श्रेणी:बिहार के पर्यटन स्थल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भद्रकाली कोइलख देवी : मधुबनी जिले के राजनगर प्रखण्ड के कोइलख गाँव स्थित भद्रकाली भगवती परम सुविख्यात हैं।यहाँ भव्य मंदिर के गर्भगृह मे शक्ति विग्रह भद्रकाली के रूप मे सुन्दर रजत मुकुट धारण कर पिठिका पर भगवती विराजमान हैं।भगवती को लोग कोकिलाक्षी के रूप मे भी पूजते हैं। कोकिलाक्षी के नाम पर ही इस गाँव का नाम कोइलख पड़ा। ये अति प्राचीन काल से पूजित होती आयी हैं। इसका अपना एतिहासिक पृष्ठभूमि भी रहा है। कहा जाता है कि 11वीं शताब्दी के अंत मे राजपूत कल्चूरी सेनापति नाथ देव ने मदनपाल (गौड़वासव) पर चढ़ाई के क्रम मे वासुदेव की सिद्धभूमि वासुदेवपुर(वर्तमान कोइलख) मे छावनी बनाया।वहीं के सिद्धनाथ झा के आशिर्वाद से नाथ देव इसमे सफल हुए। उस स्थान पर सजे हुए रथ (कल्याक्ष) रखे थे इस कारण इस भूमि स्थित देवी को कोकिलाक्षी अर्थात भद्रकाली एवं वासुदेवपुर को कोइलख कहा जाने लगा।