चित्रगुप्त

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
चित्रगुप्त
पाप-पुण्य के अनुसार न्याय करने वाले, न्यायकर्ता, यमराज भी इनके आज्ञा पालक हैं
ศาลหลักเมือง เขตพระนคร กรุงเทพมหานคร (9).jpg
बैंकॉक में चित्रगुप्त जी मुर्ति
संबंध सनातन देवता
निवासस्थान चित्रगुप्तपुरी संयमनीपुरी
मंत्र ॐ यमाय धर्मराजाय श्री चित्रगुप्ताय वै नमः
अस्त्र लेखनी(मसि) एवं तलवार (असि)
जीवनसाथी सुर्यपुत्री दक्षिणा नंदिनी
एरावती शोभावती

चित्रगुप्त सनातन धर्म में त्रिदेवों के समान एक प्रमुख हिन्दु देवता हैं। वे परब्रह्म परमात्मा परमपिता है। वे सभी प्राणियों के भाग्य के रचियता है, वे मनुष्यों, राक्षसों, सुरों, असुरों, देवी-देवता आदि सभी के कर्मानुसार पाप पुण्य के गणना के आधार पर न्याय करते है। वेदों और पुराण के अनुसार धर्मराज श्री चित्रगुप्त जी अपने दरबार में मनुष्यों के पाप-पुण्य का लेखा-जोखा करके न्याय करने वाले बताए गये हैं।[1][2] आधुनिक विज्ञान ने यह सिद्ध किया है कि हमारे मन में जो भी विचार आते हैं वे सभी चित्रों के रुप में होते हैं। भगवान चित्रगुप्त इन सभी विचारों के चित्रों को गुप्त रूप से संचित करके रखते हैं अंत समय में ये सभी चित्र दृष्टिपटल पर रखे जाते हैं एवं इन्हीं के आधार पर जीवों के पारलोक व पुनर्जन्म का निर्णय सृष्टि के प्रथम न्यायाधीश भगवान चित्रगुप्त करते हैं। विज्ञान ने यह भी सिद्ध किया है कि मृत्यु के पश्चात जीव का मस्तिष्क कुछ समय कार्य करता है और इस दौरान जीवन में घटित प्रत्येक घटना के चित्र मस्तिष्क में चलते रहते हैं । इसे ही हजारों बर्षों पूर्व हमारे वेदों में लिखा गया हैंं। जिस प्रकार शनि देव सृष्टि के प्रथम दण्डाधिकारी हैं भगवान चित्रगुप्त सृष्टि के प्रथम न्यायाधीश हैं उन्हें न्याय का देवता माना जाता है।  मनुष्यों की मृत्यु के पश्चात, पृथ्वी पर उनके द्वारा किए गये कार्यों के आधार पर उनके लिए स्वर्ग या नरक का निर्णय लेने का अधिकार चित्रगुप्त के पास है। अर्थात किस को स्वर्ग मिलेगा और कौन नर्क मेंं जाएगा? इस बात का निर्धारण भगवान धर्मराज चित्रगुप्त जी द्वारा ही किया जाता है। भगवान चित्रगुप्त जी भारत[आर्यावर्त] के कायस्थ कुल के इष्ट देवता हैं। मान्यताओं के अनुसार कायस्थों को चित्रगुप्त का इष्टदेव बताया जाता हैंं।[1]

विभिन्न पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान ब्रह्मा की कई विभिन्न संताने थीं, जिनमें ऋषि वशिष्ठ, नारद और अत्री जो उनके मन से पैदा हुए, और उनके शरीर से पैदा हुए कई पुत्र, जैसे धर्म, भ्रम, वासना, मृत्यु और भरत सर्व वीदित हैं लेकिन भगवान चित्रगुप्त के जन्म अवतरण की कहानी भगवान ब्रह्मा जी के अन्य बच्चों से कुछ भिन्न हैंं हिन्दू मान्यताओं के अनुसार परमपिता ब्रह्मा के पहले 13 पुत्र ऋषि हुए और 14 वे पुत्र श्री चित्रगुप्त जी देव हुए ! भगवान चित्रगुप्त जी के विषय में स्वामी विवेकानंद जी कहते है कि मैं उस भगवान चित्रगुप्त की संतान हूँ जिनको पूजे बिना ब्राह्मणों की मुक्ति नही हो सकती ! ब्राह्मण ऋषि पुत्र है और कायस्थ देव पुत्र !!

वर्णन[संपादित करें]

ग्रंथों में चित्रगुप्त को महाशक्तिमान राजा के नाम से सम्बोधित किया गया है। ब्रह्मदेव के 17 मानस पुत्र होने के कारण वश यह ब्राह्मण माने जाते हैं इनकी दो शादिया हुई, पहली पत्नी सूर्यदक्षिणा/नंदनी जो ब्राह्मण कन्या थी, इनसे ४ पुत्र हुए जो भानू, विभानू, विश्वभानू और वीर्यभानू कहलाए। दूसरी पत्नी एरावती/शोभावति ऋषि कन्या थी, इनसे ८ पुत्र हुए जो चारु, चितचारु, मतिभान, सुचारु, चारुण, हिमवान, चित्र और अतिन्द्रिय कहलाए।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

वैदिक पाठ में चित्र नामक राजा का जिक्र आया है जिसका सम्बन्ध चित्रगुप्त से माना जाता है। यह पंक्ति निम्नवत है:

चित्र इद राजा राजका इदन्यके यके सरस्वतीमनु।
पर्जन्य इव ततनद धि वर्ष्ट्या सहस्रमयुता ददत ॥ ऋगवेद ८/२१/१८

गरुण पुराण में चित्रगुप्त जि को कहा गया हैः


"चित्रगुप्त नमस्तुभ्याम वेदाक्सरदत्रे"
(चित्रगुप्त हैं,(स्वर्ग/नरक) पात्रता के दाता)

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. राजेश्वरी शांडिल्य (1 जनवरी 2009). भारतीय पर्व एवं त्यौहार. प्रभात प्रकाशन. पपृ॰ 92–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7315-617-5.
  2. विनय. मार्कण्डेय पुराण. डायमण्ड पॉकेट बुक्स. पपृ॰ 7–. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-288-0568-4.