पूजा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
इस संदूक को: देखें  संवाद  संपादन

हिन्दू धर्म
श्रेणी

Om
इतिहास · देवता
सम्प्रदाय · पूजा ·
आस्थादर्शन
पुनर्जन्म · मोक्ष
कर्म · माया
दर्शन · धर्म
वेदान्त ·योग
शाकाहार शाकम्भरी  · आयुर्वेद
युग · संस्कार
भक्ति {{हिन्दू दर्शन}}
ग्रन्थशास्त्र
वेदसंहिता · वेदांग
ब्राह्मणग्रन्थ · आरण्यक
उपनिषद् · श्रीमद्भगवद्गीता
रामायण · महाभारत
सूत्र · पुराण
शिक्षापत्री · वचनामृत
सम्बन्धित
विश्व में हिन्दू धर्म
गुरु · मन्दिर देवस्थान
यज्ञ · मन्त्र
हिन्दू पौराणिक कथाएँ  · हिन्दू पर्व
विग्रह
प्रवेशद्वार: हिन्दू धर्म

HinduSwastika.svg

हिन्दू मापन प्रणाली

पूजा अथवा पूजन (Worshipping) किसी भगवान को प्रसन्न करने हेतु हमारे द्वारा उनका अभिवादन होता है। पूजा दैनिक जीवन का शांतिपूर्ण तथा महत्वपूर्ण कार्य है। यहाँ भगवान को पुष्प आदि समर्पित किये जाते हैं जिनके लिये कई पुराणों से छाँटे गए श्लोकों का उपयोग किया जाता है। वैदिक श्लोकों का उपयोग किसी बड़े कार्य जैसे यज्ञ आदि की पूजा में ब्राह्मण द्वारा होता है। सर्वप्रथम प्रथमपूज्यनीय गणेश की पूजा की जाती है।

दैनिक पूजन विधि[संपादित करें]

पूजन के मुख्य छ: प्रकार है--

  • पंचोपचार (5 प्रकार)
  • दशोपचार (10 प्रकार)
  • षोडशोपचार (16 प्रकार)
  • द्वात्रिशोपचार (32 प्रकार)
  • चतुषष्टि प्रकार (64 प्रकार)
  • एकोद्वात्रिंशोपचार (132 प्रकार)

मानस पूजा को शास्त्रों में सबसे शक्तिशाली पूजा माना गया है। [1]

स्नान - सर्वप्रथम स्वयं स्वच्छ जल से स्नान करें तथा एक काँस के पात्र में जल लावें ध्यान रहे बिना स्नान किये व्यक्तियों से स्पर्श न हो तथा पानी लाते समय चप्पल आदि न पहनें। और उसे भगवान के समक्ष रख दें।

पूजा की थाल - आचमनी पंचपात्र आदि एक थाली थाली काँस अथवा ताँबे की हो। में रखें तथा साँथ में पुष्प, अक्षत, बिल्वपत्र, धूप, दीप, नैवेद्य, चंदन आदि पूजा में उपयोगी वस्तुएँ रखें। इसे पूजा की थाली कहते हैं।

पवित्रीकरण - आसन में बैठ कर पवित्रीकरण करें, अपने तथा पूजन के थाल पर जल सिंचन करें तथा पवित्रीकरण श्लोक बोलें।

ध्यान - भगवान का ध्यान करें। गीताप्रेस गोरखपुर का नित्यकर्म पूजाप्रकाश नामक पुस्तक अति उपयोगी है।[2]

दैनिक पूजा उपक्रम - क्रम निम्नांकित हैं--

ध्यान

आवहन

आसन

पाद्य

अर्घ्य

आचमनी

स्नान जल, दुग्ध, घृत, शर्करा, मधु, दधि, उष्ण जल।

पंचामृत स्नान दुग्ध, दधि, घृत (घी), मधु, शर्करा को एक साँथ मिलाकर उससे स्नान करावें।

शुद्धोदकस्नान शुद्ध जल से स्नान।

वस्त्र

चंदन

यज्ञोपवीत (जनेऊ)

पुष्प

दुर्वा गणेश जी में दूबी अर्पित करें।

तुलसी विष्णु में तुलसी।

शमी शमीपत्र।

अक्षत शिव में श्वेत अक्षत, देवी में रक्त (लाल) अक्षत, अन्य में पीत (पीला) अक्षत।

सुगंधिद्रव्य इत्र।

धूप

दीप

नैवेद्य प्रसाद।

ताम्बूल पान।

पुष्पांजलि मंत्रपुष्पांजलि।

प्रार्थना

पूजा एक हिंदू धर्म मे एक प्रसिध नाम भी हैजिसका अर्थ हम् निचे दिये है :-

पूजा नाम का हिंदी में अर्थ - pooja name meaning in hindi[संपादित करें]

यदि आपका नाम पूजा है और आप अपने नाम का अर्थ जानना चाहते है तो यह आपके लिए बहुत अच्छा है। क्यूंकि अक्सर लोग आपके नाम का अर्थ पूछते रहते है ,चाहे वो कोई टीचर हो ,दोस्त हो या कोई रिस्तेदार हो। और वैसे स्थिति में यदि आप अपने नाम का अर्थ नहीं बता पाते है तो आपकी बहुत इंसल्ट होती है इसीलिए आपको अपने नाम का अर्थ जानना जरुरी होता है।

और सभी को अपने नाम का मतलब पता होनी चाहिए क्यूंकि आपके नाम का मतलब पता होने पर यदि हम कभी कोई गलत काम करने की सोचते है तो हमारे नाम का मतलब हमे वैसा करने से रोकता है। क्यूंकि हमे अपने नाम की लाज होती है।

जिस तरह पूजा नाम सुनने से हमे किसी धार्मिक बात का बोध होता है। ठीक वैसे ही पूजा नाम का हिंदी अर्थ भी है। पूजा नाम का हिंदी अर्थ मूर्तिपूजा होता है। इसके अलावा इसके और बहुत सारे अर्थ होते है। जिसे नीचे बताया गया है :-

pooja meaning in hindi[संपादित करें]

  • अर्चना ,पूजन
  • यथेष्ठ ,आदर सत्कार ,भाव-भगत
  • संतुष्ट करने हेतु किया जाने वाले कार्य
  • रिश्वत ,घुस (जैसे -अधिकारी को उसने पांच हज़ार से पूजा है ,)
  • दण्डित करने का भाव

पूजा नाम के बारे मे अधिक जानकारी के लिये यहा क्लिक करे ।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Manas Puja : जानिये क्या होती है मानस पूजा शास्त्रों में माना गया शक्तिशाली जानिये इसकी विधि और प्रभाव". Nai Dunia. 2020-09-10. अभिगमन तिथि 2020-11-29.
  2. नित्यकर्म-पूजाप्रकाश. गीता प्रेस गोरखपुर. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-8129311948.