हार्दिक पांड्या

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(हार्दिक पंड्या से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
हार्दिक पण्ड्या
Hardik Pandya (cropped).jpg
व्यक्तिगत जानकारी
पूरा नाम हार्दिक हिमांशु पण्ड्या
जन्म 11 अक्टूबर 1993 (1993-10-11) (आयु 25)
सूरत, गुजरात, भारत
बल्लेबाजी की शैली दाएं हाथ के बल्लेबाज़
गेंदबाजी की शैली दाएं हाथ से मध्यम तेज गेंदबाज़ी
भूमिका बल्लेबाज ,हरफनमौला
रिश्ता कृणाल पण्ड्या (भाई)
अंतरराष्ट्रीय जानकारी
राष्ट्रीय
टी20ई पदार्पण (कैप 58) 26 जनवरी 2016 बनाम ऑस्ट्रेलिया
अंतिम टी20ई 6 फरवरी 2019 v न्यूज़ीलैंड
टी20 शर्ट स॰ 33 (पहले 228)
घरेलू टीम की जानकारी
वर्षटीम
2012/13– वर्तमान बड़ौदा क्रिकेट टीम
2015–वर्तमान मुंबई इंडियंस
कैरियर के आँकड़े
प्रतियोगिता टी२० प्रथम श्रेणी लिस्ट ए ट्वेन्टी-ट्वेन्टी
मैच 10 13 10 24
रन बनाये 200 1194 1161 1109
औसत बल्लेबाजी 40.00 47.00 47.28 52.46
शतक/अर्धशतक 0/1 3/10 2/9 3/10
उच्च स्कोर 61 118 111* 118
गेंद किया 102 190 173 220
विकेट 6 7 5 10
औसत गेंदबाजी 24.25 21.05 19.60 19.53
एक पारी में ५ विकेट 0 0 0 0
मैच में १० विकेट लागू नहीं - लागू नहीं लागू नहीं
श्रेष्ठ गेंदबाजी 3/28 2/61 3/71 2/61
कैच/स्टम्प 4/– 6/-p 4/- 20/-
स्रोत : ESPNcricinfo, 21 फरवरी 2016

ĄĄहार्दिक हिमांशु पण्ड्या, जो कि भारतीय क्रिकेट का एक उभरता सितारा है, का जन्म ११ अक्टूबर [1] १९९३ में सूरत, गुजरात में हुआ था, एक हरफनमौला क्रिकेट खिलाड़ी हैं। ये भारतीय क्रिकेट टीम, बड़ौदा क्रिकेट टीम तथा मुंबई इंडियंस के लिए खेलते हैं।[2] पण्ड्या दाएँ हाथ के मध्यम तेज गेंदबाज तथा दाएँ हाथ के मध्यक्रम बल्लेबाज हैं। इन्होंने अपने कैरियर की शुरुआत २६ जनवरी २०१६ को ट्वेन्टी ट्वेन्टी के साथ ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ की थी।[3] गौरतलब है कि चैंपियन ट्रॉफी २०१७ ई. के भारत पाक फाइनल मैच में पांड्या ने अपनी बल्लेबाजी के दम पर पाक गेंदबाजों को परेशानी में डाल दिया था और हार्दिक की इस जबरदस्त पारी का हिंदुस्तान ने "हार्दिक" स्वागत किया।[संपादित करें]

👉ऋषभ साहू(अभय)(करौंदी,डिंडोरो)😂👈

हार्दिक पांड्या की बायोग्राफी का छोटा सा अंश Hardik Pandya biography in Hindi हार्दिक पांड्या अपने गेंदबाज़ी और बल्लेबाज़ी में आक्रमकता के लिए जाने जाते है। हार्दिक पांड्या आईपीएल में मुंबई इंडियंस की तरफ से खेलते है, जबकि घरेलु क्रिकेट में वो बड़ोदरा टीम का प्रतिनिधित्व करते हैं। हार्दिक पांड्या के कोच भारत के पूर्व क्रिकेटर किरण मो रहे हैं जिनसे हार्दिक ने खेल की बारीकियां सीखी हैं।

आज हम आपको हार्दिक पांड्या की ऐसी 5 बाते बताने जा रहे हैं जिन्हें आप शायद ही जानते होंगे!

हार्दिक पांड्या जब 5 साल के तब उनके पिता सूरत में कार फाइनेंस का काम छोड़कर बड़ोदरा में बस गए थे। बड़ोदरा में हार्दिक के पिता ने हार्दिक और उनके भाई को किरण मोरे क्रिकेट अकादमी में दाखिल करवा दिया था। हार्दिक स्कूल के दिनों में अपनी पढ़ाई से ज्यादा पूरा ध्यान क्रिकेट में लगा दिया था।

एक दौर ऐसा भी था जब हार्दिक पांड्या छोटे मोटे प्रतियोगिताओं में पर खेलते थे और उसके लिए उनके पैसे मिलते थे। हार्दिक खुद बताते है कि वह गुजरात के एक गाँव में पैसे लेकर खेलते थे। हालाकि प्रतियोगिता का कोई नाम नहीं होता लेकिन ये मैच आस-पास के गाँव के बीच होता था। जिसमे खेलने के लिए हार्दिक 400 रूपए लेते थे जबकि उनके भाई कृनाल पांड्या को 500 रूपए मिलते थे। हार्दिक जब विजय हजारे ट्राफी में खेलने उतरे थे तब उनके पास कोई अच्छा बल्ला नहीं था। उस समय इरफान पठान ने अपना क्रिकेट बैट देकर हार्दिक की मदद की थी।

आज के समय हार्दिक पांड्या भारतीय टीम में एक अगल ही स्तान रखते हैं। अपनी धमाकेदार बल्लेबाज़ी और गेंदबाज़ी से फैंस की दिल जीतते रहते हैं। इस समय वो भारतीय टीम के साथ न्यूज़ीलैंड दौरे पर गए हुए हैं। जहां उन्होंने आखिरी वनडे मैच में 5 छक्के लगाकर एक बार फिर से अपनी धमाकेदार बल्लेबाज़ी का नमूना पेस किया था।

आपको जानकर हैरानी होगी कि हार्दिक पहले लेग स्पिन गेंदबाज़ी करते थे। लेकिन एक ज़रुरत ने पांड्या को तेज़ गेंदबाज़ बना दिया। दरअसल किरण मोरे अकादमी में एक प्रतियोगिता के दौरान टीम के पास एक तेज़ गेंदबाज कम था। तब हार्दिक के कोच किरण मोरे ने हार्दिक से तेज़ गेंदबाज़ी करने के लिए कहा और हार्दिक मान गए। उस मैच में हार्दिक ने 7 विकेट लिए थे इसके बाद हार्दिक ने स्पिन छोड़कर तेज़ गेंदबाज़ी करनी शुरू कर दी।

पांड्या के साथ विवाद

हाल ही में हार्दिक पांड्या और लोकेश राहुल को करन जौहर ने अपने शॉ में बुलाया। इस शॉ का नाम कॉफी विद करन है। इस शॉ में पांड्या ने कुछ आपत्तिजनक बातें कहीं थी, जिसके बाद बीसीसीआई ने दोनों खिलाड़ियों को दो मैच के लिए प्रतिबंधित कर दिया था। जिसकी वजह से दोनों क्रिकेटर न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ शुरूआती वनडे सीरीज़ में हिस्सी नहीं ले सके थे। हार्दिक पांड्या को अपनी गलती का एहसास हुआ और उन्होनें सार्वजनिक तौर पर सबसे माफी भी मांगी। जिसके बाद में बीसीआई ने के एल राहुल को इंग्लैंड के ख़िलाफ़ अनाधिकारिक सीरीज़ के लिए भारच की ए टीम में शामिल किया जबकि हार्दिक पांड्या को न्यूज़ीलैंड के लिए रवाना कर दिया।

सन्दर्भ[संपादित करें]