सहूर गाँव, सूर्यगढा (लखीसराय)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सहूर गाँव भारत के बिहार राज्य के लखीसराय जिले के अन्तर्गत सूर्यगढ़ा थाना अमरपुर पंचायत में है ।यह गाँव शिक्षा के क्षेत्र में जिले भर में स्थान रखता है ।यहाँ के ज्यादातर लोग शिक्षक और पुलिस के रूप में कार्यरत हैं।इस गाँव के पूरब में शोभनी,पश्चिम में सिंगारपुर,उत्तर में रामपुर और दक्षिण में जैगरा गाँव स्थित है ।यहाँ यूको बैंक का एक शाखा विगत कई वर्षों से है।

         == भूगोल ==

अमरपुर पंचायत का यह सहूर गाँव तीन वार्ड में विभाजित है। गाँव के दक्षिणी भाग में माता जगदम्बा का मंदिर,सभी विद्यालय है,जबकि मध्य भाग में शिव-पार्वती का मंदिर जिसके नीचे एक जलकूप भी स्थित है ।पूर्वी भाग में अस्पताल भी है जहाँ चिकित्सक लोगों की सुरक्षा के लिए तत्पर रहते हैं । यहाँ का मुख्य फसल धान,गेंहू एवं चना है ।

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

       == यातायात ==

किऊल रेलवे जंक्शन से जमालपुर जाने वाली पैसेंजर ट्रेन से रामपुर हाॅल्ट उतरकर पैदल आ सकते हैं या फिर आप लखीसराय या किऊल रेलवे जंक्शन से उतरकर सड़क पर जीप के माध्यम से भी आ सकते हैं।तीसरा विकल्प लखीसराय होते हुए विद्यापीठ चौक से रामपुर गाँव होते हुए अपने निजी वाहन से आ सकते हैं ।

        == शिक्षा ==

यहाँ भारत की आजादी के समय से ही प्राथमिक विद्यालय, मध्य विद्यालय है । किसानों के नेता पंडित कार्यानन्द शर्मा जी के अथक प्रयासों से ही यहाँ पंडित कार्यानन्द शर्मा+2 उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भी है, जिसका लाभ आसपास के कई गांवों के बच्चे उठाते हैं । शिक्षा की भूमि से परमेश्वर पाण्डेय,आनंदी सिंह, रामचरित्र सिंह,श्रीकांत पाण्डेय,भोला सिंह,सच्चिदानन्द सिंह जैसे लोगों ने गाँव के गरिमा को बढ़ाये।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

यहाँ के ज्यादातर निवासी लखीसराय शहर में ही रहते हैं या प्रतिदिन आवागमन करते हैं।यहाँ का मुख्य बाजार भी लखीसराय ही है।यहाँ के ग्रामीण सिंगारपुर स्थित मामा-जी (ग्राम-देवता) और गोविन्द-बाबा (रामपुर) का नित्य आराधना करते हैं।