जलसा-ए-नमाज़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

जलसा (इंग्लिश: Sitting_in_salah) इस्लाम में नमाज़[1] में बैठ कर जो उपासना में पढ़ा और किया जाता है उसे नमाज़ का जलसा कहते हैं। शाब्दिक अर्थ है बैठक। इसे क़ायदा नमाज़ भी कहते हैं। विवरण: नमाज़ में एक से अधिक बार बैठना होता है इस लिए जलसा को बहुवचन में जलूस (जुुुलूूूस) या क़ायदा ए नमाज़[2] पहला और दूसरा भी कहते हैं।

जलसा मेंं क्या करते और पढ़ते हैं?[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Sheikh, Irfan. "Aurton Ki Namaz Ka Tarika In Hindi मुकम्मल Sunni Tareeqa". Irfani-Islam - इस्लाम की पूरी मालूमात हिन्दी. अभिगमन तिथि 2022-01-05.
  2. "Namaz Ka Sahi Tarika / नमाज़ का सही तरीका". https://irfani-islam.in. मूल से 5 अगस्त 2021 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 जनवरी 2022. |website= में बाहरी कड़ी (मदद)