पुरुष

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

मानव के नरों को पुरुष (♂) कहा जाता है। यह शब्द आमतौर पर एक वयस्क पुरुष के लिए आरक्षित होता है, जबकि शब्द लड़का नर बच्चे या किशोर के लिए सामान्य शब्द होता है। अधिकांश अन्य स्तनधारियों की तरह, कोई आदमी का जीनोम आम तौर पर अपने मां से एक्स गुण सूत्र और अपने पिता से वाई गुण सूत्र प्राप्त करता है। पुरुष भ्रूण मादा भ्रूण की तुलना में बड़ी मात्रा में एंड्रोजन और छोटी मात्रा में एस्ट्रोजेन पैदा करता है। इन सेक्स स्टेरॉयड की सापेक्ष मात्रा में यह अंतर मुख्य रूप से शरीर-क्रियात्‍मक भिन्नता के लिए ज़िम्मेदार है जो महिलाओं से पुरुषों को अलग करती हैं। युवावस्था के दौरान, हार्मोन जो एंड्रोजन उत्पादन को उत्तेजित करते हैं, अतिरिक्त यौन विशेषताओं के विकास से परिणामस्वरूप लिंगों के बीच अधिक अंतर प्रदर्शित करते हैं। हर कोई प्रजाति इस पुरुष और स्त्री के पहचान से नहीं जानी जा सकती है। इंसानों और जानवरों में लिंग जहाँ लिंग (अंग) से बताया जा सकता हैं वही अन्य जीवो में यह कई अन्य बातों पर निर्भर करता हैं।

पौरुष[संपादित करें]

कई संस्कृतियों में ऐसी विशेषताओं को जो अपने लिंग के लिए विशिष्ट नहीं है, प्रदर्शित करना व्यक्ति के लिए सामाजिक समस्या बन सकता है। पुरुषों में, स्त्री व्यवहार की प्रदर्शनी समलैंगिकता का संकेत माना जा सकता है।

संस्कृति और लैंगिक भूमिकाएँ[संपादित करें]

पूरे इतिहास में, पुरुषों की भूमिका बहुत बदली है। चूँकि समाज जीविका के प्राथमिक स्रोत के रूप में कृषि से दूर चले गए हैं, इसलिए पुरुष की शारीरिक क्षमता पर जोर कम हो गया है। कामकाजी पुरुषों के लिए पारंपरिक लैंगिक भूमिकाओं में आम तौर पर मध्यम कठोर श्रम पर जोर देने वाली नौकरियां शामिल होती हैं, जिनमें अक्सर मजदूरी या स्थिति में वृद्धि की कोई उम्मीद नहीं होती है। मजदूर वर्गों के बीच गरीब पुरुषों के लिए, विशेष रूप से औद्योगिक परिवर्तन और आर्थिक गिरावट की अवधि के दौरान अपने परिवारों का समर्थन करने की आवश्यकता में लंबे समय तक खतरनाक नौकरियों में रहने के लिए मजबूरन अक्सर सेवानिवृत्ति के बिना लगना पड़ता है। कई औद्योगिक देशों ने नौकरियों में बदलाव देखा है जो कम शारीरिक रूप की मांग कर रही हैं, (सफेदपोश कर्मचारी देखें)। इन परिस्थितियों में पुरुष का लक्ष्य अक्सर गुणवत्ता की शिक्षा प्राप्त करना करना और एक भरोसेमंद आय का स्रोत सुरक्षित करना होता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]