अन-नूर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

سورة النور
नाम का अर्थ प्रकाश
सूरा संख्या 24
Statistics
रुकु की संख्या 9

सूरा अन-नूर (इंग्लिश: An-Nur) इस्लाम के पवित्र ग्रन्थ कुरआन का 24 वां सूरा या अध्याय है। इसमें 64 आयतें हैं।

नाम[संपादित करें]

सूरा अन-नूर[1] या अन्-नूर[2] का नाम आयत 34 "अल्लाह आकाशों और धरती का प्रकाश (नूर) है" से उद्धृत है।

अवतरणकाल[संपादित करें]

मदीनन सूरा अर्थात मदनी सूरह पैग़म्बर मुहम्मद के मदीना के निवास के समय अवतरित हुई।
मौलाना सैयद अबुल आला मौदूदी लिखते हैं कि इस पर सब सहमत है कि यह सूरा बनी मुस्तलिक के अभियान के पश्चात् अवतरित हुई है। किन्तु इसमें मतभेद हैं कि यह अभियान सन् 05 हिजरी में अहज़ब के अभियान से पहले घटित हुआ था या सन् 06 हिजरी में अहजाब के अभियान के पश्चात् । वास्तविक घटना क्या है, इसकी जांच- पड़ताल शरीअत के निहित हित (को समझने के लिए भी आवश्यक है, जो परदे के आदेशों में पाई जाती है, क्योंकि यह आदेश कुरआन मजीद की दो ही सूरतों में आए हैं, एक यह सूरा और, दूसरी सूरा 33 (अहज़ाब) जिसका अवतरण सभी के मतानुसार अहजाब के अभियान के अवसर पर हुआ है। इस उद्देश्य (से जब हम सम्बद्ध उल्लखों की छानबीन करते हैं, तो सही बात यही मालूम होती है कि यह सूरा) सन् 06 हिजरी के उत्तरार्द्ध में सूरा 33 (अहजाब) के कई महीने बाद अवतरित हुई है।

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि[संपादित करें]

जिस पृष्ठभूमि में इस सूरा का अवतरण हुआ है वह संक्षेप में यह है: बद्र के युद्ध की विजय से अरब में इस्लामी आन्दोलन का जो उत्थान आरम्भ हुआ था वह खन्दक के अभियान (अहजाब के अभियान) तक पहुँचते-पहुंचते यहाँ तक पहुंच चुका था कि बहुदेववादी, यहूदी, मुनाफिक्र(कपटाचारी) और प्रतीक्षा करनेवाले , सभी यह महसूस करने लगे थे कि इस नवोदित शक्ति को केवल हथियारों और सेनाओं के बल पर परास्त नहीं किया जा सकता। (इसलिए उन्होंने अब एक नया उपाय अपनाया और अपने इस्लाम - दुश्मन) प्रयासों का रुख सामारिक कार्यवाइयों से हटाकर ओछे हमलों और आन्तरिक रूप से उपद्रव मचाने की ओर फेर दिया। इस नए उपाय का पहला प्रदर्शन जीकादा सन् 05 हिजरी में हुआ, जबकि नबी (सल्ल.) ने ले-पालक की अज्ञानकाल की रीति को समाप्त करने के लिए स्वयं अपने मुंहबोले बेटे (जैद बिन हारिसा) की तलाक़ दी हुई पत्नी (जैनब बिन्ते हजश) से विवाह किया। इस अवसर पर मदीना के मुनाफ़िक (कपटाचारी) प्रोपगंडे का एक बड़ा तूफान लेकर उठ खड़े हुए और बाहर से यहूदियों और बहुदेववादियों ने भी उनके स्वर में स्वर मिलाकर मिथ्यारोपणों का कार्य आरम्भ कर दिया। इन निर्लज्न मिथ्यारोपण करणेवालों ने नबी (सल्ल .) पर निकृष्ट नैतिक मिथ्यारोपण किए। तदन्तर दूसरा हमला बनी मुस्तलिक के अभियान के अवसर पर किया गया (जब एक मुहाजिर और एक अनसारी के साधारण झगड़े को मनाफ़िकों के सरदार अब्दुल्लाह - इब्ने - उवई ने एक महा - उपद्रव बना देना चाहा (इस घटना का विस्तार आगे सूरा 63 ( अल-मुनाफिकून) की टीका के परिचयात्मक लेख में आ रहा है । यह हमला पहले से भी ज्यादा सख्त था। यह शोशा अभी ताजा ही था कि इसी सफर में उसने एक और भयानक उपद्रव मचाया। यह हजरत आइशा (रजि.) पर आरोप का उपद्रव था। इस घटना को स्वयं उन्हीं के मुख से सुनिए। वे कहते है कि " बनी मुस्तलिक के अभियान के अवसर (पर मैं नवी (सल्ल.) के साथ थी।) वापसी पर जब हम मदीना के निकट थे, एक पड़ाव पर रात के समय रसूल (सल्ल.) ने पड़ाव किया , और अभी कुछ रात शेष थी कि कूच की तैयारियां शुरू हो गई। मैं उठकर जरूरत से गई, और जब पलटने लगी तो ठहरने के स्थान के निकट पहुंचकर मुझे महसूस हुआ कि मेरे गले का हार टूटकर कही गिर पड़ा है । मैं उसे खोजने में लग गई. इतने में काफ़िला चल दिया। रीति यह थी कि मैं कूच के वक्त अपने हौदे में बेठ जाती थी और चार आदमी उसे उठाकर ऊँट पर रख देते थे। हम इस्त्रीयां उस समय खुराक की कमी के कारण बहुत हक्ली - फुल्की थीं। मेरा हौदा उठाते वक्त लोगों को यह महसूस ही न हुआ कि मैं उसमें नहीं हूँ । वे बेखबरी में खाली होदा ऊँट पर रखकर प्रस्थान कर गए। मैं जब हार ढूंढकर पलटी तो वहाँ कोई न था। अन्ततः अपनी चादर ओढ़कर वहीं लेट गई और मन में सोच लिया कि आगे चलकर जब ये लोग मुझे न पाएंगे तो स्वयं ही ढूंढते हुए आ जाएंगे। इसी हालत में मुझको नींद आ गई। प्रातः काल सफवान - बिन - मुअत्तल सुलमी उस स्थान से गुजरे जहाँ मैं सो रही थी और मुझे देखते ही पहचान गए , क्योंकि परदे का आदेश आने से पहले वे कई बार मुझे देख चुके थे। (ये साहब बदरी सहाबियों में से थे। इनको प्रातः देर से उठने की आदत थी, इसलिए ये भी सेना-स्थल में कहीं पड़े सोते रह गए थे और जब उठकर मदीना जा रहे थे।) मुझे देखकर उन्होंने ऊंट रोक लिया और सहसा उनके मुंह से निकला , " इन्ना लिल्लाहि व इना इलैहि राजिऊन (निस्संदेह हम अल्लाह के हैं और उसी की ओर हमें पलटना है। अल्लाह के रसूल (सल्ल.) की पत्नी यही रह गई। " इस आवाज़ से मेरी आँख खुल गई और मैंने उठकर तुरन्त अपने मुंह पर चादर डाल ली । उन्होंने मुझसे कोई बात न की, अपना ऊँट लाकर मेरे पास बिठा दिया और अलग हटकर खड़े हो गए । मैं ऊंट पर सवार हो गई और वे नकेल पकड़कर चल पड़े। दोपहर के निकट हम सेना में पहुंच गए , जबकि वह एक स्थान पर जाकर ठहरी ही थी और सेना के लोगों को अभी यह पता न चला था कि मैं पीछे छूट गई हूँ । इस पर लांछन लगानवालों ने लांछन लगा दिए और उनमें सबसे आगे अब्दुल्लाह इब्ने-उबई था। किन्तु मैं इससे बेख़बर थी कि मुझपर क्या बातें बन रही हैं। मदीना पहुंचकर मैं बीमार हो गई और एक महीना पलंग पर पड़ी रही। नगर में इस लांछन की खबरें उड़ रही थीं। अल्लाह के नबी (सल्ल.) तक यह बात पहुंच चुकी थी , किन्तु मुझे कुछ पता न था । अलबत्ता जो चीज़ मुझे खटकती थी वह यह कि अल्लाह के नवी (सल्ल.) उस प्रकार मेरी ओर ध्यान नहीं दे रहे थे, जिस प्रकार बीमारी के समय में दिया करते थे। आखिर आपकी अनुमति से मैं अपनी माँ के घर चली गई, ताकि वे मेरी सेवा शुश्रूषा भली - प्रकार कर सकें। एक दिन रात के समय जरूरत से मैं मदीना के बाहर गई । उस समय हमारे घरों में शौचालय न थे और हम लोग जंगल ही जाया करते थे। मेरे साथ मिस्तह- बिन असासह की माँ भी थी। (उनसे मालूम हुआ कि लांछनकारी लोग मेरे बारे में क्या बातें उड़ा रहे हैं। यह दास्तान सुनकर मेरा खून सूख गया। वह ज़रूरत भी भूल गई जिसके लिए आई थी । सीधे घर गई और रात रो-रोकर काटी। आगे चलकर हजरत आइशा (रजि . ) कहती है कि एक दिन अल्लाह के नबी (सल्ल . ) ने अभिभाषण में कहा, " मुसलमानो, कौन है जो उस व्यक्ति के हमलों से मेरी इज्जत बचाए, जिसने मेरे घरवालों पर आरोपण करके मुझे अत्यन्त दुख पहुंचाया है। अल्लाह की कसम, मैंने न तो अपनी पत्नी ही में कोई बुराई देखी है और न उस व्यक्ति में जिसके साथ लांछन लगाया जाता है। वह तो कभी मेरी अनुपस्थिति में मेरे घर आया भी नहीं। " इस पर उसैद - बिन-हुजैर, खजरज के रईस (और कुछ उल्लेखों में सअद - बिन - मुआज) ने उठकर कहा, “ ए अल्लाह के रसूल , अगर वह हमारे कवीले का आदमी है तो हम उसकी गर्दन मार दें और अगर हमारे भाई खरजियों में से है, तो आप आदेश दें , हम आज्ञापालन के लिए उपस्थित हैं। " यह सुनते ही सअद - बिन - उवादा , सरज के रईस उठ खड़े हुए और कहने लगे, “ झूठ कहते हो, तुम कदापि उसे मार नहीं सकते । " उसैद - बिन - हुर्जर ने जवाब में कहा, " तुम मुनाफ़िक हो इसलिए मुनाफ़िकों का पक्ष लेते हो। " इसपर मस्जिदे-नववी में एक कोलाहल मच गया जबकि अल्लाह के रसूल (सल्ल.) मिम्बर पर विराजमान थे। बहुत संभव था कि औस और खज़रज मस्जिद में ही लड़ पड़ते, किन्तु अल्लाह के रसूल (सल्ल.) ने उनको ठंडा किया और फिर मिम्बर से उतर आए। (इस विस्तृत वर्णन से भली - भाँति स्पष्ट हो जाता है) कि अब्दुल्लाह - बिन - ठबई ने यह शोशा छोड़कर एक साथ कई शिकार करने की कोशिश की। एक तरफ उसने अल्लाह के रसूल (सल्ल.) और हज़रत अबू बक्र सिद्दीक (रजि.) की इज्जत पर हमला किया । दूसरी और उसने इस्लामी आंदोलन की उच्चतम प्रतिष्ठा को गिराने की कोशिश की। तीसरी तरफ़ उसने यह एक ऐसी चिंगारी फेंकी थी कि अगर इस्लाम अपने अनुयायियों की काया न पलट चुका होता तो मुहाजिर और अनसार और स्वयं अनसार के भी दोनों कबीले (औस और खजरज) आपस में लड़ मरते।

विषय और वार्ताएँ[संपादित करें]

ये थी वे परिस्थितियाँ जिनमें पहले हमले के अवसर पर सूरा 33 (अहजाब) की आयतें 28 से लेकर 73 तक अवतरित हुई । और दूसरे हमले के अवसर पर यह सूरा नूर उत्तरी। इस पृष्ठभूमि को दृष्टि में रखकर इन दोनों सूरतों का क्रमशः अध्ययन किया जाए तो वह तत्वदर्शित अच्छी तरह समझ में आ जाती है जो उनके आदेशों में निहित है। मुनाफ़िक्र (कपटाचारी) मुसलमानों को उस क्षेत्र में पराजित करना चाहते थे जो उनकी उच्चता का वास्तविक क्षेत्र था। अल्लाह ने इसके बदले कि मुसलमानों को जवाबी हमले पर उकसाता , पूर्ण रूपेण ध्यान उनको यह शिक्षा देने पर दिया कि तुम्हारे मुकाबले के नैतिक क्षेत्र में जहाँ-जहाँ रंध हैं उनको भरो और मुकाबले के इस क्षेत्र को और अधिक सुदृढ़ करो। (हज़रत जैनब के विवाह के अवसर पर) जब मुनाफ़िकों और काफिरों ने तूफान उठाया था (उस समय सामाजिक सुधार के सम्बन्ध में वे आदेश दिए गए थे , जो सूरा 33 (अहजाब ) में उल्लिखित है । फिर लांछन की घटना से जब मदीना के समाज में एक हलचल मची तो यह सूरा नूर नैतिक, सामाजिक और कानून के ऐसे आदेश और मार्गदर्शनों के साथ अवतरित की गई जिसका उद्देश्य यह था कि पहले तो मुस्लिम समाज को बुराइयों के उत्पन्न होने और उसके फैलाव से सुरक्षित रखा जाए और अगर वे पैदा ही हो जाएं तो उनका पूरा - पूरा निवारण किया जाए। इन आदेशों और निर्देशों को उसी क्रम के साथ ध्यानपूर्वक पढ़िए जिसके साथ वे इस सूरा में अवतरित हुए हैं, तो अंदाजा होगा कि कुरआन ठीक मनोवांछित अवसर पर मानव जीवन के सुधार और निर्माण के लिए किस तरह कानूनी (वैधानिक), नैतिक और सामाजिक उपाय एक साथ प्रस्तावित करता है। इन आदेशों और निर्देश के साथ-साथ मुनाफ़िकों और ईमानवालों के खुले-खुले लक्षण भी बयान कर दिए गए हैं जिससे हर मुसलमान यह जान सके कि समाज में निश्छल ईमानवाले कौन लोग हैं और मुनाफ़िक (कपटाचारी) कौन? दूसरी तरफ मुसलमानों के सामूहिक अनुशामान को और कस दिया गया। इस समय वार्ता में स्पष्ट चीज देखने को यह है कि पूरी सूरा नूर उस कटुता से खाली है जो लज्जाजनक और अश्लील हमलों के प्रत्युत्तर में उत्पन्न हुआ करती है । इतनी अधिक उत्तेजक परिस्थितियों में कैसे ठंडे तरीके से कानून की रचना की जा रही है, सुधारात्मक आदेश दिए जा रहे हैं , तत्त्वदर्शितायुक्त आदेश दिए जा रहे हैं और शिक्षा और उपदेश का हक़ अदा किया जा रहा है। इससे केवल यही शिक्षा नहीं मिलती कि हमें उपद्रवों के मुक़ाबले में तीव्र से तीव्र उत्तेजना के अवसरों पर भी किस प्रकार ठंडे विचार , विशाल - हृदयता और विवेक से काम लेना चाहिए, बल्कि इससे इस बात का भी प्रमाण मिलता है कि यह वाणी मुहम्मद (सल्ल . ) की अपनी रचना नहीं है, किसी ऐसी सत्ता ही की अवतरित की हुई है जो बहुत उच्च स्थान से मानव की परिस्थितियों और मामलों का निरीक्षण कर रही है। और अपने आपमें इन परिस्थितियों और मामलों से अप्रभावित रहकर विशुद्ध निर्देश और मार्गदर्शन के पद का हक़ अदा कर रही है। अगर यह नबी (सल्ल.) की अपनी वाणी होती तो आपकी अत्यान्तिक उच्च दृष्टि के बावजूद इसमें उस स्वाभाविक कटुता का कुछ न कुछ प्रभाव अवश्य पाया जाता, जो स्वयं अपनी इज़्ज़त और प्रतिष्ठा पर ओछे हमलों को सुनकर एक सज्जन व्यक्ति की भावनाओं में अवश्य ही पैदा हो जाया करती है।

सुरह अन्-नूर का अनुवाद[संपादित करें]

अल्लाह के नाम से जो दयालु और कृपाशील है।

24|1| यह एक (महत्वपूर्ण) सूरा है, जिसे हमने उतारा है। और इसे हमने अनिवार्य किया है, और इसमें हमने स्पष्ट आयतें (आदेश) अवतरित की है। कदाचित तुम शिक्षा ग्रहण करो[3]

24|2| व्यभिचारिणी और व्यभिचारी - इन दोनों में से प्रत्येक को सौ कोड़े मारो और अल्लाह के धर्म (क़ानून) के विषय में तुम्हें उनपर तरस न आए, यदि तुम अल्लाह औऱ अन्तिम दिन को मानते हो। और उन्हें दंड देते समय मोमिनों में से कुछ लोगों को उपस्थित रहना चाहिए

24|3| व्यभिचारी किसी व्यभिचारिणी या बहुदेववादी स्त्री से ही निकाह करता है। और (इसी प्रकार) व्यभिचारिणी, किसी व्यभिचारी या बहुदेववादी से ही निकाह करते है। और यह मोमिनों पर हराम है

24|4| और जो लोग शरीफ़ और पाकदामन स्त्री पर तोहमत लगाएँ, फिर चार गवाह न लाएँ, उन्हें अस्सी कोड़े मारो और उनकी गवाही कभी भी स्वीकार न करो - वही है जो अवज्ञाकारी है। -

24|5| सिवाय उन लोगों के जो इसके पश्चात तौबा कर लें और सुधार कर लें। तो निश्चय ही अल्लाह बहुत क्षमाशील, अत्यन्त दयावान है

24|6| औऱ जो लोग अपनी पत्नियों पर दोषारोपण करें औऱ उनके पास स्वयं के सिवा गवाह मौजूद न हों, तो उनमें से एक (अर्थात पति) चार बार अल्लाह की क़सम खाकर यह गवाही दे कि वह बिलकुल सच्चा है

24|7| और पाँचवी बार यह गवाही दे कि यदि वह झूठा हो तो उसपर अल्लाह की फिटकार हो

24|8|पत्ऩी से भी सज़ा को यह बात टाल सकती है कि वह चार बार अल्लाह की क़सम खाकर गवाही दे कि वह बिलकुल झूठा है

24|9|और पाँचवी बार यह कहें कि उसपर (उस स्त्री पर) अल्लाह का प्रकोप हो, यदि वह सच्चा हो

24|10|यदि तुम अल्लाह की उदार कृपा और उसकी दया न होती (तो तुम संकट में पड़े जाते), और यह कि अल्लाह बड़ा तौबा क़बूल करनेवाला,अत्यन्त तत्वदर्शी है

24|11|जो लोग तोहमत घड़ लाए है वे तुम्हारे ही भीतर की एक टोली है। तुम उसे अपने लिए बुरा मत समझो, बल्कि वह भी तुम्हारे लिए अच्छा ही है। उनमें से प्रत्येक व्यक्ति के लिए उतना ही हिस्सा है जितना गुनाह उसने कमाया, और उनमें से जिस व्यक्ति ने उसकी ज़िम्मेदारी का एक बड़ा हिस्सा अपने सिर लिया उसके लिए बड़ा यातना है

24|12|ऐसा क्यों न हुआ कि जब तुम लोगों ने उसे सुना था, तब मोमिन पुरुष और मोमिन स्त्रियाँ अपने आपसे अच्छा गुमान करते और कहते कि "यह तो खुली तोहमत है?"

24|13|आख़िर वे इसपर चार गवाह क्यों न लाए? अब जबकि वे गवाह नहीं लाए, तो अल्लाह की स्पष्ट में वही झूठे है

24|14|यदि तुमपर दुनिया और आख़िरत में अल्लाह की उदार कृपा और उसकी दयालुता न होती तो जिस बात में तुम पड़ गए उसके कारण तुम्हें एक बड़ी यातना आ लेती

24|15|सोचो, जब तुम एक-दूसरे से उस (झूठ) को अपनी ज़बानों पर लेते जा रहे थे और तुम अपने मुँह से वह कुछ कहे जो रहे थे, जिसके विषय में तुम्हें कोई ज्ञान न था और तुम उसे एक साधारण बात समझ रहे थे; हालाँकि अल्लाह के निकट वह एक भारी बात थी

24|16|और ऐसा क्यों न हुआ कि जब तुमने उसे सुना था तो कह देते, "हमारे लिए उचित नहीं कि हम ऐसी बात ज़बान पर लाएँ। महान और उच्च है तू (अल्लाह)! यह तो एक बड़ी तोहमत है?"

24|17|अल्लाह तुम्हें नसीहत करता है कि फिर कभी ऐसा न करना, यदि तुम मोमिन हो

24|18|अल्लाह तो आयतों को तुम्हारे लिए खोल-खोलकर बयान करता है। अल्लाह तो सर्वज्ञ, तत्वदर्शी है

24|19|जो लोग चाहते है कि उन लोगों में जो ईमान लाए है, अश्लीहलता फैले, उनके लिए दुनिया और आख़िरत (लोक-परलोक) में दुखद यातना है। और अल्लाह बड़ा करुणामय, अत्यन्त दयावान है

24|20|और यदि तुमपर अल्लाह का उदार अनुग्रह और उसकी दयालुता न होती (तॊ अवश्य ही तुमपर यातना आ जाती) और यह कि अल्लाह बड़ा करुणामय, अत्यन्त दयावान है।

24|21|ऐ ईमान लानेवालो! शैतान के पद-चिन्हों पर न चलो। जो कोई शैतान के पद-चिन्हों पर चलेगा तो वह तो उसे अश्लीलता औऱ बुराई का आदेश देगा। और यदि अल्लाह का उदार अनुग्रह और उसकी दयालुता तुमपर न होती तो तुममें से कोई भी आत्म-विश्वास को प्राप्त न कर सकता। किन्तु अल्लाह जिसे चाहता है, सँवारता-निखारता है। अल्लाह तो सब कुछ सुनता, जानता है

24|22|तुममें जो बड़ाईवाले और सामर्थ्यवान है, वे नातेदारों, मुहताजों और अल्लाह की राह में घरबार छोड़नेवालों को देने से बाज़ रहने की क़सम न खा बैठें। उन्हें चाहिए कि क्षमा कर दें और उनसे दरगुज़र करें। क्या तुम यह नहीं चाहते कि अल्लाह तुम्हें क्षमा करें? अल्लाह बहुत क्षमाशील,अत्यन्त दयावान है

24|23|निस्संदेह जो लोग शरीफ़, पाकदामन, भोली-भाली बेख़बर ईमानवाली स्त्रियों पर तोहमत लगाते है उनपर दुनिया और आख़िरत में फिटकार है। और उनके लिए एक बड़ी यातना है

24|24|जिस दिन कि उनकी ज़बानें और उनके हाथ और उनके पाँव उनके विरुद्ध उसकी गवाही देंगे, जो कुछ वे करते रहे थे,

24|25|उस दिन अल्लाह उन्हें उनका ठीक बदला पूरी तरह दे देगा जिसके वे पात्र है। और वे जान लेंगे कि निस्संदेह अल्लाह ही सत्य है खुला हुआ, प्रकट कर देनेवाला

24|26|गन्दी चीज़े गन्दें लोगों के लिए है और गन्दे लोग गन्दी चीज़ों के लिए, और अच्छी चीज़ें अच्छे लोगों के लिए है और अच्छे लोग अच्छी चीज़ों के लिए। वे लोग उन बातों से बरी है, जो वे कह रहे है। उनके लिए क्षमा और सम्मानित आजीविका है

24|27|ऐ ईमान लानेवालो! अपने घरों के सिवा दूसरे घऱों में प्रवेश करो, जब तक कि रज़ामन्दी हासिल न कर लो और उन घरवालों को सलाम न कर लो। यही तुम्हारे लिए उत्तम है, कदाचित तुम ध्यान रखो

24|28|फिर यदि उनमें किसी को न पाओ, तो उनमें प्रवेश न करो जब तक कि तुम्हें अनुमति प्राप्त न हो। और यदि तुमसे कहा जाए कि वापस हो जाओ तो वापस हो जाओ, यही तुम्हारे लिए अधिक अच्छी बात है। अल्लाह भली-भाँति जानता है जो कुछ तुम करते हो

24|29|इसमें तुम्हारे लिए कोई दोष नहीं है कि तुम ऐसे घरों में प्रवेश करो जिनमें कोई न रहता हो, जिनमें तुम्हारे फ़ायदे की कोई चीज़ हो। और अल्लाह जानता है जो कुछ तुम प्रकट करते हो और जो कुछ छिपाते हो

24|30|ईमानवाले पुरुषों से कह दो कि अपनी निगाहें बचाकर रखें और अपने गुप्तांगों की रक्षा करें। यही उनके लिए अधिक अच्छी बात है। अल्लाह को उसकी पूरी ख़बर रहती है, जो कुछ वे किया करते है

24|31|और ईमानवाली स्त्रियों से कह दो कि वे भी अपनी निगाहें बचाकर रखें और अपने गुप्तांगों की रक्षा करें। और अपने शृंगार प्रकट न करें, सिवाय उसके जो उनमें खुला रहता है। और अपने सीनों (वक्षस्थल) पर अपने दुपट्टे डाल रहें और अपना शृंगार किसी पर ज़ाहिर न करें सिवाय अपने पतियों के या अपने बापों के या अपने पतियों के बापों के या अपने बेटों के या अपने पतियों के बेटों के या अपने भाइयों के या अपने भतीजों के या अपने भांजों के या मेल-जोल की स्त्रियों के या जो उनकी अपनी मिल्कियत में हो उनके, या उन अधीनस्थ पुरुषों के जो उस अवस्था को पार कर चुके हों जिससें स्त्री की ज़रूरत होती है, या उन बच्चों के जो स्त्रियों के परदे की बातों से परिचित न हों। और स्त्रियाँ अपने पाँव धरती पर मारकर न चलें कि अपना जो शृंगार छिपा रखा हो, वह मालूम हो जाए। ऐ ईमानवालो! तुम सब मिलकर अल्लाह से तौबा करो, ताकि तुम्हें सफलता प्राप्त हो

24|32|तुममें जो बेजोड़े के हों और तुम्हारे ग़ुलामों और तुम्हारी लौंडियों मे जो नेक और योग्य हों, उनका विवाह कर दो। यदि वे ग़रीब होंगे तो अल्लाह अपने उदार अनुग्रह से उन्हें समृद्ध कर देगा। अल्लाह बड़ी समाईवाला, सर्वज्ञ है

24|33|और जो विवाह का अवसर न पा रहे हो उन्हें चाहिए कि पाकदामनी अपनाए रहें, यहाँ तक कि अल्लाह अपने उदार अनुग्रह से उन्हें समृद्ध कर दे। और जिन लोगों पर तुम्हें स्वामित्व का अधिकार प्राप्त हो उनमें से जो लोग लिखा-पढ़ी के इच्छुक हो उनसे लिखा-पढ़ी कर लो, यदि तुम्हें मालूम हो कि उनमें भलाई है। और उन्हें अल्लाह के माल में से दो, जो उसने तुम्हें प्रदान किया है। और अपनी लौंडियों को सांसारिक जीवन-सामग्री की चाह में व्यविचार के लिए बाध्य न करो, जबकि वे पाकदामन रहना भी चाहती हों। औऱ इसके लिए जो कोई उन्हें बाध्य करेगा, तो निश्चय ही अल्लाह उनके बाध्य किए जाने के पश्चात अत्यन्त क्षमाशील, दयावान है

24|34|हमने तुम्हारी ओर खुली हुई आयतें उतार दी है और उन लोगों की मिशालें भी पेश कर दी हैं, जो तुमसे पहले गुज़रे है, और डर रखनेवालों के लिए नसीहत भी

24|35|अल्लाह आकाशों और धरती का प्रकाश है। (मोमिनों के दिल में) उसके प्रकाश की मिसाल ऐसी है जैसे एक ताक़ है, जिसमें एक चिराग़ है - वह चिराग़ एक फ़ानूस में है। वह फ़ानूस ऐसा है मानो चमकता हुआ कोई तारा है। - वह चिराग़ ज़ैतून के एक बरकतवाले वृक्ष के तेल से जलाया जाता है, जो न पूर्वी है न पश्चिमी। उसका तेल आप है आप भड़का पड़ता है, यद्यपि आग उसे न भी छुए। प्रकाश पर प्रकाश! - अल्लाह जिसे चाहता है अपने प्रकाश के प्राप्त होने का मार्ग दिखा देता है। अल्लाह लोगों के लिए मिशालें प्रस्तुत करता है। अल्लाह तो हर चीज़ जानता है।

24|36|उन घरों में जिनको ऊँचा करने और जिनमें अपने नाम के याद करने का अल्लाह ने हुक्म दिया है,

24|37|उनमें ऐसे लोग प्रभात काल और संध्या समय उसकी तसबीह करते है जिन्हें अल्लाह की याद और नमाज क़ायम करने और ज़कात देने से न तो व्यापार ग़ाफ़िल करता है और न क्रय-विक्रय। वे उस दिन से डरते रहते है जिसमें दिल और आँखें विकल हो जाएँगी

24|38|ताकि अल्लाह उन्हें बदला प्रदान करे। उनके अच्छे से अच्छे कामों का, और अपने उदार अनुग्रह से उन्हें और अधिक प्रदान करें। अल्लाह जिसे चाहता है बेहिसाब देता है

24|39|रहे वे लोग जिन्होंने इनकार किया उनके कर्म चटियल मैदान में मरीचिका की तरह है कि प्यासा उसे पानी समझता है, यहाँ तक कि जब वह उसके पास पहुँचा तो उसे कुछ भी न पाया। अलबत्ता अल्लाह ही को उसके पास पाया, जिसने उसका हिसाब पूरा-पूरा चुका दिया। और अल्लाह बहुत जल्द हिसाब करता है

24|40|या फिर जैसे एक गहरे समुद्र में अँधेरे, लहर के ऊपर लहर छा रही हैं; उसके ऊपर बादल है, अँधेरे है एक पर एक। जब वह अपना हाथ निकाले तो उसे वह सुझाई देता प्रतीत न हो। जिसे अल्लाह ही प्रकाश न दे फिर उसके लिए कोई प्रकाश नहीं

24|41|क्या तुमने नहीं देखा कि जो कोई भी आकाशों और धरती में है, अल्लाह की तसबीह (गुणगान) कर रहा है और पंख पसारे हुए पक्षी भी? हर एक अपनी नमाज़ और तसबीह से परिचित है। अल्लाह भली-भाँति जाना है जो कुछ वे करते है

24|42|अल्लाह ही के लिए है आकाशों और धरती का राज्य। और अल्लाह ही की ओर लौटकर जाना है

24|43|क्या तुमने देखा नहीं कि अल्लाह बादल को चलाता है। फिर उनको परस्पर मिलाता है। फिर उसे तह पर तह कर देता है। फिर तुम देखते हो कि उसके बीच से मेह बरसता है? और आकाश से- उसमें जो पहाड़ है (बादल जो पहाड़ जैसे प्रतीत होते है उनसे) - ओले बरसाता है। फिर जिस पर चाहता है, उसे हटा देता है। ऐसा प्रतीत होता है कि बिजली की चमक निगाहों को उचक ले जाएगी

24|44|अल्लाह ही रात और दिन का उलट-फेर करता है। निश्चय ही आँखें रखनेवालों के लिए इसमें एक शिक्षा है

24|45|अल्लाह ने हर जीवधारी को पानी से पैदा किया, तो उनमें से कोई अपने पेट के बल चलता है और कोई उनमें दो टाँगों पर चलता है और कोई चार (टाँगों) पर चलता है। अल्लाह जो चाहता है, पैदा करता है। निस्संदेह अल्लाह को हर चीज़ की सामर्थ्य प्राप्त है

24|46|हमने सत्य को प्रकट कर देनेवाली आयतें उतार दी है। आगे अल्लाह जिसे चाहता है सीधे मार्ग की ओर लगा देता है

24|47|वे मुनाफ़िक लोग कहते है कि "हम अल्लाह और रसूल पर ईमान लाए और हमने आज्ञापालन स्वीकार किया।" फिर इसके पश्चात उनमें से एक गिरोह मुँह मोड़ जाता है। ऐसे लोग मोमिन नहीं है

24|48|जब उन्हें अल्लाह और उसके रसूल की ओर बुलाया जाता है, ताकि वह उनके बीच फ़ैसला करें तो क्या देखते है कि उनमें से एक गिरोह कतरा जाता है;

24|49|किन्तु यदि हक़ उन्हें मिलनेवाला हो तो उसकी ओर बड़े आज्ञाकारी बनकर चले आएँ

24|50|क्या उनके दिलों में रोग है या वे सन्देह में पड़े हुए है या उनको यह डर है कि अल्लाह औऱ उसका रसूल उनके साथ अन्याय करेंगे? नहीं, बल्कि बात यह है कि वही लोग अत्याचारी हैं

24|51|मोमिनों की बात तो बस यह होती है कि जब अल्लाह और उसके रसूल की ओर बुलाए जाएँ, ताकि वह उनके बीच फ़ैसला करे, तो वे कहें, "हमने सुना और आज्ञापालन किया।" और वही सफलता प्राप्त करनेवाले हैं

24|52|और जो कोई अल्लाह और उसके रसूल का आज्ञा का पालन करे और अल्लाह से डरे और उसकी सीमाओं का ख़याल रखे, तो ऐसे ही लोग सफल है

24|53|वे अल्लाह की कड़ी-कड़ी क़समें खाते है कि यदि तुम उन्हें हुक्म दो तो वे अवश्य निकल खड़े होंगे। कह दो, "क़समें न खाओ। सामान्य नियम के अनुसार आज्ञापालन ही वास्तकिव चीज़ है। तुम जो कुछ करते हो अल्लाह उसकी ख़बर रखता है।"

24|54|कहो, "अल्लाह का आज्ञापालन करो और उसके रसूल का कहा मानो। परन्तु यदि तुम मुँह मोड़ते हो तो उसपर तो बस वही ज़िम्मेदारी है जिसका बोझ उसपर डाला गया है, और तुम उसके ज़िम्मेदार हो जिसका बोझ तुमपर डाला गया है। और यदि तुम आज्ञा का पालन करोगे तो मार्ग पा लोगे। और रसूल पर तो बस साफ़-साफ़ (संदेश) पहुँचा देने ही की ज़िम्मेदारी है

24|55|अल्लाह ने उन लोगों से जो तुममें से ईमान लाए और उन्होने अच्छे कर्म किए, वादा किया है कि वह उन्हें धरती में अवश्य सत्ताधिकार प्रदान करेगा, जैसे उसने उनसे पहले के लोगों को सत्ताधिकार प्रदान किया था। औऱ उनके लिए अवश्य उनके उस धर्म को जमाव प्रदान करेगा जिसे उसने उनके लिए पसन्द किया है। और निश्चय ही उनके वर्तमान भय के पश्चात उसे उनके लिए शान्ति और निश्चिन्तता में बदल देगा। वे मेरी बन्दगी करते है, मेरे साथ किसी चीज़ को साझी नहीं बनाते। और जो कोई इसके पश्चात इनकार करे, तो ऐसे ही लोग अवज्ञाकारी है

24|56|नमाज़ का आयोजन करो और ज़कात दो और रसूल की आज्ञा का पालन करो, ताकि तुमपर दया की जाए

24|57|यह कदापि न समझो कि इनकार की नीति अपनानेवाले धरती में क़ाबू से बाहर निकल जानेवाले है। उनका ठिकाना आग है, और वह बहुत ही बुरा ठिकाना है

24|58|ऐ ईमान लानेवालो! जो तुम्हारी मिल्कियत में हो और तुममें जो अभी युवावस्था को नहीं पहुँचे है, उनको चाहिए कि तीन समयों में तुमसे अनुमति लेकर तुम्हारे पास आएँ: प्रभात काल की नमाज़ से पहले और जब दोपहर को तुम (आराम के लिए) अपने कपड़े उतार रखते हो और रात्रि की नमाज़ के पश्चात - ये तीन समय तुम्हारे लिए परदे के हैं। इनके पश्चात न तो तुमपर कोई गुनाह है और न उनपर। वे तुम्हारे पास अधिक चक्कर लगाते है। तुम्हारे ही कुछ अंश परस्पर कुछ अंश के पास आकर मिलते है। इस प्रकार अल्लाह तुम्हारे लिए अपनी आयतों को स्पष्टप करता है। अल्लाह भली-भाँति जाननेवाला है, तत्वदर्शी है

24|59|और जब तुममें से बच्चे युवावस्था को पहुँच जाएँ तो उन्हें चाहिए कि अनुमति ले लिया करें जैसे उनसे पहले लोग अनुमति लेते रहे है। इस प्रकार अल्लाह तुम्हारे लिए अपनी आयतों को स्पष्ट करता है। अल्लाह भली-भाँति जाननेवाला, तत्वदर्शी है

24|60|जो स्त्रियाँ युवावस्था से गुज़रकर बैठ चुकी हों, जिन्हें विवाह की आशा न रह गई हो, उनपर कोई दोष नहीं कि वे अपने कपड़े (चादरें) उतारकर रख दें जबकि वे शृंगार का प्रदर्शन करनेवाली न हों। फिर भी वे इससे बचें तो उनके लिए अधिक अच्छा है। अल्लाह भली-भाँति सुनता, जानता है

24|61|न अंधे के लिए कोई हरज है, न लँगड़े के लिए कोई हरज है और न रोगी के लिए कोई हरज है और न तुम्हारे अपने लिए इस बात में कि तुम अपने घरों में खाओ या अपने बापों के घरों से या अपनी माँओ के घरों से या अपने भाइयों के घरों से या अपनी बहनों के घरों से या अपने चाचाओं के घरों से या अपनी फूफियों (बुआओं) के घरों से या अपनी ख़ालाओं के घरों से या जिसकी कुंजियों के मालिक हुए हो या अपने मित्र के यहाँ। इसमें तुम्हारे लिए कोई हरज नहीं कि तुम मिलकर खाओ या अलग-अलग। हाँ, अलबत्ता जब घरों में जाया करो तो अपने लोगों को सलाम किया करो, अभिवादन अल्लाह की ओर से नियत किया हुए, बरकतवाला और अत्याधिक पाक। इस प्रकार अल्लाह तुम्हारे लिए अपनी आयतों को स्पष्ट करता है, ताकि तुम बुद्धि से काम लो

24|62|मोमिन तो बस वही है जो अल्लाह और उसके रसूल पर पक्का ईमान रखते है। और जब किसी सामूहिक मामले के लिए उसके साथ हो तो चले न जाएँ जब तक कि उससे अनुमति न प्राप्त कर लें। (ऐ नबी!) जो लोग (आवश्यकता पड़ने पर) तुमसे अनुमति ले लेते है, वही लोग अल्लाह और रसूल पर ईमान रखते है, तो जब वे किसी काम के लिए अनुमति चाहें तो उनमें से जिसको चाहो अनुमति दे दिया करो, और उन लोगों के लिए अल्लाह से क्षमा की प्रार्थना किया करो। निस्संदेह अल्लाह बहुत क्षमाशील, अत्यन्त दयावान है

24|63|अपने बीच रसूल के बुलाने को तुम आपस में एक-दूसरे जैसा बुलाना न समझना। अल्लाह उन लोगों को भली-भाँति जानता है जो तुममें से ऐसे है कि (एक-दूसरे की) आड़ लेकर चुपके से खिसक जाते है। अतः उनको, जो उसके आदेश की अवहेलना करते है, डरना चाहिए कि कही ऐसा न हो कि उनपर कोई आज़माइश आ पड़े या उनपर कोई दुखद यातना आ जाए

24|64|सुन लो! आकाशों और धरती में जो कुछ भी है, अल्लाह का है। वह जानता है तुम जिस (नीति) पर हो। और जिस दिन वे उसकी ओर पलटेंगे, तो जो कुछ उन्होंने किया होगा, वह उन्हें बता देगा। अल्लाह तो हर चीज़ को जानता है

पिछला सूरा:
अल-मोमिनून
क़ुरआन अगला सूरा:
अल-फ़ुरक़ान
सूरा 24 - अन-नूर

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 49 50 51 52 53 54 55 56 57 58 59 60 61 62 63 64 65 66 67 68 69 70 71 72 73 74 75 76 77 78 79 80 81 82 83 84 85 86 87 88 89 90 91 92 93 94 95 96 97 98 99 100 101 102 103 104 105 106 107 108 109 110 111 112 113 114


इस संदूक को: देखें  संवाद  संपादन

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ:[संपादित करें]

  1. अनुवादक: मौलाना फारूक़ खाँ, भाष्य: मौलाना मौदूदी. अनुदित क़ुरआन संक्षिप्त टीका सहित. पृ॰ 508 से.
  2. "सूरा अन्-नूर". https://quranenc.com. |website= में बाहरी कड़ी (मदद)
  3. An-Nur सूरा का हिंदी अनुवाद http://tanzil.net/#trans/hi.farooq/24:1 Archived 25 अप्रैल 2018 at the वेबैक मशीन.