पं॰ दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन रेलवे स्टेशन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मुगलसराय जंक्शन रेलवे स्टेशन
रेलवे स्टेशन
Deendayalmughalsaraijn.png
मुगलसराय जंक्शन
स्टेशन आंकड़े
पता मुग़लसराय - 232101, उत्तर प्रदेश
भारत
निर्देशांक 25°16′36″N 83°07′02″E / 25.2767°N 83.1173°E / 25.2767; 83.1173निर्देशांक: 25°16′36″N 83°07′02″E / 25.2767°N 83.1173°E / 25.2767; 83.1173
ऊँचाई 84 मीटर (276 फीट)
लाइनें हावड़ा-दिल्ली मुख्य लाइन
हावड़ा-गया-दिल्ली लाइन
हावड़ा-इलाहबाद-मुंबई लाइन
गया-मुग़लसराय सेक्शन
मुग़लसराय-कानपुर सेक्शन
ग्रैंड कॉर्ड
पटना-मुग़लसराय सेक्शन
मुग़लसराय-वाराणसी-लखनऊ सेक्शन
संरचना प्रकार भूतल पर
प्लेटफार्म 8
वाहन-स्थल नहीं
साइकिल सुविधायें नहीं
अन्य जानकारियां
आरंभ 1862; 155 वर्ष पहले (1862)
विद्युतीकृत 1961-63
स्टेशन कूट डीडीयू
ज़ोन ईसीआर जोन
मण्डल मुग़लसराय
स्वामित्व भारतीय रेल
संचालक मध्य पूर्व रेलवे
स्टेशन स्तर कार्यात्मक
पहले मुगलसराय जंक्शन
स्थान
पं॰ दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन रेलवे स्टेशन स्थित है उत्तर प्रदेश
पं॰ दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन रेलवे स्टेशन
पं॰ दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन रेलवे स्टेशन
उत्तर प्रदेश में स्थिति

पण्डित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन रेलवे स्टेशन (पहले मुग़ल सराय जंक्शन[1][2]) उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख रेलवे स्टेशन है।[3] यह वाराणसी से लगभग ४ मील की दूरी पर स्थित है। मुगलसराय स्टेशन का निर्माण १८६२ में उस समय हुआ था, जब ईस्ट इंडिया कंपनी हावड़ा और दिल्ली को रेल मार्ग से जोड़ रही थी।[2] यह पूर्वमध्य रेलवे, जिसका मुख्यालय हाजीपुर है, के सबसे व्यस्त एवं प्रमुख स्टेशनों में से गिना जाता है भारत रेलवे की बड़ी लाइन के लिये यह एक विशाल रेलवे स्टेशन है। पूर्व मध्य रेलवे बनने से पहले मुगलसराय स्टेशन, पूर्व रेलवे का हिस्सा था। एशिया के सबसे बड़े रेलवे मार्शलिंग यार्ड और भारतीय रेलवे का 'क्लास-ए' जंक्शन, मुग़लसराय में है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. कश्यप, देव (१४ अक्टूबर २०१७). "UP: अब 'पंडित दीनदयाल उपाध्याय' के नाम से पहचाना जाएगा मुगलसराय जंक्शन". अमर उजाला. अभिगमन तिथि १८ अक्तूबर २०१७.
  2. "यूपी: बदला मुगलसराय रेलवे स्‍टेशन का नाम, अब पंडित दीन दयाल उपाध्‍याय के नाम से जाना जाएगा". जनसत्ता. १४ अक्टूबर २०१७. अभिगमन तिथि १८ अक्तूबर २०१७.
  3. "मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलकर सरकार क्या हासिल करना चाहती है?".