गुलज़ार (गीतकार)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
गुलज़ार
Gulzar 2008 - still 38227.jpg
जन्म सम्पूर्ण सिंह कालरा
18 अगस्त 1936 (1936-08-18) (आयु 80)
दीना, झेलम जिला, पंजाब, ब्रिटिश भारत
व्यवसाय निर्देशक,
गीतकार,
पटकथा लेखक,
निर्माता,
कवि
सक्रिय वर्ष 1961 - वर्तमान
जीवनसाथी राखी गुलज़ार
बच्चे मेघना गुलज़ार
पुरस्कार Best Original Song
2009 Slumdog Millionaire

Best Lyricist
1977 Do diwane is shahar mein... Gharaonda
1979 Aanewala pal jaane wala hai... Gol Maal
1980 Hazaar raahen... Thodi Si Bewafaai
1983 Tujhse naaraz nahin zindagi... Masoom
1988 Mera kuch saamaan... Ijaazat
1991 Yaara sili sili... Lekin...
1998 Chhaiyya Chhaiyya... Dil Se
2003 Saathiya... Saathiya
Best Dialogue
1971 Anand
1973 Namak Haraam
1996 Maachis
2003 Saathiya
Best Story
1996 Maachis
Best Director
1976 Mausam
Best Feature Film (Critics)
1975 Aandhi
2002 Lifetime Achievement Award
Best Director
1976 Mausam
Best Lyricist
1988 Mera kuch saaman... Ijaazat
1991 Yaara sili sili... Lekin...
Best Film for Wholesome Entertainment
1996 Maachis
Best Screenplay
1972 Koshish
Best Documentary
1991 Ustad Amjad Ali Khan
1991 Pt Bhimsen Joshi

ग़ुलज़ार नाम से प्रसिद्ध सम्पूर्ण सिंह कालरा (जन्म-१८ अगस्त १९३६)[1] हिन्दी फिल्मों के एक प्रसिद्ध गीतकार हैं। इसके अतिरिक्त वे एक कवि, पटकथा लेखक, फ़िल्म निर्देशक तथा नाटककार हैं। उनकी रचनाए मुख्यतः हिन्दी, उर्दू तथा पंजाबी में हैं, परन्तु ब्रज भाषा, खङी बोली, मारवाड़ी और हरियाणवी में भी इन्होने रचनाये की। गुलजार को वर्ष २००२ मे सहित्य अकादमी पुरस्कार और वर्ष २००४ मे भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण से भी सम्मानित किया जा चुका है। वर्ष २००९ मे डैनी बॉयल निर्देशित फिल्म स्लम्डाग मिलियनेयर मे उनके द्वारा लिखे गीत जय हो के लिये उन्हे सर्वश्रेष्ठ गीत का ऑस्कर पुरस्कार पुरस्कार मिल चुका है। इसी गीत के लिये उन्हे ग्रैमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।

प्रारम्भिक जीवन[संपादित करें]

गुलज़ार का जन्म भारत के झेलम जिला पंजाब के दीना गाँव में, जो अब पाकिस्तान में है, १८ अगस्त १९३६ को हुआ था। गुलज़ार अपने पिता की दूसरी पत्नी की इकलौती संतान हैं। उनकी माँ उन्हें बचपन मे ही छोङ कर चल बसीं। माँ के आँचल की छाँव और पिता का दुलार भी नहीं मिला। वह नौ भाई-बहन में चौथे नंबर पर थे। बंट्वारे के बाद उनका परिवार अमृतसर (पंजाब, भारत) आकर बस गया, वहीं गुलज़ार साहब मुंबई चले गये। वर्ली के एक गेरेज में वे बतौर मेकेनिक काम करने लगे और खाली समय में कवितायें लिखने लगे। फ़िल्म इंडस्ट्री में उन्होंने बिमल राय, हृषिकेश मुख़र्जी और हेमंत कुमार के सहायक के तौर पर काम शुरू किया। बिमल राय की फ़िल्म बंदनी के लिए गुलज़ार ने अपना पहला गीत लिखा। गुलज़ार त्रिवेणी छ्न्द के सृजक हैं।

रचनात्मक लेखन[संपादित करें]

गुजराल द्वारा लिखे गए पुस्तकों की सूची-

  • चौरस रात (लघु कथाएँ, 1962)
  • जानम (कविता संग्रह, 1963)
  • एक बूँद चाँद (कविताएँ, 1972)
  • रावी पार (कथा संग्रह, 1997)
  • रात, चाँद और मैं (2002)
  • रात पश्मीने की
  • खराशें (2003)

चलचित्र सृजन[संपादित करें]

निर्देशन[संपादित करें]

गुलजार ने बतौर निर्देशक अपना सफर १९७१ में मेरे अपने से शुरू किया। १९७२ में आयी संजीव कुमार और जया भादुङी अभिनीत फिल्म कोशिश जो एक गूंगे बहरे दम्पति के जीवन पर आधारित कहानी थी, ने आलोचकों को भी हैरान कर दिया। इसके बाद गुलजार ने संजीव कुमार के साथ आंधी (१९७५), मौसम (१९७५), अंगूर (१९८१) और नमकीन (१९८२) जैसी फिल्मे निर्देशित की। गुलजार द्वारा निर्देशित चलचित्रों की सूची-

गीत लेखन[संपादित करें]

गुलजार द्वारा लिखे गए गीतों वाले फिल्मों की सूची-

पटकथा लेखन[संपादित करें]

पुरस्कार और सम्मान[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. हजार चेहरों वाले गुलज़ार
  2. "Gulzar to get Dadasaheb Phalke award [गुलज़ार को मिलेगा दादा साहब फाल्के पुरस्कार]" (अंग्रेज़ी में). इण्डिया टुडे डॉट इन (इण्डिया टुडे समूह). १२ अप्रैल २०१४. http://indiatoday.intoday.in/story/gulzar-to-get-dadasaheb-phalke-award/1/355422.html. अभिगमन तिथि: १२ अप्रैल २०१४. 
  3. "गुलज़ार को मिला दादा साहब फाल्के". बीबीसी हिन्दी. १२ अप्रैल २०१४. http://www.bbc.co.uk/hindi/india/2014/04/140412_gulzar_phalke_award_vt.shtml. अभिगमन तिथि: १२ अप्रैल २०१४. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]