एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच मेलबोर्न क्रिकेट ग्राउंड ने ओडीआई (ODI) मैच होस्ट किया। पीले कपड़ों में बल्लेबाज हैं जो ऑस्ट्रेलियाई है जबकि नीले कपड़ों में भारतीय क्षेत्ररक्षण टीम हैं।

एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय (ओडीआई (ODI)) क्रिकेट की एक शैली है, जिसमें दो राष्ट्रीय क्रिकेट टीमों के बीच प्रति टीम 50 ओवर खेले जाते हैं। क्रिकेट विश्व कप इसी प्रारूप के अनुसार खेला जाता है। एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैचों को "लिमिटेड ओवर इंटरनेशनल (एलओआई (LOI))" भी कहा जाता है, क्योंकि राष्ट्रीय टीमों के बीच सीमित ओवर के क्रिकेट मैच खेले जाते हैं और यदि मौसम की वजह से व्यवधान उत्पन्न होता है तो वे हमेशा एक दिन में समाप्त नहीं होते. महत्वपूर्ण एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय और घरेलू मैचों में अक्सर दो दिन का समय रखा जाता है, जिसमे से दूसरा दिन "रिज़र्व/आरक्षित" दिन होता है, ताकि पहले दिन कोई परिणाम न निकलने की स्थिति में (उदाहरण के लिए वर्षा की वजह से मैच न होने या बाधित होने की स्थिति में) खेल को समाप्त करने के अधिक अवसर मिलें.

अंतर्राष्ट्रीय एक दिवसीय खेल का विकास बीसवीं सदी के अंत में हुआ। पहला एक दिवसीय मैच मेलबोर्न क्रिकेट ग्राउंड पर 5 जनवरी 1971 को ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच खेला गया था। जब तीसरे टेस्ट मैच के के पहले तीन दिन बारिश की वजह से धुल गए तो अधिकारियों ने मैच समाप्त करने का फैसला किया और इसके स्थान पर छह गेंद प्रति ओवर के साथ प्रति टीम 40 ओवर का एक दिवसीय मैच खेलने का निर्णय लिया गया। ऑस्ट्रेलिया ने यह मैच 5 विकेट से जीता.

1970 के दशक के अंत में, कैरी पैकर ने प्रतिद्वंद्वी वर्ल्ड सीरीज़ क्रिकेट (डब्ल्यूएससी (WSC)) प्रतियोगिता की शुरुआत की और इसमें आधुनिक एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट की कई सुविधाएं शुरू की गयीं, जिनमे रंगीन वर्दियां, दूधिया रोशनी में सफ़ेद गेंद तथा काली साइट स्क्रीन के साथ मैच और टेलिविज़न प्रसारण के लिए कैमरों के एकाधिक कोण, पिच पर खेलने वाले खिलाडियों की आवाज़ सुनने के लिए माइक्रोफोन तथा ऑन स्क्रीन ग्राफिक्स शामिल थे। रंगीन वर्दी के साथ खेला जाने वाला पहला मैच सुनहरे रंग की वर्दी में डब्ल्यूएससी ऑस्ट्रेलिया द्वारा कोरल गुलाबी रंग की वर्दी में डब्ल्यूएससी (WSC) वेस्ट इंडियंस के खिलाफ 17 जनवरी 1979 को मेलबोर्न के वीऍफ़एल (VFL) पार्क पर खेला गया था। इसे क्रिकेट को और अधिक पेशेवर खेल बनाने का श्रेय जाता है।

फ्लडलाइट्स में एमसीजी (MCG) पर ओडीआई (ODI) पर मैच.

नियम[संपादित करें]

मुख्य प्रारूप में क्रिकेट के नियम लागू होते हैं। लेकिन, एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच में प्रत्येक टीम केवल सीमित संख्या के ओवरों के लिए बल्लेबाजी करती है। एकदिवसीय क्रिकेट के शुरुआती दिनों में आम तौर पर प्रति टीम ओवर संख्या 60 थी, लेकिन अब इसे समान रूप से 50 ओवर तक सीमित कर दिया गया है।

साधारण भाषा में खेल इस प्रकार है:

  • एक दिवसीय मैच 11 खिलाड़ी प्रति टीम वाली 2 टीमों के मध्य खेला जाता है।
  • टॉस जीतने वाला कप्तान बल्लेबाजी या गेंदबाजी (क्षेत्ररक्षण) का विकल्प चुनता है।
  • पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम पहली पारी में लक्षित रनसंख्या निर्धारित करती है। बल्लेबाजी पक्ष के "सभी खिलाड़ियों के आउट होने" (अर्थात, जब 11 में से 10 बल्लेबाज आउट हो जाते हैं) या पहली टीम के आबंटित सभी पचास ओवर पूरे होने तक पारी चलती रहती है।
  • प्रत्येक गेंदबाज अधिकतम 10 ओवर तक गेंदबाजी कर सकता है (वर्षा बाधित मैचों में इससे कम और आम तौर पर किसी भी मामले में प्रति पारी के कुल ओवरों का पांचवां भाग या 20%).
  • दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने वाली टीम मैच जीतने के लिए निर्धारित रन संख्या से ज्यादा रन बनाने का प्रयास करती है। इसी तरह, दूसरी पारी में गेंदबाजी करने वाली टीम मैच जीतने के लिए विपक्षी टीम को निर्धारित रनसंख्या से कम पर आउट करने का प्रयास करती है।
  • यदि दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने वाली टीम के सभी विकेट गिर जाएं या इसके सभी ओवर समाप्त हो जाएं तथा दोनों टीमों द्वारा बनाए गए रनों की संख्या बराबर हो, तो गेम को टाई (किसी भी टीम द्वारा खोई गयी विकेटों की संख्या पर ध्यान दिए बिना) घोषित किया जाता है।

ओवरों की संख्या में कमी के स्थिति में, उदाहरण के लिए खराब मौसम के कारण, ओवरों की संख्या कम हो सकती है। यदि किसी कारण से दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने वाली वाली टीम द्वारा खेले जाने वाले ओवरों की संख्या पहली पारी में बल्लेबाजी करने वाली टीम से अलग हो तो डकवर्थ-लुईस विधि द्वारा परिणाम निर्धारित किया जा सकता है।

दूधिया रोशनी इस तरह से लगाई जाती हैं कि यह क्षेत्ररक्षण करने वाली टीम को बाधा न पहुंचाए तथा गेंद के भीगने की स्थिति में कप्तानों को मैदान पर कपड़ा रखने की अनुमति दी गई है।

पावरप्ले[संपादित करें]

पॉवरप्लेस के दौरान एक सीमित संख्या के क्षेत्ररक्षकों को आउटफील्ड में आने की अनुमति है।

गेंदबाजी करने वाली टीम क्षेत्ररक्षण प्रतिबंध की शर्तों से बंधी होती है, जिसके अनुसार, निर्धारित संख्या के ओवरों के लिए कैच लपकने की स्थिति में दो खिलाड़ियों सहित नौ खिलाड़ियों का क्षेत्ररक्षण दायरे में मौजूद होना आवश्यक है। परंपरागत रूप से, क्षेत्ररक्षण प्रतिबंध प्रत्येक पारी के पहले 15 ओवरों के लिए लागू होता था।

30 जुलाई 2005 से शुरू होने वाली 10 माह की परीक्षण अवधि में आईसीसी ने एकदिवसीय श्रृंखलाओं के नए नियमों के रूप में पावरप्ले नियम की शुरुआत की. पावरप्ले नियम के तहत, क्षेत्ररक्षण प्रतिबंध पहले 10 ओवरों के लिए तथा पांच-पांच ओवरों के दो हिस्सों (जिन्हें पावरप्ले फाइव्स कहा जाता है) में लागू होता है। अक्टूबर 2008 से बल्लेबाजी करने वाली टीम यह फैसला करती है कि शेष बचे हुए दो हिस्सों में कोई एक पावरप्ले कब शुरू हो, तथा क्षेत्ररक्षण करने वाली टीम यह निर्धारित करती है कि दूसरा पावरप्ले कब शुरू हो. पहले पावरप्ले के दौरान, 30 गज के दायरे के बाहर दो से अधिक खिलाड़ी खड़े नहीं किये जा सकते (दूसरे तथा तीसरे पावरप्ले के दौरान यह संख्या बढ़कर तीन हो जाती है). पहले 10 ओवरों में यह भी आवश्यक है कि कम से कम दो क्षेत्ररक्षक कैच लपकने की नजदीकी स्थितियों में हों.

पावरप्ले के संबंध में आईसीसी ने यह घोषणा की है कि 1 अक्टूबर 2007 से क्षेत्ररक्षण करने वाली टीम का कप्तान पांच-पांच ओवरों के दो पावरप्ले के दौरान 3 खिलाड़ियों को 30 गज के दायरे के बाहर रखने का विकल्प चुन सकता है। यह नियम 1 अक्टूबर 2007 को दांबुला स्टेडियम में श्रीलंका व इंग्लैंड के बीच खेले गए मैच में लागू किया गया था। श्रीलंका 119 रनों से यह मैच जीता. वर्तमान में दूसरे तथा तीसरे, दोनों पावरप्ले के दौरान 3 खिलाड़ी 30 गज के दायरे के बाहर खड़े होते हैं तथा एक पावरप्ले बल्लेबाजी करने वाली टीम द्वारा चुना जाता है।

परीक्षण नियम[संपादित करें]

परीक्षण नियमों में एक प्रतिस्थापन नियम भी था, जिसके अनुसार मैच की किसी भी स्थिति में एक स्थानापन्न खिलाड़ी को शामिल करने की अनुमति थी। टॉस से पहले टीमें अपने स्थानापन्न खिलाड़ी को नामित करती थी, जिसे सुपरसब कहा जाता था। सुपरसब बल्लेबाजी, गेंदबाजीम क्षेत्ररक्षण या विकेट कीपिंग कर सकता था; प्रतिस्थापित खिलाड़ी खेल में आगे भाग नहीं ले सकता था। इसे लागू करने के छह महीनों में काफी हद तक यह स्पष्ट हो गया कि टॉस जीतने वाली टीम के लिए सुपरसब अधिक लाभकारी था, जिससे खेल में असंतुलन पैदा होता था। 2005 में इस नियम को ख़त्म करने के लिए कई अंतर्राष्ट्रीय कप्तानों ने "जेंटलमैन समझौता" किया। वे आवश्यकता के अनुसार सुपरसब नामित करते रहे, किन्तु उन्हें मैदान में नहीं उतारा गया। 15 फ़रवरी 2006 को आईसीसी ने 21 मार्च 2006 से सुपरसब नियम को समाप्त करने के आशय की घोषणा की.

एक दिवसीय दर्जा प्राप्त टीमें[संपादित करें]

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी (ICC)) टीमों का एक दिवसीय दर्जा निर्धारित करती है (अर्थात ऐसी दो टीमों के बीच मानक एक दिवसीय नियमों के अंतर्गत खेले गए मैच को एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच का दर्जा दिया जाता है).

टेस्ट खेलने वाले दस देशों (जो आईसीसी (ICC) के पूर्ण दस सदस्य भी हैं) को स्थायी एक दिवसीय दर्जा हासिल है। कोष्ठक में प्रत्येक देश की एक दिवसीय दर्जा प्राप्त करने की तिथि के साथ इन देशों की सूची नीचे दी गई है:

  1.  ऑस्ट्रेलिया (5 जनवरी 1971)
  2.  इंग्लैण्ड (5 जनवरी 1971)
  3.  न्यूज़ीलैंड (11 फ़रवरी 1973)
  4.  पाकिस्तान (11 फ़रवरी 1973)
  5.  वेस्ट इंडीज़ (5 सितंबर 1973)
  6.  भारत (13 जुलाई 1974)
  7.  श्रीलंका (7 जून 1975)
  8.  ज़िम्बाब्वे (9 जून 1983)
  9.  बांग्लादेश (31 मार्च 1986)
  10.  दक्षिण अफ़्रीका (10 नवम्बर 1991)

आईसीसी अस्थायी रूप से अन्य टीमों को एक दिवसीय दर्जा देती है, वर्तमान में ये टीमें हैं:

  •  केन्या (18 फ़रवरी 1996 से 2013 आईसीसी (ICC) विश्व कप की पात्रता तक)
  •  कनाडा (1 जनवरी 2006 से 2013 आईसीसी (ICC) विश्व कप की पात्रता तक)
  •  आयरलैंड (1 जनवरी 2006 से 2013 आईसीसी (ICC) विश्व कप की पात्रता तक)
  •  नीदरलैंड (1 जनवरी 2006 से 2013 आईसीसी (ICC) विश्व कप की पात्रता तक)
  •  स्कॉटलैण्ड (1 जनवरी 2006 से 2013 आईसीसी (ICC) विश्व कप की पात्रता तक)
  •  अफ़्गानिस्तान (19 अप्रैल 2009 से 2013 आईसीसी (ICC) विश्व कप की पात्रता तक)

2005 की आईसीसी (ICC) ट्रॉफी में अपने प्रदर्शन की बदौलत कनाडा, आयरलैंड, नीदरलैंड तथा स्कॉटलैंड ने यह दर्जा हासिल किया। आईसीसी ने 2009 में इस मानक का पालन किया तथा इन परिणामों का प्रयोग 2009 के आईसीसी विश्वकप क्वालीफायर (आईसीसी (ICC) ट्रॉफी का नया नाम) के बाद के चार सालों के लिए टीमों को एक दिवसीय दर्ज़ा देने के लिए किया। टूर्नामेंट के दौरान अफगानिस्तान ने 5वें स्थान पर पहुंच कर और एक दिवसीय मैचों के लिए पात्रता हासिल कर उस वर्ष उल्लेखनीय सफलता प्राप्त की.

कभी-कभी आईसीसी ने सहयोगी सदस्यों को पूर्ण सदस्यता और टेस्ट दर्जा दिए बिना स्थायी एक दिवसीय दर्जा दिया है। मूल रूप से ऐसा सबसे अच्छे सहयोगी सदस्य को पूर्ण सदस्यता देने से पहले अंतर्राष्ट्रीय मैचों में नियमित अनुभव दिलाने के लिए किया गया था। पहले बांग्लादेश और फिर केन्या ने यह दर्जा प्राप्त किया। बांग्लादेश ने इसके बाद टेस्ट दर्जा और पूर्ण सदस्यता प्राप्त कर ली है; किन्तु केन्या के खराब प्रदर्शन के कारण आईसीसी ने उनका स्थाई एक दिवसयीय अंतर्राष्ट्रीय दर्जा समाप्त करने का निर्णय किया है।

इसके अलावा, आईसीसी के पास कुछ उच्च स्तर के टूर्नामेंटों के लिए विशेष एक दिवसयीय दर्जा देने का अधिकार है, जिसके परिणामस्वरूप निम्न देशों ने भी पूर्ण एक दिवसीय मैचों में हिस्सा लिया है:

  •  East Africa (7 जून 1975 से 14 जून 1975 तक)
  •  संयुक्त अरब अमीरात (13 अप्रैल 1994 से 17 अप्रैल 1994;, 16 फ़रवरी 1996 से 1 मार्च 1996, 16 जुलाई 2004 से 17 जुलाई 2004 तक तथा 24 जून 2008 से 26 तक जून 2008 तक)
  • Namibia is the relationship between jaipur metro station and research center for banking operations are playing with you know that there were many people who want you too late now but network operations to be April and preference on existing website built up for the investment bank holiday Monday morning my beautiful baby shower invitations the day after work today but I'm going out with me change language is going through this site to be patterned and research on this one day train and research and preference will try.(10 फ़रवरी 2003 से 3 मार्च 2003 तक)
  • साँचा:देश आँकड़े Hong Kong (16 जुलाई 2004 से, 18 जुलाई 2004 तक और 24 जून 2008 से 25 जून 2008 तक)
  •  संयुक्त राज्य (10 सितंबर 2004 से 13 सितंबर 2004 तक)
  •  बरमूडा (1 जनवरी 2006 से 8 अप्रैल 2009 तक)

2005 में आईसीसी ने पहली बार विवादास्पद ढंग से कई ऐसे मैचों को एकदिवसीय दर्जा दे दिया था, जिनमे भाग लेने वाली टीमें एक से अधिक देशों के खिलाड़ियों से बनी थीं। ये मैच थे: 2004 में हिंद महासागर में आई सुनामी पीड़ितों की सहायता के लिए विश्व क्रिकेट सुनामी अपील के रूप में जनवरी 2005 को खेला गया एशिया एकादश बनाम आईसीसी विश्व एकादश मैच तथा अक्टूबर 2005 को मेलबोर्न में आयोजित आईसीसी (ICC) सुपर सीरीज़ में वाणिज्यिक रूप से प्रायोजित "ऑस्ट्रेलिया बनाम आईसीसी विश्व एकादश" के तीन मैच. बाद के मैचों में दर्शक बहुत कम थे, ये बहुत हद तक एक तरफ़ा मुकाबले थे और इन्होनें क्रिकेट जगत का अधिक ध्यान आकर्षित नहीं किया। यह एक ऐसा प्रयोग था, जो कई लोगों के अनुसार दोबारा नहीं दोहराया जाना चाहिए तथा कई क्रिकेट सांख्यिकीविदों (जैसे बिल फ्रिन्डाल) का मानना है कि ऐसे मैचों को आधिकारिक एकदिवसीय मैचों में शामिल नहीं किया जाना चाहिए.[1][2]

टूर्नामेंट[संपादित करें]

आम तौर पर एकदिवसीय श्रृंखला 2 टीमों के बीच या त्रिकोणीय श्रृंखला के रूप में खेली जाती है। सबसे लोकप्रिय एकदिवसीय टूर्नामेंट हैं:

एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय रिकॉर्ड[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: List of One Day International cricket records

एक दिवसीय मैचों में सर्वाधिक शतक व अर्धशतक बनाने का रिकॉर्ड भारत के सचिन तेंदुलकर के नाम है। उन्होनें एक दिवसीय मैचों में सर्वाधिक रन भी बनाए हैं तथा एक दिवसीय मैच में दोहरा शतक बनाने वाले प्रथम पुरुष खिलाड़ी हैं, यह उपलब्धि उन्होनें 24 फ़रवरी 2010 में हासिल की.

सीमित ओवर के मैच में एक पारी में सर्वाधिक रनसंख्या का रिकॉर्ड नौ विकेट पर 443 रन है, जो 4 जुलाई 2006 को एमस्टलवीन में 50 ओवरों के अंतर्राष्ट्रीय एक दिवसीय मैच में श्रीलंका ने नीदरलैंड के विरुद्ध बनाया. 35 रनों के साथ सबसे कम रनसंख्या का रिकॉर्ड ज़िम्बाब्वे के नाम है जो 2004 में हरारे में श्रीलंका के विरुद्ध बना.

किसी सीमित ओवर के मैच में दोनों टीमों द्वारा बनाई गई सर्वाधिक रनसंख्या 872 है: 2006 में जोहांसबर्ग में अपने एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच के दौरान पहले बल्लेबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलिया ने 50 ओवरों में चार विकेट पर 434 रन बनाए, लेकिन इसके बावजूद वे दक्षिण अफ्रीका से मात खा गए, जिसने एक गेंद शेष रहते नौ विकेटों के नुकसान पर 438 रन बना लिए.

19 रन पर 8 विकेटों के साथ सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी का रिकॉर्ड श्रीलंका के चमिंडा वास के नाम है जो 2001-02 को कोलंबो में जिम्बाब्वे के विरुद्ध बना-एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैचों में आठ विकेट लेने वाले वह एकमात्र खिलाड़ी हैं।

एक से अधिक टीमों के लिए खेलने वाले खिलाड़ी[संपादित करें]

चूंकि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर एक टीम का प्रतिनिधित्व करने के लिए निवास तथा/या राष्ट्रीयता से संबंधित शर्तें हैं, अतः आम तौर पर एक खिलाड़ी अपने करियर के दौरान एक दिवसीय मैचों में केवल एक टीम का प्रतिनिधित्व करेगा. तथापि, कई खिलाड़ियों ने एक से अधिक टीमों के लिए खेला है। इनमें शामिल हैं:[1]

  • केपलर वेसेल्स (ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका) टेस्ट और एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच
  • क्लेटन लैम्बर्ट (वेस्टइंडीज और संयुक्त राज्य अमेरिका)
  • डगी ब्राउन (इंग्लैंड और स्कॉटलैंड)
  • एंडरसन कमिंस (वेस्टइंडीज और कनाडा)
  • ओवन मोर्गन (आयरलैंड और इंग्लैंड)
  • डर्क नैंस (नीदरलैंड और ऑस्ट्रेलिया)
  • एड जॉएस (आयरलैंड और इंग्लैंड)

इसके अतिरिक्त, जॉन ट्राइकॉस ने दक्षिण अफ्रीका और जिम्बाब्वे के लिए टेस्ट मैच खेले हैं, लेकिन एकदिवसीय मैच केवल ज़िम्बाब्वे के लिए खेले हैं तथा गेविन हेमिल्टन ने स्कॉटलैंड के लिए केवल एकदिवसीय मैच खेले हैं तथा एक टेस्ट मैच में इंग्लैंड का प्रतिनिधित्व किया है। इंग्लैंड में आयोजित 2009 आईसीसी विश्व ट्वेंटी-20 श्रृंखला में डर्क नैंस ने टी20 (T20s) मैचों में नीदरलैंड का प्रतिनिधित्व किया है, लेकिन स्कॉटलैंड के विरुद्ध हुए एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच में वे ऑस्ट्रेलिया की ओर से खेले। उसके बाद से उन्होनें ऑस्ट्रेलिया के लिए अधिकांश T20 मैच खेले हैं। इमरान ताहिर एक अन्य खिलाड़ी हैं जो पाकिस्तान में लाहौर की घरेलू टीमों पाकिस्तान ए, रेड्को पाकिस्तान लिमिटेड, सुई गैस कॉर्पोरेशन ऑफ़ पाकिस्तान के लिए खेलते हैं तथा विश्व कप में दक्षिण अफ्रीका की टीम की ओर से खेलेंगे.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • आईसीसी (ICC) टेस्ट चैम्पियनशिप
  • सीमित ओवरों का क्रिकेट
  • एक दिवसीय इंटरनैशनल रिकॉर्ड
  • एक दिवसीय इंटरनैशनल टूर्नामेंट
  • एक दिवसीय इंटरनैशनल हैट-ट्रिक्स
  • एक दिवसीय इंटरनैशनल क्रिकेट में 10000 से ज़्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Martin Williamson (18 अक्टूबर 2005), Few outside Australia will mourn the end of this Sorry Series, http://www.cricinfo.com/ci/content/story/222426.html 
  2. Bill Frindall (20 अगस्त 2008), Ask Bearders #176, http://www.bbc.co.uk/blogs/tms/2008/08/ask_bearders_176.shtml 

साँचा:Forms of cricket