पिता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
एक बच्चा अपने बाप के साथ

पिता वह मर्द होता है जिसने वह शुक्राणु प्रदान किया जो कि अंडाणु से एक होकर एक बच्चा के रूप में पैदा हुआ। पिता अपने शुक्राणु के द्वारा बच्चों का लिंग मुकर्रर करता है, जिसमें या तो एक्स (X) गुणसूत्र (क्रॉमज़ोम) होता है (स्त्रीलिंग वाला) या वाई (Y) गुणसूत्र (पुलिंग वाला)।[1]

शब्द-साधन[संपादित करें]

वर्तमान हिन्दी शब्द पुरातन संस्कृत शब्द 'पितृ' से आया है जिसके सजातीय शब्द हैं: लातीनी pāter (पातर), युनानी πατήρ, मूल-जर्मेनिक fadēr (फ़ादर) (पूर्वी फ़्रिसियायी foar (फ़ोवार), डच vader (फ़ादर), जर्मन Vater (फ़ातर))।

समानार्थी शब्द[संपादित करें]

  • बाप
  • वालिद
  • बापू
  • बाबा
  • अब्बा

महत्व[संपादित करें]

रिवायती तौर पर पिता का बच्चों के प्रति सुरक्षा, सहायता और ज़िम्मेदारी वाला रवैया होता है। पिता सिर्फ़ जैविक ही नहीं बल्कि पालनहार पिता भी हो सकता है। मानवविज्ञानी मॉरिस गोडेलियर के मुताबिक़ मानवीय पिता द्वारा धारण की गई पितृ-भूमिका, मानवीय समाज और उनके सबसे नज़दीकी जैविक रिशतेदार—चिम्पांज़ी और बोनोबो— में एक आलोचनात्मक फ़र्क़ है क्योंकि यह जानवर अपने पितृ-संबंध से अनजान होते हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. HUMAN GENETICS, MENDELIAN INHERITANCE retrieved 25 February 2012

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

http://www.sanskrit-lexicon.uni-koeln.de/aequery/deprecated.html