मेल्पत्तूर नारायण भट्टतिरि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मेल्पत्तूर नारायण भट्टतिरि (मलयालम : മേല്‍പതതൂര്‍ നാരായണ ഭട്ടതിരി) (1559 –1632) भारतीय गणितज्ञ। वे अच्युत पिषारटि के तृतीय शिष्य थे। वे गणितज्ञ वैयाकरण थे। 'प्रक्रिया सर्वस्वम्' उनकी सबसे महत्वपूर्ण कृति है। यह कृति पाणिनि की सूत्रात्मक रीति से व्याख्या करती है। किन्तु उनकी 'नारायणीयम' नामक कृति सबसे प्रसिद्ध है जिसमें गुरुवयुरप्पन (कृष्ण) की स्तुति है। वर्तमान समय में भी इसका गुरुवायूर मन्दिर में पाठ किया जाता है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]