्ली में एक कार्यक्रम की योजना है। कृपया वे लोग जो दिल्ली या दिल्ली के आस-पास रह रहे हैं और कार्यक्रम में आ सकें वे अपना ईमेल पता दें ताकि कार्यक्रम सुनिश्चित किया जा सके। कार्यक्रम दिसम्बर में किसी तिथि को रहेगा। कार्यक्रम में कुछ हिन्दी विद्वानों व हिन्दी प्रेमियों को भी आमंत्रित किया जाएगा। jagdishvyom@gmail.com

-- डॉ॰ जगदीश व्योम ०६:३७, १९ अक्तूबर २००९ (UTC)

मै तैय्यार हूँ । आदेश करें --राजीवमास ०६:२९, २० अक्तूबर २००९ (UTC)
डॉ॰साहब की ओजना सराहनीय है, और सच कहूं तो ये बहुत समय से मेरे भी मन में थी, किन्तु एक बार राजीव जी और स्वयं मैं पूर्णिमा जी से मिले थे, उसके बाद ये कार्यक्रम बन ही नहीं पाया। इस बारे में हम लोग दिल्ली निवासी विकिपीडियंस का एक समूह बनायें तो बेहतर होगा। ये सभी सदस्य अपने सदस्य पृष्ठ पर बेबल का एक संदूक भी लगा सकते हैं< जिसके द्वारा हम श्रेणी:दिल्ली निवासी विकिपीडियन में जाकर देख भी सकते हैं कि कौन कौन लोग उसके सदस्य हैं, एवं अन्य कोई सदस्य यदि कभी दिल्ली आये, तो इस सभी को सूचित कर मिल सकता है। इस प्रकार सभी सदय अपना ई-मेल, निवास स्थान का निकटवर्ती लैंडमार्क, दिल्ली का भाग आदि यहां बता सकते हैं।
मेरा मेल है:ashishbhatnagar00@yahoo.com और निवास स्थान दक्षिण दिल्ली में AIIMS के निकट है।--आशीष भटनागर  वार्ता  १४:०७, २३ अक्तूबर २००९ (UTC)

सदस्य:Debashish

मैं आप पर या बंगाली समुदाय पर कोई व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं कर रहा हूँ, लेकिन मैंने यह अक्सर देखा है की बंगाली लोग हिन्दू धर्म के विरोध में अधिक होते है और उसका एक उदाहरण है आपके द्वारा बनाया गया लेख हिंदू धर्म की आलोचना जिसके पक्ष में आपने एकमात्र तर्क यह दिया है "I am adding this page as a response to the page इस्लाम_की_आलोचना." मैं हिन्दू धर्म की आलोचना में लिखे गए लेख के विरोध में कुछ नहीं कह रहा हूँ लेकिन केवल मुस्लिम तुष्टीकरण करने के लिए हमारे देश में न जाने क्या लत लग गई है कि यदि इस्लाम की सही आलोचना भी की जाएगी तब भी हिन्दू धर्म की आलोचना करना ज़रूरी है और यह मानसिकता विशेषरूप से बंगालियों में अधिक पाई जाती है (ऐसा मेरा निजी अनुभव है मैं गलत भी हो सकता हूँ)। मैंने और भी कई इन्टरनेट फ़ोरमों पर देखा है जैसे की ऑर्कुट पर भी कुछ समुदायों का मैं सदस्य हूँ और उन समुदायों पर बंगाली ही हिन्दू धर्म और हिन्दी भाषा के विरोध में (तमिलो के बाद) सबसे अधिक लिखते है। यदि आपने केवल तुष्टीकरण ना करके और बिना हिन्दू धर्म के विरोध में जाकर लेख लिखा होता तो लेख का होना वाकई सार्थक होता, इसलिए मेरा आपसे अनुरोध है की तुष्टीकरण को केवल राजनैतिक दलो के लिए रहने दें। और आपके द्वारा किया गया काम तुष्टीकरण है इसका एक प्रमाण यह भी है की आपने हिन्दू धर्म की आलोचना वाले लेख को तो बड़े जोर शोर और गर्व से बना दिया लेकिन आपने इस्लाम की आलोचना वाले लेख पर एक पंक्ति तक नहीं लिखी है। यदि आपने दोनों ही लेखों पर कुछ न कुछ लिखा होता तो अवश्य यह लगता की आपने तुष्टीकरण नहीं किया है लेकिन अफ़सोस। रोहित रावत १३:५७, १९ अक्तूबर २००९ (UTC)

रोहित जी, यदी हिंदू धर्म की आलोचना को विकि पर लिखा गया है तो इतना उबाल क्यों , कृपया व्यक्तिगत टिप्पणी करने से बचिए , यदी आपको लगता है कि यह लेख गलत जानकारी दे रहा है तो कृपया आप तत्थ प्रस्तुत करिए , विकि किसी भी व्यक्ति को कोई भी लेख बनाने कि अनुमति देता है , व वह सभी को उस लेख के तत्थों पर प्रश्न उठाने कि अनुमति भी देता है । यह किसी की भी इच्छा पर निर्भर करता है कि वह किस लेख में योगदान करना चाहता है, मेरा कहने का मतलब है कि बंगालियों के बारे में कहना छोड़ कर कृपया लेख के तत्त्थों के बारे में कहिए। यदी आप देबाशीश जी कि वार्ता को पढें तो पाएंगे कि उनका कहना है कि हिंदू धर्म हि नहीं इस्लाम कि आलोचना का लेख भी हिन्दी विकि में नही होना चाहिए --सुमित सिन्हावार्ता ०९:०७, २० अक्तूबर २००९ (UTC)
सुमित जी, व्यक्तिगत बात तब होती है जब किसी पर व्यक्तिगत आक्षेप हो लेकिन यहाँ देबाशीष के कार्य की आलोचना हो रही है। उनकी टिप्पणी ही नकारात्मक है। यानी लेख किसी विकास के लिए नहीं विरोध के लिए लिखा जा रहा है। दूस