लघुभास्करीय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

लघुभास्करीय भास्कर प्रथम द्वारा रचित गणित एवं ज्योतिष का ग्रन्थ है। शंकरनारायण ने इस पर 'लघुभास्करीयविवरण' नामक भाष्य लिखा है। उदयदिवाकर ने इसकी (लघुभास्करीय की) सुन्दरी नामक टीका लिखी है।

महाभास्करीय की तरह लघुभास्करीय में भी ८ अध्याय हैं।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]