रोहतास जिला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
रोहतास ज़िला
Rohtas district
Rohtas Attraction.jpg
बाएं से दाएं 1. शेरशाह सूरी मकबरा 2. मां ताराचंडी धाम 3.चांद तान शहीद पीर 4.रोहतास गढ़ किला 5.मंझार कुंड 6.धुवा कुंड 7.करमचट हिल्स और 8.दारीगांव हिल्स
मानचित्र जिसमें रोहतास ज़िला Rohtas district हाइलाइटेड है
सूचना
राजधानी : सासाराम
क्षेत्रफल : 3,847.82 किमी²
जनसंख्या(2011):
 • घनत्व :
29,62,593
 770/किमी²
उपविभागों के नाम: विधानसभा सीटें
उपविभागों की संख्या: 2
मुख्य भाषा(एँ): हिन्दी,भोजपुरी


रोहतास जिला भारत के बिहार राज्य के अड़तीस जिलों में से एक है। यह अस्तित्व में आया जब शाहाबाद जिले को 1972 में भोजपुर और रोहतास में विभाजित किया गया था। जिले का प्रशासनिक मुख्यालय सासाराम है।[1][2][3]

रोहतास जिला पटना डिवीजन का एक हिस्सा है, और इसका क्षेत्रफल 3850 वर्ग किमी है, जनसंख्या 29,59,918 (2011 की जनगणना) है, और जनसंख्या घनत्व 763 व्यक्ति प्रति किमी² है। यहां बोली जाने वाली भाषाएं भोजपुरी, हिंदी और अंग्रेजी हैं।[2]

विवरण[संपादित करें]

जिले में तीन अनुमंडल हैं, जिनमें डेहरी आन सोन, बिक्रमगंज और सासाराम है।

रोहतास जिले के बिक्रमगंज में मां अस्कामिनी [4]का बेहद प्राचीन मंदिर है। रोहतास जिले के रोहतासगढ़ किले का भी ऐतिहासिक महत्व है। वहीं, सासाराम में शेरशाह सूरी का प्रसिद्ध मकबरा भी अवस्थित है। ऐसा कहा जाता है कि शेरशाह सूरी ने ही वर्तमान डाक-तार व्यवस्था की शुरुआत की थी। इस जिले की सबसे खास बात यह भी है कि यहाँ का जिलाधिकारी कार्यालय सासाराम में है, जबकि पुलिस मुख्यालय डेहरी आन सोन में है। साथ में न्यायिक कार्यालय क्रमशः सासाराम और बिक्रमगंज में है। बिक्रमगंज के समीप स्थित धारुपुर की मां काली का मंदिर भी काफी प्रसिद्ध है। यह एक मात्र ऐसा मंदिर है, जो नहर के बीचों-बीच अवस्थित है।

रोहतास जिला पटना डिवीजन का एक हिस्सा है और यह ३८५० वर्ग किलोमीटर का एक क्षेत्र है, २४,४८,७६२ (२००१ जनगणना) की आबादी और किमी² प्रति ६३६ व्यक्तियों की आबादी के घनत्व। इस क्षेत्र में बोली जाने वाली भाषा भोजपुरी है। जिले के प्रशासनिक मुख्यालय, सासाराम ऐ9तिहासिक महत्व की एक जगह है। राष्ट्रीय गौरव का एक अन्य महत्वपूर्ण प्रतीक सोन पुल, सोन नदी के ऊपर बना हुआ है वहाँ दो समानांतर पुलों, सड़क के लिए एक और रेलवे के लिए एक और कर रहे हैं। सड़क पुल (जवाहर सेतु १९६३-६५ में गैमन इंडिया द्वारा निर्मित) सोन पर लंबे समय तक एशिया में (३०६१ मी) था जब तक यह पटना में गंगा नदी के ऊपर महात्मा गांधी सेतु (5475 मीटर) द्वारा को पार कर गया था। रेलवे पुल अभी भी सबसे लंबे समय तक एशिया में रेलवे पुल है।

इसके तीन अनुमंडल बिक्रमगन्ज, सासाराम और डेहरी है। बिक्रमगंज में अस्कामिनि माँ का मन्दिर काफी प्रसिद्ध है। बिक्रमगन्ज के पास स्थित धारुपुर काली माँ का मन्दिर भी बहुत प्रसिद्ध है। ये मन्दिर नहर के बीचोबीच है। कैमूर पर्वत श्रृंखलाओं में स्थित मां ताराचंडी का शक्तिपिठ और जिला मुख्यालय सासाराम से 35 किलोमीटर दूर मां तुत्लेशवरी देवी की मंदिर तुत्राही झील के बीचोंबीच स्थित है कैमूर पहाड़ियाँ पर्यटन के लिये भी प्रसिद्ध हैं। सासाराम में प्रसिद्ध शेरशाह का मकबरा है।

इतिहास[संपादित करें]

रोहतास एक जिले का नहीं, एक इतिहास का नाम है, जो बिहार में आर्यों के प्रसार के साथ बढ़ा। सतयुगी सूर्यवंसी राजा सत्यहरिश्चंद्र के पुत्र रोहिताश्व [5]द्वारा स्थापित रोहतासगढ़ के नाम पर इस क्षेत्र का नामकरण रोहतास हुआ। प्रसिद्ध इतिहासकार कर्नल टॉड ने लिखा है कि रोहतास क़िला का निर्माण कुशवंशी (कुशवाहा) लोगों ने करवाया है।1582 ई. यानि मुग़ल बादशाह अकबर के समय रोहतास, सासाराम, चैनपुर सहित सोन के दक्षिण-पूर्वी भाग के परगनों- जपला, बेलौंजा, सिरिस और कुटुंबा शामिल थे। 1784 ई. में तीन परगनों- रोहतास, सासाराम और चैनपुर को मिलाकर रोहतास जिला बना और फिर 1787 ई. में यह जिला शाहाबाद जिले का अंग हो गया। 10 नवम्बर 1972 को शाहाबाद से अलग होकर रोहतास जिला पुनः अस्तित्व में आ गया। अंग्रेजों के जमाने में यह क्षेत्र पुरातात्विक महत्व का रहा। 1861 ई. में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की स्थापना के साथ अलेक्जेंडर कनिंघम पुरातात्विक सर्वेयर नियुक्त हुए। उन्होंने गया जिले से लेकर पश्चिम में सिंध तक के पुरास्थलों का सर्वे किया इस क्रम में रोहतास भी अछूता न था बाद में 1871 ई. में कनिंघम को भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण का महानिदेशक नियुक्त किया गया तो उसी समय 1882 ई. में सासाराम स्थित शेरशाह रौजे का जीर्णोद्वार हुआ।

रोहतास में रोहतास के किले, मकबरे, मंदिर, और मस्जिदों के अतिरिक्त यहाँ के प्रपात,बराज एवम बांध आदि पर्यटकों को आकर्षित करने के भरपूर संभावना रखते है।

भूगोल[संपादित करें]

रोहतास जिले का क्षेत्रफल3,851 वर्ग किलोमीटर (1,487 वर्ग मील).[6] यह इसे बिहार का चौथा सबसे बड़ा जिला बनाता है।

रोहतास जिले को दो प्रमुख प्राकृतिक क्षेत्रों में विभाजित किया जा सकता है। उत्तर और उत्तर-पूर्व में सासाराम का मैदान, जो एक जलोढ़ मैदान है, जो उत्तर-पूर्व की ओर धीरे-धीरे नीचे की ओर झुका हुआ है। इसकी औसत ऊँचाई उत्तर में समुद्र तल से ७२ मीटर से लेकर दक्षिण में समुद्र तल से १५३ मीटर तक है। मैदानी इलाकों में दिनारा, दावत, बिक्रमगंज, नासरीगंज, नोखा और डेहरी ब्लॉक के साथ-साथ सासाराम, शिवसागर और रोहतास ब्लॉक के कुछ हिस्से शामिल हैं। सासाराम ब्लॉक में पूर्व में बिखरे हुए जंगल हैं। जिले के दक्षिणी भाग में रोहतास पठार है, जो विंध्य पठार का पूर्वी किनारा है, जिसकी समुद्र तल से औसत ऊंचाई ३०० मीटर है। इसमें नौहट्टा, रोहतास, शिवसागर , सासाराम और चेनारी ब्लॉक के कुछ हिस्से शामिल हैं। यह क्षेत्र पहाड़ी है, जिसमें कभी-कभार जंगल होते हैं। दुर्गावती, बाजरी, कोयल, और सुरारोहतास का पठार असमान, चट्टानी और बजरी वाली मिट्टी के साथ-साथ वनों के कारण कृषि के लिए कम उपयुक्त है। नाशपाती घास, कुस, और खास खास सहित पठार पर विभिन्न प्रकार की लंबी घास प्राकृतिक रूप से उगती है.

पूरे रोहतास जिले में, मिट्टी को आम तौर पर यूस्टाल्फ़्स, ओचरेप्ट्स, ओर्थेंट्स, फ़्लुवेंट्स और सैममेंट के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।

उप-विभाजन[संपादित करें]

रोहतास जिले को 19 समुदाय विकास खंड में विभाजित किया गया है, जिन्हें क्रमशः सासाराम, बिक्रमगंज, और देहरी पर आधारित 3 उप-मंडलों में बांटा गया है।[7]

19 सीडी ब्लॉक इस प्रकार हैं:

रोहतास जिले में 10 कस्बे हैं, जो इस प्रकार हैं:[8]

Town name Class Population (in 2011)
कोथ नगर पंचायत 18,890
बिक्रमगंज नगर पंचायत 48,465
नासरीगंज नगर पंचायत २३,८१९
नोखा नगर पंचायत २७,३०२
भरदुआ जनगणना शहर 5,317
चेनारी जनगणना शहर 6,569
सासाराम नगर निगम १४७,४०८
देहरी नगर परिषद १३७,२३१
सरैया जनगणना शहर 8,260
टेलकैप जनगणना शहर 4,504

२०११ तक रोहतास जिले में २४६ ग्राम पंचायत हैं।[8]

अर्थव्यवस्था[संपादित करें]

जिले की अर्थव्यवस्था कृषि पर आधारित है। चावल, गेहूं और मक्का मुख्य फसलें हैं। रोहतास को बिहार का चावल का कटोरा भी कहा जाता है। १९८० तक, डालमियानगर भारत के प्रमुख औद्योगिक शहरों में से एक था। इसमें चीनी, वनस्पति तेल, सीमेंट, कागज और रासायनिक कारखाने थे लेकिन अब वे बंद हैं।[9]

२००६ में पंचायती राज मंत्रालय ने रोहतास को देश के २५० सबसे पिछड़े जिलों में से एक नाम दिया (कुल ६४० में से)।[10] यह बिहार के 36 जिलों में से एक है जिसे पिछड़ा क्षेत्र अनुदान निधि कार्यक्रम (बीआरजीएफ) से धन प्राप्त हुआ है।[10]

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

धर्म[संपादित करें]

रोहतास जिले में धर्म
धर्म प्रतिशत
हिंदू
  
89.37%
मुसलमान
  
10.15%
नहीं बताया हुआ
  
0.21%
ईसाई
  
0.10%
सिख
  
0.09%
बौद्ध
  
0.05%
जैन
  
0.01%
अन्य
  
0.02%

२०११ की जनगणना के अनुसार रोहतास जिले में जनसंख्या २,९५९,९१८ है[11]जो लगभग आर्मेनिया राष्ट्र के बराबर है।[12]या अमेरिकी राज्य मिसिसिपी के बराबर है।[13] यह इसे भारत में १२७वें स्थान पर रखता है (कुल ६४० में से)।[11] बिहार में, यह जनसंख्या के मामले में 38 में से 17 वें स्थान पर है।[14]जिले का जनसंख्या घनत्व 763 प्रत्येक वर्ग किलोमीटर में निवासी (1,980/वर्ग मील) है, जो बिहार में 38 में से 34वें स्थान पर है (राज्य का घनत्व है 1,106 प्रत्येक वर्ग किलोमीटर में निवासी (2,860/वर्ग मील).[14] इसकी जनसंख्या वृद्धि दर २००१-२०११ के दशक में २०.२२% थी।[11] रोहतास में लिंगानुपात ९१८ है महिलाएं प्रत्येक १००० पुरुषों के लिए, जो बिहार में ३८ में से २२वें स्थान पर है (राज्य अनुपात भी ९१८ है)।[14]

साक्षरता दर 2011 तक रोहतास जिले में 73.37% थी। महिलाओं की तुलना में पुरुषों के लिए साक्षरता दर अधिक थी: 82.88% पुरुष लेकिन जिले में केवल 62.97% महिलाएं ही पढ़ और लिख सकती हैं।

रोहतास जिले की अधिकांश कामकाजी आबादी २०११ में कृषि में कार्यरत थी, २३.५८% खेती करने वाले थे, जिनके पास अपनी जमीन थी या किराए पर थी और ४३.८५% खेतिहर मजदूर थे, जिन्होंने मजदूरी के लिए किसी और की जमीन पर काम किया था। जिले के अन्य 5.25% कार्यबल घरेलू उद्योगों में कार्यरत थे, और अन्य सभी प्रकार के रोजगार में शेष 27.33 प्रतिशत का योगदान था।

भाषाएं[संपादित करें]

रोहतास में भाषाएं(2011)[15] ██ भोजपुरी (87.67%)██ हिंदी (7.4%)██ उर्दू (4.38%)██ अन्य (0.55%)

भारत की २०११ की जनगणना के समय, जिले की ८७.६७% आबादी भोजपुरी , ७.४७% हिंदी और ४.३९% उर्दू अपनी पहली भाषा के रूप में बोलती थी।[16]

वनस्पति और जीव[संपादित करें]

1982 में रोहतास जिला कैमूर वन्यजीव अभयारण्य का घर बन गया, जिसका क्षेत्रफल 1,342 कि॰मी2 (518.1 वर्ग मील).[17]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Bihar Tourism: Retrospect and Prospect Archived 2017-01-18 at the Wayback Machine," Udai Prakash Sinha and Swargesh Kumar, Concept Publishing Company, 2012, ISBN 9788180697999
  2. "District Rohtas, Government of Bihar | Rice bowl of Bihar | India" (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2020-05-01.
  3. Revenue Administration in India: A Case Study of Bihar," G. P. Singh, Mittal Publications, 1993, ISBN 9788170993810
  4. "‌Bhagwan budh, Ranchi Hindi News". https://www.livehindustan.com. 1 दिसम्बर 2016. मूल से 25 अक्तूबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 दिसम्बर 2017. |website= में बाहरी कड़ी (मदद)
  5. "रोहतासगढ़ के किले का रहस्‍य - खजाने का रहस्‍य". aajtak.intoday.in. 2 फ़रवरी 2011. मूल से 22 दिसंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 20 दिसम्बर 2017.
  6. Srivastava, Dayawanti et al. (ed.) (2010). "States and Union Territories: Bihar: Government". India 2010: A Reference Annual (54th संस्करण). New Delhi, India: Additional Director General, Publications Division, Ministry of Information and Broadcasting (India), Government of India. पपृ॰ 1118–1119. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-230-1617-7.सीएस1 रखरखाव: फालतू पाठ: authors list (link)
  7. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; census 2011 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  8. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Census 2011 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  9. "Economy | District Rohtas, Government of Bihar | India" (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2020-05-01.
  10. Ministry of Panchayati Raj (September 8, 2009). "A Note on the Backward Regions Grant Fund Programme" (PDF). National Institute of Rural Development. मूल (PDF) से April 5, 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि September 27, 2011.
  11. "District Census 2011". Census2011.co.in. 2011. मूल से 2011-06-11 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2011-09-30.
  12. US Directorate of Intelligence. "Country Comparison:Population". मूल से 27 September 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2011-10-01. Armenia 2,967,975 July 2011 est.
  13. "2010 Resident Population Data". U. S. Census Bureau. मूल से 2013-10-19 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2011-09-30. Mississippi 2,967,297
  14. "Census of India 2011: Bihar District Census Handbook - Rohtas, Part B (Village and Town Wise Primary Census Abstract)". Census 2011 India. पृ॰ 13. अभिगमन तिथि 8 July 2020.
  15. "Archived copy". मूल से 15 August 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 April 2019.सीएस1 रखरखाव: Archived copy as title (link)
  16. 2011 Census of India, Population By Mother Tongue
  17. Indian Ministry of Forests and Environment. "Protected areas: Bihar". मूल से August 23, 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि September 25, 2011.