महेन्द्र सूरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

महेन्द्र दयाशंकर सूरि १४वीं शताब्दी के जैन खगोलविज्ञानी थे। उन्होंने 'यंत्रराज' नामक संस्कृत ग्रन्थ की रचना की जो एस्ट्रोलेब (astrolabe) से सम्बन्धित प्रथम ग्रन्थ है।[1] वे मदन सूरि के शिष्य थे। उनके पिताजी का नाम दयाशंकर और माताजी का नाम विमला था।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

References[संपादित करें]

  1. Glick, सं (2005). Medieval Science, Technology, and Medicine: An Encyclopedia. Routledge. प॰ 464. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-415-96930-1. "the Jain astronomer Mahendra Suri (fl. 1370)...wrote the first Indian treatise on the astrolabe, called the Yantraraja (1370)" 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]