"हिंदी की विभिन्न बोलियाँ और उनका साहित्य" के अवतरणों में अंतर

Jump to navigation Jump to search
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
 
हिंदी प्रदेश की तीन उपभाषाएँ और हैं - [[बिहारी]],[[राजस्थानी]] और [[पहाड़ी हिंदी]]।हिंदी।
 
बिहारी की तीन शाखाएँ हैं - भोजपुरी, मगही और मैथिली। बिहार के एक कस्बे भोजपुर के नाम पर भोजपुरी बोली का नामकरण हुआ। पर भोजपुरी का प्रसार बिहार से अधिक उत्तर प्रदेश में है। बिहार के शाहाबाद, चंपारन और सारन जिले से लेकर गोरखपुर तथा बारस कमिश्नरी तक का क्षेत्र [[भोजपुरी]] का है। भोजपुरी पूर्वी हिंदी के अधिक निकट है। हिंदी प्रदेश की बोलियों में भोजपुरी बोलनेवालों की संख्या सबसे अधिक है। इसमें प्राचीन साहित्य तो नहीं मिलता पर ग्रामगीतों के अतिरिक्त वर्तमान काल में कुछ साहित्य रचने का प्रयत्न भी हो रहा है। मगही के केंद्र पटना और गया हैं। इसके लिए [[कैथी]] लिपि का व्यवहार होता है। पर आधुनिक मगही साहित्य मुख्यतः देवनागरी लिपि में लिखी जा रही है। मगही का आधुनिक साहित्य बहुत समृद्ध है और इसमें प्रायः सभी विधाओं में रचनाओं का प्रकाशन हुआ है।
बेनामी उपयोगकर्ता

दिक्चालन सूची