सभ्यता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
भारत के धौलावीर नामक से प्राप्त सिंधु-घाटी-सभ्यता के दस लिपि-चिह्न

सभ्यता शब्द का प्रयोग मानव समाज के एक सकारात्मक, प्रगतिशील और समावेशी विकास को इंगित करने के लिये किया जाता है। सभ्य समाज अक्सर उन्नत कृषि, लंबी दूरी के व्यापार, व्यावसायिक विशेषज्ञता और नगरीकरण आदि की उन्नत स्थिति का द्योतक है। इन मूल तत्वों के अलावा, सभ्यता कुछ माध्यमिक तत्वों, जैसे विकसित यातायात व्यवस्था, लेखन, मापन के मानक, संविदा एवं नुकसानी पर आधारित विधि-व्यवस्था, कला के महान शैलियों, स्मारकों के स्थापत्य, गणित, उन्नत धातुकर्म एवं खगोलविद्या आदि की स्थिति से भी परिभाषित होती है।

सभ्यता(Civilization)सभ्यता का शब्दार्थ -सभ्य सभा व समूह है॥ सभ्यता मनुष्य के भौतिक क्षेत्र की प्रगति सूचित करती है, सभ्यता में भौतिक पक्ष प्रबल होता है सभ्यता बताती है कि हमारे पास क्या है जबकि संस्कृति बताती है कि हम क्या हैं,सभ्यता एक फूल है जबकि संस्कृति उस फूल की सुगंध है॥ जैसे-हम भारतीय लोग धोती पहनते हैं तो धोती शब्द भारतीय सभ्यता की प्रतीक है और इसी धोती को अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग तरह से पहना जाता है यह उन क्षेत्रों की संस्कृति है॥