चंद्रदेव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
चंद्र देव

जल तत्व के अधिष्ठाता देवता

रात, पौधे, अवैध संभोग, चंद्रमा और वनस्पति के देवता
Brihaspati.jpg
संस्कृत लिप्यंतरण चंद्र
संबंध ग्रह एवं देव और ब्रह्मा का अवतार
निवासस्थान चंद्र लोक
ग्रह चंद्र
मंत्र ॐ सोम सोमय नमः
अस्त्र रस्सी और अमृत पात्र
जीवनसाथी रोहिणी(मुख्य पत्नी),रेवती और अन्य 25 पत्नियां, तारा(नाजायज पत्नी)
माता-पिता
भाई-बहन दत्तात्रेय, दुर्वासा
संतान वर्चस, बुद्ध(तारा से नाजायज बेटा), भद्रा (पुत्री)
सवारी मृग

चन्द्र देव (संस्कृत: चन्द्र), जिसे सोम के रूप में भी जाना जाता है, एक हिन्दू देवता है जो चन्द्रमा का देवता माना जाता है। यह रात्रि के समय रोशन करने के लिए रात्रि, पौधों और वनस्पति से सम्बंधित माना जाता है। इन्हें नवग्रह (हिन्दू धर्म में नौ ग्रह) और दिक्पाल (दिशाओं के पालक) में से एक माना जाता है।[1] पुराणों के अनुसार इनके माता पिता महर्षि अत्रि और देवी अनुसूया थे | ये ब्रह्मा जी के अवतार हैं | इनके भाई महर्षि दुर्वासा और महर्षि दतात्रेय थे |

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Dalal 2010a, पृ॰ 394.

स्रोत[संपादित करें]

  • Dalal, Roshen (2010a). Hinduism: An Alphabetical Guide (अंग्रेज़ी में). पेंगुइन बुक्स इंडिया. पृ॰ 394. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-14-341421-6.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]