हिन्दू देवी देवताओं की सूची

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(हिन्दू देवी देवता से अनुप्रेषित)
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
इस संदूक को: देखें  संवाद  संपादन

हिन्दू धर्म
श्रेणी

Om
इतिहास · देवता
सम्प्रदाय · पूजा ·
आस्थादर्शन
पुनर्जन्म · मोक्ष
कर्म · माया
दर्शन · धर्म
वेदान्त ·योग
शाकाहार शाकम्भरी  · आयुर्वेद
युग · संस्कार
भक्ति {{हिन्दू दर्शन}}
ग्रन्थशास्त्र
वेदसंहिता · वेदांग
ब्राह्मणग्रन्थ · आरण्यक
उपनिषद् · श्रीमद्भगवद्गीता
रामायण · महाभारत
सूत्र · पुराण
शिक्षापत्री · वचनामृत
सम्बन्धित
विश्व में हिन्दू धर्म
गुरु · मन्दिर देवस्थान
यज्ञ · मन्त्र
हिन्दू पौराणिक कथाएँ  · हिन्दू पर्व
विग्रह
प्रवेशद्वार: हिन्दू धर्म

HinduSwastika.svg

हिन्दू मापन प्रणाली

वेदों के अनुसार सनातन धर्म में तैतीस कोटि(प्रकार) देवताओं का वर्णन है इसे तैतीस करोड़ समझने की गलती न करें इन तैतीस प्रकार देवताओं में उनको शामिल किया गया है जिनसे हमारे शरीर का निर्माण हुआ है तथा उनसे ही हमारा शरीर कार्य करता है

सनातन लेखों के अनुसार, धर्म में तैंतीस प्रकार के मुख्य देवताओं के बारे में बताया गया है। सामान्यतः यदि सभी देवी और देवताओं को गिना जाए तो यह संख्या हजार में पहुच जायेगी परंतु यह सोचने वाली बात है की जो संख्या हजारों में पहुंच रही है उनमे कई नाम एक ही देवता अनेक रूपों का है इनमें (स्थानीय व क्षेत्रीय देवी-देवता भी शामिल हैं)।

वे सभी तो यहां सम्मिलित नहीं किये जा सकते हैं। फिर भी इस सूची में तीन सौ से अधिक संख्या सम्मिलित है।

[संपादित करें]

[संपादित करें]

[संपादित करें]

कवर्ग[संपादित करें]

चवर्ग[संपादित करें]

पवर्ग[संपादित करें]

यवर्ग[संपादित करें]

शवर्ग[संपादित करें]

ब्रह्मा के स्वरूप[संपादित करें]

ब्रह्मा के "मानसपुत्र "[संपादित करें]

ब्रह्मा जी के १७ मानस पुत्र कहे जाते है:-

वायु के अवतार[संपादित करें]

वरुण के अवतार[संपादित करें]

शिव के स्वरूप[संपादित करें]

देवी के रूप[संपादित करें]

कमला

लक्ष्मी के "अवतार"[संपादित करें]

दुर्गा[संपादित करें]

विष्णु के रूप[संपादित करें]

अवतार[संपादित करें]

दशावतार[संपादित करें]

  1. मत्स्य
  2. कूर्म
  3. वाराह
  4. नृसिंह
  5. वामन
  6. परशुराम
  7. राम
  8. कृष्ण
  9. बुद्ध
  10. कल्कि, जो कलि युग के अंत में अवतार लेंगे |

चौबीस अवतार[संपादित करें]

पुराणानुसार चौबीस अवतार कहे जाते हैं। इनका विवरण श्रीमद भगवद गीता में भि मिलता है।

  1. सनकादि ऋषि: (ब्रह्मा के चार पुत्र)
  2. नारद
  3. वाराह
  4. मत्स्य
  5. यज्ञ (श्री विष्णु कुछ काल के लिये इंद्र रूप में)
  6. नर-नारायण
  7. कपिल
  8. दत्तात्रेय
  9. हयग्रीव
  10. हंस पुराण। हंस
  11. पृष्णिगर्भ
  12. ऋषभदेव
  13. पृथु
  14. नृसिंह
  15. कूर्म
  16. धनवंतरी
  17. मोहिनी
  18. वामन
  19. परशुराम
  20. राम
  21. व्यास
  22. कृष्ण
  23. बुद्ध
  24. कल्कि

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

मोटा पाठ