दूसरा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
गेंदबाजी तकनीकी
प्रकार
तेज
स्पिन
गेंदें
तेज
स्पिन
अन्य
अभियान
सामान्य ओवर आर्म
अन्य
अवैध तकनीकी

दूसरा (उर्दू: دوسرا, हिंदी दूसरा) क्रिकेट के खेल में ऑफ स्पिन गेंदबाज द्वारा डाली जाने वाली एक विशेष प्रकार की गेंद है, जिसे पाकिस्तानी क्रिकेट खिलाड़ी सकलैन मुश्ताक द्वारा लोकप्रिय बनाया गया था।[1] इस शब्द का उर्दू (तथा हिंदी) में अर्थ है "दूसरी वाली".[2] सकलैन मुश्ताक ने दूसरा के एक नए संस्करण की भी खोज की है जिसे वे "तीसरा" कहते हैं, जिसका अर्थ है "तीसरी वाली".

अन्य गेंदबाजों ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में दूसरा का काफी इस्तेमाल किया है; इनमे शामिल हैं, श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन और अजंता मेंडिस, दक्षिण अफ्रीका के जोहान बोथा, भारत के हरभजन सिंह और पाकिस्तान के शोएब मलिक तथा सईद अजमल.

इतिहास[संपादित करें]

दूसरा एक अपेक्षाकृत नए किस्म की गेंदबाजी है। सकलैन मुश्ताक को इसकी खोज का श्रेय दिया जाता है; इसने उनकी सफलता तथा स्पिन गेंदबाजी के भविष्य में एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है, क्योंकि इस बात की संभावना काफी कम है कि उनके पहले किसी भी ऑफ-स्पिन गेंदबाज द्वारा लेग साइड से घूमने वाली गेंद का इस्तेमाल किया गया होगा। [3]

इस गेंद के नामकरण का श्रेय पाकिस्तान के पूर्व विकेटकीपर मोइन खान को दिया जाता है, जो विकेट के पीछे से मुश्ताक को "दूसरा" डालने के लिए कहते थे। इन मैचों में से एक में कमेंट्री करने वाले टोनी ग्रेग अंततः इस शब्द को उस गेंद के साथ जोड़ने में सफल रहे और मैच पश्चात के एक साक्षात्कार में सकलैन द्वारा इसकी पुष्टि भी कर दी गयी।[4] इस प्रकार यह शब्द क्रिकेट संस्कृति का एक हिस्सा बन गया। दूसरा अब स्पिन गेंदबाजी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है।

हालांकि कुछ लोगों के अनुसार दूसरा की वास्तविक शुरुआत 1950 के दशक में वेस्ट इंडीज की तरफ से खेलने वाले सौनी रामादीन द्वारा की गयी थी, क्योंकि एक ऑफ-ब्रेक गेंदबाज की तरह गेंद को पकड़ने के बावजूद वे गेंद को दोनों तरफ घुमाते थे और दूसरा डालने वाले कई ऑफ-ब्रेक गेंदबाजों की ही तरह उनका भी गेंदबाजी एक्शन संदिग्ध था।[5]

तकनीक[संपादित करें]

गेंदबाज एक सामान्य ऑफ ब्रेक के उँगलियों के एक्शन के समान ही गेंद को डालता है, लेकिन अपनी कलाई को थोड़ा अधिक घुमा लेता है ताकि हाथ के पीछे का हिस्सा बल्लेबाज के सामने रहे। ऐसा करने पर गेंद एक सामान्य ऑफ ब्रेक की उल्टी दिशा में घूमने लगती है और एक दाएं हाथ के बल्लेबाज के लिए लेग साइड से ऑफ साइड की तरफ स्पिन करती है।

दूसरा, एक ऑफ-स्पिनर के लिए एक लेग-स्पिनर की गुगली के समकक्ष गेंद है; गुगली, एक लेग स्पिनर की सामान्य गेंद की विपरीत दिशा में घूमती है।

एक बाएं हाथ का गेंदबाज (जिसका एक्शन एक ऑफ-स्पिनर के प्रतिबिंब समान ही होता है) भी दूसरा गेंद डाल सकता है, जो कि ऑफ से लेग की तरफ घूमेगी. श्रीलंका के बाएँ हाथ के गेंदबाज रंगन हेराथ को इसी प्रकार की गेंद डालने के कारण पहचान मिली थी, विशेषकर एक ए (A) टूर के दौरान ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ.[6] इंग्लैंड के बाएं हाथ के गेंदबाज मोंटी पनेसर का दावा है कि वह घरेलू मैचों में कभी-कभी इस प्रकार की गेंद डालते रहे हैं।[7]

अन्य गेंदबाज[संपादित करें]

ऐसा लगता है कि कई अन्य ऑफ स्पिनर "दूसरा" का अधिकाधिक उपयोग करने की कोशिश कर रहे हैं। दिलचस्प बात यह है कि स्वयं सकलैन मुश्ताक के अतिरिक्त, इस गेंद का इस्तेमाल करने वाले अन्य सभी ऑफ-स्पिनरों के खिलाफ फेंकने (थ्रोइंग) का आरोप लगाया जा चुका है, हालांकि अधिकांश मामलों में इसे ख़ारिज कर दिया गया है। इन में शामिल हैं, मुथैया मुरलीधरन, हरभजन सिंह, सईद अजमल, शोएब मलिक और जोहान बोथा। वारविकशायर के पूर्व गेंदबाज एलेक्स लूडन द्वारा इस्तेमाल किये जाने वाले एक अन्य तरीके में, बीच की ऊँगली को गेंद के पीछे रखके गेंद डालते समय उसे 'फ्लिक' किया जाता है (झटका दिया जाता है), ऐसा करने पर गेंद लेग से ऑफ की तरफ घूमती है। दूसरा के इस प्रकार की सफलता के बारे में अभी कुछ भी कहना संभव नहीं है क्योंकि लूडन द्वारा इंग्लैण्ड के लिए अपने एक दिवसीय करियर की शुरुआत 24 जून 2006 को श्रीलंका के खिलाफ ही की गयी है। उन्होंने कोई विकेट तो नहीं लिया लेकिन मैच में दूसरा गेंद अवश्य डाली थी। उनके खिलाफ फेंकने का भी कोई आरोप नहीं लगाया गया। दक्षिण ऑस्ट्रेलिया के डैन कलेन भी कथित रूप से दूसरा गेंद डाल लेते हैं। अजंता मेंडिस को अपने करियर की शुरुआत में दूसरा की मिडल फिंगर फ्लिक शैली का उपयोग करते हुए सफलता मिली थी।[8]

मुथैया मुरलीधरन[संपादित करें]

मुरलीधरन का दूसरा, 2004 में ऑस्ट्रेलिया के श्रीलंका दौरे के दौरान गेंदबाजी करते समय, कोहनी के ऊपर बांह को अवैध तरीके से सीधा करने के लिए मैच रेफरी क्रिस ब्रॉड द्वारा आधिकारिक रिपोर्ट का विषय बनी थी। बाद में पर्थ स्थित युनिवर्सिटी ऑफ वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया में किये गए बायोमेकेनिकल परीक्षणों में पाया गया कि मुरलीधरन दूसरा डालते समय अपनी बांह को 10 डिग्री तक सीधा करते थे, जो कि इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद) द्वारा स्पिन गेंदबाजों के लिए स्वीकृत 5 डिग्री से काफी अधिक था। मुरलीधरन को बाद में श्रीलंका क्रिकेट द्वारा निर्देश दिया गया कि वे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में दूसरा का प्रयोग न करें। नवंबर 2004 में, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने अवैध गेंदबाजी एक्शन के क्षेत्र में और अधिक अनुसंधान किये और पाया कि कई गेंदबाज जिनके एक्शन को वैध माना जा रहा था, वास्तव में नियमों का अतिक्रमण कर रहे थे। 2005 की शुरुआत में आईसीसी (ICC) के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों की बैठक में एक नियम बदलाव को प्रस्तावित और स्वीकृत कर लिया गया जिसमें कहा गया था कि कोई भी गेंदबाज अपनी बांह को 15 डिग्री तक सीधा कर सकता है और इस प्रकार मुरलीधरन की दूसरा पुनः एक वैध गेंद बन गयी।

फरवरी 2006 में ऑस्ट्रेलियाई दर्शकों और उनके 'नो बॉल' के नारों को हमेशा के लिए चुप करने के प्रयास में मुरलीधरन ने यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया में एक और परीक्षण करवाया जिसमें दूसरा सहित उनकी सभी गेंदों को वैध पाया गया।

हरभजन सिंह[संपादित करें]

नेट पर गेंदबाजी करते हुए हरभजन.

भारतीय गेंदबाज हरभजन सिंह की दूसरा गेंद, दिसंबर 2004 में चित्तागोंग में भारत और बंगलादेश के बीच खेले गए दूसरे टेस्ट के बाद मैच रेफरी क्रिस ब्रॉड, ऑन-फील्ड अंपायरों अलीम दार और मार्क बेंसन, तथा टीवी अंपायर महबूबुर रहमान की एक आधिकारिक रिपोर्ट द्वारा विषय बनी थी। यह बताया गया कि उनकी बांह 10 डिग्री के कोण तक सीधी होती है जब कि आईसीसी (ICC) के मानक 5 डिग्री तक को ही स्वीकार करते है।[9]

शोएब मलिक[संपादित करें]

पाकिस्तानी ऑलराउंडर शोएब मलिक के खिलाफ भी 2004 दिसम्बर में पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए पहले टेस्ट के बाद उनके दूसरा को लेकर शिकायत की गयी थी। मुरलीधरन के समान, उन पर भी बायोमेकेनिकल परीक्षण किये गए और उस श्रृंखला के बाकी टेस्टों में उन्होंने गेंदबाजी नहीं की। अपनी दूसरा गेंद डालते समय थ्रो करने (फेंकने) के आरोपित अन्य क्रिकेटरों के विपरीत, मलिक एक सक्षम बल्लेबाज भी हैं और कुछ विश्लेषकों का मानना है कि इस गेंद को डालने से रोके जाने पर वे अपनी बल्लेबाजी पर अधिक ध्यान देने लगेंगे. मलिक को 2004 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टेस्ट के लिए पाकिस्तानी टीम से हटा दिया गया था, हालांकि ऐसा किसी विवाद के चलते नहीं बल्कि पर्थ की पिच के स्पिन गेंदबाजों के प्रतिकूल होने की वजह से किया गया था।

मलिक ने मई 2005 में कुछ सुधार करने के बाद पुनः गेंदबाजी शुरू कर दी। इंग्लैंड के खिलाफ नवंबर 2005 में मुल्तान में पहले टेस्ट के बाद उनके और अहमद शब्बीर के खिलाफ फिर से शिकायत कर दी गयी।

मई 2006 में मलिक ने अपने गेंदबाजी एक्शन को सही करने के लिए कोहनी की सर्जरी करवाई. मलिक और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड इसके पहले असफलातापूर्वक यह तर्क देते रहे थे कि 2003 की एक सड़क दुर्घटना में उनकी कोहनी में लगी चोट के कारण उनका गेंदबाजी एक्शन संदिग्ध दिखाई देता है। मलिक जून 2006 में पुनः खेल के मैदान पर उतरे लेकिन अब वे दूसरा गेंद का इस्तेमाल नहीं करते हैं।[10]

जोहान बोथा[संपादित करें]

2006 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच के बाद दक्षिण अफ्रीका के जोहान बोथा के खिलाफ दूसरा के उनके संस्करण के लिए शिकायत दर्ज की गयी। बोथा का वह पहला टेस्ट मैच था जिसमें उन्होंने 2 विकेट लिए। बाद में उनकी गेंदबाजी को अवैध करार दे दिया गया और उन पर प्रतिबंध लगा दिया गया, हालांकि इस प्रतिबंध को नवंबर 2006, में समाप्त कर दिया गया।[11] हालांकि, अप्रैल 2009 में ऑस्ट्रेलिया की श्रृंखला के बाद उनके गेंदबाजी एक्शन के पुनर्मूल्यांकन के लिए उन्हें फिर से बुलाया गया।[12] मई 2009 में उन्हें दूसरा के अतिरिक्त अन्य सभी प्रकार की गेंदों को डालने की अनुमति दे दी गयी क्योंकि उनकी दूसरा को 15 डिग्री की सीमा के पार माना गया था।

ऑस्ट्रेलिया में दूसरा के शिक्षण के खिलाफ प्रतिबंध[संपादित करें]

जुलाई 2009 में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के सेंटर फॉर एक्सीलेंस में आयोजित स्पिन शिखर सम्मेलन में निर्णय लिया गया कि युवा स्पिनरों को दूसरा गेंद सिखाई नहीं जायेगी. बैठक में निम्न प्रतिनिधि शामिल थे, पूर्व टेस्ट स्पिनर शेन वार्न, स्टुअर्ट मैकगिल, जिम हिग्स, गेविन रॉबर्टसन, टेरी जेनर, पीटर फिलपॉट तथा एशले मैलेट. उनके अनुसार, दूसरा को वैध तरीके से नहीं डाला जा सकता है और जब तक आईसीसी (ICC) चकिंग (फेंकने) के सभी रूपों वैध बनाने का फैसला नहीं करता है तब तक इसे ऑस्ट्रेलिया में नहीं सिखाया जाएगा.

एक साक्षात्कार में विन्सेन्ट बार्न्स का तर्क है कि[13] UWA प्रोफेसर और ICC के बायोमेकेनिस्ट, ब्रूस इलियट ने फिंगर स्पिनरों के साथ किये गए अपने अनुसंधान में एक रोचक खोज की थी। उन्होंने कहा कि "उन्होंने पाया है कि उपमहाद्वीप के कई गेंदबाज दूसरा को वैध रूप से डाल सकते हैं लेकिन कोकेशियान गेंदबाज नहीं."

तीसरा[संपादित करें]

2004 में, दूसरा को विकसित करने वाले सकलैन मुश्ताक ने तीसरा नामक एक नए संस्करण को विकसित करने का दावा किया, जो कि ऑफ स्पिनर के रूप में एक टॉप स्पिनर गेंद होती है।[14] उनके द्वारा कथित तौर पर आईसीएल (ICL) मैचों में इसका इस्तेमाल किया गया था।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. सकलैन साइन्स फॉर आयरलैंड: Cricinfo.com, 26 अप्रैल 2007 को प्राप्त किया गया।
  2. दूसरा मे बी दी डिफरेंस - क्रिकेट - स्पोर्ट - theage.com.au
  3. सकलैन मुश्ताक - प्लेयर प्रोफाइल: Cricinfo.com 26 अप्रैल 2007 को प्राप्त किया गया।
  4. मोईन खान कॉइन दी टर्म
  5. सौनी रामादीन इंट्रोड्यूज़्ड दूसरा
  6. रंगना हेराथ. Cricinfo.com. 2008-04-06 को प्राप्त किया गया।
  7. 2094-2300484,00.html टाइम्स ऑनलाइन: दी बिग इंटरव्यू: मोंटी पनेसर
  8. अजंता मेंडिस फिंगर फ्लिक दूसरा
  9. क्रिकइन्फो: हरभजन क्लियर्ड टू बोल
  10. क्रिकइन्फो: शोएब मलिक
  11. क्रिकइन्फो: बोथाज़ एक्शन पास्ड बाय दी आईसीसी
  12. बोथा रिपोर्टेड फॉर सस्पेक्टेड एक्शन
  13. लाइफ आफ्टर दूसरा | स्पेशल्स | क्रिकइन्फो मैग्जीन | Cricinfo.com
  14. सकलैन डेवलपिंग ए 'तीसरा'