भिंड ज़िला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(भिंड जिला से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
भिंड ज़िला
Bhind district
मानचित्र जिसमें भिंड ज़िला Bhind district हाइलाइटेड है
सूचना
राजधानी : भिंड
क्षेत्रफल : 4,459 किमी²
जनसंख्या(2011):
 • घनत्व :
17,03,564
 380/किमी²
उपविभागों के नाम: तहसील
उपविभागों की संख्या: 9 (भिंड,गोहद,मौ,रौन,
          लहार,मेहगांव,गोरमी,अटेर,मिहोना)
मुख्य भाषा(एँ): हिन्दी


भिंड ज़िला भारत के मध्य प्रदेश राज्य का एक ज़िला है। ज़िले का मुख्यालय भिंड है।[1][2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

भिंड मध्यप्रदेश का एक जिला है।

भिण्ड जिला — शहर — Map of मध्य प्रदेश with भिण्ड जिला marked Location of भिण्ड जिला

भिण्ड जिला 

समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०) देश Flag of India.svg भारत राज्य मध्य प्रदेश जनसंख्या • घनत्व 17,03,562 (२०11 के अनुसार ) • 382/किमी2 (989/मील2) क्षेत्रफल • ऊँचाई (AMSL) • १४३ मीटर विभिन्न कोड[दिखाएँ] आधिकारिक जालस्थल: bhind.nic.in निर्देशांक: 26.56°N 78.79°E

भिण्ड के गाँव भदौरिया राजाओं के काल से ही स्वतंत्र रहे है। भिण्ड के गाँव के लोगो के रोज़गार का साधन कृषि है। आज़ादी के बाद से यहाँ के लोग को एक नई पहचान मिली वो देश की सेवा में संलग्न हो गए। ओर तभी यहाँ के लोग सेना में जाकर देश की रक्षा करते हैं। भिण्ड भदावर ठाकुर राजाओं का गढ़ माना जाता है।

गौरी सरोवर के किनारे एक प्राचीन गणेश मन्दिर स्थित है। भिण्ड का सबसे बड़ा गाँव अमायन है। दंदरौआ मंदिर यहाँ का एक प्राचीन मंदिर है। वहाँ पर प्रतिष्ठित हनुमान जी की मूर्ति डॉ हनुमान के नाम से प्रसिद्ध है,यह मंदिर भिंड जिले की मौ तहसील में आता है। वनखंडेश्वर मन्दिर पृथ्वीराज चौहान द्वारा निर्मित एक शिवालय है। जो कि गौरी सरोवर के निकट है। भिंड चम्बल नदी के बीहड़ के लिए भी प्रसिद्ध है, जहाँ कुछ समय पहले तक डाकुओं का राज़ रहा। ऐसा माना जाता है ,भिण्ड का नाम महान भिन्डी ऋषि के नाम पर रखा गया है।इसके नाम पर भदावर राजाओं के के नाम और है भारत के सर्वाधिक साक्षर जिलों में से एक भिण्ड मंत्रमुग्ध कर देने वाली वास्तुकला के लिए भी जाना जाता है। भिंड जिले से करीब 30,000 सैनिक देश की सुरक्षा में तत्पर है मध्यप्रदेश में सबसे कम वर्षा भिंड जिले की

मौ तहसील में होती है।

गोहद में एक प्रसिद्ध छैकुर वाले हनुमान जी का मंदिर है मालनपुर यहाँ का औद्योगिक क्षेत्र है, जो कि गोहद तहसील में ही पड़ता है। जिसे सूखा पॉर्ट भी कहा जाता है। भिंड जिले की मौ तहसील सबसे छोटी तहसील है। गोहद तहसील स्थित गोहद का किला बहुत ही प्राचीन स्थल है। भिंड जिला भोपाल इंदौर जबलपुर के बाद सर्वाधिक पुरूष साक्षर जिला है।

अनुक्रम 1 भिण्ड के पर्यटन स्थल 2 भिंड जिले की तहसीलें 3 भिण्ड जिले के गांव 4 संदर्भ भिण्ड के पर्यटन स्थल[संपादित करें] गौरी सरोवर -- भिण्ड में गौरी सरोवर अपने आप में एक पर्यटन स्थल है। गौरी सरोवर पर बहुत से पार्को को नए रूप से विकसित किया गया हैं।

वनखण्डेश्वर मन्दिर भिंड त्रयम्बकेश्वर महादेव मंदिर भिंड बटेश्वर महादेव मंदिर भिंडी ऋषि का मंदिर भिंड माँ रेणुका मंदिर जमदारा(मौ) गहियर धाम देबगढ डिडी हनुमान जी मंदिर गौरी सरोवर पार्क भिंड नरसिंह भगवान मन्दिर सायना(मेहगांव) भिण्ड का किला(भदौरिया राजाओं का) अटेर का किला(भदौरिया राजाओं की राजधानी) श्री नरसिंह भगवान मंदिर मौ दंदरौआ मंदिर मौ जागा सरकार हनुमान मंदिर लौहरपुरा(मौ) जामना वाले हनुमानजी पावई वाली शारदा माता श्री सीताराम बाबा रतवा(मौ) श्री मस्तराम बाबा रसनोल(मौ) कचनाव खुर्द(गोरमी से 9 कि.मी.दूर उत्तर दिशा) में प्राचीन शिव मंदिर जिसे काई बाले शंकर जी के नाम से जाना जाता है । भिंड में शिव के मंदिरों की श्रृंखला में 100 से अधिक मंदिर है जो अपने आप में एक धाम है साथ ही इन मंदिरों की अपनी-अपनी महत्ता है और गौरी सरोवर की नौका विहार अत्यंत मनोरम है यहाँ राष्ट्रीय नौका प्रतियोगिता का आयोजन होता है।

भिंड जिले की तहसीलें[संपादित करें] भिंड गोहद मेहगांव मौ लहार रौन मिहोना अटेर गोरमी भिण्ड जिले के गांव[संपादित करें] ग्राम मानहड़ पड़राई का पुरा (सतपाल), जरपुरा, मुस्तरा, मेघपुरा, सेंपुरा, असोखर, पीपरी हीरापुरा रमपुरा सोनपुरा रावतपुरा रजगढ़िया कृपेकापुरा कल्याणपुरा हसनपुरा मोहनपुरा राऊपुरा आलमपुरा रजपुरा कुरथरा भुजपुरा उदोतपुरा बुलाखी का पुरा। परा सुखवासी का पूरा रिदौली रमटा प्रताप पुरा विंडवा जवासा मड़ैया गडू़पुरा pulawali मुरलीपुरा मेहदोली जगन्नाथपुरा बिहारीपुरा कल्यानपुरा ऊमरी अकोड़ा देवगढ किटी मौतीपुरा रुर गैवत मिरचौली दीनपुरा जवाहरपुरा डिडी कमई मानहड ग्राम देश का भदौरियो का सबसे बड़ा गांव है। कुछेक गांव भिंड नगर पालिका में आ गये है साथ ही अटेर के आस पास के गांव बीहड़ क्षेत्र में आते है। मेहगांव तहसील के गाँवों की भूमि का स्तर सीधा है, और भूमि अधिक उपजाऊ है ।

सन्दर्भ[संपादित करें]