काली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
काली
Kali Devi.jpg
संबंध महाविद्या, देवी
निवासस्थान शमशान
अस्त्र खप्पर मुण्ड – scimitar = मुण्डमाला
जीवनसाथी शिव
सवारी शव

काली हिन्दू धर्म की एक प्रमुख देवी हैं। यह सुन्दरी रूप वाली भगवती दुर्गा का काला और भयप्रद रूप है, जिसकी उत्पत्ति राक्षसों को मारने के लिये हुई थी। उनको ख़ासतौर पर बंगाल और असम में पूजा जाता है। काली की व्युत्पत्ति काल अथवा समय से हुई है जो सबको अपना ग्रास बना लेता है। माँ का यह रूप है जो नाश करने वाला है पर यह रूप सिर्फ उनके लिए हैं जो दानवीय प्रकृति के हैं जिनमे कोई दयाभाव नहीं है। यह रूप बुराई से अच्छाई को जीत दिलवाने वाला है अत: माँ काली अच्छे मनुष्यों की शुभेच्छु है और पूजनीय है।इनको महाकाली भी कहते हैं।

अन्य अर्थ[संपादित करें]

बांग्ला में काली का एक और अर्थ होता है - स्याही या रोशनाई

मुख्य मंत्र[संपादित करें]

सर्वस्वरूपे सर्वेशे सर्वशक्ति-समन्विते।

भयेभ्यस्त्राहि नो देवि दुर्गे देवि नमोऽस्तुते।।(दुर्गा सप्तशती)

काली को शाक्त परम्परा की दस महाविद्याओं में से एक भी माना जाता है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]