बैतूल ज़िला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बैतूल जिला
—  जिला  —
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य मध्य प्रदेश
राजा
जनसंख्या
घनत्व
1,575,247 (२०११ के अनुसार )
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)
10,043 कि.मी²
• 65 मीटर (213 फी॰)
आधिकारिक जालस्थल: betul.nic.in

निर्देशांक: 21°54′55″N 77°53′46″E / 21.9153°N 77.8961°E / 21.9153; 77.8961

बैतूल जिला मध्य प्रदेश के दक्षिण में स्थित है। बैतूल जिले के मुलताई तहसील पर पुण्य सलिला मां ताप्ती जी का उद्गम स्थल है। बैतूल के मुलताई तहसील पवित्र नगरी के रूप में भी पूजी जाती है यह सतपुड़ा पर्वत के पठार पर स्थित है। यह सतपुड़ा श्रेणी की संपूर्ण चौड़ाई को घेरे हुए है जो नर्मदा घाटी और उसके दक्षिण के मैदान तक फैला है। यह भोपाल संभाग को दक्षिणी छोर से छूता है। इस जिले का नाम छोटे से कस्बे बैतूल बाजार के नाम से जाना जाता है और जिला मुख्यालय से लगभग 5 किलो मीटर की दूरी पर है। मराठा शासन और अंग्रेजों के शासन के प्रारंभ में भी बैतूल बाजार जिला मुख्यालय था। बैतूल जिले में अलग अलग धर्मो जातियों के लोग निवास करते है यहां के 3 सबसे ज्यादा घूमे जाने वाली जगह इस तरह है 1 बालाजी पुरम मंदिर 2 गाज़ी रहमान शाह दूल्हा की दरगाह शरीफ 3 मुक्तागीरी जैन मंदिर। बैतूल शहर के पड़ोसी जिले हरदा , खंडवा, होशंगाबाद, छिंदवाड़ा, और महाराष्ट्र के नागपुर, और परतवाड़ा जिलों से है। बैतूल शहर खूबसूरती में अपनी एक अलग ही जगह रखता है

बैतूल जिले की प्रमुख नदी ताप्ती है

ओर यहां की कुछ और नदिया तवा , मचना, माहरुख, ओर आम नदी है। बैतूल जिले के प्रमुख बांध सपना है ओर कुछ खास बांध तवा बांध, सतपुड़ा बांध,कोस्मी बांध, इत्यादि।

असद खान ak47

इतिहास[संपादित करें]

मराठाओं ने यह जिला 1818 में ईस्ट इंडिया कंपनी को सौंप दिया। 1826 में विधिवत रूप से यह ब्रिटिश अधिकार में चला गया। 1861 में यह "सागर" और "नर्मदा" प्रांत में चला गया। बैतूल जिला नर्मदा संभाग के अंतर्गत आता था। ब्रिटिश सेना ने मुलताई में छावनी बनाई थी। बैतूल और "शाहपुर" मराठा शासक अप्पा साहब के शासन से अलग हो गई थी। मराठा जनरल और सेना जून 1862 में बैतूल में रही। जिले के "मुलताई" शहर से "ताप्ती" का उदगम हुआ है। इसको पवित्र माना जाता है। और उनका प्रसिद्ध ताप्ती मंदिर भी यहां है। "बेैतुल" ही वो पहला जिला था जिसमे ९ मार्च को कवि दिवस के रूप मे मनाना प्रारम्भ किया गया था।

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

भारत की जनगणना -2011 के अनुसार बैतूल की आबादी 1,575,247 है। पुरुष जनसंख्या 799,721 है, जबकि महीला आबादी 775,526 है[1]

भूगोल[संपादित करें]

बैतूल 27°06′N 73°33′E / 27.10°N 73.55°E / 27.10; 73.55.[2] पर स्थित है तथा समुंद्रतल से 657 मीटर (2158 फुट) की औसत ऊंचाई पर स्थित है।

शैक्षणिक संस्थाए[संपादित करें]

  • जयवंती हक्सर स्नातकोत्तर महाविद्यालय बैतूल भोपाल फोन 222244.
  • शासकीय गर्ल्स डिग्री कालेज बैतूल भोपाल फोन 233071
  • शासकीय डिग्री कालेज आमला फोन 285222
  • विद्या आनन्द चिल्ड्रन अकादमी स्कूल आठनेर जिला बैतूल फोन 286572
  • शासकीय उत्कृष्ट उ.मा. विद्यालय बैतूल फोन 233404
  • शासकीय बहुताकनीक महाविद्यालय सोंना घाटी

दर्शनीय स्थल[संपादित करें]

बालाजीपुरम मंदिर
  • गाज़ी रहमान शाह दूल्हा की मजार शरीफ उमरी
  • काजिली एवं कानीगिया,
  • बालाजी पुरम मंदिर बैतूल बाजार
  • मुक्तागिरी जैन मंदिर
  • खजांची बाबा मजार शरीफ पुलिस ग्राउंड बैतूल
  • कुकुरू खामला
  • शेरगढ़ का किला
  • ताप्ती उदगम स्थल मुल्ताई
  • पॉवर प्लांट सारणी

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "भारत की जनगणना-2011". मूल से 31 मई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2011.
  2. "फ़ाल्लिंग रैन जिनोमिक्स, बैतूल". मूल से 3 सितंबर 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 अगस्त 2011.