गुजरात विद्यापीठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
चित्र:Gvplogo.png
गुजरात विद्यापीठ का प्रतीक चिह्न

गुजरात विद्यापीठ की स्थापना महात्मा गांधी ने १८ अक्टूबर सन् १९२० में की थी। यह गुजरात के अहमदाबाद नगर में स्थित है। इसकी स्थापना का उद्देश्य भारतीय युवकों को अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त कराना था। गंधीजी इस बात को अच्छी तरह समझते थे कि मैकाले द्वारा रची गयी ब्रिटेन की औपनिवेशिक शिक्षा नीति का उद्देश्य दमनकारी ब्रिटिश साम्राज्य के लिये मानव संसाधन (क्लर्क?) तैयार करना है। उस शिक्षा नीति के विरुद्ध गांधीजी ने राष्ट्रीय पुनर्निर्माण व हिन्द स्वराज के लिये युवकों को तैयार करने के उद्देश्य से इस विद्यापीठ की स्थापना की।

गांधीजी आजीवन इसके कुलाधिपति रहे। प्राध्यापक ए टी गिडवानी इसके प्रथम उपकुलपति रहे। गांधीजी के बाद सरदार वल्लभभाई पटेल, डा राजेन्द्र प्रसाद, मोरार जी देसाई आदि ने इसके कुलपति पद को सुशोभित किया।

सन् १९६३ में भारत सरकार ने इसे मानद विश्वविद्यालय का दर्जा दिया।

उद्देश्य[संपादित करें]

  • (१) विद्यापीठ का मुक्य उद्देश्य है महात्मा गाँधी के आदर्शों के अनुरूप भारत के पुनरुद्धार सम्बन्धी आन्दोलनों को चलाने के उपयुक्त चरित्र, योग्यता, शिक्षा और कर्तव्यनिष्ठा से युक्त कार्यकर्ता तैयार करना,
  • (२) विद्यापीठ के अध्यापक और ट्रस्टी केवल उन साधनों का उपयोग करें जो सत्य और अहिंसा के आदर्श के अनुरूप हों।
  • (३) अस्पृश्यता हिन्दू जाति का एक कलंक है। विद्यापीठ से सम्बद्ध सभी लोग इसे दूर करने का भरसक प्रयत्न करें।
  • (४) हाथ से सूत कातना राष्ट्रीय पुनर्जागरण आन्दोलन का एक प्रमुख अंग है, अत: विद्यापीठ से सम्बद्ध सभी लोग नियमित रूप से सूत कातें तथा आदतन खादी पहनें।
  • (५) विद्यापीठ की समस्त शिक्षा में मातृभाषा का प्रमुख स्थान हो और वही शिक्षा का माध्यम भी हो।
  • (६) विद्यापीठ के पाठ्यक्रम में राष्ट्रभाषा हिन्दी (हिन्दुस्तानी) का अध्ययन अनिवार्य हो।
  • (७) औद्योगिक शिक्षा भी बौद्धिक शिक्षा के समान ही महत्वपूर्ण है अत: उद्योगों की भी शिक्षा दी जाय।
  • (८) भारत का विकास शहरों पर नहीं, गांवों पर निर्भर है। अत: ग्रामों में राष्ट्रपोषक शिक्षा के प्रसार पर विद्यापीठ का अͬधिकांश धन और शक्ति लगनी चाहिए।
  • (९) शिक्षा की प्राथमिकताओं का निर्धारण करने में ग्रामीणों की आवश्यकताओं का विशेष ध्यान रखा जाए।
  • (१० विद्यापीठ की सभी संस्थाओं में सभी धर्मों के प्रति सहिष्णुता रखी जाय।
  • (११) शारीरिक विकास के लिये विद्यापीठ की सभी संस्थाओं में शारीरिक शिक्षा अनिवार्य हो।

विभाग[संपादित करें]

विद्यालय शिक्षा[संपादित करें]

इसके अन्तर्गत नर्सरी शिक्षा तथा 11 वर्षीय प्राथमिक माध्यमिक शिक्षा की व्यवस्था है, जो नर्सरी स्कूल, बेसिक प्राइमरी स्कूल तथा पोस्ट बेसिक हाई स्कूल में विभक्त है। इसमें हाथ से कताई हाथ से बुनाई मुख्य तथा सिलाई गौण शिल्प है। जो विद्यार्थी प्राथमिक शिक्षा की अन्तिम परीक्षा (कक्षा 7) उत्तीर्ण करने के बाद हाई स्कूल में नहीं जाना चाहते उनके लिए 'विनीत' (मैट्रिक के समकक्ष) पाठ्यक्रम की व्यवस्था है। इस शिक्षा द्वारा मुख्य रूप से ग्रामीण तथा आदिवासी क्षेत्रों के प्राईमरी स्कूलों के लिए अध्यापक तैयार किए जाते हैं।

उच्च शिक्षा विभाग[संपादित करें]

इसके अन्तर्गत महादेव देसाई समाज सेवा महाविद्यालय चल रहा है। यह सावासी महाविद्यालय है। 'विनीत' परीक्षा या उसके समकक्ष उत्तीर्ण परीक्षा के आधार पर इस महाविद्यालय में प्रवेश लिया जा सकता है। तीन वर्षीय स्नातक पाठ्यक्रम पूरा करने पर ‘समाज विद्या विशारद' (बैचलर ऑन सोशल साइन्सेज) की उपाधि मिलती है।

सावासी सामुदायिक जीवन तथा प्रतिदिन कम से कम ढाई घण्टे का कृषि, काष्ठ-कला तथा हाथ की कताई-बुनाई का शिल्प इस कार्यक्रम का आवश्यक भाग है। अध्यापकों के मार्गदर्शन में विद्यार्थी ही अपने से सम्बद्ध समस्त कार्यों का प्रबन्ध करते हैं। एक वर्ष तक दो घण्टे प्रतिदिन वास्तविक फील्ड कार्य करके, तथा 100 दिन ग्रामीण संस्थाओं में रहकर वेविभिन्न प्रकार के सामाजिक कार्य करने का वास्तविक प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं। फील्ड कार्य करके किसी सामाजिक आर्थिक समस्या पर लघु शोध प्रबन्ध भी लिखना होता है। प्रातःकाल 5 बजे से लेकर रात्रि 10 बजे तक विभिन्न कार्यों में विद्यार्थी व्यस्त रहते हैं जिसमें सामूहिक प्रार्थना, सामूहिक सफाई, भोजन तैयार करना भी शामिल है।

समाज-विज्ञान की स्नातकोत्तर उपाधि है - 'समाज विद्या पारंगत', जो किसी सामाजिक-आर्थिक समस्या पर किसी निरीक्षक के निर्देशन में शोध प्रबन्ध लिखने पर दी जाती है।

नियमित छात्रों के लिए 'पारंगत' उपाधि (मास्टर्स डिग्री) की व्यवस्था ग्रामीण अर्थशास्त्र, सामाजिक नेतृत्व शास्त्र, गुजराती, हिन्दी तथा सामाजिक कार्य आदि विषयों में है। सामाजिक कार्य में गहन प्रशिक्षण की भी व्यवस्था है जिसे पूरा करने पर समाज कार्य पारंगत की उपाधि मिली है। इसके अतिरिक्त, दर्शन तथा तुलनात्मक धर्म (गांधी दर्शन में विशेषीकरण सहित) के लिए भी मास्टर्स डिग्री कोर्स की व्यवस्था है। गुजराती, संस्कृत, हिन्दी, ग्रामीण अर्थशास्त्र, इतिहास और संस्कृति, शान्ति अनुसन्धान में पी.एच.डी. करने की भी सुविधा है।

इस महाविद्यालय में हॉबी वर्कशॉप भी है जिसमें संगीत, लकड़ी का काम, पॉटरी, टाइप करना तथा जिल्दसाजी की व्यवस्था है। विद्यापीठ के एक हजार से भी अधिक स्नातक गुजरात के गाँवों में ग्राम सुधार का कार्य कर रहे हैं। यूनेस्को तथा विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की सहायता से शान्ति और अहिंसा की समस्याओं का अध्ययन करने तथा उन पर शोध करने के लिए एक 'शान्ति शोध केन्द्र' की भी स्थापना की गई है।

अ ध्यापक शिक्षा विभाग[संपादित करें]

शिक्षा संकाय के अन्तर्गत कई कार्यक्रम चल रहे हैं। इनमें से कुछ प्रमुख निम्नलिखित है -

  • (क) शिल्प शिक्षण प्रशिक्षण संस्थान - यह एक वर्षीय पाठ्यक्रम द्वारा प्राथमिक तथा माध्यमिक विद्यालयों के लिए शिल्प शिक्षक तैयार करता है। पिछले कुछ समय से यह संस्थान बन्द है। इसे नए रूप में शीघ्र ही प्रारम्भ करने की योजना है।
  • (ख) हिन्दी शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय - अहिन्दी भाषी विद्यार्थियों को हिन्दी सिखाने का प्रशिक्षण देने वाला गुजरात का यह एक मात्र महाविद्यालय है। इसमें दो प्रकार के कोर्स हैं। एक मैट्रिक पास विद्यार्थियों के लिए और दूसरा स्नातकों के लिए।
  • (ग) शिक्षण महाविद्यालय - इस महाविद्यालय में विभिन्न भाषाओं, सामाजिक अध्ययन, विज्ञान, गणित आदि विभिन्न विषयों के अध्यापकों को शिक्षा देने की व्यवस्था है। प्रत्येक प्रशिक्षणार्थी को उत्पादक शिल्प की शिक्षा दी जाती है। ग्रामों में स्थानबद्ध शिक्षण (ब्लॉक टीचिंग) की व्यवस्था इसकी एक विशेषता है। पाठ्यक्रम में बेसिक शिक्षा का दर्शन तथा गाँधी दर्शन का भी विशेष कोर्स है।
  • (घ) शिक्षण पारंगत - यह शिक्षा में स्नातकोत्तर उपाधि है। आदिम जाति के लोगों की शिक्षा और उससे सम्बद्ध समस्याओं पर कार्य करने का प्रावधान इसकी एक विशेषता है।
  • (च) बेसिक एजूकेशन साइंस इंस्टीट्यूट - यह एक विशेष प्रकार का संस्थान है जिसका उद्देश्य बेसिक शिक्षा के संदर्भ में 'विज्ञान का जीवन में समवाय' - इस विषय पर अध्ययन करना है। यह संस्थान 'विज्ञान सेतु' नामक एक पत्रिका भी प्रकाशित करता है। इनके अतिरिक्त प्रसार से वा विभाग, सातत्य शिक्षा विभाग आदि भी हैं।

ट्राइबल रिसर्च एण्ड ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट[संपादित करें]

इस संस्थान में आदिम जातियों की संस्कृति का अध्ययन किया जाता है। इसके लिए एक संग्रहालय भी है जिसमें चित्र, आभूषण, मकान के नमूने, संगीत के वाद्य यंत्र आदि भी है।

हिन्दी भवन[संपादित करें]

विद्यापीठ का यह विभाग संपर्क भाषा के रूप में हिन्दी के प्रचार-प्रसार का कार्य कर रहा है। इसके लिए इसने हिन्दी की परीक्षाओं की व्यवस्था की है, हिन्दी अध्यापकों को प्रशिक्षण देने की व्यवस्था की है, हिन्दी पुस्तकों का प्रकाशन किया है, गुजराती हिन्दी, हिन्दी-गुजराती जैसे शब्द कोश तथा प्राइमरी स्कूलों के लिए हिन्दी पुस्तकें तैयार की हैं। अन्य भारतीय भाषाओं के अध्ययन की भी व्यवस्था है।

गुजरात विद्यापीठ ग्रन्थालय[संपादित करें]

विद्यापीठ के ग्रन्थालय में एक दर्जन से भी अधिक भाषाओं की लगभग पौने दो लाख पुस्तकें हैं। गाँधीजी के विचारों पर एक पृथक विभाग ही है। विभिन्न भाषाओं की लगभग 500 पत्रिकाएं आती हैं।

विशेषताएँ[संपादित करें]

(१) ग्रामोद्योग और ग्रामोन्नति के लिए समाज सेवक - विद्यापीठ के कुल सचिव श्री विनोद त्रिपाठी ने अपने एक पत्र में मुझे लिखा कि विद्यापीठ के शिक्षण की विशेषता ग्रामोद्योग और आमोन्नति के लिए समाज सेवक तैयार करना है और राष्ट्र पोषक केलवाणी द्वारा समाज से वा कार्य का विकास करना है। इसके लिए विद्यापीठ ग्राम विस्तारों में अपने पाँच केन्द्र चला रहा है।

(२) सामुदायिक जीवन - विद्यापीठ के जीवन की एक विशेषता है सामुदायिक जीवन का अनुभव प्रदान करना जिसमें सामूहिक प्रार्थना से लेकर शौचालय तक की सफाई स्वयं करना शामिल है।

(३) शिक्षा का माध्यम-मातृभाषा - विद्यापीठ में प्रारम्भिक शिक्षा से लेकर स्नातकोत्तर तक हर प्रकार की शिक्षा का माध्यम मातृभाषा गुजराती है। गैर-गुजराती भाषी अध्यापकों या विद्यार्थियों के लिए यह छूट है कि वे हिन्दी में पढ़ा सकते हैं या उत्तर दे सकते है। उन्हें गुजराती सिखाने की भी आवश्यकता है।

(४) परीक्षा पद्धति - विद्यापीठ में वार्षिक परीक्षा के स्थान पर साप्ताहिक टेस्ट होते हैं जिनके आधार पर विद्यार्थियों को कक्षोन्नत किया जाता है। उच्च शिक्षा में 60 प्रतिशत मूल्यांकन साप्ताहिक असाइनमेंट, सेमीनार, लाइब्रेरी कार्य आदि के आधार पर होता है। विद्यापीठ की पाठ्यचर्या के सभी पक्षों का मूल्यांकन किया जाता है।

(५) उत्पादन कार्य में सम्भाग - स्नातक स्तर तक सभी पाठ्यक्रमों में तथा अध्यापक शिक्षा में दो घण्टे प्रतिदिन उत्पादक कार्य में सभी छात्र भाग लेते हैं। इस प्रकार उन सभी में श्रमक प्रति गरिमा का भाव विकसित होता है।

(६) अधिक कार्य दिवस - विद्यापीठ में वर्ष में लगभग 240 दिन कार्य होता है और सुनियोजित कार्यक्रम के आधार पर विद्यार्थी प्रतिदिन कम से कम सात घण्टे कठोर श्रम करते हैं।

(७) अन्य विशेषताएँ - दैनिक प्रार्थना में भाग लेना, आदतन खादी पहनना, सूत कातना, मादक द्रव्यों का सेवन न करना, सामाजिक समस्याओं में शोध करना आदि विशेषताएँ हैं।

महात्मा गाँधी कहा करते थे कि भारत का उद्धार तभी होगा जब गाँवों का उद्धार होगा। गुजरात विद्यापीठ देश की इस आवश्यकता को पूरा करने के लिए प्रयत्नशील है। गाँवों का विकास करने के लिए किस प्रकार कार्य करने की आवश्यकता है - इसका क्रियात्मक अनुभव देने वाली यह अपने ढंग की अद्वितीय संस्था है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

वाह्य सूत्र[संपादित करें]