लल्ल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लल्लाचार्य (७२०-७९० ई) भारत के ज्योतिषविद् और गणितज्ञ थे। वे शाम्ब के पौत्र तथा भट्टत्रिविक्रम के पुत्र थे। उन्होने 'शिष्यधीवृद्धिदतन्त्रम्' (= शिष्य की बुद्धि बढ़ाने वाला तन्त्र) नामक एक ग्रन्थ की रचना की। इस ग्रन्थ की रचना का कारण बताते हुए लल्ल ने स्वयं को आर्यभट का शिष्य बताया है।

इसी ग्रन्थ में उन्होने 'अमरगति' (परपिचुअल मोशन) की सबसे पहली लिखित व्याख्या की है। इसमें २२ अध्याय हैं। प्रथम १३ अध्याय 'गणिताध्याय' के अन्तर्गत आते हैं तथा शेष ९ अध्याय मिलाकर 'गोलाध्याय' कहलाते हैं। लल्लाचार्य की यह एकमात्र खगोलशास्त्रीय कृति है जो जीवित बची है।

गोलाध्याय के सातवें अध्याय ('मिथ्याज्ञान' नामक बीसवाँ अध्याय) में लल्ल ने पुराणों में कही गईं अनेकों ज्योतिषीय विचारों की आलोचना की है (जैसे धरती के चपटी होने का विचार, सूर्य का चन्द्रमा के अधिक निकट होना, राहु के कारण ग्रहण का होना आदि)।

कृतियाँ[संपादित करें]

  • शिष्यधीवृद्धिदतन्त्रम्
  • ज्योतिषरत्नकोश - यह ग्रन्थ ३०० वर्षों तक भारत का सबसे प्रसिद्ध ज्योतिष ग्रन्थ रहा।

शिष्यधीवृद्धिदतन्त्र[संपादित करें]

इस ग्रन्थ में कुल २२ अध्याय हैं जो दो भागों में विभक्त हैं-

(क) गणिताध्याय

1. On the mean longitudes of the planets.

2. On the true longitudes of the planets.

3. On the three problems involving diurnal motion.

4. On lunar eclipses.

5. On solar eclipses.

6. On the syzygies.

7. On the heliacal settings and risings of the planets.

8. On the shadow of the moon.

9. On the lunar crescent.

10. On planetary conjunctions.

11. On conjunctions of the planets with the stars.

12. On the pātas of the sun and moon.

13. Conclusion.

(ख) गोलाध्याय

1. On graphical representations.

2. On the construction of the celestial sphere.

3. On the principles of mean motion.

4. On the terrestrial sphere.

5. On the motions and stations of the planets.

6. On geography.

7. On erroneous knowledge.

8. On instruments.

9. On certain (selected) problems

सन्दर्भ ग्रन्थ[संपादित करें]

  • Bina Chatterjee: Sisyadhivrddhidatantra of Lalla (critical edition with Commentary of Mallikarjuna Suri). 1969–1971. Indian National Science Academy, 1981.
  • Bina Chatterjee: Sisyadhivrddhidatantra of Lalla (English translation with mathematical notes). 1969–1971. Indian National Science Academy, 1981.