भारत-कोलम्बिया सम्बन्ध

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
भारत-कोलम्बिया सम्बन्ध
Map indicating locations of Colombia and India

कोलोंबिया

भारत

भारत-कोलम्बियाई संबंध भारत गणराज्य और कोलंबिया गणराज्य के बीच राजनयिक संबंधों को दर्शाते हैं। 19 जनवरी, 1959 को दोनों देशों ने राजनयिक संबंध स्थापित किए। वर्तमान में कोलम्बिया भारतीय कंपनियों के लिए लैटिन अमेरिका में प्रवेश करने का व्यावसायिक बिंदु है। भारत में कोलम्बिया[1] का और कोलम्बिया में भारत का दूतावास[2] मौजूद है। भारत में स्थित कोलम्बिया का दूतावास नेपाल, बांग्लादेश और श्रीलंका में मौजूद कोलम्बियाई लोगों को भी सेवाएँ मुहैया करता है।[1]

इतिहास[संपादित करें]

भारत और कोलंबिया के बीच आधिकारिक राजनयिक संबंध 19 जनवरी, 1959 को स्थापित किए गए थे। 14 जुलाई, 1970 को दोनों देशों ने एक वाणिज्यिक समझौते पर हस्ताक्षर किए। लेकिन इन देशों के विदेशी वस्तुओं पर आर्थिक प्रतिबंध और भू-राजनीतिक मतभेदों के कारण यह विकसित नहीं हुआ। यह स्थिति मार्च 1972 तक रही, जब कोलंबिया ने नई दिल्ली , भारत में अपना एक दूतावास खोला। अगले वर्ष भारत ने 1973 में बोगोटा में एक दूतावास की स्थापना की। बोगोटा दूतावास 1993 में बंद कर दिया गया, लेकिन बाद में 1994 में इसे फिर से खोल दिया गया।[2] भारत में स्थित कोलंबियाई दूतावास नेपाल , श्रीलंका और बांग्लादेश के साथ राजनयिक संबंधों को भी सम्भालता है, साथ ही साथ उन देशों में स्थित कोलंबियाई लोगों को राजनयिक सहायता भी प्रदान करता है।[1]

वाणिज्यिक सम्बंध[संपादित करें]

4 से 7 मार्च, 2001 तक कोलम्बियाई राष्ट्रपति आंद्रेस पसाराना अरंगो की भारत यात्रा के साथ दोनों देशों में आर्थिक और आपसी सहयोग संबंधों में सुधार हुआ। चूँकि कोलंबिया और भारत की अर्थव्यवस्थाएँ समान स्तर पर थीं, इन समानताओं का उपयोग दोनों देशों के बीच सहयोग स्थापित करने के लिए किया जाता है।

2006 में, ऑयल इंडिया ने कोलंबिया में तेल उत्पादन में $425 मिलियन का निवेश किया। कंपनी ने कोलम्बिया में गैस उत्सर्जन के लिए उपयुक्त भूमि की खोज के इरादे से अनुबंध संबंधी निर्णयों में भाग लेने की योजना बनाई है।[3]

23 अगस्त, 2007 को कोलंबिया सरकार ने रिपोर्ट दी कि कोलंबिया और भारत के बीच व्यापार बढ़ रहा है। भारत ने कोलंबिया को कुछ $346 मिलियन निर्यात किया, जबकि कोलंबिया से भारत ने क़रीब $62 मिलियन का आयात किया। [4]

मुख्य सहयोग क्षेत्र[संपादित करें]

  • देश के सीमा क्षेत्रों में सौर ऊर्जा का उपयोग
  • तकनीकी सहयोग समझौते
  • (सैन्य क्षेत्रों समेत) विभिन्न क्षेत्रों में छात्रवृत्ति को प्रोत्साहन
  • प्रौद्योगिकी ज्ञापन के लिए संयुक्त कार्य बल (Joint Task Force)

सांस्कृतिक और शैक्षणिक सम्बंध[संपादित करें]

"प्रबंधन कूटनीति" के अनुसार, वर्तमान राजदूत और उनके राजनयिक मिशन ने दोनों देशों के व्यापार महासंघों के बीच 5 समझौतों पर हस्ताक्षर करने के साथ-साथ भारतीय और कोलम्बियाई विश्वविद्यालयों के बीच सहयोग के समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। कुछ वर्ष पूर्व कोलंबिया का सांस्कृतिक सप्ताह भारत में आयोजित किया गया था, जिसमें समारोह, फिल्म समारोह, लेखक बैठकें और कला प्रदर्शनियां शामिल थीं।

भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद ने नियमित रूप से बोगोटा, कैली, मेदेजीन, कार्टाजेना और बैरेंक्विया (कोलम्बिया के प्रमुख शहर) में नृत्य और संगीत समूहों की प्रस्तुतियों को प्रायोजित किया है। बोगोटा में मानेला बेल्ट्रान विश्वविद्यालय ने 2006 में "भारतीय दिवस समारोह" नामक एक कार्यक्रम का आयोजन किया। कोलंबिया में स्थित अपने दूतावास में भारत कोलम्बिया और ईक्वाडोर में सांस्कृतिक समूहों के सहयोग से फिल्म समारोह, फोटोग्राफी प्रदर्शनियों, खाद्य उत्सवों और थिएटर नाटकों का आयोजन भी करता रहा है। । 2007, 2008 और 2009 में फेस्टिवल ऑफ इंडिया, पाक और सांस्कृतिक उत्सव, कार्टाजेना, बोगोटा और मेडेलिन में आयोजित किया गया था।

कोलंबिया के लिखित और इलेक्ट्रॉनिक प्रेस ने भारत पर थीम / वृत्तचित्र और कार्यक्रम प्रकाशित किए हैं।

कोलंबिया में साईं बाबा केंद्र भी मौजूद हैं और कई आध्यात्मिक समूह जैसे कि इस्कॉन (हरे कृष्ण), ब्रह्मकुमारी , बाबाजी कृपाल सिंह , थियोलॉजिकल सोसाइटी , सहज योग आदि योग संस्थानों की अच्छी-ख़ासी संख्या हैं। मुंगेर( बिहार ) के सत्यानंद योग अकादमी मिशनरीज ऑफ चैरिटी के केंद्र बोगोटा सहित कोलंबिया के कई शहरों में मौजूद हैं। आयुर्वेदिक चिकित्सा कोलंबिया में पिछले कुछ सालों में काफ़ी लोकप्रिय हुई है और इस देश के कुछ सांस्कृतिक संस्थान वहाँ के जिज्ञासु लोगों के बीच अध्ययन को बढ़ावा दे रहे हैं।

भारत-कोलंबिया मित्र संगठन (la Asociación Amigos de India-Colombia) का लोगो


2009 से दोनों देशों के बीच शैक्षणिक और सांस्कृतिक गतिविधियां बढ़ रही हैं। इसने एसोसिएशन ऑफ फ्रेंड्स ऑफ इंडिया-कोलंबिया के निर्माण को प्रेरित किया, जिसे 4 सितंबर, 2009 को 220 से अधिक लोगों से पहले जनता के लिए लॉन्च किया गया था, और जिसे बाद में 14 जनवरी को बोगोटा में भारत के दूतावास में औपचारिक रूप से लॉन्च किया गया था। 2010. 18 जनवरी, 2010 को, फ्रेंड्स ऑफ इंडिया-कोलंबिया की एसोसिएशन, उस समय की यात्रा के दौरान, भारत के विदेश मंत्री डॉ॰ शशि थरूर ने भारत सरकार से आधिकारिक समर्थन प्राप्त किया।[5]

उस समय से, फ्रेंड्स ऑफ इंडिया-कोलंबिया एसोसिएशन दोनों देशों के सांस्कृतिक संबंधों में एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है। भारत के दूतावास के साथ समन्वय में, विश्वविद्यालयों, शॉपिंग सेंटरों और विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न शैक्षणिक, कलात्मक और सांस्कृतिक बैठकें रिक्त स्थान जिसे "आकर्षक भारत" (स्पेनी- India Fascinante) कहा जाता है। साथ ही, हिन्दी दिवस उत्सव जैसे कई कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं। इसके अलावा फिल्म शो, फ़िल्म सम्मेलन, नृत्य कार्यशालाएं भी आयोजित की गई हैं।

यह वर्तमान में 5,000 से अधिक लोगों का एक समुदाय है, जो सामाजिक नेटवर्क की बदौलत काफ़ी बढ़ता जा रहा है। यह लैटिन अमेरिका के लोगों में भारत के बारे में जागरूकता बढ़ाने में सफल रहा है।

कोलंबिया में भारत के कलाकेंद्र फाउंडेशन का लोगो


कलाकेंद्र फाउंडेशन[6], भारतीय संगीत और नृत्य शिक्षिका आनंदिता बसु के निर्देशन में, शास्त्रीय (कथक, भरतनाट्यम्), लोक और आधुनिक (बॉलीवुड) नृत्यों के साथ-साथ अनुष्ठान कक्षाओं के माध्यम से भारतीय कला के प्रसार को बढ़ावा मिला है। वहाँ तबला , ढोलक, हारमोनियम और स्वर की भारतीय तकनीक सिखाई जाती हैं। इस फाउंडेशन को भारत के दूतावास और पोंटीफ़िका यूनिवर्सिटेड जावरियाना (वहाँ का एक विश्वविद्यालय) का समर्थन प्राप्त है और उन्होंने कोलंबिया में अनगिनत शो, संगीत कार्यक्रम और कार्यक्रम प्रस्तुत किए हैं।

यह भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "कोलम्बिया का भारत में दूतावास".
  2. "कोलम्बिया में भारत का दूतावास".
  3. "कोलम्बिया में तेल की खोज".
  4. (स्पेनिश) Presidency of Colombia: Indian businessmen want to increase investments in Colombia Accessed December 14, 2007
  5. "कोलम्बिया में भारतीय दूतावास".
  6. "कला केंद्र कोलम्बिया".

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]