स्वराज

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

स्वराज का शाब्दिक अर्थ है - "अपना राज्य" ( "self-governance" or "home-rule") । लेकिन यह शब्द महात्मा गांधी द्वारा विदेशी आधिपत्य से मुक्ति के लिये चलाये गये स्वतन्त्रता आन्दोलन को इंगित करता है। वस्तुत: गांधीजी का स्वराज का विचार ब्रिटेन के राजनैतिक, सामाजिक, आर्थिक, ब्यूरोक्रैटिक, कानूनी, सैनिक एवं शैक्षणिक संस्थाओं का बहिष्कार करने का आन्दोलन था।

यद्यपि गांधीजी का स्वराज का सपना पूरी तरह से प्राप्त नहीं किया जा सका फिर भी उनके द्वारा स्थापित अनेक स्वयंसेवी संस्थाओं ने इस दिशा में काफी प्रयास किये।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]