विकिपीडिया:चौपाल/पुरालेख 33

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Archive
पुरालेख

यह पृष्ठ विकिपीडिया चौपाल की वार्ताओं का पुरालेख पृष्ठ है। नवीनतम वार्ताओं के लिए देखें विकिपीडिया:चौपाल


अनुक्रम

X!'s Edit Counter[संपादित करें]

विशेष:पुस्तक स्रोत पृष्ठ[संपादित करें]

विशेष:पुस्तक स्रोत पृष्ठ में फ्लिपकार्ट को भी जोड़ा जाना चाहिए। चूँकि हिन्दी माध्यम में लिखी पुस्तके सबसे अधिक फ्लिपकार्ट पर ही मिल सकती हैं जो अन्य साईटों पर मिलना मुश्किल है। यह मेरा निजी मत है अतः इस पर प्रत्येक सदस्य अपना मत प्रकट कर सकता है।☆★संजीव कुमार (संवाद) 20:36, 24 जून 2013 (UTC)

बहुत उत्तम सुझाव है अगर कुछ दिनों तक कोई सदस्य इसमें अपनी आपत्ति प्रकट नहीं करता तो मैं फ्लिपकार्ट को भी सूची में डाल दूँगा। धन्यवाद संजीव जी।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 18:41, 26 जून 2013 (UTC)

कैविन रूड अथवा केविन रड[संपादित करें]

वार्ता पृष्ठ पर संजीव जी के सुझाव पर मैंने इस लेख का शीर्षक बदल कर केविन रड कर दिया है। इसका चित्र भी विकीकॉमन्स से अप्लोड कर दिया है। डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 11:14, 28 जून 2013 (UTC)

धन्यवाद क्रान्त जी।☆★संजीव कुमार (संवाद) 11:22, 28 जून 2013 (UTC)

अत्याधिक बर्बता[संपादित करें]

विकिपीडिया:अनुवाद अनुरोध[संपादित करें]

मैं पिछले कई दिनों से देख रहा हूँ कि विकिपीडिया:अनुवाद अनुरोध नामक पृष्ठ पर किसी भी आईपी पते से कुछ भी बकवास जोड़ दी जाती है। यहाँ ना ही तो मैं यह समझ पाता हूँ कि इस पृष्ठ को सम्पादित करने के नियम क्या हैं और क्या लिखा जा सकता है। यहाँ मैं यह समझने में भी असमर्थ हूँ कि इस पृष्ठ का उद्देश्य क्या है? इस पृष्ठ पर बहुत से लेखों के बारे में लिखा है जिनमें से कईयों का अनुवाद हो चुका है लेकिन उन्हें हटाया नहीं गया है, बहुत से अनुरोध लम्बे समय से अनुवाद रहित पड़े हैं, उनका अनुवाद कौन करेगा? यदि किसी पृष्ठ का अनुवाद किया जाना है तो वह अनुवाद पृष्ठ के कितने हिस्से का किया जाना चाहिए? यदि कोई अनुवादक पूर्ण पृष्ठ का अनुवाद करने में असक्षम है तो वह क्या करे? यदि कोई पाठक, सम्पादक अथवा प्रबंधक मेरे प्रश्नों का उत्तर देकर मुझे संतुष्ट करने की कोशिश करेगा तो मुझे अतिप्रसन्नता होगी।☆★संजीव कुमार (संवाद) 13:49, 28 जून 2013 (UTC)

संजीव जी, इस पृष्ठ के निर्माण का प्रयोजन था अन्य भाषाओं के विकि के सदस्यों को एक उपयुक्त स्थान उपलब्ध कराना जहाँ वे अपनी भाषाओं में लिखे लेख या फ़िर वे महत्वपूर्ण लेख जो हिन्दी विकि पर नहीं बने हुए हैं के लिए अनुवाद के लिए अनुरोध कर सकें। यह पृष्ठ एक उपयोगी पृष्ठ है जिसका भूतकाल में अच्छा इस्तेमाल भी हुआ है। अनुवाद के पश्चात कुछ दिनों तक लेखों को पृष्ठ पर रखा जाता है जिस से अनुरोधक का पता चल सके कि उसका अनुरोध पूरा हो चुका है, चूँकि अनुरोधक अमूमन हिन्दी विकि का सक्रिय सदस्य नहीं होता इसलिए उसे इस पृष्ठ को देखने में कुछ समय लग सकता है, अब कितने समय तक अनूदित पृष्ठ की कड़ी वहाँ रखी जाए यह कभी किसी ने सोचा नहीं। सम्पूर्ण पृष्ठ का अनुवाद आवश्यक नहीं है, अगर पृष्ठ बहुत लम्बा है तो उसके मुख्य भागों का अनुवाद किया जा सकता है, बल्कि कोई दो लाइन का आधार बनाने के लिए भी स्वतंत्र है। यह अनुवादक की कार्यक्षमता और उसकी रूचि पर निर्भर करता है। मैने भी एक-दो बार ऐसे अनुरोधो पर कार्य किया है और अन्य सदस्यों को भी ऐसा करने की सलाह देना चाहूँगा।
वैसे संजीव जी ने एक अच्छा विषय सबके समक्ष रखा है, मैं कुछ नियम सबके सामने रखता हूँ जिस से समुचित ढंग से यह कार्य हो सके:
  1. संजीव जी का सुझाव: अनुरोधकर्त्ता किसी भी एक विकि परियोजना का सक्रिय सदस्य होना चाहिए।
  2. अनुरोधक एक बार में केवल एक ही लेख के अनुवाद के लिए अनुरोध करेगा। जब तक उसका प्रथम लेख अनुवादित नहीं होता तब तक उसे अन्य लेख के अनुरोध के लिए प्रतीक्षा करनी पड़ेगी।
  3. अनुरोधक या तो यह साफ़ करे कि उसे लेख का कितना हिस्सा अनुवादित करवाना है नहीं तो अनुवादक अपने विवेक अनुसार कार्य करने के लिए स्वतंत्र है।
  4. चार हफ़्ते से अधिक समय बीत जाने पर अगर कोई भी सदस्य किसी विशेष अनुरोध में रूचि नहीं दिखाता तो उस अनुरोध को पृष्ठ से हटा दिया जाएगा।
  5. अनुरोध पूरा होने के ठीक एक हफ़्ते के पश्चात अनुरोध को पृष्ठ से हटा दिया जाएगा।
अगर सभी सदस्यों को ये सुझाए नियम उचित लगते हैं तो मैं इन्हें परियोजना पृष्ठ पर लिख दूँगा। कृपया अपने सुझाव या टिप्णियाँ यहाँ प्रकट करें। धन्यवाद।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 06:25, 29 जून 2013 (UTC)
बिल जी मुझे आपके कुछ नियमों में थोड़ा सा ऐतराज है जैसे प्रथम नियम में थोड़ा सुधार किया जाये, इसमें "एक अनुरोध" के स्थान पर "एक विषय से सम्बंधित एक ही अनुरोध" किया जाये तो थोड़ा अधिक व्यापक होगा।
तृतीय बिन्दु से मैं सहमत नहीं हूँ और इसके स्थान पर नियम इस प्रकार हो कि अनुरोधकर्त्ता विकिपीडिया का सदस्य होना चाहिए।☆★संजीव कुमार (संवाद) 06:44, 29 जून 2013 (UTC)
संजीव जी, ये दो मुझे भी कुछ कड़े लगे थे परन्तु फ़िर मैने यह सोचा कि इस प्रकार तो लंबी अवधि तक अनुरोध उस पृष्ठ पर ऐसे ही पड़े रहेंगे। हमे कुछ तो समय निर्धारित करना ही पड़ेगा जब अनुरोध को पृष्ठ से हटाया जाए। साथ ही हमे यह भी निर्धारित करना पड़ेगा कि एक सदस्य एक बार में कितने अनुरोध कर सकता है। अगर कल कोई सदस्य पचास लेख एक साथ अनुवादित करने के लिए बोले तो यह अनुरोध कहाँ प्रायोगिक दिखेगा? यह मेरी व्यक्तिगत राय है इसलिए मैने इन सुझाव पर आप सब की राय माँगी है अगर अन्य सदस्यों को भी ये अनुचित लगे तो मैं इन दोनों को हटा दूँगा। विकि सदस्य होने के नियम को मैंने जोड़ दिया है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 07:00, 29 जून 2013 (UTC)

हरसिल और हर्षिल का आपस में विलय[संपादित करें]

उपरोक्त दोनों ही पृष्ठ एक ही जगह के बारे में लिखे गये हैं हालांकि हरसिल पृष्ठ अधिक तरतीब से बनाया हुआ है। अतः मेरा मत है कि हर्षिल पृष्ठ को हरसिल में विलय करना ठीक होगा। बोलचाल की भाषा में उच्चारण दोनों ही सही हैं।--सोमेश त्रिपाठी वार्ता 12:00, 1 जुलाई 2013 (UTC)

YesY पूर्ण हुआ, हर्षिल लेख तो विज्ञापन की तरह लिखा गया था। धन्यवाद सोमेश जी, इस परिस्थिति से अवगत कराने के लिए।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 13:32, 1 जुलाई 2013 (UTC)

चित्र:मधुमती.jpg को शीघ्र हटायें[संपादित करें]

इस चित्र को कृपया शीघ्र हटायें क्योंकि जब मैंने यह चित्र डाला था तो पता नहीं था कि यह असली पोस्टर नहीं है। धन्यवाद।--सोमेश त्रिपाठी वार्ता 11:02, 5 जुलाई 2013 (UTC)

सोमेश जी आप हटाये बिना भी उसी संचिका का नव अवतरण डाल सकते हो। इसके लिए चित्र:मधुमती.jpg पर जाओ और चित्र के नीचे (इस फ़ाइल का नया अवतरण अपलोड करें।) पर क्लिक करें।☆★संजीव कुमार (संवाद) 11:21, 5 जुलाई 2013 (UTC)
मेरी जानकारी बढ़ाने के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद संजीव जी। लेकिन विषय यह है कि इस चित्र को ही हटाना है न कि नया अवतरण डालना है।--सोमेश त्रिपाठी वार्ता 19:08, 5 जुलाई 2013 (UTC)
YesY पूर्ण हुआ<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 20:28, 5 जुलाई 2013 (UTC)

नरेन्द्र मोदी लेख के इन्फोबॉक्स में से फोटो गायब[संपादित करें]

प्रबन्धक कृपया ध्यान दें। उपरोक्त लेख में आज देखा कि इन्फोबॉक्स का चित्र ही गायब है। उसे सम्पादित करने की कोशिश की तो पता चला कि लेख सुरक्षित कर दिया गया है जो शायद बर्बरता रोकने के उद्देश्य से ही किया होगा। चुँकि मुझे यहाँ पर कोई विशेषाधिकार प्राप्त ही नहीं है अत: इतना निवेदन अवश्य करना चाहूँगा कि प्रबन्धकों में से कोई भी इसके इन्फोबॉक्स में चित्र अप्लोड कर दें। सहायता के लिये बता दूँ विकिकॉमन्स में नरेन्द्र मोदी के चित्र उपलब्ध हैं। धन्यवाद! डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 04:56, 7 जुलाई 2013 (UTC)

धन्यवाद बिल विलियम कॉम्टन जी! अनुमति के लिये। मैंने यथावश्यक सुधार कर दिया है। कृपया देख लें। डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 06:40, 7 जुलाई 2013 (UTC)

मुरादाबाद जनपद के रचनाकार[संपादित करें]

कृपया उपरोक्त पृष्ठ देखें। इससे मिलता जुलता एक और लेख है मुरादाबाद के साहित्यकार। दोनों में कमोवेश एक जैसी ही सामग्री है। दोनों लेखों पर आपस में विलय कर देने का साँचा भी लगा हुआ है। प्रबन्धक गण व सभी सक्रिय सदस्य इस ओर विशेष ध्यान देने की कृपा करें। धन्यवाद डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 07:01, 7 जुलाई 2013 (UTC)

While going throgh above Article मुरादाबाद के साहित्यकार another wonderful, not wonderful but full Article वार्ता:मुरादाबाद के साहित्यकार was also found containing the same material. It should also be kept in mind while doing merger of these Articles. Thanks for the trouble डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 07:12, 7 जुलाई 2013 (UTC)
क्रांत जी, आपको जैसा उचित लगे वैसे इनका विलय कर दें। कोई समस्या आए तो बताइएगा।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 08:16, 7 जुलाई 2013 (UTC)
धन्यवाद! बिल जी! मैंने कोशिश की परन्तु जैसे ही मुरादाबाद के साहित्यकार पेज के ऊपर संपादित करें क्लिक किया "दिस पेज कैन नॉट बी फाउण्ड" ही लिखा हुआ दिखायी दिया। शायद इसे आप ही कर सकते हैं। करना कुछ नहीं है केवल पेज शिफ्टेड का टैग लगा कर इसकी सामग्री को हटा देना भर है। इसी प्रकार वार्ता:मुरादाबाद के साहित्यकार पर बाकी का मैटर हटाकर वार्ता पृष्ठ का साँचा लगा देना है। डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 13:57, 7 जुलाई 2013 (UTC)
क्रांत जी, मैने 'मुरादाबाद जनपद के रचनाकार' का 'मुरादाबाद के साहित्यकार' में विलय कर दिया है। वार्ता पृष्ठ की सामग्री कॉपी-पेस्ट थी इसलिए उसे हटा दिया है। अगर कुछ रह गया हो तो कृपया बताइए।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 14:28, 7 जुलाई 2013 (UTC)

┌────────────────┘
बिल जी! मैंने इस लेख का पुनरीक्षण कर लिया है। कुछ संशोधन लीड पैरा में किया है। बाकी पूरे लेख को बिल्कुल नहीं छेड़ा है। लेख का अवतरण इतिहास देखने पर इस बात की पुष्टि तो हो गयी कि इसका निर्माण अवनीश सिंह चौहान ने किया था। परन्तु उन्होंने अपना पता इसमें कहीं नहीं दिया केवल ई-मेल आईडी और पूर्वाभास नामक किसी ब्लॉग का सन्दर्भ दिया है। श्री चौहान हिन्दी विकीपीडिया पर काफी दिनों सक्रिय सदस्य के रूप में योगदान करते रहे हैं अत: आप उनसे पूछ लीजिये कि उनका मुरादाबाद का स्थायी पता क्या है? और अधिक बेहतर होगा कि वे स्वयं ही इस लेख में अपना पता व पुस्तकों की सूची दे दें। शेष लेख ठीक है यदि वे सन्दर्भ, अर्थात् जिस पुस्तक के आधार पर उन्होंने इस लेख का निर्माण किया था, आदि दे सकें तो प्रामाणिकता पर कोई प्रश्नचिन्ह नहीं लगेगा। धन्यवाद डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 14:38, 8 जुलाई 2013 (UTC)

॥ ॥ ॥ आओ जन्मदिन मनाते हैं ॥ ॥ ॥[संपादित करें]

नमस्ते हिन्दी विकी दोस्तों, ११ जुलाई २०१३ को हम हिन्दी विकिपीडिया का दसवाँ जन्मदिन मनाने जा रहे हैं। इसे एक अद्भूत तरीके से मनाया जाये इसके लिए मैं यहाँ आपके विचार करना चाहता हूँ अथवा आपके परामर्श चाहता हूँ। चूँकि आप सभी जानते हैं हिन्दी विकी पिछले दश वर्षों में बहुत विकास किया है लेकिन यह अन्य विकियों की तुलना में पर्याप्त नहीं है। कई बार लगता है कि इतना बड़ा हिन्दी भाषी परिवार होने के बावजूद हिन्दी विकी इतनी पिछे क्यों और कभी-कभी मैं स्वयं ही इसका जबाब देता हूँ कि इसका पर्याप्त प्रचार नहीं किया गया। हिन्दी विकी पर अन्य विकियों की तरह विवाद भी होते रहे हैं आरोप प्रत्यारोप भी लगे हैं। लेकिन जो भी हो इन सबका कुल मिलाकर नुकसान ही हुआ। मेरी यह भी विनती है कि इस कास्य जयंती को सब मिलकर प्रसन्नता से मनायें और इसके प्रचार प्रसार के तरीके ढ़ूँढ़ निकालें। पिछले २-३ वर्षों में हमने लेखों की संख्या तो बढ़ाई है लेकिन उस संख्या के समकक्ष गुणवता में सुधार नहीं कर पा रहे हैं। अभी हिन्दी विकिपीडिया पर केवल दो प्रबंधक हैं लेकिन हमारे पास इन्हें बढ़ाने के लिए पर्याप्त सदस्य संख्या ही नहीं है। शायद ही कोई चर्चा होती है जहाँ १० लोग अपना मत दें। इस तरह कुल मिलाकर हिन्दी विकिपीडिया पर केवल १० सदस्य भी ऐसे नहीं हैं जो एक सप्ताह में एक सम्पादन करते हैं। ऐसा क्यों? दस वर्ष में एक बच्चा जवान हो जाता है। एक जवान बच्चों का पिता हो सकता है। दस वर्षों में बहुत कुछ बदल सकता है लेकिन हिन्दी विकी पर ऐसा क्यों नहीं हो रहा? मैं नहीं चाहता मेरी इस चर्चा पर कोई विवाद हो, क्योंकि कोई नहीं चाहता की उनका जन्मदिन विवादों से घिरे और यह तो हिन्दी विकी का जन्म दिन है अतः इसे तो खुशियों से आगे बढ़ाना ही चाहिए। अतः जैसा भी आपको लगे अपना विचार रखें लेकिन कृपया जबाब का जबाब न लिखें। क्योंकि किसी को उत्तर देने में कोई विवाद नहीं होता लेकिन जब प्रश्नोत्तरी होने लगे और प्रश्न भी उत्तरों से बनाये जायें तो विवाद स्वाभाविक ही है। अतः कृपया अपने उत्तर लिखें। अपने विचार लिखें लेकिन उत्तरोत्तर न लिखें। मुझे नहीं लगता मैं अ धिक विचार यहाँ देख पाउँगा लेकिन मुझे खुशी होगी यदि मैं आपके निर्विवाद विचार यहाँ देख पाऊँगा। मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि मेरे विकी दोस्त मुझे निराश नहीं करेंगे। ☆★संजीव कुमार (संवाद) 05:40, 8 जुलाई 2013 (UTC)

संजीव जी, हिन्दी विकि के जन्मदिन का बोध कराने और इतना सुंदर कथन लिखने के लिए धन्यवाद (हालांकि में स्वर्ण या पीले फॉण्ट को नहीं पढ़ पाया :P)। विकि का जन्मदिन हम कई तरीके से मना सकते हैं, जैसे सभी मिल कर एक लेख को निर्वाचित बनाएँ, मेरे विचार से यह लेख या तो हिन्दी या विकिपीडिया होना चाहिए, साथ ही हम नए-नए 'क्या आप जानते हैं?' हुक भी बना सकते हैं, बल्कि मैं तो कहता हूँ कि हमें अपने मुखपृष्ठ को ही नया रूप देना चाहिए। काफ़ी समय से पुराना डिजाइन लगा हुआ है। सदस्य कृपया अपने सुझाव रखें।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 06:42, 8 जुलाई 2013 (UTC)
बिल जी मुझे भी ऐसा ही लग रहा था कि सुनहरे अक्षर पढ़ने में समस्या होगी। लेकिन पढ़ने के लिए Ctrl+a दबाकर सम्पूर्ण विषय को चयन करें। शायद पढ़ने में तो समस्या नहीं होगी। वो बात अलग है कि पढ़ने में वो मजा नहीं आयेगा।☆★संजीव कुमार (संवाद) 07:19, 8 जुलाई 2013 (UTC)
संजीव कुमार जी, हिन्दी विकिपीडिया का दसवाँ जन्मदिन शुभ हो। इस अवसर पर आप जैसे वैज्ञानिक योगकर्ता को पाकर हिन्दी विकि धन्य हुई है। हमें हिन्दी विकि में लेखों की संख्या बढ़ाने को सबसे अधिक महत्व देना होगा। इसके अलावा हिन्दी समाचारपत्रों को लिखा जाय कि वे हिन्दी विकि के बारे में लेख लिखे और इस पर योगदान देने के लिए बुद्धिजीवी वर्ग को प्रेरित करें। उन्हें समझाएँ कि लोग केवल 'सूचना के उपभोक्ता' ही न बने रहें बल्कि सूचना-सर्जन का भी कार्य करें। इसके अलावा एक और काम करना महत्वपूर्ण होगा- | हिन्दी विकि का अद्यतन किविक्स संस्करण उपलब्ध कराना। अभी जनवरी २०११ का संस्करण डाउनलोड के लिए उपलब्ध है। जो ढाई वर्ष पुराना है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 07:27, 8 जुलाई 2013 (UTC)

⇑आज की प्रतिक्रियाओं पर मेरे विचार: बिल जी आपके सुझाव अच्छे हैं। हालांकी दोनों ही पृष्ठ बनाने वालों और सुधारने वालों ने काफी मेहनत की है फिर भी पृष्ठ हिन्दी को निर्वाचित करने से पूर्व कुछ सुधार की आवश्यकता है। इसमें सन्दर्भों की बहुत कमी है। विकिपीडिया पृष्ठ को अधिक सुधार की आवश्यकता है। आपका द्वितीय विचार "नए-नए 'क्या आप जानते हैं?' हुक" के बारे में है वह भी अच्छा है। वैसे तो समय-समय पर मैं भी इसकी कोशिश करता रहता हूँ और यह कोशिश जारी भी रहेगी। आपका तृतीय विचार मुखपृष्ठ के बारे में है जिसके बारे में मैं कुछ भी कहने में असमर्थ हूँ। हाँ इतना जरूर कह सकता हूँ कि कम से कम एक दिन के लिए उसे जरूर ऐसा बनाया जाये की प्रत्येक आगंतुक को पता चले की आज हिन्दी विकिपीडिया का जन्मदिन है। आपने इसके प्रचार-प्रसार के सम्बंध में कुछ नहीं कहा!
⇑अनुनाद जी, आपके विचार हिन्दी विकी के विकास के लिए उत्तम विचार हैं। केवल थोड़ा सा वाक्य सुधार की आवश्यकता है जैसे आपने लिखा "हिन्दी विकि में लेखों की संख्या बढ़ाने को" इसके स्थान पर मैं कहुँगा "हिन्दी विकि में उत्तम लेखों की संख्या बढ़ाने को" अर्थात लेख तो बढ़ाने हैं ही साथ में उनकी गुणवता भी।☆★संजीव कुमार (संवाद) 14:57, 8 जुलाई 2013 (UTC)

संजीव जी, मुखपृष्ठ को विकि के दसवे जन्मदिन पर नया रूप देने से दो फायदे हैं: पहला तो यह कि इससे नए आंगतुकों को पता चलेगा कि आज कुछ विशेष है, दूसरा इससे काफ़ी पुराने डिजाइन को बदला जा सकेगा। हम विकि का लोगो भी बदलवा सकते हैं, इसके लिए हालांकि हमें किसी ग्राफिक्स के अच्छे जानकार की मदद लेनी पड़ेगी, लोगो में हम चिह्नित कर सकते हैं कि हमारे विकि ने दस वर्ष पूरे किए। साथ ही 11 तारीख से एक हफ़्ते तक हम मुखपृष्ठ पर एक बैनर भी लगा सकते हैं, जिस पर दसवे जन्मदिन के बारे में कुछ लिखा हो। हिन्दी या विकिपीडिया को निर्वाचित बनाने के लिए मैने इसलिए कहा क्योंकि ये दो विकि समजा के अनुसार सबसे महत्वपूर्ण विषय हैं। विकिपीडिया को निर्वाचित आसानी से बनाया जा सकता है क्योंकि अंग्रेज़ी पर यह पहले से ही गुड आर्टिकल है जिसका हिन्दी अनुवाद हो सकता हैं। प्रचार-प्रसार के बारे में मैने इसलिए नहीं बोला क्योंकि मेरी हिन्दी मीडिया/समाचारपत्रों तक किसी प्रकार की कोई पहुँच नहीं है। हाँ हम अंग्रेज़ी विकि के साइनपोस्ट पर अनुरोध कर सकते हैं कि वे हिन्दी विकि को अपने अगले संस्करण में कवर करें। इसकी पहुँच वैश्विक है तथा हिन्दी विकि की कवरेज से हिन्दी भाषी या हिन्दी का ज्ञान रखने वाले वे सदस्य जो अंग्रेज़ी विकि पर सक्रिय हैं उन्हें यहाँ आकर सहयोग देने में प्रोत्साहन मिलेगा। मेरा भी यह मूल मंत्र है कि लेखों की संख्या के साथ-साथ उनकी गुणवत्ता उच्च कोटि की बने, विशेष रूप से मुख्य विषयों की।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 15:47, 8 जुलाई 2013 (UTC)
बिल जी, मैं आपके इन विचारो से सहमत हूँ।☆★संजीव कुमार (संवाद) 18:17, 8 जुलाई 2013 (UTC)

┌────────────────┘

"न्यूट्रिशन" (पोषण)[संपादित करें]

मेरे विचार से इस पन्ने को हटा देना चाहिये क्योंकि इसमें कुछ पढ़ने लायक है ही नहीं। Hindustanilanguage (वार्ता) 18:25, 8 जुलाई 2013 (UTC).

रामप्रसाद 'बिस्मिल' लेख के इन्फोबॉक्स से फोटो गायब[संपादित करें]

आज यूँ ही विकीपीडिया पर देख रहा था तो उपरोक्त लेख से चित्र ही गायब पाया। चूँकि यह चित्र विकीकॉमन्स पर मैने ही बहुत पहले अप्लोड किया था वहाँ देखा तो गायब मिला। मैंने १५ फाइल्स को अन्डिलीशन के लिये रिक़्वेस्ट की थी उसका परिणाम यह हुआ कि मेरी सारी फाइलें ही डिलीट कर दी गयीं। ऐसे में मैं यही नहीं समझ पा रहा कि मुझे यहाँ भी लोग रहने देंगे कि नहीं क्योंकि अंग्रेजी विकीपीडिया पर से एक वर्ष पूर्व ही मुझे हमेशा के लिये अवरोधित कर दिया गया। यहाँ भी कुछ लोगों ने साजिश करके मुझे तीन महीने के लिये ब्लॉक करवा दिया था। इसमें प्रबन्धकों को मेरे बारे में दिग्भ्रमित किया गया ऐसा मेरा विश्वास है। क्या कोई मेरी सहायता करेगा? कष्ट के लिये क्षमा! डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 04:45, 9 जुलाई 2013 (UTC)

डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा जी, अमर शहीद रामप्रसाद 'बिस्मिल' लेख के ज्ञानसन्दूक में चित्र के न होने की ओर ध्यान देने के लिये धन्यवाद। मैंने ज्ञानसन्दूक में परम आदरणीय स्वतंत्रता सेनानी का चित्र जोड़ दिया है, आशा है कि इस से समस्या का हल हो चुका है। Hindustanilanguage (वार्ता) 15:50, 9 जुलाई 2013 (UTC).
Thanks Mr H.L.! चित्र को खिसका कर इन्फोबॉक्स के केन्द्र में कर दिया डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 16:30, 9 जुलाई 2013 (UTC)

ओम शान्ति ओम (2007 फ़िल्म) को शीघ्र हटाया जाय[संपादित करें]

इस पृष्ठ को शीघ्र हटाया जाये क्योंकि इस पृष्ठ में vandalism के अलावा और कुछ नहीं है। वैसे भी इस फ़िल्म का पृष्ठ ओम शांति ओम के नाम से मौजूद है।--सोमेश त्रिपाठी वार्ता 19:26, 5 जुलाई 2013 (UTC)

YesY पूर्ण हुआ। वैसे सोमेश जी आपको चौपाल पर विशेष रूप से अवगत कराने की आवश्यकता नहीं है। जब आप किसी पृष्ठ पर {{delete}} लगाते हैं तो वह पृष्ठ स्वयं ही श्रेणी:शीघ्र हटाने योग्य पृष्ठ में आ जाता है जहाँ से प्रबंधक सम्बन्धित पृष्ठ को हटा देते हैं।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 20:32, 5 जुलाई 2013 (UTC)
मान्यवर बिल जी, ग़ुस्ताख़ी माफ़ हो, अनेकों धन्यवाद--सोमेश त्रिपाठी वार्ता 15:47, 17 जुलाई 2013 (UTC)


विकि या विकी[संपादित करें]

मित्रो! एक और एक मिलकर ग्यारह होते हैं अत: यदि आप सभी सहमत हों तो हिन्दी विकीपीडिया के मुखपृष्ठ में हिन्दी विकिपीडिया की जगह शुद्ध हिन्दी शब्द हिन्दी विकीपीडिया कर दिया जाये तो कैसा रहेगा? क्योंकि उच्चारण की दृष्टि से भी यही शुद्ध वर्तनी है। वैसे और भी कई जगह वर्तनी दोष हैं जिन्हें मैंने एकाध बार ठीक करना चाहा भी तो पता चला कि इस कार्य को कोई प्रबन्धक या प्रशासक ही कर सकता है, साधारण सदस्य नहीं। इसके अतिरिक्त एक सुझाव और - ११ के अंक से सम्बन्धित कोई अच्छा लेख भी निर्वाचित करके दिया जा सकता है। डॉ०क्रान्त एम०एल०वर्मा (वार्ता) 04:17, 9 जुलाई 2013 (UTC)

इस सम्बंध में मैं आपसे क्षमा चाहता हूँ क्रान्त जी, विकिपीडिया/विकीपीडिया में से सही कोनसा है मैं नहीं जानता। लेकिन मैं यह ही कहुँगा जो सही है उसका प्रयोग किया जाये। मैं अब तक विकिपीडिया उपयोग में लेता रहा हूँ क्योंकि मैंने यह ही देखा। आपने ११ से सम्बंधित पृष्ठ को निर्वाचित करने के सम्बंध में कहा तो इस विषय पर मैं विचार करुँगा। हालाँकि आपका यह संदेश पढ़ने से पूर्व ही मैंने एक लेख ११ (संख्या) लिख दिया था। मेरा यह लेख लिखने का उद्देश्य "क्या आप जानते हैं" में इससे सम्बंधित कुछ लिखना था। मुझे बहुत ही प्रसन्नता हुई की आपने अपना अमुल्य प्रस्ताव यहाँ रखा।☆★संजीव कुमार (संवाद) 17:07, 9 जुलाई 2013 (UTC)

  • मेरा अनुमान है कि हिन्दी विकी पर बना प्रथम पृष्ठ मुख्य पृष्ठ है। यदि किसी के पास इस सम्बंध में कोई जानकारी है तो कृपया मुझें भी बतायें।☆★संजीव कुमार (संवाद) 23:23, 9 जुलाई 2013 (UTC)
प्रिय संजीव जी! हिन्दी विकीपीडिया के मुखपृष्ठ के लिये जानकारी आप यहाँ पर क्लिक करके देख सकते हैं। वैसे आपने जिस प्रथम पृष्ठ का उल्लेख ऊपर किया है उसे क्लिक करने व उसका सम्पूर्ण अवतरण इतिहास देखने के पश्चात् ज्यों ही मैंने उसके ऊपर पढें पर क्लिक किया तो सबसे नीचे दायीं ओर क्रेश साफ करें लिखा हुआ नज़र आया। मैंने उसे बिल्कुल भी नहीं छुआ। आप चाहें तो चेक कर लें। डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 04:16, 10 जुलाई 2013 (UTC)
क्रान्त जी, आपने जो महत्वपूर्ण जानकारी दी है उसके लिए धन्यवाद। लेकिन आपके उत्तर में मेरे प्रश्न का उत्तर मैं नही खोज पाया, क्योंकि मेरा प्रश्न यह था कि हिन्दी विकी का सबसे प्राचीन पृष्ठ कोनसा है।☆★संजीव कुमार (संवाद) 08:27, 10 जुलाई 2013 (UTC)
संजीव जी! आपने जो प्रश्न पूछा है उसकी जानकारी के लिये आप यहाँ क्लिक करें। यह पृष्ठ ११ जुलाई २००३ को किन्हीं सज्जन ने ०५।४२ पर बनाया था। इसका अन्तिम सम्पादन १५ जनवरी २००७ को सदस्य:Mitul0520 ने किया था। डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 12:31, 10 जुलाई 2013 (UTC)
धन्यवाद क्रान्त जी।☆★संजीव कुमार (संवाद) 14:00, 10 जुलाई 2013 (UTC)
क्रान्त जी, जहाँ तक मुझे ज्ञात है, 'विकि' हवाईयन भाषा का शब्द है और इसका अर्थ 'शीघ्रता' या 'तेज़ी' है। इसमें वास्तव में ही उच्चारण छोटी 'इ' है और बड़ी 'ई' नहीं। हवाई के लोग 'विकि-विकि' कहते है और यह जल्दी से कहा जाता है। हिन्दी एक ध्वनात्मक भाषा है और इसकी नागरी लिपि में छोटी 'इ' दर्शाने की क्षमता है, तो हम ऐसा क्यों न करें? हिन्दी में बहुत से ऐसे शब्द हैं जिनमें अंत छोटी इ की मात्रा से होता है - 'लिपि' ही ले लीजिए। या 'संधि', 'पति', 'कपि', 'राशि'। अगर आप हवाईयन भाषा के शब्दकोष में देखें तो 'इ' और 'ई' में अन्तर है। और फिर अगर आप 'wiki' का उच्चारण देखें तो यह स्पष्ट रूप से 'विकि' (wiki) है और 'विकी' (wikī) नहीं। सम्भव है कि मैं आपका तर्क समझा नहीं। अगर यह है तो मैं क्षमाप्रार्थी हूँ और कृप्या दोबारा समझाने का कष्ट करें। धन्यवाद! --Hunnjazal (वार्ता) 04:12, 12 जुलाई 2013 (UTC)
प्रिय Hunnjazal जी! मेरा आशय हिन्दी उच्चारण की दृष्टि से शब्द निर्माण की ओर अधिक था व्युत्पत्ति की ओर बिल्कुल नहीं। हिन्दी की दृष्टि से मुझे यह समीचीन लगा कि विकीपीडिया को हम इतना आकर्षक बना दें कि भविष्य में इसे विद्वानों की पीढ़ियों द्वारा निर्मित एक मुक्त ज्ञानकोष कहा जाये। अभी तो हमारी शुरुआत है। फिर भी न तो मेरा कोई पूर्वाग्रह है और न ही कोई दुराग्रह। शब्द बनते रहते हैं, शब्द मिटते भी रहते हैं; परन्तु शास्त्रों में केवल कवि को ही यह अधिकार दिया गया कि वह शब्द निर्माण करे। और शायद इसीलिये "कविर्मनीषी परिभू स्वयंभू" कहा गया। अस्तु! मेरे कथन को आप में से कोई अन्यथा न ले इसी निवेदन के साथ। आप सबका --डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 05:29, 12 जुलाई 2013 (UTC)
क्रान्त जी, समझा। मैं इसे केवल स्रोत भाषा के शब्द के साथ ध्वनात्मक व्यवहार की दृष्टि से सोच रहा था। आपका कथन सही है कि जीवित भाषा में जो भाषा-लय के साथ प्राकृतिक हो वही विदेशज बन जाता है। मसलन अफ़सर सही है और ऑफ़िसर नहीं। आपकी बात समझ आई और मैं इससे सहमत हूँ। --Hunnjazal (वार्ता) 05:51, 12 जुलाई 2013 (UTC)
मित्र हुंजज़ल ने इतने सटीक शब्दों में यह समझाया है कि अब कुछ बताने को रहा ही नहीं प्रतीत होता है। यह सही है कि आम उच्चारण में अंग्रेज़ी में i को छोटी इ की मात्रा के लिये ही प्रयोग किया जाता है, विशेषतौर पर लिप्यांतरण हेतु। लिप्यांतरण के अलावा अंग्रेज़ी के पूर्वपरिभाशित शब्दों में इसे बड़ी ई, आय, आइ आदि एवं अन्य रूपों में भी प्रयोग करते हैं उदाहरणतः India में प्रथम i इ, एवं द्वितीय i - इय के लिये प्रयुक्त है, जिसके बाद a लगाने से इय+आ=इया की ध्वनि मिलती है। licence में आइ के रूप में प्रयोग किया गया है। इसके अलावा दूसरा अन्य कारण भी देखें:- विकीपीडिया के बजाय विकिपीडिया बोलना अपेक्षाकृत सरल होता है। शेष जैसा सर्वसम्मत...। --आशीष भटनागरवार्ता 05:51, 13 जुलाई 2013 (UTC)

व्रतादि निर्णय स्वयं कैसे करें[संपादित करें]

..... मेरे आत्मीय मित्रों ! यथोचित अभिवादन , आम जनमानस , को व्रतादि का निर्णय करने में काफी मुश्किलों का सामना करना पडता है , यहाँ तक कि पंडित गण एवं ज्योतिषी जन भी कभी कभी असमंजस की स्थिति में पड़ जाते हैं . अत: यहाँ दी गयी विधि का अनुशरण करके आप लोग स्वयं व्रतादि का निर्णय कर सकते हैं . बहुत आसान है. ..... सबसे पहले तो स्मार्त और वैष्णव का अंतर समझ लें , स्मार्त का मतलब है " गृहस्थ " , अर्थात स्मृति के आदेशानुसार अपने समस्त कर्मकांड करने वालों को ' स्मार्त ' कहा जाता है . और वैष्णव का मतलब है वैष्णव सम्प्रदाय के मतावलम्बी, अधिकतर लोग वैष्णव का मतलब सीधे सीधे शाकाहारी (सनातनी ) हिन्दू से लगा लेते हैं , जबकि ऐसा नहीं है यह एक सम्प्रदाय है जिसमें रामानुज संत आदि आते है . ..... ' सर्व कालकृतं मन्ये ' इस सूत्र के अनुसार एक बात जान लें कि , सूर्य ' ब्रह्माण्ड ' की प्राण शक्ति का केंद्र है , और चन्द्रमा ' ब्रह्माण्ड ' की ' मन: शक्ति का सर्वस्व ' . इन दोनों ( सूर्य-चन्द्रमा) भौतिक पिंडों की विभिन्न कक्षाओं में अवस्थिति ही ' तिथि ' शब्द से जानी जाती है . जैसे अमावस्या तिथि को ' चंद्र-पिण्ड' सूर्य की कक्षा में विलीन रहता है , और पूर्णिमा को यह दोनों पिण्ड क्षितिज पर आमने सामने उदित दिखते हुए समान रेखा पर अवस्थित रहते हैं. इसी प्रकार दोनों पक्षों की अष्टमी तिथि को ये अर्ध सम रेखा पर ही अवस्थित रहते हैं. इससे यह सिद्ध होता है कि , सूर्य - चंद्र का आन्तरिक तारतम्य ही 'तिथि' है , और स्थूल तथा सूक्ष्म जगत् पर तिथिजन्य प्रभाव का सन्निपात ही , तत्तत् तिथियों के अधिष्ठाताओं का, उन पर आधिपत्य है , जबकि स्थूल जगत पर भी उक्त पिंडों की अवस्थिति का प्रभाव तत्तत ऋतुओं के रूप में , वर्षा , ग्रीष्म , शीत , एवं इनके गुण , आंधी , तूफ़ान . भू-कम्प , समुद्रीय ज्वार-भाटा , सुनामी , डीन, रीटा , ओलापात , ज्वालामुखी , बाढ़ , मनोरोग , दावानल , और दिग्दाह के रूप में प्रत्यक्ष दिखाई देता है. इसके बावजूद सूक्ष्म जगत् ( दृश्य संसार ) पर उनकी अवस्थिति के प्रभाव को शंका की दृष्टि से देखना पदार्थ विज्ञान से अनभिज्ञ लोगों का ही काम हो सकता है. ..... सनातन ( हिंदुओं के ) शास्त्रों में काल (समय) को प्रधान कारण माना गया है . कोई अनभिज्ञ भले ही 'काल' को निष्क्रिय मान कर उसकी कारणता में संदेह करे , परन्तु वास्तव 'काल' ही - " अस्ति , जायते , वर्द्धते , विपरिणमते , अपक्षीयते और विनश्यति " इन छः प्रकार के मूल विकारों का प्रधान / प्रमुख कारण है . 'काल' का मुख्य उद्भावक 'सूर्य' है और उसके सहकारी उद्भावक अन्य ग्रह-पिण्ड हैं , जिनमें पृथ्वी के अति निकटवर्ती होने के कारण चंद्र-पिण्ड का ' पार्थिव निर्माण काल ' में सर्वोपरि सहयोग है . ..... इसी कारण से सनातनियों (हिन्दुवों) के सभी सकाम ( जो व्रतादि किसी मनोकामना की पूर्ति आदि के लिए किये जाते हैं वे 'सकाम' , और जिन व्रतादि में , 'मुझे कोई कामना नहीं है , मैं तो यूँ ही कर रहा हूँ उसे 'निष्काम /नि:काम ' व्रत कहते हैं ) निर्णय चांद्र-तिथियों से करने का स्पष्ट आदेश हमारे धर्म-शास्त्रों / स्मृतियों में मिलता है . ..... निष्कर्ष - अब इसका सूत्र भी जान लीजिए , चिंता हरण जंत्री , चिंता हरण पंचांग , ठाकुर प्रसाद कैलेण्डर , श्री विश्वनाथ पंचांग, या अन्य जो भी पंचांग हो उसमें सर्व साधारण की सुविधा के लिए वहाँ 'स्मार्त या वैष्णव ' शब्द से उल्लेख किया जाता है . कुल मतलब यह है कि , जहां 'स्मार्त ' लिखा हो वह व्रतादि ही (गृहस्थों- बाल बच्चेदार ) के करने योग्य होता है . जहां वैष्णव का उल्लेख हो वहाँ , दंडी सन्यासी , मठ-मंदिर , महाभागवत , निम्बार्क , चक्रांकित महाभागवत , आश्रम , सरस्वती , आदि के करने योग्य होता है . इनके नाना प्रकार के अखाड़े हैं , अपने अपने रीति-रिवाज हैं , अपनी परम्पराएं हैं . ..... गृहस्थों को ' स्मार्त निर्णय ' ही ग्रहण करना चाहिए , इस प्रकार आप सभी व्रतों का निर्णय कर सकते हैं...

--Pt. Vijay Tripathi 'Vijay' 23:01, 8 जुलाई 2013 (UTC)

त्रिपाठी जी! पहले तो आप अपना खाता खोलें। फिर स्वशिक्षा लें। तत्पश्चात आपको हिन्दी विकीपीडिया पर एक लेख जो व्रत और उपवास के नाम से पहले ही विद्यमान है देखने की सलाह मैं देना चाहूँगा। आप नीले रंग में लिखे उपरोक्त लिंक (व्रत और उपवास) को क्लिक करेंगे तो इसे तत्काल ही देख लेंगे। आप उस लेख के वार्ता पृष्ठ पर अपने इस सुझाव को यथावत दें तो कोई भी इसकी सामग्री को उक्त लेख में सम्मिलित कर देगा। एक बात और-यदि आप इसका स्रोत भी दे सकें तो अति उत्तम! डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 16:07, 9 जुलाई 2013 (UTC)

नया बैनर[संपादित करें]

मैने साइटनोटिस में एक नया बैनर लगाया है, यह अब सभी को दृश्यमान होना चाहिए। कृपया इसे देखलें और अगर कुछ बदलाव करवाना हो तो शीघ्र बताएँ।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 07:04, 11 जुलाई 2013 (UTC)

बिल जी, नये बैनर के लिए धन्यवाद। ☆★संजीव कुमार (संवाद) 11:35, 11 जुलाई 2013 (UTC)

लोगो में बदलाव[संपादित करें]

10piece-hindi-M k.svg

मेरे विचार से आज या एक हफ़्ते अवधि तक हमें अपने विकि का लोगो बदल देना चाहिए। मेरे विचार से Image:10piece-hindi-M k.svg उपयुक्त रहेगा। अगर सब का समर्थन मिले तो मैं यह बदलाव कर दूँगा।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 08:03, 11 जुलाई 2013 (UTC)

समर्थन --Hunnjazal (वार्ता) 08:40, 11 जुलाई 2013 (UTC)

टिप्पणी[संपादित करें]

संजीव जी, लोगो में वर्तनी बदलने के लिए समुदाय व्यापी चर्चा करनी पड़ेगी तथा उसके पश्चात मेटा पर नए लोगो के लिए अनुरोध करना पड़ेगा। यह प्रकिया इतनी लंबी चलेगी कि कम से कम एक महीना तो लग ही जाएगा, ऐसी परिस्थिति में मेरा तो यह मानना है कि अभी के लिए हमें दसवीं वर्षगाँठ पर ध्यान देना चाहिए। लोगो में बदलाव का प्रस्ताव अगले माह भी रखा जा सकता है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 18:46, 11 जुलाई 2013 (UTC)
यदि यह लोगो केवल दशवीं वर्षगाँठ के समय काम में लिया जा रहा है तो मैं भी इसका समर्थन करता हूँ। मुझे भल्ला क्या ऐतराज हो सकता है।☆★संजीव कुमार (संवाद) 18:50, 11 जुलाई 2013 (UTC)
हाँ संजीव जी, यह केवल दसवीं वर्षगाँठ के उपलक्ष्य में अस्थायी रूप से लगाया जा रहा है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 18:57, 11 जुलाई 2013 (UTC)
हिन्दी विकि का दसवाँ जन्मदिन शुभ हो। मुझे लोगो बदलने का विचार ठीक नहीं प्रतीत हो रहा। इसके अलावा प्रस्तावित लोगो भी मुझे आकर्षक नहीं लग रहा। मेरा मत है कि इसे बैनर के रूप में रहने देना पर्याप्त है।-- अनुनाद सिंहवार्ता 05:32, 12 जुलाई 2013 (UTC)

जन्मदिन विशेष[संपादित करें]

मैं बर्फी!  नामक पृष्ठ हिन्दी विकिपीडिया के दशवें जन्म दिन के नाम करता हूँ। यह लेख वैसे तो मैंने अंग्रेजी विकी से अनुवादित किया है लेकिन अंग्रेजी विकी पर यह लेख श्रेष्ठ लेख की श्रेणी में आता है। मैं चाहता हूँ इसे हिन्दी विकी पर भी इसी श्रेणी के लिए नामांकित करूँ। यदि कोई भी इससे सहमत है तो कृपया मुझे वह प्रक्रिया बतायें जिससे इसे मैं नामांकित कर सकूँ। मैंने यह पृष्ठ इसलिए चुना क्योंकि फ़िल्में सामान्यतः सभी लोग देखते हैं और यह भी एक अच्छी फ़िल्म है। अतः इस बात को ध्यान में रखते हुए कि समाज के सभी लोग इसमें रूची ले सकें, मैंने इस पृष्ठ को चुना।☆★संजीव कुमार (संवाद) 13:27, 11 जुलाई 2013 (UTC)

संजीव जी, श्रेष्ठ लेख की प्रकिया पर आशू ने कार्य किया था, परन्तु फ़िर वह असक्रिय हो गए और यह काम खटाई में पड़ गया। वैसे मेरा मानना तो यह है कि इस लेख को निर्वाचित बनाना चाहिए, इस प्रकार मुखपृष्ठ पर भी इसे लाया जा सकेगा। आप क्या सोचते हैं?<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 18:55, 11 जुलाई 2013 (UTC)
बिल जी आपके सुझाव के लिए धन्यवाद। निर्वाचित लेख बहुत सुन्दर होना चाहिए। इसमें तो अभी ज्ञात गलतीयाँ भी बहुत हैं। मैं "आज का आलेख" के लिए नामांकित करूँ तो कैसा रहेगा। आज का आलेख भी मुखपृष्ठ पर आता है और जहाँ तक मेरा अनुमान है पिछले दो वर्ष में एक भी नवीन पृष्ठ आज का आलेख के लिए निर्वाचित नहीं हुआ। यदि निर्वाचित के लिए इसे नामांकन करना चाहुँगा तो मुझे इसे कम से कम एक सप्ताह का समय निकालकर सुधारना पड़ेगा। जो शायद मैं न कर पाऊँ।☆★संजीव कुमार (संवाद) 19:31, 11 जुलाई 2013 (UTC)
संजीव जी, 'आज का आलेख' के मापदंडों से तो यह लेख बहुत अच्छा है। वहाँ ऐसे लेख प्रदर्शित होते हैं जो आकार में छोटे, कम जानकारी युक्त तथा जिनमें विस्तार की अभी काफ़ी गुंजाइश है। एक रास्ता यह हो सकता है कि आप और मैं दोनों मिल कर इस पर कार्य करते हैं, फ़िर एक सप्ताह के पश्चात देखते हैं कि हम कहाँ तक पहुँचने में कामयाब हुए। 'आज का आलेख' का उद्देश्य नवीन, छोटे व अल्पविकसित लेखों का विस्तार करना था और यह उद्देश्य पाने में यह असफ़ल रहा है। मेरे विचार से इसे अब हटा ही देना चाहिए और इसकी जगह दो नए अनुभाग 'आज के दिन' और 'निर्वाचित सूची' को जगह मिलनी चाहिए। आप क्या सोचते हैं?<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 06:17, 13 जुलाई 2013 (UTC)
ठीक है फिर निर्वाचित लेख ही लक्ष्य मानकर मैं कुछ सम्पादन करूँगा। लेकिन मेरे हिसाब से आज का आलेख और निर्वाचित दोनों अपनी-अपनी जगह रहने चाहिए। अब मुझे उसका भी ज्ञान हो गया, मैं भविष्य में कुछ ऐसे लेख लिखने का भी प्रयास करूँगा जो आज का आलेख में आ सकें।☆★संजीव कुमार (संवाद) 07:48, 13 जुलाई 2013 (UTC)
मैं लेख बर्फी! में लगभग वो सभी सुधार कर चुका हूँ जो मैं करना चाहता था। फिर भी सभी विकी दोस्तों से निवेदन है कि त्रुटियाँ सुधारने में मदद करें। मैं चाहता हूँ निर्वाचित लेख के रूप में नामांकन से पूर्व ही यह पृष्ठ अति सुन्दर दिखाई देने लगे।☆★संजीव कुमार (संवाद) 20:00, 13 जुलाई 2013 (UTC)

शीर्षक परिवर्तन (विद्युदणु का)[संपादित करें]

कृपया शीर्षक सुधारें ...क्यूंकि इलेक्ट्रान एक मूलभूत कण है, इसे किसी और नाम से हिंदी में बुलाना भ्रामक हो सकता है। साथ ही साथ वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग के अनुसार। Saurabhsandilya (वार्ता) 12:43, 12 जुलाई 2013 (UTC)

इस पृष्ठ का पूर्व नाम इलेक्ट्रॉन ही था लेकिन 12 अक्टूबर 2009‎ को सुमित सिन्हा जी ने नाम परिवर्तित करके विद्युदअणु किया जिसे अनुनाद जी ने विद्युदणु कर दिया। चूँकि "वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग" के अनुसार नाम इलेक्ट्रॉन है अतः यह नाम उपयोग में लेने में मुझ कोई परेशानी नहीं है। विद्युदणु शब्द की उत्पति के विषय में मुझे कोई जानकारी नहीं है अतः मैं कुछ नहीं कह सकता। इस विषय में सुमित जी और अनुनाद जी ही कुछ कह सकते हैं। मैंने उनके वार्ता पृष्ठों पर संदेश छोड़ दिये हैं।☆★संजीव कुमार (संवाद) 13:31, 12 जुलाई 2013 (UTC)
सौरभ जी के तर्क से पूर्णतः सहमत हूँ। अब वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग की अधिकांश शब्दावली आनलाइन उपलब्ध है। अतः उसी को मानक माना जाय और उसका प्रयोग किया जाय। -- अनुनाद सिंहवार्ता 13:51, 12 जुलाई 2013 (UTC)
आपकी सहमति के लिए धन्यवाद, अनुनाद जी सौरभ शाण्डिल्य(talk) 13:59, 12 जुलाई 2013 (UTC)
प्रबंधकों से मेरा निवेदन है कि सौरभ जी के कथनानुसार और अनुनाद जी की सहमति के आधार पर इस पृष्ठ का नाम परिवर्तित किया जाये। चूँकि इलेक्ट्रॉन नामक पृष्ठ पहले से होने के कारण मैं यह नाम परिवर्तन नहीं कर सकता।☆★संजीव कुमार (संवाद) 12:15, 14 जुलाई 2013 (UTC)
YesY पूर्ण हुआ<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 16:13, 14 जुलाई 2013 (UTC)

पृष्ठ बीबीसी हिन्दी[संपादित करें]

"बीबीसी हिन्दी" नामक पृष्ठ पर भूमिका के रूप में एक आश्चर्यजनक वाक्य लिखा है "बीबीसी हिन्दी सेवा पिछले साठ वर्षों से श्रोताओं लिए ताज़ा समाचार और सामयिक विषयों पर कार्यक्रम प्रसारित करती रही है."
चूँकि भूमिका में मात्र एक ही वाक्य है। यदि कोई विकी दोस्त इस वाक्य को समझने में सफल हो तो मुझे भी समझाये। कृपया अभिधा शब्द शक्ति के अनुसार वाक्य का अर्थ न लिखें। मैं लक्षणा अथवा व्यंजना शब्द शक्ति के अनुसार वाक्य का अर्थ चाहता हूँ।☆★संजीव कुमार (संवाद) 20:39, 12 जुलाई 2013 (UTC)

पृष्ठ मोहित कुमार यादव[संपादित करें]

साफ प्रचार। जहाँ तक मुझे लगता है एक ही सदस्य के तीन भिन्न खाते हैं: Filmy Yadav, MohitKumar01 एवं Dearmky; नामांकन {{delete}} हटाया।☆★संजीव कुमार (संवाद) 07:53, 13 जुलाई 2013 (UTC)

मनीष के॰ राइचन्द को ब्लोक किया जाये[संपादित करें]

एक नये विकी दोस्त मनीष के॰ रायचन्द जी ने पृष्ठ ए॰ के॰ रहमान, एवं हिन्दी विकिपीडिया से सम्पूर्ण सामग्री हटा दी है और इन पृष्ठों को कारण रहित हटाने के लिए नामांकित किया है। इन पृष्ठ को पूर्ववत किया जाये।
मनीष जी के अब तक commonswiki पर सात सम्पादन हैं जिनमें उन्होंने केवल अपनी अथवा अपने दोस्तों की तस्वीरें अपलोड की हैं। अंग्रेजी विकी पर उन्होंने कुल 151 सम्पादन किये हैं और 14 जून 2013 से प्रतिबंधित हैं उनका ई-मेल पता भी ब्लोक है। हिन्दी विकी पर पिछले एक माह में उन्होंने 13 सम्पादन किये हैं जिनका विवरण निम्न प्रकार है:

  • 14 जून 2013 को अपना सदस्य पृष्ठ बनाया जिसमें केवल अपना नाम अंग्रेजी में लिखा। 17 जून को उसमें नाम हिन्दी में लिख दिया (मेरा नाम मनिश राइचन्द है!) उसी दिन पुनः वदलाव करते हुए (मुझे हिन्दी विकीपेदिया पे एडिट करना और अपना यौग्ड़ान देना बहोट अछा लगता है!) कुछ अशुद्ध शब्द लिखे। 13 जुलाई को इन्होंने वह विषयवस्तु पुनः हटा दी।
  • श्रेया घोषाल नामक पृष्ठ में तीन सम्पादन किये जिसमें space key के अलावा शायद अन्य कोई कुंजी का उपयोग नहीं किया गया।
  • 13 जुलाई 2013 को ए॰ के॰ रहमान, एवं हिन्दी विकिपीडिया जैसे उपयोगी पृष्ठों से सामग्री हटाकर उन्हें शीघ्र हटाने के लिए नामांकित किया।

मेरा अनुमान है कि यदि इस सदस्य को हिन्दी विकी पर पूर्णतः प्रतिबंधित नहीं किया गया तो विकी को जाने-अनजाने में कई नुकसान हो सकते हैं। अतः प्रबंधकों एवं अन्य सदस्य से मेरा अनुरोध है कि शीघ्रातिशीघ्र इस सदस्य को प्रतिबंधित करने के लिए कदम उठाये जायें।☆★संजीव कुमार (संवाद) 15:42, 13 जुलाई 2013 (UTC)
यहाँ यह जाँच भी की जाये की सदस्य:ManishRaichand और सदस्य:Manish.k.raichand एक सदस्य के खाते हैं अथवा भिन्न। हो सकता है ये सदस्य भिन्न हों लेकिन एक दूसरे से सम्बंधित जरूर हैं।☆★संजीव कुमार (संवाद) 15:50, 13 जुलाई 2013 (UTC)

संजीव जी, मैने इन्हें अभी एक महीने के लिए अवरोधित कर दिया है, अगर ये आगे भी ऐसी गतिविधियों को अंजाम देते हैं तो इन्हें हमेशा के लिए अवरोधित कर दिया जाएगा।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 17:32, 13 जुलाई 2013 (UTC)

बिल जी यहाँ पर मैं आपके निर्णय के पक्ष में हूँ। किसी कठोर निर्णय से पहले चेतावनी जरूरी है, संभव है, मनीष जी इसके बाद यह गलतियाँ न दोहराएं। धन्यवाद →सौरभ शाण्डिल्य(talk) 17:39, 13 जुलाई 2013 (UTC)

धन्यवाद बिल जी। सौरभ जी आपका कहना गलत नहीं है लेकिन ध्यान रहे आपका विकी अनुभव बहुत कम है।☆★संजीव कुमार (संवाद) 19:38, 13 जुलाई 2013 (UTC)
संजीव जी, मैं नए सदस्यों का हमेशा से समर्थक व सहयोगी रहा हूँ और उनकी शुरुआती गलतीयों के पश्चात भी उन्हें विकि की मुख्यधारा में आने का मौका देता हूँ परन्तु आपने मनीष जी को ठीक ही पहचाना था। मैने इन्हें अपनी सफ़ाई देने का मौका दिया था, परन्तु इन्होंने अपने जवाब से साबित कर दिया कि ये विकि समाज में कार्य करने के लायक ही नहीं हैं। इनके वार्ता पृष्ठ पर इनकी प्रतिक्रिया देखी जा सकती है। अब मैने इन्हें दुर्भाग्यवश हमेशा के लिए अवरोधित कर दिया है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 09:16, 14 जुलाई 2013 (UTC)
धन्यवाद बिल जी। मैंने भी यह देखा था कि अंग्रेजी विकी पर केवल 151 सम्पादनों के बावजूद वो ब्लॉक हैं इसका कुछ तो कारण होगा है। अब तो उन्होंने अपने आप को शाबित कर ही दिया है मैं और कह ही क्या सकता हूँ। हाँ सौरभ जी कुछ कहना चाहें तो कह सकते हैं।☆★संजीव कुमार (संवाद) 11:22, 14 जुलाई 2013 (UTC)
साधुवाद संजीव जी, आपकी दूरदर्शिता एवं विश्लेषण शक्ति प्रशंसा योग्य है →सौरभ शाण्डिल्य(talk) 11:50, 14 जुलाई 2013 (UTC)

मैंने यहाँ पर मेरे नाम के दो यूजर ID होने पर चर्चा को देखा और खुशी है की आप लोगों ने मिलकर इस विषय पर विचार किया । मैं इस विषय पर कुछ कहना ]नहीं चाहता क्योंकि इस विषय का सम्बन्ध मेरे व्यक्तिगत जीवन से है । लेकिन मैं इतना जरुर कहना चाहूँगा की मेरी वास्तविक ID ManishRaichand है जिससे विकिपीडिया को कभी हानि नहीं होगी ।अगर आप Manish.k.Raichand को पूर्णतः ब्लाक कर दें तो विकिपीडिया के लिए ज्यादा बेहतर रहेगा । सदस्य:ManishRaichand (संवाद)

मनीष रायचंद जी, सदस्य Manish.k.raichand को पूर्णतः ब्लॉक कर दिया गया है। मैंने आपका और Manish.k.raichand जी के एक ही व्यक्ति होने का शक इसलिए किया था क्योंकि उन्होंने आपके सदस्य पृष्ठ पर लगा चित्र चित्र:ManishRaichand2.jpg, Manish.k.raichand जी खाते से अपलोड किया गया था। आगे शायद आप समझ सकते हैं।☆★संजीव कुमार (बातें) 13:20, 20 जुलाई 2013 (UTC)

ब्लॉग प्रचार[संपादित करें]

कुछ लोग अपने ब्लॉग का प्रचार करने अथवा किसी अन्य कारण से अपने ब्लॉग का पता सम्बंधित विकी पृष्ठ के बाह्य सूत्रो में डाल देते हैं। मैं यह जानना चाहता हूँ कि यह कार्य विकी के अनुकूल है अथवा नहीं। अर्थात ब्लॉग को अन्य सूत्र नामक अनुभाग में रखना ठीक है अथवा नहीं।☆★संजीव कुमार (बातें) 12:58, 16 जुलाई 2013 (UTC)

"प्रचार" का अर्थ मैं समझ नहीं पाया हूँ - क्या आपने व्यक्तिगत या संगठन के ब्लॉग के विवरण को प्रचार कहा है? अगर ऐसा है तो कृपया इन सदस्य-पन्नों को देखें:

  1. http://en.wikipedia.org/wiki/User:Htchien
  2. http://en.wikipedia.org/wiki/User:Chriswaterguy
  3. http://en.wikipedia.org/wiki/User:OwenBlacker
  4. http://en.wikipedia.org/wiki/User:Yakovsh
  5. https://en.wikipedia.org/wiki/User:Perfect_Proposal

आदि आप देख सकते हैं।

हाँ सदस्य-पन्नों ही को ब्लॉग का रूप देना गलत होगा । Hindustanilanguage (वार्ता) 09:12, 17 जुलाई 2013 (UTC).

नमस्ते एच॰एल॰ जी, शायद आप मेरे प्रश्न को समझ नहीं पाये अथवा मैं आपके उत्तर को नहीं समझ पाया। मैंने किसी के सदस्य पृष्ठ पर कभी कोई टिप्पणी नहीं की। चूँकि वो आपका सदस्य पृष्ठ है उस पर आप अपने बारे में नहीं बतायेंगे तो किसके बारे में बतायेंगे। ब्लॉग भी अपना परिचय होता है और आप अपन ब्लॉग परिचय अपने सदस्य पृष्ठ पर दो इससे किसी को क्या ऐतराज हो सकता है। मैंने भी मेरे सदस्य पृष्ठ पर मेरे वेबपृष्ठ का पता लिखा था लेकिन किसी कारणवश मैंने वापस हटा दिया। लेकिन मैंने उन पृष्ठों के बारे में जानकारी माँगी है जो किसी विषय पर हैं जैसे मानलो आपने एक "हास्य अभिनेता" नामक शीर्षक से पृष्ठ बनाया। इस पृष्ठ में "बाह्य सूत्र" अथवा "बाहरी कड़ियाँ" नामक अनुभाग बनाया; इसके पश्चात आप एक ब्लॉग लिखेंगे जिसमें "हास्य अभिनेता" कैसा होता है उसे कैसे नाचना चाहिए, उसे कैसे बोलना चाहिए, उसमें जॉनी लीवर को शामिल करना चाहिए लेकिन राजपाल यादव को नहीं करना चाहिए, बला-बलाऽऽऽऽ, यहाँ मैं स्पष्ट कर दूँ कि ये बातें सही हैं अथवा गलत इसका कोई तथ्य नहीं है। ये पूर्णतः ब्लॉग लेखक के विचार हैं। अब यदि ब्लॉग पृष्ठ बाह्य सूत्र में लिखा जाये तो गलत है अथवा सही। मैं केवल इसकी जानकारी चाहता हूँ। हाँ और ना दोनों परिस्थितियों में विकी नियम क्या कहता है उसकी जानकारी चाहता हूँ। आशा है आप मेरी बात को समझ पाये होंगे तथा अपनी प्रतिक्रिया जल्दी ही लिखेंगे।☆★संजीव कुमार (बातें) 16:17, 17 जुलाई 2013 (UTC)
संजीव जी, समान्यतः ब्लॉग का पृष्ठों में इस्तेमाल नहीं होना चाहिए, न तो संदर्भ के रूप में और न ही बहारी कड़ी के रूप में। ऐसा इसलिए है क्योंकि ब्लॉग में लिखी सामग्री का कोई प्रमाणीकरण नहीं होता। उसमें कोई व्यक्ति या समूह अपने व्यक्तिगत विचार, आशाएँ, पूर्वानुमानों, संभावनाओं, आदि को प्रकट करता है, जिसके लिए कभी वह किसी संदर्भ का इस्तेमाल करता है तो कभी नहीं, परन्तु विकि इस प्रकार की अनिश्चितता के साथ कार्य नहीं कर सकता। तात्पर्य यह है कि विकिपीडिया पर इस्तेमाल होने वाले संदर्भ या कड़ियाँ उच्च कोटि की होनी चाहिए, उनकी प्रमाणिकता व्यापक होनी चाहिए तथा उनका स्रोत विश्वसनीय होना चाहिए। इसके कुछ अपवाद भी हैं, जैसे अगर विकि पर किसी व्यक्ति या संस्था का लेख है तो आप उस लेख की बहारी कड़ियों में उस व्यक्ति या संस्था के ब्लॉगों की कड़ियाँ दे सकते हैं।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 05:32, 18 जुलाई 2013 (UTC)
बिल जी, मैं आपके इस कथन से सहमत हूँ। तो क्या मुझे वो सब बाहरी कड़ियाँ हटा देनी चाहिएं जो मैं देखता हूँ कि किसी ब्लॉग की कड़ी है।☆★संजीव कुमार (बातें) 08:53, 18 जुलाई 2013 (UTC)
हाँ संजीव जी, अगर आप किसी ऐसी कड़ी को लेख में पाते हैं तो उसे हटा दें। अगर आप किसी सदस्य को कई लेखों में अपनी निजी साइट या ब्लॉग की कड़ियाँ जोड़ते हुए पाते हैं तो कृपया उसकी सूचना मुझे दें ताकि मैं उस कड़ी को हिन्दी विकि पर ब्लैकलिस्ट कर दूँ, उसके पश्चात वह कड़ी लेखों में नहीं जोड़ी जा सकेगी।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 17:40, 18 जुलाई 2013 (UTC)
धन्यवाद बिल जी, ऐसा ही एक पृष्ठ साहिल कुमार जी का ब्लॉग है। इस ब्लॉग पर बहुत रूचिकर जानकारियाँ हैं जो मुझे पढ़ते हुए बहुत अच्छी लगती हैं और हाँ उनमें से अधिकतर सही भी हैं (सभी नहीं) पिछले कुछ दिनों में साहिल जी ने इन्हें विभिन्न विकी पृष्ठों पर डाल दिया है जैसे: अंग्रेजी भाषा, एडोल्फ हिटलर और अन्य भी कुछ पृष्ठ हैं। इस सम्बंध में जो आपको ठीक लगे कर सकते हैं।☆★संजीव कुमार (बातें) 18:22, 18 जुलाई 2013 (UTC)

बिल जी, यदि मैं आप दोनो को सही समझ पाया, तो शायद ये कड़ी सहायक सिद्ध हो। Hindustanilanguage (वार्ता) 08:59, 18 जुलाई 2013 (UTC).

जी हाँ ऍचऍल जी।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 15:56, 18 जुलाई 2013 (UTC)

अनुप्रेषित पृष्ठ[संपादित करें]

नमस्ते विकी दोस्तों, मैं अनुप्रेषित विकी पृष्ठों से सम्बंधित एक प्रश्न करना चाहता हूँ जिसका उत्तर मुझे नहीं पता और सबसे अनुरोध करता हूँ कि मेरी इस सम्बंध में सहायता करें। कुछ विकी दोस्त ऐसे हैं जो एक पृष्ठ निर्माण के साथ-साथ ४-५ अनुप्रेषित पृष्ठ बना देते हैं जो मेरे जैसे लोगों के लिए हमेशा दिग्भ्रमित करने वाला होता है। और उसका कारण भी मुझे समझ में नहीं आता। इसके कुछ उदाहरण निम्न प्रकार हैं:

  1. किज़िल गुफ़ा परिसर, किज़िल गुफ़ाएँ, किज़िल गुफ़ाओं एवं क़िज़िल गुफ़ाओं आदि। ये चार भिन्न-भिन्न नाम हैं जो एक ही जगह अनुप्रेषित होते हैं अतः मेरे सामने समस्या यह आती है कि इनमें से सही कौनसा है? यदि एक अथवा दो सही हैं तो अन्य का क्या अर्थ है। हाँ ये हो सकता है कि वाक्य में प्रयोग की दृष्टि से सभी सही हों लेकिन वाक्य में एक का प्रयोग किया जा सकता है। इसके कुछ उदाहरण निम्न प्रकार हैं:
    • मैंने "किज़िल गुफ़ाएँ" देखी।
    • मैं "किज़िल गुफ़ा परिसर" में गया।
    • मैं "क़िज़िल गुफ़ाओं" को देखना चाहता हूँ। लेकिन इस आधार पर इस तरह के तीन पृष्ठ बनाना उचित नहीं लगता।
  2. हैदराबाद नामक पृष्ठ हैदराबाद, भारत पर अनुप्रेषित हो रहा है जबकि इससे अधिक उपयुक्त यह यह कि "हैदराबाद" नामक पृष्ठ को बहुविकल्पी बना दिया जाये। चूँकि इसके और नमूने ये भी हैं: हैदराबाद (पाकिस्तान), हैदराबाद (सिन्ध), हैदराबाद, सिन्ध एक ही स्थान पर अनुप्रेषित होते हैं। जबकि इसकी मुझे नहीं लगता कोई आवश्यक्ता है। इन तीनों में से कोई एक ही पर्याप्त है।
  3. मैंने फ़िल्मों सम्बंधी १०० से अधिक पृष्ठों का निर्माण किया है और हो सकता है यह २०० से भी अधिक हो लेकिन उन सबमें मैंने बॉलिवुड लिखा है। मैं मेरी जानकारी में इसे सही मानता था क्योंकि मैंने इसे लिंक किया और यह हो भी गया। अब मेरी इतनी हिम्मत नहीं है कि सभी पृष्ठों में जाकर उन्हें सुधारुं। मानता हूँ मेरी इसमें गलती है लेकिन यदि बॉलिवुड नामक पृष्ठ नहीं होता तो शायद मैं यह गलती नहीं करता। चूँकि कुछ दिन पूर्व बिल जी ने मुझे बताया कि बॉलीवुड सही है तो मुझे अपने पिछले सम्पादनों के विषय में कैसा लगा मैं ही जानता हूँ। लेकिन यह जरूर कह सकता हूँ कि यदि "बोलिवुड" नामक पृष्ठ नहीं होता तो शायद मैं यह गलती नहीं करता।
  4. विसर्ग सम्बंधी गलतियाँ: विकी में सम्पादन सम्बंधी नियमों के पृष्ठ पर साफ लिखा है कि विसर्ग (ः) और अनुपात चिह्न (:) दोनों भिन्न हैं इसके बावजूद कुछ सदस्य कुछ पृष्ठ इस प्रकार बनाते हैं जिनमें विसर्ग के स्थान पर अनुपात का चिह्न लगाकर विसर्ग वाले पृष्ठ पर अनुप्रेषित कर देते हैं जैसे बहि:नाम​
  5. कमरा, ख़ाने, ख़ाना, कमरे, कक्ष आदि सभी पृष्ठ कमरा पर अनुप्रेषित हैं जिसमें ख़ाने, ख़ाना शब्द मैंने आज तक कभी भी, कहीं भी नहीं देखा की हिन्दी में कमरे के लिए प्रयोग में लाते नहीं देखा। किसी निकाय के किसी विशिष्ट भाग को जरूर कई बार खाना अथवा ख़ाना कहा जाता है तथा कई बार कुछ शब्द जो फारसी अथवा अरबी भाषा से प्रेरित हैं जैसे गुसलखाना। लेकिन इसका अर्थ यह नहीं कि साधारण ख़ाना को भी यहाँ अनुप्रेषित कर दिया जाते जिससे पढ़ने दिग्भ्रमित हो जाये अथवा विकी से विश्वास खो बैठे। जब मैं किसी नये सदस्य को विकी से जोड़ने का यत्न करता हूँ तो कुछ दिन पश्चात वो कहते हैं - क्या क्या सुधारोगे हिन्दी विकी पर?
  6. रॉक ऐण्ड रोल​, रॉक एण्ड रोल​, रोक ऐन्ड रोल, रोक ऐण्ड रोल, रोक एण्ड रोल, रौक ऐण्ड रोल, रॉक एंड रोल​, रॉक ऐंड रोल​, रोक ऐंड रोल​ और रॉक ऐन्ड रोल​ में से सही कौनसा है।


मैं ऐसे सभी सम्पादनों को देखकर तंग आ गया हूँ पुनर्निर्देशन लिखे नियमानुसार भी उपरोक्त निर्माण सही नहीं हैं। चूँकि ये जो उदाहरण किसी सदस्य विशेष के निर्मित दिये हैं लेकिन ऐसे सदस्यों कि संख्या कम नहीं है। मैं चाहता हूँ कि इस पर चर्चा हो। चूँकि मेरी भाषा में वर्तनी सम्बंधी त्रुटियाँ रहती हैं क्योंकि मैं हिन्दी विषय का विशेषज्ञ नहीं हूँ लेकिन कोशिश करता हूँ गलतीयाँ कम से कम करूँ और इसी कोशिश में उपरोक्त प्रकार के सुन्दर निर्माण एक धक्का मारते हैं। मुझे यह भी लग रहा है कि पता नहीं कितने सदस्यों को इस तरह के पृष्ठों ने विकी विमुख किया होगा। मुझे दुःख इस बात का है कि कुछ सदस्य सबकुछ जानते हुए ये सब करते हैं। सभी सदस्यों के व्यक्तिगत मतों का भी स्वागत है।☆★संजीव कुमार (बातें) 17:33, 17 जुलाई 2013 (UTC)

नमस्कार संजीव जी। आपकी परेशानी का सूक्ष्म उत्तर यह है कि पुनर्निर्देश इसलिए हैं ताकि खोज करते समय कोई भी पाठक सीधे लेख को ढूँढ सके। कई अंग्रेज़ी शब्दों की कई वर्तनियाँ संभव हैं, जैसा कि आपके उदाहरणों से स्पष्ट है। अब ऐसे में यदि कोई पाठक किसी कारण से ज़रा सी गलत वर्तनी लिखता है और उसे खोज परिणामों में लेख नहीं मिलता और वो कहीं और ढूँढने चला जाता है तो इसमें गलती उसकी नहीं हमारी होगी। यह आवश्यक नहीं कि सभी पाठक उसी वर्तनी से ढूंढें जिस वर्तनी से लेख है। यह भी संभव है कि वे विकिपीडिया के टंकण उपकरण से वाकिफ़ न हों और इसलिए गलत वर्तनी लिखें। ऐसे में पाठकों को शीघ्र-अतिशीघ्र सही लेख पर लाने का सबसे आसान तरीका पुनर्निर्देश बनाना है।
मैंने ऐसा कई बार देखा है कि पृष्ठ पहले से मौजूद होता है, परन्तु किसी पाठक को नहीं मिलता, और वः किसी अन्य वर्तनी वाले नाम पर एक प्रश्न डाल कर लेख बना देता है। और फिर जितने भी पाठक उस लेख पर जाते हैं, उन सब को लगता है उस विषय पर हिन्दी विकिपीडिया पर कुछ भी नहीं। ऐसे में जब तक कोई उस प्रश्न वाले लेख को पुनर्निर्देशित ना करे, ना जाने कितने पाठक लौट गए हों। कम-से-कम मैं तो ऐसी परेशानियों से बचने के लिए लेख बनाऊँ तो कुछ आम वर्तनी त्रुटि वाले पुनर्निर्देश भी बना देता हूँ।
अब आपके दिए उदाहरण बॉलीवुड को ही लीजिये। आप स्वयं मानते हैं की अब उन सारे लेखों पर जाकर कड़ी ठीक करना बहुत मुश्किल काम है। अब यदि वह पुनर्निर्देश ना होता तो अभी उन सभी 100-200 लेखों पर एक लाल कड़ी होती जिसे देखकर ना जाने कितने पाठक निराश होते (या वहाँ परीक्षण पृष्ठ बना देते)।
आपको जो रॉक एंड रोल के पुनर्निर्देश मिले हैं वे सब इसीलिए जायज़ हैं क्योंकि एंड की ये सभी वर्तनियाँ सदस्य टाइप कर सकते हैं।
हाँ, ख़ाना के बारे में यदि विशिष्ट रूप से चर्चा करनी हो तो उसके वार्ता पृष्ठ पर की जा सकती है। और हैदराबाद को आप निस्संदेह बहुविकल्पी पृष्ठ में बदल सकते हैं।
अंत में मेरा आपसे अनुरोध है कि पुनार्निर्देशों को देखकर परेशान ना होइये, ये विकिपीडिया पर पाठकों की सहायता के लिए ही हैं।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 02:13, 18 जुलाई 2013 (UTC)
संजीव जी, जैसा की आप भी मानते हैं, पुनर्निर्देशन अनेक प्रकार से लाभप्रद है। किन्तु कुछ स्थितियों में लाभ से अधिक हानि हो सकती है, अतः इस तरह के पुनर्निर्देशों से बचा जाना चाहिए। उदाहरण के लिए, 'आमों' , 'कुत्तों' आदि को पुनर्निदेशित करना। इस पर चर्चा हुई थी और फिर होनी चाहिए। 'ख़ाना' आदि को पुनर्निर्देशित करना भी अनावश्यक और हानिकर ही है। गलत वर्तनियों की कोई सीमा नहीं है, अतः सभी गलत वर्तनियों का 'आविष्कार' करके उन्हें पुनर्निर्देशित करना भी विकिपीडिया पर बोझ बढ़ना है। इससे लोग समय के साथ सही और गलत के बीच अन्तर करना भी भूल सकते हैं।-- अनुनाद सिंहवार्ता 04:46, 18 जुलाई 2013 (UTC)
सिद्धार्थ जी और अनुनाद जी, बहुत बहुत धन्यवाद की आपने मेरी बात को समझा और उत्तर देना उचित माना। पहले सिद्धार्थ जी के उत्तर के विषय में कहना चाहुँगा। आपकी सभी बातें मुझे ठीक लगी। मैं 'बॉलीवुड' के बारे में यह कह रहा था कि यदि 'बॉलिवुड' नामक पृष्ठ नहीं होता तो मैं यह गलती नहीं करता, क्योंकि मैं जब भी किसी पृष्ठ को लिंक करता हूँ तो उसमें देखता हूँ कि वो कहीं लाल कड़ी के रूप में तो नहीं दिखाई दे रहा। यदि ऐसा होता है तो मैं सबसे पहले उस पृष्ठ को चुनता हूँ और विकी पर सब सम्भावित नामों से ढूँढता हूँ। इस सम्बंध में आप मेरा विकिडाटा पर भी काम देख सकते हैं। वहाँ अब तक मेरे 2500+ सम्पादन हैं जबकि केवल 8 माह में इतने सम्पादन या तो वो बन्दा कर सकता है जो इसी काम से लगा रहे या वो जो इतने स्वयं के पृष्ठ बना चुका हो लेकिन मैं न ही तो सम्पूर्ण दिन विकी कार्य करता हूँ न ही मेरे कुल पृष्ठ इतने हैं। अथवा इतने नामकरण वाली समस्या केवल अन्तरविकी लिंकीग से दूर हो जाती है। ख़ाना वाली बात से आप भी सहमत हैं तो उसके बारे में मुझे कुछ कहने की आवश्यकता नहीं है। एक और बात जब मैं गलत वर्तनी से विकी पर कुछ ढूँढ़ता हूँ तो विकी मुझे सही की ओर निर्दिष्ट करती है। आप इस तरफ भी ध्यान दें कि कोई सदस्य हिन्दी विकी पर सीधे क्या ढूँढता है: या तो उसे लगभग ठीक नाम पता हो, अथवा उसे किसी अन्य पृष्ठ में वह नाम मिला हो। अब आप मुझे यह बताओ कि मेरे उन 100-200 पृष्ठों में बॉलिवुड की जगह बॉलीवुड करना विकी के लिए लाभदायक है अथवा एक अनुप्रेषित पृष्ठ 'बॉलीवुड' बनाना? मेरे विचार से हम समय की कमी का हवाला देते हुए ये कह देते हैं कि 'बॉलिवुड' को अनुप्रेषित करना ठीक है लेकिन यह अपनी विश्वसनीयत को हानि पहुँचाता है। यदि कोई 'क्रय' और 'खरीद' से एक ही पृष्ठ बनाये तो बात समझ में आती है लेकिन गलत वर्तनी का जगह-जगह किये गये उपयोग को इस आधार पर ठीक ठहराना कि उससे पाठक को यहाँ पढने में परेशानी कम होगी मेरी समझ से बाहर है। आप अंग्रेजी शब्दों से सम्बंधित जो बात कह रहे हो वह भी मुझे ठीक लगी।
पुनः सिद्दार्थ जी, आप अनुनाद जी की टिप्पणी की ओर ध्यान दें उन्होंने एक उदाहरण आमों, कुत्तों का दिया है। अब आप ही मुझे ये बतायें कि एक 'कुत्ता' शब्द के लिए निम्न वर्तनीया काम में ली जाती हैं: (१) मेरे घर में एक कुत्ता है। (२) कुछ लोग कुत्ते पालते हैं। (३) कुत्तों से बच्चे को दूर रखना चाहिए। (४) कुत्तिया कुत्ते के स्त्रिलिंग का रूप है। (५) भारत के पश्चिमी भागों में कुत्ते को "गंडक" भी कहते हैं। (६) अमुक आदमी बड़ी कुत्ती चीज है। (७) हमारे घर में कुत्ता-कुत्ती दोनों हैं।
अब उपरोक्त ७ वाक्यों के आधार पर मैं "कुत्ता" से सम्बंधित सभी शब्द लिखता हूँ: कुत, कुता, कुति, कुती, कुते, कुतें, कुतो, कुतों, कुत्त, कुत्ता, कुत्ति, कुत्ती, कुत्ते, कुत्तें, कुत्तो, कुत्तों, कुतिया, कुत्तिया, कुतीया, कुत्तीया आदि। मैंने केवल बीस सम्भावित शब्द लिखें हैं हो सकता है कुछ और भी हों (चूँकि इनमें से अधिकतर सही भी हैं।), जो एक पाठक अथवा सम्पादक ढूँढ सकता है। अब यदि इस तरह के बीस शब्द बनाकर एक ही जगह अनुप्रेषित करने पर उस पाठक का क्या होगा जो सम्बंधित किसी अन्य विषय की जानकारी चाहता था लेकिन उसे उस विषय की बजाय प्रथम बीस खोज परिणाम उपरोक्त मिल गये। अतः मेरा विचार है कुत्ते और कुत्तो नामक पृष्ठ बनाकर उन्हें अनुप्रेषित करने से अच्छा है जहाँ ये शब्द मिलें वहाँ इस त्रुटि में सुधार करना। चूँकि हमने यह कार्य अंग्रेजी विकी से सिखा है लेकिन उस समय हम यह भूल गये कि हिन्दी में अंग्रेजी की तरह उच्चारण नहीं होते। यहाँ जो पढ़ते हैं वही उचारित करते हैं। इस तरक के उच्चारण से अच्छा है कि एक नया पृष्ठ बनाय जाये जिसमें शब्द और उनके रूपों के बारे में उल्लेख किया जाये।
अनुनाद जी आपकी बात सीधे ही सहमति की ओर है।☆★संजीव कुमार (बातें) 08:47, 18 जुलाई 2013 (UTC)
मैं सिर्फ एक बात की और ध्यान और दिलाना चाहूँगा। आम तौर पर गूगल ट्रांसलेट जैसे उपकरण बहुवचन शब्द को अंग्रेज़ी से हिन्दी में अनुवाद करते समय अंत में ओं लगा देते हैं, जैसे dogs के लिये गूगल परिणाम: हिन्दी में अनुवाद • से कुत्तों मिलता है, और mangoes के लिये गूगल परिणाम: हिन्दी में अनुवाद • से आमों। मैं सिर्फ जानकारी प्रदान कर रहा हूँ, इस रूप के पुनर्निर्देशों को बनाने का मैं न ही समर्थन कर रहा हूँ न विरोध।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 14:36, 18 जुलाई 2013 (UTC)
सिद्धार्थ जी, आपकी टिप्पणी के लिए धन्यवाद। वैसे जहाँ तक मेरा अनुमान है गूगल भी उपयोगकर्ताओं द्वारा सुझावित अनुवाद का प्रयोग करता है। चूँकि गूगल पूर्ण पृष्ठों का भी अनुवाद करता है जिसके लिए उसे इस तरह की आवश्यकता पड़ती है और यह एक कारण हो सकता है कि गूगल इस तरह के अनुवाद देता है। वैसे आप कुछ वाक्य जैसे: (१) ये कितने आम हैं। (२) मैंने अनेक आम खाये। (३) आमों को पेड़ पर ही लगे रहने दो। यहाँ प्रथम दो वाक्यों में आम बहुवचन के रूप में केवल आम है लेकिन तृतीय वाक्य में बहुवचन के रूप में आमों है। इसका अर्थ यह हुआ कि सामान्य परिस्थितियों में आम का बहुवचन आमों नहीं लिखा जा सकता।☆★संजीव कुमार (बातें) 17:47, 18 जुलाई 2013 (UTC)
सिद्धार्थ जी, गूगल अनुवाद से सम्बन्धित आप द्वारा दी गयी सामग्री का प्रयोजन समझ में नहीं आया। वैसे मशीनी अनुवाद की अपनी सीमाएँ/समस्याएँ हैं और गूगल अनुवाद भी इससे अछूता नहीं है। उदाहरण के लिए 'dogs' के लिए 'कुत्तों' के बजाय 'कुत्ते' (कर्ताकारक, बहुवचन) अधिक उपयुक्त रहता। जब 'dogs' बिना किसी सन्दर्भ के है तो इसे कर्ताकारक, बहुवचन मानें या कर्मकारक, बहुवचन या कुछ और? -- अनुनाद सिंहवार्ता 05:02, 19 जुलाई 2013 (UTC)

विचित्र चर्चा[संपादित करें]

अनुनाद जी का 'विकि पर बोझ पड़ेगा' वाला वाक्य पढ़कर हँसी आती है। या तो उन्हें आधुनिक सर्वरों के पामानों का बोध नहीं या फिर अन्य कोई कठिनाई है। कई चीज़े ध्यान योग्य हैं:

  • खोज करने की विधियाँ तेज़ी से विस्तृत और विविध हो रहीं हैं। अक्सर लोग किसी अन्य सामग्री को पढ़ते हुए एक शब्द को हाईलाईट करके उसकी ब्राउज़र में ही खोज आरम्भ कर देते हैं। 'कुत्तों' के लिए अनुप्रेषण बिलकुल होना चाहिए। सीरी व अन्य बोलने से खोजने वाले तंत्र भी विकसित हो रहें हैं। कई शब्द रूप इसके लिए और भी महत्वपूर्ण हैं। यह बोल से लिखित परिवर्तन में बहुत ग़लतियाँ करते हैं। विकि ज्ञान का एक मुख्य स्रोत बन चुका है। आपके सुझावों के अनुसार 'Siri tell me about Vikings' आराम से चलेगा और 'सीरी मुझे वाइकिंगों के बारे में बताओ' में अंग्रेज़ी की तुलना में एक चरण और आवश्यक जो जाएगा। यह 'ऑनलाइन हिन्दी' को अन्य भाषाओं की तुलना में अपाहिज करने वाली बात लगती है।
  • विकि खोज में शीर्षक को अधिक महत्व मिलता है। इसलिए 'कुत्तों' के अनुप्रेषण से कोई हानि नहीं होती। स्वयं ही प्रयास कर देखें - क्+ु+त्+त् डालकर 'कुत्तों' दिखेगा ही नहीं। यह तभी दिखेगा यदी कोई वास्तव में 'कुत्तों' डालता है। हिन्दी में ऐसे अनुप्रेषण और भी लाभदायक हैं क्योंकि मात्राएँ शब्द में मिली हुई होती हैं।
  • हिन्दी में कई लेखों में जोड़ टूटे पड़े है जहाँ जोड़ के लक्ष्य का लेख तो है लेकिन अनुप्रेषणों के आभाव से उसे ढूंढने में लेखक को प्रयास लगाना पड़ेगा इसलिए उसे लाल ही छोड़ हुआ है। ऐसा अंग्रेज़ी में अनुप्रेषणों की भरमार से कम होता है। अगर लेख है तो उस तक पहुँचना आसान है। और कोई भी आपको यह नहीं कहेगा कि अनुप्रेषण मत बनाओ (केवल टकराव की स्थिति में रोका जाता है, जो होना भी चाहिए)।
  • अनुप्रेषण पाठकों से छुपे होते हैं। वह तभी देखे जाते हैं अगर पाठक स्वयं उस शब्द को टाइप करे या उसपर ब्राउज़र से खोज करे। यह कहना कि पाठक ने अगर कुछ ग़लत लिखा है तो उसे दण्ड देना चाहिए हिन्दीभाषियों को अंग्रेज़ी विकि की तरफ़ भगाने की विधि लगती है।
  • अंग्रेज़ी और अन्य समपन्न भाषाओं में इसपर बहुत काम किया गया है और बहुत-सी स्थितियाँ हैं जब अनुप्रेषण बनाने चाहिए - पढ़िए। बहुत ही सीमित स्थितियाँ हैं जब किसी अनुप्रेषण को हटाना चाहिए - पढ़िए
  • कोई भी सुझाव जो लेखकों के लिए हिन्दी विकि को देखो सो पाओ दिशा से विपरीत ले जाएगा, वह हमें नुकसान देगा। अगर आपको लिखना है कि 'जापानी कुत्तों की कई जीववैज्ञानिक जातियाँ हैं' तो इसे 'जापान|जापानी कुत्ता|कुत्तों की कई जाति (जीवविज्ञान)|जीववैज्ञानिक जातियाँ हैं' लिखने पर मजबूर करना आपको अंग्रेज़ी व कई अन्य विकियों के सामने अपाहिज करना है। उनके गति आपसे कई अधिक होगी।

अनुप्रेषण एक ऐसा सहायक-जाल है जो पाठकों और लेखकों दोनों की मदद करता है। इसके लाखों जोड़ तब तक अदृश्य होते हैं जब तक इन की आवश्यकता न हो। यह चर्चा जो है उस से बिलकुल विपरीत होनी चाहिए। उत्तराखण्ड का लेख १८ जनवरी २००७ से अस्तित्व में है। अनुनाद जी ने २८ अप्रैल २००९ में बोफोर्स घोटाला का लेख बनाया जिसमें 'उत्तरखंड' लिखा है। प्रथम तो जोड़ नहीं है - लेख लिखते हुए या तो वे चूक गए या फिर बहुत से अन्य लेखकों की तरह उन्हें अन्य लेख लिखने थे इसलिए 'उत्तराखण्ड' का लेख ढूंढने में समय नहीं लगाया। फ़र्ज़ करें कि वे 'उत्तरखंड' पर ही जोड़ लगा देते। पहले तो इसमें ग़लती है - 'उत्तराखंड' होना चाहिए। और अगर ठीक भी करें तो आपके अनुसार 'उत्तराखंड' वर्तनी ग़लत है और केवल 'उत्तराखण्ड' ही होना चाहिए, यानि यह अनुप्रेषण भी न हो। यह कोई काल्पनिक बात नहीं। हिन्दी में कई लेख इस अनुप्रेषण-आभाव से अन्य भाषाओं की तुलना में लाल स्याही या जोड़-विहीनता से पीड़ित हैं। ध्यान दें कि अंग्रेज़ी में Uttarkhand का अनुप्रेषण है (जबकि सही वर्तनी 'Uttarakhand' है) और Chorabari Glacier के लेख में यह पहली पंक्ति में ही सहायक साबित हो रहा है। यह कहानी रोज़ हिन्दी विकि में अपने आप को दोहराती है। कृप्या अनुप्रेषण बढ़ाएँ! --Hunnjazal (वार्ता) 02:40, 6 अगस्त 2013 (UTC)

मुझे हुन्नजजाल जी द्वारा दी गई उपरोक्त टिप्पणी में उनका अल्प यूनिकोड ज्ञान और 'खोज' से सम्बन्धित भ्रांतियाँ दिख रही हैं। 'उत्तराखण्ड' और 'उत्तरखंड' का उदाहरण देकर 'कुत्ता' पर 'कुत्ते', 'कुत्तों', 'कुत्तियों', 'कुत्तियाँ', 'कुत्तियें' , 'कुत्तियाएँ' (कोई गलत भी खोजने की कोशिश करे तो), 'कुत्तेकुत्तियों', 'कुत्तागिरी', 'कुतकुताना', 'कुतकुतियाना', 'कुत्ताकुत्तीभाव', 'कुत्तों में', कुत्तों की', 'काला कुत्ता', 'अरबी कुत्ता', 'पालतू कुता', 'बीमर कुत्ता' , कुत्ताप्रसंग' आदि को अनुप्रेषित करना अति के अतिरिक्त कुछ नहीं है। यह वैसे ही है जैसे कोई अंधा चलते समय 'कौन है?', 'कौन है?' का रट लगातार लगाए जाय। उनकी लाल स्याही वाली बात भी अति का दूसरा उदाहरण है। इस पर बहुत चर्चा हो चुकी है।-- अनुनाद सिंहवार्ता 03:49, 6 अगस्त 2013 (UTC)
अर्थ अस्पष्ट है और आपको वार्ता जारी न रखनी हो तो आपकी मंशा लेकिन इस प्रकार की चर्चा के लिए मैं उपस्थित हूँ और सदैव रहूँगा। अन्यों को यह ध्यान रखना चाहिए कि अनुप्रेषण बहुत आवश्यक हैं - कृप्या यह अनुप्रेषण-समबन्धी नियमावली देखें (समय मिलते इसका अनुवाद करूँगा या कोई प्रबन्धन में रुचि लेने वाला अन्य करे तो और भी अच्छा हो) और अपने व अन्यों के बनाए लेखों के लिये ऐसे अनुप्रेषण जोड़ें क्योंकि इनकी विहीनता की हिन्दी विकि को अकारण क़ीमत चुकानी पड़ रही है। मत-प्रकट करने की प्रक्रिया में आवश्यक/अनावश्यक अनुप्रेषण को लेकर विकिपीडिया:बात समझाने के लिये विकिकार्य बाधित न करें भी ध्यान में रखें। धन्यवाद! --Hunnjazal (वार्ता) 05:11, 6 अगस्त 2013 (UTC)
Hunnjazal आपकी ये टिप्पणी एकदम बीच में आने के कारण आज देख पाया हूँ। इसका पूर्ण विवरण नीचे दूसरे अनुभाग में लिख रहा हूँ जिसका शीर्षक विचित्र चर्चा नामक अनुभाग से आगे है। जिससे अन्य सदस्यों को भी इस चर्चा में भाग लेने में आसानी रहे।☆★संजीव कुमार (बातें) 15:07, 9 अगस्त 2013 (UTC)

ध्यान आकर्षण[संपादित करें]

सभी सदस्यों से मेरा अनुरोध है कि वार्ता:राष्ट्रवाद पृष्ठ पर ध्यान दें। पिछले कुछ दिनों से मैं कुछ समझ नहीं पा रहा हूँ कि इस पृष्ठ पर क्या हो रहा है।☆★संजीव कुमार (बातें) 17:34, 18 जुलाई 2013 (UTC)

संजीव जी! मैंने राष्ट्रवाद लेख भी देखा और आपकी वार्ता पृष्ठ पर टिप्पणी भी। इस पर माननीय प्रबन्धकों की राय ले लें तो अधिक उत्तम रहेगा। मुझे तो इसमें साफ साफ वण्डलबाजी नज़र आ रही है। डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 07:57, 19 जुलाई 2013 (UTC)
धन्यवाद क्रान्त जी, मैं भी यही चाहता हूँ कि प्रबंधक इस विषय पर ध्यान दें।☆★संजीव कुमार (बातें) 12:59, 20 जुलाई 2013 (UTC)
संजीव जी, मैने अपनी टिपण्णी वहाँ दर्ज कर दी है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 19:23, 22 जुलाई 2013 (UTC)

आज का आलेख सम्बन्धी सुझाव[संपादित करें]

कृपया रिवॉल्वर (.32 बोर) लेख की ओर ध्यान दें। यह सारी आवश्यकतायें पूर्ण करता है। मैंने इसकी चर्चा यहाँ पर कर दी है। मुझे प्रसन्नता होगी यदि आप लोग इस पर अपनी राय यहाँ दें। डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 08:25, 19 जुलाई 2013 (UTC)

Does the community of hi-wiki have problems with the visual editor?[संपादित करें]

Hello all, I write this message to inform you about the visual editor and the problems other Wikipedias have with it, so that the Hindi speaking community can inform themselves and decide if this is a concern for this Wikipedia as well or not.

On the Dutch community, most users really like the idea of getting a visual editor. A visual editor may help inexperienced (new) users or users who experience the wikisyntax as difficult to edit. In the past weeks we have tested the visual editor and we noticed big problems that concern the majority of the articles. We reported all these problems a month ago. The day before yesterday we heard that the developers plan to launch the visual editor for all logged in as anonymous users on the Dutch Wikipedia (nl-wiki) coming Monday 22 July. We checked again all problems we reported and noticed that all these articles still have major problems in the visual editor. The second concern we have is the user friendliness of the current visual editor, sure most of the basic edits work fine with it, but the more difficult edits (where this piece of software is designed for!) are certainly not user friendly. Our third concern are the templates. On the Dutch Wikipedia we have been working hard to make and keep almost all templates as easy as possible to edit and change for most users (KISS principle), so that as many as users can update templates. The coding the visual editor requires for editing templates in articles makes it impossible for regular users to update those templates any longer. Something that is unacceptable to us. Software should make editing easier, not more difficult. All the problems with the software will cause thousands of bad edits which other users can clean up afterwards. We think software should make the workload less in stead of enlarging it. As a result of all problems we have started a voting to hide the visual editor until the problems are solved. A big majority is in favour.

In the past weeks, the visual editor was already launched to the English Wikipedia. Many many many problems occurred and are still occurring, like this and this. On thousands of articles this goes wrong. As result of all these problems the community has set up an comment page at en:Wikipedia:VisualEditor/RFC. Someone summarizes it with: "It's a very good alpha, but it should never have been launched outside of a test deployment."

From the beginning the developer team promised all communities to make it possible for all users to opt-out the software if they do not want to use it. With the launch on the English Wikipedia it appeared that the opt-out was removed. The only thing users can do is hide the visual editor for themselves via the common.js. This means that everyone, including those users who do not want to use the visual editor, have to deal with an extra layer of code that is loaded each time you visit a page and can't be switched off.

The community of the Dutch Wikipedia want the developers to delay the launch of the visual editor until all big issues and concerns are solved. The Dutch community does not want to clean up the mess the visual editor produces on all these thousands of articles. Yes, most users like the idea of a visual editor, but that must be one which doesn't cause problems and really helps to make editing easier. As the visual editor is not yet ready to be deployed, and no replies have been received from the developers, the community will hide the visual editor (using this in here) (and make an opt-in for those who wish to use/test it) to prevent problems. (De facto this means that the current opt-in is restored back.) It will give a signal to the developers/Wikimedia Foundation that the current deployment is unacceptable to the Dutch community and the community feels itself ignored and forced to cope with the problems we did not cause.

I noticed that also hi-wiki is scheduled to get launched the visual editor coming Monday 22 July. I really doubt that seeing the problems on the English Wikipedia and the Dutch Wikipedia, that the launch here will be without major issues.

It is up to the local community to check for problems and to ask themselves if this acceptable to you or not? I would also suggest you test the visual editor with editing articles (like the ones which use the most used templates to see if they all work), in particular the ones with tables, templates and references.

If you wish to translate this message, please do, so that more users can understand what they have to deal with coming Monday and later.

If you want to know more about the situation on nl-wiki, please ask. Greetings - Romaine (वार्ता) 16:04, 19 जुलाई 2013 (UTC)

I think this is a useful tool to make small corrections. Sometimes If there is a big page which need few corrections in between then this type of tool is useful. But this tool can be used only by registered users.
यह कुछ छोटे परिवर्तन करने के लिए एक उपयोगी औजार है। कभी-कभी किसी बड़े पृष्ठ में मध्य में कहीं-कहीं सुधारों की आवश्यकता होती है जिसके लिए इस तरह का सॉफ़्टवेयर बहुत लाभदायक है। लेकिन यह केवल पंजीकृत सदस्यों के लिए ही होना चाहिए।☆★संजीव कुमार (बातें) 12:18, 22 जुलाई 2013 (UTC)


Update: the community of the Dutch Wikipedia has voted with about 80% against the launch of the visual editor until the problems are solved as the reported bugs are breaking thousands articles. The community does not want to be forced to deal with the problems the visual editor causes. We understood that the reason for this early launch is because too little time for developing was scheduled. The community hopes in general that the problems are solved fast so that a fully functional visual editor can be launched as soon as possible. Romaine (वार्ता) 20:28, 22 जुलाई 2013 (UTC)
Update: The new schedule says that Visual Editor will not be enabled here by default until atleast mid-August.
अपडेट: नए शिड्यूल के अनुसार विजुअल एडिटर हिन्दी विकिपीडिया पर मध्य-अगस्त से पहले डिफ़ॉल्ट रूप से सक्षम नहीं किया जाएगा। तब तक पंजीकृत सदस्य अपनी वरीयताओं में इसे सक्षम करके आज़मा सकते हैं।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 03:31, 23 जुलाई 2013 (UTC)

प्रबंधक एवं प्रशासक पद[संपादित करें]

कृपया विकिपीडिया वार्ता:प्रबन्धन अधिकार हेतु निवेदन#प्रबंधक एवं प्रशासक पद देखें।☆★संजीव कुमार (बातें) 23:26, 21 जुलाई 2013 (UTC)

Pywikipedia is migrating to git[संपादित करें]

Hello, Sorry for English but It's very important for bot operators so I hope someone translates this. Pywikipedia is migrating to Git so after July 26, SVN checkouts won't be updated If you're using Pywikipedia you have to switch to git, otherwise you will use out-dated framework and your bot might not work properly. There is a manual for doing that and a blog post explaining about this change in non-technical language. If you have question feel free to ask in mw:Manual talk:Pywikipediabot/Gerrit, mailing list, or in the IRC channel. Best Amir (via Global message delivery). 13:17, 23 जुलाई 2013 (UTC)

विलय अनुरोध[संपादित करें]

पृष्ठों भारत में राष्ट्रीय राजमार्गों की राजमार्ग संख्या अनुसार सूची और भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों की सूची - संख्या अनुसार का विलय कर दिया जाना चाहिए।☆★संजीव कुमार (बातें) 19:43, 27 जुलाई 2013 (UTC)

विकिपीडिया:निर्वाचित लेख उम्मीदवार[संपादित करें]

नमस्ते विकी दोस्तों, मैंने बर्फी! नामक पृष्ठ को निर्वाचित लेख के रूप में नामांकित किया है। यदि सभी सदस्य इस पर अपनी प्रतिक्रिया दें तो बहुत अच्छा होगा। निर्वाचन के लिए नामांकन पृष्ठ पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करने के लिए विकिपीडिया:निर्वाचित लेख उम्मीदवार#बर्फी! देखें।☆★संजीव कुमार (बातें) 08:35, 28 जुलाई 2013 (UTC)

VisualEditor and your Wikipedia[संपादित करें]

(Please translate this message)

Greetings,

The Wikimedia Foundation will soon turn on VisualEditor for all users, all the time on your Wikipedia. Right now your Wikipedia does not have any local documents on VisualEditor, and we hope that your community can change that. To find out about how you can help with translations visit the TranslationCentral for VisualEditor and read the easy instructions on bringing information to your Wikipedia. The User Guide and the FAQ are very important to have in your language.

We want to find out as much as we can from you about VisualEditor and how it helps your Wikipedia, and having local pages is a great way to start. We also encourage you to leave feedback on Mediawiki where the community can offer ideas, opinions, and point out bugs that may still exist in the software that need to be reported to Bugzilla. If you are able to speak for the concerns of others in English on MediaWiki or locally I encourage you to help your community to be represented in this process.

If you can help translate the user interface for VisualEditor to your language, you can help with that as well. Translatewiki has open tasks for translating VisualEditor. A direct link to translate the user interface is here. You can see how we are doing with those translations here. You need an account on Translatewiki to translate. This account is free and easy to create.

If we can help your community in any way with this process, please let me know and I will do my best to assist your Wikipedia with this |exciting development. You can contact me on my meta talk page or by email. You can also contact Patrick Earley for help with translations and documents on Mediawiki. We look forward to working with you to bring the VisualEditor experience to your Wikipedia! Keegan (WMF) (talk) 19:03, 30 जुलाई 2013 (UTC)

Distributed via Global message delivery. (Wrong page? Fix here.)

बकुलाही नदी लेख[संपादित करें]

मुझे यह देखकर आश्चर्य हुआ कि लेख बकुलाही नदी पर निर्वाचित लेख होने का बिला लगा है। यह किसने लगाया और किस आधार पर लगाय यह तो मैं नहीं जानता लेकिन जानकारी चाहता हूँ। सर्वप्रथम यह बिला 16:17, 28 दिसम्बर 2011 के अवतरण में लगाया गया। यदि यह निर्वाचित पृष्ठ है तो मैं इसपर पुनः चर्चा चाहता हूँ अन्यथा इसको आवश्यकता अनुसार परिवर्तित किया जाये।☆★संजीव कुमार (बातें) 14:20, 3 अगस्त 2013 (UTC)

संजीव जी, यह निर्वाचित लेख साँचे का गलत इस्तेमाल था। अगर भविष्य में भी आप ऐसा कुछ देखते हैं तो कृपया सीधा साँचे को लेख से हटा दें। यह बर्बता की श्रेणी में आता है क्योंकि यह पाठकों के बीच भ्रम उत्पन्न करता है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 17:06, 3 अगस्त 2013 (UTC)
धन्यवाद बिल जी।☆★संजीव कुमार (बातें) 19:29, 3 अगस्त 2013 (UTC)

चित्रंगदा सिंह[संपादित करें]

मेरे विचार से ये कुछ लेखों की वर्तनियां इस प्रकार से होनी चाहियें:

  • चित्रंगदा सिंह: चित्रांगदा सिंह
  • थ्री इडीयट्स: थ्री ईडियट्स फ़िल्हाल ये एक अनुप्रेषण है
  • एकलव्य (2007 फ़िल्म): एकलव्य: द रॉयल गार्ड
  • सिंघम: सिंहम
  • इनके अलावा अधिकांश फ़िल के लेख के शीर्षक के आगे कोष्ठक (bracket) में फ़िल्म 2008 लिखा रहता है। अंग्रेज़ी विकी की भांति ही यदि हम उन फ़िल्म शीर्षकों को बिना वर्ष के रहने दें, जिनका कहीं और किसी नाम से संदेह (confusion) न हो, जैसे बोल बच्चन फ़िल्म का शिर्षक बोल बच्चन (2011 फ़िल्म) न करके मात्र बोल बच्चन किया जा सकता है, क्योंकि इस नाम से भी कोई अन्य लेख नहीं बनता। यदि भविष्य में बने भी तो तब सुधार किया जा सकता है, क्योंकि ये बहुत कम chance होगा। हां यदि चाहें तो वर्ष वाले शीर्षक को मूल शीर्षक लेख पर अनुप्रेषित किया जा सकता है, जिससे भविष्य की कोई शंका भी शेष नहीं रह जायेगी।

--आशीष भटनागरवार्ता 02:26, 7 अगस्त 2013 (UTC)

कृपया सभी अपनी राय दें:

समर्थन

 Yes check.svg  --Hunnjazal (वार्ता) 06:31, 7 अगस्त 2013 (UTC)

 Yes check.svg  -- अनुनाद जी का कहना ठीक लग रहा है। वैसे मुझे लग रहा है अशुद्ध को अनुप्रेषित के स्थान पर पूर्णतया हटा देना ठीक है।☆★संजीव कुमार (बातें) 10:16, 9 अगस्त 2013 (UTC)

विरोध
निष्कर्ष
टिप्पणी

मुझे लगता है थ्री ईडियट्स के बजाय थ्री इडियट्स ठीक होगा। बाकी सब से सहमत हूँ। लेकिन इसमें मतदान (समर्थ/विरोध) के बजाय वस्तुस्थिति देखना अधिक अच्छा रहेगा। उदाहरण के लिए, देखा जाय कि शब्दकोश में उच्चारण क्या दिया गया है।-- अनुनाद सिंहवार्ता 11:05, 7 अगस्त 2013 (UTC)

मतदान की स्थिति स्पष्ट करें[संपादित करें]

कृपया विकिपीडिया वार्ता:प्रबन्धन अधिकार हेतु निवेदन पर प्रबन्धक अधिकार हेतु चल रही वार्ताओं एवं मतदान का सन्दर्भ लें। लगता है कि इस बारे स्थिति साफ नहीं है कि मतदान की स्थिति क्या है। इस पर 'मतदान चल रहा है' , या इसी तरह की कोई स्पष्ट सूचना नहीं है। केवल लिखा है कि 'आशीष जी और सिद्धार्थ का नामांकन सफ़ल हुआ।' जिस पर बिल जी का हस्ताक्षर है जो यह भ्रम पैदा करता है कि यह परिणाम श्री बिल ने घोषित किया है। इसके अलावा अनुनाद सिंह और हिन्दुस्तानीलैंग्वेज के नामांकन पर कोई निर्णय नहीं हुआ है और डॉ जगदीश व्योम जी ने इस पूरी प्रक्रिया को निरस्त करने का प्रस्ताव रखा है।

प्रबन्धकगण कृपया उपरोक्त सभी पर मतदान की स्थिति, कारण सहित, स्पष्ट करें जिससे इसे सही तरीके से पूरा किया जा सके। निवेदन है कि अन्य सदस्य भी अपने विचार रखें।-- अनुनाद सिंहवार्ता 06:08, 7 अगस्त 2013 (UTC)

परिणाम स्टीवर्ड ने घोषित किए हैं परन्तु मेटा पर अधिकार प्रदान कर के। कई स्टीवर्ड यहाँ आकर नामांकन को सफ़ल या असफ़ल घोषित कर देते हैं परन्तु कुछ नहीं करते। सदस्य:MF-Warburg जी ने ऐसा क्यों नहीं किया। इसलिए मैने केवल उनका निर्णय यहाँ रखा था जिससे स्थानीय सदस्यों को पता चल सके कि मतदान समाप्त हो चुका है। ऍचऍल जी के नामांकन में यह समस्या है कि वह ठीक स्थान पर नहीं है। संजीव जी ने मेरे विचार में वार्ता पृष्ठ का इस्तेमाल इसलिए किया था क्योंकि वे पूर्व प्रबन्धकों को नामांकित कर रहे थे और उसमें वे अन्य सदस्यों के विचार जानना चाहते थे। सही प्रकिया यह है कि केवल विकिपीडिया:प्रबन्धन अधिकार हेतु निवेदन पर नामांकन किए जाएँ। इस पृष्ठ का उद्देश्य ही यही है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 06:24, 7 अगस्त 2013 (UTC)
बिल जी ने इसी बारे में कुछ यहाँ भी लिखा है : प्रबंधक नामांकन -- अनुनाद सिंहवार्ता 09:28, 7 अगस्त 2013 (UTC)
बिल जी, जब कोई निर्णय या आदेश कोई दूसरा देता है तो उसे आप अपने नाम से नहीं लिख सकते। वहाँ स्पष्ट उल्लेख होना चाहिए कि निर्णय/आदेश किसने दिए हैं और उससे सम्बन्धित अन्य विवरण कहाँ हैं। इसके अलावा कई सदस्यों का नामांकन एक साथ किया गया हो तो उनमें से कुछ का नामांकन सफल घोषित होने से शेष नामांकन न तो स्वतः असफल घोषित हो जाते हैं न उन पर मतदान रूक जाता है। मतदान तब रूकता है जब उसके लिए निर्धारित अवधि समाप्त हो जाय। -- अनुनाद सिंहवार्ता 06:51, 7 अगस्त 2013 (UTC)
वैसे निष्पक्ष रूप से एक बात बताऊँ उचित स्थान यही है जो ऊपर बिल कॉम्टन ने बताया है यानी कि विकिपीडिया:प्रबन्धन अधिकार हेतु निवेदन पृष्ठ पर जाकर ही किसी सदस्य को अपना नाम स्वयं प्रस्तावित करना चाहिए। किन्तु ध्यान कौन देता है? डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 07:04, 7 अगस्त 2013 (UTC)
डॉ क्रान्त वर्मा जी, सभी ने माना है कि यह प्रस्ताव गलत स्थान पर है। इसे सही स्थान पर किया जाना चाहिए था और अब भी किया जा सकता है। इस सम्बन्ध में प्रस्ताव करने वाले नए सदस्य की अपेक्षा अधिक अनुभवी सदस्यों की अधिक जिम्मेदारी बनती है।-- अनुनाद सिंहवार्ता 07:58, 7 अगस्त 2013 (UTC)
मेरी एक जिज्ञासा है, कि क्या पूर्व मैं अनुनाद जी और एच एल जी के लिए किये गए प्रस्ताव पर हो रही चर्चा अथवा मतदान बिना किसी नतीजे का सम्पूर्ण हुआ या फिर आगे जारी रहने की संभावना भी है ?

Mala chaubey (वार्ता) 03:24, 9 अगस्त 2013 (UTC)

विश्वविद्यालय और विश्वविधालय[संपादित करें]

नमस्ते विकी दोस्तों, आज एक घटना ऐसी घटी कि मुझे अपने आप पर शक होने लग गया है। मैंने कुछ दिन पूर्व एक लघु पृष्ठ बनाया था जिसका शीर्षक था राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय। यह लेख मैंने राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय , कोटा नामक पृष्ठ को देखकर बनाया था जिसमें पृष्ठ निर्माता ने न ही तो कुछ जानकारी दी थी और शीर्षक में अनावश्यक खाली जगह छोड़कर त्रुटि की थी। आज मैंने देखा की अपने एक कुशल नीतिज्ञ प्रबंधक ने उस पृष्ठ का नाम बदलकर राजस्थान तकनीकी विश्वविधालय कर दिया है। चूँकि मैंने संबंधित निकाय का लोगो भी लगाया था जिसमें स्पष्ट रूप से "विश्वविद्यालय" लिखा हुआ देखा जा सकता है। यदि प्रबंधक महोदय से कोई भूल हुई है तो मुझे कोई ऐतराज नहीं है लेकिन उन्हें कम से कम शीर्षक सुधार से पूर्व यह मानकर ही लोगो देख लेना चाहिए था कि उन्होंने ही मुझे पुनरीक्षक बनाया है। मैं मानता हूँ कि मेरे लेख में वर्तनी सम्बंधी त्रुटियाँ बहुत रहती हैं लेकिन कम से कम शीर्षक तो जाँच-पड़ताल करके लिखता हूँ।

  • विश्वविद्यालय के विद्यालय शब्द का निर्माण विद्या+आलय से हुआ है अर्थात विद्या का घर। यहाँ विद्या= व्+इ+द्+य्+आ है। विद्या का अर्थ ज्ञान से संबद्ध है।
  • विश्वविधालय में विधालय शब्द का निर्माण विधा + आलय हो सकता है अर्थात विधा का घर। विधा = व्+इ+ध्+आ है। विधा को सामान्य रूप से किसी भी कला के लिये प्रयुक्त किया जा सकता है।

कृपया उस नाम को वापस अपनी शुद्ध अवस्था में लाने में सहयोग करें। आप अधिक जानकारी विश्वविद्यालय की साइट पर भी प्राप्त कर सकते हैं।☆★संजीव कुमार (बातें) 09:11, 7 अगस्त 2013 (UTC)

संजीव जी, वैसे आप यह प्रश्न मेरे वार्ता पृष्ठ पर भी सीधा पूछ सकते थे, जो भी हो मैं उत्तर देता हूँ। सर्वप्रथम, जैसा मैने हमेशा कहा कि बिना कारण मैं कुछ नहीं करता, पृष्ठ को अनुप्रेषित करते वक्त भी मैने साफ़-साफ़ कारण दिया है: "विश्विद्यालय द्वारा आधिकारिक तौर पर इस्तेमाल की जाने वाली वर्तनी"। आपने शायद ध्यान नहीं दिया हो परन्तु विश्वविद्यालय स्वयं अपने लोगो में यही वर्तनी इस्तेमाल करता है। वैसे यह चित्र आपके द्वारा ही अपलोड किया गया था। जब वे खुद इसे "राजस्थान तकनीकी विश्वविधालय" कहते हैं तो फ़िर हम भला अपना नया नाम क्यों दें? मैं भी हमेशा "विश्वविद्यालय" वर्तनी इस्तेमाल में लाता हूँ और मुझे दोनों में अन्तर भी पता है परन्तु हम किसी संस्था का नाम नहीं बदल सकते।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 09:25, 7 अगस्त 2013 (UTC)
बिल जी, बुरा मत मानना, एक अपने घर की सलाह देता हूँ। मुझे वैसे पता नहीं है आप ऐनक काम में लेते हैं अथवा नहीं। लेकिन यदि नहीं तो किसी चिकित्सक के पास जाकर आँखों की जाँच करवाइये। यदि यह इतना जल्दी मुमकीन नहीं है तो चित्र को जूम (बड़ा) करके देख लिजिए। शायद आपको अच्छे से दिखने लगे। इसी के लिए मैंने वो विज्ञप्ती भी मेरे पिछले कथन में लिखी थी। कृपया विश्वविद्यालय की साइट पर http://www.rtu.ac.in/academics/RTU%20Act%202006.pdf विज्ञप्ति (अधवा अधिसूचना) देख लें। आपने यदि चित्र को ध्यान से नहीं देखा अथवा कोई अन्य समस्या है तो मैं अथवा विकी इसके जिम्मेदार नहीं हैं।☆★संजीव कुमार (बातें) 10:15, 7 अगस्त 2013 (UTC)
नमस्कार, आप दोनों से बिनती है कि कृपया लेख के वार्ता पृष्ठ पर टिप्पणी देख लें। वहाँ राखी टिप्पणी के अतिरिक्त संजीव जी से अनुरोध है कि हमेशा याद रखें कि कोई भी अन्य सदस्य अच्छी मंशा से कार्य करता है। अतः कृपया assume good faith को याद रखें, और हो सके तो लेख-विशिष्ट चर्चाएँ लेखों के वार्ता पृष्ठों पर ही करें।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 18:20, 7 अगस्त 2013 (UTC)
सिद्धार्थ जी, नमस्ते। कृपया 'assume good faith' का आशय समझाएँ और बताएँ कि हिन्दी विकि पर इससे सम्बन्धित जानकारी कहाँ मिलेगी?-- अनुनाद सिंहवार्ता 07:36, 9 अगस्त 2013 (UTC)
नमस्ते सिद्धार्थ जी, सर्वप्रथम तो आपको बीच-बचाव करके विवाद होने से पहले ही निबटाने के लिए धन्यवाद। मेरा उद्देश्य किसी के प्रति गलत शब्द बोलना कभी नहीं रहा लेकिन बिल जी ने मेरी स्पष्ट शब्दों में कही बात को एकदम सरेआम गलत बताया और फिर उन्होंने सलाह भी दी की मुझे यह प्रश्न उनके वार्ता पृष्ठ पर लिखना चाहिए था। चूँकि मैं जानता हूँ कि बिल जी जानबुझकर गलतियाँ नहीं करते लेकिन यहाँ गलती करने के बावजूद पृष्ठ को ठीक से देखने की बजाय मुझे देखने की उल्टी सलाह देने लग गये। अतः कुछ कटु शब्द निकलने लगे। वैसे मैंने मेरे कटु शब्दों को भी कटुता के साथ व्यक्त नहीं किया। फ़िर भी यदि किसी को बुरा लगे तो मैं क्षमा चाहता हूँ। मेरा नियम रहा है कि मेरी गलती दिखाई दे तो मैं पुछता हूँ लेकिन जब मैंने पृष्ठ बनाया उस समय नाम ध्यान से देखा था और जब उन्होंने बदल दिया तो मुझे आश्चर्य हुआ कि, क्या बिल जी भी ऐसा बर्बता वाला कार्य कर सकते हैं? साथ ही साथ मैं यह भी बता दूँ कि मैंने चौपाल पर लिखने से पूर्व कम से कम ५ लोगों से इस विषय पर चर्चा की। मैंने सोचा हो सकता है मराठी में ऐसा लिखते होगें और जिस वजह से गलती हो गयी होगी। क्योंकि मैं देखता हूँ बहुत से लोग मराठी में लगे पूर्णविराम (.) को हिन्दी का भी पूर्णविराम मान लेते हैं। मेरा यह भाव आप मेरी पहली टिप्पणी में देख सकते हैं। पृष्ठ के वार्ता पृष्ठ पर सामान्यतः लोग जाते नहीं हैं अतः मैंने चौपाल पर लिखना उचित समझा। आप देख सकते हैं पिछले दिनों में मैंने कुछ पृष्ठों में {{हहेच लेख}} का प्रयोग किया है लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं आती है। मैं यह नहीं चाहता था कि उसी तरह से इस पृष्ठ का नाम भी गलत पड़ा रहे।☆★संजीव कुमार (बातें) 18:51, 7 अगस्त 2013 (UTC)
संजीव जी, मुझे क्षमा करें मुझ से यह बड़ी गलती हो गई। मैने लोगो केवल टैब में ही देखा जिसमें मुझे यह 'ध' दिख रहा था। मैने गलती करी इसलिए आप कटु शब्द बोले तो भी मुझे कोई आपत्ति नहीं। मैं आगे से पहले सलाह-मशविरा करने के पश्चात ही शीर्षक बदलूँगा। वैसे मेरी मंशा गलती सुधारने की थी, जो असल में गलती थी ही नहीं। धन्यवाद सिद्धार्थ!<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 20:19, 7 अगस्त 2013 (UTC)
बिल जी, आपका यह उत्तर आपके पहले उत्तर से बिलकुल मेल नहीं खा रहा है। इन विरोधाभासों के प्रकाश में यही बात समझ में आती है कि आपको 'विश्वविद्यालय' की सही वर्तनी का ज्ञान नहीं था। हिन्दी विकि पर प्रबन्धकों से यह 'अपेक्षा' की जानी चाहिए या नहीं कि वे प्रायः प्रयुक्त सहज शब्दों की वर्तनी से सुपरिचित हों? आशा है आप इसे बुरा नहीं मानेंगे।-- अनुनाद सिंहवार्ता 07:36, 9 अगस्त 2013 (UTC)
अनुनाद जी, आप जो समझना चाहो समझो मुझे इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता। मैने गलती करी और मैं उसके लिए सार्वजनिक रूप से क्षमा भी माँग चुका हूँ। वैसे आपके लेखों में मैं कई गलतीयाँ वर्तनी दृष्टिकोण से निकाल सकता हूँ परन्तु मुझे न तो अन्य सदस्यों की बातों के बीच में पड़ने का शौक है और न ही फ़ालतू समय। जब मैने ऊपर साफ़-साफ़ लिखा है कि "मैं भी हमेशा विश्वविद्यालय वर्तनी इस्तेमाल में लाता हूँ और मुझे दोनों में अन्तर भी पता है, फ़िर आपको जो शंका करनी है आप उसके लिए स्वतंत्र हैं। आशा है आप भी बुरा नहीं मानेंगे।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 11:40, 9 अगस्त 2013 (UTC)
बिल जी, मैं आपकी इस टिप्पणी से अत्यन्त संतुष्ट हूँ। किन्तु आपको यही टिप्पणी बहुत पहले करनी चाहिए थी जब प्रबन्धक श्री हुन्नजजाल ने कहा था कि 'सुन्दरलैण्ड' की वर्तनी गलत है जबकि वह तो १००% सही थी। -- अनुनाद सिंहवार्ता 12:35, 9 अगस्त 2013 (UTC)

{{भाषा}} में प्रस्तावित बदलाव[संपादित करें]

नमस्कार, मैंने {{भाषा}} साँचे में कुछ बदलाव साँचा वार्ता:भाषा#प्रस्तावित_बदलाव पर प्रस्तावित किये हैं। ये बदलाव मुख्यतः तकनीकी हैं, परन्तु चूँकि इस साँचे का प्रयोग लगभग 47 हज़ार पृष्ठों पर होता है, अतः मेरे विचार से इसमें परिवर्तन से पहले चर्चा की जानी चाहिए। सदस्यों से अनुरोध है कि वे इस बदलाव पर अपनी टिप्पणी दें। धन्यवाद--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 15:04, 7 अगस्त 2013 (UTC)

पृष्ठ आयात[संपादित करें]

सदस्यों की सहूलियत के लिए विकिपीडिया:पृष्ठ आयात के लिए अनुरोध का निर्माण किया गया है। इस पृष्ठ पर कोई भी सदस्य अन्य विकिमीडिया परियोजनाओं से किसी पृष्ठ (लेख, साँचा, आदि) को यहाँ हिन्दी विकि पर आयात के लिए अनुरोध कर सकता हैं। इस प्रक्रिया से कई फायदे रहते हैं जिनमें सबसे महत्वपूर्ण यह है कि जिस लाईसेंस द्वारा विकिपीडिया की समाग्री उपलब्ध होती है (क्रियेटिव कॉमन्स ऍट्रीब्यूशन/शेयर-अलाइक लाइसेंस 3.0 तथा जीएफ़डीऍल) उसकी ऍट्रीब्यूशन वाली आवश्यकता पूरी हो जाती है। आयात करवाने की प्रक्रिया बहुत आसान है, अगर कोई प्रश्न है तो कृपया पूछें। साथ ही मैने परियोजना पृष्ठ की कड़ी साइडबार में "आयात अनुरोध" के नाम से उपलब्ध करा दी है जिस से आपको पृष्ठ तक पहुँचने में आसानी हो (यही कड़ी आपको 'हाल में हुए परिवर्तन' में भी मिल जाएगी)।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 18:33, 8 अगस्त 2013 (UTC)

धन्यवाद बिल जी।☆★संजीव कुमार (बातें) 18:41, 8 अगस्त 2013 (UTC)

परिवर्तन आवश्यक[संपादित करें]

आज मैं विकिपीडिया:अच्छे लेख लिखने के सुझाव नामक पृष्ठ को पढ़ रहा था। इस पृष्ठ के एक अनुभाग का नाम "लेखों के नाम" है जिसमें लाघव चिह्न के उपयोग के विषय में लिखा है। मुझे देखकर आश्चर्य हुआ कि उसमें लाघव चिह्न देवनागरी शून्य (०) को लिखा गया है जबकि पूरे पृष्ठ में लाघव चिह्न (॰) का नामोनिशान नहीं है। चूँकि यह पृष्ठ सुरक्षित है और मैं नहीं चाहता कि इस पृष्ठ का सुरक्षा स्तर कम किया जाये। अतः प्रबंधकों से अनुरोधा है कि इस गलती को सुधारा जाये।☆★संजीव कुमार (बातें) 18:40, 8 अगस्त 2013 (UTC)

YesY पूर्ण हुआ। ध्यान देने के लिए धन्यवाद संजीव जी।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 10:37, 9 अगस्त 2013 (UTC)

प्रबन्धक पद के लिए हिन्दुस्तानी लैंग्वेज जी के नामांकन की वर्तमान स्थिति[संपादित करें]

प्रबन्धकगण कृपया स्पष्ट करें कि हिन्दुस्तानी लैंग्वेज जी को प्रबन्धक बनाने का प्रस्ताव (श्री हुन्नजजाल द्वारा प्रस्तावित) अवैध घोषित हो चुका है या अभी भी वैध है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 07:54, 9 अगस्त 2013 (UTC)

इस संबंध में मैं भी जानकारी चाहता हूँ। क्योंकि एक प्रबंधक ने यह नामांकन किया था और संबंधित सदस्य तीन बार इसमें अपने कथनों से बदल चुके हैं। कारण जो भी हो लेकिन स्थिति भयावह है। इसमें मैं तो अपनी टिप्पणियाँ भी नहीं कर पा रहा हूँ। आखिर चल क्या रहा है। जिस प्रबंधक ने यह नामांकन किया वो भी चुपचाप हैं। उन्हें भी तो अपने इस नामांकन के विषय में कुछ बोलना चाहिए।☆★संजीव कुमार (बातें) 07:57, 9 अगस्त 2013 (UTC)
यह जानने की उत्सुकता मुझे भी है, इस सम्बन्ध मैं प्रबन्धकगण कृपया स्पष्ट करें।

Mala chaubey (वार्ता) 08:51, 9 अगस्त 2013 (UTC)

प्रबंधकवृन्द कृपया स्थिति स्पष्ट करें ताकि सदस्य भ्रमित न हों--डा० जगदीश व्योमवार्ता 11:08, 9 अगस्त 2013 (UTC)
  • इसमें कोई दो राय नहीं कि हुन्नजज़ल जी ने गलत स्थान पर नामांकन किया था, यह मैं ऊपर भी स्पष्ट कर चुका हूँ। ऍचऍल जी ने तीन बार कथन बदले इसका उत्तर वे अपने वार्ता पृष्ठ पर शायद दे चुके हैं। जो भी हो, अब उन्होंने स्वयं वहाँ से अपना नामांकन वापस ले लिया है और सदस्य की सहमती के बिना किसी भी प्रकार से उसका नामांकन नहीं चल सकता। उनका नामांकन वापस लेना उनकी असहमति समझी जा सकती है। सही प्रक्रिया यह होती कि ऍचऍल जी हुन्नजज़ल जी से कह कर यह नामांकन खत्म करवाते परन्तु उन्होंने जो भी रास्ता अपनाया हमें उसका सम्मान करना चाहिए। वैसे उनके अनुसार अगर सही प्रक्रिया अपनाई जाए तो उन्हें अगले किसी नामांकन से कोई समस्या नहीं है। हम सभी का समय अमूल्य है, इसलिए मैं सभी सदस्यों से अनुरोध करूँगा कि अब इस प्रकरण पर ज्यादा समय लगाने कि जगह विकि विकास में सहयोग करें।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 11:27, 9 अगस्त 2013 (UTC)
बिल जी, मेरा खयाल है कि उन्होने उसे 'अवैध' घोषित किया है तथा उस पर आगे सम्पादन को रोक दिया है। अपने नामांकन पर वे अपनी असहमति दे सकते हैं किन्तु क्या उनके अकेले के कहने से नामांकन 'अवैध' हो घोषित जाएगा? बिल जी हम सबका समय अमूल्य है इसलिए इस सम्बन्ध में कोई भ्रम की स्थिति को तुरन्त समाप्त किया जाय। मेरे विचार से प्रबन्धकों का यह प्रमुख दायित्व है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 12:10, 9 अगस्त 2013 (UTC)
इसके साथ आपको याद दिलाना चाहूँगा कि मैने अपने नामांकन में लिखा था 'अनुनाद सिंह के नामांकन पर मतदान चल रहा है' और आपने अत्यन्त त्वरित गति से उसे हटा दिया था। मैं अभी उस पर चर्चा करने वाला हूँ। यह पक्षपात है और प्रबन्धक पद का दुरुपयोग है।-- अनुनाद सिंहवार्ता 12:23, 9 अगस्त 2013 (UTC)

हुन्नजज़ल जी (नामांकनकर्ता) / बिल जी (प्रबंधक) से हस्तक्षेप का निवेदन[संपादित करें]

चूँकि बिल जी ने ही पहले मतदान प्रणालि के गलत स्थान पर होने की बात कही, इसिलिये मैंने परिणामहीन चर्चा को विराम लगाने की दृष्टि से उसे बंद किया। बिल जी यदि उचित समझें तो चर्चा के मुख्य मुद्दों के साथ इसे सही स्थान पर प्रारंभ कर सकते हैं। ऐसा ही कुछ हुन्नजज़ल जी नामांकनकर्ता के रूप में कर सकते हैं। मुझे सही स्थान पर यदि बहस हो तो कोई आपत्ति नहीं है। Hindustanilanguage (वार्ता) 18:46, 11 अगस्त 2013 (UTC).

अभी के लिए इसपर विराम लगाते हैं। दुबारा नए सिरे से आपको नामांकित कर के नई प्रक्रिया करेंगे। कृप्या अपना योगदान जारी रखें। सम्भव है कि बिल जी या कोई अन्य सदस्य भी आपको नामांकित करें। नहीं तो मैं अवश्य करूँगा क्योंकि आप वास्तव में ही इन अधिकारों का प्रयोग विकि देखरेख में लगाएँगे। धन्यवाद। --Hunnjazal (वार्ता) 06:17, 13 अगस्त 2013 (UTC)
मैं भी हुन्नजज़ल जी के विचार से सहमत हूँ। मैं ऍचऍल जी से उनका अमूल्य योगदान जारी रखने का निवेदन करूँगा और जैसा मैने पहले भी कहा है कि वे इस कार्यभार के लिए योग्य हैं तो अवश्य ही मैं उनके नामांकन का हिस्सा बनूँगा।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 07:01, 13 अगस्त 2013 (UTC)

भ्रम अभी भी बना हुआ है[संपादित करें]

हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी, हुन्नजजाल जी और बिल जी की यह चर्चा मुझे उनकी आपसी चर्चा से अधिक कुछ नहीं लगती है। क्या अब भी यह स्पष्ट और आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है कि -

  • हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी का नामांकन रद्द किया गया है, या
  • हुन्नजजाल जी ने हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी का नामांकन वापस ले लिया है। , या
  • हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी के नामांकन पर मतदान अभी चल रहा है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 07:42, 13 अगस्त 2013 (UTC)
अनुनाद जी, आपके इस औत्तराधर्य का कारण? इस समय हिन्दी विकि पर कोई मतदान नहीं चल रहा है। मुझसे हस्तक्षेप का आग्रह किया गया और मैने इस समय के लिए स्पष्ट रूप से नामांकन वापस लिया। क्या आप उन्हें (हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी को) पुनः नामांकित करना चाह रहे हैं? यदि हाँ तो, जैसा कि मैने स्पष्ट किया, मेरी सहमति होगी हालांकि मेरे विचार से कुछ देर रुककर करें तो अच्छा हो। सदस्यों को इस विषय से कुछ देर का अवकाश मिलेगा। मेरा उनसे आग्रह है कि वे अपना उत्तम कार्य जारी रखें! धन्यवाद। --Hunnjazal (वार्ता) 08:15, 13 अगस्त 2013 (UTC)
इस भ्रम का कारण आपसे छिपा नहीं है। ऊपर देख सकते हैं कई लोगों ने इस सम्बन्ध में स्थिति स्पष्ट करने को कहा है। कल ऐसा हो सकता है कि कोई प्रबन्धक कहने लगे कि हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी को मतदान में १००% मत मिले हैं, उन्हें प्रबन्धक बनाया जा रहा है। या हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी प्रबन्धक पद के लिए निर्विरोध चुन लिए गए हैं। यदि आपने सचमुच अभी के लिए उनका नामांकन वापस लिया है तो उचित होगा कि नामांकन के स्थान पर इसका स्पष्ट उल्लेख करें। क्योंकि यहाँ आपकी लिखी 'घोषणा' का आज अर्थ नहीं निकल पा रहा है तो दो वर्ष बाद क्या निकलेगा? इसके अलावा किसी को याद नहीं रहेगा कि इस नामांकन का क्या परिणाम हुआ था। -- अनुनाद सिंहवार्ता 09:09, 13 अगस्त 2013 (UTC)
Hunnjazal जी आप हेत्वाभास पृष्ठ को पढ़ो और फिर सोचो कि आपके कथन में और अनुनाद जी के प्रश्न में कितना अन्तर है। मुझे यह समझ नहीं आया कि आप प्रबंधक होते हुए भी विकिपीडिया पर क्या चल रहा है उसका ज्ञान नहीं रहता। यह एक विचारणीय विषय है। यदि किसी घर के मालिक को ही घर में हो रही घटनाओं का ज्ञान न हो तो उस घर का क्या होगा। आपके विचार मुझे कुछ इसी तरह के लग रहे हैं। अब हमें इस पर विचार करना चाहिए कि हमारे हिन्दी विकी परिवार का क्या होगा? Hunnjazal आपके उत्तर समस्या को समझनें सहायक नहीं बल्कि उलझाने का कार्य कर रहे हैं। आप स्पष्ट शब्दों में क्यों नहीं लिखना चाहते यह तो मैं नहीं जानता लेकिन कृपया थोड़ा हिन्दी विकी के भविष्य को देखते हुए ही स्पष्ट शब्द लिख दो।☆★संजीव कुमार (बातें) 15:46, 13 अगस्त 2013 (UTC)
आपके इसी कथन में आपकी एक बहुत बड़ी कठिनाई प्रकट है: "यदि किसी घर के मालिक को ही घर में हो रही घटनाओं का ज्ञान न हो तो उस घर का क्या होगा?" आपको बिल जी ने भी यह समझाने का प्रयास किया है। प्रबन्धक मालिक नहीं है, प्रबन्धक सर्वज्ञ देवता नहीं है, प्रबन्धक सदैव सही नहीं है, प्रबन्धक कोई आदर का पद नहीं है, प्रबन्धक लम्बे योगदान का मिलने वाला ईनाम नहीं है, प्रबन्धक कोई वरिष्ठ वर्ग नहीं है। अगर मैं हर रूप से हावी होता तो फिर किसी और प्रबन्धक की ज़रूरत ही क्या है? केवल मैं ही पार्याप्त हूँ। आपका कथन बहुत ही विचित्र है और विकिव्यवस्था में उसकी कोई जगह नहीं। आप शायद कोई राजा ढूँढ रहें हैं, प्रबन्धक नहीं। प्रबन्धक मिस्त्री या नालियाँ साफ़ करने वाला व्यक्ति होता है। बस। मतदान समाप्त हो चुका है और कोई प्रश्न इस सन्दर्भ में खुला नहीं है। न अनुनाद जी का और न ऍच॰ ऍल॰ जी का। और आपकी दूसरी बात - "अब हमें इस पर विचार करना चाहिए कि हमारे हिन्दी विकी परिवार का क्या होगा" - तो सदैव ही सच है। हमे यह विचरण निरंतर करते रहना चाहिए। इसमें सौ बातों की एक बात कम-से-कम मेरे लिए यह है कि हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी हमेशा साफ़-सफ़ाई में लगे रहते हैं और अनुनाद जी अपने लेखों में त्रुटियाँ बिखेरते रहतें हैं। वास्तव में अनुनाद जी और मेरे विचार समीपी हैं और बिल जी और हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी के मुझसे शायद दूर होंगे। निजी जीवन में मैं देशभक्त हूँ, नागरी अंकों का प्रचारक हूँ, '॰' प्रयोग करता रहा हूँ, एक सैनिक परिवार से सम्बन्धित हूँ, हिन्दी की रक्षा और विकास का इच्छुक हूँ। बिल जी और हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी मेरे लेखों में ऐसे कई बदलाव कर चुकें हैं जो मुझे पसंद नहीं (जैसे अंग्रेज़ी सन्दर्भों से छोटे अक्षरों का टैग उड़ाना - मुझे लेख में नागरी से बड़े आकार की कोई भी लिपि देखना नापसंद है इसलिए नस्तालीक़ हो या रोमन हो या चीनी सभी को नीचा करना चाहता हूँ) लेकिन कम-से-कम उन्हें अनथक रूप से व्यवस्था में जुटे हुए तो देखता हूँ। उनके लिए यह कोई आदर-चिह्न नहीं है। केवल काम है। --Hunnjazal (वार्ता) 17:04, 13 अगस्त 2013 (UTC)
हुन्नजाल जी, आपका यह सन्देश आपके 'तर्कप्रणाली' का बस एक नमूना है। इसका सारांश बहुत सरल है- 'चर्चा के मुख्य बिन्दु को किनारे रखते हुए अप्रासंगिक, अनावश्यक और सारहीन कथनों से पेज भरना' । लेकिन सदस्यों की शंकाएँ अभी भी अनुत्तरित हैं।-- अनुनाद सिंहवार्ता 03:27, 14 अगस्त 2013 (UTC)
निरर्थक बात (अनुलाप)। ज़ाहिर है कि किसी का भी तर्क उसकी अपनी ही तर्कप्रणाली का नमूना होगा। प्रक्रिया समाप्त हो चुकी है। आपको मेरे कथन न पसंद हों तो न सही और आप यह कहने को स्वतंत्र हैं, लेकिन मेरी नियत पर आक्षेप न करें। यह अस्वीकार्य है। आपके चुनाव की जाँच मैने नहीं की थी इसलिए इस से मेरा कोई लेनादेना नहीं और आपका ऍच ऍल जी को लेकर क्या ध्येय है यह मुझे अभी भी अस्पष्ट है। क्या आप उन्हें प्रबन्धक बनाने के इच्छुक हैं? यदि हाँ, तो आप नामांकन स्वयं करें। या फिर कुछ समय बाद मेरे द्वारा नामांकन की प्रतीक्षा करें। इस समय चयन को लेकर प्रक्रिया जारी नहीं है। आपने तीन चीज़ों में से एक चुनने को कहा:
  • हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी का नामांकन रद्द किया गया है, या
  • हुन्नजजाल जी ने हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी का नामांकन वापस ले लिया है। , या
  • हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी के नामांकन पर मतदान अभी चल रहा है।
मैने स्पष्ट रूप से आपको बीच वाला चुनकर बता दिया। अब इसमें क्या भ्रम है आपको? अगर भ्रम है तो आप स्वयं ही अपनी मूल समस्या कहने से संकोच कर रहे होंगे। और अगर वे (या कोई और) किसी भी प्रक्रिया में सौ बार भी हाँ और ना का उत्तर बदलना चाहे तो इसमें मैं क्या करूँ? वे बखेड़े में नहीं पड़ना चाहते। मुझे उनकी बात भी समझ आती है, हालांकि मुझे इन स्थितियों में स्वयं कोई झिझक नहीं होती है। आपको उन्हें तुरंत फिर से खड़ा करना है तो आप उनसे स्वयं बात करें। मुझे बीच में न लाएँ। अगर कोई और बात है तो नीतिपूर्ण ढंग से स्पष्ट कहें। मुझे अपने विवेकानुसार विवाद जारी रखते हुए भी योगदान करने में रत्ती भर की भी कोई भावुकता नहीं होती। हर व्यक्ति का अलग रुझाव होता है। धन्यवाद! --Hunnjazal (वार्ता) 08:35, 14 अगस्त 2013 (UTC)
Hunnjazal जी, नमस्कार। मैं चूँकि कई विकियों पर सक्रिय रहा हूँ, इसलिए अपने अनुभव के अधार पर हिन्दी विकिपीडिया की सदस्य-भाषा को सबसे सभ्य मान रहा था। मेरा अनुभव प्रबंधक पद के लिए मतदान में ये रहा कि बहस का मुख्य मुद्दा उम्मीदवार की योग्यता होती है, पर यहाँ उससे हटकर कई ऐसे मुद्दे आ गए जिनका प्रबंधक पद से शायद ही लेना देना हो। यदि किसी को मेरे विकि-अस्तित्व पर प्रश्न था तो कृपया मेरी जाँच तुरंत कराते, मैंने कामन्स पर कई बार कई खातों पर कराया और मेरा अंदाज़ा कभी गलत नहीं हुआ। फिर प्रश्नोत्तर पर नियंत्रण किसी ने नहीं किया, हालांकि मैं समझ रहा था कि नव-निर्वाचित प्रबंधक ये रोल निभाएंगे। बिल जी ने मतदान पन्ने को गलत कहा था। ऐसे में मुझे लगा कि मामला कहीं का नहीं रहा। फिर भी, जैसा कि Hunnjazal जी ने अनुनाद जी से कहा कि यदि वे मेरा प्रस्ताव लाते हैं तो वह उसका समर्थन करेंगे, तो मैं आशा करता हूँ कि निकट भविष्य में ऐसा ही हो - क्योंकि ये हमारे विकि-इतिहास में मित्रता के एक नये अध्याय का शुभारंभ होगा। Hindustanilanguage (वार्ता) 10:09, 14 अगस्त 2013 (UTC).
हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी, नमस्ते। आप बहुत से विकियों पर जाते रहते हैं। कहीं ये देखा हो तो कृपया बताएँ-
* नामांकित सदस्य स्वयं घोषित करे कि नामांकन अवैध है और चर्चा को स्वयं बन्द कर दे।
* प्रबन्धक उस नामांकन की स्थिति के बारे में कुछ न लिखें (आम सदस्यों द्वारा ऐसा करने का निवेदन करने के बावजूद)-- अनुनाद सिंहवार्ता 12:40, 14 अगस्त 2013 (UTC)
अनुनाद जी,
  1. सामान्य रूप से "नामांकित सदस्य स्वयं घोषित करे" ऐसी स्थिति नही होती है, पर चूँकि हमारे एक माननीय प्रबंधक ने कहा था कि नामांकन में पन्ने के चुनने की समस्या है (नामांकन के विषय में नहीं), तो वैधता की टिप्पणी केवल पन्ने तक सीमित है।
  2. शायद आपके दूसरे प्रश्न का उत्तर माननीय Hunnjazal जी ने दे दिया है। Hindustanilanguage (वार्ता) 15:32, 14 अगस्त 2013 (UTC).
हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी, आपने स्वयं ऊपर लिखा है कि आप बहुत सी विकियों का भ्रमण किए हैं। कृपया बुरा न माने। यहाँ मुझे आपके विकिभ्रमणों की संख्या और आप द्वारा किए गए उक्त कार्य में बहुत बड़ी खाई नजर आ रही है। आप स्वयं मानते हैं कि सामान्य रूप से नामांकित सदस्य स्वयं घोषित करे ऐसी स्थिति नही होती है। यहाँ कौन सी असामान्य स्थिति मौजूद है? मेरा दूसरा प्रश्न भी आपके विकि भ्रमण से जुड़े विशाल अनुभव से ही सम्बन्धित था और आपसे ही इसके उत्तर की अपेक्षा करता हूँ।-- अनुनाद सिंहवार्ता 04:06, 15 अगस्त 2013 (UTC)
@एचएल जी, या तो मुझे और अनुनाद जी को बात समझने में परेशानी हो रही है अथवा Hunnjazal जी जबाब को उलझाकर बात को घुमाने में जुटे हुए हैं। मुझे तो स्वयं समझ नहीं आ रहा है कि अनुनाद जी का प्रश्न कुछ और है और Hunnjazal जी उसका उत्तर न देकर पहेलियाँ बुझा रहे हैं और बात को किस दिशा में ले जा रहे हैं समझ नहीं आ रहा। उन्हें ऐसा करने में क्या मजा आ रहा है यह भी समझ से बाहर है।
=>मेरे लिए तो यह भी आश्चर्य की बात है कि Hunnjazal जी मेरी बात को तोड़मोड़कर कहीं और ही ले जा रहे हैं, क्यों? उपर आप देख सकते हैं मैंने कहा कि प्रबंधक महोदय को विकी कि साफ सफाई का ध्यान रखना चाहिए और यदि कहीं कुछ गलत लिखा हुआ मिले तो अन्य सदस्यों से कहीं अधिक दायित्व प्रबंधक का बनता है कि वो उसमें सुधार करें। इस बात को उन्होंने सन्दर्भों सहित किसी और ही दिशा में ले गये। आप स्पष्ट रूप से देखकर मेरे वाक्यांस और Hunnjazal के उत्तर को पढ़ोगे तो शायद खुद ही समझ पाओगे।
=>इसके अलावा मुझे आपका कथन भी कुछ अटपटा लग रहा है। हमने हिन्दी विकी पर किसी देश के राष्ट्रपति को भी माननीय जैसे शब्दों से सम्बोधित नहीं किया लेकिन आप कुछ विशेष सदस्यों के साथ ऐसा क्यों कर रहे हो? क्या यह उन सदस्यों के सम्मान में है? क्या यह उन सदस्यों के पद के दुरुपयोग का एक मजाक है? सब कुछ समझ से बाहर होता जा रहा है!!! पता नहीं किस जगह उलझ गया हूँ। मैंने तीन पूर्वप्रबंधकों का नामांकन करके कोई अपराध किया था? यदि हाँ तो उसकी सजा मुझे दो, हिन्दी विकी को भ्रामक घर बनाकर क्यों रख दिया है?
@Hunnjazal जी, क्या आपके पास अनुनाद जी, जगदीश जी, माला जी आदि के प्रश्न का उत्तर नहीं है? यदि नहीं है तो ना कह दो अन्यथा कृपया एक नज़र शब्दशक्ति नामक पृष्ठ पर डालो और अपना उत्तर अभिधा शब्द शक्ति के अनुसार दो। इसका मिश्रण मत करो। मिश्रण से निकाय की एंट्रॉपी का मान केवल बढ़ता है। कृपया एंट्रॉपी को कम करने का प्रयास करें।
@अनुनाद जी, यदि Hunnjazal जी जबाब न देना चाहें तो आप और मुझ जैसे सदस्यों के साथ सूरज निकलने का इन्तज़ार करने के अलावा कोई चारा नहीं है। अभी तक हमारे पास ऐसा कोई औजार नहीं है जो असामाजिक तत्व रुपी बादलों को हटाकर धूप कर सके। यदि सूरज ही अपनी ताकत खो चुका है तो आम इंसान क्या करेगा।
@अन्य सभी सदस्य: कृपया मेरी पंक्तियों का अर्थ यह न समझें कि मैं भावुक हो गया हूँ। हाँ मैं निराश जरूर हो गया हूँ। कारण: जब किसी प्रबंधक से जानकारी मांगता हूँ तो जानकारी के स्थान पर वो अपनी देशभक्ति दिखाते हैं जिनके देश के बारे में मैं ना ही तो जानता हूँ और जानना चाहता भी नहीं। चूँकि प्रत्येक व्यक्ति अपने आप में एक दार्शनिक होता है और यदि वह अपने दर्शन के अनुसार स्वयं ही न चल सके तो क्या कोई अन्य व्यक्ति उस दर्शन को मानेगा। मैंने कुछ वर्षों पूर्व "भारतीय राजनीतिक विचारकों" के अलावा कुछ पाश्चात्य दार्शनिकों जैसे: अरस्तु, सुकरात, प्लेटो, मार्क्स, रूसो आदि को पढ़ा था तो उनके जीवन के विषय में भी पढ़ा। यह मेरा निष्कर्ष था।
⇒जो भी हो, मैं तो अब यह ही कहुँगा कि यदि आप आस्तिक हो तो अपने ईश्वर से प्रार्थना करो को हिन्दी विकी से ये काले बादल जल्द ही दूर हटें। यदि आप नास्तिक हो तो भी इन्तज़ार तो करना ही पड़ेगा। आगे आपकी मर्जी।☆★संजीव कुमार (बातें) 21:31, 14 अगस्त 2013 (UTC)
धूप, बादल, छाँव, अपराध? यह सब क्या है? अनुनाद जी के प्रश्न का दो टूक उत्तर दे तो दिया। अब और क्या बचा? और अनुनाद जी मेरे प्रश्न का जवाब क्यों नहीं दे रहे? --Hunnjazal (वार्ता) 01:52, 15 अगस्त 2013 (UTC)

पृष्ट का उपयुक्त नाम[संपादित करें]

विकिपीडिया के सभी सदस्यों को मेरा नमस्कार! मैं भारतीय रिजर्व बैंक के पहले भारतीय गवर्नर, सी॰ डी॰ देशमुख (अंग्रजी - C.D. DESHMUKH), जिनका पूरा नाम 'सर चिन्तामणि द्वारकानाथ देशमुख है, पर लेख बना रहा था , और आप सब से जानना चाहूँगा की इस पृष्ट का उचित नाम क्या होना चाहिए।

  1. सी॰ डी॰ देशमुख - जो की फिलहाल प्रयोग किया जा रहा है, और जिसमे लाघव चिन्ह (॰) लगा है ।
  2. सी. डी. देशमुख - जिसमें period (.) का इस्तेमाल किया गया है और जिसे पढने में ज्यादा आसानी हो रही है ।
  3. चिन्तामणि द्वारकानाथ देशमुख - उनका पूरा नाम जो की लम्बा होने के साथ साथ प्रचलन में नहीं है ।
  4. कुछ और

अगर हिंदी विकिपीडिया पर नामों को लेकर कोई नीति पहले से बनी है, जिसे मैंने अनदेखा किया हो, तो कृपया मुझे उसकी जानकारी दें। शुभम कनोडिया (वार्ता) 11:16, 9 अगस्त 2013 (UTC)

शुभम जी आपका विकल्प 2 एक अशुद्ध वर्तनी रखता है। हिन्दी में डॉट अथवा पिरियड (.) काम में नहीं लिया जाता लेकिन अंग्रेज़ी और मराठी से प्रभावित सदस्य अथवा वर्तमान में कुंजीपटल पर लाघव चिह्न के अभाव में डॉट का उपयोग करते हैं। प्रथम और तृतीय दोनों ही विकल्प सही हैं। इन सबके अलावा सुगमता के लिए आप केवल "सी डी देशमुख" नाम से भी पृष्ठ का निर्माण कर सकते हो। अन्य सभी को एक पृष्ठ पर अनुप्रेषित कर सकते हो।
इसके अलावा कुछ सदस्यों का मत है कि अशुद्ध वर्तनी वाले शब्दों को भी अनुप्रेषित किया जाये जिससे मैं सहमत नहीं हूँ। लेकिन यदि आप ऐसा करना चाहो तो। चिन्तामणि को चीन्तामणी, चिण्टामणि, चिंतामणि, चिंटामणि, ... आदि। जैसे २०-३० शब्द और भी बनाकर अनुप्रेषित कर सकते हो। (ध्यान रहे मैं इसका समर्थक नहीं हूँ।)
अतः केवल मेरा मत तो यह है कि "चिन्तामणि द्वारकानाथ देशमुख", "सी डी देशमुख" और "सीडी देशमुख" को उस पृष्ठ पर अनुप्रेषित कर दो जो आपने बनाया है।☆★संजीव कुमार (बातें) 10:26, 9 अगस्त 2013 (UTC)
संजीव जी, हमें नए सदस्यों को गलत राय नहीं देनी चाहिए। मुझे नहीं लगता लिखित हिन्दी में "चीन्तामणी, चिण्टामणि, चिंतामणि, चिंटामणि, ... आदि" प्रचिलित हैं (अगर गलत हूँ तो कृपया ठीक करें)। हमें उन "अशुद्ध वर्तनी वाले शब्दों" को अनुप्रेषित करना चाहिए जो लिखित हिन्दी में काफ़ी इस्तेमाल किए जाते हैं जैसे अमरीका, बोस्टन, केलिफोर्निया, आदि। इसी प्रकार अंग्रेज़ी विकि पर Ghandi महात्मा गाँधी पर अनुप्रेषित है तथा ऐसा (मतलब यह विशेष उदहारण नहीं अपितु सामान्यतः) हर विकि पर यह किया जाता है। शुभम जी, संजीव जी ने सही कहा कि पीरियड का इस्तेमाल हिन्दी में एक अशुद्धि है जो इन्टरनेट के प्रचलन के कारण आम बनती जा रही है, परन्तु चूँकि लिखित हिन्दी (और लिखित से मेरा तात्पर्य है गैर-इंटरनेट जगत) में लाघव चिह्न का उपयोग ही शुद्ध माना जाता है। आप 'सी डी देशमुख' भी नाम रख सकते हैं।
शुभम जी, आप विकिपीडिया:अच्छे लेख लिखने के सुझाव#लेखों के नाम पढ़ सकते हैं वहाँ आपको आपकी समस्या का हल मिल जाना चाहिए। अगर अभी भी कोई प्रश्न मन में है तो अवश्य पूछें।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 11:10, 9 अगस्त 2013 (UTC)
बिल जी, सर्वप्रथम तो मैंने राय गलत नहीं दी। मैंने साफ लिखा है कि मेरे अनुसार वैसा नहीं करना चाहिए। प्रचलित शब्दों के अनुप्रेषित करने के लिए मैंने कभी मना नहीं किया। लेकिन कुछ लोगों को मानना है कि अंग्रेज़ी विकी पर "Indea" और "Indya" नामक पृष्ठ "India" पर अनुप्रेषित है। इसके पिछे का सही कारण वो विकी दोस्त नहीं जानते लेकिन तर्क कर लेते हैं। उनसे मैंने उनका यह सवाल चौपाल पर रखने का आग्रह किया तो वो इस पर चुप हो गये। यदि वो यहाँ रखते तो मैं इसका कारण उन्हें बताता। अब इस तरह के विचार होंगे तो उसके अनुसार "चीन्तामणी, चिण्टामणि, चिंतामणि, चिंटामणि, ... आदि" भी अनुप्रेषित होने चाहिए। (यहाँ मैं साफ कह रहा हूँ कि यह न तो मेरा विचार है न बिल जी आपका और न ही आशीष जी, अनुनाद जी, सिद्धार्थ जी, माला जी आदि का।) अतः यदि इस तरह के विचार रखने वाले विकी दोस्त अपने विचार रखें तो मैं जबाब देना उचित समझुंगा।☆★संजीव कुमार (बातें) 11:33, 9 अगस्त 2013 (UTC)

संजीव जी, बिल जी और मेरे विचारों में अंतर है। वैसे मैने ऐसा तो नहीं कहा था कि ऐसा अनुप्रेषण बनाएँ जिनके होने की सम्भावना ही न हो। गूगल पर 'चिण्टामणि' का एक भी नतीजा नहीं निकलता। ना ही इसे टाइप करना आसान है। यदि आप इसे बनाएँ तो मुझे आपत्ति नहीं क्योंकि इस से किसी लेखक या पाठक को हानि तो कोई नहीं है, लेकिन यह ऊर्जा का सही प्रयोग है क्या? बहरहाल, यह मेरा व्यक्तिगत सुझाव है। जहाँ तक मुझे ज्ञात है कोई नीति 'चिण्टामणि' अनुप्रेषित करने से नहीं रोकती और न ही इसके किसी अन्य लेख से टकराने की कोई सम्भावना दिखती है। और इस शब्द को देखकर इसकी सही वर्तनी का भी अंदाज़ा लगाना कठिन नहीं। ऐसी स्थितियों में लेखक अपने विवेकानुसार कार्य करने को स्वतंत्र हैं। आपके मत ('मैं इस से असहमत हूँ लेकिन आपका अगर मन हो तो करें') की बड़दिली का मैं स्वागत करता हूँ। वैसे मेरा यह महज़ "मानना" नहीं है कि "अंग्रेज़ी विकी पर 'en:Indea' और 'en:Indya' नामक पृष्ठ 'en:India' पर अनुप्रेषित है"। हाथ कंगन को आरसी क्या? स्वयं ही जाकर देख लें। आपकी सहूलियत के लिए इन शब्दों में जोड़ अन्तर्भावित हैं। धन्यवाद! --Hunnjazal (वार्ता) 08:33, 13 अगस्त 2013 (UTC)

Hunnjazal जी, मैंने इस बात से इनकार नहीं किया कि 'en:Indea' और 'en:Indya' पृष्ठ "India" पर अनुप्रेषित हैं, बल्कि मैं तो यह कह रहा हूँ कि इसके अलावा भी कम से कम 15 और नाम हैं जो India पर अनुप्रेषित हैं। इस अनुप्रेषण का कारण टाइपो अथवा वह भावना नहीं है जो आप बता रहे हो। इसके पिछे भावना कुछ और है। यदि आप चाहें तो मैं उस कारण पर चर्चा कर रहा था जो उपरोक्त अनुप्रेषण का है। यदि आप चाहें तो मैं आपको वह भिन्नता बताना पसंद करुंगा जो आपके सोचने और 15 भिन्न नामों का "India" पर अनुप्रेषण में है।☆★संजीव कुमार (बातें) 08:50, 13 अगस्त 2013 (UTC)
धन्यवाद बिल जी एवं संजीव जी! मैं आप दोनों की विचारों से सहमत हूँ। मेरे ख्याल से भी "सी डी देशमुख" नाम सबसे अघिक उपयुक्त रहेगा। जहाँ तक अनुप्रेषण का सवाल है, मैंने पहले से ही कुछ आम संस्करणों को अनुप्रेषित कर दिया है। उद्धरण हेतु -
मुझे नहीं लगता की हमें गलत वर्तनी वाले नामों को अनुप्रेषित करना चाहिए। हाँ, अगर मीडिया में एक से ज्यादा वर्तनी प्रचलित है, या दिखने/सुनने में वे एक जैसे प्रतीत होती है, तो हमें अनुप्रेषण का फायदा ज़रुर उठाना चाहिए। उदाहरण के तौर पर अगर "बेनेगल रामा राव" (अंग्रेजी:Benegal Rama Rau) का नाम लेते हैं, तो "बेनेगल रामा राऊ" अथवा "बेनेगल राम राव" जैसे पृष्ठों का अनुप्रेशन करने से विकिपीडिया उपयोग करने वाले सदस्यों को आसानी होगी। शुभम कनोडिया (वार्ता) 12:16, 9 अगस्त 2013 (UTC)
शुभम कनोडिया जी, आपने बहुत सही उदाहरण दिया है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 12:29, 9 अगस्त 2013 (UTC)
शुभम कनोडिया जी, मेरी राय मैं आप लेख मैं केवल उनके प्रचलित नाम का उपयोग करें। शेष नाम, जिसे आपने ऊपर अंकित किया है उसे आप अनुप्रेषित कर सकते हैं। पाठकों के दृष्टिकोण से आपको अनुप्रेषण का फायदा ज़रुर उठाना चाहिए।

Mala chaubey (वार्ता) 16:47, 9 अगस्त 2013 (UTC)

माला जी की बात के साथ मैं यह भी कहना चाहूँगा कि हमॅ यह भी सोचना चाहिये कि हमारा जालस्थल एक ज्ञानकोष है और सामग्री (content - लेखों के नाम) उसी प्रकार से जोड़ना बहतर है जैसे लोग सम्भवतः खोजेंगे । Hindustanilanguage (वार्ता) 18:42, 9 अगस्त 2013 (UTC).
पर कई बार हम ऐसे हस्तियों के ऊपर पृष्ट भी बनाते हैं, जिनके अधिक लोकप्रिय न होने के कारण, हमें मीडिया या वेब में उनके नाम से सम्बंधित सन्दर्भ नहीं मिलते हैं। ऐसे विषयों में कुछ डिफ़ॉल्ट मानक होने चाहिए जिसका सदस्य प्रयोग कर सकें। हिंदी विकिपीडिया पर विकिपीडिया:पृष्ठनाम बना हुआ है, पर इसमें उचित सामग्री नहीं है। शुभम कानोडिया (वार्ता) 06:40, 10 अगस्त 2013 (UTC)
शुभाम कनोडिया जी,

यह आवश्यक नहीं है की विश्वसनीय स्रोत इन्टरनेट पर उपलब्ध हों। अखबार, पुस्तकें, शोध कार्य, पत्रिकाएँ भी विश्वसनीय स्रोतों में आती हैं। बिना विश्वसनीय स्रोतों के यह नहीं माना जा सकता कि व्यक्ति उल्लेखनीय है। विकिपीडिया एक प्रकार का विश्व सूचना केन्द्र है, जहां विश्वसनीयता के साथ-साथ उन हस्तियों की उल्लेखनीयता आवश्यक होती है जिनपर पृष्ठ बनाया जाये। Mala chaubey (वार्ता) 07:23, 10 अगस्त 2013 (UTC)

शुभम जी, माला जी ने ठीक कहा है। पृष्ठ विकिपीडिया:पृष्ठनाम का निर्माण आशीष जी ने किया था। बाद में शायद वो कहीं और व्यस्त हो गये और इस पृष्ठ को भूल गये। उन्हें इस पृष्ठ का ध्यान दिला देंगे तो शायद यह कार्य वो पूर्ण करेंगे।☆★संजीव कुमार (बातें) 12:19, 10 अगस्त 2013 (UTC)

[संपादित करें]

मेरे विचार से यदि (सी डी देशमुख) नाम प्रचलित है तो उसे ही पृष्ठनाम होना चाहिये और पूरा नाम कम प्रचलन के कारण ठीक जैसे लिखा गया है, लेख में एकदम प्रथम वाक्य में, वैसे ही होना चाहिये। हाँ एक बात अवश्य ध्यान दिलाना चाहूंगा, कि हिन्दी विकि में लेख नाम या व्यक्ति नामों में कहीं लाघव चिह्न का प्रयोग मैंने नहीं देखा है, अतः इसे मात्र सी डी देशमुख, अर्थात बिना किसी चिह्न के मात्र एक रिक्त स्थान यानि ब्लैंक के साथ ही रखें तो एकरूपता बनी रहेगी, और नाम ढूंढने में भी सरलता रहेगी। दूसरा विकल्प है सी.डी.देशमुख, यानि बिन्दु के संग।
विकिपीडिया:पृष्ठनाम मेरा ही बनाया गया पृष्ठ है, जिसे जल्दी के कारण ठीकअंग्रेज़ी में ही छोड़ दिया था। वादा तो नहीं किन्तु प्रयास करूंगा कि वह अनूदित कर दूं।--आशीष भटनागरवार्ता 12:20, 12 अगस्त 2013 (UTC)
आशीष जी मैं आपकी "सी डी देशमुख" की बात से सहमत हूँ, क्योंकि वह गलत भी नहीं है और खोजने में भी सरल है। लेकिन "सी. डी. देशमुख" अथवा "सी.डी.देशमुख" स्वीकार्य नहीं है। लाघव चिह्न की जानकारी का अभाव अथवा अंग्रेज़ी से प्रभावित अथवा लाघव चिह्न टंकण की असुविधा के कारण कुछ लोग लाघव चिह्न के स्थान पर डॉट (.) का उपयोग करते हैं। खोजने में डॉट लगाने अथवा न लगाने पर कोई खास अन्तर नहीं आता। अतः क्यों हम अनावश्यक रूप से डॉट बीच-बीच में लिखें। हिन्दी में यह डॉट केवल दशमलव अथवा गुणा के प्रतीक के रूप में काम लिया जा सकता है।☆★संजीव कुमार (बातें) 13:44, 12 अगस्त 2013 (UTC)


विकि पर रोलबैकर और फ़ाइलमूवर अधिकार[संपादित करें]

कुछ समय पहले किसी स्टीवर्ड की गलती के कारण ये दो अधिकार हिन्दी विकिपीडिया से निष्क्रिय कर दिए गए थे। यह अधिकार विश्वसनीय सम्पादकों को उनकी जरूरत अनुसार प्रबंधक द्वारा दिए जाते हैं।

  • रोलबैकर वे सदस्य होते हैं जो किसी एक सदस्य द्वारा किए गए कई अवतरणों को वापिस ले सकते हैं।
  • फ़ाइलमूवर सदस्य चित्र नेमस्पेस के पृष्ठों को मूव मतलब स्थान्तरित कर सकते हैं।

इनके बारे में आप और अधिक यहाँ और यहाँ पढ़ सकते हैं। मैने पाया है कि कुछ सक्रिय सदस्य इन अधिकारों का सही इस्तेमाल कर सकते हैं और उन्हें इनकी आवश्यकता भी है, इसलिए मैं इन्हें पुनः यहाँ सक्रिय करने का प्रस्ताव रखता हूँ। कृपया अपना समर्थन, विरोध या कोई चर्चा करने योग्य टिप्पणी उपयुक्त अनुभाग में दर्ज करें। धन्यवाद।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 14:33, 21 जून 2013 (UTC)

समर्थन[संपादित करें]

विरोध[संपादित करें]

  • घोर विरोध -- मैं इस प्रस्ताव का विरोध करता हूँ क्योंकि 'रोलबैकर' तथा 'फाइलमूवर' के बारे में हिन्दी विकि पर कोई नीति या पृष्ठ ही नहीं है (मुझे नहीं मिला)। अतः यह प्रस्ताव गाड़ी को घोड़े के आगे जोड़ने जैसा है। ऊपर भी कुछेक सदस्यों ने इसके दुरुपयोग की आशंका जताई है। किन्तु जब इस बारे में अभी तक कोई नीति ही नहीं है तो दुरुपयोग के अलावा कोई दूसरा विकल्प बचता ही नहीं।-- अनुनाद सिंहवार्ता 03:21, 4 जुलाई 2013 (UTC)

चर्चा[संपादित करें]

कैसे पता चला कि यह अधिकार गलती से निष्क्रिय कर दिया गया है? यह भी तो हो सकता है कि किसी स्टीवर्ड द्वारा यह कार्य सुविचारित रूप से किया गया हो? क्या यह पता है कि यह अधिकार किस स्टिवर्ड के द्वारा निष्क्रिय किया गया है? क्या उनसे इसके बारे में कुछ संवाद हुआ है? -- अनुनाद सिंहवार्ता 09:56, 27 जून 2013 (UTC)

अनुनाद जी गलती अथवा सुविचारित है इसके बारे में तो मैं नहीं जानता। हाँ कुछ दिन पूर्व एच॰ एल॰ जी द्वारा इन अधिकारों की माँग करने पर बिल जी के वार्ता पृष्ठ पर यह चर्चा हुई थी। जिसमें भी उन्होंने उपरोक्त वाक्य ही लिखा था। उसमें उन्होंने एक वाक्य में यह लिंक भी दीया था।☆★संजीव कुमार (संवाद) 10:20, 27 जून 2013 (UTC)
अनुनाद जी, बगज़िला की इस रिपॉर्ट में हिन्दी विकि से कई सदस्य अधिकार हटाए गए थे। इस कार्य में ही गलती से ('गलती' इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि स्टीवर्ड स्थानीय सदस्यों से बिना चर्चा किए उनके विकि के अधिकार ऐसे नहीं हटा सकते) फ़ाइलमूवर और रोलबैकर अधिकार भी हटा दिए गए थे। जब ऍचऍल जी ने एक अन्य स्टीवर्ड से इस संदर्भ में राय माँगी तब उन्होंने यही कहा कई एक बार फ़िर से अपने विकि के सदस्यों की राय इस विषय में जानलो।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 06:46, 29 जून 2013 (UTC)
सम्बन्धित लिंकों को देखने के बाद मुझे लग रहा है कि उपरोक्त कार्य गलती से नहीं बल्कि सुविचारित रूप से किया गया है। उन्होने हमे मौका दिया है कि हम हिन्दी विकि की नीतियों में भी आवश्यक परिवर्तन कर लें। इस चर्चा से सम्बन्धित दोनों अधिकार महत्वपूर्ण और उपयोगी हैं। किन्तु हिन्दी विकि पर इन अधिकारों की बहाली के पहले मैं चाहूँगा कि हिन्दी विकि पर किसको अधिकार दिए जा सकते हैं, उन पात्रों की योग्यता को अधिक वस्तुनिष्ठ ( ऑब्जेक्टिव) बनाया जाय। यह इसलिए जरूरी है क्योंकि हिन्दी विकि पर पिछले दिनों अधिकारों के आदान-प्रदान में घोर मनमानी देखने को मिली है। तीन माह पूर्व एक 'नवजात' खाताधारी को आनन-फानन में स्वपरीक्षित सदस्य बना दिया गया था जबकि उन्होने एक भी नया लेख नहीं बनाया था और बाद में पता चला कि वे कठपुतली हैं। हिन्दी विकि पर अधिकारों के आबंटन सम्बन्धी नीतियों में वस्तुनिष्टता लाए बिना उपरोक्त अधिकारों की बहाली का मैं समर्थन नहीं कर सकता।-- अनुनाद सिंहवार्ता 13:26, 2 जुलाई 2013 (UTC)
सुविचारित रूप से इसलिए नहीं किया गया था क्योंकि स्टीवर्ड अगर ऐसा सुविचारित रूप से करते तो पहले वह समुदाय को बताते तथा उसके बाद यह कही रजिस्टर किया जाता कि आखिर क्यों बिना किसी चर्चा के ये दो अधिकार विकि से हटाए गए। साथ ही स्टीवर्ड स्नोवुल्फ़ की टिप्पणी से भी यह साफ़ होता है कि ऐसा गलती से ही हुआ था और चूँकि नए अधिकारों के लिए बगज़िला पर अनुरोध करने के लिए समुदाय व्यापी चर्चा की कड़ी दिखानी पड़ती है इसलिए बाईलिंगहुरस्ट ने ऐसा सुझाव दिया। रही बात स्वतः परीक्षित अधिकार कि तो उसके संदर्भ में मैं आपको बता दूँ कि यह अधिकार जिस सदस्य को दिया जाता है उसके यह किसी काम का नहीं होता। इससे उसे कोई विशेष प्रभावी अधिकार नहीं मिलता। यह बस नए पृष्ठों की गस्त करने वाले सदस्यों को सहायक होता है, मतलब जिसको यह अधिकार मिला उसके किसी काम का नहीं अपितु दूसरे वे सदस्य जो विशेष:नए पृष्ठ पर नज़र रखते हैं उनके लिए सहयोगी होता है, और हिन्दी विकि पर वैसे यह कार्य शायद ही कोई करता है। इसलिए यह अधिकार आसानी से किसी भी सदस्य, जो यह दिखा दे कि उसके द्वारा किए गए बदलाव बर्बता की श्रेणी में नहीं आते तथा उसे विकि पर संपादन करने का विवेक है उसे दे दिया जाता है। इसमें कोई इतनी बड़ी बात नहीं है। हाँ रोलबैक और फ़ाइलमूव क्योंकि प्रभावी अधिकार हैं इसलिए ये केवल विशेष अनुरोध के पश्चात दिए जाते हैं जिसके लिए सदस्य अमूमन विकिपीडिया:विशेषाधिकार निवेदन पर अनुरोध करते हैं। जहाँ अन्य सदस्य अपना मत रख सकते हैं कि क्या किसी विशेष सदस्य को यह अधिकार (रोलबैक या फ़ाइलमूवर) मिलना चाहिए या नहीं। फ़िर इसमें आपको क्या समस्या दिखती है अनुनाद जी?<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 13:53, 2 जुलाई 2013 (UTC)
अनुनाद जी की इस बात से मैं सहमत हूँ कि " हिन्दी विकि पर किसको अधिकार दिए जा सकते हैं, उन पात्रों की योग्यता को अधिक वस्तुनिष्ठ ( ऑब्जेक्टिव) बनाया जाय।" लेकिन मेरा मत है इसके लिए एक अलग अनुभाग में चर्चा की जाये तो ठीक रहेगा। रही बात पूर्व में घटित घटनाओं की, तो इस प्रसंग में मैं यह कहना चाहुँगा कि जो भी हुआ वो सब ठीक नहीं था और बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण था। बिल जी आपके अन्तिम वाक्य (फ़िर इसमें आपको क्या समस्या दिखती है अनुनाद जी?) का स्वरूप मुझे उकसाउ (जो किसी को गलतियाँ करने के लिए मजबूर करे) लगता है; अतः कृपया वाक्यों के साथ थोड़ा ढ़ंग से खेलें।☆★संजीव कुमार (संवाद) 15:10, 2 जुलाई 2013 (UTC)
क्षमा करें संजीव जी, लिखते-लिखते पता नहीं क्या लिख गया। मेरा किसी को उकसाने का मन नहीं था। मैं भी भूतकाल को भुला कर एक नई शुरुआत करने में विश्वास रखता हूँ और आशा करता हूँ कि अनुनाद जी और मेरे बीच जो मतभेद रहे या हैं वे जल्द ही खत्म हो जाएँगे तथा मित्रता का हाथ बढ़ाते हुए उनसे अपनी सभी गलतीयों के लिए क्षमा माँगता हूँ। इसके साथ ही मैं अपना अंतिम वाक्य वापस लेता हूँ।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 15:30, 2 जुलाई 2013 (UTC)
संजीव कुमार जी की सलाह के अनुसार इस विषय में मैं अलग अनुभाग में चर्चा आरम्भ कर रहा हूँ।-- अनुनाद सिंहवार्ता 03:21, 4 जुलाई 2013 (UTC)

┌────────────────┘
अनुनाद जी, मुझे लगता है आपने उस चर्चा पृष्ठ को गलती से पुनः हटाने के लिए नामांकित कर दिया है।☆★संजीव कुमार (संवाद) 04:06, 4 जुलाई 2013 (UTC)
क्षमा चाहता हूँ। यह अनुभाग इसी पृष्ठ में नीचे है।☆★संजीव कुमार (संवाद) 04:08, 4 जुलाई 2013 (UTC)

अनुभाग विराम[संपादित करें]

अनुनाद जी, आपने कहा कि "हिन्दी विकि पर कोई नीति या पृष्ठ" नहीं है परन्तु यहाँ पहले से ही विकिपीडिया:रोलबैकर्स अधिकार हेतु निवेदन और विकिपीडिया:चित्र प्रेरक पद हेतु निवेदन मौजूद हैं। अब ऐसी परिस्थिति में सदस्यगण सुझाव दें कि क्या किया जाना चाहिए?<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 14:33, 7 जुलाई 2013 (UTC)

उनका विस्तार किया जाना चाहिए। उनमें थोड़ा सा विवरण है लेकिन वह पर्याप्त नहीं है। एच॰एल॰ के प्रयोगपृष्ठ पर कुछ सामग्री है जो सार्थक सिद्ध हो सकती है।☆★संजीव कुमार (संवाद) 13:58, 10 जुलाई 2013 (UTC)
इस अनुभाग की चर्चा को एक माह से अधिक हो गया है। एच॰ एल॰ ने कुछ सामग्री भी तैयार की है। अतः उस पर दो तीन दिन में चर्चा करके सम्बंधित पृष्ठ का विस्तार किया जाये। इस तरह के अधिकार एच॰एल॰ जी जैसे सदस्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। वो इन अधिकारों के बिना अपना कार्य बहुत धीमी गति से कर पाते हैं। अतः कृपया इस चर्चा को अधुरा न छोड़ें।☆★संजीव कुमार (बातें)


हिन्दी विकि पर रोलबैकर और फ़ाइलमूवर सम्बन्धी नीतिनिर्माण[संपादित करें]

यह चर्चा 'विकि पर रोलबैकर और फ़ाइलमूवर अधिकार' नामक उपरोक्त प्रस्ताव को अधिक फोकस रूप में जारी रखने के लिए अलग अनुभाग में शुरू की जा रही है।


इस सम्बन्ध में मैने कुछ बातें उपरोक्त अनुभाग में कहीं हैं। हिन्दी विकि पर अभी तक रोलबैकर और फाइलमूवर के बारे में कोई पृष्ठ या नीति नहीं है। ऐसी स्थिति में रोलबैकर और फाइलमूवर अधिकार बहाल करने की मांग करना अर्थहीन है। यदि सदस्य मानते हैं कि अन्य विकि पर दिए गये रोलबैकर और फाइलमूवर अधिकार हिन्दी विकि पर भी महत्वपूर्ण और उपयोगी हैं तो वे अपने विचार रखें कि इन अधिकारों के लिए पात्रता क्या हो, इनको प्राप्त करने/प्रदान करने की प्रक्रिया क्या हो, इनके अधिकार क्या हों, क्या प्रावधान किया जाय ताकि हिन्दी विकि पर इनका दुरुपयोग कम से कम हो। -- अनुनाद सिंहवार्ता 03:47, 4 जुलाई 2013 (UTC)

टिप्पणी[संपादित करें]

अनुनाद जी मेरा आपसे अनुरोध है कि आप इससे सम्बंधित नितियाँ सुझावित करें जिससे उन पर चर्चा करना आसान रहे। अन्य सदस्य भी अपने मतानुसार नितियाँ सुझावित कर सकते हैं।☆★संजीव कुमार (संवाद) 04:10, 4 जुलाई 2013 (UTC)

  • दूसरी भाषा की विकियों पर जब ये अधिकार हैं तो केवल हिन्दी भाषी समुदाय इससे क्यों वन्चित रहना चाहिये?
  • क्या राष्ट्र भाषा बोलने वाले इतने निकम्मे हैं कि वो लोग विप्रीत मानसिकता प्रदर्शित करेंगे?
  • यदी आप के विरोध का मुख्य कारण किसी पृष्ठ का न होना होना है तो आप स्वयम इस दिशा में पहल क्यों नहीं करते क्योंकि आप एक अच्छे योगदानकर्ता हैं ? या आप अंग्रेज़ी के पृष्ठ का चौपाल अनुवाद के लिये अनुरोध क्यों नहीं करते? Hindustanilanguage (वार्ता) 06:24, 4 जुलाई 2013 (UTC)
एच॰एल॰ जी, पहली बात तो यह है कि मैं आपकी टिप्पणियों को अच्छे से समझ नहीं पाया हूँ जिसका एक कारण यह भी है कि आपने मेरी टिप्पणी पर प्रतिक्रिया दी है अथवा अनुनाद जी के चर्चा विषय पर।
अब मैं जैसा समझ पाया हूँ उसके अनुसार आपको कुछ बताना चाहता हूँ। मैनें इन अधिकारों का विरोध नहीं किया है अतः मेरी समझ के अनुसार आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए नहीं हैं। बात रही अनुनाद जी के विषय में, तो उन्होंने इसका विरोध इस कारण से कीया है कि इन अधिकारों का उपयोग करने के लिए कुछ नीति निर्धारक नियम होने चाहिए। उनके अनुसार एक प्रबंधक इन अधिकारों का कैसे और कहां उपयोग करे। यदि किसी सदस्य को ये अधिकार दिये जाते हैं तो उसके क्या मानदण्ड होने चाहिए। यदि कोई सदस्य इन अधिकारों का दुरुपयोग करता है तो उस पर क्या कार्यवाही होनी चाहिए। अनुनाद जी ऐसा इसलिए चाहते हैं क्योंकि उनके अनुसार कुछ अधिकारों का पूर्व में भी दुरुपयोग हुआ है चूँकि मैं हिन्दी विकी पर पिछले तीन-चार माह से सक्रिय हूँ और उससे पूर्व क्या हुआ उसकी अधिक जानकारी मुझे नहीं है। आप चाहो तो अनुनाद जी से इस बारे में चर्चा कर सकते हो। चूँकि आप ऐसा सोचते हैं कि कोई देशवासी अपनी भाषा के साथ ऐसा क्यों करेगा, आपका ऐसा सोचने का कारण यह है कि आप स्वयं गलत नहीं करना चाहते लेकिन सब लोग इस मानसिकता के धनी नहीं होते। पिछले दिनों शॉन नामक एक कठपुतली खाते ने कई लोगों को हिन्दी विकी पर तंग किया था। उनका एक उदाहरण मेरे पास यह है कि वो अनुनाद जी को हिन्दी में रेजोनेन्स लॉयन लिखते थे। भले ही अनुनाद जी ने इस बात का बुरा नहीं माना हो लेकिन मुझे यह पढ़कर बहुत घुस्सा आया था कि एक सदस्य हिन्दी नाम का शब्दानुसार अंग्रेजी अनुवाद करके उसका लिप्यंतरण करके हिन्दी विकी पर लिखता है।
अतः अनुनाद जी चाहते हैं कि ऐसे और शॉन हिन्दी विकी को बिगाड़ने लगें उससे पूर्व इन अधिकारों से सम्बंधित कुछ नीति-नियम निर्धारित हो जायें तो अच्छा होगा। चूँकि शॉन नामक सदस्य को बादमें कठपूतली खाता होने के कारण प्रतिबंधित कर दिया गया जिसने बादमें आईपी से सम्पादन करते हुए कुछ और लोगों को भी कई दिनों तक परेशान किया लेकिन जानकारी के पर्याप्त सबूत न होने के कारण मैं इस बारे में किसी से चर्चा नहीं करना चाहता।
मुझे आशा है कि एच॰एल॰ जी मेरी बात को समझ पाये होंगे। अब भी यदि आपको इसमें कोई ऐतराज है तो अपनी टिप्पणी लिख सकते हैं।☆★संजीव कुमार (संवाद) 06:55, 4 जुलाई 2013 (UTC)
एच॰एल॰ जी के लिए कुछ और बातें
  • दूसरी विकियों पर जो अधिकार है उससे हिन्दी विकी को वंचित बिल्कुल नहीं रखना चाहिए लेकिन दूसरी विकियों की तरह हिन्दी विकी पर भी इसके कुछ नियम और नीतियां निर्धारित होने चाहिए।
  • वर्तमान में हिन्दी किसी भी देश की राष्ट्र भाषा नहीं है। अतः आपकी दूसरी टिप्पणी का प्रथम कथन अर्थहीन है लेकिन आप यदि हिन्दी मातृभाषियों अथवा हिन्दी भाषी क्षेत्र के लोगों के बारे में चर्चा कर रहें हैं तो आपको संज्ञान लेना चाहिए की ऐसा नहीं है कि हिन्दी विकी पर सम्पादन करने वाले सभी लोग इस श्रेणी में आते हैं। मेरी स्वयं की मातृ भाषा हिन्दी नहीं है। ऐसे और उदाहरणों में मैं आपको कई नाम बता सकता हूँ जिन्होंने हिन्दी विकी पर अमूल्य योगदान दिये हैं लेकिन उनकी हिन्दी मातृ भाषा नहीं थी। दूसरी बात हिन्दी विकी को हम इतना संकीर्ण क्यों बनाना चाहते हैं कि यह केवल एक राष्ट्र तक सीमित रहे। यह वैश्विक स्तर पर पहचानी हुई विकी होनी चाहिए। अतः कृपया इसे किसी राष्ट्र विशेष से इसे न जोड़ें।
  • तृतीय टिप्पणी में आपने अनुनाद जी के विरोध के कारण का उत्तर दिया है। जहाँ तक मेरा मानना है किसी पृष्ठ का हिन्दी अनुवाद (अंग्रेजी से हिन्दी और हिन्दी से अंग्रेजी) करने के लिए अनुनाद जी का ज्ञान अपने-आप में कम नहीं है अतः उन्हें इसके अनुरोध की आवश्यकता ही महसूस नहीं होगी लेकिन केवल अनुवाद से नियम लागू नहीं होता। उसके लिए भी चर्चा करनी पड़ती है।
वैसे मैं आपके विकी सम्पादनों को देखता हूँ तो मुझे लगता है आप कई भाषाओं में अच्छा ज्ञान रखते हो। आपको अन्य विकियों पर भी कई अधिकार मिले हुए हैं जैसे कॉमंस विकी पर (autopatrolled, filemover, rollbacker), जर्मन विकी पर (autoreview), मेटाविकी पर (autopatrolled), पोलिश भाषा पर (autoreview), रूसी भाषा पर (uploader) आदि। तो मुझे लगता है आपको इसका अनुवाद करके इस विषय पर भी चर्चा आरम्भ कर देनी चाहिए।☆★संजीव कुमार (संवाद) 07:43, 4 जुलाई 2013 (UTC)
हिन्दुस्तानीलैंग्वेज जी, वैसे तो इस चर्चा का आशय संजीव कुमार जी ने अच्छी तरह स्पष्ट कर दिया है, किन्तु मैं इसे एक अन्य उदाहरण द्वारा समझाना चाहता हूँ। अभी तीन माह पूर्व की घटना है। आपको अच्छी तरह पता होगा कि जाँच के बाद शॉन नामक खाता लवीसिंहल द्वारा चालित कठपुतली खाता निकला था। उस पर कठोर कार्यवाही की जानी चाहिए थी। किन्तु यह कहकर कि इस विषय में हिन्दी विकिपीडिया पर नीति अस्तित्व में नहीं है, तुरन्त कार्यवाही नहीं की गई। जबकि हिन्दी विकि पर 'कठपुतली नीति' का पृष्ठ मौजूद था तथा उस नीति को सर्वसम्मति से स्वीकार किया गया था। मैं इसको प्रबधक पद का सबसे बड़ा दुरुपयोग मानता हूँ। अब मेरी बात समझने की कोशिश कीजिए - जब अच्छे खासे विचारविमर्श के बाद लिखित तथा सर्वसम्मति से पारित नीति के होते हुए कहा जा सकता है कि 'नीति है ही नहीं' तो जो पन्ना अस्तित्व में ही नहीं है , उसका कैसा उपयोग होगा? आप शायद यह सोच रहे हैं कि दूसरी विकियों पर तो यह है, तो यह धारणा त्याग दीजिए। सभी विकियों की नीतियाँ स्वततंत्र हो सकती हैं। यह काम शुद्ध अनुवाद से भी नहीं होगा। हम दूसरी विकियों से कुछ नकल कर सकते हैं किन्तु हमे अपनी आवश्यकताओं के अनुरूप नीतियाँ बनानी चाहिए। और अन्तिम बात यह कि मेरे या किसी एक व्यक्ति के लिख देने से यह नीति न बने बल्कि अधिकाधिक सदस्यों का इसमें योगदान हो तो शुभ होगा। -- अनुनाद सिंहवार्ता 07:57, 4 जुलाई 2013 (UTC)

अनुनाद जी और संजीव कुमार जी, जब मैने "आप स्वयम इस दिशा में पहल क्यों नहीं करते क्योंकि आप एक अच्छे योगदानकर्ता हैं" कहा तो स्पष्ट है कि मैने अनुनाद जी की योगदान-भावना और शक्ति को माना । पर मुझे लगा कि शायद हिन्दी विकि पर इन अधिकारों का विरोध एक प्रकार से समुदाय पर हमला लगा था । यदि किसी मित्र को किसी अधिकार के दुरुपयोग की आशंका है तो मेरे विचार से इस प्रस्ताव में दण्ड का प्रवधान भी रखा जा सकता है। Hindustanilanguage (वार्ता) 18:28, 4 जुलाई 2013 (UTC).

एच॰एल॰ जी इस सप्ताह मैं इन नियमों पर कार्य नहीं कर सकता क्योंकि मैं मेरी मुख्य धारा (मुख्य धारा से मेरा अर्थ मेरे शोध कार्य से है) में व्यस्त हूँ। अनुनाद जी की व्यस्तता के बारे में मुझे ज्ञान नहीं है। लेकिन यदि इस सप्ताह के अन्त तक नियम अनुवादित नहीं हुए तो मैं अनुवाद करने की (अथवा अन्य विकियों से प्रेरित नीति-नियम लिखने की) कोशिश करूँगा। लेकिन अनुनाद जी के सार्थक आग्रह के अनुसार इन पृष्ठों का निर्माण और इन्हें लागू करने का कार्य अधिकारों की प्राप्ति से पहले बनना आवश्यक है। अतः यह अच्छा होता यदि आप इसका जल्दी से अनुवाद कर देते। चूँकि मैं विकी भाषाओं में से हिन्दी और अंग्रेजी भाषा का ज्ञान रखता हूँ , थोड़ा ज्ञान संस्कृत का तथा अतिअल्प (नगण्य) ज्ञान फ्रांसीसी का भी रखता हूँ लेकिन आपके भाषाई ज्ञान को देखते हुए मैंने समझा की आप कई भाषाओं पर अपने ज्ञान का उपयोग करते हुए उत्तम नियम बना सकते हो।☆★संजीव कुमार (संवाद) 19:26, 4 जुलाई 2013 (UTC)

यदि आप लोग कोई एक या दो पृष्ठों की कड़ियों को बताएँ, तो मैं अनुवाद का प्रयास कर सकता हूँ। आशा है कि इस प्रयास से हमको हमारे माननीय मित्र अनुनाद जी का भी समर्थन प्राप्त हो सकेगा जो स्वयम एक अच्छे योगदानकर्ता और इस विकि के शुभचिन्तक हैं। Hindustanilanguage (वार्ता) 12:04, 5 जुलाई 2013 (UTC).

एच॰एल॰ जी, सबसे पहले हमें विकिपीडिया:प्रत्यापन्नता (Rollback) और विकिपीडिया:संचिका प्रस्तावक (File mover) पृष्ठों का अनुवाद करना है। यहाँ मैंने अंग्रेजी शब्दों के तुल्य हिन्दी शब्द भी सुझाये हैं यदि किसी सदस्य को इन नामों पर कोई ऐतराज हो तो इन पर भी चर्चा की जा सकती है।☆★संजीव कुमार (संवाद) 12:54, 5 जुलाई 2013 (UTC)

प्रस्तावकों से टिप्पणी की अपेक्षा[संपादित करें]

यह चर्चा स्थान पर पहुंच चुकी है जहाँ प्रस्तावकों और प्रबन्धकों की टिप्पणी अत्यन्त वांछित है। हिन्दी विकि की नीतियों के बारे में बहुत से सदस्यों सहित मेरे मन में भी भ्रम बना हुआ है, जिसको मैं अलग से उठाने वाला हूँ।-- अनुनाद सिंहवार्ता 05:33, 12 जुलाई 2013 (UTC)

विकिपीडिया:पृष्ठनाम[संपादित करें]

उपरोक्तानुसार मैंने इस पृष्ठ में आरंभिक २-३ उपशिर्षक अनूदित किये हैं। उन्हें देख कर सदस्यगण राय दें, कि क्या ये Terms सही हैं। --आशीष भटनागरवार्ता 13:15, 12 अगस्त 2013 (UTC)

मेरी राय में "सी डी देशमुख" से ज्यादा प्रचलित "सी. डी. देशमुख" है, क्योंकि प्राय: खोज के दौरान "सी. डी. देशमुख" नाम ही प्राप्त होता है। इसलिए इस लेख को "सी. डी. देशमुख" ही रखा जाए। वैसे अन्य सदस्य की भी राय जान लेना उचित होगा।

Mala chaubey (वार्ता) 04:58, 13 अगस्त 2013 (UTC)

माला जी, मुझे यह समझ नहीं आया कि आप जैसे अच्छे हिन्दी के अच्छे जानकारों को भी लाघव चिह्न से नफ़रत क्यों है। एक कारण यह हो सकता है कि कंप्यूटर में लाघव चिह्न का मिलना मुश्किल है लेकिन इस कारण से हम वास्तविक हिन्दी को तो नहीं त्याग सकते? दूसरी बात प्रचलन की करते हैं तो प्रचलन सामान्यतः कंप्यूटर पर डॉट का प्रचलन लाघव चिह्न से अधिक है लेकिन बिना चिह्न वाले शब्दों से अधिक नहीं। आजकल तो अंग्रेज़ी में भी छोटा करते समय डॉट को हटाने का प्रचलन निकल पड़ा है। प्रचलन का एक उदाहरण मैंने उपर भी दिया है: परमाणु ऊर्जा विभाग को "पऊवि" लिखा जाता है न कि "प. ऊ. वि." अथवा "प.ऊ.वि."। अब यदि सभी लोगों को लाघव चिह्न से नफरत भी है तो कृपया लाघव चिह्न के स्थान पर डॉट अथवा पीरियड लगाकर (.) लगाकर तो मत बिगाड़ो।☆★संजीव कुमार (बातें) 08:42, 13 अगस्त 2013 (UTC)
इसमें नफ़रत वाली कोई बात नहीम है, क्योंकि ये प्रचलन में है तथा प्रचलन के कारण अधिकांश जगह इसका प्रयोग (विकि पर) हुआ है, और इसी कारण हम आरंभ से ही इसे देखते हुए इसके आदी हो गये हैं, तो इसी का प्रयोग स्वतः ही प्रस्तावित होता है। बिना लाघव वाली जो बात आपसे उदा०सहित आपने कही, तो वो तो मेरे अपने कार्यालय भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के लिये भी भाविप्रा ही प्रयोग किया जात है, किन्तु मेरे विचार से इसका प्रयोग पूर्ण संक्षिप्ताक्षर में किया जाता है, न कि नाम वाले आधे संक्षिप्ताक्षर और आधा पूर्ण नाम जैसे सी डी देशमुख में सी एवं डी सं० हैं और देशमुख पूरा है। ये मेरे अवलोकन का निष्कर्ष है, शेष जैस सर्वमत बने। --आशीष भटनागरवार्ता 03:30, 14 अगस्त 2013 (UTC)
आशीष जी, मैं आपकी बात को नकार नहीं सकता। लेकिन आप भी जानते हो डॉट (.) लिखना गलत है। अतः हम एक ही गलती की केवल इसलिए पुनरावर्ती करें क्योंकि हम उस गलती के आदि हो चुके हैं वह तो ठीक बात नहीं है। चूँकि बिना डॉट के मुझे कोई ऐतराज नहीं है और शायद आपको भी नहीं है अतः मेरा विचार है कि बिना डॉट के ही ऐसे पृष्ठों का निर्माण किया जाये और यदि किसी को ठीक लगे तो लाघव चिह्न का भी उपयोग करे।☆★संजीव कुमार (बातें) 21:00, 14 अगस्त 2013 (UTC)

इस पृष्ठ का अनुवाद पूरा हो चुका है। गलतियाँ संभव हैं, क्योंकि अभी दोबारा पढ़ा नहीं है। सुधारकों का स्वागत है।--आशीष भटनागरवार्ता 04:11, 14 अगस्त 2013 (UTC)

टिप्पणी
पृष्ठ का निर्माण आपने अच्छे से किया है। यहाँ मैं चाहूँगा कि कृपया यूआरएल जैसे शब्द पहले से ही बिना डॉट के प्रचलित हैं अतः डॉट का प्रयोग न करें। इसके अलावा वर्तनी संबंधी त्रुटियाँ रह गयी हैं हालांकि इनकी संख्या बहुत कम है लेकिन उन्हें भी ठीक किया जा सके तो और भी अच्छा रहेगा। जैसे: हिन्दी में 'ळ' का उपयोग नहीं किया जाता लेकिन एक जगह 'हाळांकि' लिखा हुआ है। यदि सहमति बनी तो मैं भी ये बदलाव करने की कोशिश करुंगा।☆★संजीव कुमार (बातें) 21:00, 14 अगस्त 2013 (UTC)
यूआरएल में डॉट का प्रयोग नहीं किया गया है, और वैसे भी अक्षरों के बीच बीच में बार बार डॉट या स्पेस लगाना अतिरिक्त परिश्रम का कार्य होता है, अतएव न होना बेहतर ही होता है। ऐसे ही एक बार काफ़ी पहले अंग्रेज़ी अंकों के प्रयोग के लिये चर्चा हुई थी, जिसके विरोध में मैंने हिन्दी अंकों के प्रयोग का ही समर्थन किया था। काफ़ी चर्चा के बाद एवं पूर्णिमा जी के सहयोग से हिन्दी अंकों का प्रचलन मान्य किया गया, सिवाय साँचों में या अन्य प्रोग्रामिंग सीक्वेन्सेज़ के, जहां अंग्रेज़ी अंक ही आवश्यक होते थे।
इसके अलावा ळ का प्रयोग किया नहीं गया है, वो हालांकि में ला के लिये आ की मात्रा तथा अं की बिन्दी हेतु बाराहा में शिफ़्ट दबाकर A तथा M लगाने होते हैं, तो उसके बाद गति के साथ टाइप करते हुए शिफ़्ट L के लिये भी दबा रह गया होगा। --आशीष भटनागरवार्ता 02:36, 15 अगस्त 2013 (UTC)
आशीष जी, यहाँ मैं थोड़ा सा भ्रमित हो रहा हूँ। आपने कहा है कि "यूआरएल में डॉट का प्रयोग नहीं किया गया है"; मैं देख रहा हूँ कि लेख की प्रथम पंक्ति में "जो जो उस लेख के यू.आर.एल में दिखाई देता है" लिखा है। शायद मेरी पिछली टिप्पणी त्रुटिपूर्ण थी। मैं "यू" एवं "आर" के मध्य आने वाले डॉट की बात कर रहा था। अंको सम्बंधी चर्चा मैंने कुछ दिन पूर्व ही पढ़ी थी। वास्तव में वहाँ आपके तर्क मुझे बहुत अच्छे लगे और आपकी यह क्षमता ही तो मुझे सबसे अधिक प्रभावित करती है। वैसे अब अंक वाली समस्या का समाधान "अंक परिवर्तक" की सहायता से हो ही गया है।
'ळ' को हटाकर मैंने 'ल' बना दिया है।☆★संजीव कुमार (बातें) 04:30, 15 अगस्त 2013 (UTC)
हाँ, आपकी बात एकदम सही थी। पहले के दो स्थानों पर यूआरएल में डॉट लगाय़ी थी, ये सोचकर कि इसका पृष्ठ इसी नां से होगा, किन्तु उसके बाद देख लिया कि बिना डॉट से ही लेख का अनुप्रेषण होता है, एवं लेख का मूल नाम हिन्दी में बना है, अतः आगे बिना ड‘ओट के ही प्रयोग किया था। फिर भी अब सही कर दिया है। आप भी जो सुधार समझें कर दें...। --आशीष भटनागरवार्ता 09:52, 16 अगस्त 2013 (UTC)


सभी को प्रणाम। छोटा मुंह बड़ी बात, क्षमाप्रार्थना। भाषा वही सही जो श्रोता-पाठक समझे। शुद्घता भी महत्वपूर्ण है। दो अतियां हैं। अति सर्वत्र वर्जयेत्। संतुलन ही प्रकृति का नियम है। आज जो नियम आप बनायेंगे वो नींव पत्थर होंगे आने वाली इंटरनेट पीढ़ी के । समयानुसार परिवर्तन नकारे जाने पर भाषा का प्रयोग समाप्त हो सकता है, शुद्घता नकारे जाने पर रूप। सभी सुझावों को प्रयोग में लायें, भविष्य में पाठकों के यूसेज ट्रेण्ड देखकर निर्णय किया जा सकता है। --Manojkhurana (वार्ता) 12:11, 19 अगस्त 2013 (UTC)Manojkhurana

विचित्र चर्चा नामक अनुभाग से आगे[संपादित करें]

  • ट१: "विचित्र चर्चा" नामक अनुभाग में Hunnjazal जी का प्रथम वाक्य निम्न प्रकार है - "अनुनाद जी का 'विकि पर बोझ पड़ेगा' वाला वाक्य पढ़कर हँसी आती है। या तो उन्हें आधुनिक सर्वरों के पामानों का बोध नहीं या फिर अन्य कोई कठिनाई है। कई चीज़े ध्यान योग्य हैं।"
उत्तर

इस वाक्य से स्पष्ट तौर पर दिखाई देता है कि या तो हिन्दी विकी पर काम करने वाले सभी सदस्य Hunnjazal जी को मुर्ख दिखाई देते हैं अथवा वो विशेष रूप से अनुनाद जी का मजाक उडाना चाहते हैं जो हिन्दी विकी के नियमानुसार मानहानि की श्रेणी में आता है। एक प्रबंधक द्वारा इस तरह किसी सदस्य के लिए मानहानि वाले शब्द उपयोग करना कतई उचित नहीं है और न ही स्वीकार्य है।

यह मानहानि कैसे है? खींच कर भी आरोप सही नहीं बैठता। अधिक जोड़ों से अधिक बोझ पड़ेगा? व्यंग्य ही है।
  • ट२: Hunnjazal का द्वितीय कथन - "खोज करने की विधियाँ तेज़ी से विस्तृत और विविध हो रहीं हैं। अक्सर लोग किसी अन्य सामग्री को पढ़ते हुए एक शब्द को हाईलाईट करके उसकी ब्राउज़र में ही खोज आरम्भ कर देते हैं। 'कुत्तों' के लिए अनुप्रेषण बिलकुल होना चाहिए। सीरी व अन्य बोलने से खोजने वाले तंत्र भी विकसित हो रहें हैं। कई शब्द रूप इसके लिए और भी महत्वपूर्ण हैं। यह बोल से लिखित परिवर्तन में बहुत ग़लतियाँ करते हैं। विकि ज्ञान का एक मुख्य स्रोत बन चुका है। आपके सुझावों के अनुसार 'Siri tell me about Vikings' आराम से चलेगा और 'सीरी मुझे वाइकिंगों के बारे में बताओ' में अंग्रेज़ी की तुलना में एक चरण और आवश्यक जो जाएगा। यह 'ऑनलाइन हिन्दी' को अन्य भाषाओं की तुलना में अपाहिज करने वाली बात लगती है।"
उत्तर
कथन का उन्होंने दुधारी बात कही है जिसके प्रथम भाग में उन्होंने खोज इंजन के विकास का बखान किया है जहाँ वो यह भूल गये हैं कि जब मैं गूगल में अंग्रेज़ी में खोजता हूँ तो वह मुझे अंग्रेज़ी और हिन्दी दोनों तरह के परिणाम तो दिखाता ही है साथ में यह भी कहता है कि आप किस भाषा में खोजना चाहते हो। यदि कोई सदस्य गलत वर्तनी खोजता है तो गूगल साफ कहता है कि शायद आप यह खोजना चाहते हो! सदस्य जब यह संदेश देखता है तो भविष्य में वह गलत वर्तनी से खोज नहीं करेगा। लेकिन यदि सदस्य ने गलत शब्द खोजा और तो उसे सही पृष्ठ तो मिल गया लेकिन उसके उपर लिखा है "कुत्तों से कुत्ता पर अनुप्रेषित पृष्ठ" अथवा इससे इससे मिलता जुलता कुछ मिलेगा। इस अवस्था में शुरुआती पाठक इन दोनों शब्दों को एक दूसरे का पर्यायवाची समझेगा और भविष्य में न केवल ऐसी गलतियाँ करेगा बल्कि इसपर बहुत से लोगों के साथ विवाद भी करेगा और हिन्दी विकी की विश्वसनीयता पर सवाल उठेगा।
सारे खोज इंजन एक जैसे नहीं होते। विकि में अगर लेख खोजे गए नाम से अलग हो तो छोटे अक्षरों में अनुप्रेषण दिखाता है। आपकी "हिन्दी विकी की विश्वसनीयता" वाली बात तो पूर्णत: निरर्थक है। अंग्रेज़ी में हिन्दी से हज़ारों गुना अधिक अनुप्रेषण हैं। वहाँ तो आजतक ऐसा सवाल नही उठा। क्यों?
  • ट३: विकि खोज में शीर्षक को अधिक महत्व मिलता है। इसलिए 'कुत्तों' के अनुप्रेषण से कोई हानि नहीं होती। स्वयं ही प्रयास कर देखें - क्+ु+त्+त् डालकर 'कुत्तों' दिखेगा ही नहीं। यह तभी दिखेगा यदी कोई वास्तव में 'कुत्तों' डालता है। हिन्दी में ऐसे अनुप्रेषण और भी लाभदायक हैं क्योंकि मात्राएँ शब्द में मिली हुई होती हैं।
उत्तर
"कुत्त्" लिखने पर "कुत्तों" नहीं दिखाई देगा लेकिन "कुत्तों की नस्लों की सूची" खोजकर्त्ता को अनावश्यक रूप से कुत्तों नामक शब्द दिखाई देगा। इस तरह के अधिक अनुप्रेषित शब्दों की अवस्था में खोजकर्त्ता को आवश्यक सामग्री के स्थान पर कुछ और ही दिखाई देंगे और यह वास्तव में हानिकारक है।
आप भूल कर रहें हैं। 'कुत्तों की नस्लों की सूची' लेख का वास्तविक शीर्षक है, अनुप्रेषण नहीं।
  • ट५: हिन्दी में कई लेखों में जोड़ टूटे पड़े है जहाँ जोड़ के लक्ष्य का लेख तो है लेकिन अनुप्रेषणों के आभाव से उसे ढूंढने में लेखक को प्रयास लगाना पड़ेगा इसलिए उसे लाल ही छोड़ हुआ है। ऐसा अंग्रेज़ी में अनुप्रेषणों की भरमार से कम होता है। अगर लेख है तो उस तक पहुँचना आसान है। और कोई भी आपको यह नहीं कहेगा कि अनुप्रेषण मत बनाओ (केवल टकराव की स्थिति में रोका जाता है, जो होना भी चाहिए)।
उत्तर
इस बात का जबाब मैं बहुत बार दे चुका हूँ। गलती कोई और करे तो परिणाम के लिए मैं जिम्मेदार नहीं हूँ। यदि पृष्ठ निर्माता ने गलती की है तो मैं उसे सही करुँ वह अच्छा होगा न की सभी गलत शब्दों को अनुप्रेषित करुँ। यहाँ तो अनुप्रेषण स्थिति बहुत ही हानिकारक है। एक सभ्य पाठक यह सब देखने के पश्चात पुनः हिन्दी विकी पर आने की हिम्मत नहीं करेगा। इस अवस्था की हानियाँ मैं स्वयं देख चुका हूँ। कुछ दिन पूर्व मैंने एक सदस्य को हिन्दी विकी पर जोड़ा था लेकिन वो इन तरह की त्रुटियों की मुझसे बहुत चर्चा करते थे और अब वो हिन्दी विकी पर सुधार का प्रयास बंद कर चुके हैं। अतः इसका परिणाम तो मैं एकदम आँखों देख चुका हूँ। Hunnjazal अब भी यदि आप इस तरह के निरर्थक कारण देते रहे तो मैं यह ही मान सकता हूँ कि आप मेरे जैसे सदस्यों को भी जल्दी ही दूर भगाने का प्रयास कर रहे हो। लेकिन दुःख के साथ कहना पड़ रहा है कि मैं उन सदस्यों में से हूँ जिसे या तो सदैव के लिए प्रतिबंधित करके भगाया जा सकता है अथवा प्यार से।
आप स्वयं से ही बहस रहे हैं। मुझे आपके भागने से भला क्या लेना-देना? आपकी त्रुटि वाली बात बेतुकी है। पाठक व अन्य लेखकों की ग़लतियों के बावजूद उन्हें लेख तक पहुँचाना सही है। यही हर भाषा कि नीति अनुप्रेषणों के बारे में कहती है। हिन्दी इस से अलग क्यों हो? यह दलील हिन्दी को अपाहिज बनाने की चेष्टा लगती है।
  • ट५: अनुप्रेषण पाठकों से छुपे होते हैं। वह तभी देखे जाते हैं अगर पाठक स्वयं उस शब्द को टाइप करे या उसपर ब्राउज़र से खोज करे। यह कहना कि पाठक ने अगर कुछ ग़लत लिखा है तो उसे दण्ड देना चाहिए हिन्दीभाषियों को अंग्रेज़ी विकि की तरफ़ भगाने की विधि लगती है।
उत्तर
यह कार्य खोज इंजन को सुधार कर किया जाना अच्छा है न कि गलत शब्दों के अनुप्रेषण लगाकर। अंग्रेज़ी में यह बात फिर भी कुछ हद तक सही हो सकती है लेकिन हिन्दी अथवा अन्य भारतीय भाषाओं में ऐसा करना ठीक नहीं है।
क्यों नहीं है? आप के कह देने भर से यह सच नहीं हो जाता। यह तो ऐसा लगता है कि 'हिन्दी में विकि का ही होना ठीक नहीं'। हिन्दी पाठकों को अनुप्रेषणों से वंछित क्यों रखा जाए? आप अपनी बात की तुक नहीं समझा पा रहे।
  • ट६: अंग्रेज़ी और अन्य समपन्न भाषाओं में इसपर बहुत काम किया गया है और बहुत-सी स्थितियाँ हैं जब अनुप्रेषण बनाने चाहिए - पढ़िए। बहुत ही सीमित स्थितियाँ हैं जब किसी अनुप्रेषण को हटाना चाहिए - पढ़िए
उत्तर
Hunnjazal जी आपसे नम्र निवेदन है कि अंग्रेज़ी विकी के नियमों को हिन्दी विकी पर बिना कुछ सोचे समझे नियम मानने को मजबूर न करें। चूँकि अनुप्रेषण से सम्बंधित चर्चा हेमन्त जी भी आपसे कर चुके हैं। वहाँ आपने उनका ध्यान भटका दिया। आप बीच में तारे और आकाशगंगाएँ ले आये। इसके बाद भी कुछ चर्चाएँ हुई जिनमें आपने उत्तर देना उचित नहीं समझा। आप प्रबंधक है और नीति का हवाला देने वाले प्रभावी प्रबंधक भी। अतः आपसे निवेदन है कि en:Wikipedia:Redirect पृष्ठ का हिन्दी अनुवाद करें और उस पर अपने अनुसार सभी परिवर्तन करके हिन्दी विकी पर जनमत लें। जब यह पृष्ठ पूर्ण रूप से समर्थित हो जाये तो मुझे सभी नियम स्वीकार होंगे। अन्यथा ये बकवास उदाहरण न दें तो आपकी अतिकृपा होगी।
आप दोनों सूरतों में ग़लत हैं। अगर नीति है ही नहीं तो आप किस आधार पर अनुप्रेषण रोक सकते हैं? आप कोई दूसरी नीति प्रस्तावित करके जनमत लें। या आप इसका अनुवाद करें।
  • ट७: कोई भी सुझाव जो लेखकों के लिए हिन्दी विकि को देखो सो पाओ दिशा से विपरीत ले जाएगा, वह हमें नुकसान देगा। अगर आपको लिखना है कि 'जापानी कुत्तों की कई जीववैज्ञानिक जातियाँ हैं' तो इसे 'जापान|जापानी कुत्ता|कुत्तों की कई जाति (जीवविज्ञान)|जीववैज्ञानिक जातियाँ हैं' लिखने पर मजबूर करना आपको अंग्रेज़ी व कई अन्य विकियों के सामने अपाहिज करना है। उनके गति आपसे कई अधिक होगी।
उत्तर
यहाँ मैं न ही तो आपका वाक्य समझ पाया हूँ न ही इसका कोई अनुमान लगा पाया हूँ जिसके दो कारण हो सकते हैं: (१) मैंने वाक्य ध्यान से पढ़ा नहीं। (२) वाक्य अशुद्ध है और दिग्भ्रमित करने वाला है। कृपया वाक्य का विस्तार करें जिससे समझने में आसानी हो।
क्यों, इसे समझने में क्या कठिनाई है? स्पष्ट तो है।
  • ट८: अनुप्रेषण एक ऐसा सहायक-जाल है जो पाठकों और लेखकों दोनों की मदद करता है। इसके लाखों जोड़ तब तक अदृश्य होते हैं जब तक इन की आवश्यकता न हो। यह चर्चा जो है उस से बिलकुल विपरीत होनी चाहिए। उत्तराखण्ड का लेख १८ जनवरी २००७ से अस्तित्व में है। अनुनाद जी ने २८ अप्रैल २००९ में बोफोर्स घोटाला का लेख बनाया जिसमें 'उत्तरखंड' लिखा है। प्रथम तो जोड़ नहीं है - लेख लिखते हुए या तो वे चूक गए या फिर बहुत से अन्य लेखकों की तरह उन्हें अन्य लेख लिखने थे इसलिए 'उत्तराखण्ड' का लेख ढूंढने में समय नहीं लगाया। फ़र्ज़ करें कि वे 'उत्तरखंड' पर ही जोड़ लगा देते। पहले तो इसमें ग़लती है - 'उत्तराखंड' होना चाहिए। और अगर ठीक भी करें तो आपके अनुसार 'उत्तराखंड' वर्तनी ग़लत है और केवल 'उत्तराखण्ड' ही होना चाहिए, यानि यह अनुप्रेषण भी न हो।
उत्तर
यहाँ आपने अपनी महानता दिखाने का जो कार्य किया है वह बहुत ही घिनौना है जो एक प्रबंधक को बिल्कुल शोभा नहीं देता। आपने ना ही तो पृष्ठ का इतिहास देखा और ना ही लिखने से पूर्व कुछ सोचा। यहाँ तक कि यदि मैं कहूँ कि यह गलती आपके गलत कार्यों का एक परिणाम है तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। पहली बात तो आपके द्वारा उल्लिखित शब्द में कोई कड़ी नहीं जुड़ी हुई और यह लाल रंग में नहीं दिख रहा। दूसरी बात आपने अनुनाद जी का नाम यहाँ जिस उद्देश्य से लिखा है वो आपकी मानसिकता का सूचक है। कारण: क्या आपने देखा कि यह शब्द इस पृष्ठ पर किसने लिखा है? शायद नहीं। मैं इसकी पूर्ण जानकारी आपके सामने लिखता हूँ। इस पृष्ठ का निर्माण भले ही अनुनाद जी ने किया लेकिन बाद में बहुत लोगों ने इस लेख का सम्पादन किया। इन सम्पादकों में से एक सदस्य आईपी "49.14.237.220" है जिसने "29 दिसम्बर 2012" को यह सम्पादन किया। उस समय प्रबंधक के पद पर आप, आशीष जी (छुट्टी पर) और बिल जी विराजमान थे और ३ पुनरीक्षक थे जिनमें से Bhawani Gautam जी सक्रिय नहीं थे, दूसरे पुनरीक्षक Lovysinghal जी थे जिन्होने क्या-क्या कार्य किये वो सर्वविदित हैं एवं तृतीय पुनरीक्षक Ruy Pugliesi शायद ध्यान नहीं दे पाये। बिल जी भी यदि यह कह दें की उन्होंने इसे नहीं देखा तो मैं कुछ नहीं कह सकता। लेकिन आप एकमात्र प्रबंधक हैं जिन्होने इस गलती को देखा लेकिन नहीं सुधारा जो नीति का उल्लंघन है और इस तरह बिना सोचे समझे एक सदस्य पर आरोप लगाना प्रबंधक पद का दुरुपयोग की श्रेणी में आता है। क्या आपने देखा कि यह पूर्ण पैराग्राफ ही गलत जगह पर गलत तरिके से लिखा गया है? "उत्तर: नहीं", क्योंकि यदि आपने देखा होता तो अनुनाद जी पर इस तरह का गलत आरोप नहीं लगाते। आप चाहो तो मैं आपको इस पर और सफाई देने को तैयार हूँ। यदि आपकी अनुमति हो तो मैं इस पैरा को हटा दूँ।
अकारण भावुक हो रहे हैं। इसमें कोई आरोप है ही नहीं और इसे बिलकुल न हटाएँ। हर सदस्य के साथ ऐसा होता है। अच्छी प्रणाली वह है जो ग़लतियों के बावजूद जहाँ तक सम्भव हो पाठक और लेखक की सहायता करे। हर पृष्ठ की बारीकी से जाँच असम्भव है।
  • ट९: यह कोई काल्पनिक बात नहीं। हिन्दी में कई लेख इस अनुप्रेषण-आभाव से अन्य भाषाओं की तुलना में लाल स्याही या जोड़-विहीनता से पीड़ित हैं। ध्यान दें कि अंग्रेज़ी में Uttarkhand का अनुप्रेषण है (जबकि सही वर्तनी 'Uttarakhand' है) और Chorabari Glacier के लेख में यह पहली पंक्ति में ही सहायक साबित हो रहा है। यह कहानी रोज़ हिन्दी विकि में अपने आप को दोहराती है।
उत्तर
अनुप्रेषण के अभाव में लाल कड़ियों की संख्या बढ़ी है इससे मैं भी सहमत हूँ क्योंकि कुछ नवीन सदस्य अथवा आई पी ने परमाणु ऊर्जा विभाग (भारत) नामक पृष्ठ तो बनाया और परमाणु ऊर्जा विभाग को अनुप्रेषित भी किया लेकिन उन्होंने यह नहीं देखा कि हिन्दी विकी पर न ही तो पऊवि नामक कोई पृष्ठ भी नहीं है लेकिन परमाणु ऊर्जा विभाग का संक्षिप्त रूप "पऊवि" नामक पृष्ठ अनुप्रेषित करना भूल गये। लेकिन अंग्रेज़ी विकी पर ऐसा नहीं है। अब आप "उत्तराखण्ड" शब्द का पूर्ण विखण्डन (मेरा अर्थ व्याकरणीय रूप में है) करके जाँच करें तो आपको ज्ञात होगा कि अंग्रेज़ी विकी पर लिखा शब्द "Uttarkhand" गलत इरादों से नहीं लिखा गया लेकिन यदि आप हिन्दी विकी पर उत्तरखंड लिखते हो तो वह गलत होगा। आपने "Chorabari Glacier" का उदाहरण अपनी गलतियों पर पर्दा डालने के लिए एक गलत उदाहरण दिया है जो बिल्कुल स्वीकार्य नहीं है। क्योंकि सभी सदस्यों का यह ही मानना है कि यदि आप शुद्ध व प्रचलित वर्तनी को अनुप्रेषित करते हो तो उसमें कुछ भी गलत नहीं है।
आप अनुप्रेषणों का ध्येय समझे ही नहीं हैं। कृप्या मेरे बताए जोड़ पर जाकर नीति ठीक से पढ़ें। और आप यह इतनी जल्दी उत्तेजित क्यों होते हैं। ज़रा ठंडे रहा करें। आपके अनुसार अंग्रेज़ी में 'Uttarkhand' ग़लत इरादों से नहीं था लेकिन अनुनाद जी ने 'उत्तरखंड' ग़लत इरादों से लिखा? उनके यह कौन से ग़लत इरादे थे? क्या कह रहें हैं?
अनुनाद जी का उत्तर (ट१अ)

मुझे हुन्नजजाल जी द्वारा दी गई उपरोक्त टिप्पणी में उनका अल्प यूनिकोड ज्ञान और 'खोज' से सम्बन्धित भ्रांतियाँ दिख रही हैं। 'उत्तराखण्ड' और 'उत्तरखंड' का उदाहरण देकर 'कुत्ता' पर 'कुत्ते', 'कुत्तों', 'कुत्तियों', 'कुत्तियाँ', 'कुत्तियें' , 'कुत्तियाएँ' (कोई गलत भी खोजने की कोशिश करे तो), 'कुत्तेकुत्तियों', 'कुत्तागिरी', 'कुतकुताना', 'कुतकुतियाना', 'कुत्ताकुत्तीभाव', 'कुत्तों में', कुत्तों की', 'काला कुत्ता', 'अरबी कुत्ता', 'पालतू कुता', 'बीमर कुत्ता' , कुत्ताप्रसंग' आदि को अनुप्रेषित करना अति के अतिरिक्त कुछ नहीं है। यह वैसे ही है जैसे कोई अंधा चलते समय 'कौन है?', 'कौन है?' का रट लगातार लगाए जाय। उनकी लाल स्याही वाली बात भी अति का दूसरा उदाहरण है। इस पर बहुत चर्चा हो चुकी है।

अनुनाद जी को Hunnjazal जी का उत्तर (ट१h)

अर्थ अस्पष्ट है और आपको वार्ता जारी न रखनी हो तो आपकी मंशा लेकिन इस प्रकार की चर्चा के लिए मैं उपस्थित हूँ और सदैव रहूँगा। अन्यों को यह ध्यान रखना चाहिए कि अनुप्रेषण बहुत आवश्यक हैं - कृप्या यह अनुप्रेषण-समबन्धी नियमावली देखें (समय मिलते इसका अनुवाद करूँगा या कोई प्रबन्धन में रुचि लेने वाला अन्य करे तो और भी अच्छा हो) और अपने व अन्यों के बनाए लेखों के लिये ऐसे अनुप्रेषण जोड़ें क्योंकि इनकी विहीनता की हिन्दी विकि को अकारण क़ीमत चुकानी पड़ रही है। मत-प्रकट करने की प्रक्रिया में आवश्यक/अनावश्यक अनुप्रेषण को लेकर विकिपीडिया:बात समझाने के लिये विकिकार्य बाधित न करें भी ध्यान में रखें। धन्यवाद!

अनुप्रेषण पर आगे की टिप्पणी[संपादित करें]

अब यदि कोई और भी सदस्य उत्तर देने का अथवा टिप्पणी करने का इच्छुक है तो नीचे करें जिससे चर्चा आसान रहे। यदि आप उपरोक्त किसी बिन्दु पर टिप्पणी करना चाहो तो कृपया बिन्दु की संख्या लिखें और उत्तर दें।☆★संजीव कुमार (बातें) 15:11, 9 अगस्त 2013 (UTC)

हाँ, ज़रूर दे। धन्यवाद। --Hunnjazal (वार्ता) 08:45, 10 अगस्त 2013 (UTC)

Hunnjazal जी, आपका उत्तर समझने में कठिनाई हो रही है। आपसे निवेदन है कि इस उत्तर को थोड़ा विस्तारित करने का कष्ट करेंगे।☆★संजीव कुमार (बातें) 10:23, 10 अगस्त 2013 (UTC)
संजीव जी, अवश्य। लेकिन किस भाग को? --Hunnjazal (वार्ता) 19:04, 10 अगस्त 2013 (UTC)
Hunnjazal जी, बहुत ही दुख की बात है कि आपने या तो मेरे उत्तरों को पढ़ा नहीं अथवा पढ़कर उचित उत्तर देना उचित नहीं समझा। जो भी है आपने उत्तर दिये उसके लिए धन्यवाद।
  • ट१: किसी वरिष्ठ सदस्य के विचारों की हँसी उडाना वो भी उस समय जब दोनों के मध्य सभी विषय विवादित हों, क्या मानहानि अथवा व्यक्तिगता आक्षेप की श्रेणी में नहीं आता।
  • ट२: "सारे खोज इंजन एक जैसे नहीं होते।" <- मैं आपके इस कथन से सन्तुष्ट हूँ। लेकिन आगे इसी बिन्दु पर आपने मेरी बात को इस आधार पर "पूर्णत: निरर्थक" कहा है कि अंग्रेज़ी विकी पर अनुप्रेषण से सम्बंधित कभी भी कोई सवाल नहीं उठा। क्या आप जानते हो हिन्दी कौनसे देशों में चलती है और अंग्रेज़ी कहाँ-कहाँ? आप एक पृष्ठ पर मुझसे अमेरिकी/ब्रितानी/भारतीय अंग्रेज़ी की बात कर रहे थे, क्या आपने इस विषय पर कभी सोचा? क्या आपने कभी यह देखा कि चिरसम्मत यांत्रिकी को फिजी हिन्दी में "Classical mechanics" लिखा है। क्या मैं वहाँ यह सवाल करुंगा कि वहाँ उन्होंने उसे "Chirasammat yaantriki" क्यों नहीं लिखा? उत्तर - नहीं। क्योंकि वह हिन्दी की अलग विकी है। हमारी इस हिन्दी में उतनी हिन्दी भाषाएँ नहीं हैं जितनी अंग्रेज़ी में अलग-अलग अंग्रेज़ी हैं। आप अंग्रेज़ी का कोई भी उदाहरण दो उसका कारण मैं आपको बताउंगा। ऐसे अपने आप से परिभाषा बनाने से नहीं बनती। आप शायद यह भूल गये हो कि हिन्दी और अंग्रेज़ी अलग-अलग भाषाए हैं। इन दोनो भाषाओं में न केवल लिपि अलग है बल्कि व्याकरण भी भिन्न है। इसके अलावा ऐसे बहुत अन्तर हैं जिन्हें आप नज़र अंदाज़ नहीं कर सकते। आप उर्दू से तुलना करो तो फिर भी बात थोड़ी अलग होगी क्योंकि व्याकरण में काफ़ी समानता है।
  • ट३:आपने मेरी टिप्पणी नहीं पढ़ी और उत्तर किसी और की टिप्पणी का दिया है। मैं यह नहीं जानता आपने किसका उत्तर दिया है लेकिन यह बात पक्की है कि यह मेरी टिप्पणी का उत्तर नहीं है। मेरे इस कथन का आधार: मैंने कहीं नहीं कहा कि "कुत्तों की नस्लों की सूची" नामक पृष्ठ अनुप्रेषण है। मैंने यह लिखा था कि मैं यह पृष्ठ खोजना चाहता हूँ।
  • ट४:जानकर खुशी हुई कि आप मुझे भगाना नहीं चाहते। आपने लिखा है - "आपकी त्रुटि वाली बात बेतुकी है।" अर्थात आपके अनुसार मैं झुठ बोल रहा हूँ। यदि आपको यह सच लग रहा है तो आपको उस सदस्य के बारे में जानकारी दे दुँगा। आप उनके सम्पादन देखकर खुद समझ जाओगे। अपाहिज तो आवश्यकता से कम का नाम है। आवश्यकता उन शुद्ध शब्दों को अनुप्रेषित करने की है जो अलग-अलग नाम होने पर भी एक ही विषय से सम्बंधित बात करते हैं। आप इस बात को भूलकर इसे अति की ओर ले जा रहे हो। मान लो मैं "ओर" नाम से एक पृष्ठ बनाकर "तरफ" को उसपर अनुप्रेषित कर दूँ तो ठीक है लेकिन यदि मैं "और", "उर" "कोर", "पोर" आदि भी अनुप्रेषित करुं तो गलत होगा।
  • ट५:मैं अनुप्रेषण का विरोधी नहीं हूँ, लेकिन अनावश्यक अनुप्रेषण का अर्थ नहीं समझ पाया। आपने लिखा है - "हिन्दी में विकि का ही होना ठीक नहीं'" इसका आधार क्या है?
  • ट६:मैं दूसरों की हर नीति को मेरे जीवन में नहीं उतार सकता। अतः मैं अंग्रेज़ी पृष्ठ का अनुवाद नहीं करने वाला। बात जब नीति बनाकर जनमत की है तो उसी पर ही तो यह चर्चा चल रही है! क्या आपको इस चर्चा का विषय नगाड़े और ढोल बजाने जैसा प्रतीत होता है?
  • ट७:कठिनाई तो तब होती है जब आधा-अधुरा समझ में आये। लेकिन मेरे तो आपका पुरा कथन ही समझ नहीं आ रहा।
  • ट८:मैं भावुक नहीं हो रहा बल्कि मुझे हिन्दी विकी की दुर्दशा पर दया आ रही है जिसमें कुछ गलत को इसलिए हटाने से मना किया जा रहा है क्योंकि एक प्रबंधक दूसरे सदस्य को ब्लैकमेल करने के लिए इस हद तक भी जा सकता है। जबकि प्रबंधक म्होदय नहीं जानते कि वह गलती किसी और कि नहीं बल्कि प्रबंधक महोदय की ही थी।
  • ट९:यह उत्तर भी यह सिद्ध करता है कि आपने मेरी टिप्पणी नहीं पढ़ी। "उत्तरखंड" अनुनाद जी ने नहीं लिखा बल्कि वह आपकी एक गलती का परिणाम है।
Hunnjazal जी आपसे निवेदन है कि उत्तर ज़रा पढ़कर ध्यान से दें। ट१ ट२ ट३ ... ट९ के बारे में जानकारी के लिए अनुभाग "विचित्र चर्चा नामक अनुभाग से आगे" देखें।☆★संजीव कुमार (बातें) 18:54, 13 अगस्त 2013 (UTC)

स्वतंत्रता सेनानी और तेन्जिंग नॉरगे पृष्ठ को शीघ्र हटाया जाय[संपादित करें]

इन दोनों पृष्ठों को शीघ्र हटाया जाये क्योंकि इन पृष्ठों में vandalism के अलावा और कुछ नहीं है। Mala chaubey (वार्ता) 09:43, 10 अगस्त 2013 (UTC)

माला जी पृष्ठ हटाने के लिए संबंधित पृष्ठ में {{delete|हटाने का कारण}} लिखें। Twinkle की सहायता से आप यह कार्य और भी आसानी से कर सकते हो। तेन्जिंग नॉरगे पृष्ठ में आपने {{हहेच लेख}} (अर्थात हटाने हेतु चर्चा) का उपयोग किया है अतः इस पर चर्चा चलेगी। यदि इस पृष्ठ का निर्माणकर्ता अथवा अन्य सदस्य कोई आपति नहीं करेगा तो यह पृष्ठ जल्दी ही हटा दिया जायेगा।☆★संजीव कुमार (बातें) 12:23, 10 अगस्त 2013 (UTC)
YesY पूर्ण हुआ। माला जी जब आप किसी पृष्ठ को हटाने के लिए नामांकित करती हैं तो कृपया उस पृष्ठ का इतिहास एक बार देख लिया करें कि कही यह बर्बरता किसी ठीक लेख में तो नहीं की गई थी? जैसे स्वतंत्रता सेनानी एक आधार लेख था जिसमें आईपी ने कचरा भर दिया था। अब मैने उसे हटा दिया है। साथ ही आपको विशेष रूप से चौपाल पर हटाने के लिए निवेदन करने की कोई आवश्कता नहीं, जैसा संजीव जी ने बताया कि बस उस लेख में {{delete|हटाने का कारण}} लिख दें, पृष्ठ अगर हटाने योग्य होगा तो उसे हटा दिया जाएगा। धन्यवाद।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 13:17, 10 अगस्त 2013 (UTC)
जैसा कि पृष्ठ पर दी गयी जानकारी और उसके अवतरण इतिहास से साफ जाहिर होता है कि उक्त पृष्ठ सन २००६ से चला आ रहा है और आज ही उसकी सफाई भी बिल जी ने कर दी है। मेरा अनुरोध है कि स्वतंत्रता सेनानी पृष्ठ को रहने दिया जाये। हाँ यदि आप सभी को उचित लगे तो इसकी वर्तनी को शुद्ध करके स्वतन्त्रता सेनानी किया जा सकता है। डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 13:34, 10 अगस्त 2013 (UTC)
धन्यवाद विल जी, आपका बहुत-बहुत धन्यवाद,इसकी वर्तनी को शुद्ध करके स्वतंत्रता सेनानी पृष्ठ को रहने दिया जाये। यदि संभव हुआ तो इस पृष्ठ का विस्तार मैं स्वय करूंगी।

Mala chaubey (वार्ता) 07:18, 11 अगस्त 2013 (UTC)

हिन्दी विकि प्रशासक पद नांमकन[संपादित करें]

नमस्कार सदस्यों, मैनें श्री आशीष भटनागर जी को हिन्दी विकिपीडिया के प्रशासक पद के लिये नांमाकित किया है। कृपया अपना समर्थन/विरोध/टिप्पणियाँ यहाँ दें, धन्यवाद!--Mayur (talk•Email) 01:22, 11 अगस्त 2013 (UTC)

Temporary Flood flag (Bot flag) for Kolega2357[संपादित करें]

I need a temporary bot flag to work on this Wikipedia re-categorization. On the Vietnamese Wikipedia I worked without errors. --Kolega2357 (वार्ता) 14:32, 12 अगस्त 2013

Please place this request at the official request page.--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 13:38, 17 अगस्त 2013 (UTC)

भोजपुरी विकिपीडिया से[संपादित करें]

नमस्कार मित्रो। मेरा नाम गणेश है। मैं यहाँ पर भोजपुरी विकिपीडिया से आया हूँ। मैं कुछ वर्ष पहले तक भोजपुरी विकिपीडीया पर निरन्तर योगदान किया करता था लेकिन बीच में कुछ समय तक अनुपस्थित रहा। अब मैं पुनः विकिपीडिया पर लौट आया हूँ पर लंबे समय तक भोजपुरी विकिपीडिया पर अनुपस्थित रहने से मैं अपना एडमिनशिप अधिकार खो चुका हूँ। मैं पुनः एडमिनशिप अधिकार प्राप्त करना चाहता हूँ पर भोजपुरी विकिपीडिया पर इतने दिनों के बाद भी कोई प्रयोगकर्ता या एडमिन नहीं जुडें मैं भोजपुरी पर अकेला हूँ इसलिए एडमिनशिप के लिए किस से निवेदन करुँ मुझे पता नहीं। क्या आप मुझे कोई सुझाव दे सकते हैं? धन्यवाद - - Nepaboy (वार्ता) 14:16, 17 अगस्त 2013 (UTC)

आप अपनी विकी पर वोटिंग करवाओ और वह परिणाम कुछ दिन बाद मेटा विकी के अनुमति पृष्ठ पर लिखो। स्टीवर्डस आपको यह अधिकार दे देंगे। भोजपुरी विकी पर माला जी सहित बहुत लोग काम करते हैं। हाँ फिर भी और विकियों की तुलना में बहुत कम है।☆★संजीव कुमार (बातें) 14:25, 17 अगस्त 2013 (UTC)
नमस्कार गणेश जी! मुझे याद है जब आप भोजपुरी विकिपीडिया पर अकेले प्रबंधक थे। आपने मुझसे कुछ सहायता मांगी थी, मुखपृष्ठ से संबंधित, और शायद मैंने किया भी था। मैं आपके लिये प्रबंधक समर्थन देने को तैयार हूं। आप उपरोक्त कड़ी पर प्रबंधक निवेदन दीजिये और यहां बताइये। --आशीष भटनागरवार्ता 06:51, 18 अगस्त 2013 (UTC)
गणेश जी!

संजीव जी ने सही कहा है, मैंने भोजपुरी विकि पर कई महत्वपूर्ण पृष्ठ बनाए हैं। हालांकि समयाभाव के कारण इस विकि पर मेरी गतिविधियां नगण्य रही है। मैं आपके लिये प्रबंधक समर्थन देने को तैयार हूं। आप उपरोक्त कड़ी पर प्रबंधक निवेदन दीजिये। मैं आगे भी आपको पूरा सहयोग करूंगी। यह आपसे मेरा वादा है। Mala chaubey (वार्ता) 14:41, 19 अगस्त 2013 (UTC)

टिप्पणी चाहिए[संपादित करें]

कृपया वार्ता:सूरज का सातवाँ घोड़ा (1993 फ़िल्म) पर टिप्पणी जाँच करे।☆★संजीव कुमार (बातें) 17:18, 18 अगस्त 2013 (UTC)

कुरुक्षेत्र[संपादित करें]

कुरुक्षेत्र जैसे महत्वपूर्ण विषय का विकि पेज देखकर मैं अत्यंत व्यथित हूं।

--Manojkhurana (वार्ता) 11:00, 19 अगस्त 2013 (UTC)Manojkhurana

मनोज जी,

व्यथित होने की कोई आवश्यकता नहीं, यदि आप इसका विश्वसनीय संपादन कर सकते हैं तो अवश्य करें या फिर वार्ता पृष्ठ पर जाकर अपना सुझाव अंकित कर दें। मैं इस पृष्ठ को शीघ्र एक नया स्वरूप देने का प्रयास करूंगी। Mala chaubey (वार्ता) 14:33, 19 अगस्त 2013 (UTC)

Manojkhurana जी,

मानचित्र मे कुरुक्षेत्र की स्थिति को मेरे द्वारा परिवर्तित कर सही कर दिया गया है। और कोई सुझाव हो तो बताएं। वैसे मैं इसका विस्तार, सफाई और सम्पादन शीघ्र करने का प्रयास करूंगी। Mala chaubey (वार्ता) 05:42, 20 अगस्त 2013 (UTC)

इस लेख में विस्तार अथवा सुधार की प्रक्रिया मेरे द्वारा पूरी कर दी गई है, यदि लेख को सुधारने हेतु कोई और सुझाव हो तो अवगत कराये।

Mala chaubey (वार्ता) 08:22, 20 अगस्त 2013 (UTC)

माला जी,

आपके कार्य की प्रशंसा के लिए मेरे पास शब्द नहीं है।--Manojkhurana (वार्ता) 12:13, 20 अगस्त 2013 (UTC)

धन्यवाद आपका भी Manojkhurana जी,

इस महत्वपूर्ण लेख को सुधारने में आपका भी योगदान सराहनीय है। Mala chaubey (वार्ता) 12:59, 20 अगस्त 2013 (UTC)

--Manojkhurana (वार्ता) 10:33, 21 अगस्त 2013 (UTC)ज़र्रानवाज़ी का शुक्रिया, माला जी। नगण्य योगदान को भी आपने सराहनीय माना। आपकी विद्वत्ता से मैं बहुत प्रभावित हुआ हूं। आपकी रुचि को देखते हुए मैं आपको (साथ ही सभी उपस्थित सदस्यगण को) नवनिर्मित पृष्ठ आदिबद्री पर निमंत्रित करता हूं। आशा करता हूं कि यह जानकारी हिन्दू धर्म में आस्थावान् लोगों के लिये नयी व रुचिकर होगी। पृष्ठ का विस्तार शीघ्र करूंगा। स्थानीय ज्ञान दुनियाभर में संप्रेषित करने में निश्चय ही विकिपीडिया अति उपयोगी है।--Manojkhurana (वार्ता) 10:33, 21 अगस्त 2013 (UTC)

ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स[संपादित करें]

अनुवाद पूरा हुआ। समीक्षा हेतु अंग्रेजी मिटायी नही है। नया सदस्य होने के कारण सांचे आदि मै ठीक नही कर पाया। आगे अनुभवी समीक्षकगण कमान संभालें और पूर्ण करें। धन्यवाद । --Manojkhurana (वार्ता) 12:11, 20 अगस्त 2013 (UTC)संवाद पृष्ठ देखना न भूलें। --Manojkhurana (वार्ता) 12:11, 20 अगस्त 2013 (UTC)

HTTPS for users with an account[संपादित करें]

Greetings. Starting on August 21 (tomorrow), all users with an account will be using HTTPS to access Wikimedia sites. HTTPS brings better security and improves your privacy. More information is available at m:HTTPS.

If HTTPS causes problems for you, tell us on bugzilla, on IRC (in the #wikimedia-operations channel) or on meta. If you can't use the other methods, you can also send an e-mail to https@wikimedia.org.

Greg Grossmeier (via the Global message delivery system). 19:09, 20 अगस्त 2013 (UTC) (wrong page? You can fix it.)

HTTPS सूचना[संपादित करें]

नमस्कार, सदस्य इस बात से अवगत रहें कि विकिमीडिया 21 अगस्त 2013 से सभी पंजीकृत (लॉग-इन करने वाले) सदस्यों के लिए https आवश्यक कर रहा है। अर्थात लॉग इन करेंगे तो आपको https ही प्रयोग करना पड़ेगा, http नहीं कर सकते।

सदस्य पृष्ठों के ऊपर जो वैश्विक नोटिस देख रहे हैं वे इसी बात का है। अधिक जानकारी के लिए meta:HTTPS देखें।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 19:42, 20 अगस्त 2013 (UTC)

विकिपीडिया:Featured article सांचा[संपादित करें]

विकिपीडिया:पृष्ठ हटाने हेतु चर्चा/साँचे/Featured article पर चर्चा प्रगति पर है। शीघ्रातिशीघ्र देखें व कार्रवाई करें। --आशीष भटनागरवार्ता 06:17, 21 अगस्त 2013 (UTC)

परीक्षण[संपादित करें]

कृपया ध्यान न दें।--आशीष भटनागरवार्ता 12:21, 21 अगस्त 2013 (UTC) @आशीष भटनागर:

परीक्षण २[संपादित करें]

@Siddhartha Ghai: कृपया बतायें कि क्या आपको अपने ब्राउज़र विण्डो में सबसे ऊपर लाल खण्ड में 1 लिखा दिख रहा है? --आशीष भटनागरवार्ता 12:48, 21 अगस्त 2013 (UTC)

नहीं आशीष जी, मुझे ऐसा कुछ भी नज़र नहीं आ रहा। लगता है आपने {{सुनिये}} पर en:Template:Reply to को बनाने की कोशिश करी है। ये अंग्रेज़ी विकिपीडिया पर उपलब्ध en:Wikipedia:Notifications के सिस्टम पर आधारित है जिसे अभी अंग्रेज़ी विकिपीडिया पर परखा जा रहा है। हो सकता है समय के साथ ये प्रणाली हिन्दी विकिपीडिया पर भी आए परन्तु अभी तो ये यहाँ उपलब्ध नहीं है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 13:07, 22 अगस्त 2013 (UTC)
अभी एक दो दिन पूर्व यानी कि २० अगस्त २०१३ की बात है मैं हमेशा ही अंग्रेजी विकी पर लाग इन करता हूँ उसके बाद कोई भी लेख खोजता हूँ। मैंने जैसे ही लॉग इन किया मुझे सबसे ऊपर लाल अक्षरों में 1 लिखा दिखा जब उसे क्लिक किया तो मेरा वार्ता पृष्ठ अपने आप खुल गया। पिछले एक साल से अधिक हो गया मुझे अंग्रेजी विकीपीडिया पर एडिट नहीं करने दिया जा रहा। लेकिन उस दिन मुझे उत्तर देने में कोई भी रुकावट नहीं आयी। यह सब क्या गोरखधन्धा है? मैं नहीं समझ पाया। जिन सज्जन ने अपने बोट अकाउण्ट से मेरे वार्ता पन्ने पर कुछ लिखा था मैंने उन्हें उत्तर भी दे दिया। परन्तु उसके बाद उन्होंने मौन धारण कर लिया। क्या आप दोनों में से कोई इस पर प्रकाश डालने की कृपा करेगा? THANKS डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 14:53, 23 अगस्त 2013 (UTC)

ग्रेफाइट[संपादित करें]

कृपया मुखपृष्ठ पर लिखे “ग्रैफ़ाइट” को सामान्य और सही नाम “ग्रेफाइट” से बदल दें ताकिवो लाल दिखना बंद हो जाये।Dinesh smita (वार्ता) 06:26, 22 अगस्त 2013 (UTC)

YesY पूर्ण हुआ। ध्यान देने के लिए दिनेश जी धन्यवाद।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 07:42, 22 अगस्त 2013 (UTC)

बंगाल_की_खाड़ी[संपादित करें]

इस लेख को बनाते हुए एक उपशीर्षक से सामना हुआ: Famous ships and shipwrecks। इसका अनुवाद करते हुए समस्या आयी, जिसके लिये सदस्यों की राय वांछित है:

  • प्रसिद्ध जहाज टूट एवं डूब:- कुछ अजीब सा लगा
  • प्रसिद्ध पोत-ध्वंस :- इसमें डूबना नहीं मिलता साथ ही जहाज नहीं हैं
  • प्रसिद्ध जहाज ध्वंस एवं डूबना:- डूबना %$#@#%^&*
कृपया शीघ्र राय दें। --आशीष भटनागरवार्ता 03:41, 26 अगस्त 2013 (UTC)
१- Famous ships and shipwreck में भी sinking नही है। अतः प्रसिद्ध पोत-ध्वंस ठीक जान पड़ता है।
२- डूबने के लिए - पोत-प्लवन या प्लावन (मुझे ज्ञान नही है कि दोनों में शुद्ध कौन सा है) या जलकवलित प्रयोग हो सकत हैं।

धन्यवाद। --मनोज खुराना (वार्ता) 05:40, 26 अगस्त 2013 (UTC)

यदि शब्दशः अनुवाद किया जाय तो मुझे 'प्रसिद्ध पोत एवं पोतध्वंश' ठीक लग रहा है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 07:00, 26 अगस्त 2013 (UTC)


Call for volunteering to report bugs for VisualEditor + Universal Language Selector input: Marathi, Hindi,Sanskrit,Nepali[संपादित करें]

Hello, While technically unicode input has been enabled in VisualEditor,It is long way to practically usable for indic languages.Since most developers would not be using Universal Language Selector input methods and would not be knowing indic languages such as Marathi and Hindi it would be defficult for them to understand problem areas.

Only few people doing effort is not enough.We need more volunteering.Please do take a lead to test Universale language input methods for indic languages in VE environment.Please report problems at en:Wikipedia:VisualEditor/Feedback.For a while please do keep aside your individual aprehensions about Visual Editor and come forward to report problems. Your lead will benefit indic wikipedias.

Thanks in advance.

Mahitgar (वार्ता) 07:47, 31 अगस्त 2013 (UTC)

हिन्दी विकिपीडिया के पाँच सर्वश्रेष्ठ लेखों का चुनाव: विकिमीडिया सांस्कृतिक आदान-प्रदान परियोजना[संपादित करें]

विकिमीडिया सांस्कृतिक आदान-प्रदान परियोजना की परिकल्पना २०१३ में आयोजित होने वाले विकिमेनिया में मौजूद एशियाई विकिपीडिया सदस्यों ने की है। इसके अंतरगत एक प्रस्ताव है कि हर एशियाई भाषा विकिपीडिया पर समुदाय की सहमति से पाँच ऐसे लेख चुने जाएँगे जो सामग्री गुणवत्ता सर्वश्रेष्ठ हों और जो:

  1. मूल्यतः उसी भाषा में लिखे गए हों
  2. आकार के रूप में न हों
  3. विषय में उत्तम और ज्ञानकोषीय रूप में लिखे गए हों
  4. निष्पक्ष विचारों पर आधारित हों
  5. लेख विषय सामग्री की प्रस्तुति के मामले में परिपूर्ण हों

यह प्रस्ताव रखा गया है कि चुने गए लेखों का पहले अंतरपृष्ठ के रूप में अंग्रेज़ी में अनुवाद किया जाए और इस अनुवाद के माध्यम से हर एशियाई भाषा विकिपीडिया पर उन लेखों का अनुवाद किया जाय।

अब जबकि हिन्दी विकिपीडिया काफ़ी अच्छे लेख लिखे गए हैं, यह हिन्दी विकिपीडिया तथा उसके अन्थक परिश्रम करने वाले योगदानकर्ताओं के लिये एक सुन्दर अवसर है कि वह लोग अपने ज्ञानकोषीय सम्पादनों को संसार की दूसरी भाषाओं का हिस्सा बना सकें तथा दूसरी भाषाओं में उपलब्ध विकिपीडिया के उल्लेखनीय ज्ञान सागर को हिन्दी में अनुवाद करें जिससे हमारी विकिपीडिया में विश्व स्तरीय जानकारी सम्मिलित हो सके।

इस परियोजना को क्रियांवित करने के लिये सबसे पहले आवश्यक है कि हम आपसी चर्चा से हिन्दी विकिपीडिया के पाँच सर्वश्रॅष्ठ लेखों का चुनाव करें जो मूल्यत: हिन्दी विकिपीडिया पर लिखे गए हों और उनका अंग्रेज़ी में अनुवाद करॅ। मैं सदस्यों से अपनी-अपनी बहुमूल्य राय यहाँ लिखने और परियोजना को क्रियांवित करने और इस दिशा मे पहल करने के लिये निवेदन कर रहा हूँ। Hindustanilanguage (वार्ता) 07:54, 22 अगस्त 2013 (UTC).

नोट:परियोजना के अनुसार वे लेख चुने जाने चाहियें जो हमारी भाषा एवं संस्कृति से जुड़े हों।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 13:32, 22 अगस्त 2013 (UTC)

कृपया अन्य सदस्य भी अपनी राय दें जिस से जल्द-से-जल्द हम भी अपने लेख परियोजना में सूचीबद्ध कर सकें।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 04:58, 23 अगस्त 2013 (UTC)

बिल जी, आपके द्वारा सुझावित विषय अच्छे हैं लेकिन इन सभी पृष्ठों को अभी सुधार की आवश्यकता है। इन सभी पृष्ठों में बहुत कम सन्दर्भ हैं, जो हैं उन्हें ठीक से सुसज्जित करने की आवश्यकता है। भारत की संस्कृति लेख में लाल कड़ियाँ बहुत हैं। उन्हें भी कम किया जाना चाहिए।☆★संजीव कुमार (बातें) 05:12, 23 अगस्त 2013 (UTC)
संजीव जी, हमें कुछ बातों का ध्यान रख कर लेखों का चुनाव करना है: 1) भारत व उसकी संस्कृति में महत्व, 2) एशियाई भाषाओं की विकि परियोजनाओं पर उनकी कम उपस्थिति, 3) लेखों का हिन्दी विकि पर उत्तम स्तर का होने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि लेखों का अंततः अन्य एशियाई भाषाओं में अनुवाद हिन्दी विकि से नहीं अपितु अंग्रेज़ी विकि से होना है। ये सभी लेख अंग्रेज़ी विकि पर ठीक स्थिति में है और बाकि का कार्य हम कर सकते हैं, उसमें हमारा सहयोग अंग्रेज़ी विकि के अन्य सदस्य भी करेंगे। वैसे भी मैने ये सुझाव दिए हैं, अंतिम निर्णय तो सभी सदस्यों की आम सहमति के पश्चात होगा।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 05:30, 23 अगस्त 2013 (UTC)
बिल जी मुझे लग रहा है, हम दोनों एक ही बात कह रहे हैं।☆★संजीव कुमार (बातें) 05:37, 23 अगस्त 2013 (UTC)

कृपया इसे भी देखें व नामांकन हेतु विचार करें -

--मनोज खुराना (वार्ता) 06:58, 26 अगस्त 2013 (UTC)

  • हिन्दू काल गणना - यदि विचार किया जाये तो यह लेख क्रिश्चियन धर्म के एक बड़े प्रश्न का उत्तर भी देता है। ७ दिन में सृष्टि सृजन को विज्ञान नही मानता, परंतु यदि इस लेख के अनुसार ब्रह्मा के दिन की बात की जाए, तो विज्ञान व बाईबल के कथन मापन लगभग समान या समान नहीं तो समीप हो जाते है तथा दुविधा समाप्त हो जाती है। नोट- यह मात्र एक विचार है। ---मनोज खुराना (वार्ता) 07:13, 26 अगस्त 2013 (UTC)
जैसा कि सिद्धार्थ जी ने कहा, "परियोजना के अनुसार वे लेख चुने जाने चाहियें जो हमारी भाषा एवं संस्कृति से जुड़े होना चाहिये"। मुझे लगता है कि बिल जी, सिद्धार्थ जी, आशीष जी, संजीव जी, हुन्नजज़ल जी और कई अन्य सदस्य इस तरह के कई अच्छे लेख लिख चुके हैं। मैं सदस्यों से निवेदन करूँगा कि वो अपने खुद के लिखे लेखों का ब्यौरा दें। हम चर्चा के माध्यम से प्रकिया को आगे बढा सकते हैं। Hindustanilanguage (वार्ता) 07:06, 2 सितंबर 2013 (UTC),


छोटे यू॰आर॰एल हेतु नया गैजेट (उपकरण)[संपादित करें]

नमस्कार,

मैंने शीर्षक के नीचे दिखने वाले यू॰आर॰एल को एक टूलटिप में बदलने के लिए एक गैजेट का निर्माण किया है। ये गैजेट यू॰आर॰एल को टूलटिप की तरह दिखाने के अतिरिक्त टूलटिप में सहायता:छोटा यू॰आर॰एल की एक कड़ी प्रदान करता है। इस गैजेट को सदस्य अपनी वरीयताओं से सक्षम कर सकते हैं। यह गैजेटों में शक्लोसूरत सम्बंधी उपकरण भाग में सबसे नीचे है। यह गैजेट अभी प्रयोगात्मक स्थिति में है और इसमें कोई भी सुधार हेतु सुझाव/टिप्पणी आमंत्रित है। साथ ही मेरा सदस्यों से अनुरोध है कि समय मिले तो इसे विभिन्न त्वचाओं में एवं विभिन्न ब्राउज़रों पर जाँच लें। धन्यवाद--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 20:59, 23 अगस्त 2013 (UTC)

साथ ही यदि सदस्यों को ये टूलटिप प्रणाली उपयुक्त लगे तो अंक परिवर्तक में भी इसका प्रयोग किया जाए। वर्तमान अंक परिवर्तक में यदि कोई सदस्य अंक परिवर्तक की ऊपर दिखने वाली कड़ी पर क्लिक करता है तो उसे सीधे सहायता पृष्ठ पर ले जाया जाता है। इसके बजाए यदि सहायता पृष्ठ की कड़ी सहित यदि टूलटिप दिखे तो क्या बेहतर होगा?--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 21:25, 23 अगस्त 2013 (UTC)

सिद्धार्थ जी, नमस्कार । मैं शीर्षक के नीचे दिखने वाले यू॰आर॰एल को एक टूलटिप में बदलने से होने वाले लाभ (या उसके औचित्य) को नहीं समझ सका। क्या इस पर कुछ और प्रकाश डाल सकते हैं?-- अनुनाद सिंहवार्ता 07:56, 10 सितंबर 2013 (UTC)
अनुनाद जी। इस समय जिस प्रकार से छोटा यू॰आर॰एल शीर्षक के नीचे दीखता है, उससे ये बिलकुल नहीं पता चलता कि ये किसका यू॰आर॰एल है और किसलिए है। अतः आम पाठक को इस बात का कोई संकेत नहीं मिलता कि यह किसलिए है और क्या करता है। और इसपर क्लिक करने पर पृष्ठ रीलोड होने के अतिरिक्त कुछ नहीं होता। अतः आम पाठक को, और ऐसे सदस्य को जो इसके बारे में छानबीन ना करे, इसकी उपयोगिता का पता नहीं चलेगा। चौपाल पुरालेख में आप पाएँगे कि शुरू-शुरू में रोहित जी भी इससे भ्रमित हुए थे।
इसके अतिरिक्त व्यक्तिगत रूप से शीर्षक के ठीक नीचे दिखने वाला ये यू॰आर॰एल मुझे भद्दा लगता है।
इसी सम्बन्ध में बग 41252 और बग 38863 भी फ़ाइल हुए थे। बग 38863 पर टिप्पणियों में इसे टूलटिप के रूप में दिखाने का विचार उठाया गया जो मुझे उपयुक्त लगा।
अतः इन समस्याओं के निवारण हेतु मैंने इस गैजेट को बनाया है। यह टूलटिप को शीर्षक के साथ दिखने वाले एक शेयर आइकन पर माउस लेजाने पर दिखाता है। टूलटिप में यू॰आर॰एल से पहले स्पष्ट रूप से "छोटा यू॰आर॰एल" लिखा है, और अंत में एक सहायता आइकन एक सहायता पृष्ठ की कड़ी देता है (जो एक नयी विंडो/टैब में खुलता है)।
प्रयोग कर के देखें, और यदि कोई सुधार संभव हों तो अवश्य बताएँ।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 18:01, 16 सितंबर 2013 (UTC)


प्रबंधक[संपादित करें]

मैंने 8 मार्च 2013 को प्रबंधक पद के लिए आवेदन किया था साथ ही आप सभी सदस्यों का समर्थन भी मांगा था। विकी नाति के अनुसार आवेदन करने के 1 माह तक मतदान प्रक्रिया चलती है और इसके पश्चात प्रशासक इस आवेदन को सफल या विफल घोषित करते हैं, और यदि उम्मीदवार विकिनीतियों के अनुसार पर्याप्त समर्थन प्राप्त करते है तो उनके आवेदन को सफल घोषित किया जाता है। कृपया मेरा परिणाम बतायें। मैं आशा करता हूँ कि मुझे प्रबंधक पद अविलंब प्रदान किया जायेगा।Dinesh smita (वार्ता) 04:30, 25 अगस्त 2013 (UTC)

यहाँ इतनी शान्ति क्यों है? शायद इसलिए कि आम सदस्यों का कोई अधिकार नहीं है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 14:09, 29 अगस्त 2013 (UTC)
यदि किसी को भी इस बारे में कुछ नहीं कहना तो, मुझे प्रबंधक प्रदान करने में देर किस बात की है?Dinesh smita (वार्ता) 03:22, 2 सितंबर 2013 (UTC)
मुझे लगता है यह प्रस्ताव मेटा विकी पर ले जाना चाहिए, क्योंकि अपने यहाँ कोई प्रशासक नहीं है एवं यह अधिकार केवल प्रशासक ही दे सकते हैं। अब मुझे यह नहीं पता कि आवेदनकर्त्ता स्वयं यह प्रस्ताव वहाँ ले जा सकता है अथवा नहीं।☆★संजीव कुमार (बातें) 03:29, 2 सितंबर 2013 (UTC)
क्या इस विषय पर बोलने के लिए किसी के पास कुछ नहीं है? बेतुके विषयों पर चर्चा करने वाले और एक दूसरे पर अकारण दोषारोपण करने वाले सभी सदस्य भी चुप हैं। और कुछ नहीं तो मौजमजे के लिए ही कुछ लिख दो। क्या विकी भी सिर्फ भगवान भरोसे ही चल रहा है?Dinesh smita (वार्ता) 03:42, 4 सितंबर 2013 (UTC)
नमस्ते दिनेश जी, सामान्यतः बिल जी डाकिये का कार्य भी करते हैं (उन्ही के शब्दों को मेरे अनुसार लिखा है।) अतः मैं सोच रहा था कि वो आपके लिए भी यह कार्य करेंगे। अब उन्होंने ऐसा क्यों नहीं किया वो तो वो ही जाने। मैं कुछ भी कहुँगा तो गलत के शिवाय कुछ नहीं होगा।☆★संजीव कुमार (बातें) 04:18, 4 सितंबर 2013 (UTC)
शायद आप सिवाय कहना चाहते हैं। Hindustanilanguage (वार्ता) 06:56, 4 सितंबर 2013 (UTC).
एचएल जी आपने ठीक कहा। मेरा उद्देश्य सिवाय लिखना था लेकिन गलती तो हो ही जाती है।☆★संजीव कुमार (बातें) 11:21, 4 सितंबर 2013 (UTC)

iPod या आईपॉड[संपादित करें]

उपरोक्त शीर्षकों में से कौन सा अधिक उचित रहेगा, इस बारे में कृपया राय दें। असल में iPod का हिन्दी लिप्यान्तरण तो आईपॉड ही सही है, और लेख इसी नाम से बना भी था, किन्तु आद्याक्षर (प्रथम अक्षर) को निचले केस में बदल देने की यूटिलिटी आने के बाद से मुझे लगा कि iPod उनका एकाधिकार (कॉपीराइट) नाम है, तो यदि संभव हो तो उसे iPod ही लिखना उचित लगा, वैसे इस बारे में जैसा बहुमत हो, वैसा किया जा सकता है। क्योंकि ये iPod है न कि साधारण ipod, अतः इसे लिप्यान्तरण न करके इसके i को निचले केस में बनाये रखने की सुविधा इसके असाधारण नाम को साधारण ipod से अलग करती लगी। शेष जैसा बहुमत मिले, वैसे अभी भी आईपॉड iPod पर ही अनुप्रेषित है।--आशीष भटनागरवार्ता 10:06, 28 अगस्त 2013 (UTC)

यदि अन्य भाषाओं में इस लेख को देखा जाय तो इसका समाधान तुरन्त निकल आ रहा है। अधिकांश अलैटिन लिपियों वाली भाषाओं ने इसे अपनी-अपनी लिपि में ही लिखा है। इसके अलावा लैटिन लिपि वाली भाषाओं में भी अधिकांश नामों में 'आई' (i) कैपिटल रूप में ही रखी गई है। अतः हिन्दी में 'आईपॉड' नाम होना चाहिए (iPod नहीं)।-- अनुनाद सिंहवार्ता 11:18, 29 अगस्त 2013 (UTC)
मेरे विचार से अनुनाद जी ठीक कह रहे हैं। iPod एक लोगो की तरह हो जाता है जिसे शीर्षक में रखना कुछ ठीक प्रतीत नहीं होता।☆★संजीव कुमार (बातें) 13:55, 29 अगस्त 2013 (UTC)
हाँ ये बात तो सही है, किन्तु इसका एक कारण ये भी हो सकता है कि संभवतः इन्हें निचले केस वाली कमाण्ड ही ज्ञात न हो, या वहां सक्षम न हो। फिर भी अनुनाद जी वाली बात कुछ सही लगी। खैर कुछ राय और ले लें, फिर बदल तो कभि भी दिया जा सकता है। केवल पिछले बदलाव को ही पूर्ववत करना होगा।--आशीष भटनागरवार्ता 04:08, 30 अगस्त 2013 (UTC)
मेरे विचार से भी यह देवनागरी "आईपॉड" पर ही होना चाहिए। इसका कारण यह है कि ऐसे कई product एवं ब्रैंड हैं जो अपना नाम अपनी मूल भाषा में ही लिखते हैं। उदाहरण: गूगल को हिन्दी में प्रयोग करने पर भी Google ही लिखा मिलता है। Nokia कभी भी नोकिया नहीं लिखता (मैंने तो नहीं देखा)। यदि हम अंग्रेज़ी लिपि में नाम रखने लगें तो बहुत सी ऐसी वस्तुएँ हैं जिनके लेखों के नाम बदलने संभव हैं। और अंत में इससे हमारे पाठकों का घाटा ही होगा, चूँकि फिर हम इस प्रक्रिया को केवल अंग्रेज़ी लिपि तक सीमित नहीं रख पाएँगे। फिर कोई जापानी, कोई चीनी, कोई कोरियाई, कोई जर्मन ब्रैंड का नाम भी उनकी लिपि में लिखने की बात आएगी।
इसके अतिरिक्त मेरे विचार से नीति होनी चाहिए कि लेख का नाम देवनागरी में ही होना चाहिए (यदि अभी ना हो)। हाँ अंग्रेज़ी अथवा अन्य भाषा से अनुप्रेषण बनाने में हर्ज़ नहीं।
साथ ही, सदस्यों को शायद यह पता न हो, परन्तु प्रबंधक के अतिरिक्त कोई भी सदस्य तो देवनागरी के अतिरिक्त किसी लिपि में मुख्य नामस्थान में लेख बना ही नहीं सकते, उन्हें विशेष:दुरुपयोग फ़िल्टर/59 द्वारा रोक दिया जाता है। हाँ वे #redirect का प्रयोग कर के अनुप्रेषण बना सकते हैं।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 07:09, 3 सितंबर 2013 (UTC)
सिद्धाथ जी के तर्क एकदम उचित लगे। अतः अधिक न लिखते हुए मैं उस लेख को देवन्गरी नाम पर ही पूर्ववत कर देता हूं।--आशीष भटनागरवार्ता 07:51, 3 सितंबर 2013 (UTC)

Calling for participation: CIS-A2K's Train The Trainer Program[संपादित करें]

CIS-A2K is organising a 4 day Train the Trainer (TTT) program in Bangalore during first week of October 2013. The idea of the program is to build capacity and enable community members to conduct outreach sessions independently or with minimal support to introduce Wikipedia to prospective editors in their respective Indian languages.

By way of this program, CIS-A2K wants to support and enable community members who might be interested to conduct Wikipedia outreach sessions in their own cities/languages. The event is open to all Wikimedia volunteers from India who can and want to support outreach events in the coming year.

CIS-A2K is calling for applicants for it's Train the Trainer Program. If you'd like to be part of this program please make sure that you meet the selection criterion and submit Train the Trainer Program Application From by 13th September, 2013.

To know more about the program, rationale, overview, timeline etc. please visit the Meta page.

We look forward to hearing from you soon. For any further queries please mail at a2k@cis-india.org.

Thanks --Nitika.t (वार्ता) 13:24, 30 अगस्त 2013 (UTC)


रखरखाव हेतु सुझाव - श्रेणियां[संपादित करें]

मुखपृष्ठ पर श्रेणियां लिंक पर क्लिक करते ही एक लिस्ट आती है, जो कुछ ऐसी दिखती है- 10‏‎ (2 सदस्य) 100‏‎ (2 सदस्य) 1000‏‎ (1 सदस्य) 1001‏‎ (1 सदस्य) 1002‏‎ (1 सदस्य) 1003‏‎ (1 सदस्य) शुरू में मुझे कुछ समझ नहीं आया। कई दिन हिंदी विकिपीडिया पर बिताने के पश्चात् अब जाकर समझ में आया है कि ये वर्षों की सूची है। मेरा प्रबंधकगण से अनुरोध है कि - वर्षवार घटनासूची - के नाम से एक ही प्रमुख श्रेणी होनी चाहिए जिसमें इन सबको स्थानांतरित करना चाहिए। धन्यवाद। --मनोज खुराना (वार्ता) 07:20, 31 अगस्त 2013 (UTC)

मनोज जी, ये वर्षों की सूची नहीं है। ये हिन्दी विकि पर उपस्थिति सभी श्रेणियों की वर्णानुक्रमक सूची है जिसमें संख्यात्मक श्रेणियाँ सबसे पहले दिखती हैं।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 08:31, 2 सितंबर 2013 (UTC)
मनोज जी, आपने शायद विशेष:श्रेणियाँ पृष्ठ खोला है। जैसा कि बिल ने बताया, यह वर्णक्रमानुसार सूची है। यह मीडियाविकि द्वारा स्वचालित रूप से बनाई जाती है और इसमें हम श्रेणियों को ऊपर-नीचे नहीं कर सकते हैं।
साथ ही, आपको अंत में जो सदस्य), वह वास्तव में (1 सदस्य) प्रकार का होना चाहिए। आप शायद गूगल क्रोम का प्रयोग कर रहे हों, यह उसमें दिखने वाला एक बग है। यदि आप फ़ायरफ़ॉक्स का प्रयोग करेंगे तो आपको सभी श्रेणियों के आगे उसके सदस्यों की संख्या दिखाई देगी।
हाँ, मेरे विचार से हमें इस लिंक को बदलकर शायद श्रेणी:लेख की कड़ी देनी चाहिए।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 07:32, 3 सितंबर 2013 (UTC)
बिल जी, सिद्धार्थ जी,
सहायता के लिए धन्यवाद। आगे मेरा निवेदन यह है कि सन् ०००१ से २०१३ तक की २०१३ श्रेणियां रखने की बजाय क्यों न एक ही संगठित श्रेणी बनाई जाए और इन २०१३ श्रेणियों को उप-श्रेणियां बना दिया जाए। हम श्रेणियों को ऊपर-नीचे नहीं कर सकते-ठीक है, लेकिन हम पुनर्संगठन तो कर ही सकते हैं। हां, यदि ये स्वचालित सिस्टम श्रेणी व उप-श्रेणी में भेद नहीं करता तो फिर इस सुझाव का कोई अर्थ नही। इस बारे में कृपया प्रकाश डालने का कष्ट करें। --मनोज खुराना (वार्ता) 08:26, 3 सितंबर 2013 (UTC)
मनोज जी, ये श्रेणियाँ सभी श्रेणी:वर्ष की उप-श्रेणियाँ हैं। और आपने सही सोचा, मीडियाविकि श्रेणी और उप-श्रेणी में फ़र्क नहीं करता (कम-से-कम विशेष:श्रेणियाँ पर तो नहीं)। अतः इस स्वचालित रूप से बनाई गई सूची में हम कोई परिवर्तन नहीं कर सकते हैं। हम श्रेणियों को उपश्रेणियाँ बना सकते हैं, परन्तु उससे इस विशेष पृष्ठ पर दिखने वाली सूची में कोई बदलाव नहीं आएगा।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 18:52, 3 सितंबर 2013 (UTC)

संदेश[संपादित करें]

जो संदेश विकी पर आते हैं क्या हम उनकी शुद्धता के प्रति भी गंभीर नहीं हैं? विकी के शीर्ष पर निम्न संदेश प्रदर्शित किया जा रहा है, "विकी स्मारकों से करता है प्रेम: किसी एक स्मराक्की तस्वीर खिचिए. विकिपेडिया की सहायता कीजिये और जीतिए !" यह संदेश न केवल व्याकरण की दृष्टि से त्रुटिपूर्ण है अपितु वर्तनी संबंधी अशुद्धियों से भी परिपूर्ण है।

मेरे विचार से शुद्ध संदेश होना चाहिये "विकी स्मारकों से प्रेम करता है: किसी स्मारक की तस्वीर खींचिये, विकीपीडिया की सहायता कीजिये और जीतिए!"Dinesh smita (वार्ता) 03:28, 1 सितंबर 2013 (UTC)

दिनेश जी आपकी बात से मैं पूर्णतः सहमत हूँ। मुझे लगता है कि वाक्य का प्रथम भाग "विकी स्मारकों से करता है प्रेम" इस सन्देश को रोचक बनाने के लिए लिखा गया है। लेकिन यह सन्देश लिखा किसने है यह मेरे लिए अभी भी एक पहेली है।☆★संजीव कुमार (बातें) 05:28, 1 सितंबर 2013 (UTC)
दिनेश जी, ध्यान देने के लिए धन्यवाद। मैं इसे जल्द ही ठीक करवा दूँगा। सही अनुवाद मेरे विचार से यह होना चाहिए:
"विकि लव्ज़ मॉन्युमॅण्ट्स: किसी स्मारक की तस्वीर खींचिए, विकीपीडिया की सहायता कीजिए और जीतिए!" अगर कोई आपत्ति ना हो तो मैं इस संदेश से पुराना संदेश बदलवा देता हूँ।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 17:42, 2 सितंबर 2013 (UTC)
मुझे लगता है इसका रूप ठीक है, केवल वर्तनी सुधार की आवश्यकता है। यथा:- "विकी स्मारकों से करता है प्रेम: किसी एक स्मराक की तस्वीर खिचिए, विकिपीडिया की सहायता कीजिये और जीतिए !" आगे सदस्यों का मत सर आँखों पर।☆★संजीव कुमार (बातें) 18:37, 2 सितंबर 2013 (UTC)
संजीव जी अभी भी आपने खींचिए को खिचिए और स्मारक को स्मराक लिखा है। बिल साहब हिन्दी एक सक्षम भाषा है सिर्फ राजनीति की शिकार है। आप से अनुरोध है हिन्दी में अनावश्यक रूप से अंग्रेजी घुसाने की कोशिश न किया करें। आप से यह भी अनुरोध है कि मेरी प्रबंधक बनने की अर्जी पर आप भी अपनी राय दें। Dinesh smita (वार्ता) 15:47, 5 सितंबर 2013 (UTC)
धन्यवाद दिनेश जी, पता नहीं पिछले ४-५ वर्षों में क्या हो गया। मेरे लिखे हुए में अध्यापकों के लिए त्रुटियाँ ढूँढ़ना मुश्किल हो जाता था और अब मेरे लिए त्रुटिरहित लिखना मुश्किल हो गया है। हिन्दी विकि पर आने के बाद काफ़ी सुधार हुआ है लेकिन अभी बहुत सुधार करना बाकी भी है, आशा है आपका सहयोग ऐसे ही जारी रहेगा। अतः शुद्ध वाक्य इस प्रकार बनता है: "विकी स्मारकों से करता है प्रेम: किसी एक स्मारक की तस्वीर खींचिए, विकिपीडिया की सहायता कीजिये और जीतिए !"☆★संजीव कुमार (बातें) 15:57, 5 सितंबर 2013 (UTC)
दिनेश जी, यहाँ "अनावश्यक रूप से [कुछ घुसाया]" नहीं गया है। मैने कभी हिन्दी की सक्षमता पर संदेह नहीं किया यही कारण है अपना गृह विकि छोड़ कर यहाँ योगदान देता हूँ। विकि लव्ज़ मॉन्युमॅण्ट्स एक प्रतियोगिता है मतलब एक व्यक्तिवाचक संज्ञा है इसलिए इसका अनुवाद नहीं होता, जिस प्रकार आप सैमसंग को 'तीन तारे' नहीं कहते। आपके नामांकन के बारे में बस इतना कहूँगा कि स्टुअर्ड इतने पुराने नामांकन को नहीं स्वीकार करते।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 19:03, 5 सितंबर 2013 (UTC)
बिल जी, आपकी गृह विकि कौन सी है? जब आपके देश/प्रदेश के बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है तो कैसे माना जाय कि आप कोई दूसरी विकि 'छोड़कर' यहाँ योगदान कर रहे हैं। वैसे मुझे तो यह वाक्य ( यही कारण है अपना गृह विकि छोड़ कर यहाँ योगदान देता हूँ।) अप्रासंगिक तथा अनावश्यक लग रहा है। याद कीजिए, कुछ दिन पूर्व आपने इसी तरह की भौगोलिक स्थिति से संबन्धित टिप्पणी की थी जिस पर संजीव कुमार जी ने आपसे सवाल पूछा था। -- अनुनाद सिंहवार्ता 07:11, 10 सितंबर 2013 (UTC)
बिल जी, नामांकन भले ही पुराना है लेकिन मतदान तो अभी तक भी चल ही रहा है। एक बार इसे स्टीवर्ड्स के पास ले जाने में क्या ऐतराज है? यदि वो नहीं स्वीकारेंगे तो भी अपना कुछ बिगड़ने वाला नहीं है। वैसे भी वहाँ बहुत नामांकन असफल होते हैं।☆★संजीव कुमार (बातें) 19:49, 5 सितंबर 2013 (UTC)


सदस्यों से सहायता का निवेदन[संपादित करें]

  • विज्ञान के क्षेत्र में प्रसिद्ध भारतीय महिला महिलाओं पर मैंने एक नया लेख सुनेत्रा गुप्ता लिखा है जिसके शायद पूरे साँचे हिन्दी विकिपीडिया पर नहीं हैं, प्रबंधकों से निवेद्न है कि कृपया मदद करें।
  • विज्ञान पर लेख लिखने वाले सदस्य यदि उस लेख में भाषा सुधारना चाहें तो उनका हार्दिक स्वागत है।
  • इसी तरह से बानू जहांगीर कोयाजी में मेरे सुधार के प्रयास को देखें और टिप्पणी दें।
  • यदि इस विषय में सक्रिय सदस्य को लेख लिखे हों, तो इस पृष्ठ पर सूचित करें। Hindustanilanguage (वार्ता) 10:58, 1 सितंबर 2013 (UTC).

अतुल्य भारत (Incredible India)[संपादित करें]

देश विदेश में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले इस नारे के नाम से न तो कोई पृष्ठ है, न श्रेणी। जबकि इस नाम से एक विशिष्ट श्रेणी-संदूक मुखपृष्ठ पर होना चाहिए। इस पर सदस्यों से मतदान का सुझाव देता हूं।

--मनोज खुराना (वार्ता) 06:12, 2 सितंबर 2013 (UTC)

अतुल्य भारत नमक पृष्ठ मेरे द्वारा बनाया गया है, देखें और परामर्श दें, कि इसमें और क्या-क्या सुधार किए जा सकते हैं।

Mala chaubey (वार्ता) 09:59, 2 सितंबर 2013 (UTC)

माला जी, अति सुन्दर ! 'शुभ काम में देरी क्या?' को आपने व्यावहारिक धरातल पर उतार दिया। मनोज खुराना जी भी इस महत्वपूर्ण विषय की उपेक्षा की ओर ध्यानाकर्षण के लिए साधुवाद के अधिकारी हैं।-- अनुनाद सिंहवार्ता 10:39, 2 सितंबर 2013 (UTC)
माला जी, आपकी फुर्ती काबिल-ए-तारीफ है। आप जैसे सदस्यों की हिन्दी विकी को नितान्त आवश्यकता है।☆★संजीव कुमार (बातें) 18:43, 2 सितंबर 2013 (UTC)
माला जी, आपकी फुर्ती नाकाबिल-ए-बयां है।

आगे सुझाव है कि एक विशिष्ट श्रेणी-संदूक होना चाहिए जो कि एक पर्यटक क्या चाहता है, इस बात को ध्यान में रख कर बनाया जाए। इसमें निम्न खण्ड बनाए जा सकते हैं -

  • पर्वत- कश्मीर, लद्दाख, ज़ंस्कार, हिमाचल, उत्तराखण्ड, सिक्किम, पूर्वोत्तर, अरावली, पश्चिमी घाट आदि आदि
  • मरुस्थल- राजस्थान, कच्छ
  • झीलें, नदियां- डल, चिलका, लोकटक, नाको, नैनीताल, उदयपुर आदि आदि
  • समुद्र तट- अंडमान, लक्षद्वीप, गोआ, कलकत्ता से कन्याकुमारी से सौराष्ट्र
  • धार्मिक स्थल- अमृतसर, कुरुक्षेत्र, वृंदावन, हरिद्वार, बोधगया, धर्मशाला, हज़रतबल, अजमेर आदि आदि
  • एतिहासिक स्थल- जलियांवाला बाग, पोरबंदर, अनेकानेक किले व स्मारक
  • प्रागैतिहासिक स्थल - भीमबेटका, हाम्पी, धोलवीरा व अन्य सिन्धु-सरस्वती सभ्यता स्थल आदि
  • स्थापत्य - ताज, हवामहल, मीनाक्षी मंदिर, अनेकानेक किले व स्मारक
  • चिकित्सा पर्यटन- जयपुर फुट, नारायण सेवा संस्थान, केरल आयुर्वेद, ऋषिकेश में योग,
  • भोजन-श्रीनगर, लखनऊ का नान-वेज, बंगाल का मच्छी चावल, देहरादून का बासमती, पंजाब की मक्के की रोटी-सरसो़ का साग, मथुरा के पेड़े, राजस्थान का दाल बाटी चूरमा, जयपुर की कचौरी, बिहार की लिट्टी, दक्षिण का डोसा, मुम्बई का वड़ा पाव आदि आदि

--मनोज खुराना (वार्ता) 08:09, 3 सितंबर 2013 (UTC)

सर्वप्रथम तो मालाजी की स्तुति एवं धन्यवाद! साथ ही प्रसाद स्वरूप ये साँचा:ज्ञानसन्दूक अभियान भी जिसे अभी तो इस लेख के लिये बनाय़ा है और लगा भी दिया है, और आगे भि किसी भि अभियान के लिये काम आएगा, हालांकि अभि तक अंग्रेज़ी में कोई Infobox campaigne या संबंधित Template मुझे नहीं मिला, वर्ना उसे अनुवाद कर देना काफ़ी सरल होता, अतः अभी-अभी नया बनाया है।
दूसरे जो पर्यटन सुझाव मनोज जी ने दिये हैं, वे शायद पर्यटन भूगोल या भारतीय पर्यटन लेखों में अधिक उपयुक्त लगेंगे, वैसे जैसी संपादिका महोदया की राय एवं बहुमत!
प्रवेशद्वार:भारतीय पर्यटन भी बनाया जा सकता है।--आशीष भटनागरवार्ता 09:07, 3 सितंबर 2013 (UTC)
  • साँचा {{अतुल्य भारत}} मेरे द्वारा बनाया गया है, जिसमें मनोज खुराना जी के द्वारा सुझाए गए सभी बिन्दुओं को समायोजित करने का प्रयास किया गया है। फिर भी यदि कुछ सुधार की आवश्यकता हो तो बताएं।

Mala chaubey (वार्ता) 10:32, 3 सितंबर 2013 (UTC)

आशीष जी,
प्रवेशद्वार:भारतीय पर्यटन अति उत्तम सुझाव है। किन्तु अतुल्य भारत, प्रवेशद्वार:भारतीय पर्यटन या प्रवेशद्वार:भारतीय पर्यटन - अतुल्य भारत एसा कुछ होना चाहिए क्योंकि -भारतीय पर्यटन व अतुल्य भारत- दोनो का बराबर प्रयोग होने की संभावना है।
माला जी,
विशेष आयोजन- रेड डि हिमालया (Raid de Himalayas), डेसर्ट सफारी, पैलेस ऑन व्हील्स, अहमदाबाद पतंग उत्सव, कुंभ मेला आदि जोड़े जा सकते हैं। बनारस, इलाहाबाद आदि किस श्रेणी में रखे जाएं, मैं समझ नहीं पा रहा। मैं यह भी कहना चाहूंगा कि उपरोक्त विवरणिका मेरा एक सुझाव मात्र है, इसे ही फाईनल न माना जाए। मैं बाकी सभी सदस्यों से भी अनुरोध करूंगा कि एक पर्यटक बनकर सोचें और सुधार या विस्तार के सुझाव दें। धन्यवाद। --मनोज खुराना (वार्ता) 12:06, 3 सितंबर 2013 (UTC)
आशीष जी,
यदि बाकी सदस्य भी सहमत हों तो मेरे विचार से प्रवेशद्वार:भारतीय पर्यटन (अथवा- साँचा {{अतुल्य भारत}} ) को मुखपृष्ठ पर स्थायी रूप से स्थापित किया जाना चाहिए।
दूसरा-अभी मुझे ज्ञात नहीं कि निर्वाचित या आज का आलेख चुनने की शर्तें क्या हैं, लेकिन निश्चित ही माला जी का यह आलेख बहुत अच्छा बन पड़ा है। यदि संभव हो तो विचार करें और यदि सहमत हों तो आवश्यक कष्ट भी। धन्यवाद। --मनोज खुराना (वार्ता) 12:20, 3 सितंबर 2013 (UTC)
आप सभी सदस्य इस सम्बन्ध में बहुत ही अच्छा कार्य कर रहे हैं। आप सभी को इस कार्य कए लिए मेरी ओर से बधाई। समय मिला तो मैं भी इसमें कुछ जोड़ने की कोशिश करूँगा।
मैं मनोज जी को एवं आप अन्य सदस्यों को (ख़ासकर नए सदस्यों को) इस बात से अवगत कराना चाहूँगा कि विकिपीडिया किसी एक राष्ट्र का नहीं है। अर्थात हिन्दी विकिपीडिया पर किसी भी एक राष्ट्र का हक़ नहीं है। इसका एक निष्कर्ष यह निकलता है कि मुखपृष्ठ पर किसी एक राष्ट्र को बढ़ावा देना गलत होगा। हम यहाँ विश्व भर में हिन्दी बोलने वालों को हिन्दी में जानकारी प्रदान करने हेतु एक ज्ञानकोष बना रहे हैं। हम यहाँ किसी देश की बढ़ाई करने हेतु नहीं आए हैं। अतः, यद्यपि भारत में पर्यटन सम्बन्धी लेखों एवं साँचों का निर्माण विकिपीडिया के लिए आवश्यक है, परन्तु ऐसे किसी साँचे को मुखपृष्ठ पर लगाना गलत होगा। हाँ, इस कार्य हेतु उपयुक्त प्रवेशद्वार अवश्य बनाया जा सकता है। इस सम्बन्ध में प्रवेशद्वार अथवा साँचों सम्बन्धी कोई भी सहायता की आवश्यकता हो तो मैं सदैव तत्पर हूँ।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 19:11, 3 सितंबर 2013 (UTC)

IRC चैनल हेतु channel op की आवश्यकता[संपादित करें]

नमस्कार।

हिन्दी विकिपीडिया के irc chat channel #wikipedia-hi पर इस समय शायद एक ही channel op उपलब्ध है, स:Jyothis, जो कि एक स्टुअर्ड हैं, परन्तु हिन्दी विकिपीडिया पर कार्य नहीं करते हैं। हिन्दी विकिपीडिया का कोई भी सदस्य इस चैनल का op नहीं है, अतः बिलकुल मूल काम जैसे channel topic सेट करना, के लिए भी Jyothis पर निर्भर करना पड़ता है। उन्होंने यह channel शायद मयूर जी के कहने पर बनाया था। संभव है कि शायद मयूर जी इस चैनल के op हों, परन्तु वे मुख्यतः असक्रीय हैं।

अतः मेरा अनुरोध है कि कोई वर्तमान सक्रीय सदस्य जो IRC का प्रयोग जानता हो Jyothis से संपर्क करे और op status ले ले, ताकि यदि इस channel सम्बन्धी कोई कार्य हो तो वह आसानी से किया जा सके।

धन्यवाद--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 07:51, 3 सितंबर 2013 (UTC)

सिद्धार्थ जी, मैं मेरी अज्ञानता के लिए क्षमा चाहता हूँ। क्या आप मुझे इस बारे में और अधिक बता सकते हैं कि irc chat channel क्या है? channel op क्या है? आयाआरसी का प्रयोग कैसे करते हैं?☆★संजीव कुमार (बातें) 09:34, 3 सितंबर 2013 (UTC)
संजीव जी, इस जानकारी हेतु आप विकिपीडिया:आइआरसी_चैनल एवं en:Wikipedia:IRC देख सकते हैं।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 17:31, 6 सितंबर 2013 (UTC)

नाम बदलाव हेतु सूचना[संपादित करें]

पॉन्डिचेरी पृष्ठ के नाम बदलाव की आवश्यकता है क्योकि पॉन्डिचेरी का नाम बदल कर पुदुच्चेरी हो चुका है. लेकिन हिंदी विकिपीडिया पर अब भी यही नाम चल रहा है. अतः इसका नाम बदल कर जल्द से जल्द पुदुच्चेरी किया जाए. --Prateekmalviya20 (वार्ता) 11:38, 3 सितंबर 2013 (UTC)

Prateekmalviya20 जी,

पुदुच्चेरी से भी यदि आप विकिपीडिया पर जाएँगे तो पॉन्डिचेरी पृष्ठ ही खुलेगा। दोनों पृष्ठ समान है, कोई असुविधा नहीं होनी चाहिए । फिर भी यदि अन्य सदस्यों को लगता है, कि यह पृष्ठ पुदुच्चेरी ही होना चाहिए तो इसे बदला जा सकता है। Mala chaubey (वार्ता) 12:01, 3 सितंबर 2013 (UTC)

नाम पुदुच्चेरी ही होना चाहिए और पॉन्डिचेरी से इस नाम का पुनर्निर्देशन होना चाहिए।Dinesh smita (वार्ता) 13:46, 3 सितंबर 2013 (UTC)


त्रुटि सन्देश (Script error) सहायता![संपादित करें]

नमस्ते, मैं पिछले दो दिनों से देख रहाँ कि कुछ साँचो का उपयोग करने पर साँचे के स्थान पर त्रुटिपूर्ण अक्षर दिखाई दे रहे हैं। जैसे {{शीह-अर्थहीन}} साँचे का उपयोग करने पर लाल अक्षरों में Script error और कुछ कोष्टक आदि दिखाई देते हैं। साँचा भी ठीक से दिखाई नहीं दे रहा है। मैंने गूगल क्रोम और फायरफॉक्स दोनों ब्राउजर प्रयोग में लिए लेकिन पृष्ठ के दृश्य में कोई अन्तर नहीं आया। क्या यह समस्य केवल मैं ही देख रहा हूँ अथवा अन्य सदस्य भी? इसका निदान क्या है?☆★संजीव कुमार (बातें) 13:14, 3 सितंबर 2013 (UTC)

संजीव जी, यह समस्या सभी सदस्यों को दिख रही थी और इसका कारण आशीष जी द्वारा एक महत्वपूर्ण साँचे से की गई छेड़-छाड़ के कारण हुआ था। मुझे विश्वास है कि उनसे यह अनजाने में हुआ होगा परन्तु हमें अगर किसी चीज के बारे में ज्यादा जानकारी ना हो तो किसी अन्य (जिसे उस चीज का ज्ञान हो) की सहायता लेनी चाहिए। मैं आशीष जी से विनम्र अनुरोध करूँगा कि आगे से बिना चर्चा करे महत्वपूर्ण पृष्ठों में बदलाव ना करें, ख़ास कर ऐसे पृष्ठ जिनका इस्तेमाल विकि के बुनियादी साँचो में उपयोग होता है। मैने इस समस्या को सुधार दिया है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 13:42, 3 सितंबर 2013 (UTC)
बिल जी, आपकी यह सलाह अत्यन्त आपत्तिजनक है। मुझे नहीं लगता कि किसी साँचे में परिवर्तन करना और उसमें कोई त्रुटि हो जाना कोई गम्भीर समस्या है। यह कार्य विकि की संकल्पना के सर्वथा अनुकूल है कि लोग दूसरों के किए में कुछ परिवर्तन करें, परिवर्धन करें, हटाएँ (और जाने-अनजाने इसमें त्रुटि हो जाय)। इसमें से ही निकलकर विकि आती है। लोगों को इस तरह की सलाह देना विकि भावना का निरादर है। इसके अलावा आपके इस उत्तर से फिर यही सन्देश निकलकर आ रहा है कि केवल आपको 'कुछ' आता है। कृपया बुरा मत मानें, मैं फिर दोहरा रहा हूँ कि विकि ने 'क्राउडसोर्सिंग' पर भरोसा किया है और बड़े-बड़ों को धराशायी कर दिया है।-- अनुनाद सिंहवार्ता 14:19, 3 सितंबर 2013 (UTC)
अनुनाद जी और बिल जी, यह मैं भी सोच रहा था कि यह त्रुटि आशीष जी से हुई है। चूँकि इसे सुधारा जा सकता है अतः यह कोई बड़ी समस्या नहीं है। मुझे जहाँ तक याद है दो तीन दिन पूर्व उन्होंने बहुत से साँचे अंग्रेज़ी विकी से आयात किये हैं इसी दौरान यह गलती हुई। इसमें हमें न ही तो किसी आरोप प्रत्यारोप पर उतरना चाहिए और न ही झगड़े की स्थिति में आना चाहिए। कई बार हम परिवर्तन किसी साधारण साँचे में करते हैं और वो एक बड़ी समस्या का कारण बन जाता है अतः यह कहना उचित नहीं है कि प्रत्येक साँचे में परिवर्तन करने से पूर्व चर्चा की जाये। बिल जी आपको तो याद ही होगा एक दिन एक साँचे को हटाने के लिए नामांकित करते समय ४० अन्य पृष्ठ भी नामांकित हो गये थे। अतः गलती मानवीय भूल है। हम भी जानते हैं आशीष जी इस तरह की गलती जानबुझकर तो नहीं करेंगे। मेरा उद्देश्य यहाँ ध्यान दिलाना था जिससे गलति सुधर सके, न कि एक और विवाद पैदा करना। अतः सभी प्रबंधकों से नम्र निवेदन है कि इसके विवाद बनने से पहले इस गलति को सुधारने का प्रयास करें। जिस प्रबन्धक को त्रुटि का ज्ञान है कृपया सुधार कर दें।☆★संजीव कुमार (बातें) 14:28, 3 सितंबर 2013 (UTC)
अनुनाद जी और संजीव जी, साँचे में बदलाव नहीं अपितु उसकी पूरी सामग्री बदली गई थी। मैने तकनीकी स्पष्टीकरण इसलिए नहीं दिया था क्योंकि मुझे नहीं लगता था कि उसकी कोई आवश्यकता थी परन्तु आशीष जी ने कोड को लुआ में बदला था और ऐसे बदलाव के लिए पूरे विकि समाज का मतैक्य होना चाहिए। संजीव जी मेरे कथन को कृपया एक बार फ़िर से पढ़ें, मैने कहा है कि "बिना चर्चा करे *महत्वपूर्ण पृष्ठों में बदलाव* ना करें"। मैने यह कहा ही नहीं कि "प्रत्येक साँचे में परिवर्तन करने से पूर्व चर्चा की जाये"। जिस प्रकार का बदलाव आशीष जी ने किया था वो इतना बड़ा था कि उसके लिए आम राय बनानी पड़ती है। परन्तु मुझे पता है आशीष जी से यह गलती अनजाने में हुई होगी और यह मैने ऊपर लिखा भी है। मैने उनसे विनम्र अनुरोध किया है ना कि कोई निर्देश दिया है। मैने कभी यह कहा भी नहीं कि मैं कोई साँचो का महाज्ञानी हूँ, मुझ से ज्यादा जानने वाले यहाँ बहुत हैं, परन्तु अनुनाद जी को शायद मुझ से झगड़ने में कुछ ज्यादा ही आनंद आता है नहीं तो वह बात का इतना बवाल ना बनाते; उन्हें किसी ना किसी तरह मुझ पर हमला करने का बहाना चाहिए।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 14:55, 3 सितंबर 2013 (UTC)
बिल जी और अनुनाद जी, जो हुआ सो हो गया। आप दोनों से मेरा नम्र निवेदन है कि कृपया इस चर्चा को विराम दें। क्योंकि मुझे लग रहा है आप दोनों लोगों को लड़ने का कोई बहाना चाहिए। अतः कृपया दोनों ही आशीष जी की टिप्पणी से पूर्व अपनी प्रतिक्रिया को संरक्षित रखें। उसे यहाँ उडेलने का प्रयास न करें। आप दोनों की टिप्पणियों से मैं सन्तुष्ट हो चुका हूँ। आप दोनों को आपकी टिप्पणियों और सुझावों के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद।☆★संजीव कुमार (बातें) 16:53, 3 सितंबर 2013 (UTC)

पहले तो मैं क्षमा चाहूंगा, यदि मेरे किसी कृत्य से ये समस्या आयी थी। फिर ये बताना चाहूंगा कि:

  • जहां तक मुझे याद है मैंने किसी महत्त्वपूर्ण सांचे में बड़ा बदलाव नहीं किया है, हां या तो उसका प्रदर्शित स्ट्रिंग अंग्रेज़ी से हिन्दी में अनुवाद किया होगा, तो वो तो देखकर ही किया जाता है,
    • और फ़िर उसे पूर्वावलोकन में भी देखा जाता है, तथा
    • जहां वे सांचे प्रयोग हुए हैं, उनमें से १-२ लेखों को रीफ़्रेश कर देखा जाता है, कि कोई गड़बड़ न हुई हो, तथा
    • जो करने का उद्देश्य था, वह हो भी गया हो।
  • दूसरा काम होगा कि कोई सांचा यदि हिन्दी विकी में पुराना हो गया है और वह अंग्रेज़ी विकी (अधिकतर उसे ही अत्याधुनिक माना जाता है) में उपलब्ध है अपने लेटेस्ट रूप में, तो उसे पूरा का पूरा आयात (या पहले कट/पेस्ट करते थे) कर सेव करके फ़िर पहले बिन्दु वाले उपबिन्दुओं का पालन किया जाता है।
  • फिर भी यदि कोई गलती पकड़ में आती है, तो:
    • या तो उसका सुधार ढूंढा जाता है
    • या फ़िर उसे वापस ले लिया जाता है।
  • और फिर भी यदि कोई गलती (मुझे) दिखाई देती है, जो लगता है कि संभवतः मुझसे हुई होगी, तो किसी अन्य क्षेत्र के अनुभवी से मार्गदर्शन या सहायता ले ली जाती है।
हां क्षमा मैंने पहले ही मांग ली है, बिना देखे कि मेरी भूल थी या नहीं, क्योंकि हरेक क्षेत्र में प्रत्येक expert नहीं हो सकता है, तो उसके लिये कई बार hit & trial करने ही पड़ते हैं। यदि न पता हो तो वहां तक जाया जाए जहां से सुरक्षित वापस आ सकते हैं। और यदि आगे चले भी गए हों तो सहायता मांग लें-- ऐसा मेरा मानना है।--आशीष भटनागरवार्ता 03:25, 4 सितंबर 2013 (UTC)
आशीष जी, जहाँ तक मुझे लगता है आपने किसी साँचे का आयात करते समय विशेष:आयात के 'सभी साँचे शामिल करें' पर भी क्लिक करा होगा। जिसकी वजह से {{Namespace detect}} को भी आयात कर दिया, जब कि अंग्रेज़ी विकि पर ये लुआ में लिखा हुआ है और हमारे यहाँ लुआ अभी नहीं है। इस प्रकार के आधारभूत बदलाव अमूमन बिना समुदाय की आम-राय बनाए नहीं किए जाते। इसलिए मैने आपसे अनुरोध करा है कि ऐसे बदलावों से पहले एक बार चर्चा कर लेनी चाहिए जो केवल आप पर ही नहीं अपितु हर सदस्य पर लागू होता है विशेष रूप से प्रबंधकगण क्योंकि उनके कुछ बदलावों को पृष्ठ सुरक्षा के कारण अन्य सदस्य पूर्ववत भी नहीं कर सकते।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 03:54, 4 सितंबर 2013 (UTC)
हां एकाध सांचे आयात करते हुए मैंने सभी सांचे वाला विकल्प चुना था। पर ये लुआ वाली बात पहले तो नहीं हुआ करती थी, खैर कुछ नया जुड़ा होगा। पर हरेक आयात पर तो चर्चा नहीं की जा सकती है, अनावश्यक विलंब होता है, और किसी विशेष में करनी हो तो किसमें? इसका अर्थ ये नहीं है कि मैं चर्चा का विरोध कर रहा हूं, मैं तो स्वयं ही चर्चा में विश्वास रखता हुं, एक ipod को आईपॉड करने के लिये भि चर्चा की थी। खैर, मूल अर्थ ये है कि अपनी समझ से देख लेना चाहिये कि किस सांचा आदि में गड़बड़ का चांस है, तो उसे चर्चा कर लिया करूंगा। वैसे यदि आप चाहें तो मुझे अपना ई-मेल भेज दें, तो मैं सीधे वहां पूछ सकूंगा।--आशीष भटनागरवार्ता 05:38, 4 सितंबर 2013 (UTC)
आशीष जी, सभी प्रकार के आयात के लिए चर्चा कि आवश्यकता नहीं है बस उनके लिए है जो बहुत आधारभूत साँचे है जैसा Namespace detect, यह बहुत सारे अन्य साँचो में इस्तेमाल किया हुआ है और वे साँचे दूसरे कई पृष्ठों में इससे एक चेन रिएक्शन सी शुरू हो जाती है। और 'सभी साँचे शामिल करें' का विकल्प तो कभी इस्तेमाल करना ही नहीं चाहिए क्योंकि हिन्दी विकि पर पहले से ही ज्यादातर साँचे हैं; इसका मुख्यतः इस्तेमाल तब होता है जब कोई नई या बहुत अल्पविकसित विकि परियोजना हो। इस विकल्प के चुन ने से सभी प्रयुक्त साँचे भी आयात हो जाते हैं जिस से पहले से ही मौजूद साँचे ओवरराइड हो जाते हैं। मतलब जिन सदस्यों ने उन साँचो पर काम किया था उनकी महनत बेकार हो जाती है, साँचे पुनः अंग्रेज़ी में बदल जाते हैं (अगर आयात अंग्रेज़ी विकि से किया हो तो), तथा कई पृष्ठों पर इसका प्रभाव दिखने लगता है और समस्या को सुधारने में अलग से महनत लगती है।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 06:17, 4 सितंबर 2013 (UTC)
बड़ी समस्या
  • समस्या केवल एक साँचे तक सीमित नहीं थी। {{Cite journal}} में भी स्क्रिप्ट त्रुटि है, ऐसी सम्भावना है कि कुछ और साँचो में भी आशीष जी के आयत के कारण समस्या उत्पन हुई हो। मेरा आशीष जी और सभी सदस्यों से अनुरोध है कि ऐसे साँचो जिन्हें आशीष जी ने आयात किया है उनकी जाँच करलें जिस से अगर कोई समस्या हो तो उसका निवारण किया जा सके।<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 04:49, 5 सितंबर 2013 (UTC)

क्या "खोज" में लिप्यंतरण का तक्नीक open source है?[संपादित करें]

विकिपीदिया के मुख्य पृष्ठ में "खोज" box में लिप्यंतरण की क्षमता बहुत उपयोगी है। क्या यह open source है, और क्या इस तक्नीक को आसानी से कोई भी website में लगाया जा सक्ता है? मैं एक विद्यार्थी हूं। मुझे इस तक्नीक को मेरे काम (non-profit research) में उपयोग करने के लिये क्या करना होगा? Gjnyasa (वार्ता) 14:37, 5 सितंबर 2013 (UTC)

जी ये प्रणाली open-source है और GPLv2+ एवं MIT license के अंतर्गत उपलब्ध है। ये github पर jquery.uls और jquery.ime भागों में उपलब्ध है। इन कड़ियों में आपको उपयुक्त जानकारी मिल जाएगी।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 15:37, 6 सितंबर 2013 (UTC)

प्रतिलिपि लेख (चौथी दुनिया)[संपादित करें]

चौथी दुनिया लेख पूर्णतया यहाँ से उतारा गया लेख है। चूँकि मुझे इस वेबसाईट के कॉपीराईट का ज्ञान नहीं है अतः लेख पर कॉपीराईट का टैग नहीं लगा सकता। लेकिन लेख की यह शैली तो किसी भी हालत में ठीक नहीं है। अतः प्रबंधकगणों से मेरा निवेदन है कि लेख में उचित सुधार करें।☆★संजीव कुमार (बातें) 15:21, 5 सितंबर 2013 (UTC)


अनुत्तरित शिकायत[संपादित करें]

प्रबंधकों सहित सभी शीर्ष सदस्यों से निवेदन है कि मनोज जी द्वारा की गयी शिकायत पर ध्यान दें। उन्होंने अपना पक्ष भाषा सम्बंधी शिकायत पृष्ठ पर रखा है।☆★संजीव कुमार (बातें) 16:26, 6 सितंबर 2013 (UTC)


वार्ता पृष्ठ से सम्बंधित नीति नियम[संपादित करें]

नमस्ते, आज मैं देख रहा था कि राजगृह एक्स्प्रेस ३२३४ के वार्ता पृष्ठ पर बहुत लम्बे लेख लिखे हुए हैं जिनमें से अधिकतर आईपी पतों से लिखे गये है। इस तरह से वह मुझे उस लेख के वार्ता पृष्ठ की बर्बादी के अलावा और कुछ प्रतीत नहीं होता। क्या हिन्दी विकी पर लेख वार्ता पृष्ठ सम्बंधी कोई नियमावली है जिसके तहत उसे हटाया जा सके?☆★संजीव कुमार (बातें) 08:58, 8 सितंबर 2013 (UTC)

There is no need of any rules and regulations, when you are going to deal with vandalism. वार्ता पृष्ठ clearly shows that the materials are not in anyway related with the article राजगृह एक्स्प्रेस ३२३४, so I am removing them. Thanks--मृत्युञ्जय कर (वार्ता) 11:45, 8 सितंबर 2013 (UTC)
धन्यवाद मृत्युञ्जय जी।☆★संजीव कुमार (बातें) 11:51, 8 सितंबर 2013 (UTC)


समाचार नियमावली[संपादित करें]

नमस्कार।

सदस्यों के लिए सूचना है कि मुखपृष्ठ समाचारों के सम्बन्ध में नियमावली पर चर्चा साँचा वार्ता:मुखपृष्ठ समाचार#नियमावली पर चल रही है। सभी सदस्य इसमें अपने विचार रखने के लिए आमंत्रित हैं।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 22:57, 9 सितंबर 2013 (UTC)


विकिपीडिया पर क्या चल रहा है[संपादित करें]

नमस्कार।

चौपाल में ऊपर-ऊपर दिखने वाले विकिपीडिया पर क्या चल रहा है नामक साँचे को असुरक्षित कर दिया गया है। अब कोई भी स्वतः परीक्षित सदस्य (autoconfirmed user) इसका सम्पादन कर सकता है ताकि सदस्यों को सहकार्य करने में आसानी हो और चौपाल द्वारा सभी सदस्य सूचित रहें। इसकी जानकारी साँचा:विकिपीडिया पर क्या चल रहा है में सम्पादित की जा सकती है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 22:57, 9 सितंबर 2013 (UTC)

लाइसेंसिंग के सम्बन्ध में जानकारी[संपादित करें]

गैर मुक्त लोगो का लाइसेंस क्या होना चाहिए? कृपया इस सम्बन्ध में मेरी मदद करे। उदाहरण के लिए चित्र:17th asiad.png इस लोगो का क्या लाइसेंस है? --प्रतीक मालवीय (वार्ता) 05:50, 10 सितंबर 2013 (UTC)

मेरे विचार से किसी प्रतियोगिता, संगठन आदि के लोगो गैर मुक्त होकर भी संबंधित लेख में "उचित उपयोग" (fair use) के अंतरगत प्रयोग में लाए जा सकते हैं जैसे आप अंग्रेज़ी विकिपीडिया पर देख सकते हैं Social Science Research Network। कुछ मामले सार्वजनिक क्षेत्र से जुड़े विषय वाक्य से भी सम्बंधित हो सकते हैं। Hindustanilanguage (वार्ता) 20:16, 10 सितंबर 2013 (UTC).
प्रतीक जी, विकिपीडिया पर गैर-मुक्त उचित उपयोग में किसी लाईसेंस की आवश्यकता नहीं होती केवल गैर-मुक्त औचित्य होना चाहिए जो स्पष्ट रूप से यह बताए कि आखिर क्यों इस चित्र को गैर-मुक्त उचित उपयोग के रूप में इस्तेमाल में लाया जा रहा है?<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 04:02, 11 सितंबर 2013 (UTC)

विकिपरियोजना: लीलावती की बेटियाँ[संपादित करें]

मित्रों, आप सबको रक्षा बंधन के पावन अवसर पर हार्दिक बधाई देना चाहूँगा। इस संदर्भ में मैं माननीय सदस्यों से लीलावती की बेटियाँ परियोजना की ओर ध्यान आकर्षित करना चाहूँगा जो कि भारतीय महिला वैज्ञानिकों के महान योगदान को ज्ञानकोष में उसकी सही दिशा में स्थान देने का प्रयास है। मेरा निवेदन है कि आप लोग कृपया परियोजना पृष्ठ को देखें और इसमें जो भी योगदान कर सकें, करें, क्योंकि यह प्रयास हमारे ज्ञानकोष को और भी समृद्ध बनाने में मदद करेगा। Hindustanilanguage (वार्ता) 07:09, 21 अगस्त 2013 (UTC).

विकिपरियोजना के अंतरगत बनाए गए/ विस्तार किये गए लेख[संपादित करें]

  1. सुनेत्रा गुप्ता
  2. बानू जहाँगीर कोयाजी
  3. टेसी थॉमस
  4. पद्मा बंदोपाध्याय
  5. भारतीय महिला वैज्ञानिक संघ
  6. अर्चना शर्मा
  7. जानकी अम्माल
  8. जेनिता मैरी नोंगकिनरिह

प्रबंधन कार्यों की सहायक सूची[संपादित करें]

नमस्कार, मैंने एक सहायता पृष्ठ के तौर पर स:Siddhartha_Ghai/प्रबंधन_कार्य पर प्रबंधकों के कार्यों की एक सूची तैयार की है। इसमें सुधार/संशोधन हेतु सभी सदस्य आमंत्रित हैं। सदस्य चाहें तो उसके वार्ता पृष्ठ पर भी अपनी टिप्पणियाँ छोड़ सकते हैं। धन्यवाद--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 21:34, 19 अगस्त 2013 (UTC)

सिद्धार्थ जी, मुझे लगता है कि हिन्दी विकि पर सबसे पहले 'सामान्य सदस्यों के अधिकार' एवं उन्हें सुनिश्चित करने की प्रक्रिया पर विचार होना चाहिए। पिछले एक वर्ष में सदस्यों का प्रबन्धकों से विश्वास बिलकुल समाप्त हो चुका है। इसका सबसे स्पष्ट प्रमाण बिल कॉम्प्टन को बारी बहुमत से हटाने का प्रस्ताव है। इसके अलावा प्रबन्धक श्री हुन्न्जजाल द्वारा हाल लाया गया प्रबन्धक पद के लिए नामांकन प्रस्ताव पर उनके अलावा एक भी मत न पड़ना भी इसका स्पष्ट संकेत है। चौपाल पर वार्ताओं को पढ़कर कोई भी समझ सकता है कि हिन्दी विकि का स्वास्थ्य कैसा है। लिखने के लिए बहुत है किन्तु संक्षेप में मैं यही कहना चाहूँगा कि हिन्दी विकि पर विश्वास का वातावरण बनाने की दिशा में प्रयास हों जिससे अधिकाधिक सदस्य आएँ, यहाँ ठहरें और उत्साह के साथ योगदान दें।-- अनुनाद सिंहवार्ता 13:12, 20 अगस्त 2013 (UTC)
हिन्दी विकी का स्वास्थ्य ठीक नहीं है और इसमें आशीष जी और सिद्धार्थ जी निर्णायक भूमिका निभा सकते हैं।☆★संजीव कुमार (बातें) 04:51, 23 अगस्त 2013 (UTC)
अनुनाद जी, आप ऐसी प्रक्रिया पर चर्चा शुरू करने के लिए मुक्त हैं। मैं भी चाहूँगा कि हिन्दी विकिपीडिया पर अधिक सदस्य आएँ, और ये पृष्ठ सदस्यों की जानकारी बढ़ाने के लिए ही मेरा प्रयास है।
चूँकि किसी सदस्य ने एक सप्ताह से अधिक समयावधि में इस पृष्ठ को लेकर कोई आपत्ति नहीं व्यक्त की है, अतः मैंने इसे वि:प्रबंधन_कार्य पर स्थानांतरित कर दिया है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 10:11, 29 अगस्त 2013 (UTC)
सिद्धार्थ जी, मुझे तो यह बहुत विचित्र लग रहा है कि इस पृष्ट पर आपके अलावा किसी और ने कोई रुचि नहीं दिखाई और इसके बावजूद आपने इसे 'वि:प्रबंधन_कार्य' नाम दे दिया। भले ही सावधानी बरतते हुए आपने सबसे ऊपर आपने लिखा है कि यह पृष्ठ विकिपीडिया के प्रबंधन कार्यों की एक सूची प्रदान करता है। यह विकिपीडिया के कुछ सदस्यों के मत हैं और विकिपीडिया की नीति अथवा दिशानिर्देश नहीं हैं किन्तु इससे सदस्य भ्रमित ही होंगे। आपने शुरू में जब सन्देश लिखा था (ऊपर देखें) तो लिखा था कि 'सहायता पृष्ट के तौर पर' पृष्ट बना रहे हैं। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि यह किस तरह से सहायता करेगा। यह 'नीति' नहीं है, यह 'दिशानिर्देश' नहीं है, तो यह किस तरह से सहायता करेगा? मुझे तो लग रहा है कि नये सदस्यों को यह भ्रमित करेगा क्योंकि विकिपीडिया:प्रबन्धक तथा विकिपीडिया:प्रबन्धक पद के लिये निवेदन पर जो कुछ लिखा गया है हो सकता है कि वह इससे मेल न खाता हो। कृपया यह भी बताएँ कि क्या कोई सदस्य कोई पृष्ट बनाए और एक सप्ताह तक उस पर किसी की 'आपत्ति' न आये तो उसे इसी तरह विकिपरियोजना पृष्ट के रूप में स्थान्तरित करने के लिए स्वतंत्र है?-- अनुनाद सिंहवार्ता 05:31, 2 सितंबर 2013 (UTC)
अनुनाद जी, यदि आप इस पृष्ठ के वार्ता पृष्ठ को देखेंगे तो पाएँगे कि इसपर अन्य सदस्यों ने दिलचस्पी दिखाई है, और इस पृष्ठ का इतिहास देखेंगे तो पाएँगे कि इसमें मेरे अतिरिक्त अन्य सदस्यों ने बदलाव भी किये हैं। मैंने यह सूची इस उद्देश्य से बनाई है कि सदस्य जान सकें कि प्रबंधकों के पास कौनसे तकनीकी कार्य करने के अधिकार होते हैं जो आम सदस्यों के पास नहीं होते। इस सूची में मुख्यतः वही कार्य जोड़े गए हैं जो आम सदस्य स्वयं नहीं कर सकते और जिनके लिए प्रबंधक की आवश्यकता है। इसके साथ-साथ इस सूची का उद्देश्य है आम सदस्यों को अवगत कराना कि कौनसे कार्य संभव हैं। उदाहरण: नए सदस्यों को हो सकता है यह ज्ञात ना हो कि प्रबंधक पूरे विकिपीडिया की css बदल सकते हैं, या फिर अन्य विकिमीडिया परियोजनाओं से पृष्ठ उनके इतिहास समेत आयात कर सकते हैं। यह इस प्रकार की जानकारी देकर सदस्यों की सहायता करेगा।
यह नीति या दिशानिर्देश नहीं है, जैसा कि इसमें ऊपर-ऊपर स्पष्ट भी किया गया है। इसका उद्देश्य केवल जानकारी देना है। जहाँ नीति और सहायता पृष्ठ में अंतर हो, यह तो स्पष्ट ही है कि नीति लागू होगी; परन्तु इसका यह अर्थ नहीं कि हम सदस्यों को जानकारी से वंचित रखें।
अंत में आपने जो प्रश्न पुछा है, उसका प्रथम उत्तर तो यह कि इस सम्बन्ध में मेरी जानकारी में हिन्दी विकिपीडिया पर कोई नीति/दिशानिर्देश नहीं है। इसके अतरिक्त मेरे व्यक्तिगत विचार यह हैं कि पृष्ठ का "विकिपीडिया" नामस्थान में स्थानान्तरण कितने समय/चर्चा बाद करना चाहिए यह इस बात पर निर्भर करता है कि जो पृष्ठ बनाया गया है वह किस प्रकार का है। यदि नीति अथवा दिशानिर्देश है तो उसपर चर्चा आवश्यक है। यदि बिलकुल शुरूआती सम्पादन सहायता है तो बहुत कम अथवा बिना चर्चा भी कार्य किया जा सकता है (हाँ, उस पृष्ठ को किसी नीति के विरुद्ध नहीं होना चाहिए)। यदि व्यक्तिगत मत/सहायता पृष्ठ हैं (जैसे कि वि:प्रबंधन कार्य) तो थोड़ी-बहुत चर्चा होनी चाहिए (जो कि मेरे विचार से इस पृष्ठ के सम्बन्ध में हो गयी थी)।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 06:24, 3 सितंबर 2013 (UTC)
सिद्धार्थ जी, मेरी मूल आपत्ति यह है कि इस रूप में यह लेख सहायता प्रदान करने के बजाय भ्रम पैदा करेगा। उदाहरण के लिए मुझे इसके नाम 'प्रबंधन कार्य' ही यह भ्रम पैदा हो रहा है कि यह प्रबन्धकों के अधिकार गिनाने के लिए है, उनके कर्तव्य गिनाने के लिए है या उनके उत्तरदायित्व गिनाने के लिए है। दूसरा सबसे बड़ा भ्रम है कि जब इस पृष्ट को कोई 'आधिकारिक' मानेगा ही नहीं तो इसमें दी गई जानकारी से उसे सहायता कैसे मिलेगी? मेरी समझ यह है कि आपने इसे यह सोचकर लिखा था कि बहुत सी चीजें विकिपीडिया:प्रबन्धक तथा विकिपीडिया:प्रबन्धक पद के लिये निवेदन के पृष्टों में नहीं लिखीं हैं (जो लिखी जानी चाहिए)। मेरा मत है कि हिन्दी विकि के इन पृष्टों में जो कुछ लिखा है वही 'आधिकारिक' (आथेंटिक) है; जो कुछ नहीं लिखा है किन्तु किया जा रहा है वह वैध नहीं माना जा सकता। (बस चल रहा है क्योंकि किसी ने अभी तक ऐसे मामले उठाया नहीं।) इसलिए यदि आप सोचते हैं कि आपने कुछ 'अतिरिक्त' चींजें लिखीं है जो सहायता कर सकतीं हैं, तो वह निराधार है।
मेरे प्रश्न के उत्तर में आपने लिखा है कि उसके सम्बन्ध में कोई दिशानिर्देश नहीं है। और फिर आपने अपने 'मत' के आधार पर कुछ लिख दिया है। सिद्धार्थ जी, इस तरह से यदि लोगों को अपने 'मत' को विकिपीडिया नामस्थान में स्वयं डालने की छूट दे दी जाएगी तो इससे अराजकता जन्मेगी। मेरा विचार है कि आप के विचारों का हिन्दी विकि के सदस्य बहुत सम्मान करते हैं। आप अपने इस लेख पर मतदान करवाइए और बहुमत से पारित होने पर इसे विकिपीडिया:प्रबन्धक या विकिपीडिया:प्रबन्धक पद के लिये निवेदन में जोड़ दिया जाय। -- अनुनाद सिंहवार्ता 12:57, 4 सितंबर 2013 (UTC)
अनुनाद जी, विकिपीडिया एक मुक्त ज्ञानकोष है। यहाँ पर लेखों के सम्बन्ध में तो कुछ कड़ी नीतियाँ हैं जो माननी भी चाहियें। परन्तु हम विकिपीडिया नामस्थान को केवल समुदाय का या फिर केवल औपचारिक प्रणाली का (अर्थात प्रबंधकों/प्रशासकों के कंट्रोल में) नहीं कह सकते। यदि हम विकिपीडिया नामस्थान पर लिखने से लोगों को मना करेंगे, तो फिर ना तो कोई सदस्य परियोजना बना सकता है, ना ही कोई सहायता पृष्ठ (सहायता पृष्ठ फिलहाल सहायता और विकिपीडिया नामस्थान में बटे हुए हैं)। संभवतः विकिपीडिया पर किसी को भी कुछ भी लिखने ना देने से आपका तात्पर्य शायद केवल नीति और दिशानिर्देश सम्बन्धी पृष्ठों से था, ताकि ऐसा न हो पाए के कोई भी कुछ भी निर्देश बना रहा है। मैं इस विचार से सहमत हूँ। इससे अराजकता आएगी। परन्तु हम सदस्यों को परियोजनाएँ बनाने से भी तो नहीं रोक सकते। और फिलहाल तो परियोजनाएँ विकिपीडिया नामस्थान में ही हैं। ये चौपाल भी विकिपीडिया नामस्थान में ही है। अब तकनीकी रूप से (मेरी जानकारी अनुसार) तो ये संभव नहीं है कि सदस्यों को चर्चा पृष्ठ और परियोजना पृष्ठ बनाने दिए जाएँ और यदि वे नीति/दिशानिर्देश बनाने की कोशिश करें तो उन्हें स्वचालित रूप से रोक दिया जाए। अतः यदि हम ऐसा कुछ रोकना चाहते हैं तो बात आती है नीति की। तो जैसा मैंने कहा मैं इस सम्बन्ध में किसी नीति से अवगत नहीं हूँ। यदि आपको लगता है कि इस सम्बन्ध में कोई नीति होनी चाहिए तो अवश्य एक ड्राफ़्ट का निर्माण करें ताकि उसपर चर्चा करी जा सके।
अब इस पृष्ठ के सम्बन्ध में: आपको लगता है कि यह भ्रम पैदा करेगा, चूँकि ये औपचारिक नीति नहीं है। मुझे ऐसा नहीं लगता। हमें इस सम्बन्ध में ये मानना पड़ेगा कि हमारे विचार भिन्न हैं। (We will have to agree to disagree.) हाँ, यदि आपको लगता है कि इसमें लिखी बातें नीति में जोड़ने लायक हैं तो अवश्य इसको नीति बनाने का नामांकन करें। मेरे विचार इस बारे में ये हैं कि नीति बनाने के लिए इसपर काफ़ी चर्चा की आवश्यकता होगी, क्योंकि संभव है कि सदस्य इसमें लिखी तकनीकी बातों पर कुछ clarifications मांगें, या फिर इसमें लिखी कुछ बातों से सहमत ना हों।
अंत में, यदि आपको यह लगता है कि इसके वर्तमान रूप को विकिपीडिया नामस्थान से हटाया जाना चाहिए, तो आप यहाँ पर या फिर इसके वार्ता पृष्ठ पर नया चर्चा भाग बना सकते हैं। यदि आप चाहते हैं कि इसे ज्यों-का-त्यों नीति में जोड़ दिया जाए तो आप इस हेतु यहाँ पर नामांकन कर सकते हैं। और यदि आप चाहते हैं कि इसमें कुछ परिवर्तन कर के फिर इसे नीति में जोड़ा जाए, या फिर पहले इसे विकिपीडिया नामस्थान से हटाया जाए, फिर परिवर्तन किये जाएँ और फिर नीति में जोड़ा जाए; तो भी आप चर्चा शुरू कर सकते हैं।
आपको जो उपयुक्त लगे उस कार्य को शुरू करें। मैं अपनी ओर से चर्चा में भाग लेने का पूरा प्रयास करूँगा।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 14:45, 6 सितंबर 2013 (UTC)
मैं बहुत ही स्पष्ट यह लिख चुका हूँ कि यह भ्रम पैदा करेगा अतः इसे वहाँ से हटाना ठीक रहेगा। अगर इसे यहाँ से हटाया नहीं गया तो यह एक नया उदाहरण बन जाएगा और विकिपीडिया नामस्थल पर कुछ भी रखने से सदस्यों को रोका नहीं जा सकेगा। (आप इस बात का संतोषजनक उत्तर नहीं दे पाए हैं कि इससे भ्रम पैदा होगा।)। रही बात मेरे द्वारा इसे नीति में जोड़ने लायक समझना, तो शायद आप मेरे ऊपर लिखे विचारों को अच्छी तरह समझ नहीं पाए हैं। इसके प्रारम्भिक कुछ पंक्तियों को पढ़ने के बाद मुझे लगा था कि यह कुछ लोगों की इस धारणा को अघोषित रूप से प्रबल बनाने के लिए लिखा गया है कि प्रबन्धक को 'महाप्रोग्रामर' होना चाहिए तथा प्रबन्धन एक बहुत कठिन काम है। (बुरा मत मानिएगा)। मैं तो इसीलिए आपको इस काम का प्रस्ताव रखने का निवेदन कर रहा था। किन्तु शायद आपको भारी शंका है कि सदस्यगण इसका समर्थन करेंगे। -- अनुनाद सिंहवार्ता 07:00, 10 सितंबर 2013 (UTC)
अनुनाद जी ये पृष्ठ मेरी (या किसी भी सदस्य की) जागीर नहीं है, एक विकिपीडिया पृष्ठ है। चूँकि मैं आपके विचारों से सहमत नहीं हूँ, अतः मैं इस सम्बन्ध में कोई प्रस्ताव नहीं रखूँगा। हाँ आप ऐसा कोई भी प्रस्ताव रख सकते हैं (जैसा कि मैं ऊपर स्पष्ट भी कर चुका हूँ)।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 00:19, 13 सितंबर 2013 (UTC)
सिददार्थ जी, बुरा मत मानिएगा, किन्तु भाषा विज्ञान में कुछ शब्द ऐसे होते हैं जिसका प्रयोग काल-पात्र-स्थान को देखते हुये करना श्रेयस्कर होता है। जागीर, संपत्ति या बपौती शब्द का प्रयोग किए बिना भी वाक्य पूरा किया जा सकता था। इससे भाषा की शालीनता भी बनी रहती और स्वछ -सुसंस्कृत वाक्य की गरिमा भी। माँ को माँ ही कहा जाये तो अच्छा होगा, पिता की पत्नी कहने की क्या आवश्यकता है? वैसे आप सभी एक कुशल और अनुभवी विद्वान हैं। ज्यादा क्या कहूँ ?

Mala chaubey (वार्ता) 09:46, 23 सितंबर 2013 (UTC)

विकिमीडिया झलकियाँ, जुलाई 2013[संपादित करें]

जुलाई 2013 की विकिमीडिया फाउंडेशन रिपोर्ट, विकिमीडिया अभियांत्रिकी रिपोर्ट और विकिमीडिया समुदाय की मुख्य घटनाओं में से झलकियाँ
Wikimedia Foundation RGB logo with text.svg
About · Subscribe · Distributed via Global message delivery (wrong page? Correct it here), 02:05, 10 सितंबर 2013 (UTC)
सिद्धार्थ जी कृपया इस अनुवाद को सुधारें। आपने मेटा विकि पर अनुवाद किया है जिसमें "Other movement highlights" को अन्य आंदोलन झलकियाँ लिखा है जबकि यह अनुवाद या तो पूर्णतया गलत है अथवा गूगल अनुवादक से सहायता लेकर किया गया है। कृपया इसमें सुधार करने का प्रयस करें। मुझे लगता है इसकी जगह "अन्य गतिविधियों की झलकियाँ" लिखना यथोचित होगा।☆★संजीव कुमार (✉✉) 19:29, 24 सितंबर 2013 (UTC)


उचित नामकरण (सुझाव)[संपादित करें]

सदस्यों का मत चाहिए। Visual editor को हिन्दी में क्या लिखा जाये। चूँकि किसी भी उस सम्पादन उपकरण अथवा सोफ़्टवेयर को Visula editor कहा जाता है जो पाठ को सम्पादन करते समय वैसा ही दिखाये जैसा वह सम्पादित हो रहा है। उदाहरण के लिए किसी आसकी (ASCII) संचिका को इमेक्स (emacs), विम (vi or vim), पिको (Pico) आदि में सम्पादन किया जाता है तो वैसा ही दिखाई देता है जैसी संचिका है अतः इन्हें अंग्रेज़ी में Visual Editor कहा गया है। इसी प्रकार कुछ दिनों पूर्व विकिपरियोजना पर आरम्भ किये गये सम्पादक का अंग्रेज़ी में नाम विज़ुअल एडिटर दिया गया है। चूँकि यह न ही तो किसी बड़े नाम का संक्षिप्त रूप है और न ही किसी व्यक्तिवाचक संज्ञा से जनित नाम। अतः मेरे विचार से इसे अनूदित करना उचित रहेगा।

  • चूँकि Visual को हिन्दी में जगह के आधार पर विभिन्न नामों से अनूदित किया जाता है, यथा: खाका, दृश्य, दृष्टि, दृष्ट, चाक्षुक, साकार आदि।
  • लेकिन अन्य शब्दों के साथ अनुवाद कुछ विशिष्ट होने लगता है जैसे: दृश्य कला या चाक्षुक कला (visual art), दृश्य संकेत (Visual cue), दृष्टि दोष (Visual defect), दृश्य प्रदर्श (Visual display), दृश्य प्रभाव (Visual effect), दृश्य बिम्ब अथवा चाक्षुक बिम्ब (Visual image), दृश्य भाषा (Visual language), दृश्य माध्यम (Visual media), चाक्षुक स्मृति या दृष्टि स्मरण (Visual memory) आदि।

अतः कृपया अपने विचार दें, इनमें से कौनसा अनुवाद उचित रहेगा। यदि अनूदित नहीं किया जाता है तो भी मुझे कोई ऐतराज नहीं है लेकिन मैं अनूदित न करने का कारण जरूर जानना चाहूँगा क्यों कि Visual शब्द हिन्दी में कोई खास प्रचलन में नहीं है।☆★संजीव कुमार (✉✉) 19:45, 11 सितंबर 2013 (UTC)

मेरे विचार से सरलतम अनुवाद दृष्ट संपादक या सम्पादिका नाम प्रयोग किया जा सकता है - सम्पादिका इसलिये कि सम्पादक नाम पहले ही सदस्यों के लिये प्रयोग किया जाता रहा है। कोई क्लिष्ट नाम इसके नाम लेने को कठिन ही करेगा। बाकी बहुमत की राय!!--आशीष भटनागरवार्ता 03:47, 12 सितंबर 2013 (UTC)
यदि 'शब्दशः अनुवाद' से बचना चाहते हैं तो 'उन्नत सम्पादक' भी कह सकते हैं। मेरे खयाल से 'विजुअल' शब्द का अक्षरशः अनुवाद करना ठीक नहीं होगा क्योंकि सारे सम्पादक 'विजुअल' कहे जा सकते हैं। (बिना देखे तो कुछ भी सम्पादित नहीं होता)-- अनुनाद सिंहवार्ता 04:34, 12 सितंबर 2013 (UTC)
visual एडिटर के बारे में मेरा सुझाव है की विसुअल एडिटर को मात्र सम्पादन ही लिखा जाए और पुराने संपादन को नेपथ्य सम्पादन कर दिया जाये।— इस अहस्ताक्षरित संदेश के लेखक ‎Manojkhurana है, (वार्तायोगदान)।
मुझे भी लगता है की शब्दशः अनुवाद करना उचित नहीं होगा। यदि हम थोड़ी और गहराई से सोचे, और "VisualEditor" जैसे साधन बनाने के उद्देश्य के पीछे जाएँ, तो हम पाएंगे की यह नए विकिपीडिया सदस्यों और उपयोगकर्तों की मदद के लिए बनाया गया है। यह विकिपीडिया संपादन के प्रक्रिया को और सरल और सहज बनाता है।
अतः मेरे ख्याल से "सरल संपादक" जैसा नाम सर्वोचित और विश्वसनीय(authentic and credible) रहेगा। इसके अलावा "सहज संपादक", "सुगम संपादक" या 'सुलभ' और 'सहल' जैसे पर्यायवाची शब्द का इस्तेमाल किया जा सकता है। शुभम कानोडिया (वार्ता) 15:36, 12 सितंबर 2013 (UTC)
मराठी भाषा विकिपीडियापरभी इस विषयमे चर्चा हो रही है. VisualEditor के लिए अभी यथादृश्य संपादक शब्द उपयोग मे है. दुसरे विचाराधीन शब्दोमे जसेदृष्य संपादक (हिंदी रुपांतरण जैसादृष्य संपादक) ;दृक्-संपादक,चलसंपादक शब्दोके सुझाव है. धन्यवाद Mahitgar (वार्ता) 03:15, 15 सितंबर 2013 (UTC)
यथादृश्य संपादक एक बेहतर सुझाव प्रतीत होता है। यहाँ विजुअल के भाव को दृश्य की बजाय यथादृश्य बेहतर ढंग से संप्रेषित कर पा रहा है। -- अजीत कुमार तिवारी वार्ता 17:58, 16 सितंबर 2013 (UTC)


समीक्षा टिप्पणी

आज के सभी सुझावों के लिए धन्यवाद। आप सभी के सुझाव अच्छे हैं और सभी तर्क के साथ हैं। मैं इन पर मेरे विचार लिख रहा हूँ:

  • मुझे आशीष जी का प्रस्ताव सबसे अच्छा लगा। प्रत्युतर के रूप में कोई जबाब नहीं है क्योंकि यह मेरी पसंद के अनुरूप है। "सम्पादिका" लिखने का विचार तो बहुत ही अच्छा है।
  • अनुनाद जी का कहना भी ठीक है लेकिन यह शब्द पुराने से सम्बंद्ध करता है जो मुझे उचित नहीं लगा। चूँकि पुराना और नया सम्पादक दोनों अपना अलग-अलग महत्व रखते हैं। चूँकि मैं यह सम्पादन कई बार सर्न ट्विकी (CERN twiki) पर भी करता हूँ जिसमें यहाँ से रात दिन का अन्तर है। कहने का अर्थ यह है कि ट्विकी सम्पादक की तुलना में विकिपीडिया सम्पादक भी बहुत उन्नत है। अतः उन्नत शब्द ताक्षणिक प्रतीत होता है।
  • मनोजा जी का विचार भी अच्छा है लेकिन उन्होंने यह ध्यान नहीं दिया कि दोनो सम्पादक अपने स्थान पर अपना अलग-अलग महत्व रखते हैं अतः पुराने को नेपथ्य नाम देना भी कुछ सहायक नहीं जान पड़ता।
  • शुभम जी ने भी एक उचित और अच्छे नाम चुने हैं लेकिन वो शायद एक भूल कर रहे हैं कि पुरानी सम्पादन पद्धाति के लिए भी ये सभी शब्द उचित हैं। मुझे नहीं लगता कि जो व्यक्ति पिछले २ वर्ष से भी उसे काम में ले रहा है वो इतना जल्दी इस नये स्वरूप में ढ़ल पायेगा।
ध्यान रहे ये सभी मेरे व्यक्तिगत विचार हैं, मुझे भी अन्य सदस्यों द्वारा सुझावित नामों से कोई ऐतराज नहीं है और आपके विचारों का तहे दिल से स्वागत है।☆★संजीव कुमार (✉✉) 17:41, 12 सितंबर 2013 (UTC)

सम्पादन व् सरल संपादन पर मेरी सहमति है। --मनोज खुराना (वार्ता) 01:35, 13 सितंबर 2013 (UTC)manojkhurana

संजीव जी, मैं अपनी बात एक उदाहरण देकर समझाना चाहूँगा। जब मैंने पहली बार हिंदी विकिपीडिया पर योगदान देना चाहा, तब मुझे सिंटेक्स सम्बंधित काफी परेशानी हुआ करती थी। उस समय मैंने विकिपीडिया पर VisualEditor जैसे WYSIWYG संपादक की बहुत कमी महसूस की। ऐसा कई बार होता है की कई जानकार विकिपीडिया पर इस कारणवश चाहकर भी अपना योगदान नहीं दे पाते । VisualEditor लाने का उद्देश्य है, ज्यादा से ज्यादा हिंदी भाषी जनता को हमारी विकिपीडिया से जोड़ना, एवं संपादन करने के लिए प्रेरित करना। अतः मेरा तर्क यह था, की 'सरल संपादक' जैसा सरल नाम नए-पुराने सभी लोगों को तुरंत समझ में आएगा, और ज्यादा से ज्यादा लोगों को समझ में आएगा। पुरानी संपादन प्रक्रिया हम लोगों के लिए भले ही अब सरल बन गयी हो, पर शायद सबके लिए ऐसा नहीं हैं। और अगर 'संपादिका' इस्तेमाल करना चाहें, तो इसमें एक उपसर्ग ज़रूर जोड़े। यह सब मेरे निजी विचार हैं, इसके अलावा यथादृश्य संपादक भी मुझे उचित लगा। शुभम कानोडिया (वार्ता) 16:46, 16 सितंबर 2013 (UTC)
शुभम जी, आपके हिसाब से "उन्नत सम्पादिका" कैसा रहेगा? यह आशीष जी और अनुनाद जी के सुझावों का मिलाजुला रूप है। इसी प्रकार अजीत जी द्वारा सुझावित "यथादृश्य संपादिका" पर भी अपने विचार प्रकट करें।☆★संजीव कुमार (✉✉) 03:08, 17 सितंबर 2013 (UTC)
उन्नत सम्पादिका का अर्थ Advanced Editor होगा जो कि प्रचलन के अनुसार तकनीकी ज्ञानधारी प्रयोक्ताओं के लिए होता है। अतः मेरी पसंद क्रमशः यह है-
  1. सरल संपादन, तकनीकी संपादन
  2. यथादृश्य संपादन, तकनीकी संपादन --मनोज खुराना (वार्ता) 03:59, 17 सितंबर 2013 (UTC)
मुझे लगता है यथादृश्य संपादक पर सबसे अधिक सहमति है लेकिन आशीष जी के सुझाव को देखते हुए मुझे लगता है इसे यथादृश्य संपादिका कहना अधिक उचित होगा।☆★संजीव कुमार (✉✉) 11:53, 24 सितंबर 2013 (UTC)

हिंदी दिवस[संपादित करें]

मित्रों, कल हिंदी दिवस है। इसे विकी पर कैसे मनाने की क्या योजना है? --मनोज खुराना (वार्ता) 01:27, 13 सितंबर 2013 (UTC)manojkhurana

मनोज जी मुझे लगता है यह किसी राष्ट्र विशेष से सम्बंधित है! फिर भी आप अपने विचार लिख सकते हो। मैं तो १०० नये पृष्ठों का निर्माण एक ही दिन में कर दुँगा। आपके क्या विचार हैं?☆★संजीव कुमार (✉✉) 07:13, 13 सितंबर 2013 (UTC)
प्रिय संजीव जी, हिंदी दिवस को किसी राष्ट्र विशेष से सम्बंधित बता कर आपने पहले ही बहुत बड़ी बात कर दी है, जिसे मैं अपनी तुच्छ बुद्धि के साथ समझने का पूरा प्रयास कर रहा हूं। जैसे ही यह मुझे समझ आ जाएगा, मैं अवश्य़ ही आगे के लिए विचार प्रस्तुत करूंगा। तब तक एक राष्ट्र विशेष की ओर से ही सही - हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं। --मनोज खुराना (वार्ता) 04:49, 14 सितंबर 2013 (UTC)
14 सितम्बर 1949 को भारत के संविधान ने हिन्दी को भारत की राजभाषा के रूप में स्वीकार किया था अतः भारत में इसे हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है। लेकिन मैं यह चाहता हूँ कि प्रत्येक दिन ही हिन्दी दिवस हो अतः मुझे आपकी बात एक देश तक सीमित लगती है। अधिक जानकारी के लिए अंग्रेज़ी में लिखे सन्दर्भ [1] और [2] देख सकते हो। संघ परिवार की वेबसाइट पर लिखा यह ब्लॉग भी देखा जा सकता है। शायद आपको समझने में सहायता मिलेगी।☆★संजीव कुमार (✉✉) 06:04, 14 सितंबर 2013 (UTC)
संजीव जी! यह उन दिनों की बात है जब बैंकों के काम काज में हिन्दी का प्रयोग बिल्कुल न था। मैं उन दिनों सेण्ट्रल बैंक ऑफ़ इण्डिया की मुरादाबाद शाखा में नियुक्त था। एक ग्राह्क ने सलेम शाखा के लिये ड्राफ्ट बनवाने का वाउचर हिन्दी में भरकर दिया। मैंने हिन्दी में ड्राफ्ट बनाकर और हस्ताक्षर करके दे दिया। इस पर बैंक के केन्द्रीय कार्यालय से मुझे फटकार मिली। मरता क्या न करता, मैंने हिन्दी अधिकारी बनाये जाने के लिये आवेदन प्रस्तुत कर दिया। परन्तु मेरा आवेदन-पत्र यह कहकर निरस्त कर दिया गया कि मैं फिजिक्स कैमिस्ट्री मैथमैटिक्स में बी०एससी० हूँ और बैंक में हिन्दी अधिकारी बनने के लिये बी०ए० में हिन्दी व अंग्रेजी के अलावा एम०ए० हिन्दी से होना अनिवार्य योग्यता है। इस पर मैंने बैंक से पूर्वानुमति लेकर रुहेलखण्ड विश्वविद्यालय से प्राइवेट परीक्षायें दीं और बी०ए० व एम०ए० की डिग्रियाँ बैंक को सौंप दीं। फिर भी मुझे हिन्दी अधिकारी यह कह कर नहीं बनाया गया कि जो व्यक्ति पहले से ही अधिकारी वर्ग में है नियमत: उसे हिन्दी अधिकारी के विशेष वर्ग में नहीं लिया जा सकता। फिर भी मैं अपना कार्य हिन्दी में करता रहा। मेरे लिये तो जैसे रोज ही हिन्दी दिवस है। केवल एक दिन नहीं। डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 07:34, 17 सितंबर 2013 (UTC)
क्रान्त जी, आपकी हिन्दी के प्रति समर्पण भावना जानकर दिल आनन्दित हो उठा।☆★संजीव कुमार (✉✉) 08:45, 17 सितंबर 2013 (UTC)

आप का हिंदी के प्रति प्रेम होने से हम स्वागत एवं बधाइयां देते हैं।अपनी कविता-(आंसू पोंछ तू अपनी हिंदी)से ,बहुत- बहुत धन्यवाद के साथ,नमस्कार।sukhmangal singh 05:29, 22 सितंबर 2013 (UTC)

bahut khushi hui ye dekh kar ki aap jaise log hindi se itna prem karte hai sanjeev ji yadi aap kahte hain ki hindi divas kisi ek desh ya rashtra se sambandhit hai to hindi bhash bhi to kisi desh se hi to sambandhit hai...to apke tark ke anusaar ise to yahan hona hi nahi chahiye tha...krpa karke angrezi mansikta se bahar nklen

हिंदी दिवस की शुभकामनाएं[संपादित करें]

सभी हिंदी विकिपीडियन्स को हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

--मनोज खुराना (वार्ता) 04:40, 14 सितंबर 2013 (UTC)

पंजाबी शब्दावली[संपादित करें]

पंजाबी बोलचाल में अक्सर छोटी मात्राऐं गायब हो जाती हैं। यह समस्या मुझे स्वर्ण मंदिर (हरिमन्दिर साहिब) पर काम करते समय आई जिसे बोलचाल में हरमंदर, हरिमंदर या हरमंदिर साहिब कहा जाता है। यह सभी स्वरूप समान रूप से प्रचलन में हैं, जिससे समस्या और बढ़ जाती है। अभी मैं गुरबाणी के बारे में कुछ लिखना चाहता था और यही समस्या आ रही है कि क्या लिखा जाए- गुरबाणी, गुरबानी या सही हिंदी वर्तनी- गुरुवाणी ?

समस्या को सदा के लिए सुलझाने हेतु मैनें प्रबुद्धजनों की राय लेना उचित समझा। कृपया राय दें कि हिन्दी विकि पर पंजाबी शब्दावली की वर्तनी पंजाबी के अनुसार होनी चाहिए, या मानक हिन्दी वर्तनी के अनुसार ?

धन्यवाद। --मनोज खुराना (वार्ता) 04:35, 17 सितंबर 2013 (UTC)

मनोज जी, विशुद्ध वर्तनी के साथ पृष्ठ का निर्माण करें। और अन्य सभी को उस पर अनुप्रेषित कर दें। उदाहरण के रूप में आपने "गुरुवाणी" को सही कहा है तो इसी नाम से पृष्ठ बना दें। अन्य सभी वर्तनीयों को जो प्रचलन में हैं उन्हें इस पृष्ठ पर अनुप्रेषित कर दें। इसके अलावा लेख की प्रस्तावना में छोटा कोष्टक () लिखकर उसके अन्दर में अन्य वर्तनीयों को भी लिख सकते हो।☆★संजीव कुमार (✉✉) 05:31, 17 सितंबर 2013 (UTC)
कृपया पृष्ठ गुरबाणी नाम से बनायें तथा कोष्ठक में गुरुवाणी लिखें।Dinesh smita (वार्ता) 07:25, 17 सितंबर 2013 (UTC)

ध्यान दें[संपादित करें]

☆★संजीव कुमार (✉✉) 17:36, 18 सितंबर 2013 (UTC)

गोवा अथवा गोआ[संपादित करें]

भारत सरकार की आधिकारिक हिन्दी वेबसाइट पर गोवा खोजने पर बहुत सारे परिणाम मिलते हैं जिन्हें यहाँ देखा जा सकता है लेकिन इसके विपरीत "गोआ" खोजने पर शून्य परिणाम मिलते हैं जिन्हें भी यहाँ देखा जा सकता है। मेरा कहने का अर्थ यह है कि शुद्ध शब्द गोवा है न कि गोआ लेकिन अंग्रेज़ी गुलामी की मानसिकता में किसी ने गोवा को भी गोआ पर अनुप्रेषित कर दिया। इसके बाद कई भाषाओं में पारंगत एक प्रबंधक ने इस अशुद्ध शब्द "गोआ" की श्रेणियाँ बनाना, और इसी नाम से अन्य अशुद्ध वर्तनी वाले पृष्ठ बना कर इतना प्रचारित कर दिया कि अन्य विकी सदस्य भी "गोआ" को ही शुद्ध मान बैठे। चूँकि हिन्दी में (सन्धि का समावेश संस्कृत से ज्यों का त्यों होने के कारण) सामान्यतः स्वर के बाद अ/आ नहीं आते। इसकी एक जगह हेमन्त जी ने चर्चा भी की थी लेकिन शायद उनकी टिप्पणी को तो हिन्दी विकिपीडिया पर कभी कोई स्थान ही नहीं दिया गया। अब यदि किसी को इस शब्द से सम्बंधित चर्चा करनी है तो नीचे लिखें अन्यथा प्रबंधकों से मेरा निवेदन है कि इस शब्द में जितना शीघ्र सम्भव हो सुधार करें।☆★संजीव कुमार (✉✉) 19:51, 18 सितंबर 2013 (UTC)

संजीव जी असली नाम हिन्दी भाषा में गोवा ही है गोआ नहीं। यह तो अंग्रेजी भाषा में Goa लिखा जाता है। इसलिए मैं आपका समर्थन करता हूँ। --प्रतीक मालवीय (वार्ता) 11:32, 19 सितंबर 2013 (UTC)
YesY पूर्ण हुआ.<>< बिल विलियम कॉम्पटनवार्ता 07:43, 21 सितंबर 2013 (UTC)
बिल जी और प्रतीक जी, आपको बहुत-बहुत धन्यवाद।☆★संजीव कुमार (✉✉) 10:09, 21 सितंबर 2013 (UTC)

2013 मुज़फ़्फ़र नगर दंगे[संपादित करें]

विकिपीडिया के सभी सदस्यों से अनुरोध है कि इस पृष्ठ को नवीन जानकारी मिलने पर अपडेट करते रहें । --प्रतीक मालवीय (वार्ता) 11:28, 19 सितंबर 2013 (UTC)

अखबारों की खबरो की मानैं तो यह सरकार की भूल का परिणाम कहा जा सकता है। अब अपने को साफ-पाक कहने के लिए दलगत राजनीति की जा रही है।देश में अमन चैन कायम करने के लिए हिंदू-मुस्लिम एकता को बढावा देना होगा । सच को सच कहने होगे। न्यायिक व्यवस्था को सभी को आदर करना होगा । आज देश कहाँ जा रहा है इस पर सभी को पुन: पुन: सोचना होगा । आतंक के इस माहौल में देश को बचाने का कार्य हमेसा से भारत करता रहा यहां शान्ति का संदेश देश को देना होगा। हमारा देश शान्ति प्रिय देश रहा है लेकिन जो आज देखा सुना जा रहा है वह सोच का विसय बनता जा रहा है। कहीं हम भी उग्रवाद के चपेट में न आ जाएं,
बचना होगा न्यापूर्ण कार्य करने कि जरूरत है। हालाकि प्रदेश में शांति की बहुत ही कमी से जनता इनकार नही कर पा रही है।— इस अहस्ताक्षरित संदेश के लेखक Sukhmangal है, (वार्तायोगदान)।☆★संजीव कुमार (✉✉) 06:33, 22 सितंबर 2013 (UTC)

About Mergers and Article Titles[संपादित करें]

As no one suggested anything at विलय सम्बंधी जानकारी, please guide me what I should do when there are two pages. Ex: there are two wiki pages on a single person

  1. ई एस एल नरसिंहन created on 23 January 2008 (less info.)
  2. इक्काडु श्रीनिवासन लक्ष्मी नरसिंहन created on 25 August 2012 (more info.)

and what is the rule about Article title at this HiWP? If the common name rule applies then there may be some more works to be done after finalizing which article to keep; and also some more pages like अल्लाह रक्खा रहमान to be redirected to ए आर रहमान not vice-versa. Thank you--मृत्युञ्जय कर (वार्ता) 07:57, 20 सितंबर 2013 (UTC)

As much I understood for just now you can tag {{merge}} on these type of pages. We have to use the name which is more popular. In case of AR Rahman, as you said, we should keep ए आर रहमान as main page and another should redirect on this. ☆★संजीव कुमार (✉✉) 17:47, 20 सितंबर 2013 (UTC)
Mritunjaya, I was planning to answer on my talk page. However, it is better that this discussion take place here.
मेरे विचार से विलय करते समय हमें निर्णय इस आधार पर लेना चाहिए कि लेख का उपयुक्त नाम क्या होगा, इस आधार पर नहीं कि किस्में अधिक जानकारी है। पृष्ठों के सही नाम क्या होने चाहियें, इस सम्बन्ध में हिन्दी विकिपीडिया पर अभी कोई नीति नहीं है। पहले भी इस सम्बन्ध में चर्चाएँ हो चुकी हैं जिनमें औपचारिक नाम और प्रचलित नाम में से किसपर लेख होना चाहिए, इसपर विवाद उठे हैं। व्यक्तिगत रूप से मेरे विचार से:
  • व्यक्तियों पर लेख प्रचलित नाम पर होने चाहियें। इसमें सभी व्यक्ति शामिल हैं, चाहे वे वर्तमान में राजा ही क्यों ना हों।
  • किसी भी प्रकार की संस्था के लेखों के नाम संस्था के औपचारिक नाम पर होना चाहिए, पर उसमें Inc. Ltd. Pvt. प्रकार के प्रत्यय छोड़े जाने चाहियें (संभव हो तो)।
  • पशु-पक्षियों, भौगोलिक वस्तुओं (जैसे पहाड़, घाटियाँ, झीलें, तारे, constellation इत्यादि) के नाम यदि प्रचलित हिन्दी अथवा संस्कृत या उर्दू में से उपलब्ध हों तो वो लेने चाहियें, बजाए वैज्ञानिक नामों के।
  • जगहों के नाम बिना किसी प्रत्यय के होने चाहियें यदि उस नाम की और कोई जगह न हो तो। यदि एक ही नाम की एक से अधिक जगहें हों, तो लेखों के नाम में आगे प्रत्यय जोड़ देने चाहियें और बिना प्रत्यय वाले नाम को बहुविकल्पी पृष्ठ बना देना चाहिए।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 13:49, 21 सितंबर 2013 (UTC)
नोट: इस सम्बन्ध में विकिपीडिया:लेख का नाम कैसे रखें पृष्ठ मौजूद है परन्तु बहुत ही कम जानकारी प्रदान करता है। इसे अद्यतन एवं विस्तार की आवश्यकता है।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 13:53, 21 सितंबर 2013 (UTC)

दोहरी नीति विवाद[संपादित करें]

मैं इस भाग का निर्माण विकिपीडिया:पृष्ठ_हटाने_हेतु_चर्चा/लेख/गयासुद्दीन_गाजी पर अनुनाद जी द्वारा उठाये गये मुद्दों के सन्दर्भ में चर्चा हेतु कर रहा हूँ। अनुनाद जी का कहना है कि:

चूँकि अनुनाद जी के कथन के अनुसार उनकी टिप्पणी का विकिपीडिया:पृष्ठ_हटाने_हेतु_चर्चा/लेख/गयासुद्दीन_गाजी पर हटाने हेतु हो रही चर्चा से सम्बन्ध नहीं है और केवल इस बात से है कि वहाँ मेरे विचार नज़रअंदाज़ किये जाने चाहियें, अतः मैं उस चर्चा का उत्तर वहाँ के बजाये यहाँ दे रहा हूँ। ऐसा करने का कारण ये है कि इस चर्चा का केवल उस पृष्ठ को हटाने/रखने से ही सम्बन्ध नहीं है, बल्कि विकिपीडिया पर नीतियों के पालन से है। अतः मेरे विचार से चर्चा चौपाल पर होनी चाहिए, और इसलिए मैंने इस भाग कका निर्माण किया है।

अब उस चर्चा पर मेरा उत्तर:

अनुनाद जी का कहना है कि मैंने बपौती शब्द प्रयोग किया, जबकि मैंने जो शब्द प्रयोग किया था (सम्पादन अंतर) वह जागीर था। उन्होंने अपनी टिप्पणी में कहा है कि मैंने कहा था कि विकिपिडिया किसी की बपौती नहीं है जबकि मैंने जो कहा था वह था अनुनाद जी ये पृष्ठ मेरी (या किसी भी सदस्य की) जागीर नहीं है, एक विकिपीडिया पृष्ठ है। सर्वप्रथम तो मैं स्पष्ट कर दूँ कि मैंने यह विकिपीडिया नामस्थान के पृष्ठ के सन्दर्भ में कहा था, लेखों के सन्दर्भ में नहीं। उसके अतिरिक्त, मुझे (अब भी) नहीं लगता कि मैंने कुछ भी आपत्तिजनक कहा था। जो मैंने कहा था उसे आम तौर पर अंग्रेज़ी में कहूँ तो Anunad ji, this page is not owned by me (or any other user), it is a wikipedia page. अब यदि मेरे हिन्दी और अंग्रेज़ी के कथन में भावना का अंतर है तो मैं उससे अवगत नहीं हूँ (सिवाए इसके कि शायद कथन का अर्थ निकाला जा सकता है कि कथन केवल विकिपीडिया नामस्थानों के पृष्ठों के लिए नहीं बल्कि सभी पृष्ठों के लिए है)। इनमें से कोई भी अर्थ निकाला जाए, मेरे मानना है कि मेरा कथन सही था। इस बात को एक पृष्ठ के लिए कहें या सभी के लिए, मेरे विचार से ये बिलकुल सही है। इसके अतिरिक्त अनुनाद जी ने काफ़ी बातें कही हैं जिन्हें सदस्य उपयुक्त चर्चा में पढ़ सकते हैं और जिनका उत्तर अन्य सदस्य दे चुके हैं।

मैं अंत में यह भी स्पष्ट कर दूँ कि दोनों जगह मैंने जो विचार लिखे हैं मैं अब भी उन विचारों का समर्थन करता हूँ।

इस सम्बन्ध में सभी सदस्यों की टिप्पणी का स्वागत है (चाहे आपके विचार मुझसे मिलते हों या भिन्न हों)।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 19:09, 22 सितंबर 2013 (UTC)

अगर केवल यही संदर्भ है तो दोहरी नीति मेरी समझ में नहीं आती। अगर उक्त वाक्य में जागीर की जगह बपौती होता तो भी नहीं क्योंकि सदस्य अपने बारे में भी लिख रहा है। वार्ता में निहित भावना (स्पिरिट) में भी कोई आहत करने वाला संकेत नहीं है। मतभेदों का भी सम्मान होना चाहिए। फिर से निवेदन है कि ऐसी बातों को तूल न दिया जाय। -- अजीत कुमार तिवारी वार्ता 05:06, 23 सितंबर 2013 (UTC)
यह सही है कि सिद्धार्थ जी ने 'बपौती' शब्द का नहीं बल्कि 'जागीर' शब्द का प्रयोग किया है। किन्तु दोनों ही शब्दों का इस सन्दर्भ में लगभग एक ही अर्थ है। 'जागीर' भी उतना ही आपत्तिजनक है जितना 'बपौती'। इसीलिए लिखते समय 'जागीर' के बजाय 'बपौती' याद रहा।
पता नहीं आप अपने इस 'तर्क' का अंग्रेजी अनुवाद करके क्या सिद्ध करना चाहते हैं। (माफ कीजिएगा, किसी को 'साला' कहकर उसका अंग्रेजी अनुवाद 'ब्रदर-इन-ला' करके क्या कोई पल्ला झाड़ सकता है?) अजीत कुमार तिवारी जी, आशीष जी का यह वाक्य पूर्णतः अनावश्यक था इसलिए कोष्टक में (मेरी भी) लिखने से उसकी गम्भीरता कम नहीं हो जाती। दूसरी बात यह कि मेरे भी मापदण्ड से यह आपत्तिजनक नहीं है लेकिन पहले भी कह चुका हूँ कि इनके अपने ही मापदण्द से (नीचे बात को स्पष्ट किया गया है) यह शब्द आपत्तिजनक है।
अब 'दोहरी नीति' की बात करते हैं। वह चर्चा आपके द्वारा बनाए एक पृष्ट की हो रही थी। उसकी चर्चा को पढ़कर कोई भी समझ सकता है कि 'विकिपीडिया किसी की जागीर नहीं है' क्यों प्रयोग करना पड़ा। आपके पास तर्क का अकाल पड़ गया था और आपने यह तर्क दे दिया। आपका यह वाक्य अनावश्यक है, प्रसंगच्युत (इर्रेलिवेंट) है, कुतर्क है। यदि यह तर्क सही है तो कोई भी अन्त में इस हथियार का प्रयोग कर सकता है। यह ब्रह्मास्त्र है जिसका कोई काट नहीं है। मान लीजिए श्री वर्मा जी गयासुद्दीन गाजी वाले लेख पर अन्त में यही तर्क डाल देते हैं और कहते हैं कि इसी तर्क के आधार पर सिद्धार्थ घई जी का लेख नहीं हटाया गया था तो जरा बताएँ कि आपके पास इसका क्या जवाब है? । जब अपने पर आये तो 'जागीर' की बात करें और एक हफ्ते बाद ही दूसरे के लेख को हटाने के लिए बड़ी-बड़ी बातें करना ही तो दोहरा मापदण्ड, दोहरा आचरण है।
अतः मैं मानता हूँ कि आपका तर्क गलत था, 'जागीर' का प्रयोग इस सन्दर्भ में आपत्तिजनक था। याद कीजिए, इसके पहले आप 'दोगलापन' को अत्यन्त आपत्तिजनक मान चुके हैं जबकि वह किसी के द्वारा दस मिनट के अन्तराल पर, बिल्कुल उल्टी, दो बातें कहने के सन्दर्भ में प्रयोग किया गया था। यह भी दोहरा मापदण्ड है। यहाँ अभी केवल दो दोहरे मानपण्डों का उदाहरण दिया है। अभी चर्चा चलने दें, समय मिलने पर और भी कुछ गिनाने की कोशिश करूँगा।-- अनुनाद सिंहवार्ता 05:34, 23 सितंबर 2013 (UTC)
मुझे लगता है हिन्दी विकिपीडिया पर हमें पृष्ठ बनाने का कार्य छोड़कर पहले नियमावली बनानी होगी क्योंकि प्रत्येक विवाद या तो नियमावली न होने का परिणाम है अथवा नियमावली के दुरुपयोग का है। यहाँ उपरोक्त चर्चा से यह तो तय है कि अनुनाद जी और सिद्धार्थ जी एक दूसरे को समझने में असमर्थ हो रहे हैं। अतः मुझे लग रहा है यह चर्चा आपसी मतभेद नहीं बल्कि थोड़ा सा एक दूसरे को न समझ पाने का परिणाम है। आप दोनों वरिष्ठों से मेरा निवेदन है कि एक दूसरे को उलझाने की बजाय समझने का प्रयास करो। मैं जिस तरफ खड़ा होकर देखता हूँ वैसा ही दिखाई देने लगता है अतः समझ में नहीं आता सही क्या है और गलत क्या? लेकिन जो भी हो एक बात जरूर है "प्रबन्धक के कार्यों से सम्बंधित विकिपीडिया पृष्ठ" बनाते समय चर्चा में सक्रिय रूप से केवल दो व्यक्तियों ने भाग लिया था जिनमें एक अनुनाद जी थे और दूसरे सिद्धार्थ जी। परिणाम: सिद्धार्थ जी की बातों से अनुनाद जी असहमत थे और उसका ही एक परिणाम यह है। मुझे लगता है उस पृष्ठ का उल्लेख वि:प्रबंधक पर कर दिया जाये तो समस्या का निदान हो जायेगा।☆★संजीव कुमार (✉✉) 06:28, 23 सितंबर 2013 (UTC)
"विवाद या तो नियमावली न होने का परिणाम है अथवा नियमावली के दुरुपयोग का है।" संजीव जी के इस कथन से मैं पूरी तरह सहमत हूँ , किन्तु शिष्टाचार से बढ़कर कोई नियमावली नहीं। हमें स्वय निर्णय लेना होगा कि काल-पात्र-स्थान का ध्यान रखते हुये कौन सा शब्द प्रयोग करना उचित होगा और कौन सा अनुचित। खासकर प्रबंधकीय दायित्व का निर्वहन करने वालों के लिए यह अतिआवश्यक है।

Mala chaubey (वार्ता) 10:24, 23 सितंबर 2013 (UTC)

हिन्दी में बहुप्रचलित बपौती शब्द का अर्थ उत्तराधिकार जबकि उर्दू के जागीर शब्द का अर्थ सम्पत्ति है। दोनों शब्दों में पर्याप्त अन्तर है। उत्तराधिकार में मिली सम्पत्ति में व्यक्ति का स्वयं का योगदान कुछ नहीं होता जबकी जागीर में योगदान होता है और वह योगदान होता है व्यक्ति का पुरुषार्थ। विकीपीडिया के जितने भी योगदान हैं वे सभी सदस्यों के सामूहिक पुरुषार्थ के कारण हैं। ऐसी स्थिति में विशेषधिकार प्राप्त व्यक्तियों का यह नैतिक दायित्व बनता है कि वह किसी भी लेख को हटाते व मिटाते समय एक बार नहीं बल्कि सौ बार सोचें। मेरा सभी से सिर्फ़ इतना ही निवेदन है, बस। डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 12:08, 23 सितंबर 2013 (UTC)
अनुनाद जी मैंने इस वाक्य का अंग्रेज़ी अनुवाद इसलिए किया है कि कहीं भावना हिन्दी में गलत रह गयी हो और अंग्रेज़ी में सही भावना व्यक्त हो जाए तो मुद्दे का समाधान हो। आपके उत्तर से स्पष्ट है कि ऐसा कुछ नहीं हुआ है। आपको लगता है कि मेरे पास तर्क का अकाल पड़ गया था जिसके बाद मैंने इस वाक्य का प्रयोग किया। आप अब भी ये मान रहे हैं कि आपने जो तर्क दिए थे वे सही थे और मैंने जो तर्क दिए थे वे ग़लत थे। मैं पहले भी कह चुका हूँ कि इस चर्चा के विषय मेरे और आपके विचार भिन्न हैं और हमें एक-दुसरे के विचारों का सम्मान करना होगा। मैं ये भी कह चुका हूँ कि आप चाहें तो इस पृष्ठ के सम्बन्ध में किसी भी चर्चा की शुरुआत कर सकते हैं। पर अब आप ये चाहते हैं कि मैं आपके विचारों से असहमत होते हुए भी उन्हें मान लूँ और आपके कहे अनुसार कार्य कर दूँ। यह संभव नहीं है। जहाँ एक ओर आपको इस पृष्ठ के वर्तमान रूप से आपत्ति है वहीँ दूसरी ओर विकिपीडिया वार्ता:प्रबंधन कार्य पर अन्य सदस्यों ने इसका समर्थन किया है। (क्रांत जी यहाँ ध्यान दें कि अनुनाद जी और मैं इस पृष्ठ पर टिप्पणी करने वाले इकलौते नहीं हैं।) अब अगर आपने आपत्ति पृष्ठ के स्थानान्तरण के पूर्व की होती तो पहले ही चर्चा हो जाती। स्थानान्तरण के पश्चात भी चर्चा में मुझे कोई आपत्ति नहीं है, परन्तु जिस बात से मैं सहमत नहीं हूँ मैं उसका प्रस्ताव क्यों रखूँगा। इसके अतिरिक्त सिर्फ़ आप और मैं यह निर्णय नहीं ले सकते, जब तक की अन्य सदस्य इसमें भाग ना लें। इस चर्चा में अन्य सदस्यों ने भाग किन कारणों से नहीं लिया, ये सदस्य ही जानें।
परन्तु यहाँ अब मुझे भी कुछ बातों से आपत्ति है। मुझे आपत्ति इस बात से है कि अनुनाद जी ने इस बात को चौपाल पर उठाने अथवा व्यक्तिगत रूप से उठाने के बजाये यह उचित समझा कि वे किसी पृष्ठ को हटाने हेतु हो रही चर्चा में उठायें। और वह भी ऐसे तर्क से आपत्ति करने के लिए जिसका उस चर्चा में प्रयोग ही नहीं किया गया है, बल्कि एक भिन्न असम्बद्ध(unrelated) चर्चा में प्रयोग किया गया है। वे इतने समय से विकिपीडिया सदस्य हैं कि इससे उस चर्चा पर क्या प्रभाव पड़ेगा इस बात से वे भली-भाँती अवगत होंगे। फिर भी उन्हें ऐसा करना उचित लगा। यह कार्य मेरे विचार से अनुचित था। मैं ऐसे बरताव की अपेक्षा किसी भी विकिपीडिया सदस्य से नहीं करता, ख़ासकर एक वरिष्ठ सदस्य से तो कतई नहीं; चूँकि यह विकिपीडिया:बात समझाने के लिये विकिकार्य बाधित न करें के विरुद्ध है।
मुझे इस बात से भी आपत्ति है कि अनुनाद जी चर्चाओं में दुसरे पक्ष के विचार समझने की पर्याप्त कोशिश नहीं करते हैं, अथवा चाहते हैं कि दूसरा पक्ष उनके विचारों से चाहे सहमत हो या असहमत, वह उनकी बात मान ले और उनके कहे अनुसार कार्य करे। यह अपेक्षा करना कि कोई सदस्य जो भिन्न विचार रखता हो वह चुप-चाप किसी और की बतायी राह पर चले ग़लत है। अनुनाद जी चर्चाओं में मुक्त होते हैं कि वे वह कार्य स्वयं करें परन्तु वे सदैव प्रयत्न करते हैं कि किसी तरह दूसरा पक्ष वह कार्य कर दे। एक उदाहरण तो प्रबंधन सूची की चर्चा ही है जिसमें मेरे ये कहने के बाद कि वे कोई भी चर्चा शुरू कर सकते हैं और मैं उसमें भाग लूँगा, उन्होंने पुनः मुझसे चर्चा शुरू करने का निवेदन किया है। मैंने यह अस्वीकार कर दिया तो उन्हें दोहरी नीति दिखाई दी। अनुनाद जी ज़रा ये सोचिये कि जब मैं आपके विचारों से सहमत नहीं हूँ, तो मैं अगर उस विषय पे चर्चा शुरू करूँगा तो आपके विचारों को सही रूप से कितना दर्शा पाऊँगा। निस्संदेह मेरे कथनों में कमी रहेगी क्योंकि मैं व्यक्तिगत रूप से उन विचारों को नहीं मानता हूँ। ऐसे में आपको लगेगा कि मैं तटस्थ रूप से चर्चा नहीं कर रहा अथवा जानबूझ कर आपके विचारों को ग़लत दृष्टि में दिखा रहा हूँ। इसीलिए मैं ऐसी किसी चर्चा का निर्माण नहीं कर सकता (एवं नहीं करूँगा) जिसके विचारों से मैं असहमत हूँ। आप (एवं अन्य सदस्य) उन विचारों को सही भाव एवं शब्दों के प्रयोग से व्यक्त करके चर्चा का निर्माण करने को मुक्त हैं, परन्तु आप (या कोई भी अन्य सदस्य) मुझसे ये अपेक्षा ना करें कि मैं आपके (अथवा उनके) विचारों से असहमत होने पर भी आपके (उनके) विचारों को चर्चा में व्यक्त करूँ।
आशा करता हूँ कि स्पष्ट हो गया होगा कि मैं स्वयं प्रबंधन अधिकारों की नीति सम्बंधित चर्चा का निर्माण क्यों नहीं कर सकता। लेख हटाने की चर्चा में मैं हटाने के कारण पहले ही दे चुका हूँ।--सिद्धार्थ घई (वार्ता) 18:42, 23 सितंबर 2013 (UTC)
सिद्धार्थ जी एक सम्मानीय प्रबन्धक हैं। उन्होंने जो तर्क दिये हैं वह नि:संदेह विचारणीय है और प्रशंसनीय भी। बेहतर होगा कि इस मामले को तूल न दिया जाए। मतभिन्नता हो किन्तु मन भिन्नता नहीं होनी चाहिए, यह मेरा व्यक्तिगत मत है।

Mala chaubey (वार्ता) 05:42, 24 सितंबर 2013 (UTC)

माला जी, सिद्धार्थ जी माननीय प्रबन्धक हैं और उनके तर्क विचारणीय हैं। मैने यही विचार करने के लिए इस मुद्दे को उठाया है कि उनका तर्क 'विकिपीडिया किसी की जागीर नहीं है' मान्य है या नहीं। ऊपर सिद्धार्थ जी ने इस पर कुछ भी नहीं लिखा है। उल्टे वे मुझ पर व्यक्तिगत आक्रमण पर उतर आये हैं। उन्होने अपने दोहरे मापदण्ड के बारे में भी कुछ नहीं लिखा। शायद वे किसी तरह इस चर्चा को मूल बिन्दु से हटाकर गलत दिशा में ले जाना चाहते हैं। सिद्धार्थ जी, आपके उक्त लेख को हटाने/न हटाने को लेकर जो चर्चा हुई उसमें मैने लिखा कि उसे क्यों हटाना चाहिए और आपने तर्क दिया कि क्यों नहीं हटाना चाहिए। और उसी सिलसिले में आपने यह 'तर्क' दिया। इसी तर्क की प्रासंगिकता, औचित्य, आवश्यकता, भविष्य में इसके परिणाम आदि पर चर्चा चल रही है।
आपके द्वारा बाद में दिए गए अंग्रेजी अनुवाद पर मैने एक दृष्टान्त दिया था, एक और दृष्टांत देता हूँ। एक ज्योतिषी ने एक राजा की होने वाली सन्तान के बारे में भविष्यवाणी में लिख दिया- 'बेटा'। किन्तु जन्मी बेटी। ज्योतिषी ने बहुत सही स्पष्टीकरण दिया - 'मैं बेटी ही लिख रहा था, बस ऊपर की मात्रा लिखना छूट गया।'
जहाँ तक पहुंची उसके पीछे आपके 'कोई भी चर्चा शुरू कर सकते हैं' को मैने तुरन्त शुरू नहीं किया तो कोई अपराध नहीं है। वह मेरी कार्यसूची में है और उस पर चर्चा होना है। मेरी हिन्दी विकि सम्बन्धी कार्यसूची में दस-पन्द्रह कार्य हैं उन्हें सही क्रम में और सही समय पर अवश्य उठाऊँगा, धैर्य रखिए। एक ही साथ दस चर्चाएँ चलाने का कोई परिणाम नहीं आता।
सिद्धार्थ जी मैने आपकी दोहरी नीति की तरफ सदस्यों का ध्यान दिलाने के लिए उसे बहुत सही जगह पर उठाया है। आपने पहले भी विकिनीतियों के उल्लंघन के कई कार्य किए हैं जिन्हें मैने सही समय पर सदस्यों के सामने लाने का प्रयत्न किया है। ऊपर कई सदस्यों ने हिन्दी विकिपीडिया पर नियमावली का अभाव, नियमों का दुरुपयोग आदि का संकेत किया है। इस पर विस्तृत चर्चा होनी है। -- अनुनाद सिंहवार्ता 07:49, 24 सितंबर 2013 (UTC)
सिद्धार्थ जी, शायद आप बात को समझने का प्रयास नहीं कर रहे। आपके उदाहरण मुझे बहुत डरावने लग रहे हैं। आपने विकि कार्य को बाधित न करें का उदाहरण तो दिया है लेकिन आपने यह उदाहरण देते समय यह नहीं देखा कि उपर्युक्त पृष्ठ नीति किस आधार पर बना। जिस समय उस पृष्ठ का निर्माण हुआ उस समय विकिपीडिया के वर्तमान में सक्रिय सदस्य या तो प्रतिबंधित थे और जो उस समय भी सक्रिय थे उनसे इस सम्बंध में कोई चर्चा नहीं की गयी। उस पृष्ठ के निर्माता ने इसे अपनी स्वयं की सम्पति समझकर बना दिया। उस पृष्ठ को बनाने का उद्देश्य केवल अपनी नीति को थोपना था। यदि आप भी उस थोपी हुई नीति का सहारा ले रहे हो तो फिर मेरे जैसे लोग तो भ्रमित ही होंगे ना।
  • जब किसी सदस्य पर गुजरती है तो उसके समझ में आता है कि क्या हुआ? शायद आप पिछले १० माह में विकिपीडिया पर घटित घटनाओं से अवगत नहीं हो। आपके द्वारा दिये गये पृष्ठ पर वि:बाधामत पर लिखा है अकारण चेकयूज़र जाँचे माँगने का प्रयास मत करें बल्कि इस पृष्ठ का निर्माण करने वाले महान पुरुष ने कुछ सदस्यों के लिए चेकयूजर जाँच का आवेदन मेटाविकिमीडिया (मुझे सही दिन तो याद नहीं है लेकिन लगभग मार्च २०१३ के मध्य में यह कार्य किया गया। यदि कोई आवश्यकता समझे तो मैं पूर्णतया सही जानकारी उपलब्द्ध करवा दुँगा।) पर किया। परिणाम यह हुआ कि चेकयूजर असफल रहा। उनके पास सदस्य को ब्लॉक करने के लिए कोई विकल्प नहीं रहा तो उन्होंने अनुनाद जी, जगदिश जी आदि लोगों को हिन्दी विकि पर प्रतिबंधित कर दिया। जब अनुनाद जी ऐसी परिस्थितियों से गुजर चुके हैं अतः उन्हें लगता है कि ऐसा किसी अन्य सदस्य के साथ भी ऐसा न हो अतः वो नीति और नियम बनाने के पक्ष में हैं।
  • अब मैं आपको आपके द्वारा बनाये गये पृष्ठ की जानकारी देता हूँ। हिन्दी विकी पर पहले से विकिपीडिया:प्रबंधक नियम व दायित्व नामक नियमावली पहले से उपस्थित है। शायद आपके द्वारा बनाया गया पृष्ठ इसका एक अनुभाग हो सकता था। इसके अलावा विकिपीडिया:प्रबन्धन अधिकार हेतु निवेदन नामक पृष्ठ भी है जहाँ इन दोनों पृष्ठों का कोई उल्लेख नहीं है। इसी के साथ एक अन्य पृष्ठ विकिपीडिया:प्रबन्धन निवृति हेतु निवेदन है जिसका निर्माण बिल जी ने पिछले वर्ष किया था। लेकिन उसमें भी अन्य किसी पृष्ठ के बारे में उल्लेख नहीं है। इन सबसे हटकर विकिपीडिया:प्रबन्धक नामक पृष्ठ सबसे पुराना भी है और शायद चर्चा के बाद बनाया गया है, उसमें आपके द्वारा भी सम्पादन किये गये हैं लेकिन इस लेख में भी किसी अन्य पृष्ठ से कोई जुड़ाव नहीं है।
  • उपरोक्त बातों को देखकर समस्या यह आती है कि इनमें कौनसे अधिकार हैं, कौनसे नीति निर्देशक तत्व और कौनसे कर्तव्य? यदि सभी समान हैं अथवा सभी भिन्न हैं तो इन्हें एक साथ रखना चाहिए जिससे पाठक को सुविधा मिले। नीति सम्बंधित कोई भी नया पृष्ठ बनाने से पहले चौपाल अथवा किसी भी तटस्थ स्थान पर उसकी चर्चा हो और उसे लागू करने से पहले कम से कम इस चर्चा को एक माह का समय दिया जाये। यदि कोई भी सदस्य एक माह तक इसपर कोई उत्तर नहीं देता है तो इसे घोषित मान लिया जाये। किसी भी घोषित नीति पर उस पृष्ठ का उल्लेख किया जाये जहाँ इसकी चर्चा हुई थी। उसके साथ ही इस बात का भी उल्लेख हो कि यह चर्चा किस दिन से आरम्भ हुई और किस दिन तक इस पर चर्चा हुई।
आशा है आप सब लोग (सिद्धार्थ जी और अनुनाद जी सहित) मेरी उपरोक्त बातों से सहमत होंगे।☆★संजीव कुमार (✉✉) 11:50, 24 सितंबर 2013 (UTC)

संजीव जी! विकिपीडिया:बात समझाने के लिये विकिकार्य बाधित न करें हुन्जाल जी ने ८ अप्रैल को बनाया था। मैंने उनके वार्ता पृष्ठ पर बिस्मिल लेख की वर्तनी के सम्बन्ध में चर्चा के साथ कुछ निवेदन भी २१ अगस्त को किया था। परन्तु वह २३ अगस्त को ४ सप्ताह की छुट्टी पर चले गये। अब बात समझाने के लिये विकिकार्य लगातार बाधित हो रहा है। कौन कर रहा है, पता नहीं। उस समय मुझ पर प्रतिबन्ध लगा। अवधेश पाण्डेय पर प्रतिबन्ध लगा। सिद्धार्थ जी तटस्थ बने बैठे रहे। मैं तो तीन महीने बाद आ गया। अवधेशजी अनिश्चित काल के अभी भी प्रतिबन्धित हैं। विकी पर कोई लगाम लगाने वाला नहीं। ऐसे में विकी कार्य सुचारु रूप से चलता रहे इसकी चिन्ता हम सभी करें तो ज्यादा अच्छा होगा। रह गयी बात मेरे सवाल उठाने की तो मैं पूरी तरह आश्वस्त था कि सिद्धार्थ जी गयासुद्दीन गाजी पृष्ठ पर काफी सन्दर्भ आ जाने के बाद अपना विचार बदल देंगे मगर वह डटे हुए हैं। बहरहाल मुझे जो कुछ कहना था ऊपर कह दिया है। समझदार को इशारे के लिये। जागीर और बपौती से काफी कुछ स्वयं ही स्पष्ट हो जाता है। डॉ०'क्रान्त'एम०एल०वर्मा (वार्ता) 12:08, 24 सितंबर 2013 (UTC)

हिंदी विक्षनरी पर नए नामस्थान के लिए प्रस्ताव चर्चा[संपादित करें]

हिंदी विक्षनरी चौपाल पर नए नामस्थान के लिए प्रस्ताव रखा है । आपके सुझाव रखकर उचीत शब्दप्रयोग का चयन करनेमे सम्मीलीत होने की प्रार्थना है।

Mahitgar (वार्ता) 06:04, 23 सितंबर 2013 (UTC)

[संपादित करें]

Category Title[संपादित करें]

There are 4 types (may be more?) of category title representing birth year:

  1. श्रेणी:१८५६ जन्म
  2. श्रेणी:१९२६ में जन्में लोग
  3. श्रेणी:181 में जन्म
  4. श्रेणी:1895 में जन्मे लोग

should we use only the first one like श्रेणी:१८५६ जन्म which is short and match with other related category titles like श्रेणी:जीवित लोग, श्रेणी:१९२४ मृत्यु and श्रेणी:मृत लोग।--मृत्युञ्जय कर (वार्ता) 06:24, 24 सितंबर 2013 (UTC)

मृत्यञ्जय जी अधिकतर पृष्ठों में चतुर्थ विकल्प श्रेणी:1895 में जन्मे लोग का उपयोग हुआ है अतः मुझे लगता है इस प्रकार का विकल्प ठीक रहेगा। आपके दूसरे प्रश्न के सम्बंध में कहुँगा कि अधिकतर लेखों में श्रेणी:१९२४ मृत्यु का उपयोग हुआ है। यदि किसी को कुछ और उचित लगता है तो कृपया अपने विचार दें। (On most of the places श्रेणी:1895 में जन्मे लोग has been used so I think this format is better. About your second question I can say श्रेणी:१९२४ मृत्यु format has been used on most of the places. I would like to know the thinking of other people.)☆★