स्विंग गेंदबाजी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
गेंदबाजी तकनीकी
प्रकार
तेज
स्पिन
गेंदें
तेज
स्पिन
अन्य
अभियान
सामान्यओवर आर्म
अन्य
अवैध तकनीकी

स्विंग गेंदबाजी क्रिकेट के खेल में गेंदबाजी की एक तकनीक है। इसे इस्तेमाल करने वालो को स्विंग गेंदबाज़ कहा जाता है। स्विंग गेंदबाज़ी , तेज गेंदबाज़ी के उपप्रकार के रूप में वर्गीकृत है।      

भौतिकी की स्विंग गेंदबाजी[संपादित करें]

के Philadelphians' बार्ट राजा मदद करने के लिए सही स्विंग गेंदबाजी में जल्दी 20 वीं सदी[कृपया उद्धरण जोड़ें]

स्विंग गेंदबाज़ी का सार यह है कि क्रिकेट गेंद को अपने मार्ग से बल्लेबाज़ की तरफ या उनसे दूर हटाना जब वह हवा में आगे बढ़े | इसे करने के लिए गेंदबाज़ पांच साधनो का इस्तेमाल करते हैं।  

  •  क्रिकेट गेंद का उठाया हुआ सीवन 
  •  गेंद का कट - फट 
  •  गेंद को चमकाने के लिए तरल का इस्तेमाल 
  •  गेंद के वितरण की गति 
  • गेंदबाज़ का एक्शन  

गेंद की विषमता बनाये रखने के लिए छेत्ररक्षण करने वाली टीम के खिलाड़ी गेंद के एक तरफ को निरंतर चमकाने का कार्य करते हैं जबकि दूसरी तरफ को टूट - फुट से बिगड़ने देते हैं। समय के साथ यह गेंद के दोनों तरफ की वायुगतिकी गुण पर स्पष्ट अंतर उत्पन्न करते हैं।

अशांत और पटलीय बहाव दोनों स्विंग में योगदान देते हैं। पटलीय प्रवाह में हवा अशांत प्रवाह के बदले गेंद की सतह को पहले छोड़ देती है , ताकि जुदाई बिंदु गेंद के पटलीय तरफ़ के सामने की तरफ हट जाये | अशांत प्रवाह की तरफ हवा पीछे की दिशा में रहती है , जो की गेंद के अशांत प्रवाह की तरफ ज्यादा उठाऊ बल उत्पन्न करती है। देखे गए स्विंग राशि के लिए परिकलित कुल उठाव बल पर्याप्त नहीं होता। अतिरिक्त बल ढाल बल के द्वारा दिया जाता है।

दबाव ढाल बल प्रेरित करने के लिए गेंदबाज को गेंद की उलटी तरफ़ उच्च और निम्न स्थैतिक दबाव के क्षेत्र बनाना चाहिए। गेंद फिर कम स्थैतिक दबाव के क्षेत्र की ओर उच्च स्थैतिक दबाव के क्षेत्र से खिंची चली आती है। मैगनस प्रभाव यही बल का उपयोग करता है, लेकिन गति की दिशा भर में स्पिन को हेरफेर करके | तरल पदार्थ की एक परत , इस मामले में हवा में , एक ठोस पदार्थ की परत की तुलना में कोई दूसरी तरल पदार्थ की परत पर अधिक वेग से आगे बढ़ती है। जब तरल का वेग अधिक होगा तब उसका स्थैतिक दबाव कम होगा।

जब गेंद नया होता है तब सीवन गेंद की एक तरफ अशांत हवा की परत बनाने के लिए प्रयोग की जाती है , ऐसा गेंद को एक तरफ झुकाके और सीवन के साथ घुमा के किया जाता है। इससे गेंद के साथ हवा की जुदाई बिंदु में परिवर्तन आता है ; यह अशांत हवा लिफ्ट उपलब्ध कराने के लिए , हवा का एक बड़ा कवरेज बनाता है। अशांत हवा के तरफ वाली दिशा में हवा की अगली परत में हवा के अधिक व्याप्ति की वजह से अधिक वेग होगा और जैसा की हवा की गति में अंतर है इससे गेंद की दोनों तरफ का स्थैतिक दबाव भी अलग होगा। फलस्वरूप गेंद अपने अशांत बहाव की तरफ उठी और खिंची चली जाएगी | 

जब गेंद पुरानी होती है और खुरदरापन में विषमता होती है तब सीवन कोई दबाव अंतर का कारण नहीं बनता है , और वास्तव में वह गेंद की स्विंग को कम कर सकती है। हवा की अशांति अब जुदाई बिंदु मतभेद पैदा करने के लिए और इसलिए उठाव और दबाव मतभेद करने के लिए इस्तेमाल नहीं किया जाता है। गेंद के खरदुरी तरफ गेंद की सतह पर खरोंच और गड्ढे हैं। यह अनियमितता गोल्फ बॉल के डिंपल की तरह ही कार्य करती है। यह अनियमितता हवा को फसाती है जिससे गेंद के खरदुरी तरफ के बगल में फसी हुई हवा की परत बनती है जोकि गेंद की सतह के साथ आगे बढ़ती है। गेंद का चिकना पक्ष हवा की परत नहीं फंसाता है। खुरदुरे पक्ष में गेंद से बाहर की तरफ हवा की अगली परत में अधिक वेग होता है। ऐसा उसके ठोस गेंद की बजाए फंसी हुई हवा की परत के संपर्क में रहने से होता है। इससे स्थैतिक दबाव चमकदार पक्ष की तुलना में कम हो जाता है जोकि गेंद को स्विंग कराता है।