झांसी जंक्शन रेलवे स्टेशन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
झांसी जंक्शन
भारतीय रेलवे, जंक्शन स्टेशन
Jhansi Junction.jpg
स्टेशन आंकड़े
पता लाल बहादुर शास्त्री मार्ग, झाँसी, उत्तर प्रदेश
भारत
निर्देशांक 25°26′38″N 78°33′12″E / 25.4439°N 78.5534°E / 25.4439; 78.5534निर्देशांक: 25°26′38″N 78°33′12″E / 25.4439°N 78.5534°E / 25.4439; 78.5534
ऊँचाई 260 मीटर (850 फीट)
लाइनें {नई दिल्ली-मुंबई सी.एस.टी.}
{आगरा-भोपाल खंड}
{दिल्ली-चेन्नई लाइन}
{झांसी-कानपुर खंड}
{झांसी-मानिकपुर-इलाहाबाद खंड}
{झांसी-ग्वालियर-इटावा सेक्शन}
{झांसी-सवाई माधोपुर खंड (प्रस्तावित)}
संरचना प्रकार मानक
प्लेटफार्म 8
पटरियां 13
वाहन-स्थल उपलब्ध
साइकिल सुविधायें उपलब्ध
अन्य जानकारियां
आरंभ 1880
विद्युतीकृत 1986-87
स्टेशन कूट JHS
ज़ोन उत्तर मध्य रेलवे (भारत)
मण्डल झांसी रेलवे मंडल
स्वामित्व भारतीय रेलवे
संचालक उत्तर मध्य रेलवे
स्टेशन स्तर संचालित
स्थान
झांसी जंक्शन रेलवे स्टेशन की उत्तर प्रदेश के मानचित्र पर अवस्थिति
झांसी जंक्शन रेलवे स्टेशन
उत्तर प्रदेश में झांसी रेलवे स्टेशन की अवस्थिति

झांसी जंक्शन, उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्र में झांसी शहर में स्थित एक प्रमुख रेलवे जंक्शन है। यह भारत के सबसे व्यस्ततम और सबसे बड़े रेलवे स्टेशनों में से एक है। यह भारत में कई सुपरफास्ट ट्रेनों के लिए एक प्रमुख अन्तरनगरीय हब और तकनीकी ठहराव है। भारतीय रेलवे के उत्तर मध्य रेलवे जोन में झांसी का अपना एक मंडल है। यह दिल्ली-चेन्नई और दिल्ली-मुंबई लाइन पर स्थित है। इस स्टेशन का कोड JHS है। हाल ही में झांसी जंक्शन रेलवे स्टेशन की वैगन मरम्मत कार्यशाला में कुल 1.5 मेगावाट की सौर ऊर्जा परियोजना स्थापित करने की योजना पर काम चल रहा है। जहाँ कॉम्प्लेक्स के प्रोडक्शन शेड और सर्विस बिल्डिंग की छत पर सोलर पैनल लगाये जाएगें।[1][2]

इतिहास[संपादित करें]

1880 में झांसी स्टेशन

रेलवे स्टेशन का निर्माण अंग्रेजों ने 1880 के दशक के अंत में किया था। तीन स्थानों के लंबे सर्वेक्षण के बाद वर्तमान स्थल को स्टेशन के लिए चुना गया था। स्टेशन में एक विशाल किले जैसी इमारत है जिसे मरून और श्वेत रंग में रोंगन किया गया है।

स्टेशन में शुरुआत में तीन प्लेटफार्म थे। (प्लेटफ़ॉर्म एक, 2,525 फीट (770 मी॰) लंबा था जो कि भारत में पांचवां सबसे लंबा है। यह एक समय में दो ट्रेनों को आसानी से संभाल सकता है (यही प्लेटफॉर्म दो और तीन में भी हैं)। )

झांसी जंक्शन इंडियन मिडलैंड रेलवे कंपनी का केंद्र बिंदु था जिसने झांसी जंक्शन से सभी दिशाओं में रेडियल लाइन बिछाई और झांसी में बड़ी कार्यशाला का प्रबंधन किया।[3]

भारत की पहली शताब्दी एक्सप्रेस नई दिल्ली और झांसी के बीच शुरू हुई।

झांसी, पहले मुंबई में मुख्यालय वाले मध्य रेलवे ज़ोन का एक हिस्सा हुआ करता था, लेकिन अब यह उत्तर मध्य रेलवे ज़ोन के अन्तर्गत आता है जिसका मुख्यालय इलाहाबाद में है।

संयोजन[संपादित करें]

झांसी स्टेशन पर प्लेटफॉर्म नं .4

झांसी जंक्शन भारत के कई औद्योगिक और महत्वपूर्ण शहरों जैसे: नई दिल्ली, कानपुर, लखनऊ, भोपाल, चेन्नई, बैंगलोर, हैदराबाद, मुंबई, कोलकाता, जम्मू, आगरा, भुवनेश्वर, अहमदाबाद, बांदा, नागपुर आदि से सीधी ट्रेनों से जुड़ा हुआ है।

झाँसी जंक्शन में 4 ब्रॉड गेज मार्ग है:

  1. दिल्ली से - मुंबई तक
  2. दिल्ली से - चेन्नई तक
  3. झांसी से - कानपुर सेंट्रल तक
  4. बीना से - भोपाल तक
  5. खजुराहो से - मानिकपुर तक

मध्य प्रदेश में झांसी जंक्शन और शिवपुरी के बीच एक नई लाइन के लिए सर्वेक्षण चल रहा है जो आगे सवाई माधोपुर और जयपुर से जुड़ा होगा।

भारतीय रेलवे की कई प्रतिष्ठित रेलगाड़ियाँ झांसी से होकर गुजरती हैं, जिसमें गतिमान एक्सप्रेस (वर्तमान में भारत में सबसे तेज़ ट्रेन) शामिल है। )

खजुराहो, एक यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल और ओरछा जाने के इच्छुक पर्यटकों के लिए झाँसी एक महत्वपूर्ण गंतव्य है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "VIVAAN SOLAR TO DEVELOP 1.5 MW SOLAR ROOFTOP PROJECT AT JHANSI RAILWAY STATION". अभिगमन तिथि 6 October 2017.
  2. "Great News !!!! Rooftop Expertise Gets Vivaan Solar Jhansi Railway Station Project". अभिगमन तिथि 6 October 2017.
  3. "[IRFCA] Ian Manning on the Indian Railways - Along The First Routes". Irfca.org. अभिगमन तिथि 6 October 2017.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]