बाउंसर (क्रिकेट)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
गेंदबाजी तकनीकी
प्रकार
तेज
स्पिन
गेंदें
तेज
स्पिन
अन्य
अभियान
सामान्यओवर आर्म
अन्य
अवैध तकनीकी

क्रिकेट के खेल में, बाउंसर (या बम्पर) एक प्रकार की गेंद है, जो आमतौर पर तेज गेंदबाज द्वारा इस्तेमाल की जाती है।

उपयोग[संपादित करें]

बाउंसर को रणनीतिक तरीके से इस्तेमाल किया जाता है इससे गेंदबाज़ आक्रामक बल्लेबाज़ को पीछे की ओर धकेल देता है। इस के लिए, बाउंसर आमतौर पर बल्लेबाज के शरीर की तर्ज पर मारे जाते हैं। बाउंस अवैध नहीं होते अगर गेंद पिच पर उछल कर जाये या पिच पर उछले किए बिना जाये परन्तु बल्लेबाज़ की कमर की ऊंचाई से नीचे रह जाये यह खेल का एक सामरिक रूप से महत्वपूर्ण हिस्सा है। पिच पर उछले बिना बल्लेबाज के सिर का लक्ष्य करना, जिसे बीमर कहा जाता है, अवैध है।

बाउंसर बैंगनी रंग में है।

बाउंसर की वजह से चोटें और मौतें  [संपादित करें]

जस्टिन लैंगर २००६ में सर पर बाउंसर लगने की वजह से हस्पताल में भर्ती हुए 

नवंबर २०१४ में, ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटर फिलिप ह्यूज एक शेफिल्ड शील्ड मैच के दौरान शॉन एबॉट के बाउंसर से बेहोश हुए थे, जिसने उनके हेलमेट के ग्रिल और खोल के बीच में सिर के किनारे पर चोट की।[1] उन्हें गंभीर हालत में अस्पताल ले जाया गया था और दो दिनों के बाद उसकी चोटों से मृत्यु हो गई।[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • क्रिकेट शब्दावली

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. फिलिप ह्यूज बाउंसर लगने से गंभीर http://www.abc.net.au/news/2014-11-25/test-aspirant-phillip-hughes-in-critical-condition-after-surgery/5916844
  2. फिलिप ह्यूज बाउंसर लगने से मौत http://www.bbc.co.uk/sport/0/cricket/30219440