लॉर्ड कर्जन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
माननीय लॉर्ड कर्जन KG, GCSI, GCIE, PC
लॉर्ड कर्जन

भारत के वायसराय के रूप में लॉर्ड कर्जन


कार्यकाल
6 जनवरी 1899 – 18 नवम्बर 1905
शासक विक्टोरिया
एडवर्ड VII
डिप्टी द लॉर्ड अम्प्थिल्ल
पूर्व अधिकारी द अर्ल ऑफ़ एल्गिन
उत्तराधिकारी द अर्ल ऑफ़ मिण्टो

विदेश मामलों के लिए राज्य के सचिव
कार्यकाल
23 अक्टूबर 1919 – 22 जनवरी 1924
शासक जॉर्ज पंचम
प्रधान  मंत्री डेविड लौय्ड जार्ज
एंड्रू बोनार लॉ
स्टेनली बाल्डविन
पूर्व अधिकारी आर्थर बाल्फोर
उत्तराधिकारी रैमसे मैकडोनाल्ड

हाउस ऑफ लॉर्ड्स के नेता
कार्यकाल
3 नवम्बर 1924 – 20 मार्च 1925
शासक जॉर्ज पंचम
प्रधान  मंत्री स्टेनली बाल्डविन
पूर्व अधिकारी विस्काउंट हाल्डेन
उत्तराधिकारी मार्की ऑफ़ सेलिसबरी
कार्यकाल
10 दिसम्बर 1916 – 22 जनवरी 1924
शासक जॉर्ज पंचम
प्रधान  मंत्री डेविड लौय्ड जार्ज
एंड्रू बोनार लॉ
स्टेनली बाल्डविन
पूर्व अधिकारी द मार्की ऑफ़ क्रीव
उत्तराधिकारी विस्काउंट हाल्डेन

लॉर्ड प्रेजिडेंट ऑफ़ द कौंसिल
कार्यकाल
10 दिसम्बर 1916 – 23 अकटूबर 1919
शासक जॉर्ज पंचम
प्रधान  मंत्री डेविड लौय्ड जार्ज
पूर्व अधिकारी मार्की ऑफ़ क्रिव
उत्तराधिकारी आर्थर बाल्फोर
कार्यकाल
3 नवम्बर 1924 – 20 मार्च 1925
शासक जॉर्ज पंचम
प्रधान  मंत्री स्टेनली बाल्डविन
पूर्व अधिकारी लार्ड पर्मूर
उत्तराधिकारी द अर्ल ओफ़ बाल्फोर

प्रेजिडेंट ऑफ़ द एयर बोर्ड
कार्यकाल
15 मई 1916 – 3 जनवरी 1917
शासक जॉर्ज पंचम
प्रधान  मंत्री हर्बर्ट हेनरी आस्क्विथ
डेविड लौय्ड जार्ज
पूर्व अधिकारी अर्ल ऑफ़ डर्बी
उत्तराधिकारी वाइसकाउंट ऑफ़ कोवद्रय

जन्म 11 जनवरी 1859
केड्लेस्टन, डर्बीशायर, यूनाइटेट किंगडम
मृत्यु 20 मार्च 1925(1925-03-20) (उम्र 66)
लंदन, यूनाइटेट किंगडम
राजनैतिक पार्टी कंजर्वेटिव
जीवन संगी मैरी कर्जन (1895-1906)
ग्रेस कर्जन (1917-1925)
विद्या अर्जन बल्लीओल कॉलेज, ऑक्सफोर्ड

जॉर्ज नथानिएल कर्जन अथवा लॉर्ड कर्जन (अंग्रेज़ी: George Nathaniel Curzon), ऑर्डर ऑफ़ गेटिस, ऑर्डर ऑफ द स्टार ऑफ इंडिया, ऑर्डर ऑफ़ इण्डियन एम्पायर, यूनाइटेड किंगडम के प्रिवी काउंसिल (11 जनवरी 1859 – 20 मार्च 1925), जिन्हें द लॉर्ड कर्जन ऑफ़ केड्लेस्टन 1898 से 1911 के मध्य और द अर्ल कर्जन ऑफ़ केड्लेस्टन 1911 से 1921 तक के नाम से भी जाना जाता है, ब्रिटेन कंजर्वेटिव पार्टी के पूर्व राजनीतिज्ञा थे जो भारत के वायसराय एवं विदेश सचिव बनाये गये थे।

सन्दर्भ[संपादित करें]