रिद्धिमान साहा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ऋद्धिमान साहा
Wriddhiman Saha.jpg
व्यक्तिगत जानकारी
पूरा नाम ऋद्धिमान साहा
जन्म 24 अक्टूबर 1984 (1984-10-24) (आयु 36)
सिलीगुड़ी, पश्चिम बंगाल, भारत
उपनाम फ़्लाइंग शाहा
बल्लेबाजी की शैली दाएँ हाथ
भूमिका विकेट कीपर
अंतर्राष्ट्रीय जानकारी
राष्ट्रीय पक्ष
टेस्ट में पदार्पण (कैप 263)9 February 2010 बनाम साउथ अफ्रीका
अंतिम टेस्ट22 November 2019 बनाम बांग्लादेश
वनडे पदार्पण (कैप 190)28 November 2010 बनाम न्यूजीलैंड
अंतिम एक दिवसीय2 November 2014 बनाम श्री लंका
एक दिवसीय शर्ट स॰24
घरेलू टीम की जानकारी
वर्षटीम
2007–present बंगाल
2008–2010 कोलकाता नाइट राइडर्स
2011–2013 चेन्नई सुपर किंग्स (शर्ट नंबर 6)
2014–2017 किंग्स इलेवन पंजाब (शर्ट नंबर 6)
2018–present सनराइजर्स हैदराबाद (शर्ट नंबर 6)
2019-present कालीघाट क्लब
कैरियर के आँकड़े
प्रतियोगिता टेस्ट ओडीआई FC LA
मैच 37 9 111 100
रन बनाये 1,238 41 6,116 2,693
औसत बल्लेबाजी 30.19 13.66 43.07 42.74
शतक/अर्धशतक 3/5 0/0 13/35 2/19
उच्च स्कोर 117 16 203* 116
कैच/स्टम्प 92/11 17/1 299/35 123/15
स्रोत : ESPNcricinfo, 10 December 2019

ऋद्धिमान साहा (अंग्रेजी:Wriddhiman Saha) (जन्म 24 अक्टुबर 1984) एक भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी हैं ये बंगाल की ओर से रणजी मैच खेलते हैं। ऋद्धिमान साहा दाएँ हाथ के बल्लेबाज तथा विकेट कीपर है। [1]ऋद्धिमान साहा २०१४ से २०१७ तक इंडियन प्रीमियर लीग में किंग्स इलेवन पंजाब की ओर से खेले इस दौरान २०१४ इंडियन प्रीमियर लीग के फाइनल मैच में शतक लगाकर ऐसा करने वाले पहले बल्लेबाज बन गए थे। [2]

रिद्धिमान साहा जो भारत के लिए टेस्ट मैच खेलते हैं और बंगाल के लिए प्रथम श्रेणी के मैच खेलते हैं। वह पहले क्रिकेटर भी हैं जिन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग के फाइनल में शतक बनाया। वह इंडियन प्रीमियर लीग में सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेलते हैं।

2017 में, साहा देश में और साथ ही एशिया के बाहर शतक बनाने वाले पहले भारतीय विकेट-कीपर बने। [3]

साहा ने फरवरी 2010 में विशेषज्ञ बल्लेबाज के रूप में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया। जब उन्हें विकेट-कीपर के रूप में भारतीय टेस्ट टीम में एक स्थायी स्थान मिला, भारतीय टेस्ट टीम में उनके स्थान के बारे में तर्क दिए गए थे, जब इन्होने लंबे समय से सेवा देने वाले एमएस धोनी की जगह ली, जिन्होंने लगभग 5000 से अधिक रन 40 की औसत से बनाए थे।

साहा ने कैरेबियाई दौरे पर सेंट लूसिया में अपना पहला टेस्ट शतक बनाया; जब वो बल्लेबाजी करने आये उस अवसर पर, भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 126 रन पर 5 विकट गवां चुके थे। साहा ने अश्विन के साथ मिलकर एक लंबी साझेदारी की। और भारत ने वो टेस्ट जीता उसके बाद से दो और शतक जमाए और उसकी बल्लेबाजी का औसत दोगुना से अधिक हो गया। साहा का दूसरा शतक तब लगा जब भारत बांग्लादेश के खिलाफ खेले

साहा ने भारत के विकेट-कीपर के रूप में 23 टेस्ट खेले हैं, और बल्लेबाजी के मोर्चे पर उनकी संख्या भारत के कुछ पिछले विकेट कीपरों के अनुकूल है। रनों के लिहाज से केवल फारूख इंजीनियर (जिसने भी पारी की शुरुआत की), एमएस धोनी और नयन मोंगिया ने उनसे अधिक रन बनाए थे।

घरेलू करियर[संपादित करें]

साहा ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में कदम रखने से पहले युवा प्रणाली के अंतर्गत अंडर -19 और अंडर -22 टीम के लिए खेलते हुए अपना नाम कमाया। साहा ने अपना एक दिवसीय पहला मैच 2006/07 की रणजी ट्रॉफी प्रतियोगिता में असम के खिलाफ खेला। हालांकि इस खेल के दौरान उन्हें बल्ले से प्रदर्शन करने का मौका नहीं मिला, लेकिन उन्होंने अगले मैच में अपनी पहली पारी में शून्य रन बनाया। जब वह रणजी ट्रॉफी में अपने संक्षिप्त रन के अंत के करीब थे, उन्होंने ईस्ट ज़ोन के लिए देवधर ट्रॉफी में तीन एक दिवसीय मैच खेले।

साहा ने 2007–08 में रणजी ट्रॉफी में प्रथम श्रेणी में पदार्पण किया, हैदराबाद के खिलाफ उन्होंने 111 रन बनाए, रणजी पदार्पण पर शतक बनाने वाले वें बंगाल के 15 वें खिलाड़ी बने। साहा ने 2007-08 के सीज़न में दलीप ट्रॉफी के लिए ईस्ट ज़ोन टीम में जगह बनाई।

अपने रणजी के पहले मैच पर बंगाल के लिए साहा के शतक के कारण उन्हें 2008 में कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए आईपीएल के साथ एक अनुबंध दिया। साहा ने टूर्नामेंट का एक बड़ा हिस्सा सिर्फ 4 विदेशी खिलाड़ियों के होने के कारण खेला और इस प्रक्रिया में उनकी बल्लेबाजी की प्रतिभा के अलावा स्टंप्स के पीछे उनकी एथलेटिज्म दिखाई दी। ।

साहा को भारत ए टीम में लिया गया था जिसने इज़राइल आमंत्रण एकादश के खिलाफ तीन सीमित ओवरों के मैच खेले थे, खिलाड़ियों को उनके इंडियन प्रीमियर लीग में प्रदर्शन के आधार पर लिया गया था। भारत ए ने 3-0 से यह श्रृंखला जीती, साहा ने तीसरे मैच में नाबाद 85 रन बनाए जिसमें भारत ने 235 रनों का पीछा किया। साहा का घरेलू क्रिकेट में सबसे तेज शतक बनाने का रिकॉर्ड भी है। उन्होंने 2018 में 4 चौकों और 14 छक्कों की मदद से 510 की स्ट्राइक रेट से सिर्फ 20 गेंदों पर 102 रन बनाए।


जनवरी २०१८ में हुई दो दिवसीय नीलामी में इन्हें सनराइजर्स हैदराबाद ने अपनी टीम में जगह दी है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 18 सितंबर 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 मई 2015.
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 30 जुलाई 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 मई 2015.
  3. "Statsguru". espncricinfo. मूल से 24 मार्च 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 May 2017.