हिन्दू लम्बाई गणना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पृथ्वी की लम्बाई हेतु सर्वाधिक प्रयोगित इकाई है योजन। धार्मिक विद्वान भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद ने अपने पौराणिक अनुवादों में सभी स्थानों पर योजन की लम्बाई को 8 मील (13 कि॰मी॰) बताया है।[1]। अधिकां भारतीय विद्वान इसका माप 13 कि॰मी॰ से 16 कि॰मी॰ (8-10 मील) के लगभग बताते हैं।

छोटी इकाइयां[संपादित करें]

इसकी अन्य इकाइयां इस प्रकार हैं:

  • 1 अंगुल = 16 mm से 21 mm
  • 4 अंगुल = एक धनु ग्रह = 62 mm से 83 mm;
  • 8 अंगुल = एक धनु मुष्टि (अंगुष्ठ उठा के) = 125 mm से 167 mm ;
  • 12 अंगुल = 1 वितस्ति (अंगुषठ के सिरे से पूर्रे हाथ को खोल कर कनिष्ठिका अंगुली के सिरे तक की दूरी) = 188 mm से 250 mm
  • 2 वितस्ति = 1 अरत्नि (हस्त) = 375 mm से 500 mm
  • 4 अरति = 1 दण्ड = 1.5 से 2.0 m
  • 2 दण्ड = 1 धनु = 3 से 4 m
  • 5 धनु = 1 रज्जु = 15 m से 20 m
  • 2 रज्जु = 1 परिदेश = 30 m से 40 m
  • 100 परिदेश = 1 कोस (या गोरत) = 3 km से 4 km
  • 4 कोस या कोश = 1 योजन = 13 km से 16 km
  • 1,000 योजन = 1 महायोजन = 13,000 Km से 16,000 Km

[2]

विष्णु पुराण:भाग १, अध्याय षष्ठम के अनुसार [संपादित करें]

  • 10 परमाणु= 1 परसूक्षम
  • 10 परसूक्षम= 1 तृसरेणु
  • 10 तृसरेणु= 1 धूलि कण या महिरजस
  • 10 महिरजस= 1 बाल अग्र (बालाग्र)
  • 10 बालाग्र= 1 लिख्या
  • 10 लिख्या= 1 यूक
  • 10 यूक= 1 यवोदर (जौ का बीज)
  • 10 यवोदर= 1 जौ का दाना (औसत आकार)
  • 10 जौ के दाने= 1 अंगुल या इंच
हिन्दू मानव हस्त परिमाण
  • 6 अंगुल= एक पद
  • 2 पद= 1 वितस्ति
  • 2 वितस्ति= 1 हस्त
  • 4 हस्त= एक धनुष या दण्ड
  • 2 धनुष/दण्ड= एक नाड़िका
  • 2000 धनुष= एक गाव्यूति
  • 4 गाव्यूति= एक योजन
ब्रह्माण्ड का परिमाण

यह अधिक वर्णित नहीं है.

अंगुष्ठ से दूरी (दांये चित्र में देखें)
  • तर्जनी तक=प्रदेश
  • मध्यम तक=नाल
  • अनामिका तक=गोकर्ण
  • कनिष्ठिका तक= वितस्ति = 12 अंगुल

(वायु पुराण के अनुसार एक अंगुल, अंगुली की एक गांठ के बराबर है और अन्य प्राधिकारियों के अनुसार सिरे पर अंगुष्ठ की मोटाई के बरबर है.)[3] वायु ने मनु के अधिकार के अन्तर्गत उपरोक्त समान गणना दी है, जो कि मनु संहिता में नहीं उल्लेखित है.

  • 21 अंगुल= 1 रत्नि
  • 24 अंगुल= 1 हस्त
  • 2 रत्नि= 1 किश्कु
  • 4 हस्त= 1 धनु
  • 2000 धनु= l गव्यूति
  • 8000 धनुष= 1 योजन

दुर्ग चार प्रकार के होते हैं, इनमें से तीन पर्वत या जल से घिरे होते हैं और चौथी प्रकार खेत, नगर या ग्राम की कृत्रिम सुरक्षा द्वारा बनती है. सर्वश्रेष्ठ नगर एक मील लम्बा और आधा मील चौड़ा होता है और ईषान (पूर्वोत्तर) कोण मुखी हो, साथ ही किसी ऊंची दीवार या खाई से घिरा होता है. खेत नगर से एक योजन दूर हों और ग्राम से आधा योजन दूर. नगर के मुख्य बिन्दुओं को जोड़ने वाली सड़कें बीस धनुष चौड़ी हों . ग्राम सड़कें एक समान हों. प्रधान चौड़ी सड़क दस धनुष, काटती सड़कें चार धनुष चौड़ी और घरों के सामने की गलियां दो धनुष की और सड़क किनारे के पैदल पथ चार हस्त. घर के मुख्य द्वार तीन हस्त. अन्य प्रवेश द्वार और संकरे. यह पौराणिक विवरण है.

रजलोक[संपादित करें]

एक रजलोक होता है, एक देवता द्वारा छः मास तक2,057,152 योजन प्रति समय (लगभग. 2,047,540,985,856,000 किलोमीटर या 216.5 प्रकाश वर्ष). इसे १००० भार की लौह गेंद को छः मास मुक्त गति से स्वर्ग, इंद्र के गॄह से गिराया जाये, तो उससे तय हुई दूरी के बराबर भी माना जा सकता है। सात रज्जु = एक जगश्रेणी

क्षेत्रफ़ल की इकाइयां[संपादित करें]

बीघा[संपादित करें]

एक बीघा बराबर है:

  • 2500 वर्ग मीटर (राजस्थान) में
  • 1333.33 वर्ग मीटर (बंगाल) में
  • 14,400 वर्ग फ़ीट (1337.8 m²) या 5 कथा (आसाम) में, एक कथा = 2,880 वर्ग फ़ीट (267.56 m²).
  • एक कथा = 720 वर्ग फ़ीट
नेपाल में
  • 1 बीघा = 20 कठ्ठा (लगभग 6882.00 m²)
  • 1 कठ्ठा = 20 धुर (लगभग 338.60 m²)
  • 1 बीघा= 13.53 रोपनी
  • 1 रोपनी = 16 आना (लगभग 508.74 m²)
  • 1 आना= 4 पैसा (लगभग 31.80 m²)
  • 1 पैसा= 4 दाम (7.95 m²)
चित्र:अजीत थापा
हिन्दु लम्बाई गणना
  • १ हेक्टर =१०००० वर्ग मिटर
  • =१९ रोपनी १० आना
  • =१बिगा ९ कट्ठा १० धुर
  • १ एकड =७.९५ रोपनी {१ रोपनी =१६ आना }

इन्हें भी देखें[संपादित करें]


सन्दर्भ्[संपादित करें]

  1. Srimad Bhagavatam 10.57.18 (translation) "one yojana measures about eight miles"
  2. Source:[1]
    आयत दशा च द्वे च योजनानि महापुरी ॥

    श्रीमती त्रीणि विस्तीर्ण सु विभाकता महापथा॥ 1-5-7

    7. shriimatii= glorious one - city; su vibhaktaa mahaa pathaa= with well, devised, high, ways; mahaa purii= great, city; dasha cha dve= ten, and, two - twelve; yojanaani= yojana-s; aayataa= lengthy; triiNi [yojanaani] vistiirNaa= three [yojana-s,] in breadth.

    That glorious city with well-devised highways is twelve yojana-s lengthwise and three yojana-s breadth wise. [1-5-7]

    Yojana is an ancient measure of distance, where one yojana roughly equals to 8 to 10 miles. Its account is like this : 1 angula is 3/4 inch; 4 angula-s are = one dhanu graha - bow grip; 8 angula-s are = one dhanu muSTi - fist with thumb raised; 12 angula-s are = 1 vitasti - distance between tip of thumb and tip of last finger when palm is stretched; 2 vitasti-s = 1 aratni -s - cubit; 4 aratni-s = one danDa, dhanuS - bow height - 6 ft ; 10 danDa-s = 1 rajju 60 ft ; 2 rajju-s = 1 paridesha - 120 ft ; 2, 000 dhanuS-s = one krosha, and also called goraTa - 4, 000 yards ; 4 krosha-s = 1 yojana - thus one yojana is 9 to 10 miles. But the British Revenue measurement scaled it down to 5 miles, and all the dictionaries say that one yojana is 5 miles. But traditionally it is held as 10 miles. More info on these measures can be had from The Artha Shaastra of Kautilya - a republication of Penguin.

  3. (A. R. 5. 104.)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]