रेखागणितम्

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search


रेखागणितम् जगन्नाथ सम्राट द्वारा संस्कृत भाषा में रचित ज्यामिति-विषयक ग्रन्थ है।

संरचना[संपादित करें]

'रेखागणितम्' में १५ अध्याय हैं। अध्याय १, २, ३, ४ तथा ६ में समतल ज्यामिति से सम्बन्धित विषयों का वर्णन है। अध्याय ५ में समानुपात के नियमों (laws of proportion) का वर्णन है जिसका ६ठे अध्याय में उपयोग हुआ है। अध्याय ७, ८ तथा ९ पूर्णतः अंकगणित से सम्बन्धित हैं। अध्याय ११ और उसके बाद के अध्यायों में ठोस ज्यामिति (घनक्षेत्र) का वर्णन है। प्रत्येक अध्याय में अनेकों छोटे-छोटे 'क्षेत्रम्' हैं।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]