पंचपरगनिया भाषा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

पंचपरगनिया भाषा झारखंड की एक लिपि-रहित भाषा है। इस आदिवासी भाषा के लिखने के लिए डॉ॰ करमचंद्र अहीर ने ‘झाड़’ लिपि तैयार की थी और साथ ही भाषा का व्याकरण और साहित्यिक इतिहास भी लिखा था।