राधा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अधिक तर लोग जो कृष्ण की राधा के बारे मे बाते करते है,राधा कृष्ण के प्रेम की चर्चा किया करते है राधा कृष्ण को मन धन से प्रेमी रूप मे पूजन करती थी और श्री कृष्ण भी अपनी बासुरी को और राधा को अधिकाधिक प्रेम करते थे जिनके प्रेम जोडी आज के नवयुगलों को उत्साहित करते है और राधा और कृष्ण के प्रेम गाथा से प्रेम मे समर्पित होने की प्रेरणा प्रदान करते है

आज के प्रेमी युगल अपने प्रेम सार्थक बनाने हेतु राधा को प्रेम देवी तथा कृष्ण को प्रेम देव रूप मे अराधना करते है युवक प्रेम देवी से राधा जी जैसी संगिनी तथा युवतियाँ कृष्ण से श्री कृष्ण जैसे संगी की चाहत की प्रार्थना करते है..और राधा कृष्ण के मार्ग पर आगे बढने का साहस प्राप्त करते है..लेखक मान सिंह इलाहाबादी

राधा
Radha krishna.jpg
राधा-कृष्ण
संबंध कृष्ण
निवासस्थान वृंदावन
मंत्र ॐ वृषभानुज्यै विद्महे कृष्णप्रियायै धीमहि तन्नो राधा प्रचोदयात॥
राजा रवि वर्मा द्वारा बनाई गयी एक पेंटिंग में चित्रित कृष्ण एवं राधा

राधा को अक्सर राधिका भी कहा जाता है, हिन्दू धर्म में विशेषकर वैष्णव सम्प्रदाय में प्रमुख देवी हैं। वह कृष्ण की प्रेमिका और संगी के रूप में चित्रित की जाती हैं। इस प्रकार उन्हें राधा कृष्ण के रूप में पूजा जाता हैं। उनके ऊपर कई काव्य रचना की गई है और रास लीला उन्हीं की शक्ति और रूप का वर्णन करती है । वैष्णव सम्प्रदाय में राधाको भगवान कृष्ण की शक्ति स्वरूपा भी माना जाता है , जो स्त्री रूप मे प्रभु के लीलाओं मे प्रकट होती हैं |"गोपाल सहस्रनाम" के 19वें श्लोक मे वर्णित है कि महादेव जी द्वारा जगत देवी पार्वती जी को बताया गया है कि एक ही शक्ति के दो रूप है राधा और माधव(श्रीकृष्ण)| तथा ये रहस्य स्वयं श्री कृष्ण द्वारा राधा रानी को बताया गया है। अर्थात राधा ही कृष्ण हैं और कृष्ण ही राधा हैं। भारत के धार्मिक सम्प्रदाय निम्बार्क और चैतन्य महाप्रभु इनसे भी राधा को सम्मीलित किया गया है। जय श्री राधे

सन्दर्भ[संपादित करें]

श्रीमद्भागवत महापुराण एवम श्री ब्रह्मवैवर्त पुराण

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

स्रोत : श्रीमद्भागवत महापुराण, श्री ब्रह्मवैवर्त पुराण,महर्षि गर्ग मुनि रचित ग्रंथ