विराट कोहली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
विराट कोहली
VIRAT KOHLI JAN 2015 (cropped).jpg
व्यक्तिगत जानकारी
पूरा नाम विराट कोहली
उपनाम Cheeku
कद 5 फीट 8 इंच (1.73 मी.)
बल्लेबाजी की शैली दाहिने हाथ
गेंदबाजी की शैली दाहिनी 
भूमिका बल्लेबाज़ तथा टेस्ट ,वनडे और टी२० में कप्तान
अंतरराष्ट्रीय जानकारी
राष्ट्रीय
टेस्ट में पदार्पण (कैप 268) 20 जून 2011 बनाम वेस्टइंडीज
अंतिम टेस्ट 8-11 अक्टूबर 2016 बनाम न्यूज़ीलैंड
वनडे पदार्पण (कैप 175) 18 अगस्त 2008 बनाम श्रीलंका
अंतिम एक दिवसीय 16 अक्टूबर 2016 v England
घरेलू टीम की जानकारी
वर्ष टीम
2006–अबतक दिल्ली
2008–अबतक रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर
कैरियर के आँकड़े
प्रतियोगिता टेस्ट वनडे एफ़सी ऍलए
मैच 57 187 107 120
रन बनाये 4497 8132 5632 5,214
औसत बल्लेबाजी 49.41 54.29 30.96 51.62
शतक/अर्धशतक 16/14 28/43 8/11 17/28
उच्च स्कोर 235 183 197 183
गेंद किया 66 411 534 344
विकेट 0 2 3 2
औसत गेंदबाजी 210.50 96.33 162.50
एक पारी में ५ विकेट 0 0 0 0
मैच में १० विकेट 0 n/a 0 n/a
श्रेष्ठ गेंदबाजी n/a 1/20 1/19 1/20
कैच/स्टम्प 36/– 83/– 37/– 64/–
स्रोत : ESPNCricinfo, 4 मार्च 2016

विराट कोहली (अंग्रेज़ी: Virat Kohli)(जन्म: 5 नवम्बर 1988) भारतीय क्रिकेट टीम के तीनों फॉर्मेट के कप्तान हैं। वे सन् 2008 की 19 वर्ष से कम आयु वाले विश्व कप क्रिकेट विजेता दल के कप्तान भी रह चुके है। भारत के घरेलू प्रथम श्रेणी क्रिकेट में विराट दिल्ली का प्रतिनिधित्व करते है।

विराट कोहली का निजी जीवन[संपादित करें]

विराट कोहली का जन्म दिल्ली में 5 नवम्बर 1988 को हुआ था। उनके माता और पिता सरोज कोहली और प्रेमजी है। उनका एक बड़ा भाई, विकास और एक बड़ी बहन, भावना है। कोहली ने विशाल भारती स्कूल से अपनी शिक्षा हासिल की है। उनके पिता, प्रेम, एक वकील थे और उनकी मृत्यु दिसम्बर 2006 में हुई थी।

करियर[संपादित करें]

वो एक मध्यक्रम के बल्लेबाज हैं और दायें हाथ के मध्यम गति गेंदबाज भी हैं। ये प्रथम श्रेणी क्रिकेट में दिल्ली का प्रतिनिधित्व करते हैं और इंडियन प्रीमियर लीग में रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर के कप्तान हैं। उन्होंने वेस्ट दिल्ली क्रिकेट अकादमी के लिए भी खेला है। उन्होंने एक भारतीय बल्लेबाज द्वारा सबसे तेज शतक का रिकॉर्ड बनाया है। कोहली ने 2008 में अपने एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय (एकदिवसीय) शुरुआत की और 2011 के विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा थे। एकदिवसीय टीम में नियमित होने के बावजूद, कोहली किंग्सटन में वेस्टइंडीज के खिलाफ 2011 में अपना पहला टेस्ट खेला था। कोहली 2012 में आईसीसी वनडे प्लेयर के प्राप्तकर्ता था। नवंबर 2013 में उन्होंने पहली बार वनडे बल्लेबाज मे शीर्ष स्थान पाया था।[1][2]

कैरियर की शुरूआत[संपादित करें]

कोहली सुर्खियों में आऐ जब वे अपने पिता की मृत्यु के दिन कर्नाटक के खिलाफ रणजी ट्रॉफी मैच में दिल्ली के लिए खेल रहे थे। कोहली मलेशिया में आयोजित २००८ U/१९ क्रिकेट विश्व कप में विजयी भारतीय टीम के कप्तान थे। नंबर 4 पर बल्लेबाजी करते हुए, उन्होंने ४७ की औसत से ६ मैचों में २३५ रन बनाए, जिसमे वेस्टइंडीज के खिलाफ शतक भी शामिल है। टूर्नामेंट के दौरान कई सामरिक गेंदबाजी परिवर्तन करने के लिए उनकी सराहना की गई थी। वे अपना हर मैच गंभीरता से लिया करते है। कोहली ऑस्ट्रेलिया में २००९ इमर्जिंग प्लेयर्स टूर्नामेंट में भारत की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ फाइनल में, कोहली ने शतक बनाया था और भारत १७ रन से जीता था।

अंतर्राष्ट्रीय कैरियर[संपादित करें]

२००८ में ऑस्ट्रेलिया में इमर्जिंग प्लेयर्स टूर्नामेंट में एक सौ के बाद कोहली २००८ में श्रीलंका की भारत के दौरे के लिए वनडे टीम में चुना गया था। सचिन तेंडुलकर और वीरेंद्र सहवाग दोनों घायल हो गए थे जब कोहली२००८ में आइडिया कप में श्रीलंका के खिलाफ एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में अपनी शुरुआत की। अपने पहले मैच में उन्होंने १२ रन बनाए। उन्होंने चौथे मैच में अपना पहला अर्धशतक, ५४ का स्कोर बनाया, भारत सीरीज जीतने में मदद की। यह श्रीलंका में श्रीलंका के खिलाफ भारत की पहली वनडे सीरीज जीत थी। युवराज सिंह से घायल हो जाने के बाद कोहली, २००९ आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में खेला, और 2009 के मध्य के बाद से रिजर्व वनडे बल्लेबाज किया गया है। युवराज ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू सीरीज के लिए फिटनेस वापस पा ली, तो कोहली श्रृंखला में कुछ मैचों में ही खेल पाए। घायल युवराज की गैर मौजूदगी में कोहली श्रीलंका भारत का दौरा किया था जब दिसम्बर २००९ में ४ वनडे में खेलने का मौका मिला है। उन्होंने अपने पहले वनडे शतक, भारत सीरीज ३-१ से सील करने के लिए सात विकेट से जीत के रूप में वह तीसरे विकेट के लिए २२४ रन की साझेदारी गौतम गंभीर के साथ की। सीनियर बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर जनवरी २०१० में बांग्लादेश में त्रिकोणीय राष्ट्र टूर्नामेंट के लिए विश्राम किया था, भारत के पांच मैचों में से प्रत्येक में खेलने के लिए कोहली सक्षम हुए। कोहली जून २०१० में जिम्बाब्वे में श्रीलंका और जिम्बाब्वे के खिलाफ त्रिकोणीय सीरीज के लिए एकदिवसीय टीम का उप कप्तान बनाया गया अन्य सभी पहली पसंद खिलाड़ियों टूर्नामेंट में हिस्सा नही लिया। इसी श्रृंखला में उन्होंने एकदिवसीय क्रिकेट में 1000 रन बनाने वाले सबसे तेज भारतीय बन गए। उन्होंने ४७.३८ की औसत से २५ मैचों में ९९५ रन बनाए उसमें ३ शतक शामिल थे, २०१० में भारत के प्रमुख रन बनाने वाले बल्लेबाज़ बने। कोहली जून २०१० में जिम्बाब्वे T20 श्रृंखला के लिए भारतीय टीम में शामिल किया गया था।

२०११ क्रिकेट विश्व कप[संपादित करें]

कोहली २०११ के विश्व कप के लिए रैना से अधिक पसंद है और विश्व कप के पहले मैच में शतक बनाने वाले पहले भारतीय बने। उन्होंने वेस्ट इंडीज के खिलाफ ५९ रन बनाए, युवराज सिंह के साथ १२२ रन कि साझेदारी कि। गौतम गंभीर के साथ तीसरे विकेट के लिए उनकी 83 रन की साझेदारी भारत के फाइनल में श्रीलंका के खिलाफ अपने रन का पीछा करने के दौरान ऊपरी हाथ लेने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उन्होंने ३५.२५ की औसत से ९ पारियों में २८२ रन बनाए।

टेस्ट कैरियर की शुरुआत[संपादित करें]

भारत ने जून और जुलाई २०११ में वेस्टइंडीज का दौरा किया था, जब वे एक बड़े पैमाने पर अनुभवहीन दस्ता चुना, सचिन तेंदुलकर विश्राम किया और गौतम गंभीर और वीरेंद्र सहवाग चोट के कारण बाहर किया गया। कोहली टेस्ट टीम में तीन नए खिलाड़ियों में से एक था। भारत टेस्ट सीरीज १-० से जीत लिया लेकिन कोहली इस प्रारूप में अपने कैरियर की शुरुआत पर संघर्ष किया मुख्य रूप से छोटी गेंदों से,५ पारी से सिर्फ ७६ रन बनाए। कोहली के लिए विशेष रूप से परेशानी श्रृंखला में उसे तीन बार आउट करने वाले फिडेल एडवर्ड्स थे, जो तेज गेंदबाज है |

२०११ में भारत का इंग्लैंड दौरा[संपादित करें]

शुरू में जुलाई और अगस्त में इंग्लैंड के खिलाफ भारत की चार मैचों की सीरीज के लिए टेस्ट टीम से बाहर कोहली, घायल युवराज सिंह के लिए कवर के रूप में वापस बुलाया गया था, हालांकि सीरीज में नहीं खेल पाए थे। उसके बाद वनडे सीरीज में खेला, भारत सीरीज 3-0 से खो दिया था, हालांकि एक सदी सहित पांच पारियों से १९४ रन बनाऐ। अक्टूबर में इंग्लैंड को भारत में एक वापसी एकदिवसीय श्रृंखला में भारत का सामना करना पड़ा। भारत 5-0 से जीता और कोहली पाँच मैच मैं २७० के साथ दोनों ओर सर्वाधिक रन स्कोरर और ११२ नॉट आउट की एक उच्चतम स्कोर बना लिया थ।

२०११ में वेस्टइंडीज का भारत दौरा[संपादित करें]

नवंबर से दिसम्बर २०११ में वेस्ट इंडीज ने तीन टेस्ट और पांच एकदिवसीय मैचों के लिए भारत का दौरा किया था। इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सफलता (पिछले महीने) के बाद, कोहली और् रैना को टेस्ट टीम में शामिल किया गया था। सीरीज के अंतिम मैच तक कोहली को टीम में चुना नहीं गया था, फिर अंतिम मैच के लिऐ चुन लिया गया। अंतिम मैच बराबरी पर समाप्त हो गया। और भारत सीरीज २-० से जीत लिया। भारत ने वनडे सीरीज ४-१ से जीत ली और कोहली ११७ का उच्चतम स्कोर के साथ ६०.७५ की औसत से २४३ रन बनाने में सफल हो गया।

ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज और सीबी श्रृंखला २०१२[संपादित करें]

कोहली को दिसम्बर २०११ में ऑस्ट्रेलिया के दौरे के लिए भारत की टीम में शामिल किया गया था। मेलबर्न में पहले टेस्ट के बाद उन्होंने टीम में अपनी स्थिति को खतरे में महसूस किया और सिडनी में दूसरे टेस्ट के दौरान कोहली ने सिडनी क्रिकेट ग्राउंड के प्रशंसकों पर अपना गुस्सा जताया, जो उसका अपमान कर रहे थे, इसके लिए उनकी मैच फीस का आधा जुर्माना किया गया। घटना के बाद एक साक्षात्कार में उन्होंने कहा, "एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में आठ सैकड़ों स्कोरिंग एक अस्थायी नहीं हो सकता। मैं नहीं जानता कि क्यों लोग मेरी तकनीक या स्वभाव पर सवाल करते है। यह सब के सब मेरे लिए एक सीखने की अवस्था है। मैं ऑस्ट्रेलिया में, मुश्किल विकेट पर खेल रहा हूँ"। भारत सीरीज ४-० से खो दिया और कोहली इसी श्रृंखला में भारत के लिए शीर्ष स्कोरर थे। भारत परीक्षणों के बाद त्रिकोणीय एकदिवसीय श्रृंखला के लिए ऑस्ट्रेलिया में बने रहे, यह ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका और भारत से बीच लड़ा था। कोहली श्रृंखला में भारत के लिये अग्रणी रन बनाए, ३७३ जिसमे दो अर्धशतक के साथ एक शतक भी शामिल है। इस श्रृंखला में भारत फाइनल के लिए प्रगति नही हुआ।

२०१२ एशिया कप[संपादित करें]

उन्हें मार्च 2012 में एशिया कप के लिए एकदिवसीय टीम का उप कप्तान बनाया गया था। उन्होंने एशिया कप 2012 के पांचवें मैच में पाकिस्तान के खिलाफ १४८ गेंदों पर १८३ रन बनाए थे। 0/1 पर आकर, वह ३३० (लक्ष्य) का एक रिकार्ड का पीछा करते हुऐ 22 चौके और एक छक्का मार कर भारत को जिताया। यह उनके वनडे में उच्चतम स्कोर और एशिया कप में सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर है। कोहली की पारी वनडे में पाकिस्तान के खिलाफ पिछले रिकॉर्ड, ब्रायन लारा (१५६) से सर्वोच्च व्यक्तिगत पारी है।[3]

२०१२ में न्यूजीलैंड का भारत दौरा[संपादित करें]

दो टेस्ट मैच में १०६ की औसत से २१२ रन बनाए जिसमें एक शतक और दो अर्धशतक शामिल है। बंगलौर में दूसरे टेस्ट मैच में कोहली ने अपना दूसरा टेस्ट शतक जमाया। उन्होंने पहली पारी में एक छक्का और १४ चौके के साथ १०३ रन बनाऐ। दूसरी पारी में उन्होंने (नाबाद)51* रन बनाए और मैन ऑफ द मैच से सम्मानित किऐ गऐ।[4]

२०१५ विश्व कप[संपादित करें]

पहले ही मैच में विराट ने पाकिस्तान के विरुद्ध शतक ठोका। वे १०७ रन बनाकर आउट हुए। दूसरे मैच में विराट ने अफ्रीका के खिलाफ 46 रन बनाकर आउट हुए।

आय.पी.एल कैरियर[संपादित करें]

विराट कोहली इंडियन प्रीमियर लीग के पहले दौर से ही रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर के लिए खेलते आ रहे है साथ ही ये रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के कप्तान भी है। २०१६ इंडियन प्रीमियर लीग में इन्होंने कई रिकॉर्ड बनाए जिसमें उनके एक ही संस्करण में ४ शतक शामिल है। साथ ही २०१६ के संस्करण में ऑरेन्ज कैप के विजेता भी यही रहे।

२०१६ में विंडीज का दौरा[संपादित करें]

२०१६ में विराट की कप्तानी में भारत ने वेस्टइंडीज का दौरा किया जिसमें कोहली ने पूरी श्रृंखला में कुल २५१ रन बनाए जिसमें उनका एक दोहरा शतक भी शामिल है। इनकी कप्तानी में भारत ने वेस्टइंडीज को २-० से श्रृंखला जीती।

2016 इगलैण्‍ड का भारत दौरा[संपादित करें]

5 मैचों की टेस्‍ट सरीज में विराट कोहली 1 शतक बौर दोहरे शतक के साथ 640 रन बना चूकेे है।

२०१७ आईसीसी चैम्पियंस ट्रॉफी[संपादित करें]

विराट कोहली को २०१७ आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में पहली बार किसी आईसीसी टूर्नामेंट में कप्तानी करने का मौका मिला था। विराट कोहली की कप्तानी में भारतीय क्रिकेट टीम फाइनल तक पहुंची थी लेकिन पाकिस्तान क्रिकेट टीम से १८० रनों से हार गयी थी। इस दौरान कोहली व उनकी टीम ने अच्छा खेल दिखाया |

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]