साल्हेर की लड़ाई

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
साल्हेर की लड़ाई
शाही मराठा विस्तार का भाग
तिथि फरवरी 1672
स्थान साल्हेर, महाराष्ट्र, भारत
परिणाम मराठा विजय
क्षेत्रीय
बदलाव
मराठों ने साल्हेर और मुल्हेर किला और आसपास के मुगल क्षेत्रों पर कब्जा कर लिया।
योद्धा
Flag of the Maratha Empire.svg मराठा साम्राज्य Alam of the Mughal Empire.svg मुगल साम्राज्य
सेनानायक
Flag of the Maratha Empire.svg प्रतापराव गुजर
Flag of the Maratha Empire.svg मोरोपंत त्र्यंबक पिंगले
Flag of the Maratha Empire.svg आनंदराव माकाजी
Flag of the Maratha Empire.svg सूर्याजी काकदे  
Flag of the Maratha Empire.svg रूपाजी भोसले
Alam of the Mughal Empire.svg दिलेर खान
Alam of the Mughal Empire.svg बहादुर खान[1]
Alam of the Mughal Empire.svg इखास खान
Alam of the Mughal Empire.svg बहलोल खान

सालहर की लड़ाई फरवरी 1672 ई. में मराठा साम्राज्य और मुगल साम्राज्य के बीच लड़ी गई थी। लड़ाई नासिक जिले के साल्हेर किले के पास लड़ी गई थी। परिणाम मराठा साम्राज्य के लिए एक निर्णायक जीत थी। इस लड़ाई को विशेष रूप से महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि यह पहली कड़ी लड़ाई है जिसमें मराठा साम्राज्य ने मुगल साम्राज्य को हराया था।[2]

पृष्ठभूमि[संपादित करें]

पुरंदर की संधि (1665) के बाद शिवाजी को मुगल साम्राज्य को 23 किले सौंपना पड़ा था।[3] रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण किले, जैसे सिंहगढ़, पुरंदर, लोहगढ़, करनाला, और महुली, मुगल साम्राज्य को सौंप दिये गए थे।[3] इस संधि के बाद शिवाजी को आगरा में औरंगजेब के दरबार में जाने के लिए बाध्य होना पड़ा। सितंबर 1666 में आगरा से उनके प्रसिद्ध पलायन के बाद, 2 साल के लिए शांति रही[4]

1670-1672 के बीच की अवधि में शिवाजी की शक्ति और क्षेत्र में एक बड़ी वृद्धि हुई । शिवाजी के सेनाओं ने बागलान तालुका, खानदेश, और सूरत में सफलतापूर्वक छापेमारी की और एक दर्जन से अधिक किलों पर कब्जा कर लिया।[3]

लड़ाई[संपादित करें]

जनवरी 1671 में सेनापति प्रतापराव गूजर और उनकी 15,000 की सेना ने मुगल साम्राज्य के औंधा, पट्टा और त्र्यंबक किलों पर कब्जा कर लिया और साल्हेर और मुल्हेर पर हमला किया। [3] इसके कारण औरंगजेब ने अपने दो सेनापतियों इखलास खान और बहलोल खान को 12,000 घुड़सवारों के साथ साल्हेर वापस लेने के लिए भेजा। अक्टूबर 1671 में, मुगलों ने साल्हेर की घेराबंदी की। बदले में शिवाजी ने अपने दो कमांडरों पेशवा मोरोपंत पिंगले और सरदार प्रतापराव गुजर को किले को पुनः प्राप्त करने की आज्ञा दी।[5][6]

50,000 मुगलों ने 6 महीने से अधिक समय तक किले को घेर रखा था। शिवाजी साल्हेर के सामरिक महत्व को जानते थे क्योंकि यह महत्वपूर्ण व्यापारिक मार्गों पर मुख्य किला था। Dइस बीच दिलेरखान ने पुणे पर भी हमला कर दिया था और शिवाजी पुणे को नहीं बचा सके क्योंकि उनकी मुख्य सेनाएं दूर थीं। शिवाजी ने दिलेरखान को पुणे से उसे दूर खींचने की और साल्हेर पहुँचने के लिए विवश करके एक योजना तैयार की। उस समय मोरोपंत त्र्यंबक पिंगले दक्षिण कोंकण में थे और प्रतापराव गूजर औरंगाबाद के पास छापेमारी कर रहे थे। उन्होंने दोनों को आदेश दिया कि किले को मुक्त करने के लिए साल्हेर में मुगलों पर हमला करें। अपने सेनापतियों को लिखे अपने पत्र में शिवाजी ने लिखा था 'उत्तर की ओर जाओ और साल्हेर पर हमला करो और दुश्मन को हराओ'।[7] दोनों मराठा सेनाएँ वाणी गाँव के पास मिलीं और नासिक में मुगल शिविर को दरकिनार कर साल्हेर के पास पहुँचे। कुल मराठा ताकत 40,000 (20,000 पैदल सेना + 20,000 घुड़सवार सेना) की थी। यह इलाका घुड़सवार सेना की लड़ाई के लिए उपयुक्त नहीं था इसलिए मराठा कमांडरों ने अलग-अलग जगहों पर मुगल सेना को लुभाने, विभाजित करने और खत्म करने का फैसला किया। योजना के अनुसार प्रतापराव गूजर ने 5,000 घुड़सवारों के साथ मुगलों पर धावा बोल दिया और कई अप्रशिक्षित सैनिकों को मार डाला। आधे घंटे के बाद मुगल पूरी तरह से तैयार हो गए और प्रतापराव ने अपनी सेना के साथ एक नकली वापसी शुरू कर दी। 25,000 की पूरी मुगल घुड़सवार सेना ने मराठों का पीछा करना शुरू कर दिया। प्रतापराव ने साल्हेर से 25 किमी दूर एक दर्रे में मुगल घुड़सवार सेना का लालच दिया, जहां आनंदराव माकाजी के अधीन 15,000 घुड़सवार छिपे हुए थे। प्रतापराव ने दर्रे से मुंह मोड़ लिया और एक बार फिर मुगलों पर आक्रमण कर दिया। आनंदराव के अधीन 15,000 ताजा घुड़सवारों ने दर्रे के दूसरे छोर को अवरुद्ध कर दिया और मुगलों को चारों ओर से घेर लिया। ताजा मराठा घुड़सवार सेना ने थके हुए मुगल घुड़सवारों को 2-3 घंटे में हरा दिया। हजारों मुगल युद्ध से भाग गए।

इसके बाद मोरोपंत ने अपनी 20,000 पैदल सेना के साथ साल्हेर में 25,000 मुगल पैदल सेना को घेर लिया और उस पर हमला कर दिया। इस मुठभेड़ में प्रमुख मराठा सरदार और शिवाजी के बचपन के दोस्त सूर्यजी काकड़े युद्ध में एक ज़ाम्बुराक तोप से मारे गए थे।[8]

लड़ाई पूरे एक दिन तक चली और अनुमान है कि दोनों पक्षों के लगभग 10,000 लोग मारे गए थे।[9] शाही मुगल सेनाओं को पूरी तरह से खदेड़ दिया गया और मराठों ने उन्हें करारी हार दी।[10][11][4][12]

परिणाम[संपादित करें]

मराठा साम्राज्य की एक निर्णायक जीत हुई और साल्हेर और मुल्हेर का पास का किला भी मराठा नियंत्रण में आए।[13][14]

इस लड़ाई तक शिवाजी की अधिकांश जीत गुरिल्ला युद्ध के माध्यम से हुई थी, लेकिन साल्हेर पहली लड़ाई थी जिसमें मराठाो ने मुगलो को खुला युद्धक्षेत्र में हराया।[2] इस भव्य जीत के परिणामस्वरूप संत रामदास ने शिवाजी को अपना प्रसिद्ध पत्र लिखा जिसमें उन्होंने उन्हें गजपति (हाथियों के भगवान), हयपति (घुड़सवारों के भगवान), गडपति (किलों के भगवान), और जलपति (उच्च समुद्र के स्वामी) के रूप में संबोधित किया।[15] कुछ साल बाद 1674 में शिवाजी महाराज को उनके राज्य के सम्राट (या छत्रपति) के रूप में ताज पहनाया गया।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Jaswant Lal Mehta (1981). Advanced Study in the History of Medieval India: 1526-1707. Sterling. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788120706170.
  2. Y.G. Bhave (2000). From the Death of Shivaji to the Death of Aurangzeb. Northern Book Centre. पृ॰ 42. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788172111007.
  3. "The Battle Where Shivaji Rewrote History And Mughal Rout | Creative India". creativeindiamag.com (अंग्रेज़ी में). मूल से 7 November 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-11-03.
  4. Pradeep Barua (2005). The State at War in South Asia. University of Nebraska. पृ॰ 42. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0803213441.
  5. Nath, Surendra. Siva Chhatrapati, Being a Translation of Sabhasad Bakhar with Extracts from Chitnis and Sivadigvijaya, with Notes. पृ॰ 103.
  6. Verinder Grover (1996). Mahadev Govind Ranade, Volume 3. Deep & Deep Publications. पृ॰ 199. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788171002450.
  7. Jadhav, Namdeorao. Ganimi Kava.
  8. Sabhasad, Krushnaji Anant (1697). Sabhasad Bakhar.
  9. H.S. Sardesai (2002). Shivaji, the Great Maratha, Volume 2. Cosmo Publications. पृ॰ 366. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788177552867.
  10. Y.G. Bhave (2000). From the Death of Shivaji to the Death of Aurangzeb. Northern Book Centre. पृ॰ 27. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788172111007.
  11. Jaswant Lal Mehta (1981). Advanced Study in the History of Medieval India: 1526-1707. Sterling. पृ॰ 404. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788120706170.
  12. Nath, Surendra. Siva Chhatrapati, Being a Translation of Sabhasad Bakhar with Extracts from Chitnis and Sivadigvijaya, with Notes. पृ॰ 104.
  13. Shivaji the Great (अंग्रेज़ी में). Balwant Printers Pvt. Ltd. 2003. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788190200004.
  14. Nath, Surendra. Siva Chhatrapati, Being a Translation of Sabhasad Bakhar with Extracts from Chitnis and Sivadigvijaya, with Notes. पृ॰ 105.
  15. Kincaid, Dennis (January 0101). The Grand Rebel (अंग्रेज़ी में). Prabhat Prakashan. पृ॰ 172.