भास्कर प्रमेयिका

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

निम्नलिख सर्वसमिका को भास्कर प्रमेयिका (Bhaskara's Lemma) कहते हैं। यह सर्वसमिका चक्रवाल विधि में प्रयुक्त होती है।

जहाँ पूर्णांक हैं और शून्येतर पूर्णांक (non-zero integer) है।

उपपत्ति[संपादित करें]

समीकरण के दोनों पक्षों को से गुणा करके, जोड़कर, इसका गुणनखण्ड करें तथा से भाग दें।

जब तक न तो और न ही शून्य है, उपरोक्त निष्कर्ष दोनों दिशाओं में सत्य है। (implication goes in both directions). (यह भी नोट करें कि यह प्रमेयिका वास्तविक संख्याओं, पूर्णाकों और समिश्र संख्याओं -- सभी के लिए सत्य है।)

सन्दर्भ[संपादित करें]

  • C. O. Selenius, "Rationale of the chakravala process of Jayadeva and Bhaskara II", Historia Mathematica, 2 (1975), 167-184.
  • C. O. Selenius, Kettenbruch theoretische Erklarung der zyklischen Methode zur Losung der Bhaskara-Pell-Gleichung, Acta Acad. Abo. Math. Phys. 23 (10) (1963).
  • George Gheverghese Joseph, The Crest of the Peacock: Non-European Roots of Mathematics (1975).

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]