प्रकाश झा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
प्रकाश झा
जन्म 27 फ़रवरी 1952 (1952-02-27) (आयु 71)
ग्राम -बड़हरवा,चंपारण बिहार, भारत
पेशा निर्देशक, पटकथा लेखक
उल्लेखनीय कार्य {{{notable_works}}}

प्रकाश झा (जन्म : २७ फ़रवरी १९५२, चंपारण बिहार, भारत) एक हिन्दी फ़िल्मकार है।[1] फ़िल्में : बन्दिश, मृत्युदंड, राजनीति, अपहरण, दामूल, गंगाजल, टर्निंग 30 आदि (सभी हिन्दी) एक भारतीय हिंदी फिल्म के निर्माता निर्देशक, चलचित्र के कथा लिखनेवाला, प्रकाश झा ऐसे फिल्मकार हैं, जो फिल्मों के माध्यम से सामाजिक-राजनीतिक बदलाव की उम्मीदें लेकर हर बार बॉक्स ऑफिस पर हाजिर होते हैं। उनके साहस और प्रयासों की इस मायने में प्रशंसा की जाना चाहिए कि सिनेमा की ताकत का वे सही इस्तेमाल करते हैं अपनी ‍पहली फिल्म ‘दामुल’ के जरिये गाँव की पंचायत, जमींदारी, स्वर्ण तथा दलित संघर्ष की नब्ज को उन्होंने छुआ है। इसके बाद सामाजिक सरोकार की फिल्में बनाईं। बाद में मृत्युदण्ड, गंगाजल, अपहरण और अब राजनीति (2010 फ़िल्म) लेकर मैदान में उतरे हैं। अपने बलबूते पर उन्होंने आम चुनाव में उम्मीदवार बनकर हिस्सा लिया है। ये बात और है कि वे हर बार हार गए। भ्रष्ट व्यवस्था तथा राजनीति की सड़ांध का वे अपने स्तर पर विरोध करते हैं। यही विरोध उनकी फिल्मों में जीता-जागता सामने आता है। मृत्युदंड से लेकर अपहरण तक उनकी फिल्मों को दर्शकों ने दिलचस्पी के साथ देखा और सराहा है।

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा[संपादित करें]

प्रकाश झा का पालन-पोषण बड़हरवा, बेतिया, पश्चिम चंपारण, बिहार में उनके परिवार के पुश्तैनी गांव (बड़हरवा) में हुआ था। उनके पिता का नाम श्री तेजनाथ झा है जो एक उच्च प्रशासनिक अधिकारी थे। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा सैनिक स्कूल तिलैया, कोडरमा जिले और केंद्रीय विद्यालय नंबर 1, बोकारो स्टील सिटी, झारखंड से की। बाद में, उन्होंने भौतिकी में बीएससी (ऑनर्स) करने के लिए रामजस कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय में दाखिला लिया, हालांकि उन्होंने एक साल बाद अपनी पढ़ाई छोड़ दी और बंबई (वर्तमान मुंबई) जाने और एक चित्रकार बनने का फैसला किया। जबकि वह जे.जे. स्कूल ऑफ आर्ट्स, वह फिल्म धर्म की शूटिंग का गवाह बने और फिल्म निर्माण पर अड़ गए।

उन्होंने एडिटिंग का कोर्स करने के लिए 1973 में फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (FTII), पूना (अब पुणे) ज्वाइन किया। इसके माध्यम से, छात्र आंदोलन के कारण संस्थान को कुछ समय के लिए बंद कर दिया गया था, इसलिए वह बॉम्बे आ गया, काम करना शुरू कर दिया, और पाठ्यक्रम पूरा करने के लिए कभी वापस नहीं जा सकें।

प्रमुख फिल्में[संपादित करें]

बतौर लेखक[संपादित करें]

वर्ष फ़िल्म टिप्पणी
2003 गंगाजल

बतौर अभिनेता[संपादित करें]

बतौर निर्देशक[संपादित करें]

वर्ष फ़िल्म टिप्पणी
2016 जय गंगाजल
2022 मटो की साइकिल
वर्ष फ़िल्म टिप्पणी
2011 आरक्षण
2010 राजनीति
2005 अपहरण
2003 गंगाजल
1999 दिल क्या करे
1997 मृत्युदंड
1996 बंदिश
2013 सत्याग्रह

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. रेखा ख़ान (२५ अक्टूबर २०१२). "प्रकाश झा को 100 करोड़ कमाने की चाहत". बीबीसी हिन्दी. मूल से 29 अक्तूबर 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि ९ मार्च २०१३.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]