महेन्द्र सूरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

महेन्द्र दयाशंकर सूरि १४वीं शताब्दी के जैन खगोलविज्ञानी थे। उन्होंने 'यंत्रराज' नामक संस्कृत ग्रन्थ की रचना की जो एस्ट्रोलेब (astrolabe) से सम्बन्धित प्रथम ग्रन्थ है।[1] वे मदन सूरि के शिष्य थे। उनके पिताजी का नाम दयाशंकर और माताजी का नाम विमला था।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Glick; एवं अन्य, संपा॰ (2005). Medieval Science, Technology, and Medicine: An Encyclopedia. Routledge. पृ॰ 464. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-415-96930-1. the Jain astronomer Mahendra Suri (fl. 1370)...wrote the first Indian treatise on the astrolabe, called the Yantraraja (1370)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]