अर्यमन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अर्यमन या अर्यमा या अर्यमान प्राचीन हिन्दू धर्म के एक देवता हैं जिनका उल्लेख ऋग्वेद में मिलता है। वे अदिति के तीसरे पुत्र हैं और आदित्य नामक सौर-देवताओं में से एक हैं। आकाश में आकाशगंगा उन्हीं के मार्ग का सूचक माना जाता है। हिन्दू विवाहों में वर-वधु उन्हें भी साक्षी मानकर विवाह-प्रण लेते हैं। सूर्य से सम्बन्धित इस देवता का अधिकार प्रात-रात्रि के चक्र पर माना जाता है।[1][2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. वैदिक विवाह और विवाहित जीवन Archived 2014-06-09 at the Wayback Machine, रामशरण वशिष्ठ, ... १४-२-१३--मेरी इस शुभ नारी को धाता प्रजा दे। इसे अर्यमन, मग, अश्विन, प्रजापति, सब प्रजा वाली करें। इसकी संतान बढ़े। ...
  2. हिन्दी कथा-कोष: प्राचीन हिन्दी साहित्य में व्यवहारता नामों तथा पौराणिक अंतरकथाओं का संदर्भ ग्रन्थ Archived 2014-06-09 at the Wayback Machine, धीरेन्द्र वर्मा, हिन्दुस्तानी एकेडमी, 1974, ... अर्यमन - १. एक वैदिक देवता जो विश्वदेवों में से एक हैं। २. कश्यप तथा अदिति के पुत्र पितृगण में प्रमुख हैं। ३. द्वादह आदित्यों में से एक जो वैशाख मास में उदय होते हैं और जिनकी किरणों की संख्या ३०० मानी जाती है। ...