भूतसंख्या पद्धति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भूतसंख्या पद्धति संख्याओं को शब्दों के रूप में अभिव्यक्त करने की एक प्राचीन भारतीय पद्धति है जिसमें ऐसे साधारण शब्दों का प्रयोग किया जाता है जो किसी निश्चित संख्या से संबन्धित हों। यह पद्धति प्राचीन काल से ही भारतीय खगोलशास्त्रियों एवं गणितज्ञों में प्रचलित थी। यहाँ 'भूत' का अर्थ है - 'सृष्टि का कोई जड़ या चेतन, अचर या चर पदार्थ या प्राणी' ।

उदाहरण के लिये सण्ख्या के लिये 'नयन' का उपयोग भूतसंख्या का एक छोटा सा उदाहरण है। नयन (=आँख) से सम्बन्धित है क्योंकि मानव एवं अन्य अधिकांश प्राणियों की दो आँखें होती हैं। इसी प्रकार 'पृथ्वी' शब्द का उपयोग (एक) के लिये किया जा सकता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]