विकिपीडिया:चौपाल/पुरालेख 31

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Archive
पुरालेख

यह पृष्ठ विकिपीडिया चौपाल की वार्ताओं का पुरालेख पृष्ठ है। नवीनतम वार्ताओं के लिए देखें विकिपीडिया:चौपाल


अनुक्रम

नमस्कार[संपादित करें]

मे राहुल कौशिक एक बार फिर संपादन करने कई लिए हाजिर हूँ।

आपका हार्दिक स्वागत है। Hindustanilanguage (वार्ता) 09:00, 1 जनवरी 2013 (UTC)

Spoken Wikipedia[संपादित करें]

नमस्ते,

We are planning to record Important Health related articles from Hindi Wikipedia for Spoken Wikipedia Project, thorugh which visually impaird as well as illeterate people can get access to Wikipedia Knowledge.

Dengue - Hindi Article (Introduction & Reasons)

इस माध्यम से अशिक्षित तथा दृष्टिहीन लोगो को मदत हो सकती है| इस विषय पार आप सबका मार्गदर्शन मददगार होगा| कृपया अपने विचार संवाद पृष्ठ पर दर्ज करे|

आपका सहयोग और मार्गदर्शन हमारे लीये प्रेरणादायी रहेगा|

धन्यवाद AbhiSuryawanshi (वार्ता) 22:08, 2 जनवरी 2013 (UTC)

बेलसंड[संपादित करें]

मैंने इस निबंद में केवल सुधारने की कोशिश की है। परन्तु शीघ्र हटाने का नामांकन मुझे लेखक के रूप में मिला है। क्यों? Hindustanilanguage (वार्ता) 12:17, 6 जनवरी 2013 (UTC).

आपको लेखक के रुप मे मैने नामांकित किया था क्योकि वास्त्विक लेखक यहा सदस्य नही है। 122.177.220.209 --Ansh.prat (वार्ता) 12:32, 6 जनवरी 2013 (UTC)

रमेश चंद्र जैन[संपादित करें]

Ashish Gaikwad जी ने मई 2011 में रमेश चंद्र जैन के अनुवाद की याचिका के रूप में एक निबंद का लिंक शुरू किया। मेरा प्रबंधकों / सदस्यों से या तो ऐसा करने या इस लिंक ही को हटाने की अपील है। Hindustanilanguage (वार्ता) 13:37, 6 जनवरी 2013 (UTC).

YesY पूर्ण हुआ deleted by Bill william compton. Hindustanilanguage (वार्ता) 05:37, 7 जनवरी 2013 (UTC).

Be a Wikimedia fundraising "User Experience" volunteer![संपादित करें]

Thank you to everyone who volunteered last year on the Wikimedia fundraising 'User Experience' project. We have talked to many different people in different countries and their feedback has helped us immensely in restructuring our pages. If you haven't heard of it yet, the 'User Experience' project has the goal of understanding the donation experience in different countries (outside the USA) and enhancing the localization of our donation pages.

I am (still) searching for volunteers to spend some time on a Skype chat with me, reviewing their own country's donation pages. It will be done on a 'usability' format (I will ask you to read the text and go through the donation flow) and will be asking your feedback in the meanwhile.

The only pre-requisite is for the volunteer to actually live in the country and to have access to at least one donation method that we offer for that country (mainly credit/debit card, but also real time banking like IDEAL, E-wallets, etc...) so we can do a live test and see if the donation goes through. **All volunteers will be reimbursed of the donations that eventually succeed (and they will be very low amounts, like 1-2 dollars)**

By helping us you are actually helping thousands of people to support our mission of free knowledge across the world. If you are interested (or know of anyone who could be) please email ppena@wikimedia.org. All countries needed (excepting USA)!!

Thanks!

Pats Pena
Global Fundraising Operations Manager, Wikimedia Foundation

Sent using Global message delivery, 20:56, 8 जनवरी 2013 (UTC)

Wikimedia sites to move to primary data center in Ashburn, Virginia. Read-only mode expected.[संपादित करें]

(Apologies if this message isn't in your language.) Next week, the Wikimedia Foundation will transition its main technical operations to a new data center in Ashburn, Virginia, USA. This is intended to improve the technical performance and reliability of all Wikimedia sites, including this wiki. There will be some times when the site will be in read-only mode, and there may be full outages; the current target windows for the migration are January 22nd, 23rd and 24th, 2013, from 17:00 to 01:00 UTC (see other timezones on timeanddate.com). More information is available in the full announcement.

If you would like to stay informed of future technical upgrades, consider becoming a Tech ambassador and joining the ambassadors mailing list. You will be able to help your fellow Wikimedians have a voice in technical discussions and be notified of important decisions.

Thank you for your help and your understanding.

Guillaume Paumier, via the Global message delivery system (wrong page? You can fix it.). 15:19, 19 जनवरी 2013 (UTC)

Picture of the Year voting round 1 open[संपादित करें]

Dear Wikimedians,

Wikimedia Commons is happy to announce that the 2012 Picture of the Year competition is now open. We're interested in your opinion as to which images qualify to be the Picture of the Year for 2012. Voting is open to established Wikimedia users who meet the following criteria:

  1. Users must have an account, at any Wikimedia project, which was registered before Tue, 01 Jan 2013 00:00:00 +0000 [UTC].
  2. This user account must have more than 75 edits on any single Wikimedia project before Tue, 01 Jan 2013 00:00:00 +0000 [UTC]. Please check your account eligibility at the POTY 2012 Contest Eligibility tool.
  3. Users must vote with an account meeting the above requirements either on Commons or another SUL-related Wikimedia project (for other Wikimedia projects, the account must be attached to the user's Commons account through SUL).

Hundreds of images that have been rated Featured Pictures by the international Wikimedia Commons community in the past year are all entered in this competition. From professional animal and plant shots to breathtaking panoramas and skylines, restorations of historically relevant images, images portraying the world's best architecture, maps, emblems, diagrams created with the most modern technology, and impressive human portraits, Commons features pictures of all flavors.

For your convenience, we have sorted the images into topic categories. Two rounds of voting will be held: In the first round, you can vote for as many images as you like. The first round category winners and the top ten overall will then make it to the final. In the final round, when a limited number of images are left, you must decide on the one image that you want to become the Picture of the Year.

To see the candidate images just go to the POTY 2012 page on Wikimedia Commons.

Wikimedia Commons celebrates our featured images of 2012 with this contest. Your votes decide the Picture of the Year, so remember to vote in the first round by January 30, 2013.

Thanks,
the Wikimedia Commons Picture of the Year committee

This message was delivered based on m:Distribution list/Global message delivery. Translation fetched from: commons:Commons:Picture of the Year/2012/Translations/Village Pump/en -- Rillke (वार्ता) 23:49, 22 जनवरी 2013 (UTC)

ज्ञानसन्दूक अवस्थापन[संपादित करें]

इस साँचें के प्रयोग में शायद अब कुछ परेशानी आ रही है। काफी प्रयासों के बाद भी, इसे लेख में सहेजनें के बाद भी लेख में कोई परिवर्तन दिखाई नहीं देता है। कृपया यहाँ देखें सदस्य:Rahul07/प्रयोगपृष्ठ और इसी पृष्ठ का सम्पादन पृष्ठ देखिये। कृपया इस परेशानी का समाधान निकालिये। धन्यवाद Rahul07 (वार्ता) 08:49, 27 जनवरी 2013 (UTC)Rahul07

समस्या की ओर ध्यानाकर्षण के लिए धन्यवाद राहुल जी! इस त्रुटि के लिए ज़िम्मेदार मैं हूँ। मैंने ही साँचे में अंग्रेज़ी विकि से कोड कॉपी किया था। दिक्कत नए कोड के द्वारा देवनागरी-रोमन संख्याओं को परिवर्तन करने में अक्षम होने में है। मैंने आपके प्रयोगपृष्ठ पर कुछ आँकडों को देवनागरी के बजाय रोमन लिपि में बदलकर उसे सही किया है। अगर किसी और सदस्य के पास कोई बेहतर सुझाव है तो मुझे खुशी होगी। लवी सिंघल (वार्ता) 17:59, 27 जनवरी 2013 (UTC)

Help turn ideas into grants in the new IdeaLab[संपादित करें]

Wikimedia Foundation RGB logo with text.svg

I apologize if this message is not in your language. Please help translate it.

  • Do you have an idea for a project to improve this community or website?
  • Do you think you could complete your idea if only you had some funding?
  • Do you want to help other people turn their ideas into project plans or grant proposals?

Please join us in the IdeaLab, an incubator for project ideas and Individual Engagement Grant proposals.

The Wikimedia Foundation is seeking new ideas and proposals for Individual Engagement Grants. These grants fund individuals or small groups to complete projects that help improve this community. If interested, please submit a completed proposal by February 15, 2013. Please visit https://meta.wikimedia.org/wiki/Grants:IEG for more information.

Thanks! --Siko Bouterse, Head of Individual Engagement Grants, Wikimedia Foundation 20:27, 30 जनवरी 2013 (UTC)

Distributed via Global message delivery. (Wrong page? Correct it here.)

मेरा लेख्[संपादित करें]

मैने जगतगुरु श्री ब्रह्मानन्द लेख लिखा था वो क्यों हटाया गया कृपया बतायें?

उत्तर मेरे वार्ता पृष्ठ पर।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 16:36, 8 फ़रवरी 2013 (UTC)

हालांकि मैने वो लेख नहीं हटाया पर जिसने भी उसे मिटाया है वो इसलिए कि विकी कोई खुद के प्रचार या विज्ञापन का साधन नहीं है।Dinesh smita (वार्ता) 09:30, 3 फ़रवरी 2013 (UTC)

Permission to perform actions[संपादित करें]

Hi All, I am from Nagpur, Maharashtra and my home wiki is Urdu Wikipedia. Here I would like to generate database reports from toolserver by my bot, like statistics of user edits, adding youtube template removing youtube URLs in artilcels, list of empty categories, uncat categories, active users, IPs activity and many more. Will Hindi wiki community be interested in it and allow me to perform these actions? मुहम्मद शुऐब (वार्ता) 09:55, 8 फ़रवरी 2013 (UTC)

This page is not meant for this kind of request or discussion. Please direct your request to विकिपीडिया:बॉट/अनुमोदन हेतु अनुरोध. And, if you know Hindi then I would advice you to use it in written communication. Thanks.<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 16:43, 8 फ़रवरी 2013 (UTC)

Wikidata phase 1 (language links) coming to this Wikipedia[संपादित करें]

Wikidata-logo-en.svg

Sorry for writing in English. I hope someone can translate this locally.

Wikidata has been in development for a few months now. It is now time for the roll-out of the first part of it on your Wikipedia. Phase 1 is the support for the management of language links. It is already being used on the Hungarian, Hebrew, Italian and English Wikipedias. The next step is to enable the extension on all other Wikipedias. We have currently planned this for March 6.

What is Wikidata?[संपादित करें]

Wikidata is a central place to store data that you can usually find in infoboxes. Think of it as something like Wikimedia Commons but for data (like the number of inhabitants of a country or the length of a river) instead of multimedia. The first part of this project (centralizing language links) is being rolled out now. The more fancy things will follow later.

What is going to happen?[संपादित करें]

Language links in the sidebar are going to come from Wikidata in addition to the ones in the wiki text. To edit them, scroll to the bottom of the language links, and click edit. You no longer need to maintain these links by hand in the wiki text of the article.

Where can I find more information and ask questions?[संपादित करें]

Editors on en:wp have created a great page with all the necessary information for editors and there is also an FAQ for this deployment. Please ask questions you might have on the FAQ’s discussion page.

I want to be kept up to date about Wikidata[संपादित करें]

To stay up-to-date on everything happening around Wikidata please subscribe to the newsletter that is delivered weekly to subscribed user’s talk pages. You can see previous editions here.

--Lydia Pintscher 16:07, 21 फ़रवरी 2013 (UTC)

Distributed via Global message delivery. (Wrong page? Fix here.)
Translated into Hindi below by Hunnjazal

विकिडाटा प्रथम चरण (भाषा कड़ियाँ) इस विकिपीडिया पर आ रहा है[संपादित करें]

Wikidata-logo-en.svg

पिछले चंद महीनों से विकिडाटा पर निर्माण-कार्य चल रहा है। अब इसे आपके विकिपीडिया पर चालू करने का समय आ गया है। विकिडाटा के पहले चरण में भाषा-कड़ियों की देख-रेख इसके अधीन डाली जाएगी। यह प्रयोग हंगेरियाई, इब्रानी, इताल्वी और अंग्रेज़ी विकिपीडियाओं पर आरम्भ हो चुका है। अगला क़दम इसे सभी अन्य विकिपीडियाओं पर चलाना है। इसके लिए हमने ६ मार्च की तिथि निर्धारित की हुई है।

विकिडाटा क्या है?[संपादित करें]

विकिडाटा मानक जानकारी व आंकड़ों को एक स्थान में रखने की जगह है। यह जानकारी अक्सर साँचो और ज्ञानसंदूकों में डाली जाती है। यह विकिमेडिया कॉमन्स की तरह है, लेकिन जहाँ कॉमन्स में चित्र, ध्वनियाँ और विडियो रखे जाते हैं, वहाँ विकिडाटा पर सामान्य आंकड़े इत्यादी रखे जाएँगे, जैसे कि किसी देश की जनसंख्या या किसी नदी की लम्बाई। इस परियोजना का पहला भाग (भाषा-कड़ियों का केन्द्रीकरण) अब चालू किया जा रहा है। बाक़ी चीज़ें बाद में की जाएँगी।

क्या होने वाला है?[संपादित करें]

पन्नों के बाएँ किनारे में आने वाले बहुभाषीय जोड़ अब लेख की सामग्री के अलावा विकिडाटा से आया करेंगे। उनमें बदलाव करने के लिये, विकिडाटा में जाकर भाषा-जोड़ों के नीचे जाईये और सम्पादन (एडिट) जोड़ पर क्लिक करके उनमें फेर-बदल करिये। अब इन बहुभाषा जोड़ों को ख़ुद काम करके लेखों में ठीक करने की कोई ज़रूरत नहीं होगी।

मैं और जानकारी कहाँ ढूंढू और प्रश्न कहाँ पूछूँ?[संपादित करें]

अंग्रेज़ी विकिपीडिया के सम्पादकों ने सम्पादकों के लिये एक बहुत अच्छा जानकारी लेख बनाया है और शुरु होने वाले प्रयोग के लिये कई सामान्य सवाल-जवाब का पन्ना भी उपलब्ध है। अगर कोई प्रश्न हो तो इसके चर्चा पृष्ठ पर पूछिये।

मुझे विकिडाटा के बारे में नई जानकारी देते रहिये[संपादित करें]

अगर चाहें तो विकिडाटा-सम्बन्धी समाचार से अवगत रहने के लिये हमारे साप्ताहिक समाचारपत्र प्राप्त करने वालों की सूची में अपना नाम दर्ज कीजिये। यह हर हफ़्ते आपके चर्चा-पृष्ठ में डाल दिया जाएगा। इसके पिछले अंक आपको यहाँ मिलेंगे।

--लिडिया पिन्शर 16:07, 21 फ़रवरी 2013 (UTC) (अंग्रेज़ी→हिन्दी अनुवादक: --Hunnjazal (वार्ता) 16:20, 5 मार्च 2013 (UTC))

Wikidata phase 1 (language links) live on this Wikipedia[संपादित करें]

Wikidata-logo-en.svg

Sorry for writing in English. I hope someone can translate this locally. If you understand German better than English you can have a look at the announcement on de:Wikipedia:Kurier.

As I annonced 2 weeks ago, Wikidata phase 1 (language links) has been deployed here today. Language links in the sidebar are coming from Wikidata in addition to the ones in the wiki text. To edit them, scroll to the bottom of the language links, and click edit. You no longer need to maintain these links by hand in the wiki text of the article.

Where can I find more information and ask questions? Editors on en:wp have created a great page with all the necessary information for editors and there is also an FAQ for this deployment. It'd be great if you could bring this to this wiki if that has not already happened. Please ask questions you might have on the FAQ’s discussion page.

I want to be kept up to date about Wikidata To stay up-to-date on everything happening around Wikidata please subscribe to the newsletter that is delivered weekly to subscribed user’s talk pages.

--Lydia Pintscher 22:58, 6 मार्च 2013 (UTC)

Distributed via Global message delivery. (Wrong page? Fix here.)

शिकायत[संपादित करें]

मुझे विकी पर उपस्थित स्वयंभू प्रबंधकों के खिलाफ शिकायत करनी है जो खुद को बहुत बुद्धिमान समझते हैं। उनमे से एक कोई SeanZCampbell हैं, जो बेवजह लेखों में बदलाव कर रहे हैं। कृपया इन्हें उत्पात मचाने से रोका जाये और अंग्रेजी के चश्में से दुनिया देखने वालों को अनावश्यक रूप से हमारी भाषा के साथ खिलवाड करने से भी रोका जाये।Dinesh smita (वार्ता) 13:03, 7 मार्च 2013 (UTC)

कुछ उदाहरण भी दीजिए जिससे दूसरों को आपकी शिकायत समझने में आसानी हो।-- अनुनाद सिंहवार्ता 14:02, 7 मार्च 2013 (UTC)

वानस्पतिक नामों की सूची[संपादित करें]

मेरे द्वारा बनाए गए वानस्पतिक नामों की सूची को हटा दिया गया है। मुझे इस पर कड़ी आपत्ति है। क्या वानस्पतिक नाम किसी के कॉपीराइट हैं? नहीं। हुन्जाल और विलियम यह बताएँ कि यदि विकिपीडिया पर वानस्पतिक नामों की सूची बनानी हो तो उसका रूप क्या हो ताकि कॉपीराइट का उल्लंघन न हो। -- अनुनाद सिंहवार्ता 09:14, 12 मार्च 2013 (UTC)

अनुनाद जी, जिस जालपृष्ठ से आपने सूची बनाई थी उसके स्वामी ने विकिमीडिया पर लिखित शिकायत दर्ज की थी। सदस्य:FreeRangeFrog, जो कि ओटीआरएस स्वयंसेवक हैं, उन्होंने हिन्दी विकि को इसकी सूचनी दी थी। इस पर प्रतिक्रिया करते हुए हुन्नजज़ल जी ने मुझे सूचित करा तथा उसके बाद मैने लेख से कॉपीराइट उल्लंघन करने वाली सामग्री हटाई। चूँकि लेख के इतिहास में सूची दिख रही थी इसलिए मुझे इसका पुनः निर्माण करना पड़ा।
अगर आप सूची बनाना चाहते हैं तो सूची को कहीं से कॉपी पेस्ट ना करें। अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ पढ़ें। हर जालपृष्ठ के सबसे नीचे कॉपीराइट लाईसेंस की सूचना होती है, आप वहाँ देख सकते हैं कि क्या उस स्थान से सामग्री सीधे तौर पर उठाई जा सकती है या नहीं। विकिस्रोत की अधिकतर सामग्री सार्वजनिक डोमेन में है आप वहाँ से सीधे तौर पर सामग्री ले सकते हैं।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 13:08, 12 मार्च 2013 (UTC)
आपका 'उत्तर' किसी भी प्रश्न का उत्तर नहीं देता। आपने मुझे अपनी बात रखने का एक दिन का भी समय क्यों नहीं दिया? आप कैसे सन्तुष्ट हो गए कि कॉपीराइट का उल्लंघन हुआ है? कोई किसी जगह भौतिकी के सौ सूत्र लिखे और उन्हें स्वयं 'कॉपीराइट' घोषित कर दे तो कल से लोग अपनी साइटों पर भौतिकी के सूत्र लिखना बन्द कर देंगे (या उसे 'बदलकर' लिखेंगे)? उस सूची में क्या था- कुछ वनस्पतियों के हिन्दी नाम और उनके वानस्पतिक नाम। इनमें से किछी को भी बदला नहीं जा सकता। मैं 'गोभी' के जगह पर 'सरसो' नहीं लिख सकता और 'citra indica' के जगह पर 'citra americana' नहीं। इसीलिए पूछा था कि आपको यह सूची बनानी होती तो उसका रूप कैसा होता?
अब आपकी सलाह कि 'आपको सूची बनानी है तो सूची को कहीं से कॉपी-पेस्ट न करें' । महानुभाव 'कॉपी-पेस्ट' करना अपने-आप में कोई अपराध नहीं है, 'कॉपीराइट' का उलंघन नहीं होना चाहिए। और आपको यही बताना है कि यहाँ पर कॉपीराइट का उल्लंघन कैसे हो गया।-- अनुनाद सिंहवार्ता 04:13, 13 मार्च 2013 (UTC)
यह कोई मज़ाक़ है क्या? सामग्री के मालिक (एक ऑस्ट्रेलियाई विश्वविद्यालय) ने विकिपीडिया से चोरी की शिकायत करी थी। और दोनों की तुलना से स्पष्ट है कि आपने चोरी की थी। आपकी वार्ता पन्ने पर चूँ तक नहीं आई है। अगर सच्चे हैं तो आकर शिकायत करें। बिल या मैं इसे आगे ले जाएँगे। अगर आप ग़लत निकले तो दण्ड भुगतने को तैयार रहें। यह क़ानूनन जुर्म है। इसमें जुर्माना या जेल होती है और न्यायिक केस तो ज़रूर ही बनेगा। --Hunnjazal (वार्ता) 06:57, 19 मार्च 2013 (UTC)

'मदर टेरेसा' नामक लेख पर बाहरी कड़ी[संपादित करें]

मैने मदर टेरेसा नामक लेख पर बाहरी कड़ी के अन्तर्गत एक कड़ी जोड़ी थी। उसे निम्नलिखित कारण देकर बिल बिलियम ने हटा दिया गया-

विश्वसनीय स्रोत नहीं; विकि पर निष्पक्ष स्रोतों की कड़ियाँ दी जाती हैं।

बिल जी कृपया बताएँ कि 'विश्वसनीय स्रोत' किसे कहते हैं? क्या उसकी कोई सूची है? -- अनुनाद सिंहवार्ता 09:24, 12 मार्च 2013 (UTC)

विश्वसनीय स्रोतो कि कोई सूची नहीं है। किसी भी स्रोत की विश्वनीयता परखी जाती है। किसी विश्वसनीय स्रोत के निम्नलिखित लक्षण होते हैं:
  1. सुव्यवस्थित, जैसे दैनिक जागरण, आजतक, अमर उजाला, आदि।
  2. निष्पक्षता; आपके द्वारा दी गई वेबसाइट के सबसे ऊपर ही "भारतीय स्वाभिमान और शौर्य का उदघोष" लिखा हुआ है। ऐसे में कोई कैसे इस जालपृष्ठ की सामग्री पर विश्वास कर सकता है। अवश्य ही इस स्रोत की सामग्री भारतीय राष्ट्रवाद से प्रेरित होगी। इसी प्रकार इस वेबसाइट की सामग्री को निष्पक्ष नहीं कहा जा सकता, चूँकि यह ब्रिटिश राष्ट्रवाद से प्रेरित है।
  3. स्रोत का संचालक। स्रोत वेबसाइट का संचालन किस के द्वारा किया जा रहा है? क्या वह कोई एक ही व्यक्ति है, जो अपने व्यक्तिगत विचार साइट पर छापता है या कोई एक समूह जिसकी राष्ट्रीय, अन्तराष्ट्रीय स्तर पर समीक्षा हो चुकि है।
  4. अन्य पहलू, जैसे स्रोत में इस्तेमाल हुई भाषा का स्तर। उदहारण के तौर पर आपके द्वारा दिए गए लिंक में मैं ही कमियाँ निकाल सकता हूँ, और मेरी तो हिन्दी भी आप जैसे सदस्यों के समक्ष कुछ नहीं है।
अधिक जानकारी के लिए यह पृष्ठ पढ़ें। वैसे अगर आपको किसी स्रोत की विश्वसनीयता की जाँच करानी है तो आप यहाँ निवेदन कर सकते हैं<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 13:34, 12 मार्च 2013 (UTC)
जब इसके लिए स्पष्ट गाइडलाइन नहीं है तो यह आपकी मनमानी दर्शाता है। यह कार्य आपकी 'बदला लेने की भावना' दर्शाता है क्योंकि वहीं पर एक लिंक जिसे आपने बचाकर रखा है उसकी विश्वसनीयता क्या है? सारी बातों को किनारे कर दें तो जो समाचार इस लिंक में था वह किसी 'स्वतंत्र अन्तरराष्ट्रीय एजेंसी' का एक 'शोध' था। इस पत्र ने केवल यह किया कि उसे हिन्दी में छापा। उस एजेंसी ने मदर टेरेसा पर एक महत्वपूर्ण शोध किया जो अनेकानेक पत्रों और टीवी चैनेलों पर प्रसारित हुआ। यहाँ 'स्रोत' से मतलब यह एजेंसी है, न कि उसको हिन्दी में छापने वाला पत्र। -- अनुनाद सिंहवार्ता 03:59, 13 मार्च 2013 (UTC)
आपका दिमाग हमेशा गलत जगह ही क्यों चलता है? किसी की विश्वसनीयता ज्ञात करने के लिए कॉमनसेंस की आवश्यकता होती है जिसे आप कभी इस्तेमाल नहीं करते या फ़िर शायद आपके पास है ही नहीं। लेखों में हमेशा पक्षपाती बदलाव करना और दूसरे सदस्यो पर आकर्मण करना आपकी आदत रही है। मैं आपको चेतावनी देता हूँ कि इन गंदी आदतों को सुधारें। मेरे मन में कोई बदला लेने की भावना नहीं है, मैं इससे ऊपर हूँ। आपके द्वारा किया गया बदलाव, जिसमें आपने लेख में कड़ी दी थी, उस पर मेरी 'हाल में हुए परिवतर्न' में नज़र पड़ी थी तथा वहीं से मैने उसे पूर्ववत करा था, मुझे नहीं पता कि वहाँ ओर कितनी कड़ियाँ हैं। परन्तु शायद आपने यह सोचा ही नहीं होगा क्योंकि आपको यही लगता है कि मैं आपसे यहाँ बदला ले रहा हूँ और आपके, हिन्दी के, भारत के विरुद्ध कोई षड्यंत्र रच रहाँ हूँ। भगवान आपको सद्बुद्धि दे। रही बात "स्वतंत्र अन्तरराष्ट्रीय एजेंसी के शोध" की तो उसके लिए फ़िर आपको इस 'स्वतंत्र अन्तरराष्ट्रीय एजेंसी' की कड़ी देनी थी न कि एक अवमानक स्रोत की कड़ी। आपके पास क्या प्रमाण है कि इस स्रोत ने 'स्वतंत्र अन्तरराष्ट्रीय एजेंसी' के शोध का केवल अनुवाद ही क्या है? उसमें अपनी राष्ट्रवादी सोच को सम्मिलित नहीं किया?
अगर आपको अभी भी यह स्रोत विश्वसनीय और उपयुक्त लगता है तो उसके लिए भी मैने उपाय बताया है। यहाँ जाकर इस स्रोत की विश्वसनीयता जाँच करा लें।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 07:18, 13 मार्च 2013 (UTC)
आपने उत्तर देने के बजाय चेतावनी दिया है। खैर, मैं आपको याद दिला दूँ कि जिस 'दैनिक जागरण' को आज आप 'विश्वसनीय' की श्रेणी में डाल दिए हैं एक पूर्व चर्चा में आपने इसे अविश्वसनीय बताया था। यह 'समय के साथ स्टैण्ड बदलने वाला खेल' आप क्यों खेल रहे हैं? आपने ऊपर जो विश्वसनीयता के लक्षण गिनाए हैं वह आपके बनाए हुए हैं या कहीं और लिखित रूप में है? यदि कहीं और है तो बताएँ। इसके साथ किन्हीं दो स्रोतों के नाम बताएँ जिन्हें आप उपरोक्त लक्षणों के आधार पर 'विश्वसनीय' मानते हैं।-- अनुनाद सिंहवार्ता 03:41, 14 मार्च 2013 (UTC)

बिल विलियम कॉम्पटन को प्रबन्धक पद से हटाने के लिए निवेदन[संपादित करें]

मित्रो, बिल विलियम कॉम्पटन को हिन्दी विकि के प्रबन्धक पद से तुरन्त हटाने के लिए मैने निवेदन किया है। कृपया यहाँ देखें और मेरे प्रस्ताव के समर्थन में अपना मत देकर हिन्दी विकि को बर्बाद होने से बचाएँ।-- अनुनाद सिंहवार्ता 11:15, 13 मार्च 2013 (UTC)

हिन्दी विकि की निति के अनुसार प्रबंधक को केवल विशेष परिस्थितियों में हटाया जा सकता है और आपने उनमें से कोई भी यहाँ नहीं बताई है। इसलिए आपका निवेदन व्यर्थ है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 15:12, 13 मार्च 2013 (UTC)
आप फिर सदस्यों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। अपने प्रस्ताव में मैने बहुत स्पष्ट रूप से लिखा है कि 'पद का दुरूपयोग' और 'सरल सदस्यों को परेशान करना' कारण दिया है। वैसे कारण बीसों हैं जिसे मैने ड्राफ्ट करके रखा है। किन्तु मुझे लगता है कि माननीय सदस्यों को इस सम्बन्ध में मुझसे भी अधिक जानकारी है। इसलिए अपने सन्देश को छोटा रखने के लिए मैने ऐसा किया है। हिन्दी विकि पर आपके कारण विशेष परिस्थिति निर्मित हो चुकी है, इसमें शायद ही किसी को सन्देह होगा।-- अनुनाद सिंहवार्ता 03:32, 14 मार्च 2013 (UTC)
यह आप फिर व्यक्ति-केन्द्रित कुतर्क पर उतर आए हैं। बिल जी के बताए नियम हर विकिपीडिया पर लागू हैं। किसी सम्बन्धित विचारधारा का पक्ष लेने वाला स्रोत विश्वसनीय नहीं माना जा सकता। प्रबन्धक पद से हटाने का तो सवाल ही नहीं पैदा होता। आपको शीलता के दायरे में रहने की चेतावनी मैं भी देता हूँ। आपने हाल ही में मुद्राधिकार उल्लंघन भी किया है, जो विकिनिति के साथ-साथ क़ानूनन जुर्म भी है। आप लड़ाई-झगड़ों में ही क्यों पड़ते रहते हैं? --Hunnjazal (वार्ता) 08:23, 14 मार्च 2013 (UTC)
हुन्जाल जी, मैने कोई मुद्राधिकार उल्लंघन नहीं किया है। इसका प्रमाण है आपका सम्बन्धित पृष्ट पर मेरे सवालों का अभी तक कोई जवाब न पाना है। मुझे पता है कि विलियम और आपके पास इसका कोई स्पष्ट जवाब नहीं है। किन्तु मैं इसे यहीं नहीं छोड़ूंगा, इस सवाल को 'अगले स्तर' पर ले जाऊँगा।-- अनुनाद सिंहवार्ता 06:59, 15 मार्च 2013 (UTC)
ज़रूर ले जाएँ। इसका अगला स्तर आपके लिये जेल या जुर्माना हैं क्योंकि लगता है सामग्री की चोरी तो आपने की ही थी। मैं उत्सुक हूँ - साहस हो तो ज़रा कर के दिखाईये! --Hunnjazal (वार्ता) 05:34, 18 मार्च 2013 (UTC)

दोस्तो! सवाल अनुनाद जी का ही नहीं बल्कि उन सभी विकीपीडिया प्रेमियों का भी है जो योगदान तो देना चाहते हैं परन्तु अपना समय बरबाद करना नहीं चाहते। क्योंकि ये अंग्रेज लोग उसे मिटाने में जरा भी संकोच नहीं करते। पता नहीं इन्हें किसने और क्या सोचकर प्रबन्धकीय अधिकार प्रदान किये। मैं अनुनाद जी की बात से शत प्रतिशत सहमत हूँ किन्तु उन लोगों से बिल्कुल नहीं जो छद्म नाम से अंग्रेजी का सहारा लेकर हिन्दी विकिपीडिया को संचालित कर रहे हैं। मेरी अनुनाद जी से कोई दोस्ती नहीं और बिल महोदय से कोई दिली दुश्मनी भी नहीं। पर एक बात जरूर कहना चाहूँगा कि बिल साहब (?) को तानाशाही कार्य पद्धति के बजाय पहले अपनी वर्तनी सुधारनी चाहिये। विकीपीडिया एक बहुत विशाल संगठन है एक दो के रहने या न रहने से कोई फ़र्क नहीं पड़ने वाला। मैं समझता हूँ सभी प्रशासक इस ओर समुचित ध्यान देंगे। धन्यवाद Awadhesh.Pandey (वार्ता) 18:55, 17 मार्च 2013 (UTC)

इसमें यह सही है कि यदि अनुनाद जी को प्रतिबंधित किया जाए तो विकिपीडिया को कोई हानि नहीं होगी। 'उपरुद्धता द्वारा प्रगमन' जैसे मृषावाद की हिन्दी जगत में न जगह थी न होगी। --Hunnjazal (वार्ता) 05:40, 18 मार्च 2013 (UTC)

Convert complex templates to Lua to make them faster and more powerful[संपादित करें]

(Please consider translating this message for the benefit of your fellow Wikimedians)

Greetings. As you might have seen on the Wikimedia tech blog or the tech ambassadors list, a new functionality called "Lua" is being enabled on all Wikimedia sites today. Lua is a scripting language that enables you to write faster and more powerful MediaWiki templates.

If you have questions about how to convert existing templates to Lua (or how to create new ones), we'll be holding two support sessions on IRC next week: one on Wednesday (for Oceania, Asia & America) and one on Friday (for Europe, Africa & America); see m:IRC office hours for the details. If you can't make it, you can also get help at mw:Talk:Lua scripting.

If you'd like to learn about this kind of events earlier in advance, consider becoming a Tech ambassador by subscribing to the mailing list. You will also be able to help your fellow Wikimedians have a voice in technical discussions and be notified of important decisions.

Guillaume Paumier, via the Global message delivery system. 19:50, 13 मार्च 2013 (UTC) (wrong page? You can fix it.)

सदस्य:SeanZCampbell के कठपुतली होने की जाँच[संपादित करें]

माननीय सदस्यगण, सदस्य SeanZCampbell के इतिहास को ध्यान से देखने पर मुझे उनके कठपुतली होने की प्रबल शंका हुई। अतः मैने अपनी शंका के निवारण के लिए निवेदन किया है। वहाँ जाकर जरा विल विलियम की टिप्पणी को पढ़िए। वे इस जाँच का ही विरोध कर रहे हैं, और इसके लिए क्या तर्क दिया है!! -- अनुनाद सिंहवार्ता 05:33, 15 मार्च 2013 (UTC)

प्रबन्धकगण कृपया ध्यान दें[संपादित करें]

अपनी हिन्दी विकि के सदस्य SeanZCampbell पर कठपुतली होने की प्रबल शंका है और इसकी जाँच एवं पुष्टि के लिए आवेदन किया है। हिन्दी विकि के माननीय प्रबन्धकों का कर्तव्य है कि वे इस जाँच को किए जाने के लिए जोरदार अपील करें। किन्तु अपने एक प्रबन्धक विल विलियम कॉम्टन उल्टे इसका विरोध कर रहे हैं। क्या यह अनैतिक नहीं है? मैं अन्य प्रबन्धकों से निवेदन करूँगा कि वे इसमें जरूरी पहल करें। साँच को आँच क्या? -- अनुनाद सिंहवार्ता 08:33, 16 मार्च 2013 (UTC)

SeanZCampbell का एकमात्र उद्देश्य सिर्फ हिन्दी विकी को नुकसान पहुंचाना है, मेरी राय में इन्हें हिन्दी विकी पर प्रतिबंधित किया जाना चाहिए।Dinesh smita (वार्ता) 16:43, 16 मार्च 2013 (UTC)
SeanZCampbell आपने इस विषय पर अभी तक साफ-साफ कुछ नहीं कहा कि आप कठपुतली हैं या नहीं!!!-- अनुनाद सिंहवार्ता 11:18, 18 मार्च 2013 (UTC)

दरअसल उन्हें खुद भी इसका जाँच के बाद पता चलेगा।
अभी तो सिर्फ बिल को ही इस बात का पता है
.......प्रिय सदस्यों, जाँच के परिणाम के बाद ही शॉन जी कुछ स्टैन्ड ले पायेंगे, जैसे - अगर कठपुतली पकड़े गये तो यह कहना कि माना मैं कठपुतली हूँ लेकिन मैंने वोट स्टैकिंग् तो नहीं की है, आदि आदि। और अगर नहीं पकड़े गये, तो यह कहना कि सारे प्रमाण झूठे थे, और मुझ पाक-साफ़ को फँसाया गया। लेकिन अभी से कोई भी पक्ष लेना खतरे से खाली नहीं है। आप लोग कृपया ऐसे प्रश्न पूछकर इस नाट्यविद्याविशारदों द्वारा रचित महानाट्य "कठपुतली-(कु)तर्क-विजय-मंचन" को गुड़गोबर न करें। -Hemant wikikoshवार्ता 13:50, 18 मार्च 2013 (UTC)

प्रबन्धकों से निवेदन[संपादित करें]

अभी कुछ देर पहले हिन्दू राष्ट्रवाद नामक लेख हिन्दी विकि से मिटा दिया गया जबकि अंग्रेजी, जर्मन, बांग्ला, तमिल आदि छः-सात भाषाओं में बड़े आकार के लेख इसी विषय पर लहलहा रहे हैं। यहाँ भी किसी प्रक्रिया का कोई पालन नहीं हुआ है। क्या हम इसी तरह हाथ पर हाथ धरे बैठे रहेंगे और हिन्दी विकि की बर्बादी देखते रहेंगे? अन्य प्रबन्धकों से निवेदन है कि विल विलियम कॉम्प्टन की इस हरक्कत का विरोध करें और उक्त लेख को स्थापित करें। उसमें कुछ आधारहीन चीज लिखी हो तो उसे मिटाएँ या बदलें, पूरे लेख को मिटाने का क्या औचित्य है? और वह भी बिना किसी चर्चा के?-- अनुनाद सिंहवार्ता 05:49, 15 मार्च 2013 (UTC)

मैं बिना किसी बहस के किसी लेख को मिटाने का हिमायती नहीं हूँ, साथ ही निम्नस्तरीय या अनुचित लेखों को अनंतकाल तक विकी पर बनाये रखने का भी समर्थन नहीं करता (वैसे हिन्दी विकी पर ऐसे लेखों की भरमार है)। यदि किसी लेख जैसे कि हिन्दू राष्ट्रवाद से किसी को आपत्ति है और वो व्यक्ति विशेष इसे मिटाना चाहता है तो उसे चर्चा के पश्चात इन लेखों को सभी विकियों से हटाना चाहिए ना कि सिर्फ हिन्दी विकी से। Dinesh smita (वार्ता) 03:09, 17 मार्च 2013 (UTC)

लेकिन अगर कोई किसी ईसाई-प्रचारक जलस्थाल क स्रोत बताकर लेख लिखे कि हनुमान बुरे थे, इत्यादि, तो उसे तुरंत हटाया जा सकता है। चाहे अन्य विकियों पर इसी शीर्षक के लेख हों। कोई भी विकिपीडिया को प्रचार केन्द्र नहीं बना सकता। अनुनाद जी विचारधारा-प्रचार में जुटे रहते हैं और व्यक्तिगत हमलें करते हैं। यह पहले भी बखेड़ा बना था और फिर से बनेगा। अंग्रेज़ी विकि में ४० लाख लेख हैं और हिन्दी में सवा लाख भी नहीं। यह मान-सम्मान की खोखली बातें हिन्दी को डुबो रहीं हैं। धानीप्राणी (मारसूपियल​) तक पर लेख नहीं था (मैंने हाल में ही बनाया है) और झण्डें जितने मरज़ी उड़वा लो। लीबिया के प्रान्तों पर लेख नहीं। अधिकतर लेखकों पर लेख नहीं। बीमारियों पर लेख नहीं। दुनिया की अधिकतर भाषाओं पर लेख नहीं। जानवरों पर लेख नहीं। रसायनों पर लेख नहीं। फिर सोचिये कि पन्ने देखने के आंकड़े इतने हल्के क्यों हैं। जब लिखने वाले नारेबाज़ी में जुटे हों तो यही होता है। अनुनाद जी हिन्दी बोलने वालों के लिये एक ही चारा छोड़ना चाहते है - अंग्रेज़ी सीखो। --Hunnjazal (वार्ता) 06:00, 18 मार्च 2013 (UTC)

यह भी ध्यान रहे कि उपर्युक्त लेख हिन्दू राष्ट्रवाद का हटाया जाना खुद एक विचारधारा का प्रचार है। हुन्जाज़ल साहब, मैं आपसे पूरी तरह सहमत हूँ कि लेखकों पर, बीमारियों पर, भाषाओं पर और रसायनों आदि सभी पर और बहुत सारे लेख बनने चाहिये। साथ ही किसी विचारधारा का प्रचार करना विकिपीडिया का लक्ष्य नहीं है। और फिर अपनी विचारधारा के प्रचार के लिए नाम बदल-बदलकर कठपुतलियाँ बनकर खेल करना और फिर उन कठपुतलियों की रक्षा के लिए जी-जान लगाकर कुतर्क करना तो हद ही है। संयुक्त राष्ट्र की एजेन्सी के नाम या किसी अन्य नाम का हिन्दी अनुवाद होना चाहिये या नहीं इसका निर्णय अपने पक्ष में करवाने के लिए लोग अपना चोगा ही बदलकर आ जाते हैं, अपनी देशीयता (ethnicity) ही बदल लेते हैं। इससे यह पता चलता है कि येन-केन-प्रकारेण अपनी विचारधारा लागू करवाने के लिए ये लोग कितने अनन्यभाव से लगे हुए हैं, और विकिनीतियाँ उनके लिए केवल मुखौटा हैं, - वर्ना वि:कठपुतली कोई मेरी बनाई हुई विकिनीति नहीं थी। और हाँ, अंग्रेज़ी सीखने की जरूरत "यूनाइटेड नेशन्स इकोनॉमिक एण्ड सोशल कमीशन फॉर एशिया एण्ड द पेसिफिक" नाम के लिए पड़ेगी न कि उसके हिन्दी रूपान्तर "एशिया और प्रशांत हेतु संयुक्त राष्ट्र का आर्थिक और सामाजिक आयोग" के लिए। ........... धन्यवाद। -Hemant wikikoshवार्ता 08:27, 18 मार्च 2013 (UTC)

लेकिन हिन्दू राष्ट्रवाद का लेख तो मौजूद है। उनकी सामग्री पक्षपाती स्रोत से थी। हिन्दू राष्ट्रवाद पर लेख ज़रूर होना चाहिए। मैने स्वयं ऐसे बहुत से लेख बनाए हैं लेकिन उनमें संतुलन रखना और विश्वसनीय स्रोतों का प्रयोग अनिवार्य है। मैं कठपुतलियों के सख़्त ख़िलाफ़ हूँ। मेरे हिसाब से यह ऑटोमैटिकली होना चाहिये। हर माँगी हुई जाँच होनी चाहिये और जो ऐसा करे उसे हमेशा के लिये ब्लॉक कर देना चाहिये। क्षमा करें लेकिन विकिपीडिया:चौपाल/पुरालेख 29#एक से अधिक खातों से सम्बन्धित नीति - भाग २ पर ज़रा नज़र डालिये। मुझ से अधिक छद्म खातों से नफ़रत कोई नहीं करता। मेटाविकि पर अनुनाद जी का प्रस्ताव नामंज़ूर इसलिये हुआ है क्योंकि उन्होनें बदले की भावना से इसे रखा था। बिल और शौन और मेरे लहजों और दृष्टिकोणों में ज़मीन-आसमान का अंतर है। मुझे खाते जाँच में एक क्षण के लिये भी कोई आपत्ति नहीं। लेकिन अगर होगी तो हम मिलकर १००-१५० सदस्यों की सूची बनाते हैं और मिलकर मेटाविकि से अनुरोध करते हैं कि इस रोग से छुटकारा पाने के लिये हिन्दी विकि के सदस्य चाहते हैं की इनकी एक बार बड़ी जाँच हो। अगर किसी का एक भी छद्म खाता निकले तो उसे बिना किसी बातचीत के हमेशा के लिये हटा दिया जाएगा। शायद यह जल्द ही सम्भव हो। कहिये, स्वीकार? --Hunnjazal (वार्ता) 16:31, 18 मार्च 2013 (UTC)

हुन्जाज़ल जी, यह प्रश्न मुझसे पूछने का कोई अर्थ नहीं; क्योंकि कौन जाँच का पक्षधर है और कौन उसे रोकने की भागादौड़ी करता है, सब सामने है। आपका यह प्रश्न मुझे नहीं सीधा उनको दगता है जिनके एक खाते की जाँच में ही पसीने छूट जाते हैं, और यमत्रास में घबरा उठते हैं। १००-१५० या बिगबैंग से लेकर आजतक के सदस्यों की जाँच करवा लें।
.......लेखों में सन्तुलन रहना चाहिये, यह मैं जानता हूँ। और किन नामों का अनुवाद होना चाहिये वाला मेरा मत, शॉनीय हठवृत्ति नहीं बल्कि यथार्थ पर आधारित है। मुझे कोई दुराग्रह होता तो मैं इस लेख का नाम अंग्रेज़ी में कभी नहीं करवाता। जहाँ खुद अंग्रेज़ी के हामी सदस्य हिन्दी-नाम सुझा रहे थे।............. सन्तुलन का तरीक़ा है बहस करना, और बहस कभी कभी कड़वी भी हो जाती है। लेकिन जिस पक्ष को बहस स्वीकार नहीं वह कठपुतली का सहारा लेता है, ताकि धमका-धमकाकर ही पलड़ा अपनी तरफ़ झुकवा लें। तर्क देने की जरूरत ही न पड़े। थियेटर पर स्वाँग दिखाते हुए ही देखने वाले लोगों की जेब काट ली जाये।
आपने कहा है कि बिल-शॉन की तुलना में आपके लहजे में अन्तर है, बल्कि जमीन आसमान का अन्तर है। मैं मानके चल रहा हूँ कि जमीन और आसमान में से जमीन पे वे दोनों पड़े हैं - आपकी बात का अर्थ ये होगा। बात सही भी है, मुझे भी यह अन्तर साफ़ नज़र आता है। ठीक इसीलिए बिल का यहाँ प्रबन्धक बने रहना खतरनाक है। सादर -Hemant wikikoshवार्ता 17:47, 18 मार्च 2013 (UTC)


हुन्न्जाल जी, विज्ञान, गणित, इंजीनियरी, दर्शन, मनोविज्ञान, समाजविज्ञान, महापुरुषों की जीवनी, इतिहास आदि विषयों पर अनुनाद से अधिक किसी ने लेख बनाएँ हों तो कृपया नाम बताइये। मुझे बहुत खुशी होगी। किन्तु दुख की बात है जिसका आप आँख मूँदकर समर्थन कर रहे हैं वे सज्जन जिब्राल्टर की कब्रगाहों, ५० मीटर लम्बी सड़कों और पार्कों पर लेख बनाते हैं और अच्छे-अच्छे लेख मनमानी मिटाते रहते हैं। यही तो हम सबकी शिकायत है कि इन्होने सैकड़ों अच्छे लेख मिटा दिए। सैकड़ों लोग जो अच्छे विकि लेखक बन सकते थे, उन्हें सताकर यहाँ से दूर कर दिया। आप खुद यहाँ अरबी-फारसी का झण्डा गाड़ने और हिन्दी को विकृत करने की कसम खाए हुए लगते हैं। नहीं तो किस हिन्दीभाषी ने 'मुहाफजात' (शायद इसकी वर्तनी गलत हो) का नाम सुना होगा? पहले ही दिन से आपकी संस्कृत और भारतीय संस्कृति से एलर्जी दिखने लगी थी। हिन्दी के बारे में भारत सरकार की नीति है कि नए शब्दों का गठन संस्कृत से शब्द लेकर किया जाएगा (अरबी-फारसी और नुक्तेदार शब्दों से नहीं)। संस्कृत से शब्दों को लेने का कारण यह है कि संस्कृत अत्यन्त समृद्ध भाषा है और सभी भारतीय भाषाएँ उससे जन्मी हैं।-- अनुनाद सिंहवार्ता 09:11, 18 मार्च 2013 (UTC)

भारत सरकार ने अगर हिन्दी को जान से मारने की क़सम खाई हुई है तो क्या हम भी उसे जान से मार डालें। आप उन्हीं १९वीं सदी के गुरुओं जैसे हैं जो कहते थे कि बच्चों की शादियाँ १० वर्ष से पहले हो जानी चाहिये क्योंकि यही शुद्ध परम्परा है। अंग्रेज़ी में रूसी के 'ओब्लास्त' शब्द को शायद 'प्रॉविन्स' कहें लेकिन जब रूस के प्रान्त की बात हो तो en:Murmansk Oblast लिखा जाता है। यही हिन्दी में मैने मूरमान्स्क ओब्लास्त बनाया। मुहाफ़ज़ात केवल और केवल अरब देशों के प्रान्तों को कहाँ जाता है। इसे यह बुलाकर मैने कोई रूसी भाषा के झण्डें नहीं गाढ़े। बस हिन्दीभाषियों को विश्व के एक तथ्य से आगाह कराया है। मैने क़ाहिरा मुहाफ़ज़ाह का लेख बनाया - इसे रूसी में ru:Каир (мухафаза) (काइर मुख़ाफ़ज़ा) लिखा गया है। इसका मतलब आपके अनुसार रूसी विकिपीडिया का अरबीकरण है। हिन्दी का सबसे बड़ा दुशमन वह है जो हिन्दी को इतना सिकोड़ दे और इतना कृत्रिम कर दें कि न तो ऐसी हिन्दी कोई घरों में बोलता हो और न कोई विश्व से इसका सम्पर्क रह जाए। आप जैसे लोगों की वजह से ५० करोड़ को समझ आने वाली भाषा अपाहिज है और इताल्वी जैसे छोटी भाषाओं की तुलना में भी कम लेख रखती है। आप हिन्दी भाषियों को अपनी विचारधारा की बलि चढ़ाना चाहते हैं। आपके लेखों का स्तर काफ़ी बुरा है। न स्रोत, न सरलता, न व्यवस्था। कभी-कभी ग़ैर-कानूनी चोरी। कोई गारे की चौमंज़िला इमारत बनाकर दे देवे तो उसे रहने योग्य नहीं कहा जाएगा। --Hunnjazal (वार्ता) 16:31, 18 मार्च 2013 (UTC)

श्री हुन्जाल जी, आपने लिखा है - 'मुहाफ़ज़ात केवल और केवल अरब देशों के प्रान्तों को कहाँ जाता है।' इसको एक दूसरे कोण से देखते हैं। इसी लेख के विभिन्न भाषाओं में नाम ये हैं-

ar القاهرة (محافظة)
be-x-old Каір (мугафаза)
bg Кайро (област)
ca Governació del Caire
cs Káhira (guvernorát)
da Al Qahirah
de Gouvernement al-Qahira
en Cairo Governorate
eo Provinco Kairo
es El Cairo (gobernación)
fa استان قاهره
fr Gouvernorat du Caire
he מחוז קהיר
hi क़ाहिरा मुहाफ़ज़ाह
it Governatorato del Cairo
ja カイロ県
ka კაიროს მუჰაფაზა
ko 카이로 주
la Cairus (provincia)
lt Kairo muchafaza
nl Caïro (gouvernement)
no Al Qahirah
pl Kair (muhafaza)
pnb صوبہ قاہرہ
pt Cairo (província)
ro Al Qahirah
ru Каир (мухафаза)
sco Cairo Govrenorate
sk Káhira (guvernorát)
sr Каиро (гувернорат)
sv Kairo (guvernement)
sw Mkoa wa Kairo
tr Kahire (il)
uk Каїр (губернаторство)
vi Cairo (tỉnh)
war Cairo (lalawigan)
zh 开罗省

इसमें कितने में 'मुहाफजात' आया है? क्या हिन्दी कचरा-घर है? हिन्दी में प्रचलित 'राज्य' पूरे भारत के लोगों को समझ आता। क्या संस्कृत शब्दों से हिन्दी कठिन होती है जिससे हमारी सभी भाषाएँ जन्मी हैं और अरबी-फारसी-तुर्की शब्दों से हिन्दी वालों के ज्ञान-चक्षु खुल जाते हैं? आपके सारे 'महासिद्धान्त' जहाँ इच्छा हो लागू हो जाते हैं और जहाँ इच्छा हो अपवाद बन जाते हैं। इसीलिए 'सरल हिन्दी का सिद्धान्त' यहाँ अपवादगस्त हो गया है और 'ज्ञानचक्षु का सिद्धान्त' लागू हो गया है। यही हाल आपके 'कठपुतली सिद्धान्त' की है- "अपनी कठपुतली प्यारी है, दूसरे की हत्यारी है"!!! डेढ मिनट में जो बिल्कुल दो विपरीत बातें कह चुका हो उसके लिए ये कुछ भी नहीं हैं!!!-- अनुनाद सिंहवार्ता 17:38, 18 मार्च 2013 (UTC)

जी बिलकुल - आप हर डेढ़ मिनट में बयान बदलते हैं इसलिए ऐसे करने वाले कैसे होंगे आप ही बेहतर जाने। कल तक जगदीश जी के छिद्म खाते को बचाने की दुहाई दे रहें थे। राज्य का मतलब 'स्टेट' होता है, गरवर्नरेट नहीं। अधिक-से-अधिक इन्हें प्रान्त कहा जा सके (और मैने लेबनान के प्रान्त के सभी लेख भी बनाए थे - हलांकि मुहाफ़ज़ाह अधिक सही है)। जब आप यह जानते ही नहीं तो बीच में कूदने का कष्ट क्यों करते हैं? ऊपर से 'हिफ़ाज़त' शब्द हिन्दी बोलने वाले समझते हैं। मेरे हिसाब से किसी ने कभी-भी छिद्म खाते चलाएँ हो तो उसको वर्जित कर देना चाहिए। आपको तो वैसे भी अशिष्टता, सामग्री-चोरी और कई अन्य बातों के कारण ब्लॉक हो जाना चाहिये। एक और बात कहे दूँ। मुझसे भिड़ने से पहले दो बार सोच लें - अगर मैं चिमड़ गया तो महीनो भिड़ा रहूँगा और उसके अंत में या आप वर्जित होंगे, या मैं या हम दोनों। यह मेरा आपको वायदा है। मैंने तो पहले ही कहा था कि आप जैसों से हिन्दी को बचाने के लिये मैं कुछ भी करने को तैयार हूँ। आप हिन्दी को प्लास्टिक में लपेटकर मारने पर तुले हैं। --Hunnjazal (वार्ता) 06:48, 19 मार्च 2013 (UTC)

बहुत जल्दी गुस्सा हो गए? ये 'छिद्म' क्या है भाई। ये 'मुहाफजात' लाकर आप सब हिन्दी वालों को मदरसा में अरबी/फारसी के अध्ययन करने के लिए क्यों भेज रहे हैं? 'सरलता का सिद्धान्त' कहाँ गया? मेरी तीसरी पास 'खाला जान' को 'मुहाफजात' (नुक्तों सहित) कैसे समझ में आएगा? ये कैसा 'सरल' लेख आपने बनाया है कि न शीर्षक से कुछ समझ आया न लेख पढ़ने के बाद। ऊपर दी गई सूची से स्पष्ट है कि अधिकांश भाषाओं ने अपने लिए यथोचित शब्द बनाए हैं तो आप हिन्दी को इतना पंगु कैसे समझते हैं? 'बिहार राज्य', 'हरियाणा राज्य', 'राज्य सरकार' खूब चलता है। आपने सुना है या नहीं? -- अनुनाद सिंहवार्ता 07:29, 19 मार्च 2013 (UTC)

अगर इतने ही नुक़्ता-विरोधी हैं तो अपने 'पढ़ने' में 'ढ' के नीचे नुक़्ता क्यों लगाया? आपको अगर एक ध्वनात्मक वर्णमाला प्रयोग करनी नहीं आती तो उसमें मेरी क्या ग़लती है? पहले स्वयं देवनागरी का क-ख-ग सीखें फिर दूसरों को सिखाने की चेष्टा करें। 'ज़िले' को 'राज्य' कहते है क्या? 'प्रान्त' और 'राज्य' का अंतर आता है? स्पष्ट है नहीं आता। जब आता ही नहीं तो फिर इन बातों में पड़ते ही क्यों हैं? मुहाफ़ज़ाह का अर्थ लेख में समझाया गया है, जैसे ओब्लास्त, ओक्रुग, अइमग, सुम (मंगोलिया के ज़िले), रायोन, काउंटी का अर्थ समझाया गया है। मुहाफ़ज़ाह एक विशेष प्रकार की प्रशासनिक व्यवस्था है (en:Muhafazah) जो केवल अरब देशों मे मिलती है। यह राज्य की परिभाषा से भिन्न है। अंग्रेज़ों का उस क्षेत्र से पुराना सम्पर्क रहा है इसलिए अंग्रेज़ी में इसका अर्थ 'गवर्नरेट' १५० वर्षों से स्थापित है। इसे 'स्टेट' नहीं कहा जा सकता। आपका तर्क मूर्खतापूर्ण और उपहासनीय है। यह तो ऐसे हुआ कि आपने केवल तोता देखा है इसलिये चूँ-चूँ कर रहे हैं कि हाथी को भी तोता बुलाओ, कुत्ते को भी तोता बुलाओ, चींटी को भी तोता बुलाओ, मनुष्य को भी तोता बुलाओ - यहीं आपकी नज़र में सरलता है। स्वयं तो अपाहिज हैं ही, दूसरे हिन्दीभाषियों को भी अपाहिज बनाना चाहते हैं। हिन्दी के सबसे बड़े शत्रु आप जैसे लोग ही हैं जो हिन्दीभाषियों को अज्ञानता के अन्धकार में विश्वज्ञान से वांछित और अपनी दकियानूसी विचारधारा की बलि चढ़ाना चाहते हैं। आप में अगर इतनी तीव्र हीन भावना है कि परछाइयों से भी जान निकलती है तो यह मत समझिये कि अन्य हिन्दीभाषी भी उसका शिकार हैं। हमें दुनिया से लेनदेन करना और ऐसे लेनदेन में जीतना आता है। आपको कुँए में रहना है तो रहें। हमें विश्व पर छाना है। और बालविवाही डरपोकों के बस का यह काम नहीं होता। आप जैसे ही हिन्दीभाषियों को अंग्रेज़ी की तरफ़ घकेलते हैं। सामग्री चोरी करी, उल्टे-सीधे निबन्ध लिखे और तुंतुड़ु बजाते हुए शहर में घूम रहें हैं कि मुझे देखो कितना महान हूँ। आप हिन्दी के लिये हानिकारक हैं। --Hunnjazal (वार्ता) 13:45, 19 मार्च 2013 (UTC)

  • अनुनाद जी ने बिना कुछ सोचे समझे मेरे कार्य पर शंका की। बात जिस से आगे न बढ़े इसलिए मैं हटाए गए लेख का पुराना अवतरण मुहैया करा रहा हूँ।
(1)तिरंगे में सफ़ेद रंग “क्रिश्चियनिटी” का होता है और “जन-गण-मन” की धुन पर पोप की प्रार्थना:-

बचपन से मैंने तो यही पढ़ा था कि देश के तिरंगे में भगवा रंग त्याग और बलिदान का, सफ़ेद रंग शान्ति का तथा हरा रंग हरियाली और पर्यावरण का होता है। लेकिन हाल ही में केरल में “गोस्पेल चर्च” (जो कि धर्मांतरण के लिये कुख्यात है और जिसे “वर्तमान देशमाता” और “युवराज” का पूर्ण वरदहस्त प्राप्त है) के एक कार्यक्रम मे । इसमें यह बताता है कि भारत के राष्ट्रीय ध्वज में “भगवा” रंग आक्रामकता का प्रतीक है, जबकि हरा रंग मुस्लिमों की बढ़ती आर्थिक खुशहाली (खाड़ी के पैसे द्वारा आई हुई) का प्रतीक है, लेकिन सबसे पवित्र है “सफ़ेद रंग” जो कि ईसाईयत का प्रतीक है, क्योंकि सफ़ेद रंग शांति का प्रतीक है (ईसाईयत = शान्ति)। और आगे अपना ज्ञान बखान करते हुए वह बताता है कि शक्तिशाली अशोक चक्र का मतलब है “अ-शोक” (अर्थात कोई दुख नहीं) और इस “अ-शोक” को सफ़ेद रंग के अन्दर इसलिये रखा गया है क्योंकि ईसाईयत में आने के बाद मनुष्य को कोई शोक नहीं होता। इसलिये जो भी दुखी और असहाय हैं, सफ़ेद रंग में रंग जायें, यानी ईसाईयत स्वीकार करें। तिरंगे की ऐसी व्याख्या कभी देखी-सुनी है आपने? लेकिन “सेकुलरिज़्म” को दूध पिलाने की सजा तो भुगतनी ही पड़ेगी, क्योंकि अब इसका “फ़न” धीरे-धीरे फ़ुंफ़कारे मारने लगा है। bunty kushwah (2)मुसलमानों को एक बात हमेशा ध्यान में रखना चाहिये कि हिन्दू कभी भी "क्रियावादी" नहीं होता, नहीं हो सकता, हिन्दू हमेशा "प्रतिक्रियावादी" रहा है, यानी जब कोई उसे बहुत अधिक छेड़े-सताये तभी वह पलटकर वार करता है, वरना अपनी तरफ़ से पहले कभी नहीं। कांग्रेस हमेशा मुसलमानों को डराकर रखना चाहती है और हिन्दुओं के विरोध में पक्षपात करती जाती है, राजनीति करती रहती है, तुष्टिकरण जारी रहता है… तब कभी-कभार, बहुत देर बाद, हिन्दुओं का गुस्सा फ़ूटता है और "अयोध्या" तथा "गुजरात" जैसी परिणति होती है। bunty kushwah (3) सरस्वती वन्दना साम्प्रदायिक है, वन्देमातरम साम्प्रदायिक है, दूरदर्शन का लोगो “सत्यं शिवं सुन्दरम्” भी साम्प्रदायिक है, पाठ्यपुस्तकों में “ग” से गणेश भी साम्प्रदायिक है (उसकी जगह गधा कर दिया गया है), रेल्वे में ई अहमद ने नई ट्रेनों की पूजा पर रोक लगा दी है, इलाहाबाद हाईकोर्ट का निर्णय कि “गीता” को राष्ट्रीय ग्रन्थ घोषित किया जाये, भी साम्प्रदायिक है। क्या एक दिन ऐसा भी आयेगा कि जब “जय हिन्द” और तिरंगा भी साम्प्रदायिक हो जायेगा? bunty kushwah (4)यदि पिछले 60 साल में गंगा और चिनाब में बहे पानी को भूल भी जायें तब भी पिछले एकाध-दो साल में ही इतना कुछ हो चुका है कि भारत और पाकिस्तान के बीच दोस्ती की बात करना लगभग “थूक कर चाटने” जैसा मामला बन चुका है। bunty kushwah (5)“सेकुलरिज्म” और भ्रष्टाचार का यही हाल रहा तो हो सकता है कि सन् 2025 में एक अवैध बांग्लादेशी की नाजायज़ औलाद, भारत का प्रधानमंत्री बन जाये…!bunty kushwah (6)“लाल झण्डे वाले बन्दर” हों या “पंजा छाप लुटेरे’, इनकी राजनीति, रोजी-रोटी-कुर्सी इसी बात से चलती है कि किस तरह से भारत की जनता को अधिक से अधिक समय तक गरीब और अशिक्षित बनाये रखा जाये। क्योंकि उन्हें पता है कि जिस दिन जनता शिक्षित, समझदार और आत्मनिर्भर हो जायेगी, उसी दिन “लाल झण्डा” और “परिवार की चमचागिरी” दोनों को ज़मीन में दफ़ना दिया जायेगा। इसीलिये ये दोनों शक्तियाँ मीडिया को पैसा खिलाकर या उनके हित साधकर अपने पक्ष में बनाये रखती है, और नरेन्द्र मोदी जैसों के खिलाफ़ “एक बिन्दु आलोचना अभियान” सतत चलाये रखती हैं, हिन्दू आराध्य देवताओं, हिन्दू धर्मरक्षकों, संतों और शंकराचार्यों के विरुद्ध एक योजनाबद्ध घृणा अभियान चलाया जाता है, लेकिन जब गुजरात सम्बन्धी (उन्हीं की सरकार द्वारा गठित टीमों द्वारा पाये गये) आँकड़े और तथ्य उन्हें बताये जाते हैं तो वे बगलें झाँकने लगते हैं। ढीठता और बेशर्मी से बात तो ऐसे करते हैं मानो भारत के इतिहास में सिर्फ़ गुजरात में ही दंगे हुए, न पहले कभी कहीं हुए, न अब कभी होंगे। bunty kushwah (7) सेकुलरों के साथ सबसे बड़ी समस्या यही है कि जब हिन्दुत्ववादी संगठन कुछ भी कहते हैं तो वे इसे दुष्प्रचार, साम्प्रदायिक झूठ आदि की संज्ञा दे देते हैं, समस्या को समस्या मानते ही नहीं, रेत में सिर दबाये शतुरमुर्ग की तरह पिछवाड़ा करके खड़े हो जाते हैं। लव जेहाद के बारे में सबसे पहले हिन्दुत्ववादी संगठनों ने ही आवाज़ उठाई थी, लेकिन हमेशा की तरह उसे या तो हँसी में टाला गया या फ़िर उपेक्षा की गई। अब आज जबकि कर्नाटक और केरल उच्च न्यायालय के न्यायाधीश खुद इसकी जाँच के आदेश दे रहे हैं तब इनकी बोलती बन्द है। ईसाई संगठनों को भी इस लव जेहाद के अंगारे महसूस होने लगे तभी माना गया कि यह एक समस्या है, वरना हिन्दू संगठन कितना भी कहें कोई मानने वाला नहीं, सेकुलरों का यही रवैया उन्हें देशद्रोही की श्रेणी में रखता है। क्या आज से 50 साल पहले कश्मीर की स्थिति के बारे में किसी ने सोचा था कि वहाँ से हिन्दुओं का नामोनिशान मिट जायेगा? आज जब हिन्दूवादी संगठन असम, पश्चिम बंगाल और केरल के बदलते जनसंख्या आँकड़ों और राजनैतिक परिस्थितियों का हवाला देते हैं तब सेकुलर और कांग्रेसी इसे गम्भीरता से नहीं लेते, लेकिन कुछ वर्षों बाद ही वे इसे समस्या मानेंगे, जब स्थिति हाथ से निकल चुकी होगी… लानत है ऐसी सेकुलर नीतियों पर। "नक्सलवादियों की चैम्पियन बुद्धिजीवी"(?) अरुंधती रॉय ने बयान दिया "जब राज्य सत्ता किसी व्यक्ति की सुन ही नही रही हो, और उस पर अन्याय और अत्याचार जारी रहे तो उसका बन्दूक उठाना जायज़ है…", फ़िर तो इस हिसाब से कश्मीर के विस्थापित हिन्दुओं को सबसे पहले हथियार उठा लेना चाहिये था, क्या तब बुकर पुरस्कार विजेता उनका साथ देंगी? जी नहीं, बिलकुल नहीं, क्योंकि यदि हिन्दू "प्रतिकार" करे तो वह घोर साम्प्रदायिकता की श्रेणी में आता है, ऐसी गिरी हुई मानसिकता है इन सेकुलर लुच्चों-टुच्चों की। हिन्दुओं के साथ कोई अन्याय हो तो वह कानून-व्यवस्था का मामला है, हिन्दू लड़कियों के साथ लव जेहाद हो तो वह साम्प्रदायिक दुष्प्रचार है, और यदि मामला मुस्लिमों और ईसाई लड़कियों से जुड़ा हो तब वह या तो सेकुलर होता है अथवा हिन्दूवादी संगठनों का अत्याचार…!bunty kushwah (8) कांग्रेस चुनाव के समय "साम्प्रदायिकता" का डर दिखाकर और सस्ता चावल, सस्ता टीवी जैसे मूर्ख बनाने के नारों से चुनाव जीत लिया जाता है, फ़िर 5 साल के लिये नमस्ते… और यह दुर्गति कमोबेश भारत के हर राज्य में है… इसलिये महारानी की जय बोलिये तथा भारत बदलने निकले दलित के घर सोने वाले "युवराज" को चुपचाप सत्ता सौंप दीजिये… क्योंकि "मीडियाई भाण्ड" तो उनका ऐसा गुणगान कर रहे हैं जैसे "राहुल बाबा" पता नहीं क्या-क्या उखाड़ लेंगे और क्या-क्या बदल डालेंगे। तात्पर्य यह कि करुणानिधि, राजशेखर रेड्डी, मधु कोड़ा जैसे लोग येन-केन-प्रकारेण आपकी छाती पर मूंग दलते रहेंगे… नेहरु से शुरु करके "कांग्रेसी संस्कृति" ने 60 साल में देश को यही सौगात दी है, आप देखते रहने और अफ़सोस करने के सिवा कुछ भी नहीं कर सकते… देश में "सेकुलर" और वामपंथी लॉबी बहुत मजबूत है जबकि "हिन्दू" बिखरा हुआ, सोया हुआ और कुछ हद तक मूर्ख और नपुंसक भी…। उम्मीद तो कम है, फ़िर भी अपनी तरफ़ से जगाने का छोटा सा प्रयास तो कर ही सकता हूँ…!bunty (9) भारत में इस्लाम का प्रसार जेहाद, जोर-जबरदस्ती और आतंक के जरिये किया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर चर्च का प्रसार, चालबाजियों, दुष्प्रचार, पैसों के लालच पर धर्म-परिवर्तन और मीडिया के उपयोग द्वारा किया जा रहा है, ऐसे खतरनाक हालातों में सभी हिन्दू धर्मगुरुओं और खासकर बाबा रामदेव को अत्यधिक सतर्क रहने की जरूरत है, क्योंकि वे तो लुटेरी बहुराष्ट्रीय कम्पनियों का भी भारी नुकसान कर चुके हैं और उनके निशाने पर हैं… सो आने वाले दिनों में हमें हिन्दू धर्म के अन्य प्रतीकों और धर्माचार्यों के किस्से-कहानियाँ-स्कैण्डल सुनने को मिलें तो आश्चर्य नहीं होना चाहिये…!bunty (10) कांग्रेस इस देश की सबसे बड़ी कम्यूनल पार्टी है, यह एक असभ्य, शातिर और चालबाज पार्टी है| मुस्लिम हित की बात करना धर्मनिरपक्षता, हिंदू हित की बात करना सांप्रदायिकता, हिंदू विरोध धर्मनिरपेक्षता, न्याय की बात करने का मतलब सांप्रदायिकता, वाह रे दुष्ट कॉंग्रेसी नेताओं, क्यों देश की जनता के दिलो में जहर घोल रहे हो| ज़रा आंखें खोल कर विश्वपरिदृश्य को देखो, भारत में मुसलमान जितने सम्मानित, सुरक्षित, प्रसन्न जीवन जी रहे हैं, विश्व के किसी भी देश में मुसलमान इतना स्वतंत्र और सम्मानित नहीं हैं जितना भारत में हैं| जहां तक नरेंद्र मोदी का सवाल है तो उन्होने गोधरा कांड में वह सब कुछ किया जो कोई भी ज़िम्मेदार मुख्यमंत्री करता| bunty kushwah (rajpur)

अब मुझे यह बताएँ कि इस लेख को हटाना उचित था या नहीं?<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 17:02, 21 मार्च 2013 (UTC)

अनुनाद जी को ब्लॉक करा जाए[संपादित करें]

अब समय आ गया है कि इन्हें प्रतिबंधित किया जाए। इनको पहले ही दूसरों पर व्यक्तिगत आक्रमण न करने की चेतावनी मिल चुकी है। यह लेखों में खलल डालते हैं। सामग्री ग़ैर-क़ानूनी ढंग से चोरी करते हैं। पक्षपाती सम्पादन करते हैं। जातीय व राष्ट्रीय द्वेश से सनी हुई टिप्पणियाँ करते है। --Hunnjazal (वार्ता) 07:03, 19 मार्च 2013 (UTC)

और साथ ही साथ यह सदस्यों के वार्ता पृष्ठ पर बिना कारण अनावश्यक टिप्पणियाँ भी करते हैं। शॉन (वार्ता) 07:10, 19 मार्च 2013 (UTC)
ये 'अनावश्यक टिप्पणियाँ' किसने छिपा दी है? बाहर कीजिए। माननीय सदस्य देखें और स्वयं निर्नय लें कि ये टिप्पणियाँ कितनी आवश्यक हैं!!!-- अनुनाद सिंहवार्ता 10:10, 19 मार्च 2013 (UTC)

उपरोक्त सारे अवगुण तो हुन्जाल जी में हैं। वे सबसे अधिक पक्षपाती हैं। इसके अलावा गुटबाजी की साक्षात मूर्ति हैं। वे एक ही मुद्दे पर दो प्रकार का दृष्टिकोण रखते हैं। मनमानी लेख मिटाते हैं। साफ साफ किए गए प्रश्नों के अस्पष्ट उत्तर देते हैं। भारतीय गुरुओं और महापुरुषों के बारे में अपमानजनक बातें कहते हैं। संस्कृत और हिन्दी को सदा गाली देते हैं। प्रबन्धक होकर भी अत्यन्त शर्मनाक भाषा का प्रयोग करते हैं। इनको पहले भी कई बार चेतावनी दी जा चुकी है। किसी भी चर्चा में विषयान्तर करने में इन्हें महारत हासिल है।
जब इनके पास कोई जवाब नहीं रह जाता तो 'ब्लॉक करा दूँगा', 'चिपट जाऊँगा', 'ब्लॉक करो, ब्लॉक करो' का हला मचाना शुरू कर देते हैं।
हम सबको पहले से यह आशंका थी कि वे कठपुतलियों और अपने प्रिय साथी विल विलियम को बचाने के लिए विषयान्तर भी करेंगे। सो आपके सामने है। मित्रों इनका करारा जबाब दीजिए। विल विलियम को अकेले हटाने से काम नहीं चलेगा। इनको भी हटाने के लिए कमर कस लीजिए।-- अनुनाद सिंहवार्ता 07:25, 19 मार्च 2013 (UTC)

सरासर झूठ है और बहुत हुआ। आपको काफ़ी चेतावनियाँ पहले भी मिल चुकी हैं। यह अंतिम चेतावनी है। --Hunnjazal (वार्ता) 13:50, 19 मार्च 2013 (UTC)

user:LovySinghal की कठपुतली है user:SeanZCampbell : जाँच का परिणाम[संपादित करें]

प्रिय सदस्यों जाँच द्वारा सिद्ध हो गया है कि user:SeanZCampbell, भले ही अपना नाम शॉन लिखते हों, भले ही पश्चिमी होने का स्वाँग रचकर अपने सारे तर्क प्रस्तुत करते हों और भले ही दूसरों को विकिनीतियाँ सिखाते हों, स्वयं एक कठपुतली हैं (user:Lovysinghal की कठपुतली); जो कि विकिनीतियों का गम्भीर उल्लंघन और हिन्दी विकिपीडिया की मूलसंरचना पर ही आघात है। जाँच का पूरा ब्यौरा और परिणाम यहाँ हैं
और यह भी सामने है कि बिल विलियम कॉम्प्टन की इस सारे महानाट्य में बहुत बड़ी मिलीभगत है। जो कि कॉम्प्टन द्वारा इस कठपुतली की जाँच को जी जान से बचाने के प्रयास से स्पष्ट है। बिल के इस छद्म और दोहरे रवैये की चेकयूसर द्वारा भर्त्सना भी की गयी है (देखें: " @Bill William Compton rules are rules... आदि")।
हम सभी जानते हैं कि बिल और लवीसिंघल ने ऐसा क्यों किया। पहले इस गिरोह ने तर्कों को कुतर्कों से जीतने की कोशिश की, लेकिन जब उन्हें मनचाही सफलता नहीं मिली तो एक नयी युक्ति सोची कि क्यों न इस सारे विवाद को नस्लवादी विवाद में बदल दिया जाये और विरोधी को बार बार नस्लवादी हमलों के लिए बहकाया जाये, ताकि अन्त में इस आधार पर उसे ब्लॉक किया जा सके। ऐसा भारतीय चोगे में उतना सरल नहीं था, इसलिए गिरोह के सदस्य विदेशी बनने का दिखावा करें, और ऐसा करके हिन्दीविरोधी निर्णय थोपें (हिन्दी अनुवादों का कड़ा विरोध करना आदि) तो बड़ी आसानी से संभव है। और ऐसा करने से वातावरण भी खराब होगा, जिससे कोई सामान्य सदस्य बहस में भाग लेने की हिम्मत नहीं कर पायेगा, और इससे अपनी हिन्दीविरोधी विचारधारा को लागू करना सीधा-सपाट कार्य रह जायेगा।
यहाँ सिर्फ़ कठपुतली बनने का अपराध नहीं हुआ है, बल्कि

  1. कठपुतली द्वारा जातीय विद्वेष फैलाने (यानी अपने छद्म रूप द्वारा किसी जातिविशेष को लड़ता हुआ दिखाना, वर्ना क्या जरूरत थी नये एकाउंट से आने की),
  2. इस जंगली तरीके से विपक्षी के तर्कों को कुतर्कों से जीतने की कोशिश,
  3. कठपुतली को बचाने का बेशर्म उद्यम,
  4. और फिर उल्टा चोर कोतवाल को डाँटे........यानी कठपुतली द्वारा अपने विरोधी को ब्लॉक करवाने की कोशिश........ये सब हुए हैं।

मैं एतद्द्वारा प्रबन्धकों से इस विषय में user:Lovysinghal, user:SeanZCampbell और user:Bill William Compton के लिए यथायोग्य दण्ड की माँग करता हूँ। निश्चित रूप से कठपुतली सदस्यों को तो ब्लॉक ही करना होगा। और बिल विलियम कॉम्प्टन को प्रबन्धक पद से हटाना पहले भी जरूरी था (जैसा कि हमने प्रस्ताव रखा था), और अब तो अनिवार्य हो गया है, वैसे तो उनका बिना प्रबन्धक रहे भी अनाचार का इतिहास रहा है। (और जो लोग इस सब के बावजूद बिल को बचाने के लिए अपना मत देते हैं वे खुद ही सोच लें कि वे कहाँ ठहरते हैं)। धन्यवाद। -Hemant wikikoshवार्ता 03:47, 20 मार्च 2013 (UTC)

Bill William Compton पर क्या कठपुतली आरोप है? मैं लवी को ३ महीने के लिये अवरोधित करना चाहता हूँ। जगदीश व्योम स्वयं को भाग्यशाली समझें कि वे नीति की कमज़ोरी से बच निकले। अब नीति पर सहमती दीजिये और अपनी विकि को अराजकता से बचाईये। --Hunnjazal (वार्ता) 04:40, 20 मार्च 2013 (UTC)

मेरी समझ से बिना परिचय दिये छद्म नाम से खाते बनाकर नये सदस्यों को धमकाना, परेशान करना या उन्हें सम्पादन करने से रोका जाना निंदनीय तो है ही अपराध भी है। इस पर तुरन्त प्रतिबंध लगना चाहिये ताकि विकिपीडिया को भविष्य में होने वाले नुकसान से बचाया जा सके। आप लोग मिलकर शुरू कीजिये मैं ऐसे किसी भी कार्य का समर्थन करूँगा। Awadhesh.Pandey (वार्ता) 15:59, 20 मार्च 2013 (UTC)

धन्यवाद अवधेश जी, कृप्या नीचे वाले प्रस्ताव पर समर्थन दें ताकि इसपर कठोर नियम बन सके। यह ९ मास पहले बनते-बनते रह गया वरना लवी जी को प्रतिबन्धित किया जा सकता था। --Hunnjazal (वार्ता) 04:05, 21 मार्च 2013 (UTC)

कार्यवाही[संपादित करें]

सभी ध्यान दें -

  1. शॉन का खाता लवि के खाते से मिलता पाया गया है। शॉन को मैने हमेशा के लिये अवरोधित कर दिया है। जाँच यहाँ है
  2. अनुनाद को पिछले ९-१२ महीनों से चेतावनियाँ मिल रहीं हैं और उनका व्यवहार अभी भी अस्वीकार्य है। उन्हें ३ महीने के लिये अवरोधित किया गया है। जुलाई २०१२ की चेतावनी यहाँ है
  3. जगदीश व्योम को भी पहले पकड़ा गया था लेकिन नीति न पारित होने से छोड़ दिया गया। उनपर कार्यवाही नहीं होगी लेकिन उन्हें हमेशा के लिये आइंदा छद्म खाते न बनाने की चेतावनी है।
  4. लवी को भी छद्म खाता चलाने के लिये ३ महीनों तक अवरोधित किया गया है। (संशोधित)

कठोर छद्म खाता नीति प्रस्ताव[संपादित करें]

छद्म खाता नीति: मैने यह जुलाई २०१२ में भी प्रस्ताव रखा था कि छद्म खाते चलाने वालों का तुरन्त ख़ात्मा होना चाहिये। इसका अनुनाद व अन्य सदस्यों ने विरोध किया था जिसके कारण प्रस्ताव मंज़ूर न हुआ। लवि ने उसी समय कहा था कि वे भी अब खाते चलाने को स्वतंत्र हैं। मैं बिना एक शब्द भी बदले एक बार फिर वही प्रस्ताव रखता हूँ। यह किसी भी सदस्य के लिए और हमेशा के लिए बिलकुल अंतिम छूट है। इसके बाद कोई भी छद्म खाते चलाता हुआ पकड़ा गया तो हमेशा-हमेशा के लिए उसे प्रतिबंधित किया जाएगा, चाहे वह कोई भी हो, कितना ही पुराना हो, कितना ही सक्रीय हो। चेतावनी नहीं दी जाएगी और कोई चर्चा नहीं होगी। वि:कठपुतली नियम को en:Wikipedia:Sock puppetry के बराबर सख़्त​ बनाया जाएगा।

अपनी सहमति नीचे दें। मंज़ूरी के बाद हिन्दी विकिपीडिया में किसी भी प्रकार के व्यक्तिगत हमलों और छद्म खातों से सख़्ती से निपटा जाएगा। किसी को अपने छ्द्म खाते घोषित करने हों तो अभी कर ले या फिर उनका प्रयोग फ़ौरन बन्द करे। इस नियम के लागू होते ही कोई छूट नहीं दी जाएगी। अनुनाद का जुलाई २०१२ तर्क कि क्या वह हिन्दी विकिपिडिया की मान्य नीति है या कुछ लोगों के द्वारा लिखे गये नीजी विचार। कोई और भी उसमें कुछ जोड़ दे तो वह नीति कहलायेगी या नहीं? यदि यह पृष्ठ नीति है तो इसका उल्लेख साफ-साफ क्यों नहीं किया गया है? मेरा दूसरा प्रश्न है कि इन सदस्यों को कभी कठपुतली खाता खोलने के प्रति कब चेतावनी दी गयी थी? मेरा तीसरा प्रश्न है कि इन्होने क्या उत्पात किया है? यहीं और अभी ख़त्म होता है।

यह नीति पारित होती है तो फिर अन्य नीतियाँ भी चर्चा के लिए लाई जाएँगी। मै घोषित करता हूँ कि मेरा कोई छद्म खाता नहीं है। कोई चाहे तो शौक़ से जाँच करवाए। मुझे बिलकुल भी कोई आपत्ति नहीं है। जाँच करवाने की पूर्ण स्वकृति मैं अभी और इसी समय देता हूँ। --Hunnjazal (वार्ता) 04:13, 20 मार्च 2013 (UTC)

अंतिम अवसर - इस नीति पर चर्चा या राय व्यक्त करनी हो तो अगले ७२ घंटों में करें (यानि 05:00, 25 मार्च 2013 (UTC) से पहले)। तब इसपर निर्णय लिया जायेगा। धन्यवाद! --Hunnjazal (वार्ता) 04:53, 22 मार्च 2013 (UTC)

सहमती/असहमती दर्ज करें :-

Symbol oppose vote.svg विरोध विकि पर पहले से ही इस विषयक नीति है, फिर अब पुनः इसका क्या औचित्य है? यदि कोई नीति अब तक नहीं थी तो फिर किस नीति के अन्तर्गत कई लोगो को ब्लाक किया गया है या पद से हटाया गया है.....? दो तीन लोग छद्म नामों से विकि पर अपना प्रभुत्व जमाने का प्रयास कर रहे हैं, ऐसा प्रतीत होता है।--डा० जगदीश व्योमवार्ता 17:07, 21 मार्च 2013 (UTC)

  • टिप्पणी: मित्रो! मुझे तो उपरोक्त श्रीयुत हुन्नजज़ाल व बिल विलियम कॉम्पटन दोनों के ही क्रिया कलाप पूरी तरह से भ्रमोत्पादक लग रहे हैं। दोनों ही हिन्दी विकी पर प्रबन्धक हैं और एक अन्य सदस्य लवी सिंहल के बचाव में पूरी तरह से उतर आये। इन दोनों की नैतिकता तो तब प्रमाणित होती जब ये दोनों ही अंग्रेजी विकी पर भी लवी को प्रतिबन्धित करने का सख्त प्रस्ताव लाते। इन्होंने तो वेचारे अनुनाद को ही ठिकाने लगा दिया। भगवान बचाये इन दुराग्रहग्रस्त छद्म खाता धारकों से। पता नहीं विकीपीडिया संगठन इस समय क्या कर रहा है। सद्भाव सहित- डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 13:11, 25 मार्च 2013 (UTC)
क्रांत जी आप यह क्या अजीब सी बात कर रहे हैं? लवी ने जो किया यहाँ किया उन्हें अंग्रेज़ी विकि पर कैसे प्रतिबंधित किया जा सकता है? वैसे आपको बता दूँ कि अगर वे अंग्रेज़ी विकि पर भी ऐसा कुछ करते तब भी वह प्रतिबंधित नहीं होते क्योंकि वहाँ की वर्तमान निति अनुसार अगर कोई सदस्य बर्बता नहीं करता तो उसे छद्म खाता बनाने के लिए प्रतिबंधित नहीं किया जा सकता। और आप सोच रहे हैं कि उन्हें हिन्दी विकि की वजह से वहाँ भी ब्लॉक करा जाए। रही बात अनुनाद जी के ब्लॉक की तो उन्हें कुछ महीने पहले अंतिम चेतावनी मिल चुकि थी। मैं कभी भी किसी भी सदस्य को ब्लॉक करने के पक्ष में नहीं रहता जब तक कोई ओर चारा ही न बचे इसलिए आपने देखा होगा कि मैने आपको प्रतिबंधित करने के प्रस्ताव का समर्थन नहीं किया जबकि अन्य सदस्य इसके पक्ष में थे। बिना तथ्य जाने ओरो पर कीचड़ उछालना आपको सोभा नहीं देता क्रांत जी। मैं आपकी बात से काफ़ी आघात हूँ।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 13:55, 25 मार्च 2013 (UTC)
प्रिय बिल विलियम कॉम्प्टन जी! कृपया en:Wikipedia:Sock puppetry देखें। इसमें स्पष्ठ लिखा है:
"This page in a nutshell: The general rule is one editor, one account. Do not use multiple accounts to mislead, deceive, or disrupt; to create the illusion of greater support for a position; to stir up controversy; or to circumvent a block, ban, or sanction. Do not ask your friends to create accounts to support you. Do not revive old unused accounts and use them as different users, or use another person's account. Do not log out just to vandalise as an IP address editor."
फिर भी आप आहत न होकर आघात कह रहे हैं। क्षमा करें मान्यवर! मैंने आपको प्रबन्धकीय दायित्व बोध कराने का विनम्र प्रयास ही किया है कोई आघात प्रतिघात नहीं।
ईश्वर आपको विवेक प्रदान करे। डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 17:21, 25 मार्च 2013 (UTC)

टिप्पणी[संपादित करें]

  • Hunnjazal जी, यह सचमुच एक जटिल मसला है। पूरा जंगलराज हुआ पड़ा है। लेकिन मैं आपको सुझाव दूँगा कि इस संवेदनशील स्थिति में क्षणिक आवेश में आकर काम न करें। अगर लवी ने यह कार्य खुद को स्वतन्त्र दिखाने के लिए किया तो कोई न्याय की पताका नहीं फहरा दी। लवी खुद अंग्रेजी विकि की नीतियों को उद्धृत करते रहते थे। तो इस नीति को भी जानते ही होंगे यानी सदस्य अपनी घर की यूटोपिया की परिकल्पना को सिद्ध करने के लिए विकिपीडिया पर ऐसे विनाशक प्रयोग नहीं कर सकते। और फिर केवल छद्म खाता नहीं चलाया है, बल्कि कुतर्क और जातीय विद्वेष भी फैलाया है। बिल ने कठपुतली एकाउंट न भी चलाया हो तो छद्म खाते वाले सदस्य के साथ मिलीभगत तो की ही है और व्यक्तिगत हमले भी किये ही हैं। जंगलराज का उच्छेदन करना हो तो पूरी तरह कीजिये, आपके बिल विलियम का साथ देने से अन्त में विकिनीतियों का क्या हश्र हुआ है आपने खुद ही देख लिया है। -Hemant wikikoshवार्ता 05:10, 20 मार्च 2013 (UTC)
हेमन्त जी, आपकी बात सही है। उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिये था। लेकिन अगर जगदीश व्योम को छोड़ा गया तो उनपर सज़ा कैसे लगाई जा सकती है? यही तो नीति न होने के परिणाम हैं। और आपकी कोई भी शिकायत हो, क्या आप इस बात से सहमत हैं कि छद्म खाते हमेशा के लिये वर्जित हों? तो इसपर मोहर लगाएँ। इसमें केवल हिन्दी विकि की जीत हो सकती है। मैने आपके बताए सिद्धान्त (don't disrupt wikipedia to make a point) और अन्य सम्बन्धी सिद्धांतो पर भी चर्चा की थी। अनुनाद जी ने यहाँ एक भी नीति नहीं बनने दी, इसलिये 'dont disrupt wikipedia to make a point' भी लागू नहीं है और उसके उल्लंघन की भी कोई सज़ा नहीं। आईये इस व्यवस्था को ठीक करने का प्रयास तो करें। --Hunnjazal (वार्ता) 01:23, 21 मार्च 2013 (UTC)
तो क्या इसका मतलब यह है कि लवी और आप लोग हर उस ज्ञात नीति का उल्लंघन करके दिखाने में अपनी शान समझेंगे जिसकी इस विकि पर चर्चा नहीं हुई है और लागू नहीं हो सकी है? कृपया ऐसे तर्क देकर और अनर्थ को बढ़ावा मत दीजिये। धन्यवाद। -Hemant wikikoshवार्ता 17:18, 21 मार्च 2013 (UTC)
इसका ऐसा तो कोई तात्पर्य नहीं निकलता। धन्यवाद। अगर आपको ठीक लगे तो नीति को अपना समर्थन दें और टिप्पणी करें कि आपके अनुसार यह नीति पहले से ही लागू है तथा हुन्नजज़ल बेकार की प्रक्रिया करवा रहा है, यानि हुन्नजज़ल बुरा है लेकिन नीति ठीक है। मैं उस से बहुत संतुष्ट होऊँगा। यहाँ मुझे सरोकार केवल स्पष्ट रूप से नीति बनवाने में है ताकि वर्षों बाद आने वाले किसी भी सदस्य-समाज को इसपर कभी बहस न करनी पड़े और प्रबन्धक चाहे जो भी हो उसके हाथ ऐसे बन्ध जाएँ कि कठपुतली स्थिति में उसके पास पूर्ण प्रतिबन्ध के अलावा कोई चारा न हो। भूतकाल में इस नीति पर स्पष्ट चर्चा हुई थी और इसे पारित होने से रोका गया था। इस से हम सब का और हिन्दी व हिन्दी विकिपीडिया का नुक़सान है। नीति में शंका रहेगी तो अराजकता रहेगी। मुझे भूल जाएँ। मैं आज प्रबन्धक हूँ, कल कुछ भी नहीं। चंद सालों में शायद आपको मेरा नाम भी याद न होगा। --Hunnjazal (वार्ता) 15:57, 22 मार्च 2013 (UTC)
लवी ने शॉन के रूप में कोई बर्बता हिन्दी विकि पर नहीं की थी, और इस स्थिति में मैं चैकयूज़र की जाँच का समर्थन नहीं कर सकता। हमारी निति साफ़ कहती है कि केवल बर्बता की स्थिति में ही चैकयूज़र से निवेदन किया जा सकता है। रही बात मेरे द्वारा किए गए व्यक्तिगत हमले कि तो इसके लिए आपको बता दूँ कि मैंने किसी भी सदस्य पर किसी भी प्रकार का हमला नहीं किया है या फ़िर उसके कार्य में कोई विघ्न डाला है। मुहावरों को अपनी भाषा में लिखा है और अगर आपको यह आपत्तिजनक लगता है तो भविष्य में इनका प्रयोग भी नहीं करूँगा। परन्तु आपका यह आरोप कि प्रबंधक पद का मैने दुरुपयोग किया है यह बिल्कुल गलत है। आप अब तक भी कोई ऐसा उदहारण पेश नहीं कर पाए हैं जिसमें यह तथ्य साफ़ हो। मेरे द्वारा हटाया गया हर एक लेख हटाने योग्य था अगर उसे बचाने की गुंजाइश होती तो मैं स्वयं ही उसका पुनः निर्माण करता और ऐसा करता भी हूँ।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 05:22, 20 मार्च 2013 (UTC)
कमाल है भई। पहले मुझे गलत कहा, और कहा कि मेरे पास आपके विरुद्ध कुछ नहीं है इसलिए मेरा जवाब नहीं देंगे, जब आपका यह कथन गलत सिद्ध हुआ तभी तो जवाब देने पहुँचना पड़ा ना? जब तक कुछ शॉन की पोलपट्टी नहीं खुली तब तक उसे साफ सुथरा बताते रहे। जब कुछ कुछ नैया डूबती नजर आयी तो स्टेटमेंट "इफ़" पर आ गया, और जवाब देने के लिए मेटा तक पहुँचना पड़ा ("even if he is a sock-puppet,....."- चैकयूसर पेज पर), और जब भण्डाफोड़ ही हो गया तो कह रहे हैं कि कठपुतली तो है, लेकिन हमला नहीं किया है। यानी जैसी बहे बयार पीठ पुनि तैसी कीजै। आपका कोई दीन-ईमान है या पूरी तरह अवसरवाद?
प्रिय न्यायप्रेमी सदस्यों, हमें एक-एक कदम में इतनी मेहनत इसलिए नहीं करनी पड़ रही कि हमारे पक्ष में कोई कमी है, बल्कि इसलिए करनी पड़ रही है कि हिन्दी विकिपीडिया को अन्यायी और हिन्दीविरोधी प्रबन्धक लोगों ने मिलकर पूरी तरह हाइजैक कर लिया है। इसके बाद भी अगर प्रबन्धक बिल विलियम को ही मैटा के वरिष्ठ अधिकारियों से भर्त्सना खानी पड़ी है, तो प्रिय सदस्यों आप स्वयं ही समझ लीजिये कि ये कितने खोखले नैतिक आधार पर प्रबन्धक बनकर बैठे हैं, और यह पूरा गिरोह किस तरह अनैतिकता के धरातल पर टिका है। इतना भी सिद्ध हो गया है, तो बहुत बड़ा अग्रगमन है। लेकिन बिल विलियम, हम तुम्हें प्रबन्धक पद से हटवाने के पक्ष का पुरज़ोर समर्थन करते रहेंगे। इस वाकये के बाद भी प्रबन्धक बने हुए हो तो इसे जीत मत समझना। तुम जो हो वो तो सिद्ध हो ही गया है, फिर चाहे प्रबन्धक पद पर बैठो या ब्यूरोक्रेट पद पर- प्राचीन उक्ति है..........प्राप्ते प्रासादशिखरे न काको गरुडायते ("महल की सबसे ऊँची चोटी पर बैठकर कौआ गरुड़ नहीं हो जाता, कौआ ही रहता है।") -Hemant wikikoshवार्ता 11:19, 20 मार्च 2013 (UTC)
आपकी टिपणी का उत्तर न देने से मेरा अभिप्राय उस चर्चा के दौरान से था जहाँ मैने यह कथन लिखा था। वैसे आपने सही ही कहा आपकी किसी भी टिपण्णी का उत्तर देना व्यर्थ ही है। मैं किसी जीत या हार के लिए यहाँ कार्य नहीं करता। निरंतर योगदान देता आया हूँ और देता रहूँगा, इसमें न तो आप रोक सकते हैं और न ही कोई ओर। जिस भाषा और लहजे से आपने वार्ता की है उसी प्रकार का आपको उत्तर मिला है, इसमें कोई आकर्मण नहीं है। महीनों से असक्रिय रहने के पश्चात अचानक से सक्रिय हो कर मुझ पर आक्रमण करना यह दर्शाता है कि जो कुछ आज आप कर रहें हैं वह आपके ह्रदय की दबी हुई इच्छा थी, तथा निमंत्रण मिलने पर कूद कर आ पड़े हैं। मेरे बार-बार कहने के पश्चात भी आपने किसी ऐसे लेख का उदहारण नहीं दिया जिसे मैने गलत रूप से हटाया हो, और यह आपके कुकर्मी को दिखाता है। मुझे लवी और शॉन के एक होने का बिल्कुल भी ज्ञान नहीं था और अगर होता तो मैं उनका समर्थन नहीं करता। मैं कोई चैकयूज़र नहीं हूँ जो यह सब पता कर सके। मैने उनका समर्थन किया क्योंकि उन्होंने कुछ गलत कार्य नहीं किया था और ऐसा मैं हर सदस्य के साथ करता हूँ और करता रहूँगा। मैं अन्तर्यामी नहीं हूँ जो कम्प्यूटर के पीछे बैठे व्यक्ति की असलियत जान सकूँ। इसे आप अपने किसी भी संस्कृत वाक्यांश या मुहावरे के साथ जोड़ें। मेटा कोई पुलिस थाना नहीं है और वहाँ पर कोई वरिष्ठ अधिकारी भी नहीं है, वे सदस्य भी हम जैसे हैं। और आपके ज्ञान के लिए बता दूँ कि आपके निवेदन पर स्टीवर्ड द्वारा कार्यवाही करने से मेरी कोई "भर्त्सना" नहीं हुई है और जैसे आप कहे रहे हैं उस से ऐसा लगता है कि आप वहाँ कोई जंग जीत कर आए हैं। इस गलतफहमी में न रहें। ओरो का समय बर्बाद करने की बजाय यहाँ कुछ कार्य करें।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 12:44, 20 मार्च 2013 (UTC)
मेरे कीबोर्ड से तुम्हारे जैसी गन्दी शब्दावली टाइप होने में कोई तकनीकी दिक्कत नहीं है - केवल मैंने रोक रखा है। यही व्यक्ति-व्यक्ति में अन्तर दर्शाता है। -Hemant wikikoshवार्ता 13:18, 20 मार्च 2013 (UTC)
  • हम एक-दूसरे के लिये हज़ार बुरे ही सही। अच्छी नीति से सही-ग़लत का निश्चय किसी व्यक्ति के हाथ से निकलकर नियम के रूप में अनिवार्य हो जाएगा। अगर आप छद्म खातों को बुरा मानते हैं तो इसपर नीति चालू करवाने का काम तो करें। मन हो तो लड़ाई जारी रखें। मेरा सभी से आग्रह है कि नीति को समर्थन दें। छद्म खाते वह विष हैं जो किसी भी वेब-समाज को ले डूबते हैं। इनका हमेशा के लिये अंत करवाईये। शायद ताओ-ते-चिंग की कहावत है कि हीन लोग व्यक्तियों की बाते करते हैं, मध्य लोग घटनाओं की बाते करते हैं और समझदार लोग विचारों-नीतियों की बाते करते हैं। --Hunnjazal (वार्ता) 15:15, 20 मार्च 2013 (UTC)
  • तथ्य सुधारें: लवी प्रबन्धक हैं - ऊपर यह हुन्जाज़ल जी ने कहा है। शायद वे इसे सुधारना चाहें। मुझे तो इस सूची में चार ही प्रबन्धक दिख रहे हैं, जिनमें यह नाम नहीं है। (21-मार्च-2013 को)। -Hemant wikikoshवार्ता 14:21, 21 मार्च 2013 (UTC)

सही बात है और मुझे ही ग़लती लगी थी। लवी को भी ३ महीने के लिये प्रतिबन्धित कर दिया गया है। धन्यवाद। कृप्या नीति को समर्थन दें ताकि हमारी विकी को इस अय्यारी की कुप्रथा से मुक्ति मिले। --Hunnjazal (वार्ता) 16:14, 21 मार्च 2013 (UTC)

नीति लागू[संपादित करें]

सभी ने नीति का समर्थन किया है, चाहे प्रक्रिया का न करा हो। क्रान्त जी, हेमन्त जी व (शायद) दिनेश जी के अनुसार यह नीति पहले से ही चालू थी इसलिये इसपर प्रक्रिया की कोई आवश्यकता नहीं थी। बहरहाल, किसी का इस दूसरे विषय में कोई भी मत हो, कम-से-कम इस क्षण के बाद तो यह १००% लागू है। अब के बाद किसी ने भी छद्म खाता चलाया तो उसके सभी खातों को बिना किसी चर्चा या चेतावनी के हमेशा के लिये प्रतिबन्धित कर दिया जाएगा। अगर कोई विवाद है तो केवल यह कि जुलाई २०१२ से २५ मार्च २०१३ तक भी यह लागू थी या नहीं। उसपर सब अपनी राय देने को स्वतंत्र हैं। --Hunnjazal (वार्ता) 02:51, 26 मार्च 2013 (UTC)

जी नहीं। हमारी सहमति केवल इस बात को लेकर निष्कर्षित की जा सकती है कि कठपुतली प्रथा पूर्णतया अमान्य और दण्डनीय है। लेकिन प्रस्तुत की गयी नीति उचित है या नहीं इस पर नहीं। जब कि नीति पर चर्चा व बहस हमने इसलिए नहीं की है कि सदस्यों के बीच वर्तमान प्रबन्धकों को लेकर पूर्ण अविश्वास का माहौल है (कारण चाहे जो भी हो), इसलिए इसका कोई औचित्य नहीं है। इस नीति में अनेक साफ़-साफ़ कमियाँ हैं, जिनपर चर्चा मैं तब तक नहीं करना चाहूँगा जब तक कि विश्वसनीय प्रशासन कायम नहीं हो जाता। क्योंकि उसके बिना हर बात पर वाचिक छीना-झपटी ही चलेगी, जो ऐसे धमकी-आधारित प्रशासन की मूल विशेषता है। धन्यवाद। -Hemant wikikoshवार्ता 03:58, 26 मार्च 2013 (UTC)
क्षमा कीजियेगा, इस तरह से कोई प्रबन्ध चल ही नहीं सकता। आपके अनुसार नीति पहले से ही लागू थी, इसलिये आप बाद में इसपर असहमती नहीं जतला सकते। नीति अब स्पष्ट रूप से लागू है। अगर कोई भी अब छद्म खाते चलाता हुआ मिला तो उसे प्रतिबन्धित कर दिया जाएगा। मेरी जाँच करावाने के लिये सभी स्वतंत्र हैं। ज़रूर करवाएँ और बार-बार करवाएँ। मेरी पूरी स्वकृति है। न मैने ऐसे कभी खाते चलाएँ हैं न चलाऊँगा। --Hunnjazal (वार्ता) 04:57, 26 मार्च 2013 (UTC)

टिप्पणी[संपादित करें]

हिन्दी विकि पर जिस तरह का कुत्सित घमासान चल रहा है यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है, अनेक लोगों को जो हिन्दी विकि पर समर्पण भाव से कार्य कर रहे थे उन्हें विकि छोड़ने के लिये विवश कर दिया। सही लिखा है एक गिरोह की तरह से दो तीन लोग यहाँ हैं जो इनके पक्ष में नहीं है उस पर ये टूट पड़ते हैं, यदि ये लोग विकि से हट सकें तो यह विकि के लिये बहुत हितकर होगा।--डा० जगदीश व्योमवार्ता 04:25, 20 मार्च 2013 (UTC)
रहने दें। आप स्वयं छद्म खाते चलाते पकड़े गए थे। नीति पारित न होने से बच गए। आपको भी चेतावनी है कि आज के बाद कभी छद्म खाते न चलाएँ। --Hunnjazal (वार्ता) 04:36, 20 मार्च 2013 (UTC)
धन्यवाद, चेतावनी के लिये, इसी तरह चेतावनी लिखते रहो ताकि कोई लेख बनाने के लिये विकि पर न आ सके।--डा० जगदीश व्योमवार्ता 04:44, 20 मार्च 2013 (UTC)
लेख बनाने के लिये छद्म खातों की कोई ज़रूरत नहीं। मैने हज़ारों लेख बनाएँ है और मुझे किसी छिपे खाते की आवश्यकता एक क्षण को भी नहीं हुई। आपको क्यों हुई? --Hunnjazal (वार्ता) 04:49, 20 मार्च 2013 (UTC)

एक निवेदन सभी विकीप्रेमियों से[संपादित करें]

कृपया इस पन्ने को देखने का कष्ट अवश्य करें। यहाँ पर मुझे ब्लॉक किया गया। क्योंकि यह प्रशासकीय पृष्ट था और मैं कोई प्रशासक नहीं। इसका उत्तर मैंने बहुत संक्षेप में आज वहाँ दे दिया है और यहाँ भी दे रहा हूँ। इस अनुरोध के साथ कि इसे हटायें नहीं। और यदि कुछ हो सके तो रचनात्मक कार्य करें विध्वंसात्मक नहीं। सभी लोग परस्पर वार्तालाप में सभ्यता बरतें। मुझे बस इतना ही कहना था। नमस्कार !

हे बिल विलियम कॉम्प्टन ! हे प्रिय हुन्न जज़ाल !!
किस कठपुतली के लिये, किसको किया हलाल ?
डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 08:49, 21 मार्च 2013 (UTC)

LOL, ऍम्यूज़िंग् इनफ़्। क्रान्त सा'ब बढ़िया लिखा है। (मेम्बर्स्, टेक् इट् लाइट्ली)! -Hemant wikikoshवार्ता 14:13, 21 मार्च 2013 (UTC)

क्रान्त जी, मैने शुरु से आपका आदर किया है। आप एक स्थपित लेखक हैं और अन्य क्षेत्रों में कामयाब हैं। इन बातों से मैं आपका सम्मान करता हूँ। दिल से कह रहा हूँ। कोइ सन्देह नहीं। लेकिन विकि पर कुछ नियमानुसार ही किया जा सकता है। उसी पन्ने पर ४ बिन्दुओं को देखें और आशीष जी का मत भी पढ़ें। मैं वहाँ आपको अनब्लॉक करने का प्रस्ताव रखनें को राज़ी हूँ लेकिन आप भी तो विकिमर्यादा का कुछ पालन करने की बात करें। कम से कम -

  • कोई अपवाद नहीं।
  • अपनी लिखाईयों का स्रोत के तौर पर प्रयोग नहीं। पक्षपाती स्रोतों का भी प्रयोग नहीं।
  • कोई पक्षपात नहीं - इथियोपिया में भुखमरी से करोड़ों लोग मरे। क्या यह अच्छा हुआ या बुरा? इसपर कोई पक्ष नहीं लिया जा सकता। केवल तथ्य लिखे जा सकते हैं। भारत स्वतंत्र हुआ। विकि के लिये न यह अच्छा हुआ न बुरा। केवल यही लिखा जा सकता है कि 'भारत स्वतंत्र हुआ'। 'सौभग्य से भारत स्वतंत्र हुआ' विकि के लिये ग़लत है। निर्भया की बर्बरता से बलात्कार व मौत हुई। यह ठीक हुआ या बुरा? इसपर विकि लेखों का कोई मत नहीं हो सकता।
  • मुद्राधिकार चोरी नहीं - आप कहीं से भी सामग्री नहीं ले सकते। अपने ही शब्दों मे लिखें।

हिन्दी विकिपीडिया का ध्येय केवल और केवल साधारण पाठकों के लिये एक तथ्यकोष बनाना है। हिन्दी भाषा की रक्षा नहीं है। संस्कृति की रक्षा नहीं है। भारत की रक्षा नहीं है। पाठ्यपुस्तक बनाना नहीं है। किसी विचारधारा या संग्राम को बढ़ाना नहीं है। यह सभी कार्य आप अपना ब्लॉग बनाकर दिल खोलकर करें लेकिन यहाँ मना है। --Hunnjazal (वार्ता) 16:34, 21 मार्च 2013 (UTC)

क्रांत जी, आपको किसी ने अवरोधित नहीं किया है। आप संपादन कर सकते हैं। मैने कभी भी आपको अवरोधित करने के प्रस्ताव का समर्थन नहीं किया था। परन्तु विकिपीडिया:प्रबंधक सूचनापट पर बताए मध्यम रास्ते को अवश्य पढ़ लें।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 16:37, 21 मार्च 2013 (UTC)
Dear Hindi Wikipedians, sorry for my interruption and writing in English. First, I am so dissapointed to see Anunad being blocked on hi wp and the discussion initiation in a funny way with a shayari. You all are experienced wikipedians and know Hindi Wikipedia better than me. We all respect you for your noble contribution for long when everyone else criticized about Hindi Wikipedia Community as a hostile and disorganized community. In my opinion this shows your deep love for Hindi, all of you fall in the same category including Anunad.There is no point of blocking someone on the ground of personal attack. Blocking someone on Wikipedia is a really sad thing and issues should be discussed and resolved on Village pump. Dear Hunnjazal, could you please unblock Anunad and start a discussion here? Please consider this as a request from another wikipedian friend. I'm sure the community would agree to unblock him and guide him to behave in a civil manner if in case he was indulged in any kind of personal attack. I can understand how difficult it would have been for you and Bill for spending time for both contribution and admin work and expect you guys to unblock a long time wikipedian, discuss about his mistakes (if any) and involve the entire community to resolve it. Thanks --Subha (वार्ता) 03:57, 22 मार्च 2013 (UTC)
नमस्ते Subha जी। अनुनाद जी को आसानी से ब्लॉक नहीं किया गया है। उनका सिलसिला लगभग १० महीनों तक चला था। उन्हें सख़्त चेतावनियाँ भी दी गई और जुलाई २०१२ में अन्तिम सख़्त चेतावनी मिली थी। उसके अंतर्गत और विकिपीडिया:निषेध नियमावली के अंतर्गत उन्हें हमेशा के लिये ब्लॉक किया जा सकता था, लेकिन केवल ३ मास के लिये किया गया है। लवी जी को भी ३ मास के लिये ब्लॉक किया गया है। अराजकता और छद्म खातों से स्वतंत्रता पाने के लिये यह क़दम आवश्यक थे। केवल जगदीश व्योम जी को छूट मिली है क्योंकि छद्म खातों की जुलाई २०१२ की बहस में निषेध प्रस्ताव रख पाने के लिये यह ज़रूरी हुआ था। क्रान्त जी कवि व लेखक हैं - उनका छ्न्द में अपनी व्यथा व्यक्त करना किसी को ठेस नहीं पहुँचा रहा। सभी दुखी हैं - मुझे लवी जी की भी लम्बी शिकायत आई। यह बंदी की दुविधा की दशा है। सभी सुव्यवस्था चाहते हैं लेकिन दूसरों पर भरोसा नहीं कर पाते। इस स्थिति में हिन्दी विकि की भलाई के लिये मुझा बुरा बनने में कोई झिझक नहीं। --Hunnjazal (वार्ता) 14:30, 22 मार्च 2013 (UTC)

विकिपीडिया क्या नहीं है - प्रस्तावित नीति[संपादित करें]

बहस को देखते हुए इसपर एक नया विभाग बनाया गया है जिसमें 'नीति पहले से ही लागू है' का मत देने के लिये स्थान दिया गया है। इस विभाग का प्रयोग न करें। धन्यवाद! --Hunnjazal (वार्ता) 03:12, 26 मार्च 2013 (UTC)

सदस्य-साथियों! हर मुख्य विकिपीडिया पर एक 'विकिपीडिया क्या नहीं है' नामक नीति होती है। हिन्दी विकिपीडिया के लिये भी बनाई गई थी लेकिन यह कभी पारित नहीं हुई। कृप्या विकिपीडिया:विकिपीडिया क्या नहीं है पर नज़र डालें और अपना मत रखें। यह लगभग पूरी तरह अंग्रेज़ी विकिपीडिया के लेख पर आधारित है, जिसमें वहाँ के दर्ज़नों सदस्यों और ४० लाख से अधिक लेख बनाने का अनुभव निचोड़ा गया है। रूसी, जापानी, मराठी, चीनी और अन्य प्रमुख भाषाओं की नीतियाँ इसी पर आधारित हैं। क्या आप इस नीति का समर्थन करेंगे? मत दें -

सहमति[संपादित करें]

विरोध[संपादित करें]

  • Symbol oppose vote.svg विरोध- हुन्नजज़ल जी! आप विकि के लिये नीति बनाने की बात का प्रस्ताव रख रहे हैं, कृपया यह बताएँ कि हिन्दी विकिपिडिया पर कौन सी नीति आज तक पारित हुई है, यदि कोई नीति पारित हुई है तो कृपया ऐसे दो उदाहरण दें। यदि आप की बात मान ली जाय तो इसका आशय यह है कि आप आज तक बिना किसी 'प्रभावी नीति' के ही बड़े-बड़े निर्णय लेते रहे हैं। मुझे तो लगता है कि ऐसे किसी प्रस्ताव की कोई आवश्यकता ही नहीं है। विकि के जिस किसी नीति के पेज पर साफ-साफ यह लिखा है 'यह नीति अभी लागू नहीं है' केवल वे ही नीतियाँ लागू नहीं हैं। यदि आप चाहें तो उन पर चर्चा की जा सकती है। बाकी सब नीतियाँ निःसन्देह प्रभावी हैं। अतः आपके इस प्रस्ताव का कोई औचित्य नहीं है, मैं इसका विरोध कर रहा हूँ।--डा० जगदीश व्योमवार्ता 14:34, 22 मार्च 2013 (UTC)
    • यानि प्रस्ताव प्रक्रिया का विरोध है, लेकिन नीति का समर्थन क्योंकि आपके अनुसार यह पहले से ही लागू है और इसपर मत देनें की ज़रूरत ही नहीं। आपका मत मुझे समझ आ गया और मुझे प्रक्रिया की निन्दा से कोई आपत्ति नहीं। आप मेरी व प्रक्रिया की निन्दा करने को पूर्णत: स्वतंत्र हैं। निर्भय होकर करें। केवल अपवाद न करें और उल्टे-सीधे नाम न बोलें। धन्यवाद। --Hunnjazal (वार्ता) 14:47, 22 मार्च 2013 (UTC)
  • विकि नीति प्रस्ताव विषयक सीधे से प्रश्न का सीधा उत्तर यदि आपके पास है तो कृपया दें ताकि अन्य लोग जो अपने बहुमूल्य समय में से कुछ समय विकि के लिये निकाल कर यहाँ सहयोग करना चाहते हैं और कर रहे हैं, वे दिग्भ्रमित न हों।--डा० जगदीश व्योमवार्ता 17:24, 22 मार्च 2013 (UTC)
    • आप इस नीति को पहले से ही लागू स्वीकारते हैं इसलिये इस सन्दर्भ में बाक़ि कहने-सुनने को कुछ नहीं बचा। धन्यवाद! --Hunnjazal (वार्ता) 18:29, 22 मार्च 2013 (UTC)
  • हुन्नजज़ल जी! "केवल अपवाद न करें" से आपका क्या अभिप्राय है ? कृपया सप्ष्ट करें--डा० जगदीश व्योमवार्ता 15:55, 22 मार्च 2013 (UTC)
    • सभ्य रहें। कीचड़ न उछालें और गाली-गलोच न करें। शुभ नियत पर सन्देह न करें। उदाहरण:
      • 'हुन्नजज़ल अपने पद का दुरुपयूग कर रहे हैं। उन्हें पद-मुक्त किया जाना जहिये। उन्होनें अनुनाद को ब्लॉक करके हिन्दी विकि को हानि पहुँचाई है।' - खुल कर कहिये।
      • 'हुन्नजज़ल मक्कार है। उसने षडयंत्र के तहत अनुनाद को ब्लॉक किया है। उसके दिल में खोट है।' - मत कहिये।
      • 'जगदीश जी छद्म खाते चला रहे थे। उन्हें ब्लॉक किया जाना चाहिये।' - मुझे यह कहने की अनुमति है।
      • 'जगदीश जी ने मक्कारी से खाते चलाए। आईये मिलकर उन्हें उखाड़-बाहर करें।' - मुझे यह कहने की अनुमति नहीं है।
गुट बनाने के प्रयास ('आओ मिलकर किसी एक सदस्य या सदस्य-समूह से निबटें') भी विकिनीति के विरुद्ध होते हैं, और इस प्रस्तावित नीति (जिसे आप पहले से ही लागू मानते हैं) में इसे औपचारिक रूप से बंद किया जायेगा। मसलन अगर आप रॉबर्ज़ केव अध्ययन पढ़ें तो स्पष्ट है कि लड़ाई छेड़ने के लिये अधिक विचारधारा का अंतर भी नहीं चाहिये होता है। दस हिन्दी के समर्थक हों तो उनमें भी गुट आसानी से बन सकते हैं। नीति से आम सदस्य शक्तिशाली लोगों के प्रभाव से सुरक्षित होते हैं - यानि प्रबन्धकों व गुटों, दोनों के प्रभाव पर लगाम पड़ती है। इसका मुझसे, आपसे, बिल जी से या अनुनाद जी से या सन् २०१३ की हिन्दी विकि की स्थिति से भी कोई लेना-देना नहीं। अराजकता की स्थिति हानिकारक होती है क्योंकि उसमें साधारण स्थिति में विनम्र व सभ्य रहने वाले लोग भी असभ्य गुटों में सम्मिलित होने पर मजबूर हो जाते हैं जिनका नेता अक्सर कोई बहुत असभ्य व्यक्ति ही होता है। यह हर सामाज में देखा जा सकता है। नियम-स्थापना ही इस से छुटकारा पाने का एकमात्र मार्ग है। --Hunnjazal (वार्ता) 16:23, 22 मार्च 2013 (UTC)
  • आपके अवचेतन मन में जो कुछ था उसे आपने उदाहरण के रूप में व्यक्त कर दिया, धन्यवाद--डा० जगदीश व्योमवार्ता 16:53, 22 मार्च 2013 (UTC)
    • यह सत्य हो भी तो इस चर्चा से पूर्णत: असम्बन्धित है - औपचारिक भाषा में व्यक्ति-केन्द्रित कुतर्क। यदि आप कहते कि 'अफ़्रीका के मैदानों में जिराफ़ घूम रहें हैं' उसका सम्बन्ध भी इसी के बराबर निकलता। फिर भी आपकी बिन-मांगी मनोवैज्ञानिक राय का शुक्रिया। लेकिन मशवरे देते हुए ध्यान रखें कि सरकार आपकी डॉक्टरी ही ज़ब्त न कर ले। :-) --Hunnjazal (वार्ता) 18:29, 22 मार्च 2013 (UTC)
      • विकिपीडिया से जुड़े मित्रो ! हुन्नजज़ल जिस तरह से टिप्पणी कर रहे हैं उसे देख कर आश्चर्य हो रहा है कि कोई ऐसा व्यक्ति जो विकि प्रबंधन से जुड़ा हो वह ऐसी बेहूदा टिप्पणी भी कर सकता है। टिप्पणी का अंश देखें- "लेकिन मशवरे देते हुए ध्यान रखें कि सरकार आपकी डॉक्टरी ही ज़ब्त न कर ले।" सदस्य कृपया इस टिप्पणी को देखें और स्वयं निर्णय लें कि क्या "हुन्नजजल" को इस तरह की टीप्पणी करते रहने देना चाहिये?--डा० जगदीश व्योमवार्ता 07:23, 26 मार्च 2013 (UTC)
  • इस टिप्पणी पर सदस्यों से विचार आमंत्रित किये गये हैं, आप से नहीं, इसलिये सदस्यों के विचारों की प्रतीक्षा है--डा० जगदीश व्योमवार्ता 07:56, 26 मार्च 2013 (UTC)

आप अवचेतना और न जाने क्या-क्या टटोलकर मेरे ऊपर मनोवैज्ञानिक शोध का ग़ैर-क़ानूनी प्रयास करेंगे तो भला और क्या होगा? कहाँ की बात खेंचकर कहाँ ले जा रहें हैं और इसमें इतना बुरा मनाने वाली ऐसी क्या बात थी? ख़ैर, बाक़ी सब एक ओर। दृढ़ता से प्रण करें कि अब कभी छद्म खाते न चलाएँगे। बस, यही बहुत बड़ी बात होगी। --Hunnjazal (वार्ता) 07:42, 26 मार्च 2013 (UTC)

टिप्पणी[संपादित करें]

ध्यान दें कि इस से प्रबन्धकों की शक्तियों पर भी रोक लगती है, क्योंकि उन्हें भी इसके दायरे में काम करना होगा। --Hunnjazal (वार्ता) 07:37, 22 मार्च 2013 (UTC)

प्रिय हुंजाजल आप किस प्रकार से टिप्पणियां कर रहे हैं? मैं आपसे अनुरोध करता हूँ कि कृपया खुद को विवादों से दूर रखें और अपने योगदानों पर ध्यान दें। आप मेरे प्रिय योगदान कर्ता हैं इसलिए मैं आपसे अपील करता हूं कि अपनी सारी उर्जा अच्छे लेख बनाने में खर्च करें। Dinesh smita (वार्ता) 18:50, 23 मार्च 2013 (UTC)
प्रिय दिनेश जी! यद्यपि मुझसे किसी ने आग्रह नहीं किया था फिर भी वर्तमान हालात को देखते हुए मैं यहाँ पर अनुनाद सिंह के प्रस्ताव का समर्थन करने को विवश हुआ। यदि इस प्रकार छद्म खाता धारक प्रबन्धक पद हथिया कर कठपुतलियों के इशारे पर योगदान कर्ताओं को परेशान करने लगेंगे तो कम से कम मुझ जैसा व्यक्ति तो विकिपीडिया से दूर ही रहना पसन्द करेगा। क्योंकि सबसे अधिक मुझे ही परेशान किया गया है। आप मेरे हिन्दी अंग्रेजी संस्कृत विकी के योगदान व मेरे वार्ता पृष्ठों का अवलोकन कर सकते हैं। वैसे भी बहुत सारे लोग दूर जा चुके हैं और प्रशासन कुम्भकरण की नींद सो रहा है। कृपया उसे जगाएँ --डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 14:14, 25 मार्च 2013 (UTC)

अब मैं नई दृष्टी से यह दोबारा पढ़ रहा हूँ। जिस समय क्रान्त जी ने यह व्यक्तव्य लिखा उस समय वह स्वयं छद्म खाता चला रहे थे। यह बेहद दुखद है। लवी जी की तरह, उन्हें भी केवल ३ मास के लिये ब्लॉक किया गया है - क्योंकि नीति लागू नहीं थी। मेरा बस चलता तो मैं उन दोनों को ही सदैव के लिये अवरोधित कर देता लेकिन नियम से मेरे हाथ बन्धे हैं। लेकिन जब वे ३ मास बाद वापस आएँ उन्हें ज़रूर सोचना चाहिये कि छद्म खातों से हमारी विकि को कितनी हानि हुई है। वे इतने पढ़े-लिखे ज्ञानी-ध्यानी व्यक्ति हैं। क्या उनकी यही मंशा है? किसी से भिन्न राय रखना कोई बुरी बात नहीं, लेकिन इस प्रकार के साधन से हिन्दी जगत का नुक़सान ही हो सकता है। --Hunnjazal (वार्ता) 08:53, 26 मार्च 2013 (UTC)

Blanking section at बाड़मेर[संपादित करें]

I was asked by the script to inform Chaupal about this section blanking edit performed by me. So, here it is. Admins kindly let me know if this constitutes vandalism too. - 158.144.67.95 (वार्ता) 04:59, 24 मार्च 2013 (UTC)

Perfectly fine. Thanks for reverting vandalism.<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 13:28, 24 मार्च 2013 (UTC)


व्यस्तता सूचना[संपादित करें]

मैं लगातार अति व्यस्त होने के कारण किसी नीति/अनीति के विवाद पर 25 मार्च तक अपनी राय नहीं दे सकूँगा (जाहिर है अति अपवादात्मक स्थिति को छोड़कर)। तब तक न्याय नहीं तो प्राकृतिक- न्याय बनाए रखें। और इसका हुंजाज़ल जी द्वारा दी गयी समयसीमा से कोई संबंध नहीं है। धन्यवाद। -Hemant wikikoshवार्ता 10:49, 24 मार्च 2013 (UTC)

विकिपीडिया क्या नहीं है #२[संपादित करें]

क्योंकि सदस्यों में कुछ मतभेद है, इसलिये इसपर चर्चा को ज़रा बदला जा रहा है। हर मुख्य विकिपीडिया पर एक 'विकिपीडिया क्या नहीं है' नामक नीति होती है। हिन्दी विकिपीडिया के लिये भी बनाई गई थी। कृप्या विकिपीडिया:विकिपीडिया क्या नहीं है पर नज़र डालें और अपना मत रखें। यह लगभग पूरी तरह अंग्रेज़ी विकिपीडिया के लेख पर आधारित है, जिसमें वहाँ के दर्ज़नों सदस्यों और ४० लाख से अधिक लेख बनाने का अनुभव निचोड़ा गया है। रूसी, जापानी, मराठी, चीनी और अन्य प्रमुख भाषाओं की नीतियाँ इसी पर आधारित हैं। इस नीति पर मत दें -

प्रक्रिया अनावश्यक है क्योंकि नीति पहले से ही लागू है[संपादित करें]

  • -

नीति लागू नहीं है लेकिन हो जानी चाहिये[संपादित करें]

नीति लागू नहीं है और होनी भी नहीं चाहिये[संपादित करें]

  • -

टिप्पणी[संपादित करें]

किसी भी प्रकार की टिप्पणी करें लेकिन अपवाद न करें। धन्यवाद। --Hunnjazal (वार्ता) 03:09, 26 मार्च 2013 (UTC)

हेमन्त जी, नीचे की बात का इस नीति से सम्बन्ध है इसलिये यहाँ कर रहा हूँ। आपने नीचे कहा कि विकि-सिद्धान्तों के पहले से ही लागू होने की बात की है। यह नीति पूर्णत: विकि सिद्धान्त है - en:Wikipedia:What Wikipedia is notक्या मैं इसे आपकी ओर से पहले से ही लागू मानू? कृप्या स्पष्ट करें। --Hunnjazal (वार्ता) 16:50, 26 मार्च 2013 (UTC) मैने आपका व्यक्तव्य दोबारा पढ़ा और आपकी इसके बारे में राय स्पष्ट है इसलिये और स्पष्टता की ज़रूरत नहीं। आप इसे लागू मानते हैं। मेरे लिये यह काफ़ी है। आपको शायद प्रक्रिया अखर रही है और मैं इस अखरन को बिन बात के कुरेदना नहीं चाहता। धन्यवाद! मैं अन्यों को इस नीति पर विचार रखने के लिये २ दिन और देना चाहता हूँ और उसके बाद ही इसे भी लागू घोषित करूँगा। यह सच्चाई से दर्ज किया जायेगा कि नीति तब से लगू तो है ही लेकिन कुछ सदस्यों के मत में उस से पहले ही लागू थी। --Hunnjazal (वार्ता) 05:28, 27 मार्च 2013 (UTC)

लागू[संपादित करें]

यह नीति लागू है। सम्भव है कि इसपर किसी प्रक्रिया की आवश्यकता ही नहीं थी लेकिन, बहरहाल, यह आज (३१ मार्च २०१३) से तो लागू अवश्य ही है। यह बात दर्ज की जायेगी कि कुछ सदस्यों के मत में यह पहले से ही लागू थी। --Hunnjazal (वार्ता) 10:04, 31 मार्च 2013 (UTC)

कुछ गिने चुने प्रस्तावों की प्रासांगिकता[संपादित करें]

  • हुन्नजज़ल जी एवं विलियम बिल काम्पटन जी कृपया यह स्पष्ट करने का कष्ट करें कि विकि पर अब तक कौन-कौन सी नीति लागू नहीं हैं?
  • कुछ गिनी चुनी नीतियाँ लागू करने के लिये ही बार-बार क्यों प्रस्ताव लाये जा रहे हैं?
  • विकि पर कार्य करने की इच्छा रखने वाले सदस्यों को निरंतर परेशान किया जा रहा है परिणमस्वरूप सदस्य विकि से दूर होते चले जा रहे हैं। विकि प्रशासन से सदस्यों का मोह भंग होता जा रहा है जिसका कारण विकि प्राशासन द्वारा सदस्यों का सहयोग कर उन्हें परेशान करने की प्रवृत्ति है। (टिप्पणियों में इसे देखा जा सकता है)--डा० जगदीश व्योमवार्ता 07:46, 26 मार्च 2013 (UTC)
जगदीश-उर्फ़-आलोचक-उर्फ़-अवनीश-उर्फ़-सुगन्धा-उर्फ़-फ़्रॉक्लिन जी को हमेशा के लिये ब्लॉक किया जा चुका है क्योंकि यह चेकयूज़र जाँच में छद्म खाते चलाते हुए पाए गये हैं और इन्हें कई महीने पहले अंतिम चेतावनी दी जा चुकी थी। सभी से आग्रह है कि छद्म खाते बिलकुल प्रयोग न करें। क्रान्त जी और लवी जी नीति पहले से न लागू होने से केवल ३-३ मास के लिये अवरोधित हैं लेकिन अगर कोई २५ मार्च के बाद अय्यार खाते चलाता सबित हुआ तो उसे बिना चेतावनी और बिना चर्चा के ब्लॉक कर दिया जाएगा। अपना मत प्रकट करने को सभी पूरे स्वतंत्र हैं लेकिन अपवाद न करें। धन्यवाद। --Hunnjazal (वार्ता) 08:18, 26 मार्च 2013 (UTC)

नई चेकयूज़र जाँच[संपादित करें]

हाल में बिल जी को एक ऑस्ट्रेलियाई विश्वविद्यालय द्वारा की गई मुद्राधिकार की चोरी की रपट के बाद एक पृष्ठ से सामग्री हटानी पड़ी। यह अनुनाद जी द्वारा बनाया गया था। उन्होनें क्रोधित होकर बिल को प्रबन्धक-पद से हटाने का प्रस्ताव रखा। इसमें कई ऐसे सदस्यों के मत आये जिन्हें विकिपीडिया पर कम ही देखा जाता था। इनकी हाल में चेकयूज़र जाँच हुई है। नतीजे -

  • Krantmlverma और Awadhesh.Pandey एक ही व्यक्ति के छद्म खाते हैं। नीति अभी लागू हुई है इसलिए जो लवी जी के साथ किया गया वही यहाँ भी होगा। Awadhesh.Pandey हमेशा के लिये अवरोधित किया जा रहा है और क्रान्त जी ३ महीनों के लिये।
  • Dr.jagdish और अवनीश सिंह चौहान एक ही व्यक्ति के छद्म खाते हैं। सम्भव है कि Hemant Shesh भी इसी व्यक्ति का खाता हो। जगदीश जी को पहले भी पकड़ा जा चुका है और उन्हें अंतिम चेतावनी दी गई थी। इसलिये Dr.jagdish और अवनीश सिंह चौहान को हमेशा के लिए अवरोधित कर दिया गया है। Hemant Shesh जी पर नज़र रखी जाएगी लेकिन उनके विरुद्ध कोई क़दम नहीं उठाया जा रहा।
  • अनुनाद सिंह की भी जाँच हुई लेकिन उनका इन खातों से कोई सम्बन्ध नहीं पाया गया है। इसलिए वे सन्देह से मुक्त हैं और समयानुसार लगभग ३ मास बाद फिर आ सकेंगे।

सभी से आग्रह है कि छद्म खातों का प्रयोग बिलकुल न करें। अब एक सख़्त नीति लागू है और इसके बाद अवरोधन हमेशा के लिये किया जाएगा। इस बात पर टिप्प्णी करनी हो तो नीचे के टिप्पणी नामक अनुभाग में करें। धन्यवाद। --Hunnjazal (वार्ता) 08:08, 26 मार्च 2013 (UTC)

नई चेकयूज़र जाँच पर टिप्पणी[संपादित करें]

अगर उपरलिखित पर टिप्प्णी करनी हो तो यहाँ करें। धन्यवाद। मेरे लिये इसमें सबसे अचम्भे वाली बात है कि इन खातों में कितनी चतुराई से व्यक्तित्व (persona) बनाए गये हैं। कुछ अन्य खातों पर भी मेरी दृष्टी है जिनमें इनसे मिलते-जुलते लक्षण हैं। सम्भव है कि यह वास्तविक व्यक्तियों की जीवनीयाँ लेकर बनाए गये हों। --Hunnjazal (वार्ता) 08:35, 26 मार्च 2013 (UTC)

  • यदि ये सदस्य कठपुतली बनाकर कार्य कर रहे हों तो सर्वथा ग़लत है। भले ही इन्होंने शॉन की तरह जातीय विद्वेष न फैलाया हो, भले ही इन्होंने लवी सिंघल की तरह दूसरे चोगे में आकर हिन्दीविरोधी नीतियाँ थोपने की कोशिश न की हो, और भले ही शॉन की तरह हिन्दी विकि के सदस्यों को मानसिक यातना नहीं दी हों, लेकिन कठपुतली बनना अपने आप में गलत है, क्योंकि यह आपके इरादों में संशय पैदा कर देता है, चाहे वे कितने भी पवित्र क्यों न हों। हालाँकि अगर वे केवल एक आईपी से ऍडिट करने वाले कई सारे परिचित लोग हों तो उनपर यह टिप्पणी लागू नहीं होती, अगर ऐसा नहीं है तो यह हिन्दी विकि के लिए हानिकारक तरीका है। -Hemant wikikoshवार्ता 08:54, 26 मार्च 2013 (UTC)
  • हेमन्त जी, अब के बाद चाहे कोई भी हो उसे छद्म खातों की अनुमति नहीं होगी। जहाँ चेकयूज़र आशंका जतलाएगा वहाँ कोई कार्यवाही नहीं की जाएगी। हेमन्त शेष जी इसी श्रेणी में आते हैं। बिना कारण किसी के खातों की तहकीकात नहीं की जाएगी। २५ मार्च से पहले यदि कोई छद्म खाते चला रहे थे लेकिन अब नहीं चला रहे हैं तो भी हमेशा का प्रतिबन्ध नहीं लगेगा। मुझे किसी को भी ब्लॉक करना बहुत नापसन्द है लेकिन यह छद्म खाते हमारे लिये रोग बन गये हैं। इनसे बिना भेद-भाव के निबटना ही होगा। कृप्या वि:नहीं की नीति भी देखें। इसमें सभी हिन्दीभाषियों का लाभ है और यह वही है जिसे कई अन्य भाषाओं ने अपने लाभ के लिये अपनाया है। स्पष्ट नीति से मनमानी और झगड़े दोनों कम होते हैं। अगर आप इसे पहले से ही लागू मानें तो मेरी स्पष्ट शब्दों में निन्दा करते हुए यही कह दें। मुझे कोई आपत्ति न होगी। --Hunnjazal (वार्ता) 10:10, 26 मार्च 2013 (UTC)
इस नीति को भली भाँति पढ़ने के बाद ही मैं कोई राय दे सकूँगा, और इसमें कुछ समय लग सकता है। इसके कुछ बिन्दुओं पर मुझे आपत्ति है। लेकिन जो बातें विकिपीडिया (सम्पूर्ण) के स्पष्ट सिद्धान्त हैं उन्हें तय करने का हमें अधिकार नहीं, इसलिए वे पहले से ही लागू हैं। -Hemant wikikoshवार्ता 15:04, 26 मार्च 2013 (UTC)
इसपर नीति के अनुभाग में जवाब है - कृप्या वहाँ देखें। --Hunnjazal (वार्ता) 16:54, 26 मार्च 2013 (UTC)
  • सूचना: चेकयूज़र में हेमन्त जी ने अन्य प्रशन पूछे जिनका लक्ष्य यह पता लगाना था कि इन खातों में अलग होने कि सम्भावना है कि नहीं। उत्तर है कि नहीं। छद्म खाते एक ही कम्प्यूटर से चलाए गए हैं। फिर चेतावनी है कि कोई भी ऐसे खाते न चलाए। धन्यवाद। --Hunnjazal (वार्ता) 16:54, 26 मार्च 2013 (UTC)
  • एक बार फिर : अगर योगदान जारी रखने हैं तो छद्मखातों से दूर रहें और अपनी बुद्धि लेख बनाने, सुधारने और तर्कपूर्ण बहस में लगायें, चाहे आपका पक्ष कुछ भी हो। हास्यास्पद है कि पुनरीक्षक से लेकर पुराने सदस्यों तक दर्जे वाले लोगों को यह समझ में नहीं आ पा रहा है कि छद्मखातों का यही हाल होगा, चाहे कोई भी चलाए, चाहे किसलिए भी चलाए। -Hemant wikikoshवार्ता 11:44, 27 मार्च 2013 (UTC)

देशों के प्रान्त[संपादित करें]

बोलिविया के राज्य - मुख्य लेख है लेकिन हर राज्य पर लेख नहीं

सभी को नमस्ते! एक चीज़ जो मुझे बहुत अरसे से अखरती आई है, वह है कि हिन्दी विकिपीडिया में बहुत से देशों के प्रान्तों के लेख नहीं हैं। जहाँ-तहाँ मैं यह बनाता रहा हूँ, मसलन -

इन सब में एक मुख्य लेख और फिर हर प्रान्त के लिये एक लेख बनाने की ज़रूरत होती है। इनके लिये श्रेणियों की भी आवश्यकता होती है। कुछ अभी अधूरे हैं, जैसे कि रूस के गणतंत्र और बहुत से देशों के तो हैं ही नहीं। अगर कोई अन्य सदस्य एक देश लेकर उसके प्रान्त बनाने क ज़िम्मा ले, तो बहुत ही अच्छा हो। अगर आप मुझे ख़बर कर दें कि आप किस देश पर काम करने वाले हैं तो सन्दर्भ और श्रेणियाँ बनाने का भार मैं ले लूँगा। आप चाहे तो केवल लेख ही बनाएँ। इसमें किसी को रुचि है? अगर चाहें तो उदाहरण के लिए उदमूर्तिया देखें - यह रूस का एक गणतंत्र है। धन्यवाद! --Hunnjazal (वार्ता) 05:02, 1 अप्रैल 2013 (UTC)

विशेष टिप्पणी - मैने खाड़ी देशों पर लेख बनाने का ख़ास प्रयास किया था क्योंकि यहाँ बहुत से हिन्दी-भाषी जाते हैं जिन्हें अंग्रेज़ी नहीं आती और जो अरबी भी नहीं बोलते। ऐसे लोगों के पास अपने आसपास के वातावरण के बारे में ज्ञान मिलने के स्रोत बहुत कम हैं और वे अंग्रेज़ी-भाषियों के रहमोकरम पर निर्भर हो जाते हैं। यदी आपकी रुची हो तो सरलतम हिन्दी में इन क्षेत्रों के शहरों, ज़िलों, प्रान्तों, मार्गों, समुदायों, इत्यादि के लेख बनाए तो बहुत ही अच्छा होगा। --Hunnjazal (वार्ता) 05:13, 1 अप्रैल 2013 (UTC)

हुन्नजज़ल जी, आपसे प्रेरणा ले कर मैने सूरीनाम के जिलो पर लेख बनाना प्रारंभ कर दिया है। दुर्भाग्यपूर्ण इनसे सम्बंधित संदर्भ पाना असम्भव सा लगता है :( <>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 13:56, 3 अप्रैल 2013 (UTC)
धन्यवाद! ब्रोकोपोंडो जिला के लिये मैने जर्मन विकि से स्रोत लिया है। और भी ढूंढूंगा। बोलिविया के विभाग के सभी लेख अब तैयार हैं, हालांकि उनमें और सामग्री अच्छी हो। --Hunnjazal (वार्ता) 08:53, 9 अप्रैल 2013 (UTC)

एक और नयी चेकयूसर जाँच के परिणाम[संपादित करें]

सूचना: हुन्नजज़ल जी ने एक नयी चेकयूसर जाँच करवायी है, जो यहाँ है, जिसके परिणाम में स्टीवर्ड्स ने अपने पिछले परिणामों का पुनरीक्षण करते हुए कुछ फेरबदल भी किया है। ये परिणाम इस प्रकार हैं (मूल का अनुवाद)-

"संजीव कुमार सिन्हा सीयू डेटा के अनुसार दूसरे सन्दिग्ध लोगों से सम्बद्ध नहीं, यानी सम्बद्ध नहीं हैं।
Praveentrivedi009 और Vpnagarkar के एक होने की सम्भावना, यानी सम्भावना है।
Manidivakar और Mala chaubay सम्भवतः, यानी सम्भवतः कठपुतली हैं। और ऐसे ही Hemant Shesh और अवनीश सिंह चौहान।

मैं यह भी जोड़ना चाहता हूँ कि अवनीश सिंह चौहान और Dr.jagdish कन्फ़र्म्ड् "नहीं" हैं, वे केवल सम्भाव्य हैं, यानी सम्भाव्य।" - उद्धरण समाप्त।


मुझे लगता है कि इसके बाद Dr.jagdish को ब्लॉक करना न्याय की दृष्टि से अनुचित है। और इसी प्रकार अवनीश सिंह चौहान खाते को भी। मुझे किसी से पक्षपात नहीं है। आपने देखा होगा, इस जाँच से पहले मैंने भी नकली खातों के प्रति कड़ा रुख रखा है। लेकिन केवल इस शर्त पर कि अगर वे वास्तव में नकली खाते हैं। अगर ऐसा नहीं है तब भी उन्हें ब्लॉक केवल वही व्यक्ति रखेगा जो विकि पर अपने लिए इतना आदर्श वातावरण चाहता हो कि एक भी व्यक्ति उससे प्रश्न करने वाला न बचे। आगे भी अगर इनमें से कोई (पक्के प्रमाणों के साथ) नकली खाते चलाता पाया जाता है, तो ब्लॉक करना ही उचित होगा। धन्यवाद। -Hemant wikikoshवार्ता 06:43, 1 अप्रैल 2013 (UTC)

जी हाँ, दोनों का ब्लॉक हटाया जा चुका है। अगर सन्देह हो तो ब्लॉक नहीं होना चाहिये। लेकिन चेकयूज़र की बात सही है - 'Anyway, don't worry about these zombie accounts comming back only for voting. We won't take them into account because we can't really say that people comming back after years of absence are still members of the community. Sockpuppets or not, their opinion has not much weight in the vote.' कम अर्थपूर्ण योगदान वाले सदस्यों की टिप्पणियाँ कम वज़न रखती हैं। यह चेकयूज़र जाँच में सन्देह के कारण ही है, यानि यह छद्म खाते हो सकते हैं। Dr.jagdish वि:युद्धक्षेत्रनहीं और वि:प्रचारनहीं पर ग़ौर करें और अपनी ऊर्जा अच्छे लेख बनाने में लगाएँ तो अच्छा हो। धन्यवाद! --Hunnjazal (वार्ता) 07:56, 1 अप्रैल 2013 (UTC)
इस निवेदन को मानने के लिए धन्यवाद। पुनः स्पष्ट कर दूँ, यह किसी व्यक्ति विशेष के लिए नहीं, केवल प्रक्रिया न्यायसंगत रखने के लिए कहा गया था। -Hemant wikikoshवार्ता 08:31, 1 अप्रैल 2013 (UTC)