इजाज़त

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
इजाज़त
इजाज़त.jpg
इजाज़त का पोस्टर
निर्देशक गुलज़ार
निर्माता आर॰ के॰ गुप्ता
लेखक गुलज़ार (संवाद)
पटकथा गुलज़ार
कहानी सुबोध घोष
अभिनेता रेखा,
नसीरुद्दीन शाह,
अनुराधा पटेल
संगीतकार आर॰ डी॰ बर्मन
छायाकार अशोक मेहता
संपादक सुभाष सहगल
प्रदर्शन तिथि(याँ) 8 जुलाई, 1987
समय सीमा 137 मिनट
देश भारत
भाषा हिन्दी

इजाज़त 1987 में जारी हुई हिन्दी फ़िल्म है। इसका निर्देशन गुलज़ार ने किया और ये सुबोध घोष की एक कहानी पर आधारित है। प्रमुख भूमिकाओं में रेखा, नसीरुद्दीन शाह और अनुराधा पटेल हैं।[1] फिल्म में एक जोड़े की कहानी है जो जुदा हो जाते हैं और दुर्घटनावश एक रेलवे स्टेशन के प्रतीक्षालय में मिलते हैं और एक दूसरे के बिना बिताए जीवन के बारे में कुछ सच्चाई पाते हैं। यह फिल्म समानांतर सिनेमा की श्रेणी में आती है। फिल्म ने संगीत वर्ग में दो राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार प्राप्त किये थे।

संक्षेप[संपादित करें]

यह फिल्म महेन्द्र (नसीरुद्दीन शाह) के साथ रेलवे स्टेशन पर उतरने और प्रतीक्षा कक्ष में जाने के साथ शुरू होती है। एक महिला सुधा (रेखा), पहले ही प्रतीक्षा कक्ष में बैठी है। उसे देखकर, वह उससे छिपने की कोशिश करती है लेकिन बाद में वे एक-दूसरे से बातचीत करते हैं। यह पता चला कि महेन्द्र फोटोग्राफी का सफल व्यवसाय करता है। वह अपने दादा (शम्मी कपूर) का सम्मान करता है। संयोग से, वह सुधा से 5 साल तक सगाई किये रहा था लेकिन हमेशा अपनी शादी में देरी करने का बहाना बनाता था। हालाँकि, उसके दादा ने उसकी शादी तय कर दी। उसने सुधा को बताया कि वह माया (अनुराधा पटेल) नाम की महिला के साथ रिश्ते में है। लेकिन माया गायब हो गई और उसके पास कुछ कवितायें छोड़ गई। महेन्द्र तब सुधा से शादी करता है और काफी खुश है, लेकिन माया की अचानक वापसी उनके विवाहित जीवन में तनाव पैदा करती है। जब माया आत्महत्या का प्रयास करती है, तो महेन्द्र उसके साथ समय बिताना शुरू कर देता है। सुधा, माया के आत्महत्या के प्रयास के बारे में नहीं जानती और इसलिए मानती है कि महेन्द्र उसके साथ विश्वासघात कर रहा है। उसे ऐसा लगता है कि उनकी शादी एक गलती थी और महेन्द्र से उसके इरादे के बारे में सवाल करती है। उसके बाद वह दृढ़ता से कहता है कि वह उससे बात करने के लिए माया को घर लाने जा रहा है। सुधा इसके खिलाफ है, लेकिन महेन्द्र दृढ़ संकल्प के साथ चल देता है। हालाँकि, माया फोन पर सुधा के क्रोध को सुनती है और जब तक महेन्द्र उसे लेने के लिए पहुँचता है, वह चली गई होती है। जब वह माया के बिना घर लौटता है, तो उसे पता चलता है कि सुधा भी चली गई है। महेन्द्र, सदमे को सहन करने में असमर्थ होता है और उसे दिल का दौरा पड़ता है। आने वाले दिनों और महीनों में, माया द्वारा उसकी देखभाल की जाती है। सुधा पंचगनी में एक शिक्षक के रूप में काम करने लगती है।

समय बीतने के बाद, महेन्द्र आश्वस्त होना शुरू हुआ कि उसे सुधा को घर वापस लाना चाहिए। उसके बाद वह सुधा के पत्र को पढ़ता है कि वह उसे उनके विवाह से मुक्त कर रही है और वह माया से शादी करने के लिए स्वतंत्र है। महेन्द्र के अचानक चिल्लाहट से माया ने महसूस किया कि वह सुधा के प्रस्थान का कारण थीं और महेन्द्र सुधा को गहराई से याद करता है। माया अपने रिश्ते में इस अचानक परिवर्तन पर असंगत महसूस करती है और रात में, मोटरबाइक से जाती है। महेन्द्र उसे रोकने के लिए अपनी कार में उसका पीछा करने जाता है। माया का स्कार्फ उसकी बाइक के पीछे के पहिये में उलझ जाता है, जिससे उसका गले दबने से मृत्यु हो जाती है। यह स्मरण समाप्त होने के बाद, सुधा माया के अंत के बारे में सुनकर गहराई से दुखी है। बाद में जब उनकी ट्रेन का समय आता है, सुधा का पति (शशि कपूर) उसे लेने के लिए अप्रत्याशित रूप से आता है और महेन्द्र को झटके से सुधा के पुनर्विवाह के बारे में पता चलता है। जैसा ही सुधा का पति अपने सामान के साथ प्रतीक्षा कक्ष छोड़ता है, महेन्द्र ने सुधा से उसे माफ करने के लिए कहा। वह महेन्द्र के पैरों को उसकी माफी के लिए और उसे छोड़ने की अनुमति के लिए (इजाज़त) एक याचिका के रूप में छूती है। ऐसा, जो उसने उनके पिछली बार अलग होने पर नहीं किया था। महेन्द्र उसे एक खुशहाल जीवन के लिए आशीर्वाद देता है। सुधा के पति यह देखने के लिए लौटता है कि वह कैसे रुकी हुई है और फिर सुधा के थके हुए चेहरे को देखते हुए यह महसूस करता है कि यह आदमी उसका पूर्व पति होना चाहिए। सुधा और उसका पति आगे बढ़ते हैं और सुधा पछतावे के साथ थोड़ा सा रुकती है। जैसे कि वहाँ से जाना नहीं चाहती, जबकि महेन्द्र प्रतीक्षा कक्ष के बाहर लाचार खड़े होकर उसे दूर जाते हुए देखता है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

फिल्म का संगीत बहुत सराहा गया था और फिल्म की कहानी को बयां करने में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका मानी जाती है। खासकर गीत "मेरा कुछ सामान" विशेष ख्याति पाया था और इसके लिये गायक आशा भोंसले और गीतकार गुलज़ार दोनों को राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला था।[2] इसी गीत के लिये सर्वश्रेष्ठ गीतकार का फिल्मफेयर पुरस्कार भी गुलज़ार को प्राप्त हुआ था।[3]

सभी गीत गुलज़ार द्वारा लिखित; सारा संगीत आर॰ डी॰ बर्मन द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."मेरा कुछ सामान"आशा भोंसले6:38
2."खाली हाथ शाम आई है"आशा भोंसले5:00
3."छोटी सी कहानी से"आशा भोंसले7:18
4."कतरा कतरा"आशा भोंसले6:03

नामांकरण और पुरस्कार[संपादित करें]

वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
1988 आशा भोंसले ("मेरा कुछ सामान") [4] राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार - सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायिका पुरस्कार जीत
गुलज़ार ("मेरा कुछ सामान") [4] राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार - सर्वश्रेष्ठ गीतकार पुरस्कार जीत
1989 सुबोध घोष[5] फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ कथा पुरस्कार जीत
गुलज़ार ("मेरा कुछ सामान")[5] फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ गीतकार पुरस्कार जीत
अनुराधा पटेल फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री पुरस्कार नामित

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]