सबलगढ़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सबलगढ़
Sabalgarh
सबलगढ़ दुर्ग
सबलगढ़ दुर्ग
सबलगढ़ is located in मध्य प्रदेश
सबलगढ़
सबलगढ़
मध्य प्रदेश में स्थिति
निर्देशांक: 26°14′49″N 77°24′29″E / 26.247°N 77.408°E / 26.247; 77.408निर्देशांक: 26°14′49″N 77°24′29″E / 26.247°N 77.408°E / 26.247; 77.408
देश भारत
प्रान्तमध्य प्रदेश
ज़िलामुरैना ज़िला
जनसंख्या (2011)
 • कुल40,333
भाषाएँ
 • प्रचलितहिन्दी
समय मण्डलभारतीय मानक समय (यूटीसी+5:30)
पिनकोड476229
दूरभाष कोड07536
वाहन पंजीकरणMP06
लिंगानुपात960 /

सबलगढ़ (Sabalgarh) भारत के मध्य प्रदेश राज्य के मुरैना ज़िले में स्थित एक नगर है।[1][2]

विवरण[संपादित करें]

सबलगढ़ का अर्थ होता है मजबूत दुर्ग और इस नगर में अपने नाम की भांति एक दुर्ग है जोकि सबलगढ़ के क़िले के नाम से प्रसिद्ध है। सबलगढ़ की स्थापना राजा सबलसिंह गुर्जर द्वारा की गई थी । सबलगढ़ नगर अपने प्राचीन दुर्ग, शिकार क्रियाओं ब कैला माता सिद्ध मन्दिर है। यह एक तोमर गुर्जर राजवंश था। महाराजा गोपाल सिंह जदोन जी का मंदिर में स्थित है।

भूगोल[संपादित करें]

सबलगढ़ की स्थति 26°15′N 77°24′E / 26.25°N 77.4°E / 26.25; 77.4 पर है। यहाँ की औसत ऊंचाई है 212 मीटर (695 फीट)।

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

सबलगढ़ की आबादी 40,333 है, जिसमें 53% पुरुष और 47% महिलाएं हैं। सबलगढ़ की औसत साक्षरता दर 68% है, जो राष्ट्रीय औसत 74% से कम है। पुरुष साक्षरता 74% थी जबकि महिला साक्षरता 52% थी।[3] 2011 में मापी गई सबलगढ़ की 14% आबादी छह से कम थी। इसकी अनुसूचित जाति जनसंख्या लगभग 16.6% है, और अनुसूचित जनजाति 8.6% है। 2011 की जनगणना में कुल 7,091 परिवार थे। क्षेत्र की कुल कार्यरत श्रम शक्ति 11,360 बताई गई। इस संख्या में से 10,262 को नियमित मजदूर के रूप में वर्गीकृत किया गया, शेष 1,098 को अनियमित के रूप में वर्गीकृत किया गया।

प्रमुख आकर्षण[संपादित करें]

सबलगढ़ का किला[संपादित करें]

मुरैना के सबलगढ़ नगर में स्थित यह किला मुरैना से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर है। मध्यकाल में बना यह किला एक पहाड़ी के शिखर बना हुआ है। इस किले की नींव सबल सिंह गुर्जर ने डाली थी जबकि करौली के महाराजा गोपाल सिंह ने 18वीं शताब्दी में इसे पूरा करवाया था। कुछ समय बाद सिंकदर लोदी ने इस किले को अपने नियंत्रण में ले लिया था लेकिन बाद में करौली के राजा ने मराठों की मदद से इस पर पुन: अधिकार कर लिया। 1795 ईसवीं में यह फिर से राजा खांडे राव द्वारा ले लिया गया था, जिसका घर वहाँ है। लॉर्ड वेलेजली दौलत राव सिंधिया(1764-1837) अपने शासनकाल में इस किले में रहते थे। किले को 1804 में अंग्रेजी द्वारा जब्त कर लिया गया था। किले के आसपास के क्षेत्र को 1809 में सिंधिया राज्य में जोड़ा गया था।[4] किले के पीछे सिंधिया काल में बना एक बांध है, जहां की सुंदरता देखते ही बनती है।

अन्य स्थल[संपादित करें]

  • रानी का ताल
  • अलखिया खोह मंदिर
  • नवल सिंह की हवेली
  • अमर खोह
  • अटार घाट
  • प्राचीन रेस्ट हाउस
  • प्राचीन नगर देवी अन्नपूर्णा माँ मंदिर
  • प्राचीन दाऊ महाराज मंदिर
  • कलंगी बाले हनुमान मंदिर
  • ठाकुर बाबा का मंदिर
  • हीरामन मंदिर
  • जय स्तंभ

परिवहन[संपादित करें]

रेलवे[संपादित करें]

सबलगढ़ एक संकीर्ण गेज लाइन द्वारा ग्वालियर से जुड़ा हुआ है। इस रेलवे को "ग्वालियर लाइट रेलवे" के नाम से भी जाना जाता है। दो फुट (610 मिमी) की गेज जी.अिल.आर 199.8 किलोमीटर (124.1 मील) लंबी है और मध्य प्रदेश राज्य में ग्वालियर से श्योपुर कलां तक ​​चलती है। यह लाइन महाराजा माधव रोआ (दुसरे) द्वारा शुरू की गई थी और 1909 में पूरी हुई। इसका प्रबंधन भारतीय रेलवे के केंद्रीय रेलवे विभाग द्वारा किया जाता है। यह ग्वालियर, श्योपुर कलां, कैलारस, जौरा आदि से सीधे जुड़ा हुआ है। यूपीए सरकार में सुश्री ममता बनर्जी (पूर्व रेल मंत्री) को 2010 के रेल बजट में कोटा के विस्तार के साथ ग्वालियर-श्योपुर कलां गेज परिवर्तन की घोषणा की गई थी लेकिन आज तक जमीन पर कोई काम नहीं हुआ है। अधिकांश समय यह समाचार पत्र में देखा गया है कि वर्तमान एनडीए सरकार द्वारा इस परियोजना को हटा दिया गया है। स्थानीय या राष्ट्रीय समाचार पत्र में इस दयनीय समाचार को सुनने के लिए हजारों लोगों में गुस्सा और पीड़ा है।

सड़कें[संपादित करें]

सबलगढ़ राज्य राजमार्गों द्वारा मध्य प्रदेश के कई शहरों से काफी अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। ग्वालियर, मुरैना, श्योपुर कलां, शिवपुरी, जयपुर और दिल्ली आदि के लिए दैनिक बसें उपलब्ध हैं।

हवाई सफ़र[संपादित करें]

निकटतम हवाई अड्डा ग्वालियर में स्थित है जो सबलगढ़ से लगभग 120 किलोमीटर दूर है। नई दिल्ली और ग्वालियर हवाई अड्डे से कई शहरों के लिए दैनिक उड़ानें उपलब्ध हैं।

लोकप्रिय शहरों से दूरी[संपादित करें]

* करौली:72&ऐनबीऐसपी;किमी
  • विजयपुर:34&ऐनबीऐसपी;किमी
  • जौरा:42&ऐनबीऐसपी;किमी
  • हिंडौन शहर:89.6&ऐनबीऐसपी;किमी
  • ग्वालियर:92&ऐनबीऐसपी;किमी
  • कैलारस:23&ऐनबीऐसपी;किमी
  • मुरैना:71.86&ऐनबीऐसपी;किमी
  • श्योपुर:145&ऐनबीऐसपी;किमी
  • भोपाल:487&ऐनबीऐसपी;किमी
  • आगरा:150&ऐनबीऐसपी;किमी
  • नई दिल्ली:355&ऐनबीऐसपी;किमी
  • जयपुर:200&ऐनबीऐसपी;किमी
  • दिल्ली:357&ऐनबीऐसपी;किमी

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Inde du Nord: Madhya Pradesh et Chhattisgarh Archived 2019-07-03 at the Wayback Machine," Lonely Planet, 2016, ISBN 9782816159172
  2. "Tourism in the Economy of Madhya Pradesh," Rajiv Dube, Daya Publishing House, 1987, ISBN 9788170350293
  3. "Sabalgarh Population". ourhero.in. मूल से 6 October 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 September 2018.
  4. History of Sabalgarh. 5 September 2015 – वाया YouTube.